News

संध्या डालाकोटी के सीएम धामी से मिलने से शुरू हुई अटकलें… धामी ने लगाया ध्यान…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 15 मई 2022। मुख्यमंत्री पुष्कर धामी के नैनीताल प्रवास के दौरान रविवार सुबह विधानसभा चुनाव में हरीश रावत के खिलाफ बागी होकर चुनाव लड़ी हल्द्वानी की ब्लॉक प्रमुख व कांग्रेस नेत्री संध्या डालाकोटी ने अपने पति किरन डालाकोटी के साथ मुख्यमंत्री धामी से मुलाकात की। इस पर उनके भाजपा में शामिल होने की सियासी अटकलें लगाई जाने लगीं। लेकिन किरन डालाकोटी ने ऐसी किसी संभावना से इंकार किया है।

‘नवीन समाचार’ से बात करते हुए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री धामी से 20-22 वर्ष पुराने व्यक्तिगत संबंध हैं। किसी कार्य के लिए बात होने पर धामी ने ही मिलने के लिए शानिवार शाम को बुलाया था। लेकिन रात्रि में देरी हो जाने के कारण सुबह मुलाकात की। अलबत्ता उन्होंने कहा कि कांग्रेस से टिकट मिलने के बाद कटने, उधर भाजपा में भी टिकटों के इसी तरह पुराने नेताओं के टिकट कटने व चार दिन पूर्व आने वालों को टिकट मिलने जैसी स्थितियेां से मन राजनीति से उजाट-खट्टा सा हो गया है। अलबत्ता कहा कि सामाजिक कार्य जारी रहेंगे। राजनीति पर फिलहाल ‘वेट एंड वॉच’ की स्थिति में हैं।

सीएम धामी ने अपनी प्रतिद्वंदी लाल कुआं से निर्दलीय प्रत्याशी संध्या डालाकोटी  का पूछा हाल चाल, होगयी थी तबीयत खराब - Gairsain Live
सीएम धामी ने अपनी प्रतिद्वंदी लाल कुआं से निर्दलीय प्रत्याशी संध्या डालाकोटी का पूछा हाल चाल, होगयी थी तबीयत खराब (File Photo)

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री धामी ने विधानसभा चुनाव के दौरान चुनाव प्रचार के अंतिम दिन तब निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ ही संध्या डालाकोटी का अचानक स्वास्थ्य खराब हो जाने के बाद पर उनके पति किरन डालाकोटी को फोन कर का फोन कर हाल चाल जाना था, और कहा था कि चुनाव में प्रतिद्वंदिता तो चलती रहती है लेकिन इंसानियत कहती है कि हमें एक दूसरे का ख्याल रखना चाहिए।

सीएम धामी ने कैंची धाम में वित्त मंत्री सहित लगाया ध्यान

सीएम धामी ने रविवार सुबह प्रदेश के वित्त मंत्री प्रेम चंद्र अग्रवाल एवं स्थानीय विधायक सरिता आर्य के साथ कैंची मंदिर में नीब करौरी महाराज के दर्शन किए, और बाबा की शिला पर कुछ देर ध्यान भी लगाया। साथ ही करीब आधे घंटा मंदिर में रहकर उन्होंने प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि के लिए एवं चम्पावत उपचुनाव में विजय होने के लिए आशीर्वाद लिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि कैंचीधाम में जाम की समस्या से निपटने के लिए करीब 15 लाख की लागत से पार्किंग के निर्माण की योजना है।

इस दौरान उन्होंने कैंची धाम के प्रबंधक विनोद जोशी तथा प्रदीप साह ने आगामी 15 जून को मंदिर के स्थापना दिवस की तैयारियों को लेकर भी जानकारी ली। इस दौरान भाजपा के मंडल अध्यक्ष पुष्कर जोशी, प्रधान पंकज निगल्टिया, भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के जिलाध्यक्ष प्रकाश आर्य, भाजपा मंडल अध्यक्ष आनंद बिष्ट, मनोज जोशी, अनिल डब्बू, अरविंद पडियार, तेज सिंह, पूरन मेहरा, जैनु मेहरा, मोहित साह , हरीश भट्ट समेत कमिश्नर दीपक रावत, डीएम धीराज गर्ब्याल, एसएसपी पंकज भट्ट, अपर आयुक्त प्रकाश चंद्र, जगदीश कांडपाल आदि भी मौजूद रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : राज्य के बजट के लिए प्रतिनिधि समूहों से लिए गए सुझाव

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 14 मई 2022। मुख्यालय स्थित नैनीताल क्लब में शनिवार को प्रदेश के वित्त मंत्री प्रेम चंद्र अग्रवाल की पहल पर कुमाऊं मंडल के प्रतिनिधि समूहों से 2022-23 के बजट के लिए सुझाव लिए गए। ‘प्री बजट स्टेक होल्डर्स कंसल्टेंशन’ के तहत शनिवार शाम को नैनीताल क्लब में आयोजित इस कार्यक्रम में मेयरों व नगर निकाय अध्यक्षों, किसानों, होटल व रेस्टोरेंट एसोसिएशन, टूर ऑपरेटर एसोसिएशन, ट्रेड एसोसिएशन, सिडकुल एसोसिएशन, डेयरी फेडरेशन, चार्टड अकाउंटेंट आदि के द्वारा बजट से अपनी अपेक्षाओं से अवगत कराया।

बैठक में मेयरों ने नगर निकायों को राज्य वित्त आयोग व केंद्रीय वित्त आयोग से 50 से सौ करोड़ तक वार्षिक अनुदान देने की मांग की। जिला पंचायत अध्यक्षों ने भी अतिरिक्त अनुदान मांगा। किसानों ने जंगली जानवरों के आतंक, जड़ी बूटी के विपणन समस्या का मामला उठाने के साथ ही बीमा योजनाओं में सरलीकरण किए जाने एवं उद्यान विभाग का बजट बढ़ाए जाने की मांग रखी। पर्यटन से जुड़े लोगों ने कहा कि उत्तराखंड पर्यटन प्रदेश है। इसलिए राज्य में, खासकर कोरोना काल में बुरी तरह से प्रभावित रहे पर्यटन सेक्टर को प्रोत्साहन दिए जाने की जरूरत है। उद्योग व व्यापार संगठन समेत अन्य ने भी सुझाव दिए।

कार्यक्रम में मौजूद रहे प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि प्रदेश सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देशन में ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ की भावना को निहित रखते हेतु आगे बढ़ रही है। बजट पर सबके सुझाव लेने के पीछे भी यही भावना है। बताया गया कि आगे ऐसा ही एक संवाद कार्यक्रम गढ़वाल मंडल के लिए देहरादून में आयोजित होगा। वित्त मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि पहली बार आयोजित किया जा रहा यह संवाद कार्यक्रम उत्तराखंड के बजट में जन अपेक्षाओं के अनुरूप कल्याणकारी योजनाओं को शामिल किये जाने की कोशिश है। कोशिश है कि बजट में राज्य के सुगम और दुर्गम इलाकों में निवासरत लोगों को भी लाभ मिले।

बैठक में प्रदेश के वित्त सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम, विधायक सरिता आर्य, भाजपा जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट, मंडलायुक्त दीपक रावत, डीएम धीराज गर्ब्याल, शहरी विकास निदेशक ललित मोहन रयाल, पंचायती राज निदेशक बंशीधर तिवारी, जिला पंचायत अध्यक्ष नैनीताल बेला तोलिया, चम्पावत की ज्योति राय, हल्द्वानी के मेयर डॉ. जोगेंद्र रौतेला व काशीपुर की मेयर ऊषा चौधरी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी व संगठनों के पदाधिकारी व प्रतिनिधि उपस्थित रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : मुख्यमंत्री कल नैनीताल में, करेंगे पहली बार आयोजित हो रहे बजट हेतु जनसंवाद कार्यक्रम में प्रतिभाग

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 13 मई 2022। प्रदेश के मुख्यमंत्री शनिवार को जिला मुख्यालय में होंगे और यहां प्रदेश के वित्त मंत्री प्रेम चंद्र अग्रवाल द्वारा कुमाऊं मंडल के प्रतिनिधि समूहों से 2022-23 के बजट के लिए सुझाव लेने हेतु आहूत कार्यक्रम में शामिल होंगे।

बताया गया है कि यह कार्यक्रम शनिवार 14 मई को शाम चार बजे से नैनीताल क्लब में होगा। आगे ऐसा ही एक संवाद कार्यक्रमगढ़वाल मंडल के लिए देहरादून में आयोजित होगा। ‘प्री बजट स्टेक होल्डर्स कंसल्टेंशन’ के तहत इस कार्यक्रम में वित्त मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने पहली बार यह संवाद कार्यक्रम आयोजित किया है, ताकि उत्तराखंड के बजट में जन अपेक्षाओं के अनुरूप कल्याणकारी योजनाओं को शामिल किया जा सके।

बताया गया है किनैनीताल क्लब में आयोजित होने वाले इस जन संवाद कार्यक्रम में ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ की भावना को निहित रखते हुए होटल व रेस्टोरेंट एसोसिएशन, टूर ऑपरेटर एसोसिएशन, ट्रेड एसोसिएशन, सिडकुल एसोसिएशन, डेयरी फेडरेशन, चार्टड अकाउंटेंट आदि के साथ ही कुमाऊं मंडल के जिला पंचायत अध्यक्षों, मेयरों आदि को भी संवाद कार्यक्रम का हिस्सा बनाते हुए सुझाव लिए जाएंगे। कोशिश है कि बजट में राज्य के सुगम और दुर्गम इलाकों में निवासरत लोगों को भी लाभ मिले। बताया गया है कि इसके उपरांत मुख्यमंत्री रात्रि विश्राम राज्य अतिथि गृह नैनीताल क्लब में ही करेंगे। अन्य ताज़ा नवीन समाचार पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : चंपावत उपचुनाव से पहले ‘दायित्वों का शतक’ मारने की तैयारी में धामी

नवीन समाचार, देहरादून, 22 अप्रैल 2022। विधानसभा चुनाव के दौरान क्रिकेट की भाषा में ‘धाकड़ धामी’ कहे गए उत्तराखंड के सीएम आसन्न उपचुनाव से पूर्व रविवार 24 अप्रैल को अपनी दूसरी सरकार में दायित्व बंटवारे में शतक मार सकते हैं। 24 अप्रैल को भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष देहरादून आ रहे हैं। इस दौरान वह सरकार व संगठन के साथ अहम बैठक करेंगे।

बताया जा रहा है कि इस दौरान सीएम धामी के लिए सीट छोड़ने वाले पूर्व चंपावत विधायक कैलाश गहतोड़ी सहित पार्टी के 100 वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को काबीना मंत्री व राज्य मंत्री स्तर के दायित्व दिए जा सकते हैं। सूत्रों की मानें तो 100 से ज्यादा दायित्व दिए जाने को लेकर संगठन और सरकार के बीच हुई बातचीत के बाद पुष्कर धामी सरकार को दायित्व आवंटन को हरी झंडी मिल गई है।

सूत्रों की मानें तो बैठक में चंपावत के विधानसभा उपचुनाव की रणनीति पर भी विचार विमर्श होगा। बैठक में मुख्यमंत्री, प्रदेश संगठन महामंत्री, प्रदेश अध्यक्ष व अन्य पदाधिकारी भी शामिल होंगे। (डॉ. नवीन जोशी) अन्य ताज़ा नवीन समाचार पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : सरकार बनने के बाद पहली बार मंत्री सौरभ पहुंचे नैनीताल, बताया ‘रिवर्स पलायन’ का प्लान, बुजुर्ग नेता के घर भी पहुंचे

-कहा पशुपालन, दुग्ध विकास व मत्स्य पालन बनेंगे रिवर्स पलायन का आभार
-45 दिन में करेंगे गन्ना किसानों के 360 करोड़ बकाये का भुगतान

नैनीताल क्लब में प्रथम बार आगमन पर काबीना मंत्री सौरभ बहुगुणा का स्वागत-अभिनंदन करते विधायक एंव भाजपा कार्यकर्ता।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 5 अप्रैल 2022। प्रदेश के काबीना मंत्री सौरभ बहुगुणा ने कहा कि राज्य सरकार मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार उत्तराखंड को 2030 तक देश का प्रथम राज्य बनाने के लक्ष्य को लेकर आगे बढ़ रही है। सरकार राज्य में ‘रिवर्स पलायन’ की स्थिति लाने को प्रतिबद्ध है। युवा व महिलाएं आगे आएं तो पशुपालन, दुग्ध विकास व मत्स्य पालन इस लक्ष्य की प्राप्ति में बड़ी भूमिका निभा सकते हैं।

मुख्यमंत्री की सीमांत क्षेत्रों में पूर्व सैनिकों व युवाओं को बसाकर मजबूत सुरक्षा दीवार बनाने की योजना में भी यह कार्य बड़ा सहयोग कर सकते है। उन्होंने राज्य में गन्ना किसानों का 360 करोड़ के बकाया भुगतान को 45 दिन के भीतर कराने के आदेश अधिकारियों को दिए हैं।

मंगलवार को नैनीताल क्लब में पत्रकारों से वार्ता करते हुए गन्ना, चीनी उद्योग, पशुपालन, दुग्ध विकास, मत्स्य पालन, कौशल विकास व सेवायोजन मंत्री ने कहा कि राज्य में आवारा पशुओं की समस्या के समाधान के लिए जल्द रोडमैप तैयार कर लिया जाएगा। उन्होंने युवाओं से पशुपालन व मत्स्य पालन के क्षेत्र में भी रोजगार के लिए आगे आने का आह्वान किया। बताया कि उत्तराखंड उत्तर प्रदेश से पांच रुपये अधिक गन्ना मूल्य दे रहा है। उन्होंने राज्य के आईटीआई में युवाओं का कौशल विकास का केंद्र बनाने की बात भी कही।

इससे पहले बहुगुणा का स्थानीय विधायक सरिता आर्य की अगुवाई में भाजपा जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट, नगर अध्यक्ष आनंद बिष्ट, प्रदीप जनौटी, प्रताप बिष्ट, गोपाल रावत, मोहन नेगी, अरविंद पडियार, दया किशन पोखरिया, मोहित रौतेला, भावना मेहरा, दया बिष्ट, विमला अधिकारी, रीना मेहरा, जीवंती बिष्ट, केएल आर्य, प्रकाश आर्य, विश्वकेतु वैद्य, कलावती असवाल, अतुल पाल, नीनू बुधलाकोटी, दया बिष्ट, विक्की राठौर, भूपेंद्र बिष्ट, हरीश भट्ट सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने फूल माला पहनाकर स्वागत किया।

बुजुर्ग नेता का हालचाल जानने भाजपाइयों के साथ घर पहुंचे मंत्री
नैनीताल। नैनीताल क्लब के कार्यक्रम के बाद लौटते हुए काबीना मंत्री सौरभ बहुगुणा, क्षेत्रीय विधायक सरिता आर्य, जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट एवं अन्य भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ पार्टी के बुजुर्ग नेता पूर्व जिलाध्यक्ष भुवन हर्बोला के माल रोड स्थित आवास पर पहुंचे एवं उनका हालचाल जाना। श्री हर्बोला इन दिनों आंखों के इलाज के बाद स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं। इस दौरान माल रोड पर प्रशासनिक एवं भाजपा नेताओं एवं उनके वाहनो का जमावड़ा लग गया। आज के अन्य ताज़ा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : धामी सरकार ने पूरा किया अपना एक चुनाव पूर्व का वादा

नवीन समाचार, देहरादून, 30 मार्च 2022। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने विधानसभा चुनाव से पहले दिसंबर माह में वृद्धजनों के हित में किया अपना वादा निभाया है। अब राज्य में वृद्धावस्था पेंशन योजना के अंतर्गत पति और पत्नी दोनों को लाभ मिल सकेगा। इतना ही नहीं अब 1200 रुपये मिलने वाली पेंशन 1400 रुपये प्रतिमाह मिलेगी।

इस प्रकार पहले जो एक वृद्ध पति-पत्नी को वर्ष भर में 14,400 रुपए मिलते थे, अब दोनों पति-पत्नी को 33,600 यानी दोगुने से भी अधिक मिलेंगे। इस संबंध में बुधवार को शासनादेश जारी कर दिया गया है, जिसके तहत राज्य में वृद्धावस्था पेंशन के अंतर्गत दिए जाने वाले लाभ को पात्र पति और पत्नी दोनों को मिलेगा।

इस पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि हमारी सरकार विकल्प रहित संकल्प के ध्येय वाक्य पर काम कर रही है। सरकार की प्राथमिकता है कि जो घोषणा पूर्व में की गई हैं उनका शासनादेश भी समय से किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने प्राथमिकता के आधार पर प्रदेश के वृद्धजनों के हित में यह निर्णय लिया और अब अप्रैल माह से प्रदेश के हजारों परिवार के पात्र वृद्ध दम्पतियों को इसका सीधा लाभ मिल सकेगा। (डॉ. नवीन जोशी) अन्य ताज़ा नवीन समाचार पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : बिग ब्रेकिंग : धामी सरकार के मंत्रियों में हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे क्या मिला ?

नवीन समाचार, देहरादून, 29 मार्च 2022। उत्तराखंड में इतिहास रचकर दोबार सीएम बने पुष्कर सिंह धामी ने मंत्रालयों का बंटवारा कर दिया है। सीएम धामी ने अपने पास 23 विभाग रखे हैं, जबकि सतपाल महाराज को पीडब्ल्यूडी समेत सात विभागों की जिम्मादारी सौंपी है। आइए जानते हैं किस मंत्री को कौन से विभाग की जिम्मेदारी दी गई है।

Eight MLAs became ministers in Dhami Govt in Uttarakhand - उत्‍तराखंड : धामी  सरकार 2.0 में मंत्री बने ये आठ विधायक, जानिए क्‍या है उनका एक्‍शन प्‍लानसीएम पुष्कर सिंह धामी ने अपने ये विभाग रखे- कार्मिक एवं अखिल भारतीय सेवाओं संस्थापना विषयक कार्य, जनसेवा सतर्कता, सुराज, भ्रष्ट्राचार उन्मूलन एवं जनसेव, सचिवालय प्रशासन, सामान्य प्रशासन, नियोजन, राज्य सम्पत्ति, सूचना गृह, कारागार, नागरिक सुरक्षा एवं होमगार्ड एवं अर्द्ध सैनिक कल्याण, राजस्व, औद्योगिक विकास एवं खनन, औद्योगिक विकास, श्रम, सूचना प्रौद्योगिकी, विज्ञान प्रौद्योगिकी, पेयजल, ऊर्जा एवं वैकल्पिक ऊर्जा, आयुष, आबकारी, न्याय, आपदा प्रबन्धन एवं पुनर्वास, नागरिक उड्डयन और पर्यावरण संरक्षण एवं जलवायु परिवर्तन।
सतपाल महाराज- लोक निर्माण विभाग, पंचायती राज, ग्रामीण निर्माण, संस्कृति, धर्मस्व, पर्यटन, जलागम प्रबंधन और सिंचाई एवं लघु सिंचाई।

प्रेमचंद अग्रवाल- वित्त, वाणिज्य कर, स्टाम्प एवं निबंधन, शहरी विकास, आवास, विधायी एवं संसदीय कार्य, पुनगर्ठन और जनगणना।
गणेश जोशी- कृषि, कृषि शिक्षा, कृषि विपणन, उद्यान एवं कृषि प्रसंस्करण, उद्यान एवं फलोद्ययोग, रेशम विकास, जैव प्रौद्योगिकी, सैनिक कल्याण और ग्राम्य विकास।

सुबोध उनियाल- वन, भाषा, निर्वाचन, तकनीकि शिक्षा विभाग

रेखा आर्य- महिला सशक्‍तिकरण एवं बाल विकास, खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्‍ता मामले और खेले एवं युवा कल्‍याण

चंदन रामदस- समाज कल्‍याण, अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण, परिवहन, लघु एवं सूक्ष्‍म मध्‍यम उद्यम

सौरभ बहुगुणा- पशुपालन, दुग्‍ध विकास एवं मत्‍स्‍य पालन, गन्‍ना विकास एवं चीनी उद्योग, प्रोटोकाल और कौशल विकास एवं सेवायोजन (डॉ. नवीन जोशी) अन्य ताज़ा नवीन समाचार पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : धामी 2.0 ने पेश किया अपना अगले पांच वर्ष का एजेंडा और लेखानुदान….

नवीन समाचार, देहरादून, 29 मार्च 2022। उत्तराखंड की पांचवीं निर्वाचित विधानसभा में मुख्यमंत्री धामी के नेतृत्व वाली 2.0 सरकार का पहला सत्र 29 मार्च को बिना विभागों के मंत्रियों और बिना नेता प्रतिपक्ष की मौजूदगी के अजीबोगरीब स्थितियों में शुरू हो गया। इस मौके पर राज्यपाल ले. जनरल गुरमीत सिंह ने अपनी सरकार का अगले पांच वर्ष का एजेंडा प्रस्तुत किया।

उत्तराखंड की पांचवीं विधानसभा का पहला सत्र आज सेसीएम पुष्कर सिंह धामी ने भी कहा कि 2025 का उत्तराखंड बहुत ही अलग होगा। दोहराया कि यह दशक उत्तराखंड का दशक होगा। इस दौरान विकास कार्यों को प्राथमिकता से पूरा किया जाएगा। इसके बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वित्तीय वर्ष 2022-23 के लिए चार माह का 21,116.21 करोड़ का लेखानुदान सदन में प्रस्तुत किया। सदन की कार्यवाही बुधवार सुबह 11 बजे तक स्थगित की गई है।

राज्यपाल ने इस दौरान इन आठ योजनाओं का खाका खींचा:
1. हिम प्रहरी योजना: सीमांत क्षेत्रों की सुरक्षा के लिहाज से पूर्व सैनिकों को और युवाओं को सीमांत क्षेत्रों में बसने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। पलायन की वजह से खाली हो रहे सीमांत क्षेत्रों में दोबारा बसासत विकसित की जाएंगी।
2. सीएम किसान प्रोत्साहन निधि: पीएम किसान योजना के तहत इस वक्त किसानों को सालाना छह हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी जाती है। राज्य के नौ लाख से ज्यादा किसानों को इसका लाभ मिल रहा है। इस योजना ने राज्य में भाजपा की सरकार लौटाने में भी बड़ी भूमिका निभाई। अब इस योजना की तर्ज पर राज्य सरकार भी अपनी योजना शुरू करेगी।

3. आर्गनिक्स ब्रांड: राज्य तेजी से जैविक राज्य के रूप में विकसित हो रहा है। राज्य के उत्पादों को अखिल भारतीय बाजार उपलब्ध करने के लिए सरकार उत्तराखंड आर्गनिक्स ब्रांड विकसित करेगी।

4. मानसखंड मंदिर माला मिशन: राज्य में गढ़वाल में स्थित चार धाम सर्किट में आने वाले सभी मंदिर और गुरुद्वारों में बुनियादी सुविधाओं और परिवहन सेवाओं को विस्तार किया जाएगा। साथ ही चार धाम परियोजना की तर्ज पर कुमाऊं के प्राचीन मंदिरों का भी अलग सर्किट बनाया जाएगा।
5. मिशन मायापुरी: हरिद्वार को योग की अंतर्राष्ट्रीय राजधानी और विश्व में आध्यात्मिक पर्यटन के लिए सबसे बड़े स्थलों के रूप में विकसित किया जाएगा। इसके लिए हरिद्वार में उच्च गुणवत्ता वाले बुनियादी ढांचे का निर्माण किया जाएगा।
6. महिला सहायता कोष: राज्य में महिला स्वयं सहायता समूहों को व्यावसायिक रूप से मजबूत बनाया जाएगा। नए व्यावसाय शुरू करने के लिए उन्हें आर्थिक सहायता देने को विशेष कोष बनाया जाएगा।

7. सुदृढ़ संचार सेवाएं: राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में 4जी और 5जी मोबाइल नेटवर्क को मजबूत किया जाएगा। स्थानीय लोगों की सुविधा के लिए हाई स्पीड ब्रॉडबैंड एवं फाइबर इंटरनेट की सुविधा को बढ़ाया जाएगा।
8. पर्वतमाला योजना: राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों में बेहतर और तेज कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए रोपवे परिवहन नेटवर्क के निर्माण के लिए पर्वत माला परियोजना शुरू की जाएगी। प्रधानमंत्री मोदी ने चुनाव प्रचार के दौरान भी इसकी बात की थी। (डॉ. नवीन जोशी) अन्य ताज़ा नवीन समाचार पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में धामी 2.0 सरकार का शपथ ग्रहण समारोह लाइव: धामी ने ली शपथ, मंत्री ले रहे शपथ

नवीन समाचार, देहरादून, 23 मार्च 2022। उत्तराखंड में दो-तिहाई बहुमत से जीती भाजपा की सरकार पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में शपथ लेने जा रही है। देहरादून के परेड ग्राउंड में मुख्यमंत्री धामी एवं उनकी मंत्रिमंडल के सदस्यों का शपथ ग्रहण समारोह हो रहा है। समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित साह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह तथा पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ सहित देश के 12 भाजपा शासिक राज्यों के मुख्यमंत्रियों की मौजूदगी में उत्तराखंड के राज्यपाल ले. जनरल गुरमीत सिंह शपथ दिलाऐंगे। सबसे पहले मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने इतिहास रचते हुए उत्तराखंड में पहली बार चुनाव जीतने के बाद दूसरी बार शपथ ली है। 

धामी के बाद सतपाल महाराज ने, फिर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद्र अग्रवाल ने संस्कृत में, उनके बाद गणेश जोशी फिर डॉ. धन सिंह रावत, सुबोध उनियाल, रेखा आर्या, चंदन रामदास, सौरभ बहुगुणा ने इसी क्रम में शपथ ली है। रेखा आर्य ने पूरी तरह कुमाउनी परिधान में शपथ ली। कुमाऊं मंडल से केवल तीन मंत्री ही बनाये गए हैं। जबकि कांग्रेसी मूल के चार मंत्रियों को मंत्रिमंडल में जगह मिल रही है। कुमाऊं के 6 में से चार जनपदों-नैनीताल, अल्मोड़ा, चंपावत व पिथौरागढ़ जिलों को मंत्रिमंडल में स्थान नहीं मिल पाया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, सांसद अनिल बलूनी और पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत भी पुष्कर सिंह धामी के मुख्यमंत्री बनने की शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए परेड ग्राउंड पहुंच गए हैं। (डॉ. नवीन जोशी) अन्य ताज़ा नवीन समाचार पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : शपथ ग्रहण के बाद होगी मंत्रिमंडल की बैठक, लिये जा सकते हैं बड़े फैसले…

Uttarakhand: CM धामी की अध्यक्षता में कैबिनेट की अहम बैठक आज, खेल नीति समेत  इन बड़े फैसलों पर लग सकती है मुहर | TV9 Bharatvarshनवीन समाचार, देहरादून, 23 मार्च 2022। देहरादून के परेड ग्राउंड में आज 23 मार्च को शपथ ग्रहण समारोह के तत्काल बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की 2.0 सरकार की पहली मंत्रिमंडल की बैठक में कई अहम फैसले हो सकते हैं। सूत्रों के अनुसार मंत्रिमंडल की बैठक में समान नागरिक संहिता लागू करने का प्रस्ताव पारित हो सकते हैं। साथ ही कई जनकल्याणकारी योजनाओं की घोषणा भी की जा सकती है।

बैठक में समान नागरिक संहिता के मुद्दे पर हाई पावर कमेटी बनाए जाने का फैसला लिया जा सकता है। हालांकि नागरिकता का विषय मूल रूप से केंद्र सरकार का है, लेकिन प्रदेश से इस पर प्रस्ताव पास किया जा सकता है। इसके साथ ही कैबिनेट की पहली बैठक में कुछ जनकल्याणकारी कार्यक्रमों की भी घोषणा की जा सकती है। जबकि एजेंडे के अनुसार कैबिनेट बैठक मंत्रियों के बीच विभाग बंटवारा होने के बाद ही आयोजित की जाएगाी।

इसके अलावा भाजपा के चुनाव दृष्टि पत्र को सरकारी नीति दस्तावेज बनाए जाने का फैसला भी लिया जा सकता है। इसके अलावा उम्मीद है कि मंत्रिमंडल की बैठक में बहुउद्देश्यीय जमरानी बांध परियोजना के विस्थापितों के लिए तैयार की गई पुनर्वास नीति का प्रस्ताव भी लाया जा सकता है। क्योंकि परियोजना के अधिकारियों और शासन ने इसकी तैयारी पूरी कर ली है। परियोजना के लिए 2584.10 करोड़ रुपये मंजूर हुए है। लेकिन जमरानी बांध परियोजना के डूब क्षेत्र में आ रहे ग्रामीणों को बसाने के लिए पुनर्वास नीति को अभी तक शासन से हरी झंडी नहीं मिलने के कारण इसकी प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ पा रही है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : धामी 2.0 में कौन बनेंगे मंत्री, जानें क्या हैं सर्वश्रेष्ठ संभावनाएं

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 22 मार्च 2022। उत्तराखंड में मुख्यमंत्री के पद पर पुष्कर सिंह धामी की ताजपोशी तय होने के बाद अब सबसे बड़ा प्रश्न उनके मंत्रिमंडल को लेकर है। मीडिया में सतपाल महाराज, बंशीधर भगत, बिशन सिंह चुफाल, डॉ. धन सिंह रावत, अरविंद पांडे, सुबोध उनियाल, गणेश जोशी व रेखा आर्य आदि निवर्तमान मंत्रियों के साथ ही निवर्तमान स्पीकर प्रेमचंद अग्रवाल, मदन कौशिक, मुन्ना सिंह चौहान, ऋतु खंडूड़ी, नारायण राम दास आदि नए नाम मंत्री पद के संभावितों में बताए जा रहे हैं।

लेकिन ‘नवीन समाचार’ के विश्वस्त सूत्रों की मानें तो इस बार मंत्रिमंडल में कई नाम चौंकाने वाले हो सकते हैं, जबकि कई सुनिश्चित बताए जा रहे नए निवर्तमान मंत्री मंत्रिमंडल से बाहर भी हो सकते हैं। जबकि हरीश रावत को हराने वाले डॉ. मोहन बिष्ट, पूर्व सीएम विजय बहुगुणा के पुत्र सौरभ बहुगुणा, विनोद कंडारी, खजान दास जैसे नए नाम भी मंत्रिमंडल में शामिल हो सकते हैं।

गौरतलब है कि इस बार भाजपा की पिछली सरकार में से यशपाल आर्य, डॉ. हरक सिंह रावत के साथ ही स्वामी यतीश्वरानंद के नाम हटने पहले ही तय हैं, क्योंकि यशपाल व हरक भाजपा से बाहर जाकर पहले ही गलत फैसला लेने की वजह से संभावितों में नहीं हैं, वहीं यतीश्वरानंद एकमात्र मंत्री हैं जो चुनाव हारे हैं। उन्हें हरीश रावत की पुत्री अनुपमा रावत ने हराया है। इसलिए धामी 2.0 में कुछ नए मंत्री दिखने तय हैं।

वहीं यह भी है कि पिछले कार्यकाल में धामी की क्षमता को भांप चुकी भाजपा अब धामी को नई पारी में मंत्रियों के चयन से लेकर अधिक फ्रीहैंड देने के मूंड में है। साथ ही अब भाजपा पर पिछली बार की तरह कांग्रेस से आए सतपाल महाराज, सुबोध उनियाल व रेखा आर्य को को मंत्री बनाने का कोई दबाव नहीं है। दूसरी ओर अपने कार्यकाल में उच्च शिक्षा में सेमेस्टर सिस्टम के साथ ही हर महाविद्यालय में राष्ट्रध्वज लगाने व यूनीफॉर्म लागू करने तथा सुपर-50 जैसी अपनी ही घोषणाओं को लागू न कर पाए उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत जैसे कुछ और अपेक्षाओं पर खरे न उतर पाए मंत्रियों के मंत्री बनने पर भी संशय खड़ा हो गया है।

पिछली सरकार में कई मंत्री स्वयं को वरिष्ठ बताकर धामी के मुख्यमंत्रित्व यानी नेतृत्व में काम करने में असहज बता चुके हैं। ऐसे वरिष्ठ मंत्रियों की भी धामी 2.0 से छुट्टी हो सकती है। पिछली भाजपा सरकार में तीन मुख्यमंत्रियों के बदलने के बावजूद मंत्री नहीं बदले गए थे और धामी को भी पिछले मंत्रियों को लेकर ही आगे बढ़ना पड़ा था। लेकिन अब माना जा रहा है कि धामी वैसा ही दोहराने को अब बाध्य नहीं होंगे।

ऐसे में माना जा रहा है कि धामी 2.0 में नए व युवा चेहरों का बाहुल्य हो सकता है। धामी की व्यक्तिगत पसंद के नेताओं को तरजीह मिल सकती है। क्षेत्रीय व जातीय संतुलन साधने एवं अधिक जिलों को प्रतिनिधित्व देने के साथ कुछ महिला विधायकों को भी मंत्री बनाया जा सकता है। यह भी हो सकता है कि अधिकतम 11 सदस्यीय मंत्रिमंडल में बुधवार को कुछ कम मंत्रियों को शामिल किया जाए। अलबत्ता यह संभावना भी जताई जा रही है कि त्रिवेंद्र रावत जैसे कुछ वरिष्ठ नेताओं या मंत्रिमंडल से हटाए जाने वाले कुछ वरिष्ठों की पसंद या राय को भी तरजीह दी जा सकती है।

यह भी बताया जा रहा है कि बुधवार अपराह्न करीब ढाई बजे से राजधानी के परेड ग्राउंड में प्रस्तावित सरकार व मंत्रिमंडल के शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ योगी आदित्यनाथ, शिवराज सिंह चौहान, मनोहर लाल खट्टर, पेमा खांडू, प्रमोद सावंत, भूपेंद्र पटेल, विप्लव कुमार देवी, नेफियू रियो, हिमंता विस्वा शर्मा व एन वीरेंद्र सिंह आदि 12 भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री, उत्तराखंड प्रभारी प्रह्लाद जोशी के साथ ही संत समाज, प्रोफेसर, शिक्षाविद, राज्य आंदोलनकारी, कला व संस्कृति, पद्मश्री-पद्म विभूषण सहित 17 वर्गों के करीब 50 हजार लोग शामिल हो सकते हैं। अलबत्ता आयोजन में 20 हजार से अधिक कुर्सियां लगाई जा रही हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : राज्य के 12वें मुख्यमंत्री की धामी 2.0 सरकार के सामने होगा 12 से अधिक चुनौतियों का पहाड़…!

Imageडॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 22 मार्च 2022। पुष्कर सिंह धामी राज्य के 12वें मुख्यमंत्री के पद पर नामित हो गए हैं। अपने पिछले करीब छह माह के कार्यकाल में तेज पारी की वजह से ‘नाइट वॉचमैन’ के बाद ‘धाकड़ धामी’ कहे गए धामी के लिए अब नया पांच वर्ष का कार्यकाल चुनौतीपूर्ण होने वाला है। अब उन्हें नई ‘धामी-2.0’ सरकार के लिए क्रिकेट की भाषा में अंतिम ‘स्लॉग’ ओवरों में तेज बल्लेबाजी करने की मजबूरी नहीं है, बल्कि उन्हें अब क्रिकेट की ही भाषा में ‘कैरिग बैट’ की यानी पूरे कार्यकाल लगातार अच्छा खेलना है। यदि वह ऐसा कर पाते हैं तो न केवल वह अपना व्यक्तिगत, वरन राज्य में 21 वर्षों में महसूस की जा ही स्थायी नेतृत्व की कमी भी दूर कर सकते हैं।

मुख्यमंत्री धामी के समक्ष चुनौतियों की बात करें तो धामी के लिए अगले छह माह के भीतर खुद विधानसभा का उपचुनाव जीतने व एक वर्ष के भीतर राज्य में होने वाले नगर निकायों के चुनावों को जीतने के साथ ही पहली चुनौती अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर है। राज्य पहले ही 65 हजार करेाड़ रुपये का कर्ज हो चुका है। हालत यह है कि कार्मिकों के वेतन के साथ ही राज्य को कर्ज का ब्याज चुकाने के लिए नया कर्ज लेना पड़ता है। आर्थिक स्थिति को पटरी पर लाने के लिए आय के नए स्रोत तलाशने होंगे।

दूसरी चुनौती रोजगार की है। रोजगार दफ्तरों में इस वक्त 8 लाख से ज्यादा बेरोजगार पंजीकृत हैं। कोरेाना काल में लौटे प्रवासियों को रोजगार देने के लिए सरकार उपनल में भी रजिस्ट्रेशन खोले थे। उपनल में भी करीब एक लाख नाम दर्ज हो चुके हैं। पिछले पांच साल में सरकार 11 हजार के करीब ही नौकरियां दे पाई हैं। उन्होंने पिछले कार्यकाल में 24 हजार नौकरियां देने का वादा भी किया था।

तीसरी चुनौती पलायन की है। राज्य के युवाओं को रोजगार के अभाव में लोगों को शहरों और दूसरे राज्यों को पलायन करना पड़ रहा है। राज्य के एक युवा प्रदीप मेहरा का नोएडा दिल्ली में फौज में भर्ती के लिए नौकरी के बाद रात्रि में 10 किलोमीटर दौड़ने का वीडियो भी वायरल हो रहा है। इस पर लोग सरकार को रोजगार व पलायन के लिए कोस रहे हैं। वर्ष 2011 तक राज्य के 968 गांव खाली हो गए थे। वर्ष 2011 के बाद इनमें 734 गांव और जुड़ चुके हैं।

चौथी चुनौती इसी से जुड़ी पहाड़ों पर उद्योगों को लगाने की है। चूंकि सरकार हर किसी को सरकारी नौकरी नहीं दे सकती है। ऐसे में सरकार पहाड़ों पर छोटे-छोटे उद्योग लगाकर लोगों को वहीं प्राइवेट नौकरी के साथ स्वरोजगार से जोड़ सकती है। इस तरह स्थानीय उत्पादों, शिल्प व प्रतिभाओं को भी बढ़ावा दिया जा सकता है।

पांचवी चुनौती के रूप में धामी के साथ ही पार्टी के घोषणा पत्र में कॉमन सिविल कोड का मुद्दा है। धामी ने हर हाल में कॉमन सिविल कोड लागू करने की बात कही है। राज्य यदि ऐसा कर पाता है तो वह देश में पहला राज्य होगा और यहां यदि इसे लागू करने की प्रक्रिया शांतिपूर्ण रहती है तो आगे पूरे देश में कॉमन सिविल कोड लागू करने की राह खुल सकती है, जो भाजपा का कोर मुद्दा भी है।

धामी की नई 2.0 सरकार के लिए अफसरशाही को साधकर चलते रहना भी एक तरह से चुनौतीपूर्ण होगा। हालांकि धामी इस कसौटी पर अब तक काफी हद तक खरे उतरे हैं। इसी कारण धामी की अधिकांश घोषणाओं के शासनादेश जारी हो पाए। अब उन्हें इसे बरकरार रखना होगा।

उच्च स्तर के बाद निचले स्तर के अधिकारियों-कर्मचारियों तथा भ्रष्टाचार पर लगाम लगाना, उन्हें विपक्ष से अनचाहे मिले ‘खनन प्रिय मुख्यमंत्री’ जैसे नामों-दागों से दूर रहना, बेहतर कानून व्यवस्था की स्थिति बरकरार रखना भी धामी की नई सरकार के लिए चुनौती पूर्ण हो सकता है।

इसके अलावा राज्य सरकार के लिए राज्य के दूरस्थ क्षेत्रों तक सड़कों का जाल बिछाने के बाद वहां गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने की चुनौतियां भी हैं। यदि ऐसा हो पाता है, तभी पहाड़ के दूरस्थ क्षेत्रों में सरकारी अधिकारी-कर्मचारी रुकेंगे और वहां विकास की राह खुलेगी, साथ ही पलायन भी रुकेगा। सरकार को सड़क, परिवहन, पानी, बिजली के साथ ही संचार व इंटरनेट सुविधाओं को भी और बेहतर करना होगा, ऐसा करके राज्य ‘वर्केशन’ के नए कान्सेप्ट का हब भी बन सकता है।

साथ ही राज्य की स्थायी राजधानी के मुद्दे को हल तक पहुंचाना, राज्य में विकास के साथ प्रकृति एवं पर्यावरण से साम्य बनाकर चलना, राज्य में भूकानून लागू करने, लोकायुक्त, राज्य की डेमोग्राफी में हो रहे परिवर्तन पर नियंत्रण लगाना, राज्य में प्रस्तावित नए परिसीमन में पहाड़ को कम जनसंख्या के बावजूद उचित प्रतिनिधित्व बरकरार रखने, घोषणापत्र में वर्णित बीपीएल महिलाओं को साल में तीन मुफ्त सिलेंडर, कामगारों और गरीब महिलाओं को मासिक पेंशन, किसानों को केंद्र के समान सम्मान निधि सहित अन्य वायदों का निभाना व कर्मचारियों की समस्याओं का निदान भी धामी सरकार के लिए चुनौतीपूर्ण हो सकता है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply