Crime

नैनीताल : युवती के खाते से 1.37 लाख रुपए निकलने के मामले में हुआ सनसनीखेज खुलासा, हर कोई रह गया स्तब्ध

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 नवंबर 2022। बुधवार सुबह एक समाचार प्रकाश में आया था कि एक युवती जब अपनी पासबुक अपडेट कराने बैंक गई तो उसके खाते से 1.37 लाख रुपए गायब मिले यह रुपए कई बार में निकाले गए थे। इस पर उसने बैंक प्रबंधन के साथ कोतवाली पुलिस से भी शिकायत की थी। पढ़ें पूर्व समाचार: युवती का भारी पड़ा बैंक खाते को मोबाइल से न जोड़ना, सवा लाख से अधिक उड़ गए और…

अब यह खुलासा हुआ है कि नगर के बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में कार्यरत युवती के बैंक खाते की जब बैंक प्रबंधन व पुलिस ने बुधवार को जांच की तो पता चला कि यह रुपए युवती के घर के पास के ही एक एटीएम से कई बार में एटीएम कार्ड के माध्यम से निकाले गए। इस पर उस एटीएम मशीन के सीसीटीवी की जांच की गई तो जो खुलासा हुआ, उससे युवती भी हक्की-बक्की रह गई। यह भी पढ़ें : अपडेटेड : विराट कोहली पहुंचे घोड़ाखाल, जा सकते हैं कैंचीधाम

पता चला कि उसके भाई ने ही उसके एटीएम कार्ड की मदद से यह रुपए गुपचुप तरीके से निकाले गए थे। इस पर पुलिस उसके भाई को थाने ले आई। पूछताछ में उसने रुपए निकालने की बात भी स्वीकार कर ली। इस पर कोतवाली पुलिस ने उसे इस बारे में समझाया और मामला घर का ही होने के कारण हिदायत देकर छोड़ दिया। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : विश्वविद्यालयों की फर्जी डिग्रियां-मार्कशीट बनाने वाले बड़े गिरोह का पर्दाफाश

Fake marksheet was created in this area of Bareilly police caught - बरेली के  इस इलाके में बन रही थी फर्जी मार्कशीट, पुलिस ने पकड़ानवीन समाचार, रुद्रपुर, 11 नवंबर 2022। ऊधमसिंह नगर की पुलिस ने फर्जी मार्कशीट और डिप्लोमा बनाने वाले बड़े गिरोह का पर्दाफाश किया है। गिरोह के सदस्यों से कई विश्वविद्यालों की खाली डिग्रियां, मार्कशीट, मुहरें एवं अन्य दस्तावेज बरामद हुए हैं। इस मामले में पुलिस ने दो युवकों को गिरफ्तार किया है, जबकि मुख्य सरगना भागने में कामयाब हो गया। पुलिस ने गिरफ्तार आरोपितों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है। साथ ही फरार सरगना की तलाश पुलिस ने शुरू कर दी है। यह भी पढ़ें : विधायक पर भारी पड़ने जा रहा है राज्य स्थापना दिवस पर दिया बयान, मिली चुनौती…

एसएसपी मंजूनाथ टीसी ने शुक्रवार को पत्रकार वार्ता आयोजित कर बताया कि गुरुवार रात एसपी सिटी मनोज कुमार कत्याल की अगुवाई में मेट्रोपोलिस सिटी कॉलोनी में सत्यापन अभियान चलाया गया था। इस दौरान टावर नंबर एच-9 के फ्लैट नंबर दो में चेकिंग के दौरान वहां मौजूद दो युवक भागने का प्रयास करने लगे। इस पर पुलिस कर्मियों ने उन्हें दबोच लिया। पकड़े गए युवकों ने अपना नाम चूनाभट्टा बनबसा चम्पावत निवासी गौरव चंद पुत्र जनक बहादुर और राजीवनगर डोइवाला देहरादून निवासी अजय कुमार पुत्र धर्मेंद्र कुमार बताया। यह भी पढ़ें : ट्रक की टक्कर से नैनीताल निवासी एक स्कूटी सवार की मौत, दूसरा गंभीर

उन्होंने बताया कि वे लोग आवास विकास स्थित कीरत ट्रेडिंग कंपनी के स्वामी नवदीप सिंह भाटिया उर्फ पवन और उसके साथियों के साथ मिलकर विलियम कैरी यूनिवर्सिटी शिलांग मेघालय की फर्जी मार्कशीट, डिप्लोमा, माइग्रेशन, प्रोविजनल, ट्रांसक्रिप्ट सार्टिफिकेट तैयार करते हैं। उनके गिरोह में बनबसा के नितेश चंद और विलियम कैरी यूनिवर्सिटी शिलांग के विजय अग्रवाल और जितेंद्र उर्फ सुखपाल शर्मा भी शामिल हैं। यह भी पढ़ें : दुर्घटना पर कड़ी कार्रवाई : 30 यात्रियों से भरी बस पलटी, पुलिस ने चालक को गिरफ्तार कर उसका लाइसेंस रद्द करने की कार्रवाई भी शुरू की….

एसएसपी मंजूनाथ टीसी ने बताया कि गिरफ्तार युवकों की निशानदेही पर पुलिस ने फ्लैट से तीन लैपटॉप, तीन प्रिंटर, चार स्मार्टफोन, वाई-फाई राउटर और अलग-अलग विश्वविद्यालयों की 17 मुहरें बरामद की हैं। साथ ही विलियम कैरी यूनिवर्सिटी शिलांग मेघालय की पांच हजार ब्लैंक मार्कशीट, एक हजार खाली डिग्री शीट, एक हजार माइग्रेशन सर्टिफिकेट शीट, अलग-अलग वर्ष, अलग-अलग नाम और कोर्स की 164 मार्कशीट, 10 तैयार डिग्री व तीन माइग्रेशन सर्टिफिकेट के साथ सनराइज विवि रामगढ़ अलवर राजस्थान, वाईबीएन यूनिवर्सिटी रांची, साईंनाथ यूनिवर्सिटी रांची झारखंड, वीबीएस पूर्वांचल यूनिवर्सिटी जौनपुर की चार अन्य मार्कशीट और डिप्लोमा दस्तावेज भी बरामद किए गए हैं। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी में कबूतरबाजी के नाम पर लाखों की धोखाधड़ी, बैंक मैनेजर सहित 8 लोगों पर मुकदमा दर्ज…

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 9 नवंबर 2022। शहर के मुखानी थाना क्षेत्र की एक टूर एंड ट्रैवल्स एजेंसी पर विदेश भेजने के नाम पर लाखों रुपये हड़पने का आरोप लगा है। इस आरोप में डीजीपी के आदेश पर मुखानी थाने में आठ लोगों पर धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज हुआ है। आरोपितों में इंडियन ओवरसीज बैंक का मैनेजर भी शामिल है। यह भी पढ़ें : भूकंप के झटके के बीच खुद को बचाने के लिए छत से कूदी युवती…

उत्तर प्रदेश के जिला बिजनौर निवासी शाहनवाज ने पुलिस को बताया कि दो महिलाओं सहित छह लोगों ने पद्मावती टॉवर पीली कोठी के पास एक कांप्लेक्स में किराए पर ‘स्काई ट्रैवलर्स एंड टूर’ के नाम से आफिस खोला है। हल्द्वानी के इंडियन ओवरसीज बैंक बैंक के निधि शर्मा के खाते में बैंक के मैनेजर व स्टाफ के लोगों ने जालसाजी कर नियम विरुद्ध स्काई ट्रैवलर्स एंड टूर का लोगो लगाया था। यह भी पढ़ें : उत्तराखंड हाईकोर्ट के नैनीताल से संभावित स्थानांतरण के विरोध में निकला जुलूस, शामिल हुए विभिन्न संगठनों के लोग

इसके धोखे मे पीड़ित सहित 13 अन्य लोगों ने इस कंपनी पर भरोसा कर विदेश जाने की आशा में 10.66 रुपए निधि शर्मा के खाते में जमा किए थे। पीड़ित का आरोप है कि आरोपितों ने रुपए जमा करने के बाद पहाड़गंज के एक होटल में वीजा की हार्ड कॉपी लेने के लिए बुलाया था, लेकिन वहां कंपनी का कोई कर्मचारी नहीं आया। अब इन लोगों के मोबाइल नंबर बंद जा रहे हैं। उनका कहना है कि सभी आरोपित लोगों के करोड़ों रुपये लेकर भाग गए हैं। यह भी पढ़ें : पूर्णिमा-चंद्रग्रहण की रात्रि से सुबह तक 5 झटकों से डोली भारत सहित 3 देशों की धरती, 6 की मौत, उत्तराखंड में भी झटके

थानाध्यक्ष रमेश बोहरा ने बताया कि तहरीर के आधार पर हल्द्वानी के इंडियन ओवरसीज बैंक के मैनेजर मो. कलीम, रियासत उर्फ मकसूद हसन, इब्राहिम खालिद, निधि शर्मा, अंकित शर्मा, किरन खान व मकान मालिक पद्मावती भंडारी व बहादुर सिंह भंडारी के विरुद्ध धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : इंश्योरेंस कंपनी की किश्तों के नाम से 1.98 लाख रुपए अपने खाते में डलवाकर की धोखाधड़ी, जमानत अर्जी खारिज

-उपभोक्ता की पॉलिसी से जानकारी प्राप्त कर किया फर्जीवाड़ा
नवीन समाचार, नैनीताल, 2 नवंबर 2022। जनपद के प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश अजय चौधरी की अदालत ने ऑनलाईन ठगी के आरोपी रवि कुमार पुत्र सुरेन्द्र निवासी हर्ष विहार गली नंबर 29 दिल्ली का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया है। यह भी पढ़ें : नैनीताल : रिश्ते के भाई ने किया दुष्कर्म, बच्चा हुआ तो अस्पताल में ही छोड़कर भागा…

आरोपित के जमानत प्रार्थना पत्र का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने तर्क रखा कि आरोपित के द्वारा मैक्स लाईफ इंश्योरेंस कंपनी के एजेंट के रूप में धोखाधडी कर पॉलिसी के नाम पर 1,98,368 रुपए छलकपट कर अपने खाते में डालकर हड़प लिये। यह भी पढ़ें : सोशल मीडिया पर दोस्ती, प्यार के बाद शादी, सुहागरात पर खुला ऐसा राज कि…

उसके विरुद्ध उषा सिंह पत्नी सतनाम सिंह निवासी ग्राम कल्लनपुर टांडा पीरूमदारा रामनगर ने रिपोर्ट दर्ज करायी कि उसने इंश्योरेंस को सभी किस्ते जमा की थीं, इसके बावजूद उसे कंपनी की ओर से बताया गया कि उसकी किश्तें जमा नहीं हुईं। पता चला कि एक्सिस बैंक का जो खाता मैक्स लाइफ इन्श्योरेन्स का बताया गया था वह किसी मनीष कुमार के नाम से फैजाबाद का था, जिसमें उससे धोखाधड़ी कर किश्तें जमा करा दी गईं। यह भी पढ़ें : हल्द्वानी में यूट्यूबर सौरभ जोशी सबको बताकर गए लांग ड्राइव पर, घर में लाखों रुपए की नगदी-ज्वेलरी पर हाथ साफ कर गया चोर…

आरोपित को बैंक खाते की डिटेल के माध्यम से 11 सितबर 2022 को बैंक कॉलोनी तिराहा जेल रोड दिल्ली से गिरफ्तार किया गया। उसने जुर्म इकबाल करते हुए बताया। कि उसने अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर रिपोर्टकर्ता की इंश्योरेंस कम्पनी के पॉलिसी का नम्बर पता फर फर्जी फोन कर रिपोटकर्ता को गुमराह कर अपने खाते में 1.98,368 रुपए जमा करवाये और उन्हें अपने खाते डलवाकर निकाल लिये। इस आधार पर न्यायालय ने उसे जमानत नहीं दी। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पूर्व मुख्यमंत्री के सलाहकार की पत्नी की कंपनी में 200 करोड़ रुपए किए गए काले से सफेद !

-सीबीसीआईडी जांच के बाद अब जांच आर्थिक अपराध शाखा को सोंपी गई
Investigation Of Economic Fraud In Pithauragarh - आर्थिक अपराध शाखा करेगी  पांच सौ करोड़ की ठगी के मामले की जांच - Nainital Newsनवीन समाचार, देहरादून, 1 नवंबर 2022। देहरादून की सोशल म्यूचुअल बेनिफिट निधि लिमिटेड नाम की एक कंपनी की करीब 200 करोड़ रुपये की मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में जांच के आदेश दिए गए हैं। इस कंपनी में प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के तत्कालीन सलाहकार केएस पंवार की पत्नी वर्ष 2017 से 2020 तक डायरेक्टर थीं। वर्तमान में भी उनके रिश्तेदार ही इसमें डायरेक्टर बताए जा रहे हैं। यह भी पढ़ें : नैनीताल : पैराग्लाइडिंग के दौरान साल का तीसरा हादसा, गई एक सैलानी की जान

आरोप है कि इस अवधि में कंपनी में फर्जी तरीके से हजारों लोगों के नाम से आरडी-एफडी में रुपया जमा कर काले धन को सफेद यानी वैध किया गया। शासन के निर्देश पर इस कंपनी की गतिविधियों की जांच आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) को सौंप दी गई है। यह भी पढ़ें : सुबह-सुबह शराब के नशे में धुत मिले डॉक्टर साहब, वीडियो वायरल हुआ तो नौकरी से बर्खास्त

प्राप्त जानकारी के अनुसार खानपुर के विधायक उमेश कुमार ने शासन से शिकायत की थी कि सोशल म्यूचुअल बेनिफिट निधि लिमिटेड नाम की कंपनी में वर्ष 2017 से 2020 तक 200 करोड़ रुपये से भी अधिक की धनराशि एफडी के रूप में जमा की गई। अलग-अलग नामों से खुले इन खातों की पड़ताल की गई तो पता चला कि इनमें से कई लोग मर चुके हैं। वहीं, कुछ लोगों को इस बात की जानकारी ही नहीं है कि उनके नाम से एफडी चल रही है। यह भी पढ़ें : पूरे दिन सुनवाई के बाद HC से हल्द्वानी की रेलवे भूमि के अतिक्रमण पर आई बड़ी खबर, अतिक्रमणकारियों का संशोधन प्रार्थना पत्र निरस्त

विधायक का कहना है कि जब इस मामले को उठाया गया तो पूर्व मुख्यमंत्री के सलाहकार ने अपनी पत्नी का इस्तीफा दिलवा दिया। पिछले दिनों शासन ने मामले की जांच सीबीसीआईडी से कराने के निर्देश दिए थे। जबकि अब पुलिस मुख्यालय ने कंपनी की गतिविधियों की जांच आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) को सौंप दी है। यह भी पढ़ें : नैनीताल: 2 पिकअप में ठूंस कर ले जाये जा रहे 11 गौवंशीय पशु मुक्त कराए, तीन पशु तश्कर गिरफ्तार

इस संबंध में एडीजी कानून व्यवस्था वी मुरुगेशन की ओर से पत्र जारी कर जांच जल्द पूरी कर रिपोर्ट मांगी है। शुरुआती पड़ताल में पता चला है कि इस कंपनी में करीब 40 से 50 हजार लोगों के नाम पर आरडी और एफडी के खाते खोले गए हैं। इन खातों में निवेश दिखाकर बहुत से लोगों ने काले धन को वैध किया। आगे आर्थिक अपराध शाखा की जांच में ही सारी स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नौकरी दिलाने के नाम पर 1 करोड़ की ठगी, नेता है आरोपित

नवीन समाचार, खटीमा, 27 अक्टूबर 2022। बेरोजगारों से सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर 1 करोड़ रूपये की ठगी करने का मामला सामने आया है। आरोप है कि आरोपित भाजपा का पदाधिकारी रह चुका है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। जांच में ठगी के अन्य आरोपितों के नाम भी सामने आने की संभावना है। यह भी पढ़ें : शादी के बाद भी मिलते रहे प्रेमी-प्रेमिका, आज मिले तो रंगे हाथों पकड़े गए और हो गया तमाशा…

उल्लेखनीय है कि ठगी के शिकार हुए मनोज रावत उर्फ बॉबी ने गत दिनों सोशल मीडिया में वीडियो अपलोड कर भाजपा के पूर्व पदाधिकारी इंद्रजीत साहनी उर्फ अजय साहनी निवासी नौसर खटीमा पर ठगी करने का आरोप लगाया था। इस मामले में आरोपित और पीड़ित की एक ऑडियो क्लिप भी वायरल हुई है। इसमें आरोपित गूलरभोज के किसी व्यक्ति को रकम देने की बात करता सुनाई दे रहा था। यह भी पढ़ें : पुलिस ने ब्यूटी पार्लर में सेक्स रैकेट चलने की सूचना पर मारा छापा, माजरा निकला कुछ और फिर हंगामे के बाद हुआ मामले का सुखद पटाक्षेप…

करीब एक करोड़ की ठगी के इस मामले में कई दिनों से फरार चल रहे आरोपित ने भी एक वीडियो बनाकर सोशल मीडिया में पोस्ट किया था। इधर, मनोज रावत ने पुलिस को दी तहरीर में आरोप लगाया था कि उन्होंने आरोपित अजय साहनी को अपने पुत्र दीपक व शुभम की नौकरी लगाने के लिए 30 लाख रुपये, भतीजे, भांजी त तीन अन्य रिश्तेदारों की संविदा पर नौकरी के लिए पांच लाख रुपये दिए थे। यह भी पढ़ें : बच्चा होने पर नाबालिग निकली विवाहिता, शादी के डेढ़ साल बाद 19 वर्षीय पति गिरफ्तार…

खटीमा के कोतवाल नरेश चौहान ने बताया कि तहरीर के आधार पर आरोपित अजय साहनी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 504 व 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। शिकायतकर्ता द्वारा जो साक्ष्य प्रस्तुत किए गए हैं, उनकी जांच की जा रही है। जांच में यदि और लोगों के नाम भी सामने आते हैं तो उनके खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। आरोपी की तलाश की जा रही है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बेरोजगार युवाओं को नौकरी दिलाने के नाम पर लगाया 44 लाख का चूना, दो गिरफ्तार…

रेलवे में नौकरी के नाम पर जानिए कैसे कर डाली 44 लाख की ठगी, दो गिरफ्तारनवीन समाचार, देहरादून, 19 सितंबर 2022। देहरादून पुलिस ने छह बेरोजगार युवाओं से रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर 44 लाख रुपयों की ठगी करने के आरोप में दो युवकों को गिरफ्तार किया है।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार इसी वर्ष 5 जून को सोनू पुत्र हनुमंत सिंह निवासी मिशन हॉस्पिटल रोड सतपुली पौड़ी गढ़वाल ने कोतवाली ऋषिकेश में लिखित तहरीर देकर कहा था कि संदीप कुमार नाम के आरोपित ने अपने दोस्त के साथ मिलकर ऋषिकेश में संपर्क कर सोनू व उसके दोस्त मोहित से रेलवे में नौकरी लगवाने के नाम पर कुल 14 लाख की धोखाधड़ी की। इस पर पर कोतवाली ऋषिकेश पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 420 के तहत संदीप कुमार के विरुद्ध अभियोग पंजीकृत किया।

इसके अलावा एक अन्य मामले में गत 15 अगस्त को त्रिलोकी दास आदि के द्वारा भी कोतवाली ऋषिकेश में लिखित तहरीर देकर कहा कि संदीप कुमार एवं रविंद्र तथा उनके अन्य दो दोस्तों के द्वारा 6 युवकों से कुल 30 लाख रूपए की धोखाधड़ी की गई।

दोनों मामलों में दून के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में ऋषिकेश पुलिस ने संदीप कुमार पुत्र हर स्वरूप सिंह निवासी लोटस गंगा कॉलोनी के समीप थाना कोतवाली रानीपुर रोशनाबाद हरिद्वार मूल निवासी मोहल्ला मिसकियाँ थाना स्योहारा जिला बिजनौर उत्तर प्रदेश एवं रविंद्र सिंह पुत्र महिपाल सिंह निवासी लोटस गंगा कॉलोनी रोशनाबाद हरिद्वार मूलनिवासी रतनपुर, थाना धामपुर बिजनौर उत्तर प्रदेश को हरिद्वार से गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस उनके अन्य साथियों की गिरफ्तारी के लिए भी प्रयासरत बताई गई है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी के चिकित्सक को फार्मा कंपनी ने लगाया साढ़े छह लाख का चूना

Preparation to give DA to employees in Uttarakhand know what percentage of  dearness allowance will be given - उत्तराखंड में कर्मचारियों को DA देने की  तैयारी, जानिए महंगाई भत्ते का कितना ...नवीन समाचार, हल्द्वानी, 13 सितंबर 2022। कुसुमखेड़ा निवासी एक चिकित्सक को दवाइयां बेचने के फेर में एक फार्मा प्राइवेट कंपनी ने साढ़े छह लाख रुपये का चूना लगा दिया है। पुलिस ने कंपनी के सीइओ और सुपरवाइजर पर धोखाधड़ी और गाली-गलौज की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है।

चिकित्सक डा. अंशुमन जोशी ने पुलिस को बताया कि कुछ समय पहले उन्होंने फेसबुक पर सेलिब्रिटी फार्मा प्राइवेट लिमिटेड नेहरू विहार मुखर्जी नगर दिल्ली का विज्ञापन देखा था। विज्ञापन में लिखा था कि कम्पनी की दवाइयां बेचने की फ्रेंचाइजी देंगे। इस पर उन्होंने कंपनी के सीइओ कमल आनंद और सुपरवाइजर अमित आनंद से संपर्क किया। दोनों ने बताया कि जमानत के तौर पर पांच लाख और मेंटनेंस कास्ट के डेढ़ लाख रुपये देने होंगे। कंपनी की शर्त पर उन्होंने छह किस्तों में साढ़े छह लाख रुपये की धनराशि कंपनी के खाते में डाल दी।

इसके बाद कंपनी से उनका एग्रीमेंट हुआ। कुछ समय तक दवा भेजी भी गई। जिसे उन्होंने बेचा भी, लेकिन कंपनी ने उन्हें उनका लाभांश नहीं दिया। कोरोना का बहाना बनाकर वह टालमटोल करते रहे। जान से मारने की धमकी भी दी। मुखानी थानाध्यक्ष रमेश बोरा ने बताया कि तहरीर के आधार पर कंपनी के सीइओ व सुपरवाइजर पर धोखाधाड़ी, गालीगलौज व धमकी की धारा में मुकदमा दर्ज कर लिया है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में बड़ा मामला: खाताधारकों को फर्जी एफडी थमाकर और फर्जी तरीके से रुपए निकालकर बैंक के कैशियर ने किया करीब 2 करोड़ रुपयों का गबन

करोड़ों रुपये डकार गया यूनियन बैंक! FD-सेविंग खातों की जानकारी को उमड़ी भीड़; कैशियर और मैनेजर निलंबितनवीन समाचार, नई टिहरी, 3 सितंबर 2022। उत्तराखंड के टिहरी जिले के मदन नेगी स्थित यूनियन बैंक की शाखा में लगभग दो करोड़ से अधिक धनराशि के गबन का मामला सामने आया है। इसके बाद शनिवार को बैंक में अपने खातों की जानकारी लेने के लिए उपभोक्ताओं की भीड़ उमड़ पड़ी। लोग अपनी एफडी व बचत खातों के कागजात लेकर उनकी स्थिति जानने के लिए बैंक पहुंचे।

बैंक के रीजनल यानी क्षेत्रीय स्तर के अधिकारियों ने शनिवार को बैंक में हुये घपले की जांच जारी रखी। यूनियन बैंक के मुख्य प्रबंधक संजय उपाध्याय ने बताया कि जांच की जा रही है। दोषियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई को जोनल अधिकारियों से स्वीकृति मांगी गई है। जल्द ही मामले में एफआईआर दर्ज की जायेगी।

उल्लेखनीय है कि मदन नेगी नाम के स्थान पर यूनियन बैंक की क्षेत्र में एकमात्र शाखा है। बैक शाखा में गबन की जानकारी मिलने के बाद क्षेत्र के ग्रामीण व बाहर रहने वाले दर्जनों खाताधारक बैंक पहुंचे और वहां से मायूस होकर बाहर निकले, जब उन्हें पता चला कि उनकी भारी-भरकम धनराशि का गबन कर दिया गया है। भले ही बैंक अधिकारियों से सभी की धनराशि लौटाने का भरोसा दिलाया। कहा कि 15 दिनों के भीतर स्थिति ठीक कर ली जायेगी।

इस दौरान एक खाताधारक दौलत सिंह ने बताया कि इस बैंक शाखा में उनके पिता धूम सिंह के नाम से 18 लाख की एफडी बनी है। इस पर फर्जी तरीके से 12 लाख का लोन लिया गया बताया गया है। जो उनके पिता ने नहीं लिया है। उन्होंने बताया कि उनके दादा पदम सिंह ने एसबीआई टिहरी से तीन लाख की धनराशि लाकर यूनियन बैंक मदन नेगी में जमा की थी, लेकिन पैसा लेकर फर्जी एफडी के दस्तावेज थमा दिये गये। यानी उनके साथ 12 और 3 कुल 15 लाख व उसके ब्याज की धोखाधड़ी हुई है।

इसी तरह कुशाल सिंह रावत ने बताया कि उन्हें तीन लाख रुपये की एफडी के फर्जी कागज दिये गये हैं। वहीं उमा देवी की पांच लाख की एफडी, गणेश चमोली की 15 लाख की एफडी, आरती चमोली की 3 लाख की एफडी का गबन किया गया है। अन्य भी अनेक लोग गबन बता रहे थे।

बताया गया है कि यूनियन बैंक मदन नेगी में करोड़ों के गबन का आरोपी कैशियर सोमेश डोभाल लंबे समय से इस बैंक में कार्यरत था। लोगों के बीच उसने अपनी अच्छी छवि बना रखी थी। स्थानीय लोग जब अपने खातों की इंट्री करवाने या जानकारी लेने आते तो वह उन्हें नेटवर्क की प्राब्लम या फिर इंट्री मशीन खराब होने की बात कह कर टाल देता था। लगभग बीते तीन साल से वह तेजी से लोगों का पैसा गबन कर रहा था।

यूनियन बैंक के मुख्य प्रबंधक संजय उपाध्याय ने बताया कि लगभग 10 दिन पहले एक उपभोक्ता ने रीजनल कार्यालय में शिकायत की थी कि उनका आरटीजीएस आठ दिन बाद भी नहीं किया गया है। इस पर जांच शुरू की गई। चंबा के शाखा प्रबंधक ने फौरी जांच के बाद बताया कि कैश में गड़बड़ी नजर आ रही है। इस पर जांच शुरू की गई तो कैश में लगभग 45 लाख और एटीएम के कैश में 3 लाख की कमी पाई गई। इसके अलावा धीरे-धीरे एफडी व सेविंग खातों में गड़बड़ी सामने आने लगी।

फर्जी तरीके से रुपए निकालने और फर्जी एफडी बनाकर लोगों की भारी भरकम राशि का गबन कैशियर सोमेश डोभाल ने किया है। शाखा प्रबंधक राहुल शर्मा की लापरवाही भी सामने आई है। इस पर दोनों को निलंबित कर दिया गया है। इसके बाद से कैशियर सोमेश डोभाल गायब चल रहा है। जबकि शाखा प्रबंधक राहुल शर्मा को रीजनल कार्यालय तलब किया गया है। उन्होंने बताया कि कैशियर ने यह पैसा शायद जुवे में खर्च किया है। अब तक लगभग दो करोड़ का गबन सामने आया है। गबन की राशि आगे बढ़ने की संभावना है। ग्रामीणों ने बैंक में आकर पैसा जल्द लौटाने की मांग बैंक अधिकारियों से की है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : नोट क्या कमाने, सीधे छाप ही लो… तीन दोस्तों ने अपनाई यह ट्रिक…

नवीन समाचार, ऋषिकेश, 31 अगस्त 2022। लोग रुपए कमाने के लिए तरह-तरह के वैध-अवैध कार्य करते हैं, जबकि कुछ ऐसे हैं जो सीधे ही रुपए ही छापने लगते हैं। जी हां, उत्तराखंड के ऋषिकेश में पुलिस ने तीन युवकों को नकली नोट छापने और उन्हें इस्तेमाल करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। उनके पास से नकली नोट बनाने के लिए लैपटाप, स्कैनर, प्रिंटर, आदि सामान भी बरामद किया गया है।

पकड़े गए युवकों के पहचान नीरज सिंह निवासी जिला सहारनपुर, रोशन जोशी निवासी थाना थराली जनपद चमोली वर्तमान निवासी देहरादून और सुनील निवासी जिला सहारनपुर के रूप में हुई है। यह तीनों लैपटॉप, प्रिंटर आदि की मदद से नकली नोट बनाकर बाजार में चला रहे थे। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक रवि कुमार सैनी ने जानकारी दी और बताया कि बीते रोज चंद्र मोहन पांडे निवासी गुमानीवाला ऋषिकेश ने तहरीर देकर बताया था कि श्यामपुर बाईपास गुमानीवाला शिव मंदिर के पास उनकी परचून की दुकान पर एक युवक सामान लेने के बदले दो हजार का नकली नोट देकर चला गया।

तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया। मामले की जांच के लिए बनाई गई पुलिस की टीम ने नीरज को पकड़ लिया। पूछताछ में पता चला कि वह और सुनील रोशन के घर पर स्केनर, लैपटाप व प्रिंटर की मदद से नकली नोट छापते हैं और अलग-अलग क्षेत्रों में जाकर नकली नोट देकर सामान खरीदते हैं। पुलिस ने पूछताछ के बाद नीरज के साथी सुनील व रोशन जोशी को भी गिरफ्तार किया। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड के एक मंत्री की आवाज में मांगे गए 40 हजार रुपए

नवीन समाचार, ऋषिकेश, 24 अगस्त 2022। उत्तराखंड के वित्त एवं शहरी विकास मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल के नाम का न केवल दुरुपयोग कर बल्कि उनकी जैसी ही आवाज निकालकर पैसे मांगे जाने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। इस मामले में मंत्री के जनसंपर्क अधिकारी ने ऋषिकेश कोतवाली में तहरीर देकर मामले की जांच किए जाने की मांग की है।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार उत्तराखंड के वित्त एवं शहरी विकास मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल के जनसंपर्क अधिकारी ताजेंद्र नेगी ने कोतवाली में दी गई तहरीर में कहा कि बुधवार की सुबह आठ बजे उन्हें मंत्री अग्रवाल की आवाज में 40 हजार रुपए मांगे गए। व्हाट्सएप नंबर पर भी लगातार संदेश भेज कर पैसे की मांग करता रहा।

बाद में पता चला कि मंत्री की आवाज में फोन करने वाला 14 बीघा निवासी संदीप परमार था। पूछने पर उसने अपना नाम जसराज भी बताया। पुलिस ने तहरीर के आधार पर जांच प्रारंभ कर दी है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : उफ ऐसे शातिर, ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी को लगाया 4 लगाया चूना…

ऑनलाइन खरीदारी करते समय दिखाएं समझदारी, ऐसे बचाएं पैसे - do know you can  save maximum on online shoppingनवीन समाचार, हरिद्वार, 4 अगस्त 2022। अब तक आपने ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियों के द्वारा लोगों से गलत सामान भेजकर धोखाधड़ी किए जाने के समाचार सुने होंगे, लेकिन इस नए मामले में तीन युवकों ने ऑनलाइन सामान की डिलीवरी करने वाली कंपनी को चार लाख का चूना लगा दिया। तीनों युवक कंपनी से ऑनलाइन शॉपिंग करते थे और असली सामान के बदले नकली सामान को कंपनी को बहाना बनाकर वापस कर देते थे। उनके खिलाफ लक्सर कोतवाली पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है।

रुड़की सिविल लाइंस कोतवाली क्षेत्र निवासी अरुण गोस्वामी ने लक्सर कोतवाली पुलिस को तहरीर देकर बताया कि वह आइडेंटिटी प्लस डिलीवरी सर्विस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में एरिया मैनेजर है। लक्सर के अकोढ़ा खुर्द गांव निवासी शरण दास नाम का युवक उनकी कंपनी में डिलीवरी ब्वॉय का काम करता है। शरण दास अपने अन्य दो दोस्त अभिषेक और राहुल के साथ मिलकर ऑनलाइन सामान मंगाते थे और फिर डिलीवरी होने के बाद सामान को वापस कर देते थे। सामान वापसी में ये लोग असली सामान अपने पास रख लेते थे, और उसकी जगह नकली सामान वापस कर देते थे। इस तरह इन लोगों एप्पल कंपनी के मोबाइल सहित कई अन्य कीमती सामान मंगाए और फिर कुछ दिनों बाद नकली सामान के रूप में उनको वापस कर दिया। लिहाजा मैनेजर ने तीनों लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग मांग की।

इस पर लक्सर कोतवाली पुलिस ने तीनों आरोपितों के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। लक्सर के कोतवाली प्रभारी यशपाल सिंह बिष्ट ने बताया कि तीनों आरोपितों ने मिलकर कंपनी को 4 लाख रुपये का चूना लगाने का आरोप है। मामले की जांच की जा रही है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी के वॉक वे मॉल के सिनेमा हॉल के मामले में लाखों की धोखाधड़ी, आरोपितों पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार

WALKWAY MALL (Haldwani) - 2022 What to Know Before You Goडॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 18 जुलाई 2022। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेन्द्र जोशी की अदालत नें छल कपट कर 67 लाख रुपए हड़पने के एक आरोपित सुनील गोयल पुत्र राम सिंह निवासी स्टेट बैंक बिहार व शशि  गोयल पुत्र निरंजन दास निवासी हिसार हरियाणा का अग्रिम जमानत प्रार्थना पत्र मामले की गंभीरता को देखते हुए खारिज कर दिया है। इस प्रकार आरोपितों पर गिरफ्तारी की तलवार लटक गई है।

जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने आरोपितों की अग्रिम जमानत का विरोध करते हुए तर्क रखा कि 23 अक्टूबर 2018 को थाना काठगोदाम में रिपोर्टकर्ता नीरज शारदा निवासी वॉक वे मॉल, टेड़ी पुलिया काठगोदाम ने रिपोर्ट दर्ज करायी कि उन्होंने तथा सन सिटी सिनेमा मॉल सिनेमा के निदेशक सुनील गोयल व शशि  गोयल आदि ने 2014 में अपनी कम्पनी के साथ व्यापार करने पर भारी मुनाफा कमाने के लिए लुभाया। लेकिन उनके इरादे उनके प्रस्तावों की शुरुआत से बेईमान थे।

प्रारम्भ में उन्होंने सीधे बैंकों व विक्रेता के नाम पर बैंक हस्तान्तरण व आरटीजीएस के माध्यम से 61 लाख रुपए हस्तांतरित कराये, करीब 30 लाख रुपए कई कार्यों पर खर्च कराये, लेकिन अपने हिस्से के 50 प्रतिशत में से केवल 15 लाख रुपए ही लगाए। इसके अलावा अल्पाइन इंटरप्राइजेज दिल्ली को 15 लाख का भुगतान करवाया और उसके एवज में प्रोजेक्टर आदि के झूठे बिल देकर गलत तरीके से नुकसान पहुंचाकर खुद को लाभ पहुंचाया। इस प्रकार सिनेमा हॉल के हर खर्च उनसे करवाया, उल्टे उन पर ही सन सिटी सिनेमा प्रोजेक्ट के 15 लाख रुपए हड़पने का आरोप लगाया।

जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने जमानत प्रार्थना पत्र का यह कहते हुए विरोध किया कि आरोपितों ने विवेचना में भी सहयोग नहीं किया। इस कारण न्यायालय से उनके खिलाफ नोटिस भी जारी किये गये हैं। इस आधार पर न्यायालय ने आरेापितों का अग्रिम जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : भाजपा विधायक के भाई से पति-पत्नी ने की करीब ढाई करोड़ रुपए की ठगी, पुलिस ने पति को पकड़ा, पत्नी फरार…

नवीन समाचार, नैनीताल, 27 जून 2022। भाजपा विधायक त्रिलोक सिंह चीमा के भाई गुरुदयाल सिंह चीमा से 8 वर्ष पूर्व करीब 2.5 करोड़ रुपये की ठगी हुई थी। इस मामले में पिछले 5 वर्षों से फरार चल रहे मुख्य आरोपित को आईटीआई पुलिस ने मुंबई से गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित की पत्नी पुलिस को चकमा देकर फरार होने में कामयाब हो गई।

उल्लेखनीय कि 16 नवंबर 2017 को तत्कालीन विधायक हरभजन सिंह चीमा के पुत्र एवं वर्तमान भाजपा विधायक त्रिलोक सिंह चीमा के भाई- चीमा पेपर मिल के मैनेजिंग निदेशक गुरुदयाल सिंह चीमा ने आईटीआई थाने में तहरीर देकर बताया था कि वर्ष 2014 में लोखंडवाला, अंधेरी, मुम्बई निवासी सुखप्रीत सिंह उर्फ विक्की और उसकी पत्नी कीर्ति उर्फ रूपा ने पेपर मिल मॉडीफाई करने का झांसा देकर उनसे 2.48 करोड़ रुपये ठग लिए। पहली बार इस दंपत्ति ने 1.34 करोड़ रुपये की राशि 45 दिनों के भीतर सौ करोड़ की विदेशी मुद्रा किसी विंटर कैपिटल फंड अथवा फर्टिन इक्विटी इन्वेस्टर से दिलाने का भरोसा दिलाया। बाद में आरोपियों 1.14 करोड़ रुपये बतौर कर्ज ले लिए।

चीमा ने बताया कि यह राशि इस दंपत्ति को 31 मार्च 2014 तक लौटानी थी। आरोपितों ने कुल 2.48 करोड़ की रकम लेने के बाद न तो 100 करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा का प्रबंध कराया और न ही बतौर उधार लिए गए 1.34 करोड़ रुपये ही लौटाए। यह दंपत्ति मूल रूप से जालंधर (पंजाब) का रहने वाला है और कई वर्षों से मुंबई में रह रहा है।

गुरुदयाल सिंह की तहरीर पर पुलिस ने आरोपित पति-पत्नी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज कर लिया था। न्यायालय ने दोनों आरोपितों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था। आईटीआई थाने के एसआई महेश चंद्र ने पुलिस टीम के साथ आरोपितों के मुंबई स्थित आवास पर दबिश देकर सुखप्रीत सिंह उर्फ विक्की को धर दबोचा जबकि उसकी पत्नी रूपा वहां से फरार होने में कामयाब हो गई। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल : बिना कार लिए धोखाधड़ी से कार लोन लेने वाले दो आरोपित ऊधमसिंह नगर से गिरफ्तार

-दोनों के खिलाफ न्यायालय से जारी हुआ था गैर जमानती वारंट
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 20 जून 2022। मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने सोमवार को धोखाधड़ी सहित अन्य आरोपों के वांछित व लंबे समय से फरार चल रहे दो आरोपितों को ऊधमसिंह नगर के किच्छा से गिरफ्तार किया। इसके बाद उन्हें न्यायालय में पेश किया गया और न्यायालय के आदेशों में जेल भेज दिया गया।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार आरोपितों ने पंजाब नेशनल बैंक की लालकुआं शाखा से आकांक्षा ऑटोमोबाइल से कार खरीदने के नाम पर ऋण लिया था, लेकिन वास्तव में कार खरीदी ही नहीं गई, बल्कि किसी पुरानी कार की फर्जी तरीके से आरसी बैंक में लगाई गई।

इस मामले में 2016 में पीएनबी के तत्कालीन शाखा प्रबंधन की शिकायत पर मल्लीताल कोतवाली में आरोपितों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 468 व 471 के तहत अभियोग पंजीकृत हुआ और 2017 में न्यायालय ने आवास विकास किच्छा ऊधमसिंह नगर निवासी उपेश भलेतिया पुत्र स्वर्गीय मंगतराम निवासी भाटिया कॉलोनी तथा प्रशांत गुप्ता पुत्र अशोक कुमार गुप्ता निवासी मकान नंबर ए-38 के विरुद्ध एनबीडब्ल्यू यानी गैरजमानती वारंट जारी किया था।

इस पर सोमवार को दोनों आरोपितों को मल्लीताल कोतवाली के उप निरीक्षक हरीश सिंह ने आरक्षी गणेश के साथ मिलकर किच्छा के उनके पते से उन्हें गिरफ्तार कर लिया। बताया गया है कि इस मामले में पीएनबी लालकुआं के तत्कालीन शाखा प्रबधन शशिभूषण सोनकर सहित करीब आधा दर्जन अन्य आरोपित भी हैं। सोनकर को हाईकोर्ट से गिरफ्तारी पर स्थगनादेश मिला हुआ है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : कुछ ही समय में पति व देवर को खोने वाली दुखियारी महिला से तांत्रिक ने ठगे 40 लाख रुपए…

lady doctor complaint against tantrik in ghaziabad police | लेडी डाॅक्टर ने  जब लिया तांत्रिक का सहारा तो हो गया यह कांड | Patrika Newsनवीन समाचार, हरिद्वार, 16 जून 2022। शहर के शेखपुरी मोहल्ला निवासी एक विधवा को एक तांत्रिक द्वारा झांसा देकर 40 लाख रुपये ठगने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। महिला के परिवार के सदस्यों को जब इसका पता चला तो उन्होंने तांत्रिक के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी। पुलिस मामले में मुकदमा दर्ज करने की तैयारी कर रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गंगनहर कोतवाली क्षेत्र के शेखपुरी मोहल्ला निवासी एक महिला के पति सेना में सूबेदार के पद से सेवानिवृत्त हुए थे। पति को सेवानिवृत्ति के बाद काफी रकम मिली थी। पिछले साल महिला के पति की मौत हो गई। इसके बाद उसके पति के भाई की भी मौत हो गई। परिवार में दो मौत होने से महिला डर गई। उसे इन दोनों मौतों के बाद लगा कि परिवार पर किसी बुरी आत्मा का साया है। इसी दौरान महिला ने टीवी पर बंगाली तांत्रिक का विज्ञापन देखा। विज्ञापन में दिए गए मोबाइल नंबर पर महिला ने संपर्क साधा।

बंगाली तांत्रिक ने महिला को बताया कि उनके परिवार पर किसी आत्मा का साया है। इसे दूर करने के लिए तांत्रिक ने महिला को झांसा में लेकर पूजा करने की बात कही, और एक साल के अंदर खाते में करीब 40 लाख रुपये जमा करा लिए। जब महिला की रकम समाप्त हो गई तो महिला ने पति की पेंशन पर लोन के लिए आवेदन किया। इसी बीच इसकी जानकारी महिला के भाइयों को हुई तो उन्होंने पूछताछ की। महिला ने अपने भाइयों को पूरे मामले से अवगत कराया।

पूरा मामला सामने आने के बाद परिवार ने गंगनहर कोतवाली पुलिस को तहरीर दी। गंगनहर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक ऐश्वर्य पाल ने बताया कि पुलिस इस मामले में बंगाली तांत्रिक का मोबाइल नंबर ट्रेस कर उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी कर रही है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के लेटर पैड पर जेड प्लस स्तर की सुरक्षा देने का जाली पत्र वायरल, मुकदमा दर्ज

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 22 अप्रैल को भोपाल आएंगे, तैयारियां जोरों पर -  union home minister amit shah come to bhopal on april 22 preparations in  full swing – News18 हिंदीनवीन समाचार, देहरादून, 15 जून 2022। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के लेटर पैड पर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को एक व्यक्ति को जेड प्लस स्तर की सुरक्षा उपलब्ध कराने का फर्जी पत्र प्रकाश में आया है। यह पत्र सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मामले में दोषी व्यक्ति पर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री राधा रतूड़ी ने बताया कि किसी व्यक्ति को जेड सिक्योरिटी प्रदान करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को कोई पत्र भेजा गया है। सोशल मीडिया में चल रहे इस जाली पत्र को गंभीरता से लिया गया है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मामले में दोषी व्यक्ति पर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

गृह मंत्री के वायरल फर्जी पत्र के मामले में एसटीएफ में साइबर थाने में मुकदमा दर्ज किया गया। प्रथम दृष्ट्या जांच में ही पत्र फर्जी पाया गया। अब पीआईबी यानी प्रेस इनफॉर्मेशन ब्यूरो ने भी इस पत्र को जाली बताया है। एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया की अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : दोस्त को फंसाने खुद पर मुर्गे का खून लगाकर पुलिस के पास पहुंचा युवक….

आरोपी युवकनवीन समाचार, हरिद्वार, 10 जून 2022। जनपद के भगवानपुर थाने में गुरुवार को अजीब मामला सामने आया। यहां एक युवक अपना मेडिकल कराने के लिए थाने में मुर्गे का खून लगाकर पहुंच गया और पुलिस से मेडिकल के लिए मजरूबी चिट्ठी मांगने लगा। हालांकि जब पुलिस को उस पर कुछ शक हुआ तो सारा राज खुल गया।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक शाहपुर थाना भगवानपुर निवासी रिहान का अपने दोस्त कदीर के साथ किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया था। जिसके बाद रिहान अपने दोस्त कदीर के खिलाफ थाने में मुकदमा दर्ज करना चाहता था। इसके लिए उसने चिकित्सक से मेडिकल कराने के लिए अनूठा प्लान बनाया। वह अपने सिर और कपड़ों पर मुर्गे का खून लगाकर भगवानपुर थाने पहुंचा और पुलिस ने मेडिकल के लिए मजरूबी चिट्ठी मांगने लगा।

लेकिन पुलिस कर्मियों को लगा कि उसके सिर पर किसी भी तरह की चोट नहीं है, जबंकि उसके सिर और कपड़ों पर खून लगा हुआ था। इस पर पुलिस ने उससे सख्ती के साथ पूछताछ की तो रिहान के बताया कि वह मुर्गे का खून लगाकर मेडिकल के लिए मजरुबी चिट्ठी लेने आया है। ऐसे में पुलिस ने उस पर उल्टा पुलिस को गुमराह करने का मामला दर्ज कर लिया है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : नैनीताल : 6 करोड़ का ऋण दिलाने के नाम पर 12 लाख हड़पे, नहीं मिली अग्रिम जमानत

कॉलेज छात्र हुआ ठगी का शिकार, एक को गिरफ्तार कर दो अन्य आरोपियों की तलाश  में जुटी पुलिस | College student became a victim of fraud, one arrested and  police engaged inडॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 1 जून 2022। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने लाखों रुपए हड़पने के आरोपित दिनेश कुमार सक्सेना पुत्र दीन दयाल सक्सेना निवासी अनित्य इंटरनेशनल विद्यालय गाजियाबाद उत्तर प्रदेश का अग्रिम जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया।

मामले में दिनेश कुमार के अग्रिम जमानत प्रार्थना पत्र का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि आरोपित ने वैशाली पत्नी मनोज कुमार निवासी चित्रकूट चोरपानी रामनगर को आवंटित हिंदुस्तान पेट्रोलियम कंपनी के पेट्रोल पंप के लिए जमीन खरीदने व पंप शुरू करने के लिए यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की दिल्ली शाखा से करीब 6 करोड़ रुपए का ऋण दिलाने का झांसा देकर 12 लाख रुपए अपने खाते में डलवा लिये, लेकिन न ऋण दिलवाया, न ही रुपए वापस किए।

डीजीसी शर्मा ने यह भी कहा कि आरोपित विवेचना के साक्ष्यों व दस्तावेजों के आधार पर मुख्य अरोपित है, और उसके खाते में ही 12 लाख रुपए जमा कराए गए हैं। इसलिए उसके द्वारा किए गए गंभीर प्रकृति के अपराध दर्ज है, इसलिए उसे जमानत नहीं दी जा सकती। इस आधार पर न्यायालय ने उसका प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया। इस प्रकार आरोपित के गिरफ्तार होने से राहत नहीं मिली है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : दोस्त ने दोस्त को लगाया हजारों का ऑनलाइन चूना

दिल्ली में फोन से फ्रॉड करने वाले शातिर गिरोह का पर्दाफाश, आठ गिरफ्तार, 300  फोन बरामद delhi security agencies unearth phone to fraud gang eight person  have been arrested 300 mobile phonesडॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 26 मई 2022। नए दौर में अपराधों के स्वरूप बदल रहे हैं। नगर में एक युवक ने अपने ही दोस्त पर उसके उसके फोन से ‘फोन-पे’ की आईडी से चुपके से 20 हजार की रकम किसी अन्य व्यक्ति के खाते में ट्रांसफर करने और खुद फरार हो जाने का आरोप लगाया है। कोतवाली पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मूल रूप से बिहार निवासी व यहां मल्लीताल में रहने वाले तसवर आलम ने कोतवाली पुलिस को तहरीर देकर कहा है कि वह और उसका एक दोस्त नैनीताल में मजदूरी का काम करते हैं। 23 मई को जब वह कमरे में सोया हुआ था, इसी दौरान रात्रि में उसके दोस्त ने यह हरकत की, और बिन बताए फरार हो गया। अब उसका मोबाइल फोन भी बंद आ रहा है।एसआई हरीश सिंह ने बताया कि शिकायत को साइबर सेल को भेज दिया गया है, और मामले में जांच की जा रही है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : बैंक से भी रहें सावधान: बैंक अधिकारियों ने उड़ा लिए एक बैंक खाते में जमा 30 लाख रुपए

Axis Bank में जमा किए थे 40 लाख रुपये, अचानक खाली हो गया खाता, जानें मामला  – Etoinewsनवीन समाचार, देहरादून, 25 मई 2022। लोग बैंक में अपनी जिंदगी भर की कमाई भरोसे के साथ रखते हैं, लेकिन बैंक में ऐसे लोग भी हो सकते हैं, जो आपसी मिलीभगत से उसे उड़ा लें। राजधानी देहरादून में एक ऐसा ही मामला सामने आया है। यहां सेंट्रल बैंक के तीन बैंक अधिकारियों को एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है, जिन्होंने एक व्यक्ति के बैंक खाते से करीब 30 लाख रुपए उड़ा लिए। ऐसी स्थितियों से बचने के लिए बार-बार अपने बैंक खाते की अपडेट लिए जाने की सलाह दी जा रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार देहरादून निवासी शिकायतकर्ता और उनकी मां का सेंट्रल बैंक में संयुक्त बैंक खाता था। इस खाते में से बिना उनकी मां की अनुमति के एसएमएस नंबर बदलकर खाते से तीस लाख रुपये निकाल लिए गए। शिकायत पर एसटीएफ ने कार्रवाई करते हुए, एक बैंक मैनेजर को दिल्ली और दो असिस्टेंट मैनेजरों को देहरादून से गिरफ्तार किया है। एसटीएफ का कहना है कि, इस तरह की और कोई ठगी न हुई हो, इसकी भी जांच की जा रही है।

मामले में खुलासा हुआ है कि इसमें शामिल सेंट्रल बैंक के अधिकारियों की लम्बे समय से इनएक्टिव यानी ऐसे खातों पर नजर थी, जिनमें लंबे समय से लेन-देन नहीं हो रहा था। उन्होंने आपसी मिलीभगत से खातों के एसएमएस अलर्ट का नंबर बदल दिया और नेट मोबाइल बैंकिंग के जरिए धनराशि से ऑनलाइन माध्यम से सोना खरीद कर और फिर उसको बेचकर कमाई गई रकम आपस में बांट ली। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : फर्जी कंपनियों में पैंसा लगाने के साथ काम करना भी खतरनाक, दो महिला कर्मियों को भेजा गया जेल

महिला समेत दो मोबाइल स्नैचर को पुलिस ने किया गिरफ्तार - Police arrested two  mobile snatchers including womanनवीन समाचार, पिथौरागढ़, 19 मई 2022। फर्जी कंपनियों में पैंसा लगाकर आम लोग तो धोखा पाते और अपनी मेहनत की कमाई लुटाते ही हैं, अपनी आजीविका के लिए ऐसी कंपनियों में काम करने वाले लोगों के लिए भी जेल जाने की स्थिति आ सकती है। ऐसा ही एक मामला पिथौरागढ़ में आया है। यहां इंश्योरेन्स में पैसा लगाकर मुनाफा देने का प्रलोभन देकर लाखों की धोखाधड़ी करने वाली एक कंपनी की दो महिला कर्मियों को जेल जाना पड़ा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार पिछले वर्ष 23 दिसंबर को नीतू टम्टा पत्नी प्रकाश टम्टा वार्ड कुमौड़, थाना पिथौरागढ़ ने पुलिस में तहरीर देकर आरोप लगाया था कि उसके साथ रायल पैंथर नाम की एक कम्पनी ने तीन लाख रुपये की ठगी की है। उसे संतोष कुमार नाम के व्यक्ति ने इंश्योरेन्स में पैसा लगाकर अच्छा मुनाफा देने का प्रलोभन दिया और तीन लाख रुपये रायल पैंथर नाम कि फ्रॉड कम्पनी के एकाउन्ट में डालने को कहा। परन्तु पैसा डालने के दो माह बाद ही किस्तों में आने वाला पैसा बंद हो गया और संतोष कुमार का भी कोई पता नहीं चला।

तहरीर के आधार पर कोतवाली पिथौरागढ़ में भारतीय दंड संहिता की धारा 420 व 120बी के तहत मुकदमा दर्ज किया। मामले की जांच में तनुजा जोशी उर्फ तनुजा पुनेठा, संतोष कुमार और माधुरी गहलोत के नाम प्रकाश में आए। इधर पुलिस ने एक आरोपित माधुरी गहलोत पत्नी प्रशांत चौहान निवासी ग्राम ज्योतहिम्मा, मकरपुरी, थाना स्योहारा जिला बिजनौर उप्र को दबिश देकर ज्योतहिम्मा से गिरफ्तार कर लिया है। वहीं आरोपित तनुजा जोशी उर्फ तनुजा पुनेठा को पूर्व में ही गिरफ्तार किया जा चुका है। संतोष कुमार की तलाश जारी है।(डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : जबर्दस्त फर्जीवाड़ा: पुलिस भर्ती में पुलिस कर्मी की पत्नी ने किसी और से लगवा दी अपनी जगह ऊंची कूद…

महिला पुलिस भर्ती 2020 |Girls Police Bharti 2020 All Events, Long Jump,  High Jump & Race/Running. - YouTubeनवीन समाचार, नैनीताल, 17 मई 2022। प्रदेश में हो रही पुलिस भर्ती के दौरान एक महिला अभ्यर्थी की फर्जीवाड़े के तहत दूसरी महिला द्वारा ऊंची कूद लगाने का मामला पकड़ा गया है। उल्लेखनीय बात यह भी है कि आरोपित महिला अभ्यर्थी एक पुलिस कर्मी की पत्नी है। एसएसपी के निर्देश पर पुलिस ने आरोपित महिला अभ्यर्थी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि यह फर्जीवाड़ा महिला ने खुद किया या इसमें उसके पुलिस कर्मी पति की भी कोई भूमिका है।

मंगलवार को रोशनाबाद पुलिस लाइंस में हो रही पुलिस भर्ती के दौरान सीओ निहारिका सेमवाल की नजर में यह बात आई कि जो महिला अभ्यर्थी बाल थ्रो कर रही थी, इससे पहले उसकी जगह किसी अन्य महिला ने ऊंची कूद लगाई थी। सीओ निहारिका सेमवाल ने शक होने पर जब पूछताछ की तो पूरा मामला खुल गया।

पड़ताल में सामने आया कि आरोपित महिला अभ्यर्थी हरिद्वार पुलिस लाइन में ही तैनात एक सिपाही की पत्नी है। इसकी सूचना डा. योगेंद्र सिंह रावत को दी गई, इस पर एसएससी ने आरोपित महिला अभ्यर्थी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के निर्देश दिए। आगे बताया गया है कि पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। इस बात की भी पड़ताल की जा रही है कि अपनी जगह किसी दूसरी महिला को भर्ती प्रक्रिया में शामिल करने का विचार महिला का था या इसमें उसका पति भी शामिल था। कहा जा रहा है कि यदि सिपाही की भूमिका भी पाई जाती है तो उस पर भी कार्रवाई होनी तय है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : विदेशी महिला के नाम पर यूपी निवासी आरिम कर रहा था ठगी, लाखों की धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार

FB पर विदेशी महिला से दोस्ती पड़ी महंगी,हल्द्वानी में रिटायर्ड दरोगा से 19  लाख की ठगी - Uttarakhand Newsनवीन समाचार, पिथौरागढ़, 5 मई 2022। कई बार लोगों को विदेशी लोगों के माध्यम से कस्टम से महंगा तोहफा या बड़ी धनराशि छुड़ाने का लालच देकर ठगने के मामले आते हैं। लेकिन यहां खुलासा हुआ है कि एक व्यक्ति को कस्टम के नाम पर विदेशी महिला ने नाम से यूपी के व्यक्ति द्वारा ठगा गया। बहरहाल, पुलिस लाखों रुपये की धोखाधड़ी के आरोप में आरोपित को बदायूं से गिरफ्तार किया है, और न्यायालय में पेश करने के बाद जेल भेज दिया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मुवानी पिथौरागढ़ निवासी कुलदीप आर्या ने 18 फरवरी 2022 को थल थाने में तहरीर दी थी कि 14 जनवरी 2022 को उन्हें फेसबुक पर इंग्लेंड निवासी मित्र ग्रेस पीटरसन नाम की महिला द्वारा कस्टम विभाग के लिए रजिस्टर चेक करने और विभिन्न प्रमाणपत्र बनाने के नाम पर 14 लाख रुपये की ऑनलाइन धोखाधड़ी की गई। इस आधार पर पुलिस ने धारा 420 और 66 (डी)और आईटी एक्ट में मुकदमा दर्ज किया था।

इसके बाद एसपी लोकेश्वर सिंह के निर्देश के बाद प्रभारी निरीक्षक कोतवाली डीडीहाट हिमांशु पंत के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया। कोतवाली पिथौरागढ़, थाना थल और एसओजी की संयुक्त टीम ने इस मामले में थाना बबिसौली जिला बदायूं के ग्राम धनपुरा निवासी आरिम खान को ग्राम धनपुरा के रेलवे फाटक के पास से गिरफ्तार कर लिया। उसके पास से पुलिस ने ठगी में इस्तेमाल किया गया मोबाइल फोन और सिमकार्ड भी बरामद किया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल की महिला से डेढ़ करोड़ सहित सवा तीन करोड़ से अधिक की ठगी करने का आरोपित नटवरलाल गिरफ्तार…

हसनपुरा में तीन महिलाओं ने किया लाखों के गहने की ठगीनवीन समाचार, हल्द्वानी, 3 मई 2022। नैनीताल पुलिस ने नौकरी दिलाने के नाम पर नैनीताल मुख्यालय की एक महिला से डेढ़ करोड़ से अधिक सहित जनपद नैनीताल के लोगों से 3 करोड़ 28 लाख 10 हजार रूपये की ठगी करने के आरोपित को गिरफ्तार करने में सफलता पाई है।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार गत 25 अप्रैल को थाना मुखानी में नवीन चंद्र जोशी निवासी कमलुवागांजा ने तहरीर दी थी कि रितेश पांडे पुत्र मोहन चंद्र पांडे निवासी जेल रोड चौराहा हल्द्वानी ने उसे नौकरी का झांसा देकर साढ़े चार लाख रुपए ऑनलाईन अपने खाते में डलवा कर ठगी की है। इस तहरीर के आधार पर थाना मुखानी में भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 504 व 506 के तहत अभियोग पंजीकृत किया गया। इस पर आज आरोपित रितेश पांडे को लामाचौड़ से वाहन संख्या यूके07डीएम-4800 फार्च्यूनर कार के साथ गिरफ्तार कर लिया। कार को मोटर यान अधिनियम के अंतर्गत सीज कर दी गयी है।

पूछताछ में आरोपित ने बताया कि वह अधिक पैसे कमाने के चक्कर से लोगों को नौकरी के नाम पर पैसा लेकर ठगी करता हैं। उसके विरुद्ध जनपद के कोतवाली रामनगर में गजेंद्र सिंह निवासी पीरुमदारा रामनगर के साथ भी नौकरी लगाने के नाम पर 11 लाख रुपये ठगी की गयी है।

इसके अलावा उसने कविता महेरा पत्नी डीएस मेहरा निवासी पंकज निवासी मल्लीताल नैनीताल से भी नौकरी का झांसा देने के नाम पर लगभग 1 करोड़ 53 लाख 10 हजार रूपये की धोखाधड़ी की थी। इस पर भ्ज्ञी थाना मल्लीताल में इसी वर्ष अभियोग पंजीकृत किया गया हैं। इसके अलावा उसके विरुद्ध जनपद ऊधमसिंह नगर के बाजपुर व रुद्रपुर के थानों में नौकरी के नाम पर ठगी करने के अभियोग दर्ज हैं। अन्य जनपदों से भी अभियुक्त उपरोक्त का आपराधिक इतिहास के बारे में जानकारी प्राप्त की जा रही है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : हद हो गई : डीएम के नाम से लोगों से रुपये मांगे जा रहे…

नवीन समाचार, चम्पावत, 19 अप्रैल 2022। अब तक आपने अलग-अलग तरीके के फ्रॉड करने वालो के बारे में सुना और पढ़ा होगा, आज आपको बताते हैं कि फ्रॉड करने वाले व्यक्ति ने फर्जी तरीके से जिलाधिकारी के नाम से मैसेज भेजा। मामला उत्तराखण्ड के चम्पावत जिले का है, जिलाधिकारी विनीत तोमर ने एफआईआर दर्ज कराई है, जिसमें एक अनजान व्यक्ति द्वारा जिलाधिकारी विनीत तोमर के नाम से मोबाइल मैसेज कर अपने आप को डीएम बताकर लोगो से पैसे हड़पने की कोशिश की है।

जनपद के कई अधिकारियों को भी ऐसे मैसेज मिलने की जानकारी के बाद जिलाधिकारी चम्पावत ने समस्त अधिकारियों एवं जनपदवासियों से मैसेज के माध्यम से कि अपील की ऐसे किसी कॉल या मैसेज के झांसे में न आए, यदि उन्हें कोई मैसेज या कॉल करनी होगी तो वह उनके आधिकारिक नंबर से ही की जाएगी, वही उनके नाम से हो रहे इस फ्रॉड के खिलाफ उन्होंने चम्पावत कोतवाली में एफआईआर भी दर्ज कराई है।

इस प्रकरण पर चम्पावत के एसपी देवेन्द्र पींचा ने कहा कि जल्द ही फ्रॉड व्यक्ति की पहचान कर कानूनी कार्रवाई की जाएगी, साथ ही उन्होंने कहा इस फ्रॉड के खिलाफ जांच शुरू कर दी गई है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : 30 करोड़ की धोखाधड़ी के मामले में 43 लोग गिरफ्तार, एक मास्टरमाइंड अभी भी फरार

नवीन समाचार, पिथौरागढ़, 31 मार्च 2022। आर्थिक धोखाधड़ी आज के दौर का नया अपराध है। जनपद की पुलिस ने बीते एक वर्ष के दौरान आर्थिक धोखाधड़ी के 57 मामले दर्ज किए और इनमें 43 लोगों को गिरफ्तार किया है। खास बात यह भी है कि गिरफ्तार किए गए लोगों ने तीस करोड़ रुपए की आर्थिक धोखाधड़ी की थी।

बताया गया है कि इन मामलों में शेयर मार्केट के नाम पर लोगों से करोड़ों की ठगी तथा रेलवे में भर्ती और मोबाइल टॉवर लगवाने के नाम पर लोगों से लाखों की ठगी के मामले प्रमुख हैं। जनपद के पुलिस अधीक्षक लोकेश्वर सिंह ने जनपद में आने के बाद इन मामलों में विशेष पहल करते हुए कई टीमें गठित कर करीब 30 करोड़ के घोटाले में शामिल 43 लोगों को गिरफ्तार कराया है।

मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि आर्थिक धोखाधड़ी के मामले में पिथौरागढ़ पुलिस की उपलब्धि उल्लेखनीय रही है। अलग-अलग लोगों ने पूर्व सैनिकों, महिलाओं, शिक्षकों, व्यापारियों से करोड़ों की ठगी की। उन्होंने कहा कि अभी एक बड़े मामले का एक मास्टर माइंड पुलिस की गिरफ्त में नहीं आया है। पुलिस की इसकी तलाश में कई टीमें लगा रखी हैं। इस पर ईनाम घोषित किया गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पूर्व सैनिक से बीमा की किश्तों के नाम पर 30 लाख रुपए की ठगी…

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 27 मार्च 2022। दो जालसाजों द्वारा एक सेवानिवृत्त पूर्व सैनिक को बीमा एजेंट बनकर लाखों रुपए की चपत लगाने का मामला प्रकाश में आया है। पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार भारतीय सेना से सेवानिवृत्त अमरावती कालोनी निवासी चन्द्रबल्लभ सनवाल पुत्र कृष्णानन्द सनवाल से वर्ष 2010 से अभिषेक अग्रवाल व भारद्वाज नाम के व्यक्ति इंश्योरेंस एजेंट के रूप में मिले और इंश्योरेंस के कागज भरवा कर प्रीमियम के 90 हजार रुपए एक बैंक खाते में जमा कराते रहे। लेकिन उन्होंने इंश्योरेंस का बॉड नहीं दिया। अलबत्ता, उन्हें यह धमकी दी गई कि यदि वह पॉलिसी की किस्तें जमा नहीं करेंगे तो आज तक जमा की गई धनराशि भी जब्त हो जाएगी।

इस तरह चन्द्रबल्लभ ने अब तक करीब 30 लाख रुपए जमा कर दिए, लेकिन बांड नहीं मिला। अब पॉलिसी की समय सीमा पास आने के बावजूद बॉंड न मिलने पर शक होने पर उन्होंने कोतावाली पुलिस में शिकायत की हे। कोतवाल हरेंद्र चौधरी ने बताया कि मामले में रिपोर्ट दर्ज कर आरोपों की जांच की जा रही है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल: किन्नर गुरु द्वारा ठगी का एक और मामला उजागर

-पुलिस में शिकायत करने पर रुपए लौटाए
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 27 मार्च 2022। शहर में गत दिनों विभिन्न मौकों पर बधाई में रुपए लेने वाले किन्नर गुरु खलील द्वारा नगर के तल्लीताल निवासी एक व्यवसायी गुड्डू खान की पत्नी को झांसे में लेकर 10 हजा रुपए लेने का मामला प्रकाश में आया था। पुलिस में शिकायत के बाद आरोपित ने रुपए लौटा दिए थे। अब नगर के मल्लीताल क्षेत्र के एक व्यवसायी के घर की महिला से इसी आरोपित किन्नर गुरु खलील द्वारा 7 हजार रुपए लिए जाने की शिकायत दर्ज कराई गई है।

पीड़िता के पुत्र मल्लीताल मेलरोज क्षेत्र निवासी शिवनंदन मल्होत्रा ने कोतवाली पुलिस में लिखित शिकायत देकर बताया कि आरोपित उनकी मां से अपने परिवार में किसी की मृत्यु होने की बात कहकर सात हजार रूपये उधार के तौर पर ले गया था, लेकिन लौटाने नहीं आया। मीडिया में उसके बारे में जानकारी लगने पर वह पुलिस में शिकायत दर्ज करा रहे हैं।

हालांकि मल्लीताल कोतवाली के उप निरीक्षक अखबार में खबर पढ़कर पता चला कि व्यक्ति कई लोगो से ठगी कर चुका है। जिसके बाद हरीश सिंह ने बताया कि पुलिस में शिकायतकर्ता करने के बाद तत्काल ही आरोपित ने पीड़ित के 7 हजार रुपए लौटा दिए हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल : बधाई लेने के नाम पर ठगी करने वाले दबोचे

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 22 मार्च 2022। शादी-व्याह व बच्चे होने आदि के मौकों पर बधाई लेने के नाम पर ठगी करने वाला गिरोह बुधवार को तल्लीताल पुलिस के हत्थे चढ़ गया। बताया गया कि ग्रुप का मुखिया गुरु बनने के चक्कर में खुद कर्जदार हो गया और हुए नुकसान की भरपाई के लिए लोगों से अवैध वसूली कर रहा था।

बताया गया है कि खलील नाम का व्यक्ति पहले अजीजन नाम के गुरु का चेला था। अजीजन के इंतकाल के बाद उसे नैनीताल क्षेत्र के लिए गुरु की पद्वी पाने की प्रक्रिया में कालाढुंगी क्षेत्र के गुरु के साथ मिलकर हल्द्वानी के एक होटल बुक करने व उसमें देश भर से आए बधाई लेने वालों के कई दिनों तक चले खाने-पीने आदि पर उसके 35 लाख रुपए खर्च करने पड़े। इसके लिए उसे कर्ज भी लेना पड़ा। इस प्रक्रिया के बाद उसे नैनीताल का क्षेत्र मिला। अब इसकी भरपाई के लिए वह लोगों से धोखाधड़ी कर रुपयों की वसूली कर रहा था। पुलिस को उसकी ऐसी कई शिकायतें मिलीं।

इधर बताया गया है कि नगर के तल्लीताल स्थित हिना टूर एवं ट्रेवल्स के स्वामी गुड्डू खान की पत्नी से दो दिन में रुपए लौटाने की बात कह 10 हजार रुपए लेकर आए। लेकिन महीनों बाद भी रुपए नहीं लौटाए। इधर मंगलवार को गुड्डू खान ने तल्लीताल पुलिस को इसकी सूचना दी। इस पर चीता मोबाइल प्रभारी शिवराज राणा व अन्य पुलिस कर्मी मौके पर पहुंचकर खलील गुरु को थाने ले गए। जहां रुपए लौटाने पर व भविष्य के लिए चेतावनी देकर छोड़ दिया गया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : महिला के खाते में 2 रुपए डाले और पौने तीन लाख रुपए निकाल लिए

फॉरेन टच की इंग्लिश, डॉलर में कमाई...दिल्ली में कॉल सेंटर से ठगने वाले 34  गिरफ्तार... - The Duniyadaariनवीन समाचार, हल्द्वानी, 24 मार्च 2022। शहर में जालसाजों ने एक महिला को एक नए तरीके से पौने तीन लाख रुपए की ऑनलाइन ठगी का शिकार बनाया है। बताया गया है कि ठगों ने महिला को बताया कि उसके पति का वेतन इस माह किसी कारण उसके खाते में डाला जाना है। इसकी पुष्टि के लिए उसके खाते में दो रुपए डालकर उसके बाद आए ओटीपी के जरिए उसका बैंक खाते पर हाथ साफ कर दिया। हल्द्वानी कोतवाली पुलिस ने महिला की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार शहर के करायत जौलासाल क्षेत्र निवासी महिला ने पुलिस में तहरीर देते हुए कहा कि 22 मार्च को एक व्यक्ति का फोन आया कि वह उसके पति के ऑफिस से बोल रहा है। उसके पति का इस महीने का वेतन उसके खाते में डाला जाना है। लिहाजा, वह अपना बैंक खाता नंबर बताएं। इसके बाद महिला ने अपना बैंक खाता नंबर बता दिया। इसके बाद उसे कहा गया कि खाते की पुष्टि करने के लिए उसके खाते में 2 रुपए डाले जा रहे हैं, जिसके बाद एक ओटीपी आएगा जो उन्हें बताए।

महिला के खाते में 2 रुपए आने के बाद मोबाइल पर आया ओटीपी जालसाज को बता दिया। इसके कुछ देर बाद ही महिला के खाते से दो लाख 75 हजार रुपए निकाल लिए गए। कोतवाली प्रभारी हरेंद्र चौधरी ने बताया कि महिला के तहरीर पर मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : महिला से अफ्रीकी नागरिक ने विदेशी तोहफे के नाम पर जेवर बिकवाकर 16 लाख ठगे, जमानत अर्जी खारिज…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 5 मार्च 2022। प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने ऑन लाइन ठगी करने वाले अफ्रीकी नागरिक करीम कोन पुत्र जैरीगोवे सोवंडे निवासी आयमा आईवेरयिन अफ्रीका, वर्तमान निवासी निठौली चंद्र विहार जिला बाहरी दिल्ली का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया है। उस पर आरोप है कि उसने एक महिला से ठगी कर 15.85 लाख रुपए ठग लिए और वह वीजा अवधि समाप्त होने के बाद भी भारत में रह रहा था। महिला ने अपने जेवर बेचकर भी उसके बैंक खाते में रुपए जमा करवाए थे।

शनिवार को आरोपित के जमानत प्रार्थना पत्र का अभियोजन की ओर से विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने बताया कि आरोपित ने 20 सितंबर 2021 को कृष ईडन नाम के व्यक्ति की फेसबुक आईडी के जरिए शीला चतुर्वेदी पत्नी दीपक कुमार निवासी राजीव नगर बंगाली कॉलोनी लालकुआं से मैसेंजर के माध्यम से बात कर कहा कि शीला का पार्सल आया है। उसे छुड़वाने के लिए पहले 25 हजार और फिर 95 हजार व आगे मनी लांड्रिंग में फसने का भय दिखाकर साढ़े चार लाख रुपए सहित 28 अक्टूबर तक कुल 15 लाख 85 हजार रुपए अपने गहने बेचकर भी बैंक खाते में डलवाए।

बाद में इस धनराशि की रसीदें फर्जी पाये जाने पर धोखा होने का अहसास होने पर शीला ने पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज करवाई। यह भी बताया कि आरोपित करीम फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर महिलाओं से दोस्ती कर विदेशों से तोहफे भेजने का झांसा देकर रुपए हड़पने का कार्य करता था और वीजा की अवधि समाप्त होने के बाद भी भारत में रह रहा था। इस प्रकार उसके अपराध को गंभीर मानते हुए न्यायालय ने उसकी जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : इंसानियत शर्मसार…शहर में बढ़ते अपराधों की बात कह बुजुर्ग के हमदर्द बने और उनसे ही अपराध कर डाला..

नवीन समाचार, रुड़की, 2 मार्च 2022। कोई इंसानियत का वास्ता देकर इंसानियत को शर्मसार कर दे तो उसे क्या कहेंगे। शहर में एक ऐसा मामला आया है जिसमें युवकों ने अपने रिश्तेदार की मौत पर जा रहे बुजुर्ग से कहा कि शहर में अपराध बहुत हो रहे हैं, कोई उनके रुपए उड़ा लेगा। यह कहकर बुजुर्ग के पास मौजूद मात्र 2300 रुपए अपने पास रख लिए। रख क्या लिए ठग लिए और खुद फरार हो गए।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार को पिलखनी मुस्तफाबाद तहसील बेहट बिहारीगढ़ जिला सहारनपुर निवासी जयपाल नाम के बुजुर्ग अपनी पत्नी के भाई की मौत होने पर छुटमलपुर आए थे। यहां सुबह करीब ग्यारह बजे के आसपास एसडीएम चौक के पास उन्हें एक-एक कर दो युवक मिले। उन्होंने बातों में उलझा कर उन्हें लक्सर जाने का कारण सहित उनकी अन्य जानकारियां पूछीं, और उन्हें बातों में उलझाकर और रुड़की में बढ़ते अपराधों की बात कहकर उनसे 2300 रुपये ले लिए और कहा कि उनको एक लिफाफे में रखकर यह रकम वापस देंगे।

बाद में उन्हें एक पीला लिफाफा देकर बाइक पर सवार होकर फरार हो गए। बुजुर्ग ने जब पीले लिफाफे को खोलकर देखा तो उसमें अखबार के टुकड़े मिले। ठगी का अहसास होने पर बुजुर्ग ने शोर मचाया। जिसके बाद राहगीर घटनास्थल पर पहुंच गए। बुजुर्ग ने कोतवाली पहुंचकर महिला सिपाही, दरोगा समेत अन्य पुलिसकर्मियों को अपने साथ हुई ठगी की जानकारी दी। सिविल लाइंस कोतवाली के वरिष्ठ उप निरीक्षक दीप कुमार ने बताया कि बुजुर्ग से कोतवाली क्षेत्र में ठगी हुई है। कोशिश की जाएगी कि ठग पकड़े जाएं और बुजुर्ग की धनराशि उन्हें वापस मिल जाए। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : लो जी, पुलिस कोतवाल से हो गई ढाई लाख से अधिक की ठगी

नवीन समाचार, देहरादून, 11 फरवरी 2022। चंपावत के कोतवाली प्रभारी से जमीन दिलाने के नाम पर फर्जी पावर आफ अटार्नी दिखाकर किसी और की जमीन का सौदा कर दो लाख 59 हजार रुपये की ठगी किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। देहरादून शहर कोतवाली पुलिस ने इस मामले में आरोपित, उसकी पत्नी और बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार चंपावत कोतवाली प्रभारी शांति कुमार ने शहर कोतवाली में तहरीर देकर बताया है कि उनकी पत्नी रेखा ने वर्ष 2010 में राजपाल सिंह, उसकी पत्नी पद्मा व बेटे अंकित से हरिद्वार रोड पर एक आवासीय भूमि खरीदी थी। तब राजपाल सिंह ने बताया था कि जमीन ब्राह्मणवाला निवासी सलीम के नाम पर है। सलीम ने उसके नाम पर पावर आफ अटार्नी से जमीन हस्तांतरित करवाई है। कचहरी के पास आरोपितों ने पीड़ित की पत्नी रेखा से जमीन के बदले एडवांस में दो लाख, 59 हजार रुपये ले लिए।

शिकायतकर्ता ने बताया कि इधर जब उन्होंने दस्तावेजों की जांच करवाई तो पता चला कि जमीन राजपाल सिंह के नाम दर्ज नहीं है। उन्होंने सब रजिस्ट्रार कार्यालय से पावर आफ अटार्नी की प्रतिलिपि निकलवाई तो उसमें भूमि के मालिक के स्थान पर किसी अन्य व्यक्ति का फोटो लगा हुआ था, जो कि 28 जनवरी 2010 को फर्जी तरीके से राजपाल सिंह ने सब रजिस्ट्रार कार्यालय में दर्ज कराई है।

मामले की जांच कर रहे एसएसआइ शहर कोतवाली कुलवंत सिंह ने बताया कि फिलहाल धोखाधड़ी के इस मामले में मोहितनगर, जीएमएस रोड निवासी राजपाल सिंह, उसकी पत्नी पद्मा और बेटे अंकित के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : डाक कर्मी के घर में ‘स्पेशल 26’ के 6 इन्कम टैक्स अधिकारियों ने की छापेमारी

Know About The Real Special 26 Robbery That Still Remains Unsolved- Inext  Liveनवीन समाचार, ऋषिकेश, 11 फरवरी 2022। अक्षय कुमार की फिल्म ‘स्पेशल 26’ की तर्ज पर ऋषिकेश की वाल्मीकि बस्ती में शुक्रवार सुबह एक डाक कर्मी के घर में फर्जी आयकर अधिकारियों द्वारा छापेमारी की गई। अलबत्ता स्थानीय लोगों ने शक होने पर उन्हें पकड़ लिया। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस टीम ने एक महिला सहित छह फर्जी अधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया है। सभी लोग दिल्ली के रहने वाले बताए जा रहे हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार शुक्रवार सुबह वाल्मीकि बस्ती में छह लोग एक डाक कर्मी के घर पहुंचे। लोगों ने डाक कर्मी को बताया कि वह आयकर विभाग के अधिकारी हैं और उसके घर पर छापामारी की कार्रवाई होनी है। इससे पहले तो डाक कर्मी के परिवार में हड़कंप मच गया। लेकिन परिवार के लोगों को शक हुआ तो उन्होंने पड़ोसियों की मदद से फर्जी अधिकारियों को पकड़ लिया। स्थानीय लोगों ने फर्जी अधिकारियों को पुलिस के हवाले कर दिया है। कोतवाली पुलिस फर्जी अधिकारियों से पूछताछ कर रही है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : आधा दर्जन से अधिक महिलाओं से ठगी व बलात्कार करने के आरोपित युवक का एक और कारनामा, मुकदमा दर्ज

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 10 फरवरी 2022। सरकारी नौकरी के नाम पर उत्तराखंड से दिल्ली तक आधा दर्जन से अधिक महिलाओं से ठगी और यौन शोषण करने के मामले में बहुचर्चित बागेश्वर के चारु जोशी का एक और कारनामा सामने आया है। आरोपित ने अपने पुराने पैंतरे से ही दो और युवकों को अपना शिकार बनाकर लाखों रुपए हड़प लिए हैं। कोतवाली पुलिस ने आरोपित चारु के खिलाफ दो और युवकों की शिकायत पर धोखाधड़ी का एक और मामला दर्ज किया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार आनंदीपुरम आरके टेंट हाउस रोड कुसुमखेड़ा निवासी वशिष्ठ भारद्वाज पुत्र सुरेश भारद्वाज व अंबेडकरनगर बरेली रोड निवासी मुकेश सागर पुत्र ओम प्रकाश सागर ने चारु के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है कि बीते वर्ष जनवरी में वह किसी काम के सिलसिले में बेस अस्पताल गए थे। यहां उनकी चारु से मुलाकात हुई। चारु ने खुद का परिचय डिस्ट्रिक मेडिकल ऑफिसर के रूप में दिया। साथ ही कहा कि उसकी नैनीताल जिले के प्रशासनिक अधिकारियों से अच्छी पकड़ है और वह उनकी सरकारी नौकरी में लगवा सकता है।

चारु ने सरकारी कंप्यूटर ऑपरेटर की नौकरी और 35 से 40 हजार वेतन का प्रलोभन दिया। दोनों दोस्त चारु के झांसे में आ गए। जिसके बाद चारु ने दोनों से नौकरी लगवाने के नाम पर 5-5 लाख रुपए की मांग की और आधा पैसा एडवांस देने को कहा। सरकारी नौकरी के लालच में वशिष्ठ और मुकेश ने चारु को ढाई-ढाई लाख रुपए दे दिए। पैसे लेने के बाद चारु चन्द्र जोशी ने कहा कि वह जल्द ही उनकी नौकरी लगवा देगा। काफी वक्त गुजर जाने के बाद जब वशिष्ठ ने फोन किया तो चारु टाल-मटोल करने लगा। ऐसा करते-करते एक साल गुजर गया और ठगी का एहसास होने पर वशिष्ठ कोतवाली पुलिस के पास पहुंचे। वशिष्ठ की तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने आरोपी चारु के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। कोतवाल हरेंद्र चौधरी ने बताया कि चारु पर पूर्व में भी धोखाधड़ी और दुष्कर्म के मामले दर्ज हैं। दो और लोगों को ठगे जाने की तहरीर पर एक और रिपोर्ट चारु के खिलाफ दर्ज की गई है। (डॉ. नवीन जोशी) अन्य ताज़ा नवीन समाचार पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

ठगी से संबंधी अन्य पुराने समाचार पढ़ने को यहाँ क्लिक करें।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

One Reply to “नैनीताल : युवती के खाते से 1.37 लाख रुपए निकलने के मामले में हुआ सनसनीखेज खुलासा, हर कोई रह गया स्तब्ध

Leave a Reply