यह सामग्री कॉपी नहीं हो सकती है, फिर भी चाहिए तो व्हात्सएप से 8077566792 पर संपर्क करें..

निर्भया जैसे कांड पर उत्तराखंड में उबाल, गुस्साई भीड़ ने की आरोपी को फांसी की मांग

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

जाम लगाती भीड़

नवीन समाचार, कर्णप्रयाग, 27 दिसंबर 2018। उत्तराखंड में एक बार फिर दिल्ली की निर्भया कांड जैसी घटना में छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना को लेकर शुक्रवार को यहां छात्र-छात्राओं का गुस्सा फूट पड़ा । आक्रोशित छात्रों ने यहां राजमार्ग और मुख्य बाजार में सवा तीन घंटे तक जाम लगाकर आरोपी युवकों को फांसी की सजा देने की मांग की। करीब चार घंटे के विरोध प्रदर्शन के बाद आंदोलनकारियों से वार्ता करने पहुंचे एसडीएम जीआर बिनवाल के आश्वासन पर प्रदर्शनकारी माने। इसके बाद हाईवे पर जाम खोला गया। राज्य में अन्य क्षेत्रों में भी इस घटना के बाद लोग गुस्से में हैं।

पूर्व समाचार : उत्तराखंड में फिर निर्भया जैसा कांड, कूड़ा बीनने वाले युवकों ने किया दोस्त के साथ घूमती छात्र से सामूहिक दुष्कर्म

नवीन समाचार, कर्णप्रयाग, 27 दिसंबर 2018। उत्तराखंड में एक बार फिर दिल्ली की निर्भया कांड जैसी घटना को अंजाम दिखा गया है। घटना में तीन युवकों ने अपने दोस्त के साथ घूमने जा रही युवती के दोस्त को चाकू दिखाकर भगा दिया, और युवती के साथ जंगल ले जाकर सामूहिक दुष्कर्म किया। आरोपित युवक कूड़ा बीनने वाले व हरिद्वार की झोपड़ पट्टी में रहने वाले बताए जा रहे हैं। घटना की जानकारी लगने के बाद क्षेत्रवासियों से एक वर्ग विशेष के खिलाफ खासी नाराजगी भी बताई जा रही है। पीड़िता कर्णप्रयाग महाविद्यालय की छात्रा बतायी गयी है।
घटना चमोली जिले के कर्णप्रयाग कस्बे की है। यहां नारायणबगड़ के एक गांव की रहने वाली एक युवती से सामूहिक दुष्कर्म किया गया है। युवती की तहरीर के आधार पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर तीनों आरोपितों के गिरफ्तार कर लिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार घटना मंगलवार को क्रिसमस के दिन की शाम पांच बजे बाद की है। अपने दोस्त के साथ घूमने जा रही युवती को बद्रीनाथ हाईवे पर नगर पालिका के कूड़ा डंपयार्ड के पास सुनसान जगह देख आरोपी युवकों ने दबोच लिया। युवती के दोस्त को चाकू दिखाकर भगा दिया और पंच पुलिया के पास जंगल में ले जाकर सामूहिक दुष्कर्म किया। पुलिस ने युवती का मेडिकल करा दिया है।

Leave a Reply

Loading...
loading...