News

परेशानी के बाद सुखद: मोबाइल की रोशनी में चारपाई पर सड़क तक पहुंची और दिया तीन जुड़वा बच्चों को जन्म

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
समाचार को सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिहरी जनपद के कीर्तिनगर क्षेत्र में एक गर्भवती महिला ने तीन बच्‍चों को जन्‍म दिया है।नवीन समाचार, नई टिहरी, 26 अगस्त 2021। टिहरी के कीर्तिनगर क्षेत्र के बडियारगढ़ क्षेत्र के चौंरीखाल में बृहस्पतिवार को अनूठा मामला प्रकाश में आया। यहां 108 एंबुलेंस सेवा कर्मचारियों की जागरुकता और समझदारी से एक महिला का न केवल सुरक्षित प्रसव हुआ, बल्कि उसने तीन जुड़वा बच्चों को जन्म दिया। इससे पहले महिला और उसके परिजनों को काफी परेशान भी होना पड़ा। कर्मचारियों और परिजनों को उसे प्रसव पीड़ा के बीच गांव से सड़क तक लगभग आधा किमी दूर मोबाइल फोन की रोशनी में चारपाई पर लादकर लाना पड़ा। बहरहाल, आखिर में इस मेहनत का अच्छा सिला मिला। महिला और उसके तीनों नवजात जुड़वा बच्चे सभी श्रीनगर बेस अस्पताल में सुरक्षित हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार चौंरीखाल निवासी महिला अंजू देवी को बुधवार रात लगभग दस बजे प्रसव पीड़ा शुरू हुई। इस पर ग्रामीणों ने 108 सेवा को फोन पर सूचना दी। जिसके बाद रात सवा 11 बजे एंबुलेंस में कार्यरत फार्मासिस्ट हिमांशु रावल और चालक महेंद्र गांव पहुंचे। तब तक महिला घर पर ही एक बेटी को जन्म दे चुकी थी। हिमांशु ने नवजात को दवा आदि दी और उसके बाद महिला को गांव में बिजली न होने के कारण परिजन व एंबुलेंस कर्मी मोबाइल फोन की रोशनी दिखाते हुए पैदल चारपाई पर आधा किमी सड़क तक आए और वहां से एंबुलेंस में श्रीनगर बेस अस्पताल लेकर चले।

इस दौरान सात किमी आगे चिलेड़ी गांव के पास पहुंचते महिला ने एंबुलेंस में दो बच्चों को जन्म दे दिया। इसके बाद रात ढाई बजे एंबुलेंस से महिला को श्रीनगर बेस अस्पताल पहुंचाया गया। महिला और उसके तीनों नवजात बच्चों की हालत ठीक है। 108 सेवा के प्रभारी रजत उनियाल ने बताया कि महिला को समय पर अस्पताल लेकर जाने के लिए टीम पहुंच गई थी। महिला और बच्चे सुरक्षित हैं। इस संबंध में टिहरी के सीएमओ डा. संजय जैन ने कहा कि 108 सेवा के कर्मचारियों ने बेहद सूझबूझ का काम किया है जिससे महिला का सुरक्षित प्रसव हो सका। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी शहर में सक्रिय हुआ बच्चा गिरोह, चुटकी में उड़ा रहे पर्स

Child Thieves Group Active In Jodhpur - चोरों के इन नए हथकंडों से हैरान हो  जाएंगे आप, सजे-धजे बच्चे शादी में शामिल हो उड़ा रहे बैग | Patrika Newsनवीन समाचार, हल्द्वानी, 13 अगस्त 2021। हल्द्वानी में बच्चों का गिरोह राह चलते लोगों के चुटकी में पर्स उड़ा रहा है। कोतवाली पुलिस ने डीके पार्क में छापा मारकर दो किशोरों को गिरफ्तार किया। उनके पास से दस पर्स के साथ नौ हजार रुपये बरामद किए गए। पता चला है कि दोनों किशोर कुछ ही समय में करीब 20 महिलाओं के पर्स उड़ा चुके हैं। उन्होंने आठ अगस्त को मंगलपड़ाव में महिला के बैग से पर्स उड़ाने की बात भी स्वीकार की है।

कोतवाल मनोज रतूड़ी ने बताया कि आवास विकास कालोनी निवासी शिखा अधिकारी ने मुकदमा दर्ज कराया था कि आठ अगस्त को उसकी बहन का पर्स उचक्कों ने पार कर दिया था। पर्स में 12 हजार रुपये, दो एटीएम कार्ड, आधार कार्ड, स्वास्थ्य कार्ड सहित अन्य कागज थे। इस मामले की जांच करने के लिए मंगलपड़ाव चौकी प्रभारी देवेंद्र बिष्ट के नेतृत्व में एक टीम गठित की। बृहस्पतिवार की सुबह चौकी प्रभारी ने डीके पार्क में 15 साल के दो किशोरों को दस पर्स के साथ पकड़ लिया। दोनों चोरी के पैसों का आपस में बंटवारा कर रहे थे।

शिखा की बहन का पर्स भी दोनों ने उड़ाया था। पुलिस ने शिक्षा के चोरी गए नौ हजार रुपये, आधार कार्ड, एटीएम और स्वास्थ्य कार्ड दोनों किशोरों से बरामद किया है। दोनों बनभूलपुरा थाना क्षेत्र के इंदिरानगर के रहने वाले हैं। पुलिस ने दोनों विधि विवादित किशोरों को किशोर न्याय बोर्ड के समक्ष पेश किया। इसके बाद पुलिस ने उन्हें बाल सुधार गृह में भेज दिया।

उल्लेखनीय है कि हल्द्वानी में एक सैन्य अधिकारी के 10 हजार रुपए मूल्य के जूते घर के बाहर से चोरी होने की घटना भी हुई है। बताया जा रहा है कि यह घटना कूड़ा बीनने वाले बच्चों की हरकत हो सकती है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में मामले घटने के बावजूद पिछले 10 दिनों में 46 बच्चे संक्रमित

नवीन समाचार, देहरादून, 7 अगस्त 2021। कोरोना की वैश्विक महामारी की तीसरी लहर के छोटे बच्चों के लिए खतरनाक साबित होने की आशंका व भविष्यवाणी के बीच उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े चिंताजनक तस्वीर पेश कर रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार पिछले दस दिनों में 46 बच्चे कोरोना की चपेट में आए हैं। इनमें 10 से 19 वर्ष तक के सर्वाधिक 37 बच्चे शामिल हैं। जबकि 0 से 9 वर्ष तक के नौ मासूम भी कोरोना संक्रमित मिले हैं।

वहीं अब तक के राज्य में मिले कुल कोविड के मामलों की बात करें तो 0 से 9 वर्ष तक के 6162 बच्चे कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। जबकि 10 से 19 वर्ष तक के 26713 बच्चों को कोरोना अपनी चपेट में ले चुका है। इस पर बाल रोग विशेषज्ञों का का कहना है कि कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर बच्चों को प्रभावित कर सकती है। लिहाजा, पांच साल से ऊपर के अपने बच्चे को मास्क पहने बिना घर से बाहर न जाने दें। साथ ही बच्चों को किसी भी भीड़-भाड़ वाले क्षेत्र में ले जाने से बचें। इसके अलावा अगर बच्चे को कई दिन तक बुखार, खांसी, जुकाम रहता है, तो डॉक्टर को दिखाएं और कोरोना की जांच जरूर करवायें। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : सुखद पहल : तीसरी लहर आई भी तो नैनीताल के बच्चे खुशी-खुशी करेंगे सामना

-जिला चिकित्सालय में कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों के लड़ने को बने खास वार्ड

बीडी पांडे जिला चिकित्सालय का नया बना बच्चा वार्ड।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 21 जुलाई 2021। कोरोना महामारी की संभावित तीसरी लहर के दौरान बच्चों को बचाने के लिए जिलाधिकारी धीराज गर्ब्याल के निर्देशन में जनपद के स्वास्थ्य विभाग ने उल्लेखनीय कार्य किया है। मुख्यालय स्थित बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में बच्चों के वार्डों को बच्चों के मनोभावों व पसंद के अनुरुप वन्य जीवों के आकर्षक रंगीन कार्टून चित्रों से सजाया गया है, बिस्तरों में चादरें भी बच्चों के पसंद के चित्रों युक्त डाली गई हैं। साथ ही हर बेड पर ऑक्सीजन की आपूर्ति सहित अन्य जरूरी प्रबंध भी किए गए हैं।

डीएम श्री गर्ब्याल ने बताया कि उन्होंने बच्चों को संक्रमण से सुरक्षित रखने एंव उनके तुरन्त उपचार के उद्देश्य से जनपद के चिकित्सालयोें में बच्चा वार्ड में पर्याप्त बेड व सुविधाएं बढाने के निर्देश चिकित्सा अधिकारियों को दिये थे। इसी कड़ी में जिला चिकित्सालय नैनीताल में बच्चा वार्ड का सौन्दर्यकरण व बच्चों के मुताबिक कराया गया है। उन्होंनेे कहा कि वार्ड में उपचार के दौरान बच्चों को अच्छे साफ-सुथरे बेड के साथ ही उनके मनमुताबिक घर जैसा माहौल मिले इस हेतु यह प्रबंध किए गए हैं। उन्हांेनेे बताया कि चिकित्सालय को सुदृढीकरण के साथ ही नये वार्ड के निर्माण, मरम्मत, लिफ्ट लगाने एंव अन्य सौर्न्दयकरण कार्यो हेतु जिला प्रशासन द्वारा 1 करोड की धनराशि दी गई है। आगे चिकित्सालय में ऑक्सीजन प्लान्ट लगाने केे लिए 36 लाख की धनराशि शीघ्र अवमुक्त की जायेगी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : अधिकारी लेंगे कुपोषित बच्चों को गोद, सीडीओ ने खुद से की शुरुआत

डॉ नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 20 जुलाई 2021। नैनीताल जनपद में मुख्य विकास अधिकारी डॉ संदीप तिवारी की अगुवाई में ‘कुपोषण मुक्ति अभियान’ शुरू हो रहा है। इसके तहत जनपद में चिन्हित कुल 45 अतिकुपोषित बच्चों को कुपोषण से मुक्त करने हेतु जनपद व विकासखंड स्तरीय अधिकारियों को उनके पोषण की निगरानी हेतु गोद देने की प्रक्रिया की शुरुआत की जा रही है। सीडीओ तिवारी ने इस अभियान को स्वयं आगे आकर लीड करते हुए एक बच्चे को गोद ले लिया है।

इस विषय में मंगलवार को अधिकारियों की बैठक लेते हुए मुख्य विकास अधिकारी डॉ तिवारी ने कहा कि अधिकारी अपने गोद लिए गए बच्चों की शारीरिक वृद्धि एवं विकास की निगरानी करेंगे, साथ ही बच्चो के कुपोषण के कारणों व उसके समाधान के विषय में उनके माता-पिता के साथ स्वास्थ्य व स्वच्छता संबंधी विषयांे पर आवश्यक विचार विमर्श कर बच्चों को कुपोषण मुक्त करने में उन्हें यथा संभव सहयोग प्रदान करेंगे। इसके साथ ही बाल विकास व स्वास्थ्य आदि विभागों द्वारा अतिकुपोषित बच्चो हेतु दी जा रही पोषाहार (टेक होम राशन, ऊर्जा पैकेट), आरबीएसके टीम द्वारा स्वास्थ्य जांच आदि का लाभ लेने के विषय में भी उन्हें जानकारी लेनी होगी। सीडीओ ने खुद एक अतिकुपोषित बच्चे की जिम्मेदारी लेकर इसकी शुरुआत कर दी है।

जिला विकास अधिकारी नैनीताल, जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास, जिला सेवायोजन अधिकारी, जिला आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी, जिला होम्योपैथिक अधिकारी, डीएसटीओ, जिला पूर्ति अधिकारी, एआर को-ऑपरेटिव, जिला प्रोबेशन अधिकारी, श्रम प्रवर्तन अधिकारी, बाल विकास परियोजना अधिकारी हल्द्वानी, खंड शिक्षा अधिकारी हल्द्वानी, प्रभारी चिकित्सा अधिकारी मोटाहल्दू, बाल विकास परियोजना अधिकारी हल्द्वानी ग्रामीण, ईओ नगरपालिका कालाढूंगी, तहसीलदार कालाढूंगी, अपर सहायक अभियंता लघु सिंचाई कोटाबाग, बाल विकास परियोजना अधिकारी कोटाबाग, ईओ नगरपालिका रामनगर, बाल विकास परियोजना अधिकारी रामनगर, पूर्ति निरीक्षक रामनगर, सहायक समाज कल्याण अधिकारी रामनगर, तहसीलदार रामनगर, खंड शिक्षा अधिकारी रामनगर, उप खण्ड शिक्षा अधिकारी रामनगर, खण्ड विकास अधिकारी रामनगर, कृषि एवं भूमि संरक्षण अधिकारी धारी, खंड विकास अधिकारी धारी, प्रभारी चिकित्सा अधिकारी धारी, नायाब तहसीलदार धारी, खंड शिक्षा अधिकारी धारी, उप खंड शिक्षा अधिकारी धारी, खंड विकास अधिकारी ओखलकांडा, उप खंड शिक्षा अधिकारी ओखलकांडा, प्रभारी चिकित्सा अधिकारी ओखलकांडा, चिकित्सा अधिकारी डालकन्या, बाल विकास परियोजना अधिकारी ओखलकांडा, खंड विकास अधिकारी रामगढ़, खंड विकास अधिकारी भीमताल, खंड शिक्षा अधिकारी बेतालघाट, खंड विकास अधिकारी बेतालघाट, प्रभारी चिकित्सा अधिकारी गरमपानी को कुपोषित बच्चों के पोषण की जिम्मेदारी दी गई है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल जनपद के 146 बच्चों को मिलेगा मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का लाभ

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 14 जुलाई 2021। नैनीताल जनपद में 18 से कम उम्र के 146 बच्चों ने कोरोना काल में अपने मात-पिता, दोनों में से एक या संरक्षक को खोया। बुधवार को डीएम धीराज गर्ब्याल की अध्यक्षता में हुई वात्सल्य योजना समिति की बैठक में इन सभी बच्चों के प्रार्थना पत्रों को संस्तुति के साथ महिला कल्याण निदेशालय को प्रेषित कर दिया गया। अब इन्हें 21 वर्ष की आयु होने तक के मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के अन्तर्गत लाभान्वित किया जायेगा।

जिला प्रोवेशन एंव महिला कल्याण अधिकारी व्यौमा जैन ने बताया कि तहसील रामनगर से सर्वाधिक 43, हल्द्वानी से 39, नैनीताल से 21, कालाढूगी से 13, लालकुआं से 11, ओखलकाण्डा से 10 तथा कोश्याकुटौली व बेतालघाट से 9 प्राप्त आवेदनों को बैठक में संस्तुति दे दी गई है। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डॉ. संदीप तिवारी, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. भागीरथी जोशी, मुख्य शिक्षा अधिकारी केके गुप्ता, जिला कार्यक्रम एंव बाल विकास अधिकारी अनुलेखा बिष्ट, जिला पूर्ति अधिकारी मनोज बर्मन व जिला प्रोवेशन एवं महिला कल्याण अधिकारी व्यौमा जैन मौजूद रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड के चार जिलों में 112 बच्चे कोरोना संक्रमित, बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए होने लगे प्रबंध..

नवीन समाचार, देहरादून, 16 मई 2021। उत्तराखंड के चार जिलों में 112 बच्चे कोरोना संक्रमित हुए हैं। इनमें नवजात शिशुओं के साथ ही दो साल के बच्चे भी शामिल हैं। हाल ही में उत्तराखंड बाल अधिकार संरक्षण आयोग की ओर से कोविड की तीसरी लहर से बच्चों को बचाने के लिए आयोजित वर्चुअल बैठक में स्वास्थ्य विभाग की ओर से यह जानकारी दी गई थी। राज्य में कोरोना की तीसरी संभावित लहर के बच्चों के लिए अधिक खतरनाक होने की संभावनाओं के बीच जनपदों जिले में फैब्रिकेटेड कोविड अस्पताल बनाने की तैयारी की जा रही है। सभी जिलों के जिलाधिकारियों से प्रस्ताव मांगे गये हैं, जिसे केंद्र सरकार को भेजा जाएगा। प्रदेश की स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. तृप्ति बहुगुणा ने बताया कि सभी सीएमओ को आदेश दिए गए हैं कि बच्चे अगर कोविड की चपेट में आते हैं और उनको इलाज की जरूरत पड़ती है तो फैब्रिकेटेड अस्पताल के लिए तत्काल प्रस्ताव बनाकर भेजें। बताया गया है कि

इस संबंध में नैनीताल जनपद की सीएमओ डॉ. भागीरथी जोशी ने बताया कि 50 से 100 बेड के फैब्रिकेटेड अस्पताल का प्रस्ताव बनाकर भेजा जाएगा। अस्पताल के लिए स्थान का चयन भी जल्द कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि कुमाऊं के मरीजों का सर्वाधिक भार सुशीला तिवारी अस्पताल पर है। यहां बच्चों के लिए 60 बेड का वार्ड पहले से हैं और 20 के करीब एसएनसीयू है। वहीं महिला अस्पताल हल्द्वानी में 12 बेड का पीआईसीयू है। इसके अलावा डीआरडीओ की ओर से पांच सौ बिस्तरों का का फैब्रिकेटेड अस्पताल भी हल्द्वानी में बन रहा है। इसमें 75 ऑक्सीजन और 50 आईसीयू बेड बच्चों के लिए होंगे। निजी अस्पतालों में केएचआरसी में आठ बेड का एनआईसीयू है, जबकि सेंट्रल हॉस्पिटल में पांच बेड का पीआईसीयू और पांच बेड का एनआईसीयू है। बच्चों के लिए दो वेंटीलेटर हैं। हालांकि, निजी अस्पताल के पीआईसीयू या एनआईसीयू अभी कोविड के लिए प्रयोग नहीं हो रहे हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : गरीबी रेखा से नीचे के मेधावी बच्चों को भेंट की 2.7 लाख की छात्रवृत्ति

नवीन समाचार, नैनीताल, 11 अप्रैल 2021। अमेरिका में कार्यरत नगर के संदीप सिंह खेतवाल की प्रेरणा से डीडीएस चाइल्ड फेडरेशन के द्वारा नगर के गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों के मेधावी बच्चों को पढ़ाई जारी रखने के लिए वर्ष 2018 से हर वर्ष छात्रवृत्ति दी जाती है। इस कार्य में सेवानिवृत्त मुख्य आयकर आयुक्त तारा कुमार साह के द्वारा भी फाउंडेशन को सहयोग दिया जाता है। रविवार को श्रीराम सेवक सभा के सभागार में फाउंडेशन की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में ऐसे 30 मेधावी बच्चों को प्रत्येक माह 2250 की दर से तीन माह की कुल 2.7 लाख रुपए की छात्रवृत्ति भेंट की गई। बताया गया कि इससे पहले अक्टूबर 2020 में भी इन बच्चों को 6 माह की 5.4 लाख रुपए की छात्रवृत्ति वितरित की गई थी। फाउंडेशन के द्वारा किसी एक विषय में कमजोर बच्चों को अलग से निःशुल्क कक्षाएं भी उपलब्ध कराई जाती हैं। इस मौके पर संस्था की अध्यक्ष डॉ. सरस्वती खेतवाल, सचिव ममता रावत सहित दीपक गुरुरानी टीके साह, शंकर दत्त जोशी, पूर्व सभासद किरन साह, श्रीराम सेवक सभा के अध्यक्ष मनोज साह व उपाध्यक्ष विमल चौधरी आदि भी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : पिछले सप्ताह यूपी के सीएम योगी से मिले आंध्र प्रदेश के 20 बच्चे नैनीताल में निकले कोरोना पॉजिटिव

नवीन समाचार, नैनीताल, 09 अप्रैल 2021। शुक्रवार को देश-प्रदेश में काफी अधिक मामलों के बावजूद नैनीताल जिले में अपेक्षाकृत कम 22 मामले ही आए। खास बात यह है कि इन 22 में से 20 मामले नैनीताल जिला मुख्यालय से आए हैं। यह सभी आंध्र प्रदेश के आदिवासी बच्चे हैं जो दो माह पूर्व 6 फ़रवरी को आंध्र प्रदेश से साइकिलों पर भारत भ्रमण पर निकले थे। इससे भी बड़ी बात यह कि यह बच्चे पिछले सप्ताह दो अप्रैल को लखनऊ में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले थे और उनके साथ फोटो भी खिंचवाए थे। इससे पहले बच्चों का यह समूह एक सप्ताह यूपी में विभिन्न स्थानों पर घूमता रहा था। वहां उन्होंने अयोध्या में रामलला के दर्शन भी किए थे। इस दौरान होली पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने उनके लिए मिठाई भी भिजवाई थी। यह भी दिलचस्प है कि यह बच्चे आंध्र प्रदेश से तेलंगाना, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश यानी छह राज्यों से होते हुए नैनीताल पहुंचे और उन्होंने स्वीकारा कि इस दौरान उनकी रास्ते में कहीं जांच नहीं हुई।

पहनने को कपड़े-जूते भी नहीं
नैनीताल। बीडी पांडे जिला चिकित्सालय के पीएमएम डॉ. केएस धामी ने बताया कि शुक्रवार को आंध्र प्रदेश से आए 24 सदस्यीय दल के लोगों की कोरोना जांच की गई थी, इनमें से 20 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। संक्रमित पाए गए लोगों में 80 फीसद बच्चे हैं। इसके बाद सभी 24 लोगों को सूखाताल स्थित कोविद केयर सेंटर में रखा जा रहा है। बच्चों के पास जूते व कपड़े भी नहीं थे। डीएम धीराज गर्ब्याल ने बताया कि नोडल अधिकारी डिप्टी कलेक्टर अनुराग आर्य को भेजकर उनके लिए मां नयना देवी व्यापार मंडल की मदद से कपड़ों, जूतों T-शर्टस, पजामा, चप्पल, बिस्किट्स और फलों और साबुन आदि की व्यवस्था की गई। इस कार्य में माँ नयना देवी व्यापार मंडल के महेश अरोरा, सुमित खन्ना, गिरीश कांडपाल, तन्मय कांडपाल, राम सेवक सभा अध्यक्ष मनोज साह, व्यापार मंडल अध्यक्ष पुनीत टंडन, तरुण कांडपाल, रोमित साह, शैलेंद्र साह, अमित साह, ख़ुर्शीद हूसेन आदि ने योगदान दिया। 

यह भी पढ़ें : आंध्र प्रदेश के डेढ़ दर्जन नाबालिग बच्चों ने नैनीताल आकर खोली पूरे देश की कोरोना से संबंधित सक्रियता की पोल

-छह राज्यों से बिना कोरोना जांच कराए नैनीताल पहुंचे

बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में कोरोना की जांच के लिए लाए गए बच्चे।

नवीन समाचार, नैनीताल, 09 अप्रैल 2021। कोरोना की दूसरी लहर के लगातार बढ़ते संकट के बीच करीब डेढ़ दर्जन बच्चों ने देश की कोरोना के प्रति व्यवस्थाओं की पोल खोलकर रख दी है। आठ से 15 वर्ष की उम्र के यह बच्चे आंध्र प्रदेश के निवासी हैं और वहां से बीती छह फरवरी को वनों के प्रति देश में जागरूकता फैलाने के लिए बने ‘चिल्ड्रन ऑफ फॉरेस्ट्स’ नाम के 24 सदस्यीय समूह के साथ साइकिलों से देश के भ्रमण पर निकले हैं। उनका उद्देश्य तो नेक है, लेकिन जिस तरह वह मौजूदा कोरोना के अति सक्रियता के दौर में आंध्र प्रदेश से तेलंगाना, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश होते हुए छह राज्यों से होते हुए बिना कोरोना जांच के नैनीताल पहुंचे हैं, वह निश्चित ही बड़े सवाल खड़े करने वाला है। उल्लेखनीय है कि 18 से कम उम्र के नाबालिग बच्चे तो कोरोना के दृष्टिगत अधिक खतरे में बताए गए हैं और उन्हें घर पर ही रहने की सलाह दी गई है। अलबत्ता मुख्यालय पहुंचने पर उनका शुक्रवार को बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में कोरोना परीक्षण कराया गया है।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में दोहराया जाएगा ‘नायक’ फिल्म वाला प्रयोग, एक दिन के लिए मुख्यमंत्री बनेंगी सृष्टि, विधानसभा में विभागीय समीक्षा बैठक भी लेंगी

नवीन समाचार, देहरादून, 22 जनवरी 2021। जी हां उत्तराखंड में उत्तराखंड में भी ‘नायक’ फिल्म वाला प्रयोग दोहराया जाएगा। एक दिन के लिए सृष्टि गोस्वामी नाम की छात्रा प्रदेश की मुख्यमंत्री बनेंगी और इस  दौरान विभिन्न विभागों की समीक्षा बैठक भी लेंगी। उल्लेखनीय है कि उत्तराखंड में बाल विधानसभा का प्राविधान पहले से है। हर तीन वर्ष के लिए यहां बाल मुख्यमंत्री चुना जाता है। सृष्टि वर्तमान में उत्तराखंड की बाल मुख्यमंत्री हैं, लेकिन उसे आगामी बालिका दिवस 24 जनवरी के दिन एक दिन के लिए प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया जा रहा है। वह इस दिन राज्य की विभिन्न विकास कार्यों की समीक्षा बैठक भी लेंगी। बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष उषा नेगी की ओर से बाकायदा प्रदेश के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर इस समीक्षा बैठक के लिए नोडल अधिकारियों की नियुक्ति करने को कहा गया है जो उत्तराखंड विधानसभा के कक्ष संख्या 120 में पांच-पांच मिनट के लिए अपने कार्यों का प्रस्तुतीकरण देंगे।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सृष्टि हरिद्वार जिले के गांव दौलतपुर की रहने वाली हैं। सृष्टि के पिता प्रवीण गोस्वामी गांव में ही एक छोटी सी दुकान चलाते हैं। उल्लेखनीय है कि उत्तराखंड बाल विधानसभा में सृष्टि के अलावा नमन जोशी विधानसभा अध्यक्ष, आसिफ हसन नेता प्रतिपक्ष तथा कुमकुम पंत को बाल गृह मंत्री, प्रियंका नौटियाल को बाल महिला एवं बाल विकास मंत्री, नितिन मेहता को बाल शिक्षा, खेलकूद एवं युवा कल्याण मंत्री व भरत सिंह को बाल आपदा प्रबंधन एवं समाज कल्याण मंत्री बनाया गया है।  

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply