यूपी में हत्या कर सड़क किनारे फेंकी गयी युवती की शिनाख्त नैनीताल जनपद निवासी के रूप में हुई, हत्यारा…

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नियमित रूप से नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड के समाचार अपने फोन पर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे टेलीग्राम ग्रुप में इस लिंक https://t.me/joinchat/NgtSoxbnPOLCH8bVufyiGQ से एवं ह्वाट्सएप ग्रुप से इस लिंक https://chat.whatsapp.com/ECouFBsgQEl5z5oH7FVYCO पर क्लिक करके जुड़ें।

प्रियंका अधिकारी

नवीन समाचार, रामनगर, 11 मार्च 2020। बीती छह फरवरी को यूपी के रामपुर की सिविल लाइन्स कोतवाली क्षेत्र में एक युवती का शव पनवड़िया के पास सड़क किनारे पड़ा मिला था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उसके सिर पर चोट लगने से मौत होने की पुष्टि हुई थी। तब पुलिस मृतका की पहचान नहीं कर सकी थी, बावजूद पुलिस ने अज्ञात के विरुद्ध उसकी हत्या करने का मुकदमा दर्ज किया था। इधर बुधवार को मृतका की शिनाख्त नैनीताल जनपद के रामनगर थाना क्षेत्र के गंगोत्री विहार कानिया निवासी प्रियंका अधिकारी (24) पुत्री खुशाल अधिकारी के रूप में हो गई है। मृतका दिल्ली में एक प्राइवेट कंपनी में कार्यरत थी। परिवार ने ग्राम बसई ओखलढूंगा निवासी रिश्तेदार व हरीश नाम के कथित दोस्‍त पर उसकी हत्या का शक जताया है। रामनगर के कोतवाल रवि सैनी ने मृतका के कानिया निवासी प्रियंका अधिकारी होने की पुष्टि करते हुए बताया कि इस मामले में दिल्ली में पहले ही एक मुकदमा दर्ज है। बताया गया है कि हरीश पर प्रियंका का अपहरण करने का मामला दिल्ली पुलिस में दर्ज है। हरीश ही प्रियंका को अपने साथ ले गया था।
प्राप्त जानकारी के अनुसार जब प्रियंका का शव अज्ञात युवती के तौर पर रामपुर में सड़क किनारे मिली थी, तब उसके सिर पर चोट थी और चेहरा खून से सना हुआ था। इससे पुलिस ने माना कि किसी ने पत्थर से कुचलकर उसकी हत्या की है, लेकिन जब शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया तो पता चला कि चेहरा ठीक है। वहां सिर्फ खून जमा होने से चेहरा नजर नहीं आ रहा था। अलबत्ता, पुष्टि हुई कि उसकी सिर में चोट करके हत्या की गई है। आगे पुलिस की जांच एवं आरोपी की गिरफ्तारी के बाद हत्या करने के कारणों का सही पता लगने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें : अल्मोड़ा जिले में मिला नैनीताल जिले के 8 दिन पूर्व गायब युवक का शव, रिश्तदार पर हत्या का शक

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 3 मार्च 2020। बनभूलपुरा थाना क्षेत्र से आठ दिन पहले संदिग्ध परिस्थितियों में लापता एक युवक-किदवई नगर निवासी 25 वर्षीय साजू खान पुत्र हाफिज खान का शव अल्मोड़ा जिले के लमगड़ा थाना क्षेत्र में मिला है। उसके हाथ और पैरों में घाव के निशान हैं जिससे उसकी हत्या की आशंका जताई जा रही है। वह 23 फरवरी को रात करीब आठ बजे परिजनों को बिना बताए घर से चला गया था। कुछ दिन तक परिजन उसकी खोजबीन करते रहे लेकिन उसका कोई सुराग नहीं मिला। 27 फरवरी को उसके पिता ने बनभूलपुरा थाने में बेटे की गुमशुदगी दर्ज कराई थी। तभी से बनभूलपुरा थाना पुलिस उसकी खोजबीन में जुटी थी इसी दौरान 29 फरवरी को अल्मोड़ा जिले के लमगड़ा थाना क्षेत्र में पुलिस को एक युवक का शव बरामद हुआ। शिनाख्त के लिए लमगड़ा थाना पुलिस ने आसपास के जिलों में भी पूछताछ की। इधर मृतक की शिनाख्त साजू के रूप में हुई। बनभूलपुरा थाना प्रभारी सुशील कुमार ने बताया कि एक टीम अल्मोड़ा भेजी गई है। मामले की जांच की जा रही है। पुलिस उसकी हत्या की आशंका भी जता रही है। सूत्रों के अनुसार 25 फरवरी को साजू अपने एक रिश्तेदार के साथ देखा गया था। पूछताछ के लिए पुलिस ने उसके एक रिश्तेदार को हिरासत में लिया है। पुलिस जल्द मामले का खुलासा कर सकती है।

यह भी पढ़ें : बिना किसी सबूत 110 सीसीटीवी कैमरे छान नैनीताल पुलिस ने आखिर खोज निकाले जिंदा जलाई टीवी एक्ट्रेस के हत्यारे, मिला इतना सा इनाम..

-बीती 30 जनवरी को पति ने साथी की मदद से गला घोंटकर की गई हत्या
नवीन समाचार, हल्द्वानी, 12 फरवरी 2020। बीती 30 जनवरी को थाना कालाढूंगी क्षेत्र के ग्राम बैलपोखरा क्षेत्र में एक अज्ञात महिला का शव अत्यधिक जली हुई अवस्था में बरामद हुआ था। इस मामले में हत्यारे कोई सबूत नहीं छोड़ गए थे, बावजूद नैनीताल पुलिस ने महिला के हत्यारों को खोज कर सलाखों के पीछे पहुंचा दिया है। मृतका की पहचान टीवी अदाकारा अनीता के रूप में हुई है। वह कुछ टीवी सीरियलों में काम कर चुकी थी, तथा इधर फिल्मों में अभिनय के लिए मुंबई जाना चाहती थी। इससे पहले ही उसके पति ने अवैध संबंधों के शक में अपने दोस्त की मदद से उसकी रस्सी से गला घोंटकर हत्या कर दी। इस पूरी तरह से ब्लाइंड हत्याकांड का खुलासा करने वाली पुलिस टीम में कालाढुंगी के थाना प्रभारी दिनेश नाथ महंत, उप निरीक्षक भूपाल राम पौरी, दिनेश चन्द्र जोशी, जगदीप नेगी, नरेन्द्र कुमार, लखविन्दर, अशोक काम्बोज, आरक्षी प्रकाश, हरीश बिष्ट, रविंद्र सिंह, एसओजी हल्द्वानी के आरक्षी त्रिलोक सिंह, जितेन्द्र कुमार, अनिल व किशन शामिल हैं।

इनाम की धनराशि काफी कम : इस सफलता पर पुलिस की टीम को प्रदेश के पुलिस महानिदेशक-अपराध एवं कानून व्यवस्था अशोक कुमार के द्वारा इस घटना के अनावरण के लिए 10,000 रुपए पुरस्कार देने की घोषणा की है। ईनाम की राशि पुलिस टीम द्वारा किये गए कार्य के मुकाबले काफी कम है, और टीम के सदस्यों को बेहद मामूली धनराशि ही मिल पाएगी। ऐसा इसलिए कि प्रदेश में पुलिस कर्मियों को बड़े से बड़ा कार्य करने पर ईनाम में बेहद कम धनराशि का ही प्राविधान है।

इस तरह खाक छान कर हत्यारों तक पहुंची नैनीताल पुलिस
नैनीताल जनपद के एसएसपी सुनील कुमार मीणा ने बुधवार को पत्रकार वार्ता में बताया कि महिला का शव मिलने के बाद उन्होंने स्वयं अन्य उच्चाधिकारी तत्काल मौके पर पहुंचे तथा घटनास्थल का निरीक्षण किया तथा घटना के अनावरण हेतु अलग-अलग टीमें गठित कर उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश दिये। आगे पुलिस ने घटना के संबंध में थाना कालाढूंगी पुलिस ने आस-पास के लोगों से पूछताछ कर शव के शिनाख्त एवं हत्यारों की पहचान के लिए मौके पर एफएसएल व डाग स्क्वाड की टीमों को बुलाकर आवश्यक साक्ष्य संकलन किये गए। टीमों के द्वारा सर्वप्रथम घटनास्थल के पास के सीसीटीवी कैमरों को चेक किया गया, जिसमें दिखा कि घटना के समय एक कार घटना स्थल पर चूनाखान की तरफ से आयी तथा वही कार लगभग 20 मिनट बाद वापस चूनाखान की तरफ गयी। इससे गाड़ी का एक हल्का सा खाका प्राप्त हुआ। टीमों द्वारा चूनाखान तथा कमोला-धमोला पर रोड पर लगे कैमरों को चेक किया गया किन्तु यह कार वहां जाती नहीं मिली। सीसीटीवी की इन वीडियो फुटेज में दिख रही कार की पहचान हेतु कार एक्सपर्ट तथा स्थानीय मैकेनिकों को दिखाया गया। उनके द्वारा उस कार की पहचान सफेद रंग के अतिरिक्त अन्य किसी रंग की लम्बी सैडान, होण्डा सिटी या होण्डा अमेज कार होने की संभावना जताई गई। इस पर पुलिस टीम ने पूरे क्षेत्र में निवास करने वाले सफेद रंग के अलावा लम्बी सैडान कार के मालिकों की सूची तैयार की गयी। आगे कालाढूंगी से रामनगर के बीच करीब 30 किमी की दूरी में लगे लगभग 110 सीसीटीवी कैमरों को चेक करने पर कार का नंबर यूके04एए-6946 होना तथा यह कार चकलुवा निवासी रमनजीत सिंह की होने का पता चला। रमनजीत से पूछताछ करने पर बताया कि यह कार 30 जनवरी को उसका जीजा धर्मपुर चूनाखान निवासी कुलदीप पुत्र जोगेंद्र सिंह मांग कर ले गया था। इस पर कुलदीप को 11 फरवरी को गडेरी नदी के पुल के पास से गिरफ्तार किया गया। उसने पूछताछ करने पर बताया कि दिल्ली के बदरपुर बॉर्डर में रहने वाला मूलतः एकता कालोनी गली नं0 02 अबोहर फिरोजपुर पंजाब निवासी रवींद्र पाल सिंह आहूजा उर्फ राजू पुत्र कश्मीर सिंह से उसकी दोस्ती है। रविंद्र अपनी पत्नी से बहुत परेशान था। दिनांक 30 व 31 जनवरी की रात्रि को रवींद्र व कुलदीप ने रस्सी से उसका गला घोटकर मारकर उसे बैलपोखरा क्षेत्र में जला दिया था। इस पर पुलिए ने रवींद्र को भी खड़खड़ी चौकी क्षेत्र के अंतर्गत मोतीचूर रेलवे स्टेशन के पास से 11 फरवरी को ही गिरफ्तार कर लिया। दोनों ने पूछताछ में बताया कि रवींद्र की पत्नी अनीता टीवी शो व अन्य कार्यक्रमों में कार्य करती थी। रवींद्र को शक था कि अनीता के कश्मीर निवासी एक व्यक्ति से अवैध सम्बन्ध थे। रवींद्र द्वारा काफी समझाने के बाद भी वह नही मानी। इधर दिसंबर 2019 में वह मुम्बई जाकर फिल्मों में काम करने की बात करने लगी थी। इस पर रवींद्र ने अनीता की हत्या करने की योजना बनाई। गयी। रवींद्र ने अपनी पत्नी को बताया कि मुम्बई में कुलदीप की जानने वाली एक महिला है, जो इस तरह की ट्रेनिग कराती है उससे बात कराकर उसे मुम्बई भिजवा देगा। योजना के तहत कुलदीप को योजना में शामिल कर रवींद्र ने 24 जनवरी को कुलदीप से अनीता की हत्या करने हेतु एक रस्सी, 5-6 लीटर जला हुआ मोबिल आयल व एक कार का इन्तजाम करने को कहा गया, और इसके ऐवज में कुलदीप की पत्नी के खाते में 2000 रुपए डाले। योजना के अनुसार 30 जनवरी की रात्रि 11 बजे रवींद्र अपनी पत्नी के साथ रामनगर पहुंचा। यहां पर कुलदीप उसको कार के साथ मिला। रोडवेज स्टेशन के पास रवींद्र ने अनीता की चाय में नींद की गोली डालकर उसे पिला दी। रात्रि लगभग 12.30 बजे तीनों कार में बैठकर कालाढूंगी की तरफ आए। रात्रि करीब डेढ़ बजे जब अनीता बेहोश हो गयी तो चूनाखान के पास रवींद्र ने डिग्गी से रस्सी निकालकर अनीता का गला घोंट कर हत्या कर दी तथा उसकी लाश को बैलपोखरा जाने वाली रोड पर लाकर खेत में जला हुआ मोबिल आयल डालकर आग लगा दी व गाड़ी में बैठकर कुलदीप के घर आ गये। दूसरे दिन रविन्द्र वापस दिल्ली चला गया।

यह भी पढ़ें : नैनीताल : दो हत्याएं, दोनों के खुलासे पर आरोपितों के परिवारों में असंतोष..

101 वर्षीय सन्यासी की हत्या के मामल में आरोपित की पुत्री ने लगाया पुलिस पर फंसाने का आरोप
नवीन समाचार, नैनीताल, 8 फरवरी 2020। बीती 31 जनवरी को कैंची धाम के पास जंगल में 101 वर्षीय सन्यासी बाबा केशर नाथ गिरि की हत्या के मामले में नैनीताल पुलिस ने मंदिर में ही रहने वाले निकटवर्ती निगलाट निवासी 60 वर्षीय सेवादार तीरथ सिंह रावत को हत्यारोपी के रूप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इस मामले में अब आरोपित की पुत्री गिरिजा मेहता ने पुलिस की कार्यप्रणाली को कठघरे में खड़ा कर दिया है। गिरिजा ने इस मामले में डीएम को ज्ञापन सोंपकर कहा है कि घटना के दिन अज्ञात लोगों ने बाबाजी तथा उनके 60 वर्षीय पिता को बुरी तरह से मारापीटा। पुलिस ने इस घटना में उनके पिता व भाई का जांच के नाम पर उत्पीड़न किया। दोनों को जबर्दस्ती जुर्म कबूलने के लिए आधी रात्रि में घर से जबर्दस्ती उठाकर अमानवीय तरीके से मारपीट की गई, तथा दिन में भूखा-प्यासा रखा गया। दावा किया कि दो फरवरी को रात्रि के एक बजे भवाली खाने में उसने स्वयं और उसके मामा-मामी ने देखा कि नशे की हालत में थाने के अधिकारी व पुलिसकर्मी जबरन जुर्म कबूलने के लिए उसके पिता व भाई को लात-घूंसों से मार रहे थे। मना करने के साथ उनके साथ भी यहां तक कि बंदूक की बट को सामने कर गाली गलौच की गई तथा महिलाओं के लिए बेहद अभद्र शब्दों का प्रयोग किया गया। दावा किया कि पिता को कोई नशीला पदार्थ खिलाकर जुर्म कबूलवाया गया। कहा कि उसका पूरा परिवार भवाली पुलिस के साथ जांच में सहयोग करने को तैयार है, परंतु उनके साथ ऐसा व्यवहार न किया जाए। पत्र की प्रति एसएसपी को भी भेजी गई है।

राजेश हत्याकांड में आरोपितों के परिजनों ने की सीबीसीआईडी जांच की मांग

स्वर्गीय राजेश भट्ट हत्याकांड में सीबीसीआईडी जांच की मांग करते आरोपितो के परिजन।

नैनीताल। बीती 26 जनवरी को मूलतः अल्मोड़ा के जागेश्वर निवासी व सिडकुल सितारगंज की फैक्टरियों में श्रमशक्ति उपलब्ध कराने वाले राजेश भट्ट नाम के युवक की धारी सरना के जंगल में पिकनिक के दौरान संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। इस मामले में राजस्व पुलिस ने मृतक के साथ यहां पिकनिक पर आए 13 युवकों को हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इस मामले में गिरफ्तार आरोपियों के परिजनों ने डीएम को ज्ञापन सोंपकर मामले की सीबीसीआईडी जांच की मांग उठाई है। उनका कहना है कि यह हत्या नहीं बल्कि एक हादसा था। राजस्व पुलिस ने हादसे को हत्या का रूप देते हुए इस मामले में बेवजह 13 लोगों को फंसाया है। जेल भेजे गए किसी भी साथी का न तो कोई आपराधिक आपराधिक इतिहास है, ना ही कोई आपराधिक प्रवृति का है। इससे उनके परिजन परेशान हैं। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही वह इस संबंध में मुख्यमंत्री से न्याय की गुहार लगाएंगे।
मामले में गिरफ्तार विक्रम रावत की पत्नी शोभा रावत, राहुल गुप्ता की मां संतोष देवी गुप्ता और दीपक लाल की पत्नी बबीता का कहना है कि सिडकुल में काम करने वाले सभी 14 लोग पिकनिक मनाने गए थे, जहां यह दुखद हादसा हुआ। स्वर्गीय भट्ट की मौत का उन्हें भी दुख भी है। राजस्व पुलिस ने मामले की जांच किए बगैर हादसे को हत्या का रूप देते हुए पिकनिक मनाने गए सभी 13 लोगों के खिलाफ धारा 302 का केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

यह भी पढ़ें : 101 वर्षीय सन्यासी की हत्या का हुआ खुलासा…. हमने पहले ही इशारा कर दिया था

 

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 7 फरवरी 2020। टांडा के जंगल में संजय वन के पास एक युवक का शव मिला है। युवक के सिर व गर्दन पर चोट के निशान मिले हैं। एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने मौके पर पहुंचकर घटना की जानकारी ली। पुलिस ने शव की शिनाख्त करने की कोशिश की, मगर शिनाख्त नहीं हो सकी है। पीएम रिपोर्ट के अनुसार युवक के गर्दन पर धारदार हथियार से गोदकर हत्या की गई है। युवक के जेब से शिनाख्त के लिये कोई कागजात और आइडी नहीं बरामद हुई। जिससे शव की शिनाख्त हो सकी, लेकिन शरीर पर चोट के निशान देखते वक्त युवक की गर्दन के पीछे सिर के बालों से छिपा हुआ ‘प्रियंका’ के नाम का टैटू खुदा हुआ मिला है। उम्मीद की जा रही है कि अब इस नाम से ही मृतक की शिनाख्त और हत्या का खुलासा हो सकेगा।
उल्लेखनीय है कि संजय वन के पास टांडा के जंगल में एक फैक्ट्री का बस चालक बुधवार को सुबह शौच करने गया था। तभी उसे वहां करीब 27 साल के एक युवक का शव पड़ा मिला। उसने इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना पाकर एसएसपी बरिंदरजीत सिंह, एएसपी देवेंद्र पींचा, सीओ प्रमोद कुमार, एसओ थाना पंतनगर अशोक यादव तथा सिडकुल चौकी इंचार्ज अनिल उपाध्याय मौके पर पहुंचे। युवक के सिर के पीछे व गर्दन के दाहिने तरफ धारदार हथियार के चोट के निशान थे। पुलिस ने आसपास के लोगों से पूछताछ की, मगर युवक की शिनाख्त नहीं हो सकी। एसएसपी ने बताया कि घटना देर रात की हो सकती है। मामले की जांच के लिए पुलिस टीम गठित कर दी गई है।

यह भी पढ़ें : 101 वर्षीय सन्यासी की हत्या का हुआ खुलासा…. हमने पहले ही इशारा कर दिया था

-कथित भक्त ने ही बाबा द्वारा शराब पीने पर फटकारने पर लकड़ी से वार किया, जिससे हो गई थी सन्यासी की मौत
नवीन समाचार, नैनीताल, 5 फरवरी 2020। जनपद के विश्व प्रसिद्ध कैंची धाम के पास जंगल में स्थित एक मंदिर में तपस्या करने वाले 103 वर्षीय सन्यासी व द्वितीय विश्व युद्ध के सेनानी रहे बाबा केशर नाथ गिरि की की गत 30 जनवरी को हत्या कर दी गई थी। इस मामले में मंदिर में ही रहने वाला उनका साथी निकटवर्ती निगलाट निवासी तीरथ सिंह भी घायल बताया गया था। अब पुलिस ने खुलासा किया है कि बाबाजी का साथी व खुद को बाबाजी का भक्त बताने वाले तीरथ पाल ने ही सन्यासी केशर नाथ गोस्वामी की हत्या की थी। उल्लेखनीय है कि हमने हत्या के दिन ही इसका इशारा किया था। अन्य समाचार माध्यमों की तरह नहीं लिखा था कि हत्यारे सन्यासी के साथी को भी घायल कर गए। बल्कि लिखा था कि साथी को भी घटना में चोटें आई हैं।
बुधवार को जनपद के एएसपी राजीव मोहन ने सीओ भवाली अनुषा बडोला के साथ पत्रकार वार्ता कर खुलासा किया कि हत्या मामूली विवाद में हुई। उन्होंने आरोपित तीरथ सिंह के बयानों के आधार पर दावा किया कि तीरथ सिंह को बाबा ने शराब पीने पर नाराज होकर सिर पर लकड़ी मार दी थी और धक्का देकर बाहर निकाल गया था और मंदिर से चले जाने को कह दिया था। इसके बाद जब बाबा अपने कमरे में चले गए तो तीरथ सिंह ने उनके कमरे में जाकर गुस्से में लकड़ी उठाकर बाबा पर दो वार किये, जिससे बाबाजी की मृत्यु हो गई। आरोपित की निशानदेही पर पुलिस ने खून लगी लकड़ी भी बरामद करने का दावा किया है। उसकी गिरफ्तारी एसओजी एवं एफएसएल की टीम के सहयोग से आरोपित एवं अन्य गवाहों के बिरोधाभासी बयानों एवं कॉल डिटेल व सीसीटीवी कैमरों की फुटेज आदि के आधार पर की गई। इस मामले में क्षेत्रीय ग्राम प्रधान पंकज निगल्टिया की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया था। बताया कि बाबाजी के कमरे में एक लाख रुपए से अधिक की धनराशि एवं 100 ग्राम चरस भी थी, जिसे नहीं छेड़ा गया था। इस पर पुलिस का शक बाहरी लोगों से हटा व तीरथ सिंह पर केंद्रित हुआ। गिरफ्तारी करने वाली टीम मं प्रभारी निरीक्षक भवाली आाशुतोष कुमार सिंह, वरिष्ठ उप निरीक्षक मनवर सिंह, उप निरीक्षक राजेश जोशी, हरीश पुरी व आशा बिष्ट शामिल रहे।

यह भी पढ़ें : किंग एक्सक्लूसिव: ‘कैंची धाम’ के पास 101 साल के बुजुर्ग सन्यासी की हत्या, पुलिस की रात भर कांबिंग, पकड़ में नहीं आये हत्यारे, साथी भी घायल

-पुलिस की रात भर चलाया सर्च अभियान, एसएसपी, एएसपी भी मौके पर गए, बावजूद पकड़ में नहीं आये हत्यारे

नवीन समाचार, नैनीताल, 31 जनवरी 2020। जनपद के विश्व प्रसिद्ध कैंची धाम के पास जंगल में एक मंदिर में रहने वाले 101 वर्षीय सन्यासी को बीती बृहस्पतिवार की रात्रि अज्ञात लोगों ने मरणासन्न अवस्था में मारपीट कर घायल कर दिया। उनके साथी युवक को भी चोटें आई हैं। सूचना मिलने पर पहुंची खैरना पुलिस ने घायल सन्यासी और उनके साथी को तत्काल भवाली के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उपचार के लिए भर्ती कराया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से पूरे क्षेत्र एवं आसपास के जंगल में हत्यारों की तलाश के लिए कॉम्बिंग-सर्च अभियान चलाया, एसएसपी सुनील कुमार मीणा एएसपी, सीओ, भवाली के थाना प्रभारी व खैरना की चौकी प्रभारी सहित पुलिस बल मौके पर पहुंचा। किंतु अज्ञात हत्यारे पकड़ में नहीं आ सके हैं। पुलिस ने मामले में मुकदमा दर्ज कर दिया है। शतायु सन्यासी की हत्या से रात्रि में ही पूरा क्षेत्र दहल उठा है, एवं आक्रोशित है। क्षेत्रीय लोगों ने हत्यारों की गिरफ्तारी न होने पर आंदोलन की धमकी दी है।
बताया गया है कि कैंची धाम के पास से हरतपा की ओर जाने वाली सड़क पर जंगल में करीब तीन किमी ऊपर जंगल में एक प्राचीन मंदिर की कुटिया में 101 वर्षीय सन्यासी केशर नाथ गिरि पुत्र किशन नाथ वर्ष 2004 से तपस्या करते थे। बीती रात्रि करीब साढ़े आठ बजे संभवतया दो लोग चोरी के इरादे से उनकी कुटिया में आये और सन्यासी के साथ मारपीट की। घटना में उनके साथी तीरथ सिंह थापा (55) भी घायल हुए। दोनों के ही सिर में चोट बताई गई है। बताया गया है कि जनवरी 2018 में भी यह लोग कुटिया में आए थे। खैरना चौकी प्रभारी आशा बिष्ट ने बताया कि रात्रि नौ बजे उन्हें घटना की जानकारी मिली, जिसके बाद घायल सन्यासी को भवाली के अस्पताल पहुंचाया गया और रात भर जंगल में सर्च अभियान चलाया। मामले में मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। ग्राम प्रधान पंकज निगल्टिया, नैन सिंह बिष्ट, हिमांशु कनवाल, कमल कनवाल, भुवन तिवारी, जगदीश तिवारी आदि भी पुलिस के साथ सर्च अभियान में साथ रहे। उन्होंने जल्द से जल्द घटना का खुलासा करने की मांग की है। इधर पुलिस मामले को नशेड़ियों की करामात और चरस के नशे के लिए हुए संघर्ष का परिणाम मानकर भी चल रही है। इस संबंध में कुछ नशेड़ियों पर पुलिस को शक है।
द्वितीय विश्व युद्ध के सेनानी रहे थे सन्यासी
नैनीताल। प्राप्त जानकारी के अनुसार दिवंगत सन्यासी केशर नाथ गोस्वामी सेना में रहे थे। वे द्वितीय विश्व युद्ध के सेनानी भी थे। उनके पैर में गोली लगने का निशान भी था। वे बताते थे कि यह निशान 1962 के युद्ध में गोली लगने का था। उनका मूल गांव बागेश्वर जिले के गरुड़, सोमेश्वर के पास था।

यह भी पढ़ें : अल्मोड़ा : 75 वर्षीया वृद्धा का घर में मिला दो दिन पुराना खून से सना शव

खून से लथपथ शव घर अंदर पड़ा थानवीन समाचार, अल्मोड़ा, 4 फरवरी 2020। जनपद के मौलेखाल तहसील के ग्राम पंचायत थात तराड़ के थात गांव में 75 वर्षीया वृद्ध महिला तुलसी देवी (75) पत्नी दीवान सिंह का खून से लथपथ शव घर के अंदर पड़ा मिला है। घर के दरवाजे पर बाहर से कुंडा लगा था। राजस्व पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए शव रानीखेत भेजा है। माना जा रहा है कि महिला की दो दिन पहले पीटकर हत्या कर दी गई है।
बताया गया है कि मृतका का मकान गांव की आबादी क्षेत्र से कुछ दूरी पर है। वह बकरी पालन कर जीवन यापन करती थी। उसका पुत्र गंगा सिंह रामनगर में होटल में काम करता है और परिवार के साथ वहीं रहता है। बहू राधा देवी ने सास तुलसी से रविवार सुबह फोन पर बात की, लेकिन रात आठ बजे फोन मिलाया तो नहीं मिला। सोमवार सुबह भी बात नहीं हुई तो पड़ोसी भागा देवी से जानकारी ली। उसने बताया कि तुलसी रात से कहीं नहीं दिखाई दी। भागा देवी ने कुबेर सिंह समेत अन्य ग्रामीणों को सूचना दी। ग्रामीण सोमवार को तुलसी को तलाशते रहे, लेकिन उसका कहीं पता नहीं चला। मंगलवार सुबह ग्रामीणों ने मकान के पीछे के कमरे के दरवाजे पर बाहर से लगा कुंडा खोलकर देखा तो वह अंदर जमीन पर मुंह के बल गिरी थी और चारों ओर खून फैला था। पास ही एक डंडा व गेहूं पीसने वाले चाक का पत्थर भी पड़ा था। सूचना पर 12 बजे देवायल के राजस्व उप निरीक्षक अमित भंडारी और पंकज बिष्ट मौके पर पहुंचे। इस बीच, पुत्र गंगा सिंह भी घर पहुंच गया। राजस्व उप निरीक्षक भंडारी का कहना है कि पोस्टमार्टम के बाद ही मौत का कारण स्पष्ट हो पाएगा। गंगा सिंह ने मां की हत्या का आरोप लगाते हुए राजस्व पुलिस से हत्यारों का पता लगाने की मांग की है।

यह भी पढ़ें : अपडेट : सितारगंज से घूमने आये अल्मोड़ा के युवक की हत्या ! 13 साथी हुए गिरफ्तार…

नवीन समाचार, धानाचूली, 28 जनवरी 2020। बीती 26 जनवरी की रात सितारगंज से दोस्तों के साथ घूमने आए जागेश्वर-अल्मोड़ा निवासी राजेश भट्ट की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के मामले में राजस्व पुलिस दूसरे दिन भी कुछ खास नहीं कर पाई है। अलबत्ता, राजस्व पुलिस ने पूछताछ के बाद राजेश के सभी तेरह साथियों को गिरफ्तार कर लिया है और उनसे पूछताछ जारी है। राजस्व पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है जिससे जांच को और मजबूती मिल सके।
बताया गया है कि 26 जनवरी की रात सितारगंज निवासी
युवाओं का एक दल मुक्तेश्वर और डोल आश्रम घूम वापस लौट रहा था, लेकिन इससे पहले युवाओं की टोली ने धारी तहसील के मटियाल गांव के समीप शराब पी व खाना खाया, मगर इस बीच उनके साथ आए साथी राजेश की संदिग्ध अवस्था में मौत हो गयी। पास ही झाडियों में खून के निशान, बचा हुआ खाना, मृत युवक का मफलर भी मिला पर साथ आए युवाओं ने उसकी मौत खाई में गिरने के चलते होना बताया। पूछताछ में राजेश के सभी साथियों के बयानों में विरोधाभास पाया गया, जिसके चलते राजस्व पुलिस ने सभी लोगों को गिरफ्तार कर जांच शुरू कर दी है। इस पूरे प्रकरण में राजस्व उपनिरीक्षक हेमचंद्र पलडिया का कहना है कि हत्याकांड के पीछे सभी तेरह लोगों की संलिप्तता प्रतीत हो रही है सभी को गिरफ्तार कर लिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर जांच आगे बढ़ेगी।

पूर्व समाचार : धारी तहसील के मटियाल की है घटना, डोल आश्रम और मुक्तेश्वर घूमने आये थे 14 युवक

दान सिंह लोधियाल @ नवीन समाचार, धानाचूली (नैनीताल), 27 जनवरी 2020। सितारगंज से मुक्तेश्वर घूमने आए 14 युवको के दल में शामिल एक युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गयी। मृतक अल्मोड़ा जनपद के जागेश्वर का रहने वाला था। मृतक के चाचा जागेश्वर निवासी भगवान चंद्र पुत्र कमलापति भट्ट की तहरीर पर राजस्व पुलिस ने उसके 13 साथियों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 302/34 के तहत हत्या का मुकदमा दर्ज कर सभी युवकों से पूछताछ शुरू कर दी है। पता चला है कि घटना के दौरान युवकों ने शराब पी हुई थी और वे गाली-गलौज व हो-हल्ला कर रहे थे। उन्होंने स्थानीय ग्रामीणों से भी धक्का-मुक्की की। मृतक के परिजनों को घटना की सूचना कहीं और से मिली, जबकि साथी युवक अलग-अलग बयान देते रहे। मृतक का परिवार जागेश्वर धाम में कई बर्षो से पुजारी का कार्य करता है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार बीते रविवार को सितारगंज से 14 युवक अल्मोड़ा जनपद स्थित डोल आश्रम व मुक्तेश्वर घूमने आए थे। देर शाम इन स्थानों से घूम कर वे पदमपुरी के पास मटियाल के जंगल मे रुके थे। यहां इन सभी युवकों ने खाना भी खाया और शराब भी पी। उसके बाद राजेश भट्ट( 36) पुत्र माधवानंद भट्ट निवासी जागेश्वर जिला अल्मोड़ा (हाल निवासी सैनिक कॉलोनी सिसौना सितारगंज जिला उधमसिंह नगर) खाई में गिरा मिला। उसके सिर में चोट के निशान मिले हैं। उसे उसके साथियों के द्वारा हल्द्वानी ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना मिलने पर मृतक के परिजन धारी तहसील पहुंचे और साथ ही 13 लोगों के खिलाफ तहरीर दी। इस पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया। मृतक के चाचा कमलापति ने बताया कि मृतक राजेश सरल स्वभाव का था। उसकी 4 साल पहले ही शादी हुई थी और एक 3 साल की बेटी भी है। वह अपने पिता का इकलौता पुत्र था। उसकी दो बहनें है जिनकी शादी हो चुकी है। इस घटना के बाद घरवालों का रो-रो कर बुरा हाल है। इधर उपनिरीक्षक हेमचंद्र पलड़िया ने बताया कि घटना की जानकारी मिलते ही उन्होंने निरीक्षक राजेन्द्र प्रसाद, उपनिरीक्षक पूरन चन्द्र गुणवंत व हेमन्त कुमार वर्मा के साथ घटना स्थल का दौरा किया। घटनास्थल पर बचा हुआ चावल, मांस और बिखरा हुआ खून मिला है। सभी 13 आरोपितों से पूछताछ जारी है। मंगलवार को सभी को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

ये है 13 लोग जिन पर हत्या का मुकदमा दर्ज हुआ

धानाचूली। मृतक के चाचा भगवान चंद्र भट्ट ने जिन 13 लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है उनके नाम दीपक सिंह पुत्र जगत सिंह निवासी कल्याणपुरा थाना सितारगंज, मंगली प्रसाद, ललित मोहन सुयाल, विजय सिंह, राजू कोटी, विशाल भारद्वाज, दीपक लाल, राहुल गुप्ता, बिक्रम रावत, राजेश सरकार, पूरन सिंह धामी, आनन्द सिंह चिलवाल और अजय कुमार सभी सितारगंज निवासी शामिल है। मृतक के चाचा ने बताया कि उन्हें कार एक्सीडेंट की सूचना दी गई। बाद में पता चला कि उनका भतीजा जंगल में गिरा मिला, जिसे यह लोग भीमताल अस्पताल लाने की बात कह रहे थे। उसके बाद हल्द्वानी अस्पताल लाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पूछताछ में सभी के अलग-अलग बयान आ रहे हैं। इस घटना की जानकारी भी राजेश के किसी अन्य साथी ने उन्हें दी। उन्होंने बताया कि बीते रविवार को यह सभी लोग मटियाल पदमपुरी के पास करीब 4 से 5 बजे के बीच में पहुंचे जहां देर शाम तक हल्ला-गुल्ला करते रहे। स्थानीय ग्रामीणों के आने पर उनसे भी गाली गलौज व धक्का-मुक्की की गई। इन सभी ने ग्रामीणों को बताया कि उनका एक साथी खो गया है। जब ग्रामीणों ने उनकी मदद करने को कहा तो उन्होंने साफ इंकार कर दिया। इससे मामला और भी संदिग्ध हो गया है।

यह भी पढ़ें : 3 दिन से गायब युवक का नाले में बोरे में बंद शव मिलने से सनसनी.. गला भी दबाया गया !

नवीन समाचार, किच्छा, 13 जनवरी 20120। पिछले तीन दिनों से घर से गायब चल रहे एक युवक का शव सोमवार सुबह नाले में बोरे में बंद अवस्था में मिला। इससे हडकंम्प मच गया। मौके पर पहुची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। मृतक के गले पर निशान है, माना जा रहा है कि उसका गला घोंट कर हत्या करने के बाद शव बोरे में बंद कर नाले में फेंका गया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतक विपुल मंडल उम्र 34 वर्ष निवासी सुनहरा फार्म किच्छा गुरुचरण सिंह के फार्म में ट्रेक्टर चालक का काम करता था । वह सुनहरा में अपनी नानी के साथ रहता था। शनिवार सुबह वह शौच करने के लिए निकला था, लेकिन उसके बाद घर नहीं लौटा। परिजनों ने उसकी खोजबीन की तो उसकी चप्पल नहर के पास पड़ी मिली। इस पर उन्होंने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने उसकी गुमशुदगी दर्ज कर तलाश शुरू की। इस बीच सोमवार सुबह परिजनों को नाले में एक बोरा दिखाई दिया तो उन्होंने पुलिस को सूचना दी। बोरे में उसका शव बरामद होने पर फोरेंसिक टीम ने छानबीन कर साक्ष्य एकत्र किए। घटना की सूचना पर एसएसपी बरिंदर जीत सिंह व एसपी सिटी देवेंद्र पींचा ने भी मौका मुआयना कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए। 

यह भी पढ़ें : नाजिम हत्याकांड का सबक : महिलाओं को कभी न सताओ, अवैध संबंधों का अंत हमेशा बुरा ही…

पुलिस की गिरफ्त में नाजिम की हत्यारोपी प्रेमिका व उसका हत्यारा।2

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 4 जनवरी 2019। दो दिन पूर्व हल्द्वानी के लघु व्यवसायी नाजिम हत्याकांड का जिस तरह से खुलासा हुआ है उससे दो बड़े सबक निकले हैं। एक-महिलाओं को कभी सताना, कभी उनका उत्पीड़न नहीं करना चाहिए। वैसे भी महिलाओं ही क्या, किसी को भी निर्बल समझकर नहीं सताना चाहिए। क्योंकि जब सताये गए व्यक्ति के सब्र का पैमाना छलकता है तो फिर अपना भला-बुरा भी नहीं देखता। दूसरे-किसी भी महिला-पुरुष के बीच अवैध संबंधों का हश्र बेहद बुरा होता है। इतना बुरा कि उसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती है। नाजिम हत्याकांड में भी यही हुआ है। दो भाइयांे ने अपना प्यारा भाई खो दिया है। एक नवविवाहिता शादी के 37 दिन के भीतर बेवा हो गई है। दो बच्चियांे से उनकी मां और एक शादीशुदा व्यक्ति की पूरी गृहस्थी बिखर गई है।
दो दिन पूर्व हल्द्वानी के लघु व्यवसायी नाजिम की गोली मारकर हत्या हो गई। उसकी महिला मित्र एवं एक अन्य व्यक्ति पर हत्या का आरोप लगा है। अब जो बातें घटना के कारणों के तौर पर साफ हो रही हैं, उनके अनुसार आरोपित 12 व 14 वर्षीयों की मां-महिला जब खुद 14 वर्ष की थी, तब से मृतक नाजिम के संपर्क में थी। महिलाओं की कुर्तियां आदि बेचने वाला नाजिम महिला का पूरा खर्चा उठाता था। समझा जा सकता है, खर्चा यूं ही नहीं उठाता होगा। महिला उससे गर्भवती होकर कई बार गर्भपात भी करा चुकी थी। अपने पति से अलग हो तलाक ले रही थी। उल्टे नाजिम एक माह पहले खुद शादी करने के बावजूद उससे संपर्क-संबंध बनाए हुए था। उसका 30-50 हजार रुपए की कमेटी का लेनदेन भी नाजिम की ओर था। दूसरी ओर महिला अपना दुःख अपने पिता के सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज में भर्ती रहते वहां के उपनल कर्मी राधेश्याम से बांटती थी। शादीशुदा राधेश्याम को लगा अपने पति व प्रेमी से अलगाव झेल रही महिला की जिंदगी में उसके लिए भी जगह बन सकती है। वह भी महिला के प्रेम में जबर्दस्ती घुस रहा था। उसकी मदद से महिला चार महीने से नाजिम की जान लेने की योजना बना रही थी। चार महीने पहले राधेश्याम ने एक दिन महिला के हाथ में वही तमंचा दे दिया, जिससे नाजिम की हत्या की गई, कि इससे महिला ही नाजिम की हत्या कर दे। महिला ने हाथ में तमंचा लिया। वह काफी भारी था। महिला हिम्मत नहीं कर पाई और एक चाकू ले आई और तय किया कि चाकू से नाजिम की हत्या करेगी। बीच में भी कई बार उसने हत्या की कोशिश की। धमकी भी दी कि या तो वह खुद को मार डालेगी, अन्यथा उसे मार डालेगी। फिर भी नाजिम मानने को तैयार नहीं हुआ। आखिर दो दिन पहले महिला ने राधेश्याम की मदद से उसकी हत्या करवा ही दी।

यह भी पढ़ें : अपडेटेड : नाजिम की हत्या में प्रेमिका व एक अन्य गिरफ्तार, यह थे दोनों के संबंध, इस कारण की गई हत्या

-पुलिस ने 11 घंटे के भीतर किया भीमताल रोड पर चंदादेवी के पास शुक्रवार अपराह्न हुए नाजिम हत्याकांड का खुलासा
नवीन समाचार, नैनीताल, 3 जनवरी 2019। नैनीताल पुलिस ने बृहस्पतिवार अपराह्न भीमताल थाना क्षेत्र में भीमताल-रानीबाग के बीच चंदादेवी के जंगल में हुई नाजिम नाम के हल्द्वानी के लघु व्यवसायी की हत्या का 11 घंटे के भीतर खुलासा कर दिया है। मामले में मृतक की प्रेमिका व एक अन्य युवक को हत्या में प्रयुक्त 315 बोर के तमंचे के साथ गिरफ्तार कर लिया गया है। बाद में दोनों को न्यायालय में पेश कर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा जा रहा है।

नियमित रूप से नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड के समाचार अपने फोन पर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे टेलीग्राम ग्रुप में इस लिंक https://t.me/joinchat/NgtSoxbnPOLCH8bVufyiGQ से एवं ह्वाट्सएप ग्रुप से इस लिंक https://chat.whatsapp.com/ECouFBsgQEl5z5oH7FVYCO पर क्लिक करके जुड़ें।
मृतक नाजिम

शुकवार अपराह्न थाना भीमताल में नाजिम हत्याकांड का खुलासा करते हुए पुलिस ने बताया कि बृहस्पतिवार अपराह्न करीब सवा तीन बजे दिनदहाड़े युवक की गोली मारकर हत्या करने की दुस्साहसिक वारदात के बाद एसएसपी सुनील कुमार मीणा, एएसपी राजीव मोहन व सीओ भवाली के निर्देशन में थाना प्रभारी भीमताल कैलाश जोशी व उप निरीक्षक राजेंद्र रावत के नेतृत्व में दो टीमें गठित कर हत्याकांड के अनावरण का प्रयास किया गया। 11 घंटे के भीतर ही दोनों टीमों एवं एसओजी के अधिकारियों व कर्मचारियों के संयुक्त प्रयासों से शुक्रवार की रात्रि ही 10.10 बजे आरोपित राधेश्याम पुत्र सोहन लाल निवासी कल्याणपुरा वाल्मीकि कॉलोनी नवाबी रोड हल्द्वानी को घटना में प्रयुक्त 315 बोर के तमंचे, एक कारतूस, खून से सने कपड़ों एवं उसके द्वारा घटना में प्रयुक्त मोटरसाइकिल संख्या यूके04एक्स-4608 के साथ तथा महिला आरोपित को शुक्रवार की सुबह 7.05 बजे हल्द्वानी से गिरफ्तार किया गया। पूरे मामले में महिला का नाम सार्वजनिक नहीं किया गया है। आरोपित महिला के हवाले से बताया गया है कि मृतक महिला का पहले उत्पीड़न लेकिन अपना निकाह हो जाने के बाद उपेक्षा कर रहा था। शादी से पहले मृतक रियाज महिला का भरण-पोषण भी करता था, लेकिन बाद में महिला व उसकी बेटियों के लिए कथित तौर पर गलत शब्दों का भी प्रयोग करता था। दोनों के बीच कुछ पैंसे का लेनदेन भी था। घटना के दौरान मृतक व आरोपित महिला घटनास्थल चंदादेवी पर काफी देर बात कर रहे थे। दूसरे आरोपित सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज में स्वच्छक के तौर पर कार्यरत राधेश्याम से महिला की पुरानी जान-पहचान थी। महिला ने ही उसे रियाज के साथ चंदादेवी जाने की बात बताई थी। इस पर आरोपित राधेश्याम पहले ही मौके पर पुलिस जैसी खाकी वर्दी में पहुंच कर वाहनों की चेकिंग करने लगा था। उसने स्कूटी पर आ रहे रियाज पर महिला को वाहन-हेलमेट की चेकिंग के बहाने रोका, और करीब एक-डेढ़ घंटे तक तक वह सड़क पर वाहनों के न गुजरने का इंतजार करते हुए बातें-बहस करता रहा, और मौका देखकर उसे करीब से कनपटी पर गोली मार दी। आरोपित राधेश्याम के अनुसार वह दो वर्ष से महिला को चाहता था। नाजिम शादी के बाद भी महिला से मिलना जारी रखे हुए था, जोकि उसे खटकता था। इस कारण ही उसने बनभूलपुरा थाना क्षेत्र के गांधी नगर इलाके से खरीदे तमंचे से नाजिम की हत्या कर दी। पुलिस टीम में उप निरीक्षक प्रदीप कुमार, आरक्षी धर्मेंद्र मेहता, भरत सिंह, चंदन सिंह, दीवान सिंह, पूनम राणा, पुष्पेंद्र रावत, बृजेश सिंह, जगदीश सिंह, एसओजी प्रभारी दिनेश पंत, कुंदन कठायत, त्रिलोक रौतेला, रियाज अख्तर व अनिल गिरि शामिल रहे।

यह भी पढ़ें : चंदादेवी हत्याकांड: बचाने का ड्रामा करने वाली प्रेमिका ने ही मरवाया था नाजिम को !

-प्रेमी का निकाह होने से थी खफा, अपने नये प्रेमी से करवाई हत्या
-अपनी 13-14 साल की दो बेटियां हैं, लकवाग्रस्त पति से चल रहा है तलाक का मामला

अपनी हत्यारी प्रेमिका की गोद में मरणासन्न स्कूटी पर खून से लथपथ नाजिम

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 3 जनवरी 2019। चंदादेवी के जंगल में बृहस्पतिवार अपराह्न युवक नाजिम की गोली मारकर की गई हत्या के मामले में जो महिला घायल-मरणासन्न युवक को अस्पताल लेकर गई, वह बड़ी ही शातिर निकली है। असल में पूरी वारदात महिला द्वारा ही अंजाम दी गई है। वह युवक को मौके पर लाने, उसे गोली मरवाने से लेकर उसे बचाने तक का ‘त्रिया चरित्र’ दिखाते हुए ड्रामा कर रही थी। पुलिस व सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार महिला की अपनी 13-14 साल की दो बेटियां हैं, और उसका अपने लकवाग्रस्त पति से तलाक का मामला चल रहा है। इधर 37 दिन पहले प्रेमी नाजिम का निकाह होने से वह इतनी खफा हो गई थी कि उसने अपने राधे नाम के नए प्रेमी से अपने पुराने प्रेमी की हत्या करवा दी। राधे हत्याकांड को अंजाम देने के बाद बचने की कोशिश में बीमारी का झांसा देकर सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज में भर्ती हो गया, जहां से सूत्रों के अनुसार पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। अब पुलिस शुक्रवार को किसी भी समय घटना का पूरा खुलासा कर सकती है।
अब पुलिस व सूत्रों के हवाले से छनकर आ रही जानकारी के अनुसार मृतक नाजिम हल्द्वानी के पटेल चौक में पिछले करीब चार साल से महिलाओं के कपड़ों की दुकान चलाता था। यहीं करीब चार साल पहले उसकी पहले से शादीशुदा, परंतु टांडा में रहने वाले शादी के बाद लकवाग्रस्त हुए पति से अलग बनभूलपुरा में अपने मायके में अपनी दो बेटियों के साथ रहने वाली इसी महिला से संपर्क हुआ। महिला उसके पीछे ही पड़ गई और अपने पति से तलाक लेकर नाजिम से निकाह कराने का दबाव बनाने लगी। नाजिम इसके लिए तैयार नहीं था। इधर 27 नवंबर को उसने रामपुर निवासी फौजिया से निकाह कर लिया, जो कि इन दिनों मायके गई हुई थी और उसे दूसरे गौने पर शनिवार को लौटना था। लेकिन इसी बीच बृहस्पतिवार दोपहर महिला अपने घर से नैनीताल कोर्ट जाने की बात कहकर निकली और नाजिम को साथ लेकर भीमताल रोड पर चंदादेवी के जंगल में आ गई और करीब तीन घंटे उसके साथ रही। इसी दौरान नोंकझोंक होने पर उसने चुपचाप अपने दूसरे-नए प्रेमी बताये जा रहे युवक को बुलाकर उसकी गोली मारकर हत्या करवा दी। गोली स्कूटी पर बैठे नाजिम की दांयी कनपटी पर आंख के पास लगी, जिससे खून का फव्वारा उसकी स्कूटी व जमीन पर फूट पड़ा। इस दौरान वह काफी देर तक मरणासन्न नाजिम को अपनी गोद में लिये स्कूटी में बैठी और आने-जाने वाले लोगों से मदद की गुहार लगाने का ड्रामा भी करती रही। इस बीच किसी ने उसकी व मरणासन्न नाजिम की स्कूटी पर खून से लथपथ फोटो भी खींच ली, जो यहां प्रस्तुत है। यहां से एक बुलेरा चालक द्वारा मदद करने पर वह नाजिम को हल्द्वानी के नैनीताल रोड स्थित एक निजी अस्पताल के लिए लेकर चली और इस दौरान उसने नाजिम के भाई को नाजिम के हादसे में घायल होने की सूचना दी। इस दौरान काठगोदाम पुलिस के रोकने पर उसने नाजिम को अपना शौहर तो अस्पताल में अपना 10 साल से प्रेमी बताया, जबकि अस्पताल पहुंचे नाजिम के परिजनों ने उसे पहचानने से इंकार कर दिया। इस पर पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया और कड़ी पूछताछ की। इस दौरान पहले तो महिला पुलिस को भी गुमराह करती रही। उसने पुलिस जैसी खाकी वर्दी में आए युवकों द्वारा उन्हें भीमताल से आते हुए चेकिंग के लिए रोके जाने और उससे छेड़छाड़ कर नाजिम को गोली मारने की बात कही। लेकिन मुंह ढका न होने के बावजूद हत्यारों को न पहचानने की बात कही। यहीं से पुलिस ने उसके साथ सख्ती से पूछताछ शुरू की तो देर रात्रि वह टूट गई और सारी सच्चाई बयां कर दी कि वह अपना पति छूटने और नाजिम द्वारा भी निकाह कर लेने से खासी नाराज थी, इसलिए उसने ही उसकी हत्या करवाई। मामले में देर रात्रि शौहर की मौत की खबर सुनकर अपने मायके से अपनी बहन व जीजा के साथ कार से आ रही नाजिम की बीवी फौजिया के साथ भी लामाचौड़ के पास युवकों द्वारा पिस्टल दिखाने की घटना सामने आ रही है, जिससे लग रहा है कि हत्यारे नाजिम की बीवी को भी मारना चाहते थे।

यह भी पढ़ें : दिनदहाड़े स्कूटी सवार युवक की गोली मारकर हत्या मामले में हो सकता है प्रेम संबंधों का मामला !

घटनास्थल पर खून से सनी स्कूटी व जमीन पर भी पड़ा खून।

नवीन समाचार, नैनीताल, 2 जनवरी 2019। बृहस्पतिवार अपराह्न चंदादेवी के जंगल में युवक की दिन दहाड़े गोली मारकर की गई हत्या के मामले में कारण प्रेम संबंधों का मामला हो सकता है। मृतक हल्द्वानी में एक कपड़े की दुकान में काम करता था। उसका अभी सवा माह पूर्व ही विवाह हुआ था, जबकि वह अन्य महिला के साथ घूमने गया हुआ था। बहरहाल, पुलिस की पहली कोशिश हत्यारे को पकड़ने की है। इस कोशिश में पुलिस ने जनपद की सीमाएं सील कर दी हैं और सभी संभावित स्थानों के सीसीटीवी कैमरे खंगाले जा रहे हैं। मामले की जांच भीमताल के थाना प्रभारी कैलाश जोशी कर रहे हैं, जबकि एएसपी राजीव मोहन तथा एसओजी सहित पुलिस की कई टीमों को भी घटना के अनावरण हेतु लगाया गया है। एसएसपी सुनील कुमार मीणा ने भी पुलिस के उच्चाधिकारियों के साथ मौका मुआयना किया है।

इस हत्याकांड में नये प्राप्त तथ्यों के अनुसार करीब 36 वर्षीय हल्द्वानी के इंदिरा नगर बनभूलपुरा निवासी नाजिम पुत्र रियासत बनभूलपुरा की ही रहने वाली एक हमउम्र महिला के साथ भीमताल रोड पर गया था। घटना की चश्मदीद महिला के अनुसार लौटते हुए चंदादेवी के पास एक मोटरसाइकिल सवार अज्ञात युवक ने हेलमेट के बहाने उन्हें रोका और महिला को अलग कर नाजिम को करीब से गोली मार दी। इस पर वह नाजिम को खुद ही किसी वाहन से मदद लेकर नैनीताल रोड स्थित एक निजी चिकित्सालय में ले गई, लेकिन इससे पहले ही नाजिम दम तोड़ चुका था। इस बीच पुलिस को भी जानकारी मिल गई और भीमताल व काठगोदाम थाना पुलिस मौके पर व अस्पताल पहुंची व खोजबीन शुरू की। इधर यह तथ्य भी प्रकाश में आया है कि मृतक की अभी सवा माह पूर्व ही गत 27 नवंबर को शादी हुई थी। चश्मदीद महिला द्वारा बार-बार अपने बयान बदलने की बात भी प्रकाश में आ रही है।

यह भी पढ़ें : नवीन समाचार ब्रेकिंग (4.15 PM) : चंदादेवी के पास स्कूटी सवार युवक को गोली मारी

नवीन समाचार, नैनीताल, 2 जनवरी 2019। शांत पहाड़ में नए वर्ष में गोली की गूंज सुनाई दी है। प्रारंभिक जानकारी के अनुसार रानीबाग-भीमताल रोड पर चंदादेवी के पास एक स्कूटी सवार युवक को गोली मारी गई है। काठगोदाम के थाना प्रभारी ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि अभी युवक को हल्द्वानी के एक नैनीताल रोड स्थित निजी चिकित्सालय में लाया गया है। घटनास्थल चंदादेवी से हल्द्वानी की ओर सागौन के जंगल से गुजरते हुए सड़क के मोड़ पर बांई ओर मौके पर घायल व्यक्ति की खून से सनी सफेद रंग की यामाहा फैसियनो स्कूटी संख्या यूके04एए 7471 एवं खून पड़ा हुआ है। भीमताल थाने के पुलिस कर्मी मौके पर सबूतों की सुरक्षा के दृष्टिगत बने हुए हैं।

घटना अपराह्न करीब तीन बजे की बताई जा रही है। पुलिस को करीब सवा तीन बजे घटना की जानकारी मिली। घायल को लहूलुहान अवस्था में हल्द्वानी के निजी अस्पताल ले जाया गया है, जहां अपुष्ट सूत्रों के अनुसार घायल ने दम तोड़ दिया है। अपुष्ट सूत्रों के अनुसार एक महिला के साथ आ रहे हल्द्वानी के बनभूलपुरा निवासी नाजिम पुत्र रियासत नाम के व्यक्ति को अन्य स्कूटी सवार दो युवकों ने गोली मारी। मामला प्रेम प्रसंग से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है।

हम इस समाचार पर नजर रखे हुए हैं। विस्तृत समाचार के लिए लिंक को रिफ्रेश करते रहें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल : कंगन, मोतियों की माला व पीला कपड़ा खोलेंगे महिला कंकाल का राज

-पुलिस ने बरामद किया महिला का महीनों पुराना कंकाल
नवीन समाचार, नैनीताल, 30 दिसंबर 2019। मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने सोमवार को नगर के हिमालय दर्शन क्षेत्र में सड़क से करीब 350 फिट नीचे खाई में करीब 35 वर्षीय महिला का सड़ा-गला, जंगली जानवरों द्वारा नोंचा गया कंकाल बरामद किया है। मृतका के पास से शिनाख्त के लिए पुलिस को एक कंगन, मोतियों की माला व शरीर पर बचे रह गए कपड़े के कुछ हिस्से मिले हैं। पुलिस उसकी शिनाख्त के लिए महिला के कंकाल को डीएनए परीक्षण के लिए भिजवाने जा रही है।

उल्लेखनीय है रविवार शाम को पुलिस को खाई में महिला का शव पाये जाने की सूचना मिली थी। लेकिन अधेरे व पाले तथा ठंड की वजह से पुलिस एवं एसडीआरएफ बल मौके पर पहुंचने के बावजूद उसे सड़क पर नहीं ला पाए थे। इस पर पुलिस, एसडीआरएफ व फायर ब्रिगेड कर्मियों ने सोमवार सुबह अभियान चलाकर कंकाल को बरामद किया। उल्लेखनीय है कि गत माह इसी स्थान पर गाजियाबाद निवासी एक विकलांग महिला सैलानी भी खाई में गिर गई थी। उसे नैनीताल पुलिस ने बचाया। बाद में उसके मायके वालों ने उसके ससुरालियों पर उसे खाई में धकेलने का आरोप लगाए थे। इस मामले में महिला की हत्या किए जाने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है। मल्लीताल कोतवाली प्रभारी अशोक कुमार सिंह ने बताया कि शव कंकाल मात्र है, और किसी बाहरी महिला का तथा 2-3 माह पुराना लगता है। कंकाल का डीएनए परीक्षण कराया जाएगा।

यह भी पढ़ें :खाई में पड़ा है महीनों पुराना, महिला का कंकाल, कल निकालेंगे, हत्या की आंशका !

नवीन समाचार, नैनीताल, 29 दिसंबर, 2019। नगर के हिमालय दर्शन क्षेत्र में सड़क से करीब 350 फिट नीचे खाई में करीब 35 वर्षीय महिला का सड़ा-गला, जंगली जानवरों द्वारा नोंचा गया शव देखा गया है। पुलिस एवं एसडीआरएफ बल शव मौके पर पहुंचे, किंतु अंधेरा घिरने के कारण अब उसे सोमवार को सड़क तक लाने के लिये अभियान चलाया जाएगा। उल्लेखनीय है कि गत माह इसी स्थान पर गाज़ियाबाद निवासी एक विकलांग महिला सैलानी भी खाई में गिर गई थी। उसे नैनीताल पुलिस ने बचाया। बाद में उसके मायके वालों ने उसके ससुरालियों पर उसे खाई में धकेलने का आरोप लगाए थे। इस मामले में महिला की हत्या किए जाने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है।
मल्लीताल कोतवाली के एसएसआई भुवन चंद्र मासीवाल ने बताया कि शव कंकाल मात्र है, और किसी बाहरी महिला का तथा 2-3 माह पुराना लगता है। सोमवार सुबह उसे खाई से निकालने का प्रयास किया जाएगा।

यह भी पढ़ें : बिग ब्रेकिंग: एक और गोलीकांड: कोर्ट के बाहर प्रधान को गोली मारी, मौत

नवीन समाचार, रुड़की, 20 दिसंबर 2019। शुक्रवार शाम रुड़की की रामनगर कोर्ट के बाहर बाइक सवार बदमाशों ने एक ग्राम प्रधान को गोली मार दी। गोलीकांड में ग्राम प्रधान की मौत हो गई है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार निकटवर्ती ग्राम नगला कूबड़ा के प्रधान कमर आलम किसी कार्य से रामनगर कोर्ट में आए थे। देर शाम करीब साढ़े पांच बजे कोर्ट से काम निपटा कर बाहर कुछ दूरी पर खड़ी अपनी कार में सवार होने के लिए पैदल जा रहे थे, तभी पीछे से आए दो बाइक सवार बदमाशों ने उन्हें गोली मार दी, और फरार हो गए। गोली चलते ही मौके पर अफरा-तफरी मच गई। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने ग्राम प्रधान को घायल अवस्था में रुड़की के सिविल अस्पताल भिजवाया। जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पुलिस बदमाशों की तलाश में जुट गई है।

यह भी पढ़ें : ट्रक में मिली खून से सनी लाश… सर पर वार कर की गई है हत्या

नवीन समाचार, रुद्रपुर , 17 दिसंबर 2019। रुद्रपुर के कीरतपुर मोड़ पर एक ट्रक चालक की सिर पर वार करके हत्या कर दी गई है।  ट्रक में खून से सनी लाश देखकर लोग सहम गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने जानकारी ली। साथ ही शव कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।

पुलिस के मुताबिक बिहार भागलपुर निवासी 45 साल का संजय यादव ट्रक चालक था। बताया जा रहा है कि सोमवार को वह लुधियाना से ट्रक में माल लोडकर रुद्रपुर के गदरपुर रोड स्थित एलजी कृष्णन कंपनी आया हुआ था। कागजात पूरे न होने पर उसे गेट पर रोक दिया गया था। इसके बाद उसने गेट से कुछ दूरी पर ट्रक पार्क कर दिया। मंगलवार सुबह कंपनी का गार्ड उसे बुलाने गया तो उसकी ट्रक में खून से सनी लाश मिली। यह देख गार्ड ने कंपनी अधिकारियों और पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने आसपास के लोगों से पूछताछ की। साथ ही शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेज दिया। एसपी सिटी देवेंद्र पिंचा ने बताया कि चालक के सिर पर वार कर हत्या की गई है। जांच की जा रही है, जल्द खुलासा कर लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें : ट्रिपल मर्डर से दहला पिथौरागढ, मृतकों के गुप्तांग भी काट गए हत्यारे

नवीन समाचार, पिथौरागढ़, 27 अक्तूबर 2019। ठीक दीपावली के दिन उत्तराखंड के पिथौरागढ़ से एक तिहरे हत्याकांड की सनसनीखेज व दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। जिला मुख्यालय से लगे मढ़धुरा नाम के गांव से गांव के एक घर से तीन लोगों की खून से लथपथ लाशें बरामद हुई हैं। शवों को चाकू से बुरी तरह से गोदा गया है। इसमें भी बड़ी व उल्लेखनीय बात यह है कि तीनों शवों के गुप्तांग भी काटे गए हैं। शव नेपाली मूल के मजदूरों के बताये गए हैं। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शवों को पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है, साथ ही मौका मुआयना कर हत्याकांड के कारणों की जांच भी प्रारंभ कर दी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार की सुबह एक महिला अपनी कुंद हुई दराती में धार लगाने के लिए पास के एक घर पहुंची। उसने गृह स्वामियों को आवाज लगाई तो कोई आवाज नहीं आई। इस पर उसने घर के भीतर झांकने का प्रयास किया तो घर का दरवाजा स्वयं खुल गया और अंदर एक के बाद एक खून से लथपथ तीन शव बरामद हुए। उसके शोर मचाने पर अन्य लोग और बाद में पुलिस के अधिकारी भी मौके पर पहुंचे। जांच में पता चला कि तीनों को चाकू से गोंदा गया है। शवों के गुप्तांग भी काटे गए हैं। ऐसे में मामला यौन हिंसा से जुड़ा होने का अंदेशा हो रहा है। संभावना है कि हत्या एक-दो दिन पूर्व की होगी।

यह भी पढ़ें : मात्र 18 हजार के लिए हत्या करने वाले सीपीयू पुलिस कर्मी की जमानत अर्जी खारिज

रामनगर में तीन भाइयों को मारी गोली, एक की मौत, दो गंभीर NAINITAL NEWSनवीन समाचार, नैनीताल, 18 अक्तूबर 2019। इस वर्ष 6 जुलाई को रामनगर के मालधनचौड़ में अपने महज 18 हजार रुपये के लेनदेन के विवाद में अपने दोस्त की हत्या में शामिल पुलिस की सीपीयू यानी सिटी पेट्रोल यूनिट में कार्यरत पुलिस कर्मी की जमानत अर्जी जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजीव कुमार खुल्बे की अदालत ने शुक्रवार को खारिज कर दी। इस प्रकार आरोपित को घटना के तीन माह बाद भी जेल में ही रहना पड़ेगा। उल्लेखनीय है कि इस मामले में 10 से अधिक युवकों ने टैक्सी चालक की गोली मारकर हत्या कर दी थी। साथ ही उसके दो भाइयों को भी गोली मारकर घायल कर दिया था।
मामले में शुक्रवार को आरोपित ऊधम सिंह नगर की सीपीयू में तैनात पुलिस के सिपाही कपिल कुमार की जमानत अर्जी पर हुई सुनवाई का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने बताया कि मृतक संतपाल ने कपिल के 18 हजार रुपए देने थे। वह तीन दिन पूर्व ही छुट्टी पर घर आया था। उसने दूसरे आरोपितों के साथ मिलकर रुपए न लौटाने पर अपने मित्र की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसलिए इस जघन्य कांड के लिए आरोपित को जमानत नहीं दी जा सकती।

यह भी पढ़ें : मात्र 25 हजार के लिए दोस्त ने ली दोस्त की जान, भाइयों पर भी फायर झोंके पुलिस पहुंची हत्यारे हमलावरों तक

नवीन समाचार, नैनीताल, 7 जुलाई 2019। रामनगर के मालधनचौड़ में बीती शाम महज 25 हजार रुपये के लेनदेन के विवाद में कार सवार 10 से अधिक युवकों ने टैक्सी चालक की गोली मारकर हत्या कर दी थी। साथ ही उसके दो भाइयों को भी गोली मारकर घायल कर दिया था। मामले में आरोपितों में से एक पुलिस की गिरफ्त में आ गया है, जबकि अन्य के भी जल्द ही पुलिस की गिरफ्त में पहुंचने की संभावना है। एसपी-अपराध एवं यातायात रचिता जुयाल ने बताया कि मामले में आरोपित नामजद हैं, और पुलिस की जद में हैं। उन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। बताया गया है कि पुलिस ने चार-पांच लोगों को मामले में हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की है।
बताया गया है कि मृतक संतपाल व काशीपुर निवासी अंकित आपस मे अच्छे दोस्त थे। दोनों एक साथ ही घूमते थे। संतपाल ने अंकित से बाइक खरीदने के लिए 25 हजार रुपये उधार लिए थे, और जल्द पैसे लौटाने की बात कही थी। दोस्ती की वजह से अंकित ने उसे पैसे दे भी दिए। लेकिन अंकित ने अपने पैसे मांगे तो संतपाल आज-कल में देने की बात कहता रहा। पैसों को लेकर दोनों कर बीच अनबन होने लगी। उधार लिये 25 हजार रुपए वापस न मिलने पर दोस्त ने ही दोस्त की जान ले ली।
उल्लेखनीय है कि काशीपुर में टैक्सी चलाने वाले मालधनचौड़ नंबर आठ गोपालनगर निवासी संतपाल (29) पुत्र राम सिंह पर शनिवार शाम करीब छह बजे मालधनचौड़ में रामनगर आने वाली रोड पर दो कारों से आए 10 से अधिक युवकों ने घेरकर पहले मारपीट की। सूचना पर रामनगर में राजमिस्त्री का काम करने वाला उसका भाई बलवंत (25) और बाद में दूसरा भाई जोगेंद्र भी मौके पर पहुंचे और भाई को बचाने का प्रयास करने लगे, तब कार सवार युवकों ने उन पर भी फायरिंग कर दी। दो गोली संतपाल के सीने में लगी और एक गोली बलवंत की जांघ में लगी। जबकि जोगेंद्र को जेब में मोबाइल होने की वजह से गोली छूते हुए निकल गई उसकी जांघ में छर्रे लगे। घटना के बाद कार सवार भाग गए। पुलिस ने भी कार सवारों का पीछा किया, लेकिन कार सवार नहीं मिले। गंभीर रूप से घायल संतपाल को पुलिस ने काशीपुर अस्पताल पहुंचाया, जहां उसकी मौत हो गई। वहीं बलवंत को उसका साथी दिनेश बाइक से रामनगर अस्पताल लाया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद उसे रेफर कर दिया गया। तीसरे भाई जोगेंद्र ने भी मेडिकल कराया है। इसी विवाद में यह गोलीकांड व हत्याकांड हुआ है। सीओ ने मौके पर ही पुलिस की दो टीमें बनाकर हमलावरों की तलाश शुरू कर दी है।

अज्ञात हत्याओं से सम्बंधित पुराने समाचारों के लिए इस लाइन को क्लिक करें ….

राज्य के सभी प्रमुख समाचार पोर्टलों में प्रकाशित आज-अभी तक के समाचार पढ़ने के लिए क्लिक करें इस लाइन को…

नियमित रूप से नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड के समाचार अपने फोन पर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे टेलीग्राम ग्रुप में इस लिंक https://t.me/joinchat/NgtSoxbnPOLCH8bVufyiGQ से एवं ह्वाट्सएप ग्रुप से इस लिंक https://chat.whatsapp.com/ECouFBsgQEl5z5oH7FVYCO पर क्लिक करके जुड़ें।

नवीन समाचार
मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड
https://navinsamachar.com

Leave a Reply

loading...