News

पौड़ी से नैनीताल को चला होटल कर्मी पांच दिन से गायब

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

‘नवीन समाचार’ के बाद बुजुर्ग दंपत्ति की मदद को आगे आया प्रशासन, अधिकारी एवं लोग

नवीन समाचार, नैनीताल, 2 जुलाई 2020। नगर के मल्लीताल गाड़ी पड़ाव स्थित एक रेस्टोरेंट में काम करने वाला 27 वर्षीय युवक राजदीप सिंह उर्फ राजू पुत्र भगवान सिंह निवासी ग्राम भंवरिया मल्ला पोस्ट ऑफिस जाखनी जिला पौड़ी गढ़वाल गायब हो गया है। रेस्टोरेंट्स स्वामी डीएस पटवाल ने मल्लीताल कोतवाली में उसकी गुमशुदगी का प्रार्थना पत्र देकर उसकी बरामदगी की गुहार लगाई है। होटल स्वामी के अनुसार राजू पिछले कई वर्षों से रेस्टारेंट में कार्य करता था। इधर लॉक डाउन में घर जाने के बाद वह बीती 28 जून को घर से वापस काम पर आ रहा था, लेकिन तब से नैनीताल नहीं पहुंचा है। लटवाल ने कोतवाली पुलिस से उसकी गुमशुदगी दर्ज कर ढूंढने की गुहार लगाई है।

यह भी पढ़ें : 16 वर्षीया किशोरी 5 दिन से गायब, मदद की गुहार

नवीन समाचार, कालाढूंगी, 12 जून 2020। निकटवर्ती ग्राम बरहैनी निवासी 16 वर्षीय किशोरी कुमारी गायत्री बीती 8 जून से गायब है। उसकी माता नन्नी देवी पत्नी वीर पाल ने शुक्रवार को कालाढूंगी थाने में उसकी गुमशुदगी दर्ज कराकर उसे ढूंढने में मदद की गुहार लगाई है।
बताया है कि वह बीती 8 जून सोमवार को शाम 4 बजे किसी को बिना बताए घर से कही चली गई है। काफी खोजबीन के बाद भी उसका कुछ भी पता नही चल रहा है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल : लॉक डाउन लागू होते गायब हुआ युवक, 6 दिन से कोई सुराग नहीं

नवीन समाचार, नैनीताल, 31 मार्च 2020। नगर का एक युवक, 47 वर्षीय हरीश चंद्र पुत्र खेम चंद्र निवासी हरिनगर 25 मार्च को लॉक डाउन लागू होने के दिन से गायब है। तब से 6 दिन गुजर जाने के बावजूद उसका कोई पता नहीं चला है। उसके भाई रमेश चंद्र ने उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट तल्लीताल थाने में दी है। बताया कि हरीश काफी मेहनती था। सहारा इंडिया में एजेंट के रूप में कार्यरत था, साथ ही दुकानों में सामान की सप्लाई भी करता था। 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लागू होने के दिन से वह काम पर नहीं जा पाने से परेशान था। इसी दौरान उसका उसकी पत्नी से मामूली विवाद हो गया था, जिसके बाद वह 25 मार्च की शाम तीन बजे बिना बताये कहीं चला गया। तब से उसे हर संभावित स्थान पर तलाश लिया गया है, किंतु उसका कोई पता नहीं चल पाया है। उसके दो छोटे बच्चे हैं। बच्चे, पत्नी, भाई सभी उसके गायब होने से परेशान हैं। उन्होंने उसे ढूंढने में मदद की तथा उससे घर लौटने की गुहार लगाई है। इधर पुलिस भी उसकी तलाश में जुटी हुई है।

यह भी पढ़ें : बच्चों संग गायब होकर नेपाल पहुंच गई नैनीताल की ननद-भाभी

गुमशुदा देवर-भाभी।

नवीन समाचार, नैनीताल, 10 फरवरी 2020। बीती 8 फरवरी को नगर के तल्लीताल क्षेत्र से दो बच्चों के साथ भाभी-ननद के लापता होने का मामला सामने आया था। इधर उनके नेपाल पहुंचने की सूचना आई है। तल्लीताल थाना प्रभारी विजय मेहता ने बताया कि उनके नेपाल में होने की सूचना पर परिजन नेपाल रवाना हो गए हैं।
उल्लेखनीय है कि रविवार को नगर के कृष्णापुर तल्लीताल निवासी हरीश चंद्र थापा पुत्र चक्र बहादुर थापा ने तल्लीताल थाने में तहरीर देकर कहा था कि उसकी बहु 25 वर्षीया सुनीता देवी पत्नी धर्मेंद्र थापा रविवार सुबह 10 बजे अपनी 2 वर्षीया बेटी वान्या, ननद 24 वर्षीया दिया व ननद की डेढ़ वर्ष की बेटी नीताक्षी के साथ शनिवार सुबह 10 बजे घर से अस्पताल बच्ची को दिखाने के लिए गई थी, लेकिन घर नहीं लौटी। पुलिस ने उनकी गुमशुदगी दर्ज कर खोजबीन शुरू कर दी थी। थानाध्यक्ष विजय मेहता ने बताया कि परिजनों को गुमशुदाओं के नेपाल में होने की सूचना मिली है। इसके बाद परिजन नेपाल के लिए रवाना हो गए हैं।

नवीन समाचार
मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड
https://navinsamachar.com

Leave a Reply

loading...