News

इस बार उत्तराखंड में नहीं छठ पर छुट्टी !

0 0

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Read Time:46 Minute, 21 Second

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 नवम्बर 2020। कोरोना के दृष्टिगत इस वर्ष अनेक राज्यों की तरह उत्तराखंड में भी पूर्वांचल का सूर्य की उपासना का, दीपावली के छठे दिन मनाया जाने वाला छठ का पर्व घाटों की जगह घरों पर ही मनाया जाएगा। पिछले वर्षों में तत्कालीन मुख्यमंत्री हरीश रावत ने छठ पर उत्तराखंड में भी छुट्टी घोषित करने की शुरुआत की थी। इसे राज्य के मौजूदा मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी जारी रखा था। इसे लेकर दोनों मुख्यमंत्रियों की काफी आलोचना भी हो रही थी। उल्लेखनीय है कि पूर्व में सरकार ने हरेला और छठ पूजा पर निर्बंधित अवकाश घोषित किये थे।लेकिन इधर कोरोना के बाद जहाँ इस मौके पर घाटों पर छठ पूजा की इजाजत नहीं दी है, वहीं निर्बंधित अवकाश पर भी स्थिति साफ नहीं की है।

यह भी पढ़ें : ब्रेकिंग: नैनीताल जनपद में शनिवार को रहेगा अवकाश

नवीन समाचार, नैनीताल, 21 अक्टूबर 2020। शनिवार 24 अक्टूबर को सार्वजनिक अवकाश रहेगा। नैनीताल जनपद के डीएम सविन बंसल ने बताया कि ‘मैनुअल ऑफ गवर्नमेंट आर्डर्स’ में दिये गये प्रतिबंधों के साथ प्रदत्त अधिकारों का प्रयोग करते हुए दशहरा अष्टमी-महानवमी पर 24 अक्टूबर शनिवार को स्थानीय अवकाश घोषित किया गया है। उन्होंने बताया कि यह अवकाश जनपद में बैंक, कोषागार व उपकोषागारों को छोड़कर जनपद नैनीताल के सभी कार्यालय, संस्थानों में प्रभावी रहेगा।

यह भी पढ़ें : जनपद में कल रहेगा सार्वजनिक अवकाश

नवीन समाचार, नैनीताल, 09 सितंबर 2020। बृहस्पतिवार 10 सितंबर को नैनीताल जनपद में अवकाश रहेगा। नैनीताल के डीएम सविन बंसल ने बीती 20 जुलाई को ही मैनुअल ऑफ गवर्नमेंट आर्डर्स के पैरा 247 में दिये गये प्रतिबंधों के साथ प्रदत्त अधिकारों का प्रयोग करते हुए 10 सितंबर को श्राद्ध पक्ष में अष्टका के अवसर पर बैंक, कोषागार एवं उपकोषागारों को छोड़कर जनपद के सभी कार्यालयों व संस्थानों में अवकाश घोषित कर दिया था। इसके अलावा आगामी 24 अक्टूबर को दशहरा अष्टमी व महानवमी के अवसर पर भी अवकाश घोषित किया गया है। राज्य के कुछ अन्य जिलों में भी इस अवसर पर सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया है।

आज सादगी से मनाई जाएगी भारत रत्न गोविंद बल्लभ पंत जयंती
नैनीताल। कोविड-19 के संक्रमण के कारण इस वर्ष भारत रत्न गोविंद बल्लभ पंत जी का 133वां जन्म दिवस बुधवार 10 सितम्बर को सादगी से मनाया जायेगा। अपर जिलाधिकारी एसएस जंगपांगी ने इस अवसर के लिए सभी उप जिलाधिकारियो, नगर आयुक्त तथा अधिशासी अधिकारियों को निर्देश दिए कि भारत रत्न गोविन्द बल्लभ पन्त जीे जन्म दिवस को सादगी पूर्ण मनाए जाने के साथ ही कार्यक्रम में कोविड-19 संक्रमण से बचाव हेतु जारी दिशा-निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चत करें।
इधर मुख्यालय में इस अवसर पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम के मुख्य संयोजक पूरन मेहरा ने बताया कि केंद्र एवं राज्य सरकार तथा जिला प्रशासन के दिशा-निर्देशों के अनुसार ही कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। कार्यक्रमों की शुरुआत सुबह 10 बजे पं. पंत की मल्लीताल स्थित मूर्ति पर माल्यार्पण एवं वंदेमातरम के गान के साथ की जाएगी।

यह भी पढ़ें : 26 अगस्त को जनपद में रहेगा अवकाश, दो अन्य अवकाश भी घोषित..

नवीन समाचार, नैनीताल, 24 अगस्त 2020। बुधवार 26 अगस्त को नैनीताल जनपद में अवकाश रहेगा। नैनीताल के डीएम सविन बंसल ने बीती 20 जुलाई को ही मैनुअल ऑफ गवर्नमेंट आर्डर्स के पैरा 247 में दिये गये प्रतिबंधों के साथ प्रदत्त अधिकारों का प्रयोग करते हुए 26 अगस्त को नंदाष्टमी के पर्व पर बैंक, कोषागार एवं उपकोषागारों को छोड़कर जनपद के सभी कार्यालयों व संस्थानों में अवकाश घोषित कर दिया था। इसके अलावा आगामी 10 सितंबर को श्राद्ध पक्ष में अष्टका एवं 24 अक्टूबर को दशहरा अष्टमी व महानवमी के अवसर पर भी अवकाश घोषित किया गया है।

यह भी पढ़ें : बिग ब्रेकिंग: उत्तराखंड उच्च न्यायालय में अवकाश की घोषणा, निचली अदालतों के लिए भी दिशा-निर्देश जारी

नवीन समाचार, नैनीताल, 24 मार्च 2020। उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने आगामी चार अप्रैल तक के पुनः अवकाश का नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। उल्लेखनीय है कि एक से 14 अप्रैल के लिए पहले ही उच्च न्यायालय से अवकाश का नोटिफिकेशन जारी हो चुका है। इस प्रकार अब उच्च न्यायालय में 14 अप्रैल तक अवकाश रहेगा, और न्यायालय 15 अप्रैल को खुलेगा। इसके साथ ही उच्च न्यायालय ने निचली अदालतों के लिए भी 4 अप्रैल तक अवकाश घोषित कर दिया है।
मंगलवार को उत्तराखंड उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल हीरा सिंह बोनाल ने इस बाबत नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। नोटिफिकेशन के अनुसार कोरोना विषाणु के प्रसार को रोकने के दृष्टिगत उच्च न्यायालय में 26, 27, 30 व 31 मार्च तथा 1 अप्रैल को अवकाश रहेगा। इन अवकाशों को 26 एवं 28 से 31 दिसंबर के क्रिसमस अवकाशों में समायोजित किया जाएगा। यानी 26 एवं 28 से 31 दिसंबर को पूर्व घोषित अवकाशों के बावजूद उच्च न्यायालय खुला रहेगा। इसके साथ ही एक अन्य नोटिफिकेशन के अनुसार राज्य सरकार के 31 मार्च तक घोषित ‘लॉक डाउन’ एवं बार एसोसिएशन द्वारा किए गए निवेदन के दृष्टिगत उच्च न्यायालय ने निचली अदालतों में 26 मार्च से चार अप्रैल तक अवकाश घोषित कर दिया है। अलबत्ता, अत्यधिक आवश्यकता वाले मामलों पर सुनवाई करने के लिए जिला न्यायाधीश निर्णय ले सकेंगे। इस दौरान गिरफ्तार लोगांे के रिमांड एवं जमानत के मामलों पर अन्य अवकाश के दिनों में अपनाई जाने वाली प्रक्रिया ही अपनाई जा सकेगी। इन छुट्टियों के बदले सभी अदालतें आने वाली गर्मियों और सर्दियों की छुट्टियों में कार्य करेंगे।

यह भी पढ़ें : कोरोना : उत्तराखंड उच्च न्यायालय में 2 से 14 अप्रैल तक रहेगा अवकाश

नवीन समाचार, नैनीताल, 23 मार्च 2020। देश-प्रदेश में कोरोना विषाणु से बचाव के दृष्टिगत उत्तराखंड हाईकोर्ट में 2 से 14 अप्रैल तक अवकाश रहेगा और 15 को न्यायालय खुलेगा। इस बीच 7, 8 व 9 अप्रैल को अवकाश घोषित कर दिया गया है। इन अवकाशों के बदले हाईकोर्ट आगे 29 अगस्त, 3 अक्टूबर व 5 दिसम्बर को शनिवार के दिन खुला रहेगा। वहीं मंगलवार 24 मार्च को केवल चार कोर्ट ही लगेंगी।
हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार ज्यूडिशियल द्वारा जारी नोटिफिकेशन में उक्त जानकारी दी गई है। इसमें बताया गया है कि उत्तराखंड हाईकोर्ट में कोरोना वायरस से बचने के लिये 24 मार्च को मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता में डिवीजन पीठ प्रथम में डिवीजन पीठ द्वितीय के मामले सुने जाएंगे। वहीं न्यायमूर्ति शरद कुमार शर्मा की एकलपीठ में न्यायमूर्ति सुधांशू धुलिया, न्यायमूर्ति लोकपाल सिंह व न्यायमूर्ति मनोज तिवारी की पीठ के मामले भी सुने जाएंगे। जबकि न्यायमूर्ति एनएस धानिक अपनी पीठ के मामले व न्यायमूर्ति आलोक वर्मा की पीठ न्यायमूर्ति रविन्द्र मैठाणी की पीठ के मामले भी सुनेगी। इधर, हाईकोर्ट बार एसोसिएशन की आज बार एसोसिएशन के अध्यक्ष पूरन सिंह बिष्ट की अध्यक्षता व सचिव जयवर्धन कांडपाल के संचालन में हुई बैठक में एक प्रस्ताव पास कर हाईकोर्ट में 24 मार्च से 1 अप्रैल तक अवकाश घोषित करने की मांग की गई तथा इन अवकाशों को बाद में होने वाले अवकाश व शनिवार के अवकाशों में समायोजित करने की मांग की गई।

यह भी पढ़ें : कोरोना: छुट्टी पर रहे संशय के बीच बोर्डिंग स्कूलों ने बच्चों को घर ले जाने को कहा

नवीन समाचार, नैनीताल, 13 मार्च 2020। कोरोना वायरस को लेकर देशभर में मचे हाहाकार के बीच उत्तराखंड सरकार द्वारा बृहस्पतिवार देर शाम प्रदेश के 12 वीं तक के सभी स्कूलों को 31 मार्च तक बंद रखने का आदेश पर जनपद एवं जनपद मुख्यालय में सुबह तक संशयपूर्ण स्थिति रही। आदेश की प्रति विभागीय अधिकारियों को भी प्राप्त न होने एवं इससे पहले सोशल मीडिया पर पहले बिना तारीख व मेमो के तथा बाद में तारीख व मेमो के साथ वायरल हुए पत्र की सत्यता पर लोग कयास लगाते रहे। बाद में प्राइवेट व नगर पालिका संचालित स्कूलों तथा कान्वेंट कॉलेजों आदि के बारे में आदेश में साफ-साफ जिक्र न होने के कारण संशयपूर्ण स्थिति बनी। जिम्मेदार अधिकारियों ने भी अपनी ओर से स्थिति साफ करने में कोई रुचि नहीं दिखाई।

इस कारण मुख्यालय में सुबह तक कॉन्वेंट कॉलेजों के बारे में संशय बना रहा। सुबह सात बजे के बाद मुख्यालय के सेंट जोसफ व सेंट मेरीज कॉन्वेंट कॉलेजों आदि ने अगली सूचना तक स्कूल बंद होने का संदेश भेजा बावजूद कई बच्चे देर से संदेश मिलने के कारण स्कूल चले भी गए और उन्हें बैरंग लौटना पड़ा। अलबत्ता दोपहर तक बोर्डिंग सुविधा वाले इन विद्यालयों ने एक अन्य संदेश भेजकर बोर्डिंग में रहने वाले अभिभावकों को भी राज्य सरकार के आदेश के हवाले से यथाशीघ्र आकर अपने बच्चों को ले जाने को कह दिया।
इस बारे में नैनीताल के जिलाधिकारी सविन बंसल ने भी आदेश आने की पुष्टि करने के साथ ही कहा कि शासन से स्पष्ट निर्देश प्राप्त किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूल पहले ही बोर्ड परीक्षाएं चलने के कारण बंद हैं। वहीं निजी विद्यालयों के बारे में आदेश में अलग से कुछ भी साफ नहीं कहा गया है। इसलिए स्थिति साफ होने में समय लग सकता है। नगर के नैनी पब्लिक स्कूल के प्रधानाचार्य गिरीश सनवाल ने बताया कि सोशल मीडिया पर पहले बिना तिथि व मेमो के तथा बाद में तिथि व मेमो के साथ वायरल हुए आदेश पर शिक्षा विभाग के अधिकारी भी स्थिति साफ नहीं कर रहे हैं। इसलिए सत्र की शुरुआत में ही स्कूलों को खोलने या बंद रखने तथा गृह परीक्षाओं पर संशयपूर्ण स्थिति बनी हुई है।
 

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में एक पर्वतीय त्योहार पर घोषित हुई छुट्टी, पर इस दिन करना होगा दो महीने का काम

हरेला, डिकारे व व्यंजन

नवीन समाचार, नैनीताल, 27 फरवरी 2020। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उत्तराखंड के परंपरागत लोक पर्व-हरेला पर इस वर्ष 16 जुलाई को अवकाश की घोषणा की है। मुख्यालय में जल प्रबंधन पर आयोजित राष्ट्रीय कार्यशाला के दौरान श्री रावत ने कहा कि हरेला को अवकाश रहेगा, और इस दिन पूरे प्रदेश में पौधारोपण किया जाएगा। इतना पौधारोपण किया जाएगा, जितना बरसात के मौसम में दो माह तक किया जाता है। कहा कि हरेला पर लगाए गए पौधों के न सूखने की मान्यता भी है। वहीं इस एक दिन ही पूरे राज्य में पौधारोपण करने से करीब दो माह तक चलने वाले पौधारोपण अभियान पर खर्च होने वाला समय भी बचेगा।

यह भी पढ़ें : जनपद में बुधवार को घोषित हुई छुट्टी…

नवीन समाचार, नैनीताल 28 जनवरी 2020। जिलाधिकारी सविन बंसल ने मौसम विज्ञान विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार जनपद में हिमपात व ओलावृष्टि की सम्भावना के दृष्टिगत जनपद मे अध्ययनरत छात्र-छात्राओं की सुरक्षा के मद्देनजर 29 जनवरी बुधवार को अवकाश घोषित कर दिया हैै। अपने आदेश में डीएम ने कहा है कि 29 जनवरी को जनपद के कक्षा-1 से 12 तक की कक्षाएं संचालित करने वाले सभी शासकीय, अर्द्वशासकीय एवं निजी विद्यालयों एवं समस्त आंगनबाडी केंद्रों मे एक दिवसीय अवकाश घोषित किया गया है। साथ ही उन्होने साफ किया है कि प्रधानाचार्य, प्रधानाध्यापक समस्त शिक्षक एवं मिनिस्ट्रियल कार्मिक निर्धारित समय अनुसार अपने विद्यालय एवं कार्यालयों मे अनिवार्य रूप से उपस्थित रहेंगे, विचलन की दशा में सम्बन्धित के विरूद्व कार्यवाही अमल मे लाई जायेगी। इसी तरह अल्मोड़ा, पिथौरागढ़ व हरिद्वार आदि जनपदों में भी वहां के डीएम ने अवकाश घोषित कर दिया है।

यह भी पढ़ें : हद है छठ पर होती है छुट्टी और उत्तरायणी पर मुंह तांकने को मजबूर हैं उत्तराखंडवासी

नवीन समाचार, नैनीताल, 14 जनवरी 2020। अपनी अलग पहचान और अस्मिता के लिए 100 वर्ष से अधिक लंबे संघर्ष और अनेक शहादतों तथा मां-बहनों की अस्मत गंवाकर अस्तित्व में आए उत्तराखंड राज्य की व्यवस्थाओं की बात भी निराली है। यहां जहां छठ पूजा पर प्रदेश के मुख्यमंत्री की पहल पर शासन और महामहिम राज्यपाल की ओर से अवकाश घोषित हो जाता है वहीं अपनी पहचान, प्रदेश की ‘रक्तहीन क्रांति’ जैसे ऐतिहासिक संदर्भों के साथ कत्यूर एवं चंद शासनकाल के दौर से घुघुतिया एवं उत्तरायणी के रूप में प्रचलित एवं देश भर के हिंदुओं की आस्था के पर्व मकर संक्रांति पर राज्य वासी छुट्टी के लिए सरकार का मुंह ताक रहे हैं।
राज्य में जहां बागेश्वर, हल्द्वानी, रानीबाग सहित अनेक स्थानों पर उत्तरायणी-घुघुतिया त्यार यानी त्योहार के मेले लगे हुए हैं। परंपरानुसार यह त्योहार सरयू नदी के इस एवं उस पार दो तिथियों (इस वर्ष 14 एवं 15 जनवरी) को मनाया जाता है, वहीं शासन द्वारा जारी वर्ष 2020 की छुट्टियों की सूची में कहीं उत्तरायणी या घुघुतिया का नाम भी नहीं है। स्थानीय लोगों का कहना है कि मकर संक्रांति का अवकाश 15 जनवरी को है भी तो इसे निर्बंधित अवकाशों की सूची में है, जहां राज्य में कम प्रचलित गुरु रविदास जन्मदिवस, ईस्टर सैटरडे, वीर केशरीचंद शहीद दिवस, जमात-उल-विदा और क्रिसमस की पूर्व संध्या-24 दिसंबर की छुट्टियां भी शामिल हैं, और इन अवकाशों को जिलों के डीएम घोषित कर सकते हैं। यही नहीं, अपनी संस्कृति का संरक्षण करने का दावा करने वाली उत्तराखंड सरकार का ध्यान राज्य बनने के 20 वर्ष बाद भी राज्य के अपने फूलदेई, घी त्यार, बग्वाल व गंवरा जैसे पारंपरिक त्योहारों की ओर भी नहीं गया है। वहीं हरेला जैसा त्योहार, जिसे सरकार स्वयं भी मनाती है, इसके लिए अवकाश भी निर्बंधित सूची में डाला गया है, जबकि राज्य में चेटी चंद जैसे अवकाश सार्वजनिक अवकाश की श्रेणी में हैं, जिन्हें मनाने वालों की राज्य में संख्या अंगुलियों में गिनने लायक ही होगी। इससे राज्य के लोग स्वयं को ठगा सा महसूस करते हैं।

यह भी पढ़ें : यहां 13 जनवरी तक घोषित हुई स्कूलों में छुट्टियां…

-मुख्य शिक्षा अधिकारी ने सभी स्कूलों में 13 जनवरी तक शीतकालीन अवकाश किया घोषित
नवीन समाचार, रुद्रपुर 1 जनवरी 2019। ऊधमसिंह नगर जनपद के मुख्य शिक्षा अधिकारी आरसी आर्य ने जनपद के सभी सरकारी, अर्द्धसरकारी व वित्तविहीन (उत्तराखण्ड बोर्ड से मान्यता प्राप्त) स्कूलों मे 1 जनवरी 2020 से 13 जनवरी 2020 तक शीतकालीन अवकाश घोषित कर दिया है।

यह भी पढ़ें : यहां नये साल के स्वागत पर 31 व 1 को स्कूली बच्चों की हुई छुट्टी

नवीन समाचार, नैनीताल, 30 दिसंबर 2019। नैनीताल जनपद के डीएम सविन बंसल ने भारत मौसम विज्ञान विभाग द्वारा जारी पूर्वानुमान की 31 दिसम्बर से राज्य के पर्वतीय तथा मैदानी इलाकों में हिमपात तथा वर्षा होने की संभावना तथा जनपद के पर्वतीय एवं मैदानी क्षेत्रों में कोहरे एवं शीतलहरी को देखते हुए 31 दिसम्बर 2019 तथा 1 जनवरी 2020 को जनपद के कक्षा 1 से 12 तक के सभी शासकीय, अर्द्धशासकीय एवं निजी विद्यालयों व आंगनबाड़ी केंद्रों में अवकाश घोषित कर दिया है। इसके साथ ही डीएम ने साफ किया है कि यह अवकाश केवल छात्र-छात्राओं की सुरक्षा के मद्देनजर घोषित किया गया है। इन सभी संस्थानों के प्रधानाचार्य, प्रधानाध्यापक, अध्यापक-अध्यापिकाऐं तथा लिपिकीय स्टाफ यथावत ड्यूटी पर कार्यरत रहेगा। साथ ही इन तिथियों में जनपद के सभी कार्यालय यथावत शासकीय कार्यों के सम्पादन हेतु खुले रहेंगे।

उधर ऊधमसिंह नगर जनपद में भी डीएम ने भी 31 दिसम्बर 2019 तथा 1 जनवरी 2020 को जनपद के कक्षा 1 से 12 तक के सभी शासकीय, अर्द्धशासकीय एवं निजी विद्यालयों व आंगनबाड़ी केंद्रों में अवकाश घोषित कर दिया है।

यह भी पढ़ें : कड़ाके की ठंड की वजह से यहाँ 26 दिसंबर को छुट्टी घोषित

नवीन समाचार, हरिद्वार/ऊधमसिंह नगर, 25 दिसंबर 2019। मौसम भी अजब रंग दिखा रहा है। सर्दियों के लिए पहचाने जाने वाले पहाड़ों पर पूस के माह में चटख-गुनगुनी धूप खिली हुई है, और जिन तराई-भाबर के इलाकों में पहाड़ के लोग सर्दियों में जाया करते थे, वहां कड़ाके की ठंड हुई पड़ी है। दिन भर कोहरा छा रहा है, और मुश्किल से ही दिन में कभी सूर्यदेव के दर्शन हो रहे हैं। ऐसे में भारत मौसम विज्ञान विभाग के मौसम विज्ञान केंद्र देहरादून से दूरभाष पर प्राप्त सूचना पर हरिद्वार व ऊधमसिंह नगर जनपदों के डीएम ने 26 दिसंबर को जनपद के सभी कक्षा आठ तक के शासकीय, अर्धशासकीय व निजी विद्यालयों व आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों की सुरक्षा के दृष्टिगत अवकाश घोषित कर दिया है। ऊधमसिंह नगर के एडीएम जगदीश चंद्र कांडपाल के हस्ताक्षरों से जारी आदेश के अनुसार शिक्षकों, कर्मचारियों को अपने विद्यालय या केंद्र में उपस्थित रहना होगा।

नियमित रूप से नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड के समाचार अपने फोन पर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे टेलीग्राम ग्रुप में इस लिंक https://t.me/joinchat/NgtSoxbnPOLCH8bVufyiGQ से एवं ह्वाट्सएप ग्रुप से इस लिंक https://chat.whatsapp.com/ECouFBsgQEl5z5oH7FVYCO पर क्लिक करके जुड़ें।

यह भी पढ़ें : 2020 में छुट्टियों की मौज, हरेला और छठ पूजा पर भी अवकाश घोषित..

नवीन समाचार, देहरादून, 23 दिसंबर 2019। शासन ने सोमवार को वर्ष 2020 के लिए सार्वजनिक, निर्बंधित और नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट 1881 के तहत अवकाश घोषित कर दिए हैं। आगामी वर्ष के लिए 23 सार्वजनिक अवकाश घोषित किए गए हैं, जबकि वर्ष 2019 में 22 अवकाश थे। इस बार रक्षाबंधन के पर्व को भी सार्वजनिक अवकाश सूची में शामिल किया गया है। वहीं हरेला और छठ पूजा पर निर्बंधित अवकाश घोषित किये गये हैं। इसके अलावा चार अवकाशों को सार्वजनिक अवकाश तो घोषित किया गया है, लेकिन वह सचिवालय, विधानसभा और जिन कार्यालय में पांच दिवसीय सप्ताह लागू है, वहां नहीं मिलेंगे। इसके अलावा घोषित अवकाश में सरकार ने निर्बंधित अवकाशों की संख्या 18 रखी है। बैंक, कोषागार और उपकोषागारों के लिए 21 अवकाश घोषित किये गए हैं।
सार्वजनिक अवकाश
1. गणतंत्र दिवस – 26 जनवरी
2. महाशिवरात्रि – 21 फरवरी
3. होलिका दहन – 9 मार्च
4. होली – 10 मार्च
5. रामनवमी – 2 अप्रैल
6. महावीर जयंती – 6 अप्रैल
7. गुड फ्राइडे – 10 अप्रैल
8. डा.भीमराव अंबेडकर जयंती – 14 अप्रैल
9. बुद्ध पूर्णिमा – 7 मई
10. ईद-उल-फितर – 25 मई
11. ईद-उल-जुहा – 1 अगस्त
12. रक्षाबंधन – 3 अगस्त
13. जन्माष्टमी – 12 अगस्त
14. स्वतंत्रता दिवस – 15 अगस्त
15. मोहर्रम – 30 अगस्त
16. महात्मा गांधी जयंती – 2 अक्तूबर
17. दशहरा – 25 अक्तूबर
18. ईद ए मिलाद – 30 अक्तूबर
19. महर्षि वाल्मीकि जयंती – 31 अक्तूबर
20. दीपावली – 14 नवंबर
21. गोवर्धन पूजा – 15 नवंबर
22. गुरुनानक जयंती – 30 नवंबर
23. क्रिसमस – 25 दिसंबर
चार और सार्वजनिक अवकाश
सरकार ने चार और सार्वजनिक अवकाश घोषित किए हैं, जो सचिवालय, विधानसभा और पांच दिवसीय सप्ताह वाले कार्यालयों में नहीं लागू होंगे। इन अवकाशों को इन कार्यालयों में निर्बंधित अवकाश की सूची में माना जाएगा। यह चार अवकाश गुरु गोविंद सिंह जयंती- 2 फरवरी, चेटीचंड -26 मार्च, विश्वकर्मा पूजा -17 सितंबर और गुरु तेग बहादुर शहीद दिवस – 20 नवंबर रहेंगे।
निर्बंधित अवकाश
1. नववर्ष दिवस – 1 जनवरी
2. मकर संक्रांति – 15 जनवरी
3. बसंत पंचमी- 30 जनवरी
4. गुरु रविदास जन्मदिवस – 9 फरवरी
5. शब ए बारात – 9 अप्रैल
6. ईस्टर सैटरडे – 11 अप्रैल
7. वैशाखी – 13 अप्रैल
8. वीर केशरीचंद्र शहीद दिवस – 3 मई
9. जमात-उल-विदा – 22 मई
10. हरेला – 16 जुलाई
11. अनंत चतुर्दशी – 1 सितंबर
12. चेहल्लुम-8 अक्तूबर
13. महाराजा अग्रसेन जयंती-17 अक्तूबर
14. महाअष्टमीध्महानवमी – 24 अक्तूबर
15. दीपावली (नरक चतुर्दशी)- 13 नवंबर
16. भैयादूज- 16 नवंबर
17. छठ पूजा-20 नवंबर
18. क्रिसमस (पूर्व संध्या) – 24 दिसंबर
बैंक और कोषागार में 21 अवकाश
सरकार के घोषित 23 सार्वजनिक अवकाश बैंक, कोषागार और उपकोषागारों में लागू नहीं होंगे। इनके लिए निगोशियेबल इंस्ट्रमेंट एक्ट 1881 के तहत घोषित अवकाश ही लागू होंगे। इसके तहत 21 अवकाश रखे गए हैं, जिसमें महावीर जयंती, मोहर्रम, महर्षि वाल्मीकि जयंती शामिल नहीं है। 1 अप्रैल को वाणिज्यिक बैंकों की वार्षिक लेखा बंदी को बैंकों और कोषागार के लिए रखा गया है।

यह भी पढ़ें : डीएम ने अगले दो दिन स्कूल-कॉलेजों में अवकाश किया घोषित

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 दिसंबर 2019। डीएम सविन बंसल ने मौसम विभाग के बृहस्पतिवार सुबह जारी मौसम पूर्वानुमान के आधार पर अगले दो दिन 20 व 21 दिसंबर को जनपद के सभी विद्यालयों में अवकाश घोषित कर दिया है। डीएम के हस्ताक्षरों से जारी आदेश के अनुसार मौसम विभाग के पूर्वानुमान में 20 दिसंबर को राज्य के मैदानी भागों में घना कोहरा, शीत दिवस होने की संभावना व्यक्त की गई है। जनपद के पर्वतीय एवं मैदानी क्षेत्रों में मौसम की वर्तमान स्थिति, कोहरे एवं शीतलहरी को देखते हुए जनपद में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं की सुरक्षा के मद्देनगर 20 व 21 दिसंबर को जनपद के पहली से 12वीं कक्षा के सभी शासकीय, अर्द्धशासकीय एवं निजी विद्यालय तथा सभी आंगनबाड़ी केंद्रों में अवकाश घोषित करने के आदेश पारित किये गये हैं। वहीं आदेश में इन विद्यालयों के सभी प्रधानाचार्य, प्रधानाध्यापक, शैक्षणिक एवं मिनिस्ट्रियल व अन्य कर्मचारियों को निर्धारित समय पर अपने विद्यालयों व कार्यालयों में उपस्थित रहने को कहा गया है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल सहित इन जिलों के स्कूलों में शनिवार को छुट्टी घोषित, लेकिन इनके लिए नहीं

नवीन समाचार, नैनीताल, 13 दिसंबर 2019। प्रदेश में हो रही बर्फबारी व खराब मौसम के दृष्टिगत नैनीताल सहित अल्मोड़ा, पिथौरागढ़ व चंपावत आदि जनपदों में जिलाधिकारियों ने अवकाश घोषित कर दिया है। अलबत्ता, नैनीताल जनपद में अवकाश केवल आंगनबाड़ी एवं पहली से 12वीं कक्षा के बच्चों के लिए घोषित किया गया है। विद्यालयों के शिक्षकों, प्रधानाचार्यों एवं मिनिस्टीरियल कर्मचारियों को कार्य पर जाना होगा।

यह भी पढ़ें : नैनीताल जनपद में आज केवल ‘यहां’ अवकाश की सूचना

नवीन समाचार, नैनीताल, 9 नवंबर 2019। नैनीताल जनपद के डीएम सविन बंसल ने 9 नवंबर को उत्तराखंड राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर समस्त निजी, शासकीय, अर्द्ध शासकीय शिक्षण संस्थाओं, महाविद्यालयों, कॉलेजों, तकनीकी संस्थानों, विद्यालयों तथा आंगनबाड़ी केंद्रों में अवकाश घोषित कर दिया है। संबंधित अधिकारियों को आदेश का पालन सुनिश्चित कराने को कहा गया है। गौरतलब है कि अवकाश केवल शिक्षण संस्थानों में किया गया है, लिहाजा कार्यालयों व अन्य प्रतिष्ठानों पर यह आदेश प्रभावी नहीं है। अलबत्ता माह का द्वितीय शनिवार होने के कारण आज राष्ट्रीयकृत बैंक भी आज बंद रहेंगे। मुख्यालय के सेंट जोसफ कॉलेज, सेंट मेरीज कॉन्वेंट आदि निजी विद्यालयों ने भी अलग से अवकाश घोषित कर दिया है।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में हरेला पर सार्वजनिक अवकाश घोषित

नवीन समाचार, देहरादून, 1 नवंबर 2019। उत्तराखंड शासन से शनिवार को छठ पूजा का अवकाश घोषित कर दिया है। प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के अपर सचिव सुरेश चंद्र जोशी के पत्र के बाद अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने पूर्व में छठ पूजा पर दो नवंबर को घोषित निर्बंधित अवकाश के स्थान पर संशोधन करते हुए सार्वजनित अवकाश घोषित कर दिया है। साथ ही यह भी साफ कर दिया है। कि 2 नवंबर को नेगोशिएबल इंस्ट्रुमेंट एक्ट 1881 के अंतर्गत बैंक, कोषागार तथा उपकोषागारों में भी अवकाश रहेगा। इस प्रकार शनिवार को प्रदेश में सभी शासकीय, अर्धशासकीय एवं अन्य प्रतिष्ठान, स्कूल-कॉलेज आदि भी बंद रहेंगे। इस संबंध में निजी संस्थान व स्कूल-कॉलेज आदि अलग से अवकाशों की घोषणा कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें : 26 सितंबर से सात में से 5 दिन बंद रहेंगे बैंक, निपटा लें जरूरी काम

नवीन समाचार, नैनीताल, 23 सितंबर 2019। इस सप्ताह आगामी 26 सितंबर सभी बैंक चार दिन लगातार बंद रह सकते हैं। 26 एवं 27 सितंबर को बैंकों की बैंककर्मियों के संगठन ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कॉन्फेडरेशन के आह्वान पर सरकारी बैंकों के विलय के विरोध में हड़ताल प्रस्तावित है, और 28 को द्वितीय सप्ताहांत व 29 को रविवार के साप्ताहिक अवकाश हैं। इसके बाद भी 30 सितंबर व 1 अक्तूबर को बैंकों में काम होगा और 2 अक्तूबर को पुनः बैंक बंद रहेंगे। इससे आम लोगों व कारोबारियों को परेशानी होने के साथ ही सरकारी कर्मचारियों को वेतन व सेवानिवृत्त कर्मियों को पेंशन मिलने में भी दिक्कत आ सकती है।

नोट : पंचायत चुनाव में ‘सबसे सस्ते’ विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें हमारे मोबाइल-व्हाट्सएप नंबर 8077566792 अथवा 9412037779 पर

ऐसे में प्रदेश के कोषागार निदेशक-पेंशन लेखा एवं हकदारी के आदेशों पर जनपद की मुख्य कोषाधिकारी ने जनपद के समस्त आहरण वितरण अधिकारियों से अपने वेतन संशोधन प्रपत्र 24 दिसंबर की अपराह्न तक संबंधित कोषागार अथवा उप कोषागार को उपलब्ध कराने की अपील की है, ताकि समय पर वेतन जारी किये जा सकें।

यह भी पढ़ें : छात्र संघ चुनाव के दृष्टिगत नैनीताल के भी कई स्कूल रहेंगे बंद, कई जगह धारा 144 भी लागू

डीएसबी परिसर में नामांकन पत्रों की खरीद के दौरान आपस में जोश बढ़ाते प्रत्याशियों के समर्थक।

नवीन समाचार, नैनीताल, 9 सितंबर 2019। सोमवार 9 सितम्बर को जिले मे सम्पन्न होने वाले छात्र संघ चुनाव की संवेदनशीलता को देखते हुये नैनीताल के 4 स्कूल भी डीएम के आदेशों का हवाला देते बंद कर दिए गए हैं।मुख्यालय के सेंट जोसेफ कॉलेज, सेंट मेरिज कॉन्वेंट व लॉन्ग व्यू पब्लिक स्कूल सहित 4 स्कूलों की ओर से अपने छात्र-छात्राओं को छुट्टी घोषित होने का संदेश भेजा गया है।  हालांकि  जिलाधिकारी का आदेश केवल हल्द्वानी के  काठगोदाम से लेकर  मंडी तक के  स्कूलों को बंद करने का है।

इससे पूर्व डीएम सविन बंसल ने शान्तिपूर्ण निर्वाचन सम्पन्न कराने हेतु मजिस्ट्रेटों की तैनाती कर दी है। महानगर हल्द्वानी स्थित एमबीपीजी कालेज के चुनाव को दृष्टिगत रखते हुये सोमवार को नैनीताल मेन रोड पर स्थित सभी सरकारी एवं गैर सरकारी विद्यालय सुरक्षा की दृष्टि से पूर्णतयाः बन्द रहेंगे। साथ ही सभी महाविद्यालयों के आसपास दो सौ मीटर के दायरे में धारा 144 प्रभावी रहेगी तथा आवश्यकतानुसार ट्रेफिक भी ड्राइवर्ट रहेगा।

जिलाधिकारी ने जनपद के 9 महाविद्यालयोें में शान्तिपूर्ण निर्वाचन सम्पन्न कराने हेतु डीएसबी परिसर नैनीताल में एसडीएम विनोद कुमार, एमबीपीजी कालेज हल्द्वानी में सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिह, राजकीय महिला महाविद्यालय हल्द्वानी में एसडीएम विजय नाथ शुक्ला, राजकीय महाविद्यालय रामनगर हरगिरी, राजकीय महाविद्यालय बेतालघाट मे एसडीएम गौरव चटवाल को पर्यवेक्षक मजिस्ट्रेट राजकीय महाविद्यालय हल्दूचौड मे तहसीलदार हल्द्वानी, राजकीय महाविद्यालय कोटाबाग मे तहसीलदार कालाढूगी, राजकीय महाविद्यालय दोषापानी तहसीलदार धारी व राजकीय महाविद्यालय पतलोट मे अधिशासी अभियन्ता लोनिवि भवाली को पर्यवेक्षक मजिस्टेªट तैनात किया है। वहीं कुमाऊँ विवि के कुलपति प्रो. केएस राणा ने बताया कि इसी तरह की मजिस्ट्रेट व्यवस्था कुमाऊँ विवि परिक्षेत्र के सभी जनपदों के महाविद्यालयों के लिए की गई है। कुलपति ने प्रशासन के सहयोगात्मक रवैये के लिए आभार व्यक्त किया है, तथा छात्रों से अपने लोकतांत्रिक अधिकारों का प्रयोग करते हुए शांति एवं संयम बरतने की अपील की है।

यह भी पढ़ें : नंदाष्टमी, अनवष्टका व भैया दूज पर रहेगा नैनीताल जनपद में अवकाश, मदिरालय व बार भी रहेंगे बंद..

नवीन समाचार, नैनीताल, 5 सितंबर 2019। नैनीताल जनपद में शुक्रवार 6 सितंबर को नंदा अष्टमी के अवसर पर सार्वजनिक अवकाश रहेगा। इस बारे में जनपद के पूर्व/तत्कालीन जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन ने 20 अप्रैल 2019 को ही ‘मैनुअल्स ऑफ गवर्नमेंट ऑडर्स’ के तहत अवकाश की घोषणा कर दी थी। इसके अलावा इसी माह 23 सितंबर को श्राद्ध पक्ष की अष्टमी की अनवष्टका एवं 29 अक्तूबर को भैया दूज के अवकाश भी रहेंगे। वर्तमान डीएम सविन बंसल ने बताया कि अवकाश के लिए यही आदेश लागू रहेंगे। इधर नैनीताल डीएम ने नंदाष्टमी के अवसर पर मुख्यालय में सभी तरह के मदिरालय व बार बंद सुबह 10 से शाम सात बजे तक बंद रखने के आदेश भी दिये हैं।

<

p style=”text-align: justify;”>कुमाऊं विवि में भी नंदाष्टमी व अनवष्टका के अवकाश घोषित
वहीं कुमाऊं विवि के कुलपति प्रो. केएस राणा ने भी नंदाष्टमी के अवसर पर 6 सितंबर एवं अनवष्टका के अवसर पर 23 सितंबर को अवकाशों की घोषणा कर दी है।

यह भी पढ़ें : छठ पर उत्तराखंड में लगातार तीसरे वर्ष भी छुट्टी घोषित

<

p style=”text-align: justify;”>नैनीताल, 12 नवंबर 2018। छठ पर उत्तराखंड में लगातार तीसरे वर्ष भी छुट्टी घोषित हो सकती है। सोमवार को इस संबंध में मुख्यमंत्री सचिवालय से मुख्यमंत्री के निजी सचिव सुरेश चंद्र जोशी की ओर से प्रदेश के अपर मुख्य सचिव-सामान्य प्रशासन विभाग को पत्र लिखा गया है। पत्र में कहा गया है कि बुधवार 13 नवंबर को छठ पूजा के अवसर पर राज्य के शासकीय, अर्द्धशासकीय कार्यालयों, समस्त सरकारी, अर्द्ध सरकारी व गैर सरकारी शिक्षण संस्थानों तथा विश्वविद्यालयों में सार्वजनिक अवकाश घोषित की किये जाने की अपेक्षा की गयी है।  उल्लेखनीय है कि पहले 13 नवंबर को अवकाश घोषित करने को कहा गया था, बाद में इसमें संशोधन किया गया। इसके बाद माना जा रहा है कि शासन की ओर से शीघ्र की अवकाश की घोषणा कर दी जाएगी।
गौरतलब है कि छठ मुख्यतया पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार व झारखंड में मनाया जाने वाला सूर्य की आराधना का पर्व है। लेकिन उत्तराखंड में यह त्योहार मनाने वाले लोगों की संख्या बेहद सीमित बतायी जाती है। बावजूद वर्ष 2016 में विधानसभा चुनाव में जा रहे तत्कालीन मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सर्वप्रथम छठ पर्व पर छुट्टी की घोषणा की थी, और इसकी काफी आलोचना भी हुई थी। कहा गया था कि इसकी जगह उत्तराखंड में हरेला, फूलदेई व नंदाष्टमी जैसे लोकपर्वों पर राज्य सरकार की ओर से सार्वजनिक अवकाश घोषित किया जाना चाहिए, जोकि नहीं होते हैं, अथवा जिला प्रशासन की ओर से केवल जिले या नगर में घोषित किये जाते हैं।

यह भी पढ़ें : 14 अगस्त छुट्टी की झूठी वायरल खबर का जारी हुआ खंडन

नैनीताल 13 अगस्त (सू.वि.) – समाचार खण्डन : कुछ शरारती तत्वों एवं व्यक्तियों द्वारा मेंरे नाम व पदनाम का गलत उपयोग करते हुए सोशल मीडिया पर दिनांक 14 अगस्त को कक्षा एक से 12 तक के सभी सरकारी व गैर सरकारी विद्यालयों में अवकाश घोषित किये जाने की गलत जानकारी प्रसारित की जा रही है। आप सभी को अवगत कराना है कि जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन द्वारा 14 अगस्त को सरकारी, गैर सरकारी विद्यालयों व आंगनबाड़ी केन्द्रों के लिए किसी भी प्रकार का अवकाश घोषित नहीं किया गया है तथा जिला सूचना कार्यालय नैनीताल एवं मीडिया सेन्टर हल्द्वानी से अवकाश से सम्बन्धित कोई भी प्रेस विज्ञप्ति जारी नहीं की गयी है।

पूर्व समाचार : सोमवार 6 अगस्त को नैनीताल जिले के 12वीं तक के स्कूलों में छुट्टी घोषित

नैनीताल, 5 अगस्त 2018। जनपद में भारी बारिश को देखते हुए डीएम विनोद कुमार सुमन ने सोमवार को जनपद के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों सहित कक्षा एक से 12वीं तक के सभी सरकारी-गैरसरकारी स्कूल में बच्चों के लिए अवकाश घोषित कर दिया है। अलबत्ता स्कूलों के शिक्षक-शिक्षिकाओं एवं आंगनबाड़ी कर्मियों के लिए अवकाश घोषित नहीं किया है।

About Post Author

नवीन समाचार

‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

loading...