News

नैनीताल : ट्रक में भरकर सामान वापस लौटा गया लूट का आरोपित

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
मल्लीताल पुलिस कोतवाली में समझौता करते दोनों पक्ष।

नवीन समाचार, नैनीताल, 21 मार्च 2020। बीती 14 मार्च को ग्राम सहदौरा पुलभट्टा ऊधमसिंह नगर निवासी जितेंद्र सिंह विर्क पर नगर के मल्लीताल अंडा मार्केट के पास नगर के प्रसिद्ध छायाकार रहे स्वर्गीय परसी लाल साह के भवन में जबरन घुसकर लूटपाट करने के आरोप लगे थे। आरोप था कि जितेंद्र व उसके साथियों ने भवन के एक किरायेदार लक्ष्मण दास दधीचि के घर का ताला तोड़कर अंदर घुसकर बड़ी मात्रा में घर का सामान लूट लिया था। इधर शनिवार को जितेंद्र एक छोटे ट्रक में भरकर श्री दधीचि का सामान मल्लीताल कोतवाली वापस ले आया और पुलिस की मौजूदगी में श्री दधीचि के साथ पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश जोशी की उपस्थिति में लिखित में समझौतानामा कर अपनी गलती सुधारी। उसका कहना था कि उसने इस भवन का हल्द्वानी के नया आबाद हरीपुर नायक निवासी संतोष कुमार साह पुत्र महेंद्र लाल साह से पंजीकृत अनुबंध किया था। संतोष साह के बताने पर उसने घर के ताले की चाबी न होने पर ताला जबरन तोड़कर घुसकर सामान ले गए थे, जिसे आज गृह स्वामी के सुपुर्द कर दिया।

यह भी पढ़ें : सवा सौ साल पुराने नगर पालिका के भवन पर कब्जे को लेकर लोग भिड़े, मारपीट

नवीन समाचार, नैनीताल, 15 मार्च 2020। नगर के एक बंद घर पर किच्छा से आए लोगों ने जबरन कब्जा कर लिया, तथा भवन के अन्य लोगों को पिस्टल दिखाकर घर खाली करने को कहा। इस पर मामला बढ़ गया तथा बात पुलिस तक पहुंच गई। दोनों पक्षों की ओर से पुलिस को तहरीरें देकर कार्रवाई की मांग की गई है। पुलिस जांच करने की बात कर रही है।
मामला मल्लीताल अंडा मार्केट के करीब गोशाला के पास नगर पालिका के करीब 125 साल पुराना भवन का है, जोकि नगर के प्रसिद्ध छायाकार रहे परसी लाल साह के नाम लीज पर था। वर्तमान में संतोष लाल साह इसके एक हिस्सेदार है। इधर इस भवन में अर्थ एवं संख्या विभाग में राज्य स्तरीय अधिकारी रहे लक्ष्मण दास दधीचि, सुनील जोशी, राजेश्वरी देवी, हंसा देवी ममगई, कमला रावत, संजय जोशी, कमला जोशी, ललित सनवाल, हेम जोशी, जगदीश जोशी, माया देवी आदि लोग बतौर किरायेदार रहते हैं। किरायेदारों को कहना था कि शनिवार रात करीब आठ लोग एक किरायेदार लक्ष्मण दास दधीचि की गैर मौजूदगी में उनके बंद मकान में ताला तोड़कर घुस गए, और तमंचा दिखाकर भवन के अन्य कमरों में रहने वाले परिवारों से घर खाली करने को कहा। इस पर पुलिस को सूचना दी गई। मल्लीताल कोतवाल अशोक कुमार सिंह, तल्लीताल थाना अध्यक्ष विजय मेहता अन्य पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे और वहां रहने वाले लोगों के कागज देखे। इसी दौरान स्थानीय लोगों और कब्जेदारों के मध्य हाथापाई हो गई। पुलिस कब्जेदारों को लेकर कोतवाली पहुंची। स्थानीय लोगों ने मल्लीताल कोतवाली में किच्छा के आठ लोगों के खिलाफ और किच्छा के सहदौरा निवासी जितेंद्र सिंह ने भी कोतवाली में शिकायती पत्र दिया।
बताया जा रहा है कि 11 वर्ष पूर्व भवन की लीज खत्म होने पर इसे रिन्यू नहीं किया गया। अलबत्ता तीन वर्ष पहले यहां रह रहे 14 कब्जेदारों ने डीएम कार्यालय में फ्रीहोल्ड के लिए कागज जमा किए। कब्जा करने वाले जितेंद्र का कहना था कि भवन के हिस्सेदार संतोष लाल साह के साथ उन्होंने गत 27 जनवरी को इकरार नामा किया है। जिसके अनुसार जितेंद्र की 51 और संतोष की 49 फीसदी हिस्सेदारी है। इधर लोग संतोष साह द्वारा किए गए भवन के इकरारनामे को गैर कानूनी बता रहे हैं। वहीं पुलिस में मामले को संपत्ति विवाद बता रही है और जांच के बाद कार्रवाई करने की बात कह रही है।

यह भी पढ़ें : निर्माण कार्य में विवाद को लेकर दो पक्षों में मारपीट, शांति भंग में निरुद्ध

नवीन समाचार, नैनीताल, 1 मार्च 2020। नगर के मेट्रोपोल कंपाउंड क्षेत्र में दो पक्षों में निर्माण कार्य को लेकर विवाद मारपीट तक पहुंच गया। दोनों पक्ष एक-दूसरे पर हमलावर हो गए। बताया गया है कि दोनों पक्षों के बीच लंबे समय से विवाद चला आ रहा है, और कई बार मामला पुलिस तक पहुंचा है। इधर शनिवार रात्रि नौबत मारपीट की आने पर मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने शांति भंग की आशंका में दोनों पक्षों के खिलाफ भारतीय दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 107/16 के तहत चालानी कार्रवाई कर दी है और उनसे शांति व्यवस्था की हद में रहने को कहा गया है। मल्लीताल कोतवाली पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार रविवार को लईक अहमद, नफीस अहमद, जरीना, अंजुम, रीना पंवार व राजू पंवार के खिलाफ चालानी कार्रवाई की गई है।

यह भी पढ़ें : 10-15 छात्रों पर लगा मारपीट का आरोपनवीन समाचार, नैनीताल, 23 फरवरी 2020। रविवार को नगर के सात नंबर क्षेत्र निवासी एक फड़ कारोबारी ने मल्लीताल कोतवाली पहुंचकर बीती शनिवार की देर रात्रि राजकीय पॉलीटेक्निक नैनीताल के कुछ छात्रों पर मारपीट करने का आरोप लगाते हुए पुलिस से कार्रवाई की मांग की। मारपीट के लिए उसने एक अधिवक्ता के घर में रहने वाले 15-20 छात्रों पर संदेह जताया। अलबत्ता वह ठीक से बता नहीं पाया कि किन छात्रों ने उसके साथ मारपीट की। छात्रों ने भी पिटाई करने से इंकार किया, बावजूद उससे मांफी मांगी। बावजूद वह सभी छात्रों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहा था। मल्लीताल कोतवाल अशोक कुमार सिंह ने बताया कि पीड़ित 15-20 छात्रों पर आरोप लगा रहा था, किंतु पीटने वाले छात्रों की ठीक से पहचान नहीं कर पाया। उन्होंने कहा कि पीड़ित से लिखित शिकायत मिलने पर मामले की जांच की जाएगी।

यह भी पढ़ें : टैक्सी वाले ने क्या खूब की अतिथि देवों की सेवा, सेना की मदद ले कर बचानी पड़ी जान

नवीन समाचार, नैनीताल, 9 फ़रवरी 2020। अतिथियों-ग्राहकों को देवता संज्ञा दी जाती है। लेकिन नैनीताल में बाहरी घुसपैठ से लाख हिदायतों के बावजूद एक ऐसी संस्कृति पैठ रही है, जिनके लिए ग्राहक सिर्फ लूटने के लिये होते हैं। और यदि वे प्रतिरोध करें तो उनके साथ मारपीट से भी कोई गुरेज नहीं। रविवार को भी शहर में ऐसा ही वाकया प्रकाश में आया। नैनीताल में नशे में धुत टैक्सी चालक ने नोएडा के पर्यटक दंपत्ति से किराए को लेकर पहले गाली गलौच और फिर मारपीट कर दी। पर्यटक दंपत्ति ने किसी तरह सेना के आवास में जाकर अपनी जान बचाई। बाद में दंपत्ति की शिकायत पर मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने चालक का मेडिकल कराने के बाद उसका वाहन सीज कर दिया है।

यह भी पढ़ें : शराब के नशे में महिलाओं से भिड़े शराबी युवक

नवीन समाचार, नैनीताल, 24 जनवरी 2020। नगर के मल्लीताल मोहन-को-चौराहे के पास शुक्रवार को शराब के नशे में दो स्थानीय युवक ने गाली-गलौज तथा अभद्रता करने लगे। इससे वहां स्थानीय लोगों, खासकर महिलाओं का गुजरना मुश्किल हो गया। महिलाओं ने इस पर ऐतराज जताया कि शराबी युवक उल्टा उनसे भी भिड़ने लगे। इस पर वहां मारपीट भी होने लगी। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस दोनों युवकों को पकड़कर कोतवाली ले आई और उनका मेडिकल कराया। मेडिकल में उनके शराब पीने की पुष्टि हुई। अलबत्ता, बाद में नशा उतरने के बाद युवक माफी मांगने लगने। पुलिस ने दोनों का उत्तराखंड 81 पुलिस एक्ट में चालान कर आगे से ऐसी हरकत न करने की हिदायत देकर उन्हें छोड़ दिया।

यह भी पढ़ें : अल्मोड़ा के बुजुर्ग मां-बेटे का दिन-दहाड़े गला रेता… हालत गंभीर

नवीन समाचार, काशीपुर, 22 जनवरी 2020। शहर में दिनदहाड़े एक घर में संदिग्ध परिस्थितियों में गर्दन कटी हालत में घायल बुजुर्ग मां-बेटे के मिलने से सनसनी फैल गई। घटना का तब पता चला जब बुजुर्ग मां-बेटे के परिजन घर पहुंचे। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने घटना की जानकारी जुटाई। दोनों घायलों को गंभीर हालत में एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घायलों का इलाज कर रहे डॉक्टर के मुताबिक दोनों की हालत गंभीर बनी हुई है। उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार जिला अल्मोड़ा के लमगढ़ा ब्लॉक के ग्राम गौना के मूल निवासी 67 वर्षीय खीम सिंह चौहान पुत्र मान सिंह चौहान सैनिक कॉलोनी में अपनी मां विशनी देवी (88) और अपनी बेटी रेनू व नातिन पूजा और बेटे रविंद्र के साथ रहते हैं। खीम सिंह चौहान पीडब्ल्यूडी रुद्रपुर में हेड क्लर्क के पद से सात साल पहले सेवानिवृत्त हुए हैं। खीम सिंह की बेटी रेनू देवी चामुंडा विहार कॉलोनी में अपने मकान का निर्माण करा रही है। उसके पति राजेंद्र पंजाब में सेना में तैनात हैं। बुधवार को रेनू और उसका भाई रविंद्र सिंह निर्माणाधीन मकान पर गए हुए थे। जबकि रेनू की बेटी पूजा स्कूल पढ़ने गई थी। दोपहर में जब पूजा स्कूल से वापस आई तो उसकी मां ने उसे प्लॉट पर ही रोक लिया। जिसके बाद रेनू अपनी बेटी पूजा के साथ सैनिक कॉलोनी स्थित मकान पर पहुंची। काफी देर तक खटखटाने के बाद भी जब दरवाजा नहीं खुला तो रेनू ने अपने भाई रविंद्र सिंह को बुलाया और अपनी बेटी पूजा को दीवार के सहारे मकान के अंदर भेजा। जिसके बाद पूजा ने घर का मेन गेट खोला। अंदर का नजारा देखने पर तीनों सन्न रह गए। घर के आंगन, रसोई घर और बेडरूम में खून बिखरा पड़ा था। बेडरूम में खीम सिंह चौहान और उनकी मां विशनी देवी खून से लथपथ पड़ी थीं। जिन्हें देखकर परिजनों में चीख-पुकार मच गई। परिजनों ने आनन-फानन में पड़ोसियों को सूचना दी। साथ ही दोनों घायलों को घर के पास ही में स्थित श्री कृष्णा हॉस्पिटल में भर्ती कराया। परिजनों ने घटना की सूचना पुलिस को दी। सूचना पर कटोराताल चौकी इंचार्ज मदन बिष्ट ने घटना के संबंध में परिजनों से जानकारी जुटाई। पुलिस जांच में प्रथम दृष्टया मामला घरेलू कलह का प्रतीत हो रहा है।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी जेल में मारपीट, एक बंदी के हाथ-पैर तोड़े, लगाना पड़ा पक्का प्लास्टर..

नवीन समाचार, नैनीताल, 21 जनवरी 2020। हल्द्वानी जेल में बंद बंदी आपस में भिड़ गये जिसके बाद हंगामा हो गया। बंदियों का आरोप है कि एक बंदी रक्षक ने उन्हें पीटा। एक बंदी के हाथ-पांव टूट ्रगये जिसके बाद आनन-फानन में उसे बेस अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उपचार कराते हुए बंदी के हाथ और पैर में पक्का प्लास्टर चढ़ाना पड़ा। इस दौरान बंदी को अस्पताल ले जाने के लिए स्ट्रेचर भी नहीं मिला। उपचार के बाद बंदी को जेल ले जाया गया। वहीं जेल अधीक्षक मनोज आर्य का कहना है कि जेल के अंदर बंदियों के बीच बर्चस्व के लिए हुए आपसी संघर्ष में बंदियों को अलग करने के लिए हल्का बल प्रयोग किया गया।

नियमित रूप से नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड के समाचार अपने फोन पर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे टेलीग्राम ग्रुप में इस लिंक https://t.me/joinchat/NgtSoxbnPOLCH8bVufyiGQ से एवं ह्वाट्सएप ग्रुप से इस लिंक https://chat.whatsapp.com/ECouFBsgQEl5z5oH7FVYCO पर क्लिक करके जुड़ें।

जेल अधीक्षक मनोज आर्य ने बताया कि बंदी राजू मसीह सहित कई अन्य बंदियों ने हर दिन अलग-अलग तरह की मांग करने पर बंदी एक बंदीरक्षक से भिड़ गया। जिसके बाद बीच-बचाव में दूसरा बंदीरक्षक पहुंचा तो अन्य बंदियों ने मिलकर उनके साथ मारपीट कर दी। मामला की रिपोर्ट की गई है। बंदी को पक्का प्लास्टर चढ़ाने अस्पताल ले जाया गया।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में युवकों के खिलाफ मारपीट का मुकदमा दर्ज..

नवीन समाचार, नैनीताल, 14 जनवरी 2020। शहर के मल्लीताल स्थित अंडा मार्केट के पार्किंग संचालकों से मारपीट के मामले में अज्ञात युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार रात्रि करीब 11 बजे अंडा मार्केट की पार्किंग में कुछ अज्ञात युवकों ने पार्किंग संचालक शेरवुड कंपाउंड निवासी अंकित कुमार और अश्वनी कुमार के साथ मारपीट कर दी, साथ ही जान से मारने की धमकी भी दी। मारपीट में वे घायल हो गए। बीडी पांडे जिला अस्पताल में उपचार के बाद उन्होंने मल्लीताल कोतवाली में तहरीर दी। कोतवाली पुलिस ने एसआई मो. यूनुस को मामले की जांच सौंपकर मामले में जांच शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें : शराबी जेठ ने महिला को पत्थर मारकर घायल किया

नवीन समाचार, नैनीताल, 25 दिसंबर 2019। मुख्यालय स्थित बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में बुधवार सुबह लीला देवी (36) पत्नी घनानंद फुलारा निवासी ग्राम बजून को घायल अवस्था में भर्ती कराया गया। महिला के सिर में खुला घाव था, साथ ही कई अन्य चोटें भी थीं। घायल महिला ने बताया कि उसके सगे जेठ तारा दत्त ने उसका यह हाल किया है। जेठ की हरकतों व शराब पीने की लत से काफी पहले ही उसकी पत्नी मायके जा चुकी है। अब जेठ अपनी मां के साथ रहता है, और अक्सर शराब पीकर बहु पर झपटता रहता है। कई बार मारपीट कर चुका है। महिला ने बताया कि राजस्व पुलिस व नागरिक पुलिस में शिकायत की जा रही है। परिवार का मामला है। यदि आगे से ऐसी हरकतें करने से लिखित में तौबा करता है तो ठीक है, अन्यथा पूरी कानूनी कार्रवाई करेंगे।

यह भी पढ़ें : महिला अधिवक्ता की तहरीर पर घर में घुसने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज, भाई पर भी क्रॉस एफआईआर

-गत 16 दिसंबर की घटना, गाली-गलौज, जान से मारने की धमकी व मारपीट के लगाए गए हैं आरोप
नवीन समाचार, नैनीताल, 19 दिसंबर 2019। मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने जिला न्यायालय में महिला अधिवक्ता स्वाति परिहार की तहरीर पर अज्ञात लोगों तथा प्रदीप निवासी एक व्यक्ति की तहरीर पर महिला अधिवक्ता के भाई के विरुद्ध गाली-गलौच व जान से मारने की धमकी सहित अन्य धाराओं में दो मुकदमे दर्ज किये हैं। घटना बीते सोमवार 16 अगस्त की है।

नियमित रूप से नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड के समाचार अपने फोन पर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे टेलीग्राम ग्रुप में इस लिंक https://t.me/joinchat/NgtSoxbnPOLCH8bVufyiGQ से एवं ह्वाट्सएप ग्रुप से इस लिंक https://chat.whatsapp.com/ECouFBsgQEl5z5oH7FVYCO पर क्लिक करके जुड़ें।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार रुकुट कंपाउंड निवासी महिला अधिवक्ता स्वाति परिहार का आरोप है कि रात्रि करीब 9 बजे 10-15 अज्ञात लोग उनके घर में घुसे और गाली गलौच कर जान से मारने की धमकी दी। उनका कहना है कि उन्होंने समाधान पोर्टल में गंदगी को लेकर शिकायत की थी। संभवतया इसी कारण लोग उनके घर में घुसे। पुलिस ने उनकी तहरीर पर भारतीय दंड संहिता की धारा 147, 452, 504 व 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच वरिष्ठ उप निरीक्षक भुवन चंद्र मासीवाल को जांच सोंप दी है। वहीं रुकुट कंपाउंड के ही निवासी प्रदीप नाम के व्यक्ति ने पुलिस को तहरीर देकर आरोप लगाया है कि नानू बोरा नाम के युवक ने उसके साथ गाली-गलौच व मारपीट की, तथा जान से मारने की धमकी भी दी। इससे उनके चेहरे सहित कई जगह गंभीर चोट आईं। उन्होंने अपना मेडिकल भी कराया है। पुलिस ने प्रदीप की तहरीर पर भादंसं की धारा 323, 504 व 506 के तहत मुकदमा पंजीकृत कर दिया है। मामले की जांच एसआई हरीश सिंह को सोंपी गई है। वहीं एसएसआई मासीवाल ने बताया कि मूलतः प्रदीप व महिला अधिवक्ता के भाई नानू के बीच मारपीट हुई थी।

यह भी पढ़ें : काठगोदाम में रोडवेज बस पर बाइक सवार युवकों का हमला, बमुश्किल बचाई यात्रियों व चालक ने जान

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 8 दिसंबर 2019। काठगोदाम में पिथौरागढ़ डिपो की रोडवेज बस पर करीब डेढ़ दर्जन युवकों ने अनायास ही अज्ञात कारण से पथराव कर दिया। एकाएक हुए पथराव से यात्रियों में हड़कंप मच गया। पथराव में बस के शीशे चकनाचूर हो गए। यात्रियों व चालक ने जैसे-तैसे भागकर जान बचाई। मामले में चालक-परिचालक की ओर से पुलिस को तहरीर सौंपी जा रही है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार पिथौरागढ़ डिपो की रोडवेज बस संख्या यूके 07पीए-3198 दिल्ली से लौटते वक्त शनिवार की देर रात ईंधन भराने के लिए काठगोदाम डिपो पहुंची थी। बताया गया है कि चालक पंकज पांडे का पहले कुछ बाइक सवार युवकों से हल्का विवाद हो गया था। बाद में जैसे ही वह जैसे ही ईंधन भरा कर बस को लेकर डिपो के गेट के पास पहुंचा तभी बाइक सवार करीब 15-16 लड़के सड़क पर खड़े हो गए। चालक पंकज ने युवकों ने हटने का काफी अनुरोध किया लेकिन वे नहीं माने। उन्होंने ईंट-पत्थरों से बस पर हमला कर दिया। इससे बस में बैठे यात्रियों में चीख-पुकार मच गई। चालक पंकज ने जैसे-तैसे युवकों के चंगुल से भागकर जान बचाई। रोडवेज बस को खासा नुकसान पहुंचा है। बस के यात्रियों को डिपो की ही दूसरी बस में बैठाकर गन्तव्य को भेजपा गया। वहीं घटना से रोडवेज के अधिकारी अनभिज्ञ बताए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें : ऐसी कड़ी कार्रवाई ! पत्नी-बच्चों से मारपीट पर पति-देवर को भेजा गया जेल..

-घर के बैल को अंदर-बाहर बांधने की मामूली बात पर हुई मारपीट
नवीन समाचार, नैनीताल, 8 नवंबर 2019। सामान्यतया घर के पत्नी-बच्चों के झगड़े घर-समाज में ही निपट जाते हैं और अधिकतम परिवार न्यायालयों तक पहुंचते हैं, किंतु एक ऐसा मामला प्रकाश में आया है जिसमें पत्नी की शिकायत पर उसके पति व देवर को जेल भेज दिया गया है।
मल्लीताल कोतवाली पुलिस के अनुसार मामला बीती 4 नवंबर का है। विवाद के मूल में मुख्यालय के निकट मंगोली में घर के पशुओं को अंदर-बाहर बांधने को लेकर हुए मामूली विवाद रहा। पीड़ित महिला लक्ष्मी देवी के पति बहादुर सिंह व देवर पुष्कर सिंह ने मामूली विवाद में उसके नौ वर्षीय बेटे पीयूष का हाथ तोड़ दिया तथा 17 वर्षीया बेटी कल्पना और मां लक्ष्मी देवी से भी मारपीट की। इस पर लक्ष्मी देवी ने अपने पति व देवर के खिलाफ मंगोली चौकी पुलिस में शिकायत की। पुलिस के अनुसार जब पुलिस मौके पर पहुंची, तब भी दोनों भाई बहादुर सिंह व पुष्कर सिंह बेहद आक्रामक थे और किसी भी घटना को अंजाम दे सकते थे। इसलिए उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में पेश कर अदालत के आदेश पर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।

यह भी पढ़ें : शराब पीकर महिला खिलाड़ियों के शौचालय में घुसा सिपाही, जमकर धुना, आईसीयू में भर्ती, हालत गंभीर

शाकिर हुसैन @ नवीन समाचार, कालाढूंगी, नैनीताल, 5 नवंबर 2019। निकटवर्ती बैलपड़ाव स्थित आईआरबी फर्स्ट में एक सिपाई द्वारा शराब पीकर शौचालय में महिला खिलाड़ी सिपाहियों से छेड़छाड़ करने और इस पर महिला सिपाहियों के द्वारा सिपाही को पीट-पीट कर अधमरा करने का मामला प्रकाश में आया है। विभागीय अधिकारियों ने पिटे सिपाही को पहले रामनगर के अस्पताल में भर्ती कराया, लेकिन वहां से उसे उसकी गंभीर दशा को देखकर रेफर कर दिया गया। इसके बाद उसका काशीपुर के निजी अस्पताल में आईसीयू में उपचार कराया जा रहा है। जहां युवक की गम्भीर हालत बनी हुई है। वहीं आईआरबी के अधिकारी मामले में जांच करने और सिपाही द्वारा महिला खिलाड़ियों से छेड़छाड़ को बड़ी घटना बता रहे हैं। वहीं मारपीट पर शक जताया जा रहा है कि सिपाही को चोटें मारपीट से आईं अथवा शराब पीकर गिरने आदि से।
प्राप्त जानकारी के अनुसार बैलपड़ाव स्थित आई आर बी में रविवार की देर शाम को एक सिपाही सुनील कुमार को लगभग दर्जनभर महिला खिलाड़ी सिपाहियों ने बुरी तरह से पीट-पीट कर घायल कर दिया। उसकी हालत बिगड़ने पर घायल सिपाही को विभागीय अधिकारियों ने आनन फानन में रामनगर के निजी अस्पताल ले गए जहां पर सिपाही की हालत गम्भीर देख चिकत्सकों ने सिपाही को हायर सेन्टर ले जाने को कहा तो सिपाही को काशिपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया जहा सिपाही आईसीयू में भर्ती है और उसकी हालत गम्भीर बताई जा रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उच्चाधिकारियों के समक्ष घटना को अंजाम दिया गया। वहीं ज्ञात हुआ है कि घायल सिपाही सुनील कुमार के परिजनों को सूचित नही किया गया। दूसरी ओर आरोप है कि सुनील कुमार नशे की हालत में महिलाओं के शौचालय में चला गया था। वहां मौजूद एक महिला खिलाड़ी सिपाही ने उस पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया था। मामले में सवाल उठ रहे हैं कि आरोपी सिपाही सुनील कुमार पर विभागीय करवाई या पुलिस कारवाई की जगह विभाग के उच्चाधिकारियों के सामने मारपीट की गई।

यह भी पढ़ें : युवक से मारपीट, 35 हजार छीनने का भी आरोप !

नवीन समाचार, नैनीताल, 17 अक्टूबर 2019। नगर के तल्लीताल पुलिस चौकी के पास स्थित बॉम्बे मोबाइल शॉप में कार्यरत मोहम्मद अजीम नाम के युवक से दूसरी मोबाइल शॉप के लड़कों ने पिटाई कर दी। मामले में पीड़ित का कहना है कि वह पहले पिटाई करने वाले लड़कों की दुकान में काम करता था। बाद में उसने वहां से काम छोड़कर इस दुकान में काम शुरू किया। तभी से पुरानी दुकान के लड़के उस पर काम छोड़ने को कह रहे थे। बृहस्पतिवार को दो युवकों ने उसे दुकान से बाहर बुलाया और उसकी पिटाई कर दी और जेब से 35 हजार रुपए भी छीन लिये। इस मामले में तल्लीताल थाना पुलिस ने कोई शिकायत न मिलने की बात कही है।

यह भी पढ़ें : ससुरालियों ने तोड़ीं घर जमाई की अंगुलियां

-पीड़ित ने एसएसपी को पत्र लिखकर बताई व्यथा, राजस्व पुलिस और पुलिस ने भी शिकायत पर नहीं की कोई कार्रवाई

पीड़ित घर जमाई

नवीन समाचार, नैनीताल, 4 अगस्त 2019। जनपद के ग्राम जाख पट्टी पाडली तहसील कोश्यां कुटौली में अपनी ससुराल में रहने वाले दीप सिंह पुत्र मल्लू सिंह ने जनपद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर न्याय की गुहार लगाई है। दीप सिंह के सिर में चोट है और हाथों की अंगुलियां टूटी हुई हैं, जिनका वह बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में उपचार करा रहा है। उसका कहना है कि वह गांव में अपनी पत्नी व तीन बच्चों के साथ ससुराल के लोगों द्वारा दी गयी जमीन पर रहकर अपने परिवार की गुजर-बसर करता है। गांव के अन्य लोग ससुराल में रहने के कारण उससे रंजिश रखते हैं और उसे ससुराल के घर व जमीन से बेदखल करना चाहते हैं और इसलिए अक्सर उसका रास्ता रोकने, खेतों मंे जानवर छोड़ने जैसी हरकतें करते रहते हैं।
इधर गत 31 जुलाई को उसके साथ गांव में कांति सिंह पुत्र गोपाल सिंह, हरेंद्र नेगी पुत्र हीरा सिंह, जीवन सिंह पुत्र नैन सिंह व नैन सिंह पुत्र हीरा सिंह ने झगड़ा किया और एक अगस्त की रात्रि करीब नौ बजे ये तथा चंदन सिंह पुत्र धन सिंह, दीवान सिंह पुत्र प्रताप सिंह, हरक सिंह व त्रिलोक सिंह आदि ने घर में घुसकर लाठी-डंडों से पिटाई की, जिससे उसे हाथ व सिर पर गंभीर चोटें पहुंचाकर उसे अधमरा कर छोड़ गये। साथ ही यह भी कहते हुए गये कि वह जल्दी से जल्दी गांव से चला जाये, अन्यथा उसे जान से मार देंगे। उसने हमेले के बाद 100 नंबर पर फोन कर पुलिस बुलाई, किंतु पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। यही नहीं, बाद में वह घटना की रिपोर्ट लिखाने थाना भवाली गया परंतु दो घंटे थाने में बैठाने के बाद भी उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई।
चित्र परिचय 04एनटीएल-5ः नैनीताल। ससुरालियों द्वारा पीटा गया घायल जमाई।

Leave a Reply

Loading...
loading...