News

कल मां-बेटे पर हमला हुआ था, आज वहीं एक वृद्ध का आधा खाया हुआ शव बरामद…

चलती बाइक पर गुलदार ने किया हमला, पीछे बैठे युवक को दबोच कर ले गया साथ, फिर  ऐसे बची जान - Loksaakshyaनवीन समाचार, द्वाराहाट, 30 नवंबर 2022। पर्वतीय क्षेत्रों खासकर द्वाराहाट क्षेत्र में मानव-वन्य जीव संघर्ष की दूसरी बड़ी घटना प्रकाश में आई है। मंगलवार को मां-बेटे सहित तीन लोगों पर हमला करने की घटना प्रकाश में आई थी, जबकि अब यहीं के दैना गांव में गुलदार ने बुजुर्ग ग्रामीण को मार डाला। घटना के करीब 18 घंटे बाद बुजुर्ग का क्षत-विक्षत शव बरामद किया गया है। शरीर का आधा हिस्सा गुलदार खा चुका था।

घटना से दुःख व गुस्से के बीच नाराज ग्रामीणों ने शव नहीं उठाने दिया। उन्होंने डीएफओ महातिम सिंह यादव का घेराव कर दिया और ग्रामीण डीएफओ द्वारा संबंधित गुलदार को हिंसक वन्यजीव व मानव जाति के लिए खतरा मानते हुए वन्यजीव प्रतिपालक को अवगत कराने व पिंजड़ा लगाने पर ही माने। देखें वीडियो:

प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगलवार शाम द्वाराहाट के कालीगाढ़ पट्टी की कुंवाली घाटी स्थित दैना गांव में 65 वर्षीय मोहन राम पुत्र स्व. प्रेमराम घर से करीब सौ मीटर दूर दिन भर चरने के बाद गाय को घर लाने के लिए निकले थे, लेकिन घर नहीं लौटे। इस पर स्वजनों को चिंता हुई तो उन्होंने देर रात तक उनकी तलाश की, लेकिन असफल रहे।

इधर बुधवार की सुबह दोबारा खोज करने पर क्षेत्र में पहले खून और कुछ आगे खून से सने कपड़े मिले तथा गांव से लगभग एक किमी दूर गधेरे में मोहन राम का क्षत विक्षत शव बरामद हुआ। शरीर का आधा हिस्सा गायब था। माना जा रहा है कि गुलदार ने उन्हें निवाला बना दिया। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बुजुर्ग पर भालू का हमला, वीडियो दिल दहलाने वाला…

भालू ने हमला कर फोड़ डाली बुजुर्ग की आंख - chuwari elderly bear  attack-mobileनवीन समाचार, बागेश्वर, 30 नवंबर 2022। उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में गुलदार के हमले की घटनाएं तो आम हैं, जबकि अब कपकोट तहसील से जंगली भालू द्वारा इंसान पर जानलेवा हमला करने दिल दहला देने वाली घटना प्रकाश में आयी है। यहां धरमघर वन क्षेत्र के अंतर्गत चुचेर गांव में बुधवार की सुबह भालू ने एक ग्रामीण पर जानलेवा हमला कर दिया। यह भी पढ़ें : पुलिस को देखकर भागने लगीं दो महिलाएं, दौड़कर पकड़ा तो..

इस हमले में वह गंभीर रूप से घायल हो गया। भालू के हमले में उसकी आंख भी नोंच ली गई। इससे वह आंख भी नहीं देख पा रहा था। अलबत्ता उसने भालू को बड़ियाठ यानी बड़ी दराती से जवाबी हमला कर भगा दिया और अपनी जान बचा ली। भालू के हमले में बुजुर्ग की हालत ऐसी हो गई है कि उन्हें देखकर किसी की भी रूह कांप जाए। इस घटना का वीडियो भी सामने आया है, जो बेहद डरावना व कमजोर दिल के व्यक्तियों के देखने योग्य नहीं है। फिर भी चाहें तो वीडियो को यहां देख सकते हैं: यह भी पढ़ें : 17 वर्ष की नाबालिग की मजबूरी का फायदा उठाकर रोज करता रहा दुष्कर्म, मिली उम्रकैद की सजा….

इस घटना में यह उल्लेखनीय बात रही कि भालू द्वारा वृद्ध का सिर व चेहरा बुरी तरह से नोंच दिए जाने व उसके अकेले होने के बाद भी घायल वृद्ध ने हिम्मत नही हारी, और भालू को संघर्ष कर भगा दिया। अलबत्ता उनकी हालत गंभीर हो गई। उनकी चीख-पुकार पास में रह रहे मान सिंह ने सुनी। उन्होंने गांव को इसकी जानकारी दी और मौके पर पहुंचे और घायल को गंभीरावस्था में तत्काल जिला अस्पताल लाकर भर्ती किया गया और यहां से प्राथमिक उपचार के बाद हायर सेंटर हल्द्वानी रेफर कर दिया गया है। यहां भी वह जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं। यह भी पढ़ें : छात्र को शराब पिलाकर नग्न किया और नग्नावस्था में बनाई अश्लील वीडियो, अब मांग रहे हजारों रुपए, मामला दर्ज

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार चुचेर गांव निवासी 68 वर्षीय भगत सिंह कोरंगा बुधवार की सुबह साढ़े छह बजे अपने खेत में जा रहे थे। इसी दौरान घर से महज 200 मीटर की दूरी पर गौना गधेरे पर उन पर भालू ने हमला कर दिया। भालू जोड़े में यानी दो की संख्या में बताए जा रहे हैं। एक भालू ने भगत सिंह का सिर व चेहरा ही अपने मुंह में ले लिया और सिर व चेहरे को अपने नाखूनों और दांतों से बुरी तरह नोंच डाला। इससे चेहरे से मांस के लोथड़े झूलने लगे। वृद्ध ने अकेले व घायल अवस्था में होने के बावजूद भालुओं के जोड़े से संघर्ष किया और काफी संघर्ष के बाद भालू उन्हें लहूलुहान कर भाग गए। यह भी पढ़ें : 15 वर्षीय छात्रा पर युवकों ने शरेराह झोंका फायर…

घटना के बाद से गांव में दहशत का माहौल है। वही मामले में प्रभागीय वनाधिकारी हिमांशु बागरी ने घायल का हालचाल जाना तथा घायल के इलाज के लिए हरसंभव सहयोग का भरोसा दिया। बताया गया है कि इस माह भालू के हमले की कपकोट तहसील क्षेत्र में यह दूसरी घटना है। (योगेन्द्र सिंह मेहता) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : दिन दहाड़े युवक व उसकी मां सहित तीन लोगों पर झपटा गुलदार, गंभीर रूप से घायल किया…

नवीन समाचार, द्वाराहाट, 28 नवंबर 2022। अल्मोड़ा के द्वाराहाट विकासखंड में द्वाराहाट-गगास मोटरमार्ग पर पड़ने वाले मल्ली मिरई के तोक भौरा में सोमवार अपराह्न दिनदहाड़े एक युवक और दो महिलाओं पर गुलदार ने हमला कर दिया। इससे तीनों गंभीर रूप से घायल हो गए। इनमें से एक महिला और युवक को अधिक चोट आने के कारण हायर सेंटर रेफर करना पड़ा, जबकि तीसरी घायल महिला को भी गंभीर चोटें पहुंची हैं। उसका उपचार सीएचसी द्वाराहाट में ही चल रहा है। यह भी पढ़ें : बड़ी दुर्घटना : बेकाबू ट्रक ने कई लोगों को रोंदा..देखें विडियो :

प्राप्त जानकारी के अनुसार अपराह्न करीब चार बजे सुमित कुमार पुत्र हरीश कुमार अपने मकान के निकट पानी का नल ठीक कर रहा था, जबकि उसकी माता पुष्पा देवी तथा पड़ोस की महिला बचुली देवी बगल में खड़ी थीं। तभी जंगल की ओर से बस्ती में घुसे गुलदार ने अचानक सुमित पर हमला बोल दिया। उसे बचाने की कोशिश में दोनों महिलाओं पर भी गुलदार झपट पड़ा। यह भी पढ़ें : होटल में संदिग्ध परिस्थितियों में मृत मिला अधेड़

बताया गया है कि हमला करते हुए गुलदार ने बचुली देवी को दूर फेंक दिया। इस कारण उसकी आंख, हाथ व सिर में गंभीर चोटें आईं। जबकि सुमित का गुलदार ने दाया हाथ चबा़ डाला, जबकि उसकी मां पुष्पा देवी की पीठ में गहरे दांत लगे हैं। तीनों के शोर मचने पर गुलदार जंगल की ओर भाग गया। ग्रामीणों ने एकत्र होकर घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया। यह भी पढ़ें : सुबह-सुबह शव मिलने से सनसनी

उनका प्राथमिक उपचार करने वाले डा. देवेंद्र कुमार तथा डा. तूलिका ने बताया कि गुलदार के पटकने के कारण बचुली देवी के सिर सहित आंख व हाथ में चोट पहुंची है। मुंह सूज चुका है। जबकि सुमित का दायां हाथ दांतों से फाड़ा गया है। इस कारण दोनों को हायर सेंटर रेफर किया जा रहा है। जबकि पुष्पा देवी का उपचार सीएचसी में ही चल रहा है। यह भी पढ़ें : दुष्कर्म के आरोपित फ़ौजी पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार…

दिन दहाड़े हुई इस घटना से क्षेत्र में भय और विभाग के खिलाफ रोष है। क्षेत्रीय लोगों ने कहा कि क्षेत्र में गुलदार के लंबे समय से आतंक की सूचना वन विभाग को दी गई थी। मगर कार्रवाई होना तो दूर कोई क्षेत्र में झांकने तक नहीं पहुंचा। उन्होंने घायलों को तत्काल मुआवजा देने तथा पिंजरा लगाकर गुलदार के आतंक से निजात एवं मुआवजा दिलाने तथा क्षेत्र में पिंजरा लगाने की मांग भी की है। यह भी पढ़ें : हल्द्वानी के हड़ताली सफाई कर्मचारियों पर हाईकोर्ट की सख्त टिप्पणी, वाहन छुड़वाएं, जरूरत पड़े तो मुकदमा दर्ज करें..

उधर, वन विभाग के अधिकारियों ने तीनों घायल को पांच-पांच हजार यानी कुल 15 हजार रुपये की अहैतुक राशि प्रदान कर दी है और मंगलवार की सुबह पिंजड़ा लगाने की बात कही है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : खेल कर लौटते गायब हुआ 13 वर्षीय बच्चा, जंगल में मिला शव…

नवीन समाचार, टिहरी, 28 नवंबर 2022। टिहरी में भिलंगना ब्लॉक के बाल गंगा क्षेत्र के मयकोट गांव में रविवार की रात गुलदार ने एक 13 साल के एक बच्चे को मार डाला। देर रात्रि करीब दो बजे किशोर का शव जंगल से बरामद किया गया। यह भी पढ़ें : शादियों के साइड इफेक्ट : बारात में आए युवक की लड़की भगाने के शक में धुना, पुलिस को सोंपा…

प्राप्त जानकारी के अनुसार बीती देर शाम मयकोट गांव निवासी 13 वर्षीय अर्णव चंद पुत्र रणवीर चंद दोस्तों के साथ खेलने के बाद अकेले घर लौट रहा था। तभी वह गायब हो गया। रात तक जब वह घर नहीं पहुंचा तो उसकी तलाश की गई। अंधेरा होने के कारण वन विभाग व राजस्व विभाग ने संयुक्त सर्च ऑप्रेशन चलाया। यह भी पढ़ें : नैनीताल: पेड़ पर लटका मिला 34 वर्षय व्यक्ति का शव

इस पर रात दो बजे उसका शव घर से लगभग एक किमी दूर जंगल में झाड़ियों से बरामद किया गया। माना जा रहा है कि घर लौटने के दौरान उसे गुलदार उठा ले गया होगा और उसी ने उसे मार डाला होगा। घटना के बाद से ग्रामीणों में वन विभाग के प्रति भारी आक्रोश है। ग्रामीणों ने गुलदार को मारने की मांग की है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल Breaking : देर शाम महिला पर गुलदार ने किया हमला, सिर से दबोचा, गंभीर अवस्था में रेफर, सांसद ने दिए डीएम को निर्देश

नवीन समाचार, नैनीताल, 14 नवंबर 2022। जनपद के बेतालघाट विकासखंड के ग्राम रोपा में सोमवार शाम गुलदार ने एक महिला को बुरी तरह से नोंचकर गंभीर रूप से घायल कर दिया। महिला को गंभीर स्थिति में हल्द्वानी रेफर किया गया है। यह भी पढ़ें : दुःखद: बाल दिवस पर विद्यालय आया 12 साल का बच्चा अचानक गिरा और हो गई मौत, हंगामा…

क्षेत्रीय सांसद एवं केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट के हवाले से उनके सांसद प्रतिनिधि गोपाल रावत ने बताया कि श्री भट्ट ने तत्काल घटना का संज्ञान लेते डीएम धीराज गर्ब्याल से महिला के सर्वश्रेष्ठ उपचार व्यवस्था करने एवं मुख्य वन संरक्षक-कुमाऊं पीके पात्रो को पीड़ित परिवार को अधिकतम मुआवजा उपलब्ध कराने एवं क्षेत्र में तत्काल गुलदार को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाने के निर्देश दिए हैं। यह भी पढ़ें : आज व कल उत्तराखंड के एक दरोगा व दो पुलिस कर्मी भुगतेंगे अनूठी सजा, श्मशान घाटों पर शवदाह में करेंगे सहयोग, जानें क्यों

प्राप्त जानकारी के अनुसार शनिवार अपराह्न चापड़ ग्राम निवासी महिला कमला उप्रेती पत्नी पति मोहन चंद्र उप्रेती निकटवर्ती ग्राम रोपा के जंगल में घास काटने गई थी। इस दौरान संभवतया हिंसक गुलदार ने उस पर हमला कर दिया। गुलदार के हमले में कमला का सिर व चेहरा बुरी तरह जख्मी हो गया। साथी महिलाओं के शोर मचाने पर गुलदार उसे छोड़कर भाग गया।  महिला को स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहा उसके सिर में काफी टांके आए। यह भी पढ़ें : पत्नी व उसके प्रेमी ने किया सोते हुए पति का गला दबाने का प्रयास, फिर….

यहां से प्राथमिक उपचार के बाद उसे उसकी गंभीर स्थिति को देखते हुए हल्द्वानी रेफर कर दिया गया। घायल कमला उप्रेती के पति मोहन चंद्र उप्रेती सरस्वती शिशु मंदिर बेतालघाट में शिक्षक हैं। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : फिर गुलदार की दहशत, अब कुत्ते को बनाया निवाला

नवीन समाचार, नैनीताल, 26 अक्तूबर 2022। नैनीताल नगर में गुलदार की आवक कोई नई बात नहीं है। नगर के भवाली रोड, तल्लीताल, फांसी गधेरा व रुकुट कंपाउंड के बाद अब एक बार फिर फांसी गधेरा क्षेत्र में गुलदार की धमक देखी गयी है। बताया गया है कि मंगलवार देर रात्रि फांसी गधेरा क्षेत्र मे गुलदार ने एक कुत्ते को अपना निवाला बना लिया। यह भी पढ़ें : नैनीताल : युवक का सिर ईंटों व बोतलों से सिर फोड़ा

उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व इसी क्षेत्र में एक गुलदार कुत्ते के पीछे घर के तीसरे कमरे में जाकर बैठ गया था। इसके अलावा भी नगर के भवाली रोड पर कैंट क्षेत्र, चिड़ियाघर रोड एवं रुकुट कंपाउंड क्षेत्र में भी गुलदार सीसीटीवी कैमरों में रिकॉर्ड हुआ है। क्षेत्रीय लोगों ने ऐसे में गुलदार के भय से मुक्त कराने की मांग की है। उधर वन विभाग जानकारी मिलने पर संबंधित क्षेत्रों में गस्त करवाने के दावे किए जा रहे हैं। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : गुलदार का ग्रास बनते-बनते बचा चोर !

-कुछ मिनटों के अंतराल में एक स्थान पर कैमरे में कैद हुए गुलदार व संदिग्ध व्यक्ति
सीसीटीवी में नजर आ रहे गुलदार व संदिग्ध व्यक्ति।नवीन समाचार, नैनीताल, 22 अक्तूबर 2022। नगर के जंगल से लेकर एक आबादी वाले क्षेत्र में बीती रात्रि एक घर के सीसीटीवी कैमरे में फिर एक गुलदार कैद हुआ है। खास बात यह भी है कि इसी कैमरे में कुछ मिनटों के अंतराल में एक चोर भी कैमरे में कैद हुआ है। यदि दोनों के बीच कुछ मिनटों का अंतर न होता तो शायद गुलदार का शिकार भी बन गया होता। ‘नवीन समाचार’ के माध्यम से दीपावली पर अपने प्रियजनों को शुभकामना संदेश दें मात्र 500 रुपए में… संपर्क करें 8077566792, 9412037779 पर, अपना संदेश भेजें saharanavinjoshi@gmail.com पर… यह भी पढ़ें : नैनीताल : नैनीताल: दुकानों के आगे बेसुध मिला युवक, मची सनसनी…

बात नगर के मल्लीताल चीना बाबा मंदिर से ऊपर की ओर स्थित रुकुट कंपाउंड की हो रही है। यह क्षेत्र पूर्व से ही वन क्षेत्र से लगा होने के कारण यहां गुलदार कई बार कमरे में नजर आता रहा है, जबकि इधर यह क्षेत्र चोरों व असामाजिक तत्वों की हरकतों के लिए भी चर्चा में है। इसी माह यहां दो अधिवक्ताओं की कारों में चोरी के इरादे से तोड़फोड़ किए जाने की घटनाएं भी प्रकाश में आई हैं। यह भी पढ़ें : हद हो गई, पति ने पत्नी की अश्लील फोटो की वायरल, अब परिवार की लड़कियों की अश्लील फोटो भी वायरल करने की दे रहा धमकी

अब यहां शनिवार की रात्रि 12 बजकर 30 मिनट पर एक संदिग्ध व्यक्ति और 12 बजकर 45 मिनट पर यानी 15 मिनट बाद एक वयस्क गुलदार सीसीटीवी बाजार से क्षेत्र को आने वाले मुख्य मार्ग से गुजरते हुए कैमरे में कैद हुए हैं। इससे क्षेत्रवासियों में गुलदार की धमक के साथ ही चोरों की सक्रियता से भयग्रस्त हैं। उन्होंने पुलिस व वन विभाग से क्षेत्र में गस्त बढ़ाने और गुलदार को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाने की मांग की है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पहाड़ से मैदान में उतरा गुलदार, बनाया 10 वर्षीय बच्ची को शिकार…

Pauri: गुलदार ने पांच साल के बच्चे को बनाया शिकार - शंखनाद इंडियानवीन समाचार, नानकमत्ता, 7 अक्तूबर 2022। पहाड़ से उतरकर अब गुलदार प्रदेश के मैदानी क्षेत्रों में शिकार बनाने लगा है। बीती देर शाम ऊधमसिंह नगर जिले के नानकमत्ता में तेंदुए ने एक 10 वर्षीय बच्ची को मार डाला। ग्रामीणों ने गन्ने के खेत से बच्ची का शव बरामद किया है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचायतनामे की कार्यवाही की। तेंदुए के हमले के बाद गांव में दहशत का माहौल है। यह भी पढ़ें : हद हो गई, पति ने पत्नी की अश्लील फोटो की वायरल, अब परिवार की लड़कियों की अश्लील फोटो भी वायरल करने की दे रहा धमकी

प्राप्त जानकारी के अनुसार गुरुवार की देर शाम वासुदेव जोशी की 10 वर्षीय पुत्री आनंदी जोशी निवासी चेतुआखेड़ा देवीपुर डेमपार अचानक लापता हो गई। परिजनों ने काफी देर तक उसकी खोज की। बाद में ग्रामीण भी उसकी खोजबीन में जुटे। इस बीच गन्ने के खेत से तेंदुए की गुर्राहट की आवाजें आने पर ग्रामीणों ने वहां घेराबंदी की। इस पर ग्रामीणों की आहट से तेंदुआ जंगल की ओर भाग गया, जबकि बच्ची का क्षत-विक्षत शव बरामद हुआ। यह भी पढ़ें : कल से नैनीताल में भी मिलेगी वाहनो की सर्विसिंग-धुलाई की हल्द्वानी जैसी सुविधा, आधुनिक उपकरणों के साथ, वह भी हल्द्वानी के ही दामों पर…

ग्राम प्रधान रमेश यादव ने बालिका का शव गन्ने के खेत में मिलने की सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। बालिका के शरीर पर गुलदार के पंजों के निशान मिले हैं। जिससे पता चल रहा है कि तेंदुए के हमले में बालिका की मौत हुई है। थाना अध्यक्ष देवेंद्र गौरव ने बताया कि शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम कराया जाएगा। ग्रामीणों ने पीड़ित परिवार को मुआवजा देने के साथ तेंदुए को आदमखोर घोषित कर मारने की मांग की है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : सुबह का पठनीय-विशेष समाचार: उत्तराखंड में एक जगह ऐसी भी, जहां बेजुबान बिना जुर्म के भी भोग रहे है ‘उम्रकैद’ की सजा

नवीन समाचार, हरिद्वार, 3 अक्तूबर 2022। राजनीति में ‘जंगलराज’ शब्द का उपयोग आपने बहुत देखा होगा। जहां कानून का पालन न हो, उस जगह को सामान्यतया ‘जंगलराज’ कहा जाता है। ऐसा इसलिए कि जंगल को वह क्षेत्र कहा जाता है, जहां जानवरों के लिए कोई कायदे-कानून नहीं होते।

लेकिन उत्तराखंड में कुछ जगह ऐसी भी हैं, जहां कानून तोड़ने वाले जानवरे के भी अघोषित तौर पर जेल जाने की सजा का कानून चल रहा है। इनमें से एक जगह है हरिद्वार नजीबाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर बना चिड़ियापुर ट्रांजिट एवं पुर्नवास सेंटर। यहां इंसानी कत्ल या इंसानी बस्ती में घुसने के जुर्म में नौ गुलदारों को अघोषित जेल में रखा गया है। इसके अलावा भी रानीबाग-अल्मोड़ा आदि स्थानों पर भी ऐसी ही स्थिति है।

यहां कई गुलदार सालों से पिंजरे में कैद हैं। कैद भी ऐसी जिसमें रिहाई की उम्मीद न के बराबर है। शायद ये अब कभी वापस खुले-उन्मुक्त जंगल में वापस नहीं जा पाएंगे। यह एक तरह से आजीवन कारावास की सजा भुगत रहे हैं। इन सजायाफ्ता कैदियों को रूबी, रॉकी, दारा, मुन्ना, जाट, मोना, गब्बर व जोशी नामों से पुकारा जाता है। इन्हें दिन के उजाले में कुछ घंटे के लिए खुले बाड़े में छोड़ा जाता है और फिर पिंजरें में कैद कर दिया जाता है। सप्ताह में एक दिन चिकन, एक दिन मटन और एक दिन मोटा मांस खाने को दिया जाता है। लेकिन, मंगलवार का एक दिन ऐसा भी होता है, जब इन नौ के नौ कैदियों को उपवास रखना होता है। यानी मंगलवार को इन्हें खाने को कुछ नहीं दिया जाता है। जैसे यह मंगलवार को हनुमानजी का व्रत करते हों।

यहां कारावास में रूबी नाम की आदमखोर गुलदार पिछले सात साल से बंद है। उसे 2015 में इंसानी कत्ल के आरोप में तब पकड़ा गया था, जब वह मात्र छह वर्ष की थी। इसी तरह तेरह वर्ष के आदमाखोर रॉकी को 2017 में टिहरी के संतला गांव से और 12 वर्ष के दारा को 2017 में कोटद्वार के लाल पानी से पकड़ा गया था। जबकि चार साल का मुन्ना गुलदार मां से बिछड़ने के कारण जन्म से ही यहां बंद है। वहीं, 6 साल की मोना गुलदार का दोष सिर्फ इतना था कि 2020 में वह ऋषिकेश के डीपीएस स्कूल में घुस गई थी। इसकी वजह से पूर्ण रूप से स्वस्थ मोना तब से लेकर अब तक सजा काट रही है। 10 साल के गब्बर को 2020 में हरिद्वार वन प्रभाग से पकड़ा गया था। बताया जाता है कि बाईं आंख में चोट होने के कारण उसका नाम गब्बर और 2020 में जोशीमठ से पकड़े गए आठ साल के गुलदार का नाम जोशी नाम दिया गया है।
जंगल में इंसान घुसे तब भी सजा गुलदार को ही

मानव-वन्य जीव संघर्ष की एक कड़वी सच्चाई यह भी है कि वास्तव में वन्य जीव मानव बस्तियों में नहीं घुसते, बल्कि मानव ने अपनी बस्तियां वन्य जीवों के वनों में बना ली हैं, या पहाड़ की अपनी बस्तियों से पलायन कर एक तरह से उन्हें भुतहा के साथ ही जंगल बना दिया है, इसलिए वन्य जीव वहां इक्का-दुक्का रहने वाले इंसानों को नुकसान पहुंचाते हैं।

इसलिए सवाल यह भी उठता है कि क्या वन्य जीव सच में इंसानी खून के आदी हो चुके थे, या फिर अचानक आमना-सामना होने पर घटना घटती र्है ? बेजुबानों का पक्ष रखने और सुनने वाला कोई नहीं है। इंसान जंगल में घुसते हुए मारा गया या फिर बस्ती में आकर गुलदार ने इंसान को मारा। दोनों ही सूरत में बेजुबानों को ही सजा सुनाई जाती है। लोग उन्हें जिंदा मार-जला डालते हैं, या उन्हें कैद कर आजीवन कारावास की अघोषित सजा दे दी जाती है। उत्तराखंड के मुख्य वन्य जीव प्रतिपालक समीर सिन्हा कहते हैं, यह मूल रूप से वन्य जीवों का पुर्नवास केंद्र है। यहां अलग-अलग घटनाओं में घायल हुए जानवरों को उपचार के लिए लाया जाता है। जहां, उपचार के बाद उनको फिर उनके नेचुरल हैवीटेट में छोड़ दिया जाता है।

हालांकि, गुलदार के मामले में उनके बयान मेल नहीं खाते। क्योंकि नरभक्षी हो चुके गुलदारों को यहां पिंजरे में कैद कर दिया जाता है और फिर उनकी रिहाई नामुमकिन हो जाती है। कई मौकों पर देखने को मिला है कि जनदबाव में यह गुलदार पकड़ लिए जाते हैं, और नरभक्षी होने का कोई ठोस सबूत नहीं होने के बावजूद उन्हें यहीं कैद रखा जाता है। ऐसे में यह भी होता है कि लंबे समय तक मानव के संपर्क और पिंजरे में रहने के कारण यह गुलदार मानसिक तनाव में वास्तव खूंखार हो जाते हैं। इसलिए अब इन्हें जंगल में छोड़ा जाना भी संभव नहीं होता। गुलदारों के मंगलवार के उपवास पर श्री सिन्हा का कहना है कि जानवरों को जंगल में रोज शिकार नहीं मिलता। इसलिए एक दिन उपवास पर रखा जाता है। इससे उनका स्वास्थ्य बेहतर रहता है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल: नगर में फिर गुलदार की धमक, बेटी ने अपनी जान जोखिम में डालकर ‘पिटबुल’ को बचाया…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 28 सितंबर 2022। नगर में एक बार फिर गुलदार की आमद देखी गई है। बीती रात्रि नगर के भवाली रोड क्षेत्र व्यवसायी गुड्डू खान के घर के पास गुलदार देखा गया। श्री खान ने बताया कि रात्रि करीब 11.25 बजे उनकी बेटी अपने करीब 6-7 माह के पिडबुल प्रजाति के कुत्ते को घर के बाहर घुमा रही थी, तभी गुलदार पिटबुल पर झपट पड़ा। बेटी ने किसी तरह अपनी जान जोखिम में डालकर कुत्ते को गुलदार के जबड़े में आने से बचा लिया।

इस घटना के बाद पूरे परिवार के साथ ही आसपास के लोगों में दहशत का माहौल बन गया। उन्होंने बताया कि तीन दिन पूर्व भी यही गुलदार सेवॉय होटल से आगे आर्मी के एक्सचेंज के पास देखा गया था। वैसे करीब एक वर्ष से उसकी क्षेत्र में लगातार आमद बनी हुई है। उन्होंने वन विभाग से क्षेत्र को गुलदार के भय से मुक्त कराने की मांग की है। पूर्व में यहीं दिखे गुलदार का विडियो :

उल्लेखनीय है कि इसी सप्ताह नगर के डीएसबी परिसर के एक कर्मचारी आवास के अंदर तीसरे कमरे में गुलदार कुत्ते के पीछे आकर गुर्राता हुआ मिला था। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में घर के भीतर तीसरे कमरे के बेड के नीचे गुर्राता मिला गुलदार

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 25 सितंबर 2022। सरोवरनगरी में एक गुलदार के घर के अंदर तीसरे कमरे में आने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। बताया गया है कि गुलदार नगर के अयारपाटा क्षेत्र अंतर्गत वन क्षेत्र से लगे डीएसबी परिसर के स्टाफ क्वार्टर्स में सीमा पाल के कुत्ते के पीछे पड़ा था।

कुत्ता गुलदार से बचने के लिए अपने घर में घुस गया तो गुलदार भी उसके पीछे-पीछे घर के भीतर तीसरे कमरे तक पहुंच गया और बेड के नीचे कुत्ते की ताक में बैठ गया, जबकि कुत्ता कहीं और निकल भागा। ऐसे में जब गृह स्वामियों ने घर के भीतर गुलदार के गुर्राहट सुनी तो वे भयाक्रांत हो गए। उन्होंने किसी तरह शोर मचाया तो गुलदार घर से निकल भागा।

घटना शनिवार रात्रि करीब साढ़े आठ बजे की बताई गई है। लेकिन परिवार अब तक गुलदार की दहशत में है। रविवार को क्षेत्रीय सभासद मनोज साह जगाती एवं वन विभाग की टीम ने सूचना मिलने पर संबंधित गृह स्वामी के घर पहुंचकर घटना की जानकारी ली। गृह स्वामी ने क्षेत्र में पिंजरा एवं सीसीटीवी कैमरे लगाकर गुलदार के आतंक से निजात दिलाने की मांग रखी। वन विभाग की ओर से क्षेत्रीय लोगों को सतर्कता बरतने की हिदायत दी गई है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नयना देवी मंदिर में नंदा देवी के पंडाल के पास बाघ आने की सूचना से रहा हड़कंप…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 3 सितंबर 2022। बाघ को माता की सवारी भी कहा जाता है। बीती रात्रि नगर के नयना देवी मंदिर में नंदा देवी महोत्सव की तैयारियों के बीच कथित तौर बाघ के घुसने की सूचना से हड़कंप मच गया। मल्लीताल कोतवाल की सूचना पर वन विभाग के वन्य जीवों को पकड़ने के विशेषज्ञ माने जाने वाले निमिष दानू मौके पर पहुंचे और काफी देर तक कथित बाघ की तलाश की। बताया गया कि बाघ नहीं, बल्कि बाघ प्रजाति का ही छोटा लैपर्ड कैट कहा जाने वाला शेड्यूल-1 संरक्षित श्रेणी का वन्य जीव मंदिर में आया था, जो उनके प्रयासों के बाद मंदिर से जंगल की ओर भाग गया।

Leopard Cat - an overview | ScienceDirect Topics
प्रतीकात्मक चित्र

निमिष ने बताया कि रात्रि करीब साढ़े नौ बजे उन्हें नगर कोतवाल से नयना देवी मंदिर में वन्य जीव के घुसने की सूचना मिली। इस पर करीब 10 बजे से उन्होंने मंदिर में वन्य जीव की तलाश शुरू की। उन्होंने बताया कि वन्य जीव लैपर्ड कैट यानी जंगली बिल्ली थी। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार वह नैनी झील में तैरती हुई नयना देवी मंदिर के प्रांगण में आई और लोगों का शोर होने पर माता नंदा-सुनंदा के दर्शनों के लिए बन रहे पंडाल के पीछे की गली में जा घुसी।

निमिष उसके पीछे इस गली में घुसे। इस पर लैपर्ड कैट गली से ही राधा-कृष्ण व नव गृह मंदिर के पीछे की गली से होते हुए मंदिर के मुख्य गेट से बाहर आकर शौचालय के पास से जंगल में घुस गई। बहरहाल, इस घटना से नंदा देवी महोत्सव की तैयारियों के दौरान मंदिर में काफी देर अफरातफरी का माहौल रहा। निमिष ने दावा किया कि पिछले दिनों भी यहीं पालिका मार्केट में जिस गुलदार के शावक के घुसने की सूचना थी, वह भी वास्तव में लैपर्ड कैट ही थी। यह संभवतया झील में पानी पीने के लिए आती है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बीती रात्रि नैनीताल की पालिका पालिका मार्केट में बच्चे सहित घूमने आया गुलदार, जिसने देखा वे हो गये ‘हिरन’….

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 22 अगस्त 2022। सघन वनों से घिरी सरोवरनगरी के आबादी वाले क्षेत्रों में गुलदारों के आने के समाचार तो आते रहते हैं, पर शायद पहली बार नगर की एक बाजार-पालिका मार्केट में गुलदार को उसके बच्चे के साथ देखा गया। यह घटना भी कोई मध्य रात्रि नहीं, बल्कि रात्रि करीब साढ़े दस बजे के करीब हुई। इस दौरान तक कुछ दुकानें खुली भी थीं। तभी अचानक से गुलदार का शावक वहां आ गया। उससे कुछ ही दूरी पर ऊपर राजभवन रोड के पास वयस्क गुलदार, संभवतया शावक की मां भी मौजूद थी।

प्रत्यक्षदर्शियों में पालिका मार्केट के भानु रावत, गोकुल कुमार व गिरीश कुमार आदि दुकानदार शामिल रहे। इनमें से भानु रावत ने बड़ी हिम्मत कर गुलदार के शावक की फोटो भी अपने मोबाइल से खींच ली। जबकि वहां मौजूद अन्य लोगों ने शोर मचा दिया, इस पर शावक व वयस्क गुलदार अयारपाटा के जंगल की ओर भाग खड़े हुए।

प्रत्यक्षदर्शियों ने यह भी बताया कि इस दौरान वहां कुछ लोग ‘खाना-पीना’ भी कर रहे थे, लेकिन गुलदार को देखकर उनका नशा ‘हिरन’ हो गया। लोगों ने वहां से भागकर अपनी जान बचाई। इसके बाद क्षेत्रीय दुकानदारों में आगे भी गुलदार के आने की संभावना को देखते हुए भय व्याप्त हो गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बेहद दुःखद: 85 वर्षीय वृद्धा को घर के आंगन से ले गया गुलदार, सिर धड़ से अलग कर दिया…

नवीन समाचार, बागेश्वर, 30 जुलाई 2022। बागेश्वर जनपद की काफलीगैर तहसील के असों गांव में गुलदार ने एक बुजुर्ग महिला को निवाला बना लिया है। गुलदार वृद्धा के बाहर ही घात लगाकर बैठा था। वह वृद्धा को उसके घर के आंगन से उठाकर ले गया और खेतों के बीच ले जाकर उसका सर धड़ से अलग कर दिया। वन और पुलिस विभागों की टीमें घटना स्थल पहुंचीं और शव को पोस्टमार्टम कर उसे परिजनों को सौंप दिया है। घटना के बाद गांव में दहशत का माहौल है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार असों गांव की 85 वर्षीय गाउली देवी पत्नी स्व. धरम सिंह घर में अकेली रहती थी। शनिवार की सुबह लगभग साढ़े पांच बजे वह शौच के लिए आंगन के दूसरी छोर पर बने शौचालय की तरफ जाने लगी। जहां पहले से सेंध लगाकर बैठे गुलदार ने उस पर हमला कर दिया।

गुलदार उसे घसीटते हुए लगभग दस मीटर की दूरी पर खेतों की ओर ले गया और वहां उसका सर और धड़ अलग कर दिया। ग्रामीणों को घटना की जानकारी सुबह लगभग सात बजे लगी। उन्होंने तत्काल वन विभाग को सूचना दी। वन विभाग, पुलिस और उपजिलाधिकारी की टीम पौने नौ बजे गांव पहुंची।

ग्रामीणों ने बताया कि गांव में गुलदार का आतंक पिछले कुछ दिनों से लगातार बढ़ रहा था। कई मवेशियों को भी वह अपना निवाला बना चुका था। वृद्धा अकेली रहती थी। वन विभाग ने मृतका के दामाद तरमोली गांव निवासी नारायण सिंह को 15 हजार रुपये की अहैतुक धनराशि दे दी। वन क्षेत्राधिकारी श्याम सिंह करायत ने बताया कि मृतक के गले में जानवर के नाखून व दांत के निशान हैं। प्रथम दृष्टया मामला जानवर के हमले का ही लग रहा है। पीएम रिपोर्ट के बाद ही स्थिति साफ हो पाएगी। उप जिलाधिकारी हर गिरी ने कहा कि ग्रामीणों को हरसंभव सहयोग दिया जाएगा। दो दिन के भीतर गांव में पिंजड़ा भी लगाया जाएगा। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : गुलदार ने 65 वर्षीय वृद्धा को बनाया निवाला, सांसद ने लिया संज्ञान…

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 16 जून 2022। मानव-वन्य जीव संघर्ष ने गुरुवार को एक और जान ले ली। जनपद के हल्द्वानी के निकट फतेहपुर गांव में बाघ ने एक 65 वर्षीय वृद्धा को अपना निवाला बना लिया। घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने शव को सड़क पर रखकर विरोध जताया और वन विभाग से बाघ को पिंजरे में कैद करने की मांग की। लोग प्रभागीय वनाधिकारी को मौके पर बुलाने की मांग भी कर रहे थे।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक फतेहपुर गांव के ही पास रहने वाले खीमानंद की 65 वर्षीय पत्नी नंदी भट्ट घास लेने के लिए जंगल की ओर जा रही थी। तभी फतेहपुर स्थित वन विश्राम गृह के पास गुलदार ने हमला कर वृद्धा को मार डाला। सूचना मिलते ही आसपास के लोग मौके पर पहुंचे। उन्होंने शव को लेकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। नाराज लोगों ने वन विभाग पर लापरवाही करने का आरोप लगाया है।

उधर, इस घटना पर तत्काल संज्ञान लेते हुए केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट ने मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक डॉ. पराग मधुकर धकाते एवं प्रभागीय वनाधिकारी को दूरभाष पर निर्देशित करते हुए तत्काल मानव वन्यजीव संघर्ष की घटनाओं पर रोक लगाने के लिए उचित कदम उठाने के निर्देश दिए। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : मगरमच्छ ने बुरी तरह से चबाया महिला का पैर….

Most Spectacular Crocodile Attacks Compilation including Crocodile vs Lion,  Elephant GRAPHIC : r/natureismetalनवीन समाचार, नानकमत्ता, 18 मई 2022। मानव-वन्य जीव संघर्ष का एक और मामला प्रकाश में आया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार निकटवर्ती ग्राम बिडौरा-मझोला निवासी मंजू राणा पत्नी महेंद्र राणा बुधवार को खकरा नदी किनारे लकड़ी लेने गई थी। इस दौरान वह नाले में खड़े होकर लकड़ी तोड़ रही थी, तभी घात लगाए मगरमच्छ ने अचानक मंजू राणा का पांव दांतों से दबोच लिया। उसके चीखने पर मगरमच्छ पानी में चला गया।

लेकिन तब तक मगरमच्छ महिला के पांव को बुरी तरह से चबा चुका था। इस पर उसे स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने महिला को प्राथमिक उपचार के बाद उच्च उपचार के लिए एसटीएच रेफर कर दिया। इसके बाद परिजनों महिला को हल्द्वानी लाकर एसटीएच में भर्ती कर दिया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : महिला पूजा कर रही थी, बगल के कमरे में आ गया गुलदार

नवीन समाचार, भवाली, 14 मई 2022। वन्य जीवों का मानव बस्तियों में दखल बढ़ता ही जा रहा है। गांव तो गांव, शनिवार को नगर के एक घर के भीतर गुलदार घुस आया। इससे हड़कंप मच गया। गुलदार को पकड़ने के लिए वन विभाग की टीम को बुलाया गया। लेकिन विभागीय कर्मियों के उसे बेहोश कर पकड़ने के प्रयासों के बीच वह खिड़की तोड़कर भाग गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार नगर के रानीखेत रोड पर स्थित पुष्कर भट्ट नाम के व्यक्ति के पुराने पुश्तैनी मकान में सुबह पुष्कर की पत्नी पूजा कर रही थी। तभी बगल के कमरे से कुछ बदबू आने पर जब वहां जाकर देखा गया तो एक कमरे में तेंदुआ बैठा हुआ मिला। गनीमत रही कि परिजनों ने सुरक्षित तरीके से कमरे का दरवाजा बंद कर दिया और वन विभाग को फोन कर सूचना दी।

सूचना मिलने के बाद वन क्षेत्राधिकारी मुकुल शर्मा अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। रानीबाग से रेस्क्यू टीम को भी बुलाया गया। टीम ने जब गुलदार को ट्रेंकुलाइज गन से बेहोश करने की कोशिश शुरू की, लेकिन इसी बीच गुलदार कमरे की खिड़की का शीशा तोड़ कर वहां से भाग गया। श्री शर्मा ने लोगों से सावधानी बरतने की हिदायत भी दी गई। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : तल्लीताल क्षेत्र में गुलदार का आतंक

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 20 अप्रैल 2022। नगर के तल्लीताल क्षेत्र में पिछले कुछ समय से गुलदार का आतंक बना हुआ है। क्षेत्रीय लोगों क्षेत्रीय वन क्षेत्राधिकारी को पत्र भेजकर गुलदार को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाने की मांग की है।

तल्लीताल व्यापार मंडल की उपाध्यक्ष ममता जोशी, अधिवक्ता एमए खान, रक्षित पंत, विमला बिष्ट, नीमा साह, मनीष साह, हुस्न परवीन, गुड्डू, राकेश कुमार, आदर्श, मंजू, वाल्मीकि सभा के सरपंच गिरीश भैया, मो. तैयब, चंद्रा जोशी व कुंदन नेगी आदि क्षेत्रीय लोगों ने कहा है कि तल्लीताल धर्मशाला, हल्द्वानी रोड से हरिनगर व बलियानाला क्षेत्र में कई दिनों से शाम के 7 बजे से सुबह 6 बजे तक बाघ बेखौफ घूम रहा है। इस बाघ के द्वारा हाल में एक गाय व कई आवारा पशुओं को मार दिया गया है। लिहाजा उसका आतंक बना हुआ है। इससे पहले कि वह किसी पर हमला करे, उसे पकड़ने के लिए पिंजरा लगाया जाए।

पूछे जाने पर क्षेत्रीय वन क्षेत्राधिकारी प्रमोद तिवारी ने कहा कि अभी मामला उनके संज्ञान में नहीं आया है। पूर्व में उन्होंने ऐसी शिकायत पर पटाखे छोड़ने आदि की कार्रवाई की थी। कहा कि पिंजरा लगाने की इजाजत प्रभागीय वनाधिकारी के स्तर से दी जाती है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : शहर में दीवार से कारों में झांकता नजर आया गुलदार

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 5 अप्रैल 2022। शहर में एक खूंखार गुलदार कारों के जमावड़े के बीच एक दीवार पर बैठा कारों में झांकता हुआ कैमरे में कैद हुआ है। जरूर यह घटना रात्रि की है, और यह दृश्य नगर के अयारपाटा क्षेत्र में स्थित नैनी रिट्रीट होटल के बाहर का बताया जा रहा है। देखें वीडियो:

संभवतया कारों में कोई नहीं था। जबकि कई बार कारों में वाहनों के चालक रात्रि में सो भी जाते हैं, ऐसे में कोई दुर्घटना भी हो सकती थी। लेकिन फिर भी इस वीडियो में एक खूंखार गुलदार का इस तरह कारों के पास आराम से बैठे दिखना काफी भयावह लग रहा है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल ब्रेकिंग: फिर एक गुलदार बन गया आदमखोर, महिला को बनाया निवाला…

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 29 मार्च 2022। उत्तराखंड में मानव-वन्य जीव संघर्ष रुकने का नाम नहीं ले रहा है। नैनीताल जनपद में फिर एक गुलदार आदमखोर बन गया। काठगोदाम से दस किलोमीटर आगे फतेहपुर रेंज के भद्यूनी गांव की एक 60 वर्षीय बुजुर्ग महिला को तेंदुए ने अपना शिकार बना लिया है। घटना के बाद से ग्रामीणों में खासा आक्रोश है। उनका कहना है कि तेंदुए के मुह खून लग चुका है। इसलिए उसे पकड़ने की बजाए आदमखोर घोषित कर मार दिया जाए। वन विभाग की ओर से जल्द ही पीड़ित परिवार को मुआवजने दिलाने और गुलदार को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाने की बात कही गई है।

jagranप्राप्त जानकारी के अनुसार मंगलवार को बुजुर्ग महिला धनुली देवी अपनी बहू लीला के साथ पास के जंगल में घास लेने गई थी। बहू पेड़ पर चढ़कर नीचे पत्ते फेंक रही थी, और सास पत्ते इकट्ठे कर रही थी। तभी तेंदुए ने धनुली देवी पर हमला कर दिया और उसे खामोशी से घसीट कर ले गया। बहू ने तेंदुए की पूछ देखकर शोर मचाया। इस पर ग्रामीणों की भीड़ जुट गई।

सूचना पर रेंजर और ज्योलीकोट पुलिस भी पहुंच गई। बाद में करीब 150 के दायरे में सर्च अभियान चलाकर शव को बरामद कर लिया गया। मृतका के दो बेटे हैं, जो घर पर ही रहते हैं। घटना के बाद से परिजनों के साथ गांव में भी शोक छा गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : गुलदार बन गया आदमखोर, युवक को बनाया निवाला, दहशत मे लोग

नवीन समाचार, उत्तरकाशी, 13 मार्च 2022। पिछले तीन माह से जिस गुलदार की दहशत उत्तरकाशी के भंडारस्यू क्षेत्र में बनी थी, वन विभाग की टीम उसे पहले सुरक्षित पकड़ नहीं पाई और आखिरकार वह आदमखोर बन गया। रविवार को उनसे पैंथर गांव निवासी मगन लाल पर हमला कर उसे अपना निवाला बना दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतक पेशे से मजदूर था। वह हर दिन मजदूरी के लिए ब्रह्मखाल बाजार आता था। मगन लाल मजदूरी करने के बाद गत रात लगभग नौ बजे काम से घर को निकला था कि कुमराडा के पास राजमार्ग से 50 मीटर दूर पैंथर बटिया मार्ग पर घात लगाये बैठे गुलदार ने उस पर हमला कर दिया और उस पर गर्दन पर वार कर अपना निवाला बना लिया। रात भर गुलदार उसके शरीर को नोचता रहा और उसे छत-विक्षत कर दिया। सूचना मिलने पर रविवार सुबह पुलिस-प्रशासन मौके पर पंहुंचा और शव को कब्जे मे लेकर उसका पंचनामा भरा।

बताया गया है कि यह गुलदार पिछले तीन माह से ब्रह्मखाल क्षेत्र मे दहशत का पर्याय वना हुआ था। वन विभाग को कई बार स्थानीय लोगो ने पिंजरा लगाने को कहा था मगर गहरी नींद में सोये विभाग के कानो में जूं तक नही रेंगी और मगनलाल को इसका शिकार बनना पडा। इससे क्षेत्र मे दहशत और बढ़ गई है, तथा वन विभाग के खिलाफ लोगों मे भारी आक्रोश है। पिछले पांच साल मे इस क्षेत्र मे बाघ के हमले से मौत की यह दूसरी घटना है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बिड़ला-चिड़ियाघर रोड पर लगातार गुलदार का आतंक

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 12 मार्च 2022। सरोवनगरी के बिड़ला रोड-चिड़ियाघर रोड क्षेत्र में लंबे समय से लगातार गुलदार का आतंक बना हुआ है। पिछले दिनों हमने यहां एक आवारा कुत्ते को मारकर ले जाते गुलदार का सीसीटीवी वीडियो प्रस्तुत किया था। देखें आवारा कुत्ते को कैसे मारकर ले गया गुलदार:

अब बताया गया है कि उससे पहले ही यहां लगातार कमोबेश हर रोज शाम सात-साढ़े सात बजे ही गुलदार आ जाता है और एक-एक कर कुत्तों को ले जाता है। बताया गया है कि यहां दो दर्जन से अधिक आवारा कुत्ते होते थे जो अब आधा दर्जन के करीब ही बच गए हैं।

प्रिमरोज होटल के स्वामी दिग्विजय बिष्ट ने बताया हर रोज यहां शाम से ही गुलदार की दहाड़ सुनी जा रही है। शुक्रवार और शनिवार रात्रि उनके परिसर में दो मृत कुत्तों के अंश देखे गए हैं। इससे क्षेत्र में गुलदार को लेकर दहशत का माहौल है। क्षेत्रीय लोगों का यह भी मानना है कि क्षेत्र में चिड़ियाघर होने के कारण भी यहां वन्यजीवों की अधिक आमद रहती है। पूर्व में यहां भालू भी एक होटल में आ चुका है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल की चिड़ियाघर रोड पर कुत्ते को मारकर ले जाते हुए कैमरे में कैद हुआ गुलदार

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 23 फरवरी 2022। पर्यटन नगरी नैनीताल में मंगलवार की बीती रात्रि गुलदारों की मौजूदगी रही। क्षेत्रीय लोगों के अनुसार रात्रि करीब सवा तीन बजे दो गुलदार नगर के चिड़ियाघर रोड स्थित होटलों के आसपास मौजूद रहे और दो आवारा कुत्तों को अपना शिकार बनाकर ले गए। इनमें से एक गुलदार वहां लगे प्रशांत होटल के सीसीटीवी कैमरे में भी रिकॉर्ड हुआ है।

जिसमें गुलदार भारी भरकम कुत्ते को मारने के बाद बमुश्किल, कई बार रुक-रुककर, कुत्ते के शव को जमीन पर रखकर सुस्ताते हुए ले जाते हुए दिखाई दे रहा है। उल्लेखनीय है कि इस क्षेत्र में कई होटल स्थित हैं, जहां स्थानीय लोगों के साथ सैलानियों की भी मौजूदगी रहती है। यह भी माना जाता है कि पास में चिड़ियाघर और वहां वन्य जीव होने की वजह से यहां वन्यजीवों की आमद अधिक होती है।

गौरतलब है कि नगर में वन्य जीवों की मौजूदगी नई बात नहीं है। प्रशांत होटल में ही पूर्व में एक भालू भी आ गया था, जबकि हल्द्वानी रोड स्थित एक होटल के कमरे में एक गुलदार का शावक तब आ गया था, जबकि कमरे में एक नवदंपत्ति सोया हुआ था। तब युवक ने किसी तरह शावक को बाथरूम में बंद कर जान बचाई थी।

इसके अलावा भी नगर में गुलदारों के आवारा कुत्तों को शिकार बनाने के लिए आने की कई घटनाएं हो चुकी हैं। ऐसे में क्षेत्रवासियों ने नगर को आवारा कुत्तों की समस्या से मुक्त कर गुलदारों के भय से मुक्त किये जाने की आवश्यकता जताई है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : अविश्वसनीय व डराने वाली घटना: बंदर ने बच्चे को पानी की बाल्टी में डुबोकर मार डाला

Champawat News : बाल्टी में डुबो-डुबोकर मासूम बच्चे को मौत के घाट उतार दिया  बन्दर नेनवीन समाचार, टनकपुर, 1 फरवरी 2022। चंपावत जिले के टनकपुर में अविश्वसनीय व वन्य जीवों से डराने वाली घटना सामने आई है। आरोप है कि यहां घर में सोए एक तीन माह के मासूम को बंदर उठाकर छत पर ले गया और पानी से भरी बाल्टी में उसे डाल दिया। इससे बच्चे की मौत हो गई।

टनकपुर के मुख्य बाजार वार्ड नंबर आठ निवासी बच्चे के दादा पूर्व सभासद अनीश अहमद ने बताया कि उनका तीन वर्षीय पोता जुबीन पुत्र शहनवाज अपनी मां साजिया के साथ सोया हुआ था। मंगलवार की सुबह पांच बजे उसकी मां उठकर घर के काम में जुट गई। इस बीच बंदर ने कमरे में घुसकर जुबिन को कंबल सहित घसीट लिया और छत पर ले जाकर पानी की बाल्टी में डुबो दिया। बताया कि छह बजे करीब मां बिस्तर के पास गई तो उसने बच्चे पर बिस्तर पर नहीं पाया। जिसके बाद उसकी खोजबीन की गई। जुबिन छत पर पानी से भरी बाल्टी में औंधे मुंह गिरा था। बेहोशी की हालत में परिजन उसे उपचार के लिए संयुक्त चिकित्सालय ले गए जहां चिकित्सक डॉ. घनश्याम तिवारी ने उसे मृत घोषित कर दिया।

इधर वन विभाग परिजनों की इस बात से सहमत नहीं लग रहे हैं। एसडीओ एसके मौर्या ने कहा कि सुबह के समय बंदर सोए रहते हैं और वे धूप निकलने के बाद ही झुंड में निकलते हैं। इतनी सुबह बंदरों के घर में आने की संभावना काफी कम है। अलबत्ता विभाग भी अपने स्तर से मामले की जांच करेगा। पुलिस ने बच्चे का शव कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मामला संदेहास्पद होने की वजह से पुलिस भी आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाल कर जांच कर रही है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : महिला ग्राम प्रधान का घर के आंगन में 10-12 फिट से गुलदार से हुआ आमना-सामना, परिवार दहशत में

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 15 जनवरी 2022। निकटवर्ती ज्योलीकोट के समीपवर्ती ग्राम सभा चोपड़ा में पिछले दिनों अक्टूबर और नवम्बर माह में गुलदार ने अलग अलग घटनाओं में दो बालिकाओं को मार डाला था। इसके बाद चोपड़ा, भल्यूटी व गांजा में वन विभाग द्वारा लगाए पिंजरों में सात गुलदार कैद हुए। लेकिन इसके बाद भी क्षेत्र में गुलदारों का आतंक कम नहीं हो रहा है।

ताजा घटनाक्रम में चोपड़ा की ग्राम प्रधान संगीता का बीती देर शाम अपने घर के आंगन में गुलदार से आमना-सामना हो गया। इसके बाद से ग्राम प्रधान और परिजनों सहित ग्रामीण दहशत में हैं। बताया गया है कि कल देर शाम प्रधान संगीता अपने आंगन में लकड़ी लेने बाहर आई तो उनसे मात्र दस-बारह फिट की गुलदार से आमना-सामना हो गया। प्रधान पति जीवन चंद्र ने बताया कि उसके बाद से ही घर के सभी सदस्य भयभीत हैं और ग्रामीणों में दहशत है। ग्रामीणों ने इलाके में पुनः पिजरें लगाने की मांग की है। वन क्षेत्राधिकारी बीएस मेहता ने बताया कि उच्चधिकारियों से अनुमति के बाद यहां पर भी पिंजरा लगवाया जाएगा। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : Breaking : गुलदार ने महिला व पुरुष पर किया हमला, महिला की हालत नाजुक

ललित मोहन बधानी @ नवीन समाचार, कालाढुंगी, 13 जनवरी 2022। कालाढुंगी वन क्षेत्र के की ग्राम सभा चकलुवा के गुलजारपुर बंकी में गुलदार द्वारा एक महिला व एक पुरुष को हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया गया है। महिला की हालत नाजुक बताई जा रही है। ग्रामीणों की मदद से घायल दोनों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कालाढुंगी लाया गया है। यहां उनका उपचार चल रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गुलजारपुर गांव में ट्यूबवेल ऑपरेटर सुभाष चंद्र पर ट्यूबवेल के पास गुलदार ने हमला किया। उसके चेहरे और गर्दन में गुलदार ने गहरे घाव किए हैं। सुभाष ने किसी तरह जान बचाई, लेकिन यहां से भागे गुलदार ने गांव में ही बकरियां चरा रहीं मीना देवी नाम की महिला पर हमला बोल दिया। इससे मीना देवी गंभीर रूप से घायल हो गई।

कालाढुंगी वन प्रभाग के वन क्षेत्राधिकारी अमित ग्वासकोटी ने बताया कि गुलदार द्वारा किन परिस्थितियों में हमला किया गया इसकी छानबीन की जाएगी और वन विभाग द्वारा क्षेत्र में दिन और रात को गश्त बढ़ाई जाएगी, ताकि आगे इस प्रकार की दुर्घटनाओं की पुनरावृत्ति ना हो। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

ह भी पढ़ें : तीन साथियों के पकड़े जाने के बावजूद गांव में फिर गुलदार हमलावर, अब महिला पर किया हमला

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 19 नवंबर 2021। ज्योलीकोट के निकट चोपड़ा गांव में बीते एक माह में एक बच्चे व एक बच्ची की गुलदारों द्वारा की गई हत्या और इसके बाद तीन गुलदारों के पकड़े जाने के बाद फिर एक महिला पर गुलदार द्वारा हमला करने की कोशिश की गई हे। गनीमत रही की महिला बाल-बाल बच गयी।

इसके बाद वन विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों ने महिला से मिलकर घटना की जानकारी ली। इस दौरान ग्रामीणों ने गुलदार को मारने के लिए तैनात शिकारियों की संख्या बढ़ाने और ग्रामीणों को सुरक्षा उपलब्ध कराने की मांग की है।

चोपड़ा के पूर्व प्रधान जीवन चंद्र ने बताया कि शुक्रवार दोपहर बाद करीब दो बजे पुष्पा जीना पत्नी चंदन सिंह घर से घास काटने को खेतों की ओर जा रही थी कि घर से करीब 50 मीटर दूर ही अचानक गुलदार से पुष्पा का सामना हो गया। लेकिन इससे पहले कि गुलदार उंस पर हमला करता, महिला शोर मचाते हुए उल्टे पैर घर को भाग आयी।

घटना की सूचना मिलने पर उप रेंज अधिकारी आनंद लाल ने मौके पर आकर महिला से घटना की जानकारी ली और बताया कि गांव में तैनात शिकारी हरीश धामी के साथ अन्य शिकारियों की तैनाती के प्रयास किये जा रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने ग्रामीणों से सतर्कता बरतने, अकेले न निकलने व बच्चों की सुरक्षा पर विशेष ध्यान देने का अनुरोध किया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : दांगड़ में बच्ची की मौत के बाद मादा गुलदार पिंजरे में कैद, अभी उसके ही बच्ची की हत्यारी होने की पुष्टि नहीं..

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 18 नवंबर 2021। नैनीताल जनपद के ज्योलीकोट के निकट चोपड़ा ग्राम सभा के दांगड़ तोक में गत 16 नवंबर को गांव के मोहन सिंह जीना पुत्र खड़क सिंह की 5 वर्षीय पुत्री राखी को शाम करीब 6 बजे घात लगाए बैठे गुलदार ने अपना शिकार बना लिया था। इस मामले में वन विभाग ने ग्रामीणों की मांग पर बच्ची को अपना शिकार बनाने वाले गुलदार को गोली मारने के आदेश देते हुए शिकारी हरीश धामी को भी गांव में तैनात कर दिया था। लेकिन घटना के करीब 30 घंटे बाद गुलदार पिंजरे में कैद हो गया है। अब उसे रानीबाग स्थित रेस्क्यू सेंटर ले जाया गया है। अभी इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि इसी गुलदार ने बच्चे का अपना निवाला बनाया होगा।

स्थानीय वन क्षेत्राधिकारी बीएस मेहता की ओर से बताया गया है कि गांव में करीब 20 दिन पूर्व ही गुलदार के दिखने की सूचना पर पिंजरा लगाया गया था, इसमें ही सुबह करीब साढ़े सात बजे करीब चार-साढ़े चार वर्ष की उम्र की मादा गुलदार फंसी है। उसे रानीबाग स्थित रेस्क्यू सेंटर ले आया गया है। पकड़ी गई मादा गुलदार युवा है। सामान्यतया बच्चे या बूढ़े गुलदार ही मानवों पर हमला करते हैं। चिकित्सकों की टीम ने भी अभी पकड़ी गई गुलदार का परीक्षण नहीं किया है, इसलिए अभी यह नहीं कह सकते, कि इसी गुलदार ने बच्ची को निवाला बनाया हो। इसलिए आगे भी नियुक्त शिकारी और वन विभाग के कर्मी क्षेत्र में गश्त करते रहेंगे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बिग ब्रेकिंग नैनीताल: 5 वर्षीय बच्ची को जबड़े में दबाकर उठा ले गया गुलदार, परिजनों ने छुड़ा लिया, फिर भी नहीं बच पाई बच्ची…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 16 नवंबर 2021। नैनीताल जनपद में मानव वन्य जीव संघर्ष का एक और मामला सामने आया है। जनपद के ज्योलीकोट के समीप के चोपड़ा ग्राम सभा के दांगड तोक में गुलदार ने घर के आंगन में खेल रही 5 वर्षीय बालिका को हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। बच्ची को परिजनों ने गुलदार ने तब तो छुडा लिया था, अलबत्ता गंभीर स्थिति में उसे हल्द्वानी ले जाया गया था, जहां बच्ची को बचाया नहीं जा सका। चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार चोपड़ा के दांगड़ तोक निवासी मोहन सिंह जीना पुत्र खड़क सिंह की 5 वर्षीय पुत्री राखी शाम को घर के आंगन में खेल रही थी। देर शाम करीब 6 बजे घात लगाए बैठे गुलदार ने बालिका को अपना शिकार बनाने के लिए हमला कर दिया और घसीट कर वन क्षेत्र की ओर ले जाने लगा। संयोग से उसके परिजनों को तत्काल पता चल गया। इस पर परिजनों ने साहस के साथ शोर मचाते हुए बालिका को गुलदार के चंगुल से छुड़ा लिया। गुलदार उसे झाड़ियों में फेंक गया। अलबत्ता गुलदार के जबड़े में आ जाने के कारण गंभीर रूप से घायल हुई बालिका को इलाज के लिए हल्द्वानी ले जाया गया। लेकिन बताया गया है कि बच्ची ने अस्पताल पहुंचने से पहले ही दम तोड़ दिया।

उल्लेखनीय है कि दो माह पूर्व भी चोपड़ा ग्राम सभा के आम पड़ाव स्थित मटियाल तोक में एक बच्चे को गुलदार ने अपना निवाला बना लिया था। इसके बाद लगाए गए पिजरें में दो गुलदार पकड़ में आये थे। गुलदार के बढ़ते आतंक से इलाके में दहशत फैल गई है। लोगों ने गुलदार के बढ़ते आतंक से निजात दिलाने की मांग की है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बाइक सवारों पर झपटा गुलदार, तीन युवक घायल

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 30 अक्टूबर 2021। मुख्यालय के निकटवर्ती क्षेत्र भूमियाधार में हल्द्वानी राष्ट्रीय राजमार्ग 87 पर भूमियाधार व खूपी के बीच दो चलती बाइकों पर गुलदार द्वारा हमला किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। इस घटना में तीन युवक घायल हुए हैं। उन्हें जिला मुख्यालय स्थित बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है।

सांकेतिक तस्वीर (फाइल फोटो)

क्षेत्रवासियों से प्राप्त जानकारी के अनुसार शुक्रवार देर शाम खूपी गांव निवासी चार युवक दो बाइकों से अपने घर लौट रहे थे, तभी अचानक गुलदार ने चलती बाइकों पर झपट्टा मार दिया। बाइक सवारों ने किसी तरह गुलदार के जानलेवा हमले से खुद की जान बचाई। अलबत्ता उनमें से तीन युवक प्रवीण, पंकज और सागर गुलदार के हमले से घायल हो गए।

घटना की सूचना वन विभाग को दी गई है, और क्षेत्र में गुलदार का खतरा बताकर भविष्य में किसी अनहोनी से बचने के लिए पिंजरा लगाने की मांग की गई है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : 62 वर्षीय वृद्धा पर भालू का हमला, पर वृद्धा की हिम्मत के आगे नहीं टिका भालू

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 24 अक्टूबर 2021। नैनीताल जनपद के ओखलकांडा विकास खंड की ग्रामसभा भदरेठा के तोक पल्ली पतलोट निवासी 62 वर्षीया वृद्धा पार्वती देवी पत्नी मोहन चंद्र परगांई पर भालू ने हमला कर दिया। भालू के हमले में वृद्धा गंभीर रूप से घायल हो गईं। अलबत्ता पार्वती ने भालू का ऐसा प्रतिरोध किया कि भालू उसे छोड़ जंगल की ओर भाग गया। पार्वती को उपचार के लिए हल्द्वानी ले जाया गया है।

ओखलकांडा में भालू के हमले से घायल महिला। संवाद न्यूज एजेंसीप्राप्त जानकारी के अनुसार घटना के ग्रामीण पार्वती को प्राथमिक इलाज के लिए पतलोट और वहां से राजकीय चिकित्सालय डालकन्या ले गये। वहां डॉ अवनीश दीवान और डॉ. हिमेश मटियाली ने उसका प्राथमिक उपचार किया। डॉ. अवनीश दीवान ने बताया कि वृद्धा के हाथ में फ्रैक्चर था इस कारण उसे सुशीला तिवारी अस्पताल रेफर करना पड़ा।

पार्वती के पति मोहन परगांई ने बताया कि पतलोट से खनस्यूं तक युवाओं की मदद से पत्नी को पैदल और उसके बाद बाइक पर सड़क तक और वहां से एंबुलेंस की मदद से हल्द्वानी ले जाया गया। समाजसेवी आन सिंह मटियाली ने बताया कि भालू के हमले के बाद दहशत का माहौल है। उन्होंने वन विभाग से पिंजरा लगाने की मांग की है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बिग ब्रेकिंग: नैनीताल के गांव में 2 वर्षीय बालक को मारने की घटना के बाद एक और विशाल गुलदार पिंजरे में कैद

डॉ. नवीन जोशी  @ नवीन समाचार, नैनीताल, 15 अक्टूबर 2021। जनपद के ज्योलीकोट के निकट चोपड़ा ग्राम सभा के मटियाल तोक में गत 8 अक्टूबर की रात्रि करीब 2 वर्षीय बालक को गुलदार द्वारा शिकार बनाने की घटना हुई थी। इस मामले में घटना के अगले दिन यानी 9 अक्टूबर की रात्रि एक मादा गुलदार यहां लगाए एक पिंजरे में कैद हो गई थी। लेकिन इसके बाद भी 10 अक्टूबर की रात्रि से यहां फिर गुलदार देखा गया था, और गुलदार की दहशत बनी हुई थी।

इस पर ‘नवीन समाचार’ ने उसी दिन यानी 10 अक्टूबर को समाचार प्रकाशित किया और वन विभाग को भी सूचित किया। इसके बाद वन विभाग ने यहां दो पिंजरे फिर से लगा दिए थे। इधर शुक्रवार को यानी पांच दिन के बाद एक पिंजरे में फिर एक विशाल गुलदार पिंजरे में कैद हो गया है। इससे यह पुष्टि भी हो गई है कि गांव में गुलदार का खतरा बना हुआ था। अब एक और गुलदार को पकड़े जाने के बाद उम्मीद करनी होगी कि ग्राम वासियों को गुलदार की दहशत व भय से मुक्ति मिल जाएगी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

ह भी पढ़ें : मटियाल में बच्चे की मौत और गुलदार को पकड़े जाने के बाद फिर गुलदार की धमक

यह भी पढ़ें : डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 10 अक्टूबर 2021। जनपद के ज्योलीकोट के निकट चोपड़ा ग्राम सभा के मटियाल तोक में गत 8 अक्टूबर की रात्रि करीब 2 वर्षीय बालक को शिकार बनाने वाले गुलदार को हालांकि वन विभाग ने पकड़ लेने का दावा किया है, लेकिन यहां इस घटना के बाद भी गुलदार की मौजूदगी बनी हुई है।

जहां मादा गुलदार 9 अक्टूबर की रात्रि पकड़ी गई थी, उसी क्षेत्र में बीती यानी 10 अक्टूबर की रात्रि गुलदार दहाड़ता रहा, इस कारण ग्रामीण पूरी रात्रि अपनी एवं पशुओं की सुरक्षा करते हुए सो नहीं पाए। ग्रामीण इस बात को लेकर भी सशंकित हैं कि जो मादा गुलदार पकड़ी गई, वह बालक को निवाला बनाने वाली थी भी या नहीं। कहीं ऐसा तो नहीं कि आदमखोर गुलदार खुले में हो और कोई अन्य गुलदार पकड़ में आ गई हो।

स्थानीय निवासी मोहन चंद्र पांडे ने बताया कि सोमवार को दिन में भी क्षेत्र में गुलदार देखा गया है। इससे ग्रामीण दहशत में हैं। उन्होंने कहा कि वन विभाग ने पिंजरे बंद कर दिए हैं। उन्होंने फिर से क्षेत्र में गुलदार को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाए जाने की मांग की है।

इस पर पूछे जाने पर डीएफओ बीजू लाल टीआर ने कहा कि पकड़ी गई गुलदार का साथी अपनी साथी की तलाश में गांव में आ रहा होगा। गांव में फिर से पिंजरे लगाकर उसे पकड़ने के प्रयास किए जाएंगे। वहीं नैना रेंज के वनक्षेत्राधिकारी भोपाल सिंह मेहता ने कहा कि सूचना मिलने के बाद गांव में फिर से दो पिंजरे लगाए जा रहे हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : मासूम को शिकार बनाने वाली गुलदार निकली मादा, जानें क्यों आदमखोर बनते हैं गुलदार, कैसे रोक सकते हैं ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 10 अक्टूबर 2021। नैनीताल जनपद के चोपड़ा ग्राम सभा के मटियाल बैंड के पास शुक्रवार शाम एक ढाई वर्षीय बालक राघव पुत्र भानु राणा को निवाला बनाने वाले आदमखोर को पकड़ लिया गया है। शनिवार सुबह बच्चे का क्षत-विक्षत शव मिलने के बाद शाम को यहां वन विभाग के द्वारा तीन पिंजरे लगाए गए थे। इन्हीं में से एक पिंजरे में आदमखोर को पकड़ने में वन विभाग ने सफलता प्राप्त कर ली।

नैना रेंज के वन क्षेत्राधिकारी भोपाल सिंह मेहता ने बताया कि बच्चे को निवाला बनाने वाली करीब सात वर्ष की वयस्क मादा गुलदार थी। उसके शिकार करने वाले कैनाइन दांत व पंजों के नाखून टूटे हुए थे। घटना के बाद यह भी जानकारी मिली कि पूर्व में गुलदार यहां सात-आठ मुर्गियां व कुत्ते भी मार चुकी थी। इसका अर्थ है कि वह जंगल में शिकार करने में अक्षम थी, इसलिए वह पहले से आबादी के पास आकर आसार शिकार ढूंढ रही थी।

वन क्षेत्राधिकारी मेहता का कहना है कि तब स्थानीय लोगों ने वन विभाग को जानकारी नहीं दी। उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं की वन विभाग को पहले से जानकारी मिले तो पहले ही वन विभाग की ओर से ऐहतियाती कदम उठाकर ऐसी दुःखद घटना को एक हद तक रोका जा सकता है। उन्होंने बताया कि पकड़ने के बाद आदमखोर हो चुकी मादा गुलदार को रानीबाग के रेस्क्यू सेंटर भेजा गया है। आगे उसे सामान्य होने तक वहीं रखा जाएगा और उच्चाधिकारियों के निर्देश पर उसे किसी चिड़ियाघर भेजने आदि की कार्रवाई की जाएगी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : Big Breaking: पिंजरे में फंसा बच्चे को निवाला बनाने वाला गुलदार

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 9 अक्टूबर 2021। नैनीताल जनपद के चोपड़ा ग्राम सभा के मटियाल बैंड के पास शुक्रवार शाम एक ढाई वर्षीय बालक को निवाला बनाने वाला गुलदार पकड़ लिया गया है। शनिवार सुबह बच्चे का क्षत-विक्षत शव मिलने के बाद शाम को यहां वन विभाग के द्वारा तीन पिंजरे लगाए गए थे। इन्हीं में से एक पिंजरे में गुलदार फंस गया है। वीडियो में देखें कैसे पिंजरे में फंसने के बाद आदमखोर कैसे छटपटा रहा है और कुत्ते भी उस पर भौंक रहे हैं। देखें वीडियो:

यह भी पढ़ें : मासूम के हत्यारे को आदमखोर घोषित करने की कवायद शुरू

-घटनास्थल पर लगाए गए पकड़ने को तीन पिंजरे

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 9 अक्टूबर 2021। जनपद मुख्यालय के निकटवर्ती ज्योलीकोट के पास चोपड़ा ग्राम सभा के मटियाली बैंड के पास झाले में अपनी पत्नी मीना राणा और दो पुत्रों 4 वर्षीय पीयूष और करीब ढाई वर्षीय राघव के साथ रहने वाले भानु राणा का छोटा पुत्र राघव शुक्रवार देर शाम करीब 6 बजे भानु का पुत्र राघव घर के आंगन से अचानक गायब हो गया था। शनिवार सुबह उसका क्षत-विक्षत शव-केवल सिर और एक हाथ घर से करीब एक-डेढ़ किलोमीटर दूर मिला।

इस मामले में डीएफओ बीजू लाल टीआर के माध्यम से वन्य जीव प्रतिपालक से संपर्क कर मासूम के हत्यारे गुलदार को आदमखोर घोषित करने की कवायद शुरू कर दी गई है। साथ ही घटनास्थल के पास तीन पिंजरे स्थापित कर दिए हैं। बच्चे के शव को पोस्टमार्टम के लिए मुख्यालय लाया गया है।

उल्लेखनीय है कि क्षेत्र में दो-तीन दिन पहले गुलदार गांव को जाने वाले रास्ते पर चोपड़ा गांव निवासी मनोज, नरेंद्र और ललित पर झपट गया था। इससे पहले भी जंगल से लगे इस क्षेत्र में गुलदार की लगातार आवक बनी हुई थी। लिहाजा पहले ही तय माना जा रहा था कि बच्चे को गुलदार उठा कर ले गया है। इसलिए रात्रि 11 बजे के बाद तक वन विभाग के कर्मी एवं स्थानीय ग्रामीण बच्चे की तलाश में जंगल में जुटे रहेे, लेकिन तब अंधेरा गहरा होने की वजह से बच्चे का कोई पता नहीं चल सका। लेकिन शनिवार सुबह बच्चे का शव बरामद हो गया।

ऐसे में गुलदार के नरभक्षी हो जाने के बाद उसका खतरा और बढ़ गया। क्षेत्रीय लोगों ने गुलदार को पकड़कर उसके आतंक से निजात दिलाने की मांग की। गौरतलब है कि जंगलों के बीच भी मानव बस्तियां बसने, जंगलों में बढ़ते दखल के साथ घरों में मांस-मछली-चिकन आदि के बढ़ते उपयोग और इसके अवशेष बाहर खुले में फैंके जाने को भी अत्यधिक संख्या में बढ़ चुके गुलदारों के मानवबस्तियों की ओर आने का प्रमुख कारण माना जा रहा है। इन गतिविधियों पर रोक लगाई जानी अपेक्षित है।

वन क्षेत्राधिकारी भूपाल सिंह मेहता ने बताया कि गुलदार को आदमखोर घोषित करने के लिए पत्रावली तैयार की जा रही है। साथ ही उसे पकड़ने के लिए तीन पिंजरे लगाए जा रहे हैं। बच्चे के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : आँगन से बच्चे को उठा ले गया गुलदार, 3 घंटे बाद भी बच्चे का कोई पता नहीं…

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 8 अक्टूबर 2021। जनपद मुख्यालय के निकटवर्ती ज्योलीकोट क्षेत्र में एक पौने वर्ष के दुधमुंहे बच्चे को गुलदार द्वारा लिये जाने की दुःखद जानकारी सामने आ रही है।

पुलिस के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार घटना शाम करीब 6 बजे की बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि ज्योलीकोट के निकटवर्ती चोपड़ा गांव के अंतर्गत मटियाली बैंड के पास यह घटना हुई है। यहां झाले में रहने वाले नेपाली मूल के परिवार का कहना है कि उनका करीब पौने दो वर्ष का बच्चा गायब है। इस सूचना के बाद ज्योलीकोट चौकी पुलिस एवं वन विभाग की टीम बच्चे की तलाश में सर्च ऑपरेशन चला रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार भानु राणा मटियाल बैंड के पास झाले में अपनी पत्नी मीना राणा और दो पुत्रों 4 वर्षीय पीयूष और करीब ढाई वर्षीय राघव के साथ रहता है। शुक्रवार देर शाम करीब 6 बजे भानु का पुत्र राघव कमरे से निकलकर घर के आंगन में आया था कि अचानक गुलदार ने उसे अपना शिकार बना लिया और जंगल में गायब हो गया।

बच्चे की मां जैसे ही उसे अंदर कमरे को वापस लाने के लिये आयी तो बच्चा नहीं मिला। इस बीच लोगों ने उसे आज शाम ही अन्य लोगों द्वारा गुलदार देखे जाने की बात बताई, इस पर तय माना गया कि गुलदार ही बच्चे को ले गया है। सूचना मिलने के बाद दर्जनों ग्रामीण, वन विभाग की टीम और स्थानीय जनप्रतिनिधि मौके पर पहुंचकर बच्चे की खोजबीन में जुट गए। समाचार लिखे जाने तक बच्चे का कोई सुराग नहीं मिल पाया है। ज्योलीकोट चौकी प्रभारी नरेंद्र कुमार व वन क्षेत्राधिकारी भोपाल सिंह मेहता व अपर वन क्षेत्राधिकारी आनंद लाल भी मौके पर मौजूद हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : यह भी पढ़ें : अभी-अभी आंगन में सोये 5 वर्षीय बच्चे को ले गया आदमखोरआंगन में सोये 5 वर्षीय बच्चे को ले गया आदमखोर

नवीन समाचार, नानकमत्ता, 27 सितंबर 2021। उत्तराखंड में वन्य जीव संघर्ष और मानव गुलदारों के आदमखोर होकर मानव बस्तियों की ओर आकर शिकार बनाने का लंबा सिलसिला चल निकला है। इधर सोमवार शाम अभी थोड़ी देर पहले ही आंगन में चारपाई पर सोए हुए एक 5 वर्ष के बच्चे को तेंदुआ जबड़े में दबा कर जंगल की ओर ले गया। परिजनों व गांव वालों के ढूंढने पर बच्चा जंगल में नदी किनारे बेहोश अवस्था में मिला। उसके गले में दांतों के गहरे निशान मिले। परिजन उसे बचाने की कोशिश में चिकित्सालय ले गए, लेकिन चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मामला निकटवर्ती ग्राम विडौरा मझौला का है। यहां गांव के निवासी राजू का पांच वर्षीय बेटा आंगन में चारपाई पर सोया हुआ था, जबकि घर के अन्य सदस्य आसपास ही कामों में व्यस्त थे, तभी दबे पांव आया आदमखोर गुलदार इस तरह बच्चे को अपने जबड़े में दबाकर ले गया कि किसी को इसका पता ही नहीं चला। जब परिजनों ने बच्चे को नहीं देखा तो उसकी तलाश शुरू हुई और वह जंगल में नदी किनारे घायल अवस्था मे मिला। इस घटना के बाद क्षेत्र में दहशत का माहौल है। मौके पर पहुंची नानकमतत्ता पुलिस ने बताया कि बच्चे को अस्पताल ले जाने के बाद भी नहीं बचाया जा सका। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : जंगली जानवरों से फसलों को नुकसान पहुंचाने के मामले में सरकार व वन विभाग से जवाब तलब…

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 22 सितंबर 2021। उत्तराखंड उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश आरएस चौहान व न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की खंडपीठ ने जंगली जानवरों द्वारा जंगल से सटे गाँवो में ग्रामीणों की फसलों को बर्बाद किए जाने के खिलाफ दायर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए वन विभाग व राज्य सरकार से चार सप्ताह में जवाब पेश करने को कहा है।

हल्द्वानी गौलापार निवासी दीपक बिष्ट ने उच्च न्यायलय में जनहित याचिका दायर कर कहा है कि हल्द्वानी के गौलापार जंगल से सटे गाँव जगतपुर, बसंतपुर, दौलतपुर, दानीबंगर व अन्य गांवो में जंगली जानवरों द्वारा ग्रामीणों की बैंकों से लोन लेकर बोई हुई फसल को बर्बाद किया जा रहा है। इसकी शिकायत ग्रामीणों ने वन विभाग व प्रशासन से बार-बार की, लेकिन उनकी समस्याओं का निस्तारण नहीं किया गया। लिहाजा उनकी समस्याओं के निस्तारण हेतु सरकार व वन विभाग को निर्देशित किया जाये। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : राजभवन रोड पर गुलदार ने बाइक सवार पर मारा झपट्टा

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 13 अगस्त 2021। नगर की राजभवन रोड पर गुलदार ने बीती रात्रि बाइक सवार पर झपट्टा मार दिया। बाइक चालक ने बाइक को तेज दौड़ाकर किसी तरह अपनी व गुलदार के हमले में घायल हुए बाइक सवार की जान बचाई। बाइक सवार के पैर में गुलदार के हमले से उपचार कराते हुए तीन टांके लगाने पड़े हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार नगर में बाइक टैक्सी चलाने वाले डीएसबी परिसर निवासी जमन धौनियाल व स्टाफ हाउस सात नंबर निवासी चालक राहुल कुमार बृहस्पतिवार की देर रात्रि करीब साढ़े 11 बजे हल्द्वानी से बाइक की मरम्मत कराने के बाद मस्जिद तिराहे से डीएसबी परिसर की ओर जा रहे थे। तभी बाइक ने पीछे बैठे बाइक टैक्सी चलाकर गुजारा करने वाले 22 वर्षीय राहुल पर हमला कर दिया। इससे राहुल के पैर में गहरी चोट आई व खून आने लगा। बाइक चला रहे जमन ने किसी तरह बाइक भगाकर जान बचाई। बाद में उपचार के लिए राहुल को बीडी पांडे जिला चिकित्सालय ले जाया गया, जहां उसके पैर में तीन टांके लगाने पडे़। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : वयस्क बैल को मार गया गुलदार

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 09 जुलाई 2021। किसान के लिए बैल ही उसकी पूंजी होती है। जनपद मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर कालाढुंगी रोड पर स्थित ग्राम सभा मंगोली के तोक मनसौड़ में शुक्रवार को गुलदार गांव के किसान ध्यान सिंह बगड़वाल के बैल को मार गया। बताया गया है कि बैल ध्यान सिंह के घर से करीब 100 मीटर दूर खेत में चर रहा था, तभी बैल ने हमला कर उसे शिकार बना दिया। इस घटना से ग्रामीणों में गुलदार के प्रति भय व्याप्त हो गया है। ग्रामीणों ने प्रभावित किसान को बैल की मौत पर मुआवजा देने की मांग की है। सूचना मिलने पर वन विभाग के मंगोली बीट के कर्मियों ने मौके पर पहुंचकर मृत बैल के फोटो आदि लेकर मुआवजा देने की कार्रवाई शुरू की है।

उल्लेखनीय है कि बरसात के दिनों में गुलदारों की आबादी क्षेत्रों में आवक बढ़ गई है। वनाधिकारियों का कहना है कि इस मौसम में गुलदारों के शावक पैदा होते हैं। इसलिए उनके भोजन का प्रबंध करने के लिए भी गुलदारों की सक्रियता बढ़ जाती है। साथ ही इन दिनों आबादी क्षेत्र के आसपास उगने वाली झाड़ियां भी गुलदारों के छुपने और शिकार करने के लिए मददगार साबित होती हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : नैनीताल में सैलानियों के साथ ही पूरे परिवार सहित जमा है गुलदार, पत्थर मार कर घरों के पास से भगा रहे लोग

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 06 जुलाई 2021। जी हां, सरोवरनगरी में जहां इन दिनों सैलानियों की भरमार है, वहीं बरसात के साथ अपने घरों से विस्थापन की लटकी तलवार के साये में डर-डर कर जीने को मजबूर नगर के तल्लीताल हरिनगर क्षेत्र में इन दिनों एक गुलदार भी जैसे सैलानियों की तरह पूरे परिवार सहित करीब एक सप्ताह से जमा हुआ है। क्षेत्रवासियों के आंकलन के अनुसर इस परिवार में वयस्क नर व मादा गुलदार के साथ ही संभवतया हाल में पैदा हुए बच्चे भी हैं। इनकी दुर्गंध भी क्षेत्र में लोगों को महसूस हो रही है।

बताया जा रहा है कि यह गुलदार सोमवार को राजभवन क्षेत्र में पर्यावरण मित्र के रूप में कार्य करने वाले एक व्यक्ति के घर के अहाते से कुत्ते को उसके गले में बंधे पट्टे के कारण असफल रहा था, इस कारण अब शाम ढले ही शिकार की तलाश में बस्ती में घूम रहा है, और अक्सर जीआईसी के मैदान में दिख रहा है। इसके भूस्खलन की जद में आने के कारण मैदान के पास के खाली कराए गए घरों के खंडहरों व मैदान के नीचे की झाड़ियों में स्थायी तौर पर रहने की बात भी कही जा रही है। बुधवार को लोगों ने इस गुलदार को बमुश्किल पत्थर मार कर भगाया। ऐसे में क्षेत्रवासी गुलदार के भय के बीच जी रहे हैं। बलियानाला संघर्ष समिति के अध्यक्ष मुख्तार अली खान ने वन विभाग से गुलदार के इस परिवार को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाने की मांग की है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : तल्लीताल क्षेत्र में गुलदार देखे जाने से दहशत

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 04 जुलाई 2021। नगर के तल्लीताल हरिनगर क्षेत्र में इन दिनों गुलदार देखा जा रहा है। बताया जा रहा है कि बीती एक जुलाई को जीआईसी तल्लीताल के पास गुलदार आवाजाही करता नजर आया था। इसके बाद से लोगों में गुलदार को लेकर दहशत बनी हुई है। जानकारी के अनुसार बीते कई दिनों से रात को हरिनगर मैदान में गुलदार देखा जा रहा है। क्षेत्र के लोगों ने बताया कि देर शाम होते ही गुलदार की आवाज सुनाई देती है।

उनका कहना है कि कुछ दिन पूर्व गुलदार घरों के बीच से एक कुत्ते को उठा ले गया। गुलदार की चहलकदमी एक दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हुई है। जिसके बाद हरिनगर क्षेत्र के लोग दहशत में हैं। वन विभाग के आरओ प्रमोद तिवारी का कहना है कि इस संबंध में कोई सूचना नहीं अपितु वीडियो के माध्यम से जानकारी मिलने की बात कही है। उन्होंने कहा कि जल्द ही क्षेत्र में विभागीय टीम गश्त करेगी। उन्होंने लोगों से अपील की है कि रात्रि के समय घर से बाहर कम ही निकलें और बच्चों को भी रात्रि में घर से बाहर न निकलने दें।  आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : छात्रा छात्रावास की चार दीवारी पर घूमता नजर आया गुलदार

नवीन समाचार, नैनीताल, 17 नवम्बर 2020। नगर के राजकीय पॉलीटेक्निक, पिटरिया क्षेत्र में इन दिनों गुलदारों की उपस्थिति बनी हुई है। इधर बीती शाम पॉलीटेक्निक के महिला छात्रावास की चारदीवारी पर वयस्क गुलदार को चढ़कर घूमते देखा गया। किलबरी रोड पर कार से गुजर रहे युवकों ने इसका वीडियो बना लिया गया है, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

वीडियो बनने के दौरान भी गुलदार निर्भीक होकर छात्रावास की ऊंची के साथ ही संकरी दीवार पर चलता नजर आ रहा है। वन विभाग के नगर पालिका रेंज के रेंज अधिकारी प्रमोद तिवारी का कहना है कि यह क्षेत्र गुलदारों का प्राकृतिक आवास स्थल है। उल्लेखनीय है कि गत दिनों इसी क्षेत्र से लगे बारापत्थर क्षेत्र में गुलदारों का जोड़ा नगर की महिला छायाकार रत्ना साह के कैमरे में कैद हुआ था।

यह भी पढ़ें : क्या इतनी खराब हुई नैनीताल की जैव विविधता ? जू के पास नन्ही सी बिल्ली पर झपटते कैमरे में कैद हुआ विशाल गुलदार 

नवीन समाचार, नैनीताल, 23 अगस्त 2020। सरोवरनगरी में बीती रात्रि एक छोटी परंतु निहितार्थ निकालने में बड़ी घटना हुई है। हुआ यह कि नगर के चिड़ियाघर के पास कैंट क्षेत्र में स्थित चंदन सिंह अधिकारी के घर में एक विशालकाय गुलदार एक नन्ही सी बिल्ली पर दो बार झपटता हुआ सीसीटीवी कैमरे में कैद हुआ है। यह घटना कई मायनों में चिंताजनक है। एक तो यह अपनी तरह का पहला नहीं। कई बार इस घर में गुलदार आ चुका है और कैमरे में इस तरह कैद भी हो चुका है। पिछली बार तो वह घर के एक कुत्ते को ले जाते हुए कैमरे में कैद हुआ था। जबकि इस बार वह सफेद रंग की बिल्ली पर झपटता जरूर नजर आया है, परंतु बिल्ली को मार कर नहीं ले गया।

किंतु गृह स्वामी चंदन सिंह अधिकारी का कहना है कि घर से 6-7 बिल्लियां पूर्व में गायब हो चुकी हैं, इसलिए उन्हें लगता है कि बिल्ली प्रजाति का ही बड़ा वन्य जीव होने के बावजूद गुलदार उनकी बिल्लियों को भी खा गया है। वहीं एक सवाल यह भी है कि यह क्षेत्र नैनीताल चिड़ियाघर से सटा हुआ है। ऐसे में यह सवाल भी उठ रहा है कि इस क्षेत्र में लगातार गुलदारों के आने का कारण यहां पास में चिड़ियाघर का होना और चिड़ियाघर के अंदर कई गुलदारों व वन्य वन्य जीवों का होना तो नहीं है। और इससे भी बड़ा व सबसे बड़ा सवाल यह कि क्या क्षेत्र की जैव विविधता इतनी कमजोर हो गई है विशाल गुलदार को अपनी ही प्रजाति की नन्ही सी बिल्ली को शिकार करना पड़ रहा है। देखें विडियो :

इन प्रश्न पर प्रभागीय वनाधिकारी एवं नैनीताल चिड़ियाघर के निदेशक बीजू लाल टीआर ने कहा कि चिड़ियाघर में वन्य जीवों को मांस दिये जाने की वजह से क्षेत्र में गुलदारों के आने का कारण हो सकता है। लेकिन उन्होंने क्षेत्र की जैव विविधता के कमजोर होने से इंकार किया। साथ ही कहा कि गुलदारों द्वारा बिल्लियों का शिकार किये जाने की घटना पहले कभी प्रकाश में नहीं आई है। इस बारे में वह रेंजर को मौके पर भेजकर जांच करवाएंगे।

यह भी पढ़ें : ‘हनीमून नगरी‘ में अठखेलियां करते महिला छायाकार के कैमरे में कैद हुआ गुलदार का जोड़ा…

नवीन समाचार, नैनीताल, 30 जुलाई 2020। लॉक डाउन के दौरान घटी मानवी सक्रियता का वन्य जीव पूरा आनंद उठा रहे हैं। बुधवार को नगर के बारापत्थर की पहाड़ियों में एक ऐसा दृश्य कैमरे में कैद हुआ है जो देखने में तो रोमांच पैदा करने वाला ही है, किंतु जब आप यह जानेंगे कि यह दृश्य किसी पुरुष नहीं एक महिला छायाकार ने कैमरे में कैद किये हैं तो रोमांच के साथ कुछ अलग भावनाएं भी आपके मन में जरूर उठेंगी और आप उस महिला छायाकार की हिम्मत की दाद दिये नहीं रह पाएंगे।

नगर की छायाकार रत्ना साह ने बृहस्पतिवार को शाम ढलते समय सूर्य की आखिरी किरणों के बीच मस्ती करते हुए अपनी मौजूदगी से ही भय से रोम-रोम को सिंहरा देने वाले एक नहीं दो-दो गुलदारों को एक साथ अपने कैमरे में कैद करने में सफलता पाई। माना जा रहा है कि युवा गुलदारों का यह जोड़ा मानवों के बीच ‘हनीमून नगरी’ के रूप में भी प्रसिद्ध सरोवरनगरी में संभवतया एक-दूसरे से प्रणय निवेदन करने अथवा नगर की इस खाशियत को भांपने या इसका आनंद लेने आये हुए हों। इस दौरान इन गुलदारों ने बारापत्थर के विशाल पत्थरों पर यहां से वहां खूब अठखेलियां कीं। 

रतना ने बताया कि रोजाना वह गुलदारों को बारापत्थर क्षेत्र में देखे जा रहे है। जिससे यहां के लोगो में दहशत का माहौल है। इधर बारापत्थर क्षेत्र में दो गुलदार एक साथ देखे गए। जिसके बाद से वहां भय का माहौल बना हुआ है। स्थानीय लोगों ने क्षेत्र में पिंजड़ा लगाए जाने तथा ट्रैप कैमरा लगाए जाने की मांग की है। साथ ही विभागीय कर्मचारियों की ओर से गस्त किए जाने को लेकर अधिकारियों से पत्राचार किया गया है। 

रत्ना ने बताया कि गुलदारों का जोड़ा रोज नगर के बारापत्थर क्षेत्र में देखा जा रहा है। इससे यहां के लोगो में दहशत का माहौल है। इसी सूचना पर वह क्षेत्र में गई थीं और गुलदारों के जोड़े को अपने कैमरे में कैद किया। स्थानीय लोगों ने क्षेत्र में पिंजड़ा लगाए जाने तथा ट्रैप कैमरा लगाए जाने की मांग की है। साथ ही विभागीय कर्मचारियों की ओर से गस्त किए जाने को लेकर अधिकारियों से पत्राचार किया गया है।

यह भी पढ़ें : चिड़ियाघर के पास 15 सेकेंड में ‘डबल अटैक’ कर घर के भीतर से कुत्ते को ले गया गुलदार..

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 जुलाई 2020। जिला-मंडल मुख्यालय में बीती रात्रि चिड़ियाघर के पास हुई एक घटना से सनसनी फैल गई। यहां 21 सेकेंड के भीतर कुत्ते पर दो बार हमला करके वयस्क-विशाल गुलदार एक कुत्ते को घर के भीतर की गली से ले गया। बड़ी बात यह भी है गली के ठीक सामने से घर की बेटी पढ़ाई कर रही थी, और दरवाजा भी खुला था। पूरी घटना घर के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हुई है, जिसमें दिख रहा है कि गुलदार वीडियो के पांचवे सेकेंड में घर के आंगन से होते हुए अंदर गैलरी में जाते कुत्ते के पीछे जाता है और 17वें सेकेंड तक वहां कुत्ता न मिलने पर वापस लौट जाता है। इस बीच 19वें सेकेंड के गुलदार की आहट सुन वहां अंदर की ओर से कुत्ता आ जाता है, जिसे गुलदार अगले दो-तीन सेकेंड के अंदर ही दबोच कर चला जाता है। इस घटना के अगले तीन-चार सेकेंड के भीतर ही घर की बेटी भी वहां आ जाती है, और कुत्ते को गुलदार द्वारा ले जाये जाने पर माथा पीटती है। देखें विडियो :

यह मामला नगर के चिड़ियाघर से लगे छावनी क्षेत्र स्थित चंदन सिंह अधिकारी के घर का है। श्री अधिकारी ने बताया कि जंगल व चिड़ियाघर से लगे क्षेत्र में होने के कारण घर के आसपास अक्सर गुलदार आता रहता है। पिछले वर्ष भी इसी तरह गुलदार के घर में आने की घटना कैमरे में कैद हुई थी। उन्होंने बताया कि घर में कुल नौ कुत्ते हैं, जिनमें से एक को गुलदार ले गया। जिस जगह से गुलदार कुत्ते को ले गया, वहीं पर खुले दरवाजे के भीतर बेटी पढ़ रही थी, जो कुत्ते की चीख सुनते ही घर के बाहर आई। उल्लेखनीय है कि नगर में वन्य जीवों के आने की घटनाएं होती रहती हैं। पिछले वर्षों में गुलदार से लेकर भालू तक शहर में आ चुके हैं। इधर लॉक डाउन के बाद से वन्य जीवों के शहर में आने की अधिक घटनाएं प्रकाश में आ रही हैं। ऐसे में सतर्क रहने की आवश्यकता है।

यह भी पढ़ें : बड़ा दुःखद समाचार: किसान पर कहर बन कर टूटी बीती रात, गौशाला में 80 बकरियां मृत मिलीं

नवीन समाचार, नैनीताल, 10 जून 2020। बीती रात्रि मुख्यालय के निकटवर्ती, जिम कार्बेट पार्क से लगे, कार्बेट रेंज के एक गांव जलालगांव में बीती रात्रि एक विकलांग पशु पालक किसान पर कहर बन कर टूटी। सुबह घर के पास बनी गौशाला में 80 बकरियां मृत मिलीं। बकरियों के गले व अन्य हिस्सों पर घाव के निशान देखे गये हैं। ग्रामीणों का कहना है कि पिछले दो-तीन दिनों से गांव के पास गुलदारों की गुर्राहट सुनाई दे रही थी।

माना जा रहा है कि गुलदारों ने ही बकरियां मारी हों। जिस तरह इतनी बड़ी संख्या में बकरियां मारी गई हैं, उससे संभावना व्यक्त की जा रही है कि गुलदार भी संख्यामें अधिक होंगे। इस घटना के बाद पूरे गांव में दहशत का माहौल है, जबकि बकरियां बेचकर ही जीवन यापन करने वाले पीड़ित परिवार को लाखों रुपये का नुकसान हुआ है। उसकी आजीविका का साधन ही उजड़ गया है। घटना में एक दुःखद पक्ष वन विभाग की ओर से है। दो दिन पूर्व गांव के आसपास गुलदार देखे जाने की सूचना के बावजूद विभागीय कर्मी गांव में नहीं आये, और आज सूचना दिये जाने के बाद पीड़ित विकलांग किसान की मदद को स्वयं तत्परता दिखाते हुए उसकी यथासंभव मदद को जाने के बजाय उसे कालाढुंगी आने को कहा गया है। बमुश्किल भाजपा नेता के द्वारा डपटने के बाद वन कर्मियों के गांव की ओर जाने की सूचना है।

जलालगांव के ग्राम प्रधान गिरधर सिंह ने बताया कि गांव निवासी करीब 65 वर्षीय बची सिंह फालिज ग्रस्त हैं। उन्होंने परिवार की आजीविका चलाने के लिए घर से करीब 20 मीटर दूर गौशाला बनाकर करीब 90 बकरियां पाली हुई थीं। आज सुबह जब परिवार के लोग बकरियों को देखने गये तो वहां करीब 80 बकरियां मृत एवं अन्य के भी घायल मिलने से सन्न रह गये।  बताया गया है जलालगांव नैनीताल जनपद के भीमताल विकास खंड के अंतर्गत कालाढुंगी वन क्षेत्रांतगर्तन देचौरी बीट में आता है।

उन्होंने ग्राम प्रधान एवं वन विभाग की कालाढुंगी रेंज के अधिकारियों को घटना की सूचना दी। मुख्यालय में मौजूद ग्राम प्रधान गांव की ओर लौटे, जबकि वन कर्मियों ने शिकायती पत्र लेकर कालाढुंगी आने को कहा। जानकारी लगने पर भाजपा युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष नितिन कार्की ने वनाधिकारियों को फोन किया, तब जाकर वन कर्मी गांव की ओर रवाना हुए हैं। ग्राम प्रधान गिरधर ंिसंह ने बताया कि उन्होंने दो-तीन दिन पूर्व गांव के बाहर गुलदार देखे जाने की सूचना वन रक्षक पान सिंह को दी थी। उन्होंने गांव में आने की बात कही थी, किंतु कोई नहीं आया। बताया कि जलालगांव वन क्षेत्र से पूरी तरह लगा भी नहीं है। उन्होंने संबंधित वनाधिकारियों को मौके पर भेजने और जांच कराने की बात भी कही है।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply