यह सामग्री कॉपी नहीं हो सकती है, फिर भी चाहिए तो व्हात्सएप से 8077566792 पर संपर्क करें..
 

लोनिवि कर्मी पहाड़ से गिरे पत्थरों की चपेट में आने से घायल, उपचार के दौरान मौत

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये

'
'

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 अगस्त 2019। सोमवार सुबह करीब 10 बजे जनपद में बेतालघाट-खैरनी रोड पर एक 48 वर्षीय लोनिवि कर्मचारी गोपाल दत्त बलोदी पुत्र दयाकृष्ण बलोदी निवासी ग्राम रोपा बेतालघाट पहाड़ से पत्थर गिरने से घायल हो गये। घटना तब हुई, जब गोपाल ग्राम चड्युला के पास सड़क से पत्थर हटाने का काम कर रहे थे। इस दौरान पहाड़ से अचानक पत्थर आकर उन पर गिरा जिससे वे गंभीर रूप से घायल हो गये। बेतालघाट पुलिस द्वारा तत्काल मौके पर पहुंचकर उन्हें निजी वाहन से पहले गरमपानीं व बाद में हल्द्वानी चिकित्सालय भिजवाया गया, जहां उपचार के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया।

यह भी पढ़ें : अपडेटेड: अल्मोड़ा से बरामद हुआ पशुधन प्रसार अधिकारी…

-अल्मोड़ा के महिला थाने में एक रिश्तेदार युवती के द्वारा उत्पीड़न का मामला दर्ज करने का नया तथ्य भी प्रकाश में

पदपपुरी में बरामद कार एवं इनसेट में गायब कार मालिक पशुधन प्रसार अधिकारी।

नवीन समाचार, धानाचूली, 11 अगस्त 2019। जनपद के धारी तहसील के पास शनिवार को पदमपुरी में मिली दो दिन से गायब पशुधन प्रसार अधिकारी की खून के निशानों से युक्त एक लावारिस कार संख्या यूके04वाई-4407 मिली थी। कार मालिक रामगढ़ विकासखंड के सिनौली में पशु चिकित्सा विभाग में पशुधन प्रसार अधिकारी के पद पर तैनात रानीखेत निवासी विजेंद्र कुमार टम्टा (31) राजेंद्र किशोर अल्मोड़ा पुलिस द्वारा बरामद कर लिया गया है। बताया जा रहा है कि परिजनों की निशानदेही पर ही पुलिस ने उसे बरामद किया। उसके विरुद्ध अल्मोड़ा के नारायण तेवाड़ी देवाल स्थित महिला थाने में विजेंद्र की एक महिला रिश्तेदार द्वारा बीती 8 अगस्त को उत्पीडन करने का मामला दर्ज करने की बात भी प्रकाश में आई है। अब पुलिस उससे उस मामले में भी पूछताछ कर रही है। मामले में प्रेम प्रसंग से जुड़े कुछ नये तथ्य भी प्रकाश में आ रहे हैं।
बताया जा रहा है कि बीती 8 अगस्त को उसके खिलाफ अल्मोड़ा के महिला थाना मंे मामला दर्ज होने के बाद ही विजेंद्र अल्मोड़ा से गायब हुए थे। इसके बाद 9 अगस्त को उनकी माता ने अल्मोड़ा की धारानौला पुलिस चौकी में उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। अल्मोड़ा से कार में निकलने के दौरान उनके एक दोस्त के भी साथ होने की बात प्रकाश में आई थी।

यह भी पढ़ें : पदमपुरी में 3 दिन से लावारिस खून के निशान युक्त कार मिलने और कार मालिक जिले के एक अधिकारी के गायब होने की जानकारी से सनसनी….

-कार में खून मिलने से शक और गहराया, राजस्व पुलिस पहुँची मोके पर, जुटी जांच में
कार मालिक की अल्मोड़ा थाने में दर्ज है गुमशुदगी, जांच के लिए पदमपुरी पहुची अल्मोडा पुलिस

दान सिंह लोधियाल @ नवीन समाचार, धानाचूली, 10 अगस्त 2019। जनपद के धारी तहसील के पास पदमपुरी में एक लावारिस कार मिलने और उसमें खून के निशान भी होने से क्षेत्र में चिंताजनक सनसनी फैल गई है। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे राजस्व पुलिस की टीम में जांच शुरू कर दी है। कार के मालिक की अल्मोड़ा में गुमशुदगी दर्ज है, इस जानकारी के बाद अल्मोड़ा पुलिस भी मौके पर पहुंच गयी है।
राजस्व उप निरीक्षक ललित मोहन जैड़ा के अनुसार पदमपुरी के ग्रामीणों से हाइडिल के पास एक काले रंग की वलीनो कार संख्या यूके04वाई-4407 पिछले तीन दिनों से खड़ी होने की सूचना मिली। सूचना पर राजस्व उप निरीक्षक हेमचंद पलड़िया, ललित मोहन जैड़ा व पूरन चंद्र गुणवंत ने तहकीकात शुरू कर दी। कार में ड्राइवर के दरवाजे की ओर खून के निशान मिले हैं, साथ ही टंकी के पास भी खून के कुछ छींटे दिखाई दिए है। जांच में पता चला कि कार रानीखेत निवासी विजेंद्र कुमार टम्टा (31) राजेंद्र किशोर की है। वहीं बीते शुक्रवार को थाना अल्मोड़ा में विजेंद्र के गायब होने की गुमशुदगी दर्ज की है। इस सूचना अल्मोडा पुलिस कार और विजेंद्र की तलाश में शनिवार को पदमपुरी पहुंच गई है, और वह भी जांच कर रहे हैं।

पशुधन प्रसार अधिकारी की है कार

नैनीताल। अल्मोडा पुलिस के अनुसार विजेंद्र नैनीताल जिले के रामगढ़ विकासखंड के सिनौली में पशु चिकित्सा विभाग में पशुधन प्रसार अधिकारी के पद पर तैनात है। उनकी गुमशुदगी दर्ज होने के बाद से अल्मोड़ा पुलिस पदमपुरी के आसपास की नदियों व पहाड़ियों पर विजेंद्र की तलाश में जुटी हुई है। किंतु यह साफ नहीं हो पा रहा है कि विजेंद्र इस कार में थे भी या नहीं, और कार में लगा खून किसका है। वहीं रामगढ़ की पशु चिकित्सा अधिकारी डा. तरुणा वैला का कहना है कि विजेंद्र व्यहारकुशल और हंसमुख व्यक्ति हैं। उन्होंने कभी भी शिकायत का मौका नही दिया है। वह अपने केंद्र के प्रभारी होते है। जब तक उनकी ओर से अवकाश के लिए पत्र नही आता तब तक वे फील्ड में ही तैनात माने जाते हैं। वह पिछली 6 अगस्त को रामगढ़ में बैठक में आये थे। तब से उनके साथ कोई सम्पर्क नही है। समाचार लिखे जाने तक पुलिस खोजबीन जारी थी। वहीं राजस्व पुलिस ने कार को अल्मोड़ा पुलिस को सौप दिया है।

यह भी पढ़ें : खाई में गिरे शिक्षक के लिए देवदूत बने नैनीताल पुलिस व राहगीर

नवीन समाचार, भीमताल, 8 अगस्त 2019। बुधवार की रात्रि एक शिक्षक के लिए नैनीताल जनपद की भीमताल पुलिस साक्षात देवदूत साबित हुई। हुआ यह कि अल्मोड़ा में तैनात शिक्षक हितेश पंत निवासी कोटाबाग, अपनी मोटरसाइकिल से अल्मोड़ा से हल्द्वानी को जा रहा था। सलडी के पास वह सड़क के किनारे पेशाब करने के लिए रुका था, इस दौरान पैर फिसलने के कारण वह नीचे गहरी खाई में गिर गया। दैव योग से किसी राहगीर ने उसकी चीख सुन ली, और सहायता के लिए थाना भीमताल को सूचना दी। इस पर भीमताल थाने के प्रभारी भगवान सिंह महर आरक्षी चेतन व शंकर के साथ तत्काल मौके पर पहुंचे और बिना देरी किये उसकी तलाशी के लिए बचाव अभियान चलाया। फलस्वरूप हितेश पंत को सकुशल खाई से बाहर निकाल लिया गया। उसके सिर में कुछ गंभीर चोटें आई हुई थी इसलिए उसे 108 वाहन के माध्यम से रात्रि में ही अस्पताल भिजवाया गया। गौरतलब है कि यदि राहगीर शिक्षक हितेश पंत की चीख सुनकर नजरअंदाज करते और पुलिस कर्मी भी रात्रि में अपनी जान जोखिम में डालकर खाई में न उतरते तो सुबह तक कोई बुरी खबर भी आ सकती थी। भीमताल पुलिस व राहगीरों के जज्बे को सलाम।

यह भी पढ़ें : बाइक रपटी, गंभीर घायल बाइक सवार के लिए एसडीएम ने अपने वाहन को बनाया एंबुलेंस…

नवीन समाचार, नैनीताल, 28 जुलाई 2019। रविवार शाम मुख्यालय से करीब चार किमी दूर हल्द्वानी राष्ट्रीय राजमार्ग पर ताकुला के निकट एक बाइक बारिश से गीली सड़क पर रपट गई। इससे बाइक सवार दो युवक-हल्द्वानी के मोतीनगर निवासी संदीप पांडे व भाष्कर चंद्र दुर्घटनाग्रस्त हो गए। दुर्घटना में बाइक सवार भाष्कर के कपड़े फटे जबकि संदीप को काफी चोटें आई थीं। गुजरते हुए कई वाहन चालक दुर्घटना स्थल पर रुक गये थे, किंतु कोई भी घायलों को अस्पताल पहुंचाने की पहल नहीं कर रहा था। इस बीच रानीबाग से लौटते हुए एसडीएम विनोद कुमार ने घायलों को देखा तो उसे अपने वाहन में लेकर वाहन को एंबुलेंस की तरह हूटर बजाते हुए तत्काल बीडी पांडे जिला चिकित्सालय ले आये और चिकित्सकों से घायलों का उपचार कराया।

यह भी पढ़ें : राजभवन की कमजोर रेलिंग तोड़ पेड़ों ने बचा दुर्घटनाग्रस्त वाहन, पेड़ों ने बचाया वरना सीधे जाती झील में..

नवीन समाचार, नैनीताल, 24 जुलाई 2019। नगर में बीती रात्रि राजभवन रोड पर एक वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो गया। दुर्घटना में सड़क किनारे लगी रेलिंग की कमजोरी एवं पेड़ों की उपयोगिता प्रदर्शित हो गयी। रेलिंग तो सड़क सहित उखड़ गयी किंतु पेड़ों ने वाहन को सुरक्षित तरीके से खाई में जाकर जनहानि से बचा लिया। पेड़ ना होते तो कार सीधे नैनी झील में समाई होती। पेड़ों पर टकराई कार को जो भी देख रहा है वह पेड़ों के दुर्घटना को रोकने में उपयोगिता पर भी बात कर रहा है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगलवार रात्रि करीब 10 बजे नगर के वैभरैली कंपाउंड स्थित सुमन पैराडाइज होटल की बताई जा रही जीप संख्या यूके01ए-1955 मल्लीताल से राजभवन की ओर जा रही थी। गाड़ी को होटल का ही मोहन सिंह नाम का चालक चला रहा था। वाहन में और कोई नहीं था। तभी गाड़ी सड़क से नीचे पलट गई और तत्काल ही पेड़ से टकराने की वजह से रुक गई। इससे बड़ी दुर्घटना बच गई। चालक भी सकुशल बच गया।

हल्द्वानी में बिजली करंट लगने से दो मजदूर बुरी तरह झुलस गए

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 18 जुलाई 2019। हल्द्वानी में बिजली करंट लगने से दो मजदूर बुरी तरह झुलस गए हैं। दोनों शहर के दमुवाढूंगा इलाके में 33000 केवी की हाईटेंशन लाइन के नीचे काम कर रहे थे कि लाइन ने उन्हें खींच लिया और वे उससे चिपक गए। गंभीर हालात में उन्हें सुशीला तिवारी अस्पताल में भर्ती किया गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार बिहार के मोतिहारी जिले के रहने वाले गुड्डू और अफरोज मिस्त्री का काम करते हैं। दोनों बृहस्पतिवार को एक मकान के निर्माण का कार्य कर रहे थे। पहले से दो मंजिल बने हुए इस मकान पर मकान मालिक तीसरी मंजिल बनवा रहा था। जहां गुड्डू और अफरोज काम कर रहे थे वह हाईटेंशन तार से सिर्फ 5 मीटर ही दूर था। इसीलिए हाईटेंशन तार ने उन्हें खींच लिया। इनमें से एक बुरी तरह झुलस गया है और उसकी हालत गंभीर है। दूसरे मजदूर के हाथ और पैर झुलसे हैं और वह खतरे से बाहर है। त्रासदी यह भी है कि बुरी तरह घायल होने के बावजूद इन लोगों को यूपीसीएल से मुआवजा तक नहीं मिलेगा क्योंकि वह अवैध निर्माण कार्य में संलग्न थे। हल्द्वानी में यूपीसीएल के अधिकारियों का कहना है कि मकान मालिक के खिलाफ एफआईआर करवाएंगे।

यह भी पढ़ें : तीन मंजिले घर से नाले में गिरा युवा व्यवसायी, दर्दनाक मौत

नवीन समाचार, नैनीताल, 14 जुलाई 2019। रविवार अपराह्न करीब डेढ़ बजे नगर के मल्लीताल रॉयल होटल कम्पाउंड क्षेत्र स्थित एक तीन मंजिले अपने घर सेे एक युवा व्यवसायी नीचे नाले में गिर गया। परिजन तत्काल उसे बचाने की कोशिश में बीडी पांडे जिला चिकित्सालय ले गये, जहां प्राथमिक उपचार के दौरान उसने दम तोड़ दिया। मृतक की पहचान 34 वर्षीय व्यवसायी साजिद अली पुत्र वाहिद अली के रूप में हुई है। मृतक के पिता की नगर के मल्लीताल बाजार में अंडा मार्केट क्षेत्र में राशन की दुकान है। मृतक भी अपने छोटे भाई माजिद के साथ दुकान पर बैठते थे।
घटना के संबंध में विरोधाभाषी जानकारियां आ रही हैं। पुलिस के अनुसार साजिद रविवार दोपहर का भोजन करने के लिए अपने घर गये हुए थे और घर की तीसरी मंजिल पर कोई कार्य कर रहे थे, तभी चक्कर आने से वह तीसरी मंजिल से सीधे नीचे नाले में आ गिरे। अलबत्ता, पुलिस मामले की जांच कर रही है। बताया गया है कि मृतक का एक बेटा मो.निजाम नगर के लांग व्यू पब्लिक स्कूल में तीसरी कक्षा और बेटी जुबिया सैंट मेरीज कांन्वेंट में पहली कक्षा की छात्रा है। साजिद की माता जरीना की छह माह पूर्व ही कैंसर से मौत हो गई थी। वहीं चिकित्सक डा. जाने आलम के अनुसार उनके सिर पर गंभीर चोट लगी थी जिसके चलते उन्हें प्राथमिक उपचार दिया और सिर पर टांके लगाए, किंतु उन्हें बचाया नहीं जा सका। पुलिस ने शव को पंचनामा भरने के बाद पोस्ट मॉर्टम के लिए भेज दिया है ।

यह भी पढ़ें : महिला को फिर सांप ने डसा, तीन दिनों में सांप की तीसरी घटना

नवीन समाचार, नैनीताल, 10 जुलाई 2019। मुख्यालय के निकटवर्ती क्षेत्रों में तीन दिनों के भीतर दूसरी महिला को सांप द्वारा डसे जाने की घटना हुई है। बुधवार को निकटवर्ती गेठिया क्षेत्र में एक 57 वर्षीया ग्रामीण महिला उमा देवी पत्नी किशन सिंह को घास काटते समय सांप ने काट दिया। गनीमत रही कि सांप घास में रहने वाला हरे रंग का ग्रीन टिंकेट प्रजाति का था। बताया जाता है कि इस सांप में जहर की मात्रा कम होती है। परिजन महिला को मुख्यालय स्थित बीडी पांडे जिला चिकित्सालय भी देर से ला पाये, बावजूद महिला की स्थिति अधिक नहीं बिगड़ी थी। बावजूद जिला चिकित्सालय में चिकित्सकों ने उसे सघन चिकित्सा देखरेख में रखा, जिसके बाद उसकी स्थिति में और अधिक सुधार हुआ, एवं देर शाम उसे चिकित्सालय से घर भी भेज दिया गया।
उल्लेखनीय है कि बरसात के मौजूदा मौसम में सांप देखे जाने की अधिक घटनाएं हो रही हैं। खासकर ग्रामीण क्षेत्रो में इस दौरान विशेष सतर्कता बरतने की आवश्यकता है। मंगलवार को भी भवाली में एक घर में किंग कोबरा के घुसने की घटना हुई थी।

यह भी पढ़ें : नैनीताल नगर पालिका के आवास में महिला को सांप ने काटा, हल्द्वानी में भी नहीं मिला इलाज

नवीन समाचार, नैनीताल, 9 जुलाई 2019। नगर पालिका नैनीताल द्वारा जवाहर लाल नेहरू शहरी नवीनीकरण योजना के तहत करीब पांच वर्ष पूर्व नगर के बाहरी क्षेत्र दुर्गापुर में बनाये गये आवास में बीती शाम एक महिला को एक सांप ने काट दिया। बताया गया कि भूरे रंग के करीब दो फिट ही लंबे छोटे से सांप ने सोमवार शाम करीब साढ़े सात बजे 32 वर्षीया शीतल पत्नी अजय कुमार के पैर में एड़ी के पास काट लिया। इस पर परिजन उसे उपचार के लिए तत्काल हल्द्वानी ले गये, किंतु कुमाऊं के सबसे बड़े शहर व स्वास्थ्य सुविधाओं का हब बताये जा रहे शहर में महिला को छोटे से सांप के काटे जाने का उपचार नहीं मिल पाया। आखिर परिजन उसे बाजपुर से आगे रामपुर जाने वाली रोड पर मसवाती नाम के स्थान पर सांप के काटे का इलाज करने वाले एक सिख व्यक्ति के पास ले गये। जिन्होंने महिला को दवाई पिलाई और करीब तीन घंटे रोककर वापस भेज दिया। भाजयुमो के जिला आईटी संयोजक राहुल पुजारी ने क्षेत्र में आधारभूत सुविधाएँ उपलब्ध कराये जाने की जरूरत बताई है।  

आवासों में बिजली-पानी की असुविधाएं बनीं जानलेवा

नैनीताल। स्वस्थ होकर अपने घर लौटी महिला शीतल ने ‘नवीन समाचार’ को बताया कि दुर्गापुर के आवासों में बिजली व पानी की बड़ी समस्या है। घर में पानी नहीं आता है, इसलिए बाहर लगे नल से अपने घर के लिए प्लास्टिक का पाइप जोड़ने गई थी। घरों के बाहर लाइट भी नहीं है। इसलिए इन दोनों स्थितियों के बीच सांप ने काट लिया। घर में पानी व बाहर लाइट होती तो वह मौत के मुंह में जाने से बच जाती। महिला का एक 10 वर्षीय बेटा है और पति नगर में एक बैंक की गाड़ी चलाते हैं। नगर में आने के लिए बलियानाला के भूस्खलन प्रभावित क्षेत्र में संकरे मार्ग तक मोटर साइकिल को खड़ाकर पैदल शहर में आना पड़ता है। इसलिए उपचार के लिए मुख्यालय भी नहीं आ सकते हैं।

यह भी पढ़ें : सांप के काटने से ओखलकांडा के युवक की हल्द्वानी में मौत…

दान सिंह लोधियाल @ नवीन समाचार, धानाचूली, 27 जून 2019। भीमताल विधानसभा के ओखलकांडा ब्लॉक के ग्रामसभा तल्ला ओखलकांडा का चंदन बोरा (24) पुत्र हरक सिंह बोरा हल्द्वानी माँ नारदा ट्रेडर्स  की दुकान में पिछले कई समय से मंडी गेट पर काम करता  था । रविवार सुबह जब वह दुकान गया तो कुछ सामान निकालते वक्त हाथ मे सांप ने काट लिया। पर  उसने सांप के काटे को नजर अंदाज कर जड़ी बूटी दवा का उपयोग किया। जब बुधवार रात शरीर के अंगों ने काम करना बंद किया तो रात 12 बजे सुशील तिवारी हॉस्पिटल में भर्ती कराया। बृहस्पतिवार को सुबह इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। सूचना मिलने पर विधायक राम सिंह कैंड़ा सुशीला तिवारी हॉस्पिटल पहुचकर उसका पोस्टमार्टम करवाया। पोस्टमार्टम के बाद डॉक्टरों ने शव परिजनों को सौंप दिया है।  विधायक कैंड़ा ने बताया कि चंदन सिंह माता-पिता का इकलौता पुत्र था। उसके निधन से परिवार सदमे में है।  विधायक ने उसकी मौत पर गहरा दुख व्यक्त किया है, और पीड़ित परिवार को वन विभाग से मुवावजा देने की मांग की है ।

यह भी पढ़ें : बेतालघाट में दो बच्चों की कोसी नदी में डूबने से मौत

नवीन समाचार, नैनीताल, 26 जून 2019। जनपद के बेतालघाट विकास खंड में दो बच्चों में कोसी नदी में डूबने से मौत हो गयी है। बताया गया है कि विकासखंड के ग्राम मल्ली जेठी निवासी 13 वर्षीय धीरज सिंह बिष्ट पुत्र हीरा सिंह बिष्ट और 14 वर्षीय गोकुल भंडारी पुत्र दरबारा सिंह मंगलवार देर शाम तक घर न लौटे, इस पर उनकी तलाश की गयी। बाद में उनके कुछ वस्त्र निकट ही बहने वाली कोसी नदी के किनारे मिले। इस पर संभावना जताई जा रही थी कि वे नदी में नहाने गये होंगे और डूब गये होंगे। तभी से नदी में उनकी तलाश की जा रही थी। मुख्यालय से एसडीआरएफ के जवान भी उन्हें तलाशने गये थे। इस पर अमेल गांव के साहसी युवक पंकज सिंह ने बुधवार सुबह पहले धीरज के शरीर को मृत अवस्था में नदी से ढूंढ निकाला, वहीं गोकुल का शव अपराह्न करीब पौने एक बजे स्थानीय लोगों ने बरामद किया। घटना के बाद से क्षेत्र में शोक की लहर है। माना जा रहा है इन दिनों हो रही बारिश से नदी का पानी बढ़ने की वजह से बच्चे नदी के बहाव का अंदाजा नहीं लगा पाये और डूब गये। धीरज आठवीं एवं गोकुल नौवीं कक्षा का छात्र था।

यह भी पढ़ें : गरुड़ में दुर्घटना में 8 वर्षीय बच्ची की मौत, पिता, भाई व चाचा घायल

नवीन समाचार, गरुड़ (बागेश्वर), 18 जून 2019। मंगलवार सुबह , बीती रात्रि लगभग 12 बजे एक कार के अनियंत्रित होकर गिर जाने से एक 8 वर्षीय बच्ची की मौत होने की बुरी खबर आई है। दुर्घटना में परिवार के तीन लोग घायल भी हुए हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार मारुति सुजुकी ईको संख्या यूके02-0632 गरुड़ के उडखुली के निकट अनियंत्रित होकर खाई में गिर गई। हादसे में वाहन में सवार चार लोगों में से एक चांदनी (8) पुत्र दीप चन्द्र की मौके पर ही मृत्यु हो गयी, जबकि उसके पिता दीप चन्द्र पुत्र मोहन राम, चाचा महेश चंद्र पुत्र गोपाल राम व भाई गौरव पुत्र दीप चन्द्र घायल हो गए। उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बैजनाथ लाया गया, जहां उनका उपचार चल रहा हैं।

यह भी पढ़ें : कार खाई में गिरी, महिला की मृत्यु, पति व बेटी सहित तीन तीन लोग घायल…

नवीन समाचार, चिन्यालीसौड़, 28 मई 2019। प्रदेश के सीमावती क्षेत्र में नगुन-भवान-सुवाखोली मोटर मार्ग पर चंडीगढ़ से धरासू-तिलपड़ एक आ रही मारुति कार संख्या गाड़ी सीएच01टी-9851 बिकोल गांव के पास अनियंत्रित होकर लगभग 150 मीटर गहरी खाई में गिर कर दुर्घटनाग्रस्त हो गई। दुर्घटना में 76 वर्षीय रतन माला पत्नी भोला दत्त की उपचार के दौरान मौत हो गई अन्य चार घायलों-चालक इंद्रदेव नौटियाल पुत्र भोला दत्त उम्र 50 बर्ष, उनकी पत्नी रुकमणी देवी (48), पुत्री मधु (21 एवं शालिनी पुत्री भगवती प्रसाद अवस्थी की स्थिति को गंभीर देखते हुए उन्हें हायर सेंटर दून रेफर किया गया है। बताया जा रहा है कि कार सवार चंडीगढ़ से अपने गाँव धरासू के पास तिलपड़ गमरी गाड़ आ रहे थे। स्थानीय लोगों के द्वारा घायलों को खाई से निकाला गया एवं तहसील प्रशासन कण्डीसौड़ को सूचना दी सूचना पाकर मौके पर पहुंचे तहसीलदार कण्डीसौड़ व स्थानीय लोगों के द्वारा निजी वाहनों से सीएचसी चिन्यालीसौड़ लाया गया।

 

यह भी पढ़ें : ओवरटेक करने के चक्कर में कुचली मैक्स, एक किशोर समेत तीन लोगों की मौत

ओवरटेक करने के चक्कर में मैक्स की बस से जबरदस्त टक्कर, तीन की मौत

नवीन समाचार, टिहरी, 26 मई 2019। तेजी से ओवरटेक करने के चक्कर में ऋषिकेश जा रही मैक्स सामने से आ रही बस से टकरा गई। भीषण टक्कर में मैक्स सवार एक किशोर समेत तीन लोगों की मौत हो गई। वहीं, दो यात्री गंभीर रूप से घायल हुए हैं। सभी घायलों को श्रीनगर के बेस अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

रविवार सुबह करीब 11 बजकर 45 मिनट ऋषिकेश-बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर श्रीनगर से ऋषिकेश जा रही मैक्स कीर्तिनगर थाना क्षेत्र के लक्षमोली के पास ओवरटेक करने के प्रयास में सामने से आ रही बस से टकरा गई। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने घायलों को श्रीनगर बेस अस्पताल पहुंचाया। मैक्स में अधिकांश यात्री रुद्रप्रयाग जिले के थे। 

इनमें से एक मृतक महिला की शिनाख्त सोनी नौटियाल पत्नी पवन नौटियाल निवासी अगस्तमुनि रुद्रप्रयाग के रूप में हुई है। जबकि किशोर और दूसरे व्यक्ति की शिनाख्त नहीं हो पाई है। मृतक महिला सोनी नौटियाल के बच्चे प्रिंस और प्रियांशी भी गंभीर रूप से घायल हैं। कीर्ति नगर थानाध्यक्ष जवाहरलाल ने बताया मैक्स सवार नौ लोग और बस सवार पौड़ी निवासी दो यात्री रघुनाथ सिंह और राकेश घायल हुए हैं।लक्षमोली के राजस्व उप निरीक्षक प्रमोद सिंह चौहान ने बताया कि एक मृतक महिला की शिनाख्त हुई है। अन्य दो की शिनाख्त के प्रयास किए जा रहे हैं।

घायलों की सूची

प्रिंस नौटियाल, प्रियांशी नौटियाल, भुवनेश, योगेश, डांगी, यसवंत सिह, बसुकेदार, रविन्द्र सिह चालक, भावना डांगी, अनिता डांगी, राजकुमार पूरनपुर उत्तर प्रदेश.

यह भी पढ़ें : शादी में ‘हर्ष फायरिंग’ करने वाले आरोपित की जमानत अर्जी खारिज

नवीन समाचार, नैनीताल, 26 मार्च 2019। गत 23 फरवरी की शाम हल्द्वानी के थाना मुखानी अंतर्गत एक शादी के प्रीति भोज कार्यक्रम में कौस्तुभ पलड़िया पुत्र सुरेश पलड़िया निवासी जयपुर पाडली खुशी में बंदूक से की गयी फायरिंग में गोली लगने से घायल होने की बात प्रकाश में आई थी। बाद में उपचार के दौरान उसकी मौत भी हो गयी थी। हालांकि बाद में कहा गया कि नवीन चंद्र नाम का व्यक्ति शादी में बंदूक लाया था। बंदूक में गोली फंस गयी थी, जिसे ललित पलड़िया नाम का व्यक्ति निकालने का प्रयास कर रहा था, तभी गलती से गोली चल गयी, जिससे कौस्तुभ की मौत हो गयी। बाद में 27 फरवरी को नवीन व ललित को गिरफ्तार किया गया था। नवीन के विरुद्ध आर्म्स एक्ट में तथा ललित के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 304 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। इधर ललित की ओर से अदालत में जमानत का प्रार्थना पत्र दिया गया था। जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने जमानत प्रार्थना का विरोध करते हुए छह गवाह पेश किये। इस पर प्रभारी जिला जज प्रथम अतिरिक्त जिला जज विनोद कुमार की अदालत ने ललित की जमानत खारिज कर दी।

पूर्व समाचार : ‘शोक’ कर गयी ‘हर्ष फायरिंग’, दम तोड़ गया समाजसेवी

मृतक समाजसेवी

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 23 फरवरी 2019। शादी के दौरान डीजे में डांस के दौरान ‘हर्ष फायरिंग’ के दौरान चली गोली से एक एक परिवार ने अपना बेटा  खो दिया, जिससे  परिवार में शोक छा गया है।  लामाचौर क्षेत्र में हुई घटनाा में एक समाजसेवी युवक घायल हो गया था, जिसके बाद उसे एसटीएच में उपचार के लिए लाया गया है। जहां देर रात उसकी मौत हो गई। जानकारी मिलने के बाद एसटीएच में युवकों का जमावड़ा लगा रहा। जबकि पुलिस को गोलीकांड की जानकारी बहुत देर में पता चली। अब पुलिस मामले की जांच कर रही है।

लामाचौड़ क्षेत्र में शुक्रवार रात एक शादी समारोह चल रहा था। डीजे में कई युवक डांस कर रहे थे। बताया जा रहा है कि स्थानीय समाजसेवी कौस्तुभ पलड़िया भी डांस फ्लोर पर थे। इस बीच अचानक किसी ने गोली चला दी। जो कि कौस्तुभ के कांधे के पास जा लगी। इसके अलावा कई छर्रे भी उन्हें लगे। आनन-फानन में बेहोशी की हालत में शादी में मौजूद लोग उन्हें एसटीएच लेकर पहुंचे। जहां चिकित्सक उनके उपचार में जुट गए। देर रात इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

वहीं मुखानी थाना व लामाचौड़ चौकी गोलीकांड की घटना से काफी देर तक अंजान रहा। देर रात मौत की खबर के बाद पुलिस मामले की जांच में जुट गई।

गोली चलाना खेल बना दिया

हल्द्वानी में कमर में लाइसेंसी असलहा लगाना स्टेटस सिंबल बन चुका है। नेताओं व अधिकारियों से जुगाड़ लगाकर लोग लाइसेंस बना रहे हैं। शादी-समारोह में खुद को बड़ा दिखाने के चक्कर में लगातार हर्ष फायरिंग की घटनाएं सामने आ रही है। चार माह पूर्व पंचायत घर रामलीला मंचन के दौरान बाहर सड़क पर तमंचे से चली गोली के छर्रे एक किशोर को लगे थे। वहीं सात दिन पूर्व बनभूलपुरा थाना क्षेत्र में भी डांस के दौरान चली गोली एक मैकेनिक को लगी थी। वहीं बीते शनिवार को इंदिरानगर ठोकर के पास शादी से ठीक एक दिन पहले डांस के दौरान नदीम नामक युवक को वहीं सलमान ने तमंचे से गोली मार दी थी। घटना डीजे में डांस के दौरान हुई थी। गनीमत रही कि गोली युवक के पांव को छूकर निकल गई। वहीं फाय¨रग का आरोपित सलमान आठ दिन बाद भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।
धार्मिक व सामाजिक संगठनों से जुड़े थे कौस्‍तुभ
समाजसेवी के तौर पर कौस्‍तुभ  ने कम समय में इलाके में अच्‍छी पहचान बना ली थी। कई धार्मिक व सा‍माजिक  संगठनों  से जुड़े थे। मौत की सूचना पर अस्‍पताल से लेकर मोर्चरी तक लोगों का तांता लग गया। हर कोई इस घटना से हैरान है।

यह भी पढ़ें : चाचा-भतीजे के परिवार में फूड प्वाइजनिंग, नौ बच्चों सहित 11 लोग बीमार

फूड प्वाइजनिंग से दो परिवारों के 11 लोग बीमारनवीन समाचार, हल्द्वानी, 25 मार्च 2019। नंधौर वैली चोरगलिया क्षेत्र में नंधौर नदी में पत्थर भरने का काम करने वाले व वहीं रहने वाले दो परिवारों के नौ बच्चों सहित 11 लोग फूड प्वाइजनिंग का शिकार हो गये हैं। सभी को हल्द्वानी के बेस अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बताया गया है कि बीती रात्रि उन्होंने सोयाबीन की बड़ी की सब्जी बनाकर खाई थी, लेकिन इसका असर सोमवार को दोपहर पहले करीब 11 बजे के बाद होना शुरू हुआ। इस बीच कुछ अन्य वस्तु खाने से फूड प्वाइजनिंग हुई हो, इस बात की भी जांच की जा रही है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मूल रूप से बिलासपुर निवासी अहमद नवी और उसके चाचा यासीम का 11 लोगों का संयुक्त परिवार के रूप में आमखेड़ा चोरगलिया में रहता हैं। देर रात परिवार के सभी लोगों ने सोयाबीन की बड़ी और रोटी खाई थी इसके बाद सोने चले गए। सुबह करीब 11 बजे के उनकी धीरे-धीरे तबियत खराब होने लगी। चक्कर आने पर परिवार में हड़कंप मचने लगा। लोगों की मदद से उनको बेस अस्पताल लाया गया। इस दौरान अहमद नवी की पत्नी खुशनुमा (40), बेटी तबस्सुम (20), शाइस्ता (4), बेटा आयत (2), रहमान (17), अरमान (12), जीशान (7) और अमान (2)एवं चाचा यासीम के साथ उनके बेटे कासिम (9) व असीम (9) बेहोश हो गए।

यह भी पढ़ें : शादी की दावत में फूड प्वाइजनिंग, 120 से अधिक की तबियत बिगड़ी

नवीन समाचार, जसपुर, 11 फरवरी 2019। उत्तराखंड के ऊधमसिंहनगर जनपद के जसपुर कस्बे के निकटवर्ती गांव भगवंतपुर में रविवार को शादी से पूर्व दी जाने वाली ‘मंढे की दावत’ में खाना खाकर 120 से अधिक ग्रामीणों की तबियत बिगड़ने का समाचार है। ग्रामीणों को आनन फानन में काशीपुर के निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया, जहां पीड़ितों की स्थिति में भी सुधार बताया जा रहा है। पुलिस मामला बनने के डर से आयोजक किसी भी तरह की जानकारी देने से बचते रहे।
जानकारी के अनुसार ग्राम भगवंतपुर में एक व्यक्ति के बेटे की शादी से पूर्व मंढे की दावत में उड़द की दाल और चावल बना था। बताया जा रहा है कि खाना खाने के बाद एक के बाद एक करीब 120 से अधिक ग्रामीणों को उल्टी-दस्त शुरू हो गए। इस पर आयोजक परिवार के हाथ-पांव फूल गए। आनन-फानन में आयोजक परिवार के लोग गंभीर रूप से बीमार ग्रामीणों को काशीपुर के प्राइवेट नर्सिंग होम में ले गए। वहीं अधिकतर ग्रामीण गांव में डॉक्टर से इलाज कराते रहे। गांव के एक डॉक्टर ने आशंका जताई कि ग्रामीणों की तबियत फूड प्वॉइजनिंग के कारण बिगड़ी होगी। अनाज में कीड़ा न लगे इसलिए ग्रामीण उसमें कीटनाशक डाल देते हैं। आशंका जताई जा रही है कि उड़द और चावल में कीटनाशक रहा हो और खाना बनाने से पहले इन्हें सही से नहीं धोया गया हो। बताया जा रहा है कि बीमार पड़े लोगों में सिर्फ पुरुष ही शामिल हैं। इससे पहले की महिलाएं इस खाने को खातीं, पुरुषों की तबीयत बिगड़ने लगीं, जिसके चलते उन्होंने खाना खाया ही नहीं। इस बाबत पुलिस को कोई जानकारी नहीं है।

पूर्व समाचार : फूड प्वाइजनिंग से हुई चौथी मौत, आनंदा दूध को बताया जा रहा है कारण !

शादी में खाना खाने से पूर्व विधायक समेत 225 लोग हुए फूड प्वाइजनिंग के शिकार

हल्द्वानी, 3 दिसंबर 2018। बागेश्वर जिले की कपकोट विधानसभा अंतर्गत बास्ती गांव में गुरुवार 29 दिसंबर को बारात के खाने में हुई फूड प्वाइजनिंग की घटना में सोमवार दोपहर करीब सवा 12 बजे हल्द्वानी के सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज में एक 60 वर्षीया महिला खिमुली देवी पत्नी फकीर चंद्र ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया है। इस प्रकार इस मामले में मौतों की संख्या चार हो गयी है। मृतकों में दो महिलाएं एवं दो बच्चे शामिल हैं। मृतका खिमुली देवी बास्ती गांव की ही रहने वाली थी। उसके पति का भी मेडिकल कॉलेज में उपचार चल रहा है। अस्पताल प्रशासन के अनुसार वह यहां लाये जाने वाले शुरुआती मरीजों में शामिल थी। उसे पहले से श्वांस की बीमारी भी थी, और वह शुरू से ही वेंटीलेटर पर रखी गयी थी। वहीं मामले में अभी भी कम से कम 6 लोगों की हालत गंभीर बतायी जा रही है।
इधर फूड प्वाइजनिंग की स्वयं भी जद में आये कपकोट के पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण ने इस मामले में आनंदा ब्रांड के दूध को इस पूरी घटना के लिए दोषी ठहराया है। उनका कहना है कि उन्होंने बारात में केवल दो चम्मच रायता ही खाया था, जो आनंदा दूध से बना था। गौरतलब है कि मामले में शुरू से रायते को ही फूड प्वाइजनिंग के लिए दोषी ठहराया जा रहा था, अलबत्ता कुछ मरीजों ने चावल में कीटनाशक होने के कारण को भी इस घटना का मूल कारण बताया है।

पूर्व समाचार: फूड प्‍वाइ‍जनिंग से बीमार दो बच्चों व एक महिला सहित 3 की मौत, सीएम ने डीएम से मांगी रिपोर्ट

बागेश्वर, 1 दिसंबर 2018। बागेश्वर जिले के बास्ती गांव में शादी में खाना खाने के बाद फूड प्वाइजनिंग से बीमार दो बच्चों समेत एक महिला की मौत हो गई है, जबकि 257 बीमार लोगों को पिथौरागढ़ व बागेश्वर के विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा हैं। अभी तक 19 लोगों को हायर सेंटर हल्द्वानी रेफर कर दिया हैं। इनमें से 9 बीमार लोगों को अब तक एअर लिफ्ट कर एसटीएच हल्द्वानी में भर्ती कराया गया हैं। रेफर होने वालों का आंकड़ा अभी और बढ़ सकता हैं। कमिश्नर राजीव रौतेला ने पूरे मामले की मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दे दिए हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बागेश्वर में फूड पाइजनिंग की घटना के बारे में डीएम बागेश्वर से रिपोर्ट मांगी है। सीएम आज हल्द्वानी में बीमारों से मिलेंगे, और सभी का सरकार निःशुल्क इलाज भी कराएगी।

उल्लेखनीय है कि गुरुवार को कपकोट विधानसभा के बास्ती गांव में शादी का भोजन खाने से 250 से अधिक लोग फूड प्वाइजनिंग का शिकार हो गए थे। इन सभी का बागेश्वर और पिथौरागढ़ जिले के अस्पतालों में उपचार चल रहा है। शनिवार को उपचार के दौरान मोहित (5) पुत्र देव सिंह, प्रियांशी (9) पुत्री राजेंद्र महर और नंदी देवी (55) पत्नी प्रताप सिंह की मौत हो गई। पांच वर्षीय बालक मोहित की मौत बेरीनाग सीएचसी में हुई, जबकि प्रियांशी की हायर सेंटर ले जाते समय मौत हुई। वहीं नंदी देवी की सुशीला तिवारी अस्पताल हल्द्वानी में उपचार के दौरान मौत हुई। इनके अलावा 6 अधिक लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है, जिन्हें हेलीकॉप्टर से हल्द्वानी हायर सेंटर भेजा गया है। इसके अलावा सीएससी कांडा में 46, कपकोट में 46 व जिला अस्पताल में 20 मरीज भर्ती हैं। जिला अस्पताल से 8 मरीजों को इलाज के लिए हायर सेंटर रेफर किया गया हैं। चिकित्सकों की कमी को देखते हुए बाहरी जिलों से चिकित्सक जिला मुख्यालय पहुंच रहे हैं। सीएससी बेरीनाग में हेलीकाप्टर के जरिये एक चिकित्सक भेज दिया हैं। वहीं नैनीताल व अल्मोड़ा से चिकित्सकों की टीम बागेश्वर पहुंच रही हैं। बागेश्वर में फिलहाल कोई गंभीर नही बताया जा रहा हैं। बास्ती गांव में डॉ. दीप कुमार व फार्मासिस्ट हरी प्रसाद को भेजा गया हैं। इसके अलावा पशु चिकित्सकों व जलसंस्थान की टीम भी भेजी गई हैं। यह लोग बीमार मवेशियों का भी इलाज करेंगे। जल संस्थान की टीम पानी का सैंपल लेगी।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बागेश्वर में फूड पाइजनिंग की घटना के बारे में डीएम बागेश्वर से रिपोर्ट मांगी है। उन्होंने बीमार लोगों का समुचित उपचार सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश पर हेलीकाप्टर से गंभीर  रूप से बीमार व्यक्तियों को उपचार के लिए हल्द्वानी लाकर भर्ती कराया गया है। विशेषज्ञ चिकित्सकों को भी भेजा गया है। मुख्यमंत्री ने कमिश्नर कुमाऊं को भी जिलाधिकारी बागेश्वर के निरंतर संपर्क में रहने को कहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि फूड पाइजनिंग से बीमार लोगों को उपचार की हर प्रकार की सहायता उपलब्ध कराई जाएगी। डीएम बागेश्वर ने बताया कि बीमार लोगों का बागेश्वर के सरकारी व निजी अस्पतालों में निश्घ्शुल्क इलाज किया जा रहा है

विषाक्त रायते ने फैला दिया ‘रायता’ ! पूर्व विधायक सहित 250 बाराती बीमार

बागेश्वर, 30 नवंबर 2018। बागेश्वर जिले के कपकोट ब्लॉक के ग्राम बास्ती में विषाक्त भोजन खाने से कपकोट के पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण समेत 250 से अधिक बाराती और घराती बीमार हो गए। इनमें अधिकतर घराती हैं। सूचना मिलने पर जिला प्रशासन ने गांव में डॉक्टरों की टीम भेजी। प्राथमिक उपचार के बाद मरीजों को बेड़ीनाग, कांडा और बागेश्वर के अस्पतालों में भर्ती किया गया। कई मरीजों का गांव में ही इलाज चल रहा है। कपकोट के पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण को उनकी गंभीर हालत के मद्देनजर अल्मोड़ा बेस अस्पताल में लाया गया जहां उनकी हालत में सुधार बताया जा रहा है। 
गडेरा निवासी हरीश सिंह गढ़िया के बेटे नंदन सिंह गढ़िया की बारात बृहस्पतिवार को बास्ती गांव में मोहन सिंह महर के घर गई थी। बाराती-घराती खाना खाकर घर चले गए थे। रात में लगभग दस बजे के करीब जिन-जिन लोगों ने बारात में खाना खाया था, उन्हें उल्टी-दस्त होने लगे तो हड़कंप मच गया। रातभर ग्रामीण परेशान रहे। शुक्रवार सुबह बागेश्वर जिला प्रशासन को सूचित किया गया। कपकोट विधायक बलवंत सिंह भौर्याल के निर्देश पर जिला प्रशासन ने डॉक्टरों की टीम को बास्ती गांव भेजा। प्रशासन ने बताया कि बास्ती, गडेरा, सनगाड़, थूमा और द्वारी गांवों के 250 से अधिक ग्रामीण बीमार हैं। इनमें से 152 से अधिक मरीज बेरीनाग अस्पताल, 42 कांडा और लगभग 14 मरीज बागेश्वर अस्पताल में मरीज भर्ती हैं। कपकोट के पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण व जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश ऐठानी के गनर नरेंद्र सिंह  को भी गंभीर हालत में जिला अस्पताल बागेश्वर में भर्ती किया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें अल्मोड़ा रेफर कर दिया गया। एसडीएम कांडा रिंकू बिष्ट, सीओ महेश जोशी सहित डॉ. बीएस रावत, केबी वर्मा, विक्रम वर्मा, मनोज कोरंगा, विक्रम कार्की ने बास्ती गांव जाकर मरीजों का हाल जाना और उनका प्राथमिक उपचार किया। कांडा, बेरीनाग, बागेश्वर से मंगाई गई पांच एंबुलेंसों से मरीजों को अस्पतालों में भेजा गया। एसडीएम रिंकू बिष्ट ने बताया कि 70 से अधिक लोगों का गांव में ही इलाज चल रहा है। डॉ. बीएस रावत ने बताया कि अधिकांश मरीजों की हालत में अब सुधार है।  

रायते के विषाक्त होने का अंदेशा, रायता खाने से बकरी भी बीमार 

बास्ती गांव में बारात के भोजन के दौरान किस खाने में विषाक्त होने के लक्षण थे, यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा लेकिन ग्रामीणों को आशंका है कि रायता विषाक्त होगा क्योंकि जिन लोगों ने रायता नहीं खाया वे बीमार नहीं हुए। ग्रामीणों ने बताया कि बारात में चंचल महर, इंदिरा देवी, तारा देवी, धन सिंह ने रायता नहीं खाया तो उन्हें फूड प्वॉइजनिंग नहीं हुई।  ग्रामीणों ने बताया कि रायते के विषाक्त होने का अंदेशा तब गहरा हो गया जब एक बकरी को रायता दिया तो वह भी बीमार हो गई। हालांकि, प्रशासन घटना की गहन जांच कर रहा है। जांच के बाद ही सही तथ्य सामने आएंगे।  

जिला पंचायत अध्यक्ष ने नहीं खाया रायता 

जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश ऐठानी, पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण ने साथ ही भोजन किया। पूर्व विधायक बीमार हो गए, लेकिन जिपं अध्यक्ष ठीक है। जिला पंचायत अध्यक्ष ने बताया कि उन्होंने रायता नहीं लिया जिससे अंदेशा लगाया जा रहा है कि रायता ही खराब था। जिला पंचायत अध्यक्ष का गनर नरेंद्र सिंह भी बीमार है।

यह भी पढ़ें : सिडकुल की फैक्ट्री में जहरीली गैस का रिसाव, 7 महिला कर्मी बेहोश, हडकंप…

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 17 जनवरी 2019। सिडकुल की एलजीबी फैक्ट्री में जहरीली गैस का रिसाव होने से आधा दर्जन महिला कर्मी बेहोश ही गई हैं। इसका पता चलते फैक्ट्री प्रबंधन में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में उन्‍हें निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 17 जनवरी 2019। सिडकुल की एलजीबी फैक्ट्री में जहरीली गैस का रिसाव होने से आधा दर्जन महिला कर्मी बेहोश ही गई हैं। इसका पता चलते फैक्ट्री प्रबंधन में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में उन्‍हें निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

रुद्रपुर के सिडकुल के सेक्टर 9 स्थित बाइक की चेन बनाने वाली एलजीबी फैक्ट्री में बृहस्पतिवार दोपहर में फैक्ट्री में तैनात महिला कर्मचारी खाना खाने के लिए केबन में गई हुई थीं। इसी बीच कमरे में जहरीली गैस का रिसाव हो गया, जिससे सात महिला कर्मी बेहोश हो गईं। यह देख पीछे से आ रही महिला कर्मियों में भी हड़कंप मच गया। शोर सुनकर फैक्ट्री अधिकारी भी पहुंच गए। बेहोश महिला कर्मी रेनू, आर्किल यादव, रचना, रोली यादव, ज्योति, प्रियंका और कल्पना को फैक्ट्री के वाहन से निजी अस्पताल पहुंचाया। जहां उनकी हालत सामान्य बनी हुई है। इसका पता चलते ही सिडकुल चौकी प्रभारी केजी मठपाल पुलिस कर्मियों के साथ फैक्ट्री पहुंचे और घटना की जानकारी ली। फिलहाल पुलिस जांच कर रही है।

नवीन जोशी

Leave a Reply

Next Post

जनपद में 139 वर्ष पुरानी हो चुकी व्यवस्था पर प्रधानमंत्री कार्यालय ने लिया संज्ञान,

Mon Aug 19 , 2019
यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये -भीमताल झील के बांध की सुरक्षा दीवारों में दरारें आने व पानी रिसने की की गई थी शिकायत ' ' नवीन समाचार, नैनीताल, 19 अगस्त 2019। जनपद की भीमताल सरोवर की सुरक्षा दीवारों में पिछले कुछ वर्षों से आई दरारों पर प्रधानमंत्री […]
Loading...

Breaking News

सहयोग : श्रीमती रेनू सिंह

ads (1)

सहयोग : श्रीमती रेनू सिंह