Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

शादी की दावत में फूड प्वाइजनिंग, 120 से अधिक की तबियत बिगड़ी

Spread the love

नवीन समाचार, जसपुर, 11 फरवरी 2019। उत्तराखंड के ऊधमसिंहनगर जनपद के जसपुर कस्बे के निकटवर्ती गांव भगवंतपुर में रविवार को शादी से पूर्व दी जाने वाली ‘मंढे की दावत’ में खाना खाकर 120 से अधिक ग्रामीणों की तबियत बिगड़ने का समाचार है। ग्रामीणों को आनन फानन में काशीपुर के निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया, जहां पीड़ितों की स्थिति में भी सुधार बताया जा रहा है। पुलिस मामला बनने के डर से आयोजक किसी भी तरह की जानकारी देने से बचते रहे।
जानकारी के अनुसार ग्राम भगवंतपुर में एक व्यक्ति के बेटे की शादी से पूर्व मंढे की दावत में उड़द की दाल और चावल बना था। बताया जा रहा है कि खाना खाने के बाद एक के बाद एक करीब 120 से अधिक ग्रामीणों को उल्टी-दस्त शुरू हो गए। इस पर आयोजक परिवार के हाथ-पांव फूल गए। आनन-फानन में आयोजक परिवार के लोग गंभीर रूप से बीमार ग्रामीणों को काशीपुर के प्राइवेट नर्सिंग होम में ले गए। वहीं अधिकतर ग्रामीण गांव में डॉक्टर से इलाज कराते रहे। गांव के एक डॉक्टर ने आशंका जताई कि ग्रामीणों की तबियत फूड प्वॉइजनिंग के कारण बिगड़ी होगी। अनाज में कीड़ा न लगे इसलिए ग्रामीण उसमें कीटनाशक डाल देते हैं। आशंका जताई जा रही है कि उड़द और चावल में कीटनाशक रहा हो और खाना बनाने से पहले इन्हें सही से नहीं धोया गया हो। बताया जा रहा है कि बीमार पड़े लोगों में सिर्फ पुरुष ही शामिल हैं। इससे पहले की महिलाएं इस खाने को खातीं, पुरुषों की तबीयत बिगड़ने लगीं, जिसके चलते उन्होंने खाना खाया ही नहीं। इस बाबत पुलिस को कोई जानकारी नहीं है।

पूर्व समाचार : फूड प्वाइजनिंग से हुई चौथी मौत, आनंदा दूध को बताया जा रहा है कारण !

शादी में खाना खाने से पूर्व विधायक समेत 225 लोग हुए फूड प्वाइजनिंग के शिकार

हल्द्वानी, 3 दिसंबर 2018। बागेश्वर जिले की कपकोट विधानसभा अंतर्गत बास्ती गांव में गुरुवार 29 दिसंबर को बारात के खाने में हुई फूड प्वाइजनिंग की घटना में सोमवार दोपहर करीब सवा 12 बजे हल्द्वानी के सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज में एक 60 वर्षीया महिला खिमुली देवी पत्नी फकीर चंद्र ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया है। इस प्रकार इस मामले में मौतों की संख्या चार हो गयी है। मृतकों में दो महिलाएं एवं दो बच्चे शामिल हैं। मृतका खिमुली देवी बास्ती गांव की ही रहने वाली थी। उसके पति का भी मेडिकल कॉलेज में उपचार चल रहा है। अस्पताल प्रशासन के अनुसार वह यहां लाये जाने वाले शुरुआती मरीजों में शामिल थी। उसे पहले से श्वांस की बीमारी भी थी, और वह शुरू से ही वेंटीलेटर पर रखी गयी थी। वहीं मामले में अभी भी कम से कम 6 लोगों की हालत गंभीर बतायी जा रही है।
इधर फूड प्वाइजनिंग की स्वयं भी जद में आये कपकोट के पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण ने इस मामले में आनंदा ब्रांड के दूध को इस पूरी घटना के लिए दोषी ठहराया है। उनका कहना है कि उन्होंने बारात में केवल दो चम्मच रायता ही खाया था, जो आनंदा दूध से बना था। गौरतलब है कि मामले में शुरू से रायते को ही फूड प्वाइजनिंग के लिए दोषी ठहराया जा रहा था, अलबत्ता कुछ मरीजों ने चावल में कीटनाशक होने के कारण को भी इस घटना का मूल कारण बताया है।

पूर्व समाचार: फूड प्‍वाइ‍जनिंग से बीमार दो बच्चों व एक महिला सहित 3 की मौत, सीएम ने डीएम से मांगी रिपोर्ट

बागेश्वर, 1 दिसंबर 2018। बागेश्वर जिले के बास्ती गांव में शादी में खाना खाने के बाद फूड प्वाइजनिंग से बीमार दो बच्चों समेत एक महिला की मौत हो गई है, जबकि 257 बीमार लोगों को पिथौरागढ़ व बागेश्वर के विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा हैं। अभी तक 19 लोगों को हायर सेंटर हल्द्वानी रेफर कर दिया हैं। इनमें से 9 बीमार लोगों को अब तक एअर लिफ्ट कर एसटीएच हल्द्वानी में भर्ती कराया गया हैं। रेफर होने वालों का आंकड़ा अभी और बढ़ सकता हैं। कमिश्नर राजीव रौतेला ने पूरे मामले की मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दे दिए हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बागेश्वर में फूड पाइजनिंग की घटना के बारे में डीएम बागेश्वर से रिपोर्ट मांगी है। सीएम आज हल्द्वानी में बीमारों से मिलेंगे, और सभी का सरकार निःशुल्क इलाज भी कराएगी।

उल्लेखनीय है कि गुरुवार को कपकोट विधानसभा के बास्ती गांव में शादी का भोजन खाने से 250 से अधिक लोग फूड प्वाइजनिंग का शिकार हो गए थे। इन सभी का बागेश्वर और पिथौरागढ़ जिले के अस्पतालों में उपचार चल रहा है। शनिवार को उपचार के दौरान मोहित (5) पुत्र देव सिंह, प्रियांशी (9) पुत्री राजेंद्र महर और नंदी देवी (55) पत्नी प्रताप सिंह की मौत हो गई। पांच वर्षीय बालक मोहित की मौत बेरीनाग सीएचसी में हुई, जबकि प्रियांशी की हायर सेंटर ले जाते समय मौत हुई। वहीं नंदी देवी की सुशीला तिवारी अस्पताल हल्द्वानी में उपचार के दौरान मौत हुई। इनके अलावा 6 अधिक लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है, जिन्हें हेलीकॉप्टर से हल्द्वानी हायर सेंटर भेजा गया है। इसके अलावा सीएससी कांडा में 46, कपकोट में 46 व जिला अस्पताल में 20 मरीज भर्ती हैं। जिला अस्पताल से 8 मरीजों को इलाज के लिए हायर सेंटर रेफर किया गया हैं। चिकित्सकों की कमी को देखते हुए बाहरी जिलों से चिकित्सक जिला मुख्यालय पहुंच रहे हैं। सीएससी बेरीनाग में हेलीकाप्टर के जरिये एक चिकित्सक भेज दिया हैं। वहीं नैनीताल व अल्मोड़ा से चिकित्सकों की टीम बागेश्वर पहुंच रही हैं। बागेश्वर में फिलहाल कोई गंभीर नही बताया जा रहा हैं। बास्ती गांव में डॉ. दीप कुमार व फार्मासिस्ट हरी प्रसाद को भेजा गया हैं। इसके अलावा पशु चिकित्सकों व जलसंस्थान की टीम भी भेजी गई हैं। यह लोग बीमार मवेशियों का भी इलाज करेंगे। जल संस्थान की टीम पानी का सैंपल लेगी।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बागेश्वर में फूड पाइजनिंग की घटना के बारे में डीएम बागेश्वर से रिपोर्ट मांगी है। उन्होंने बीमार लोगों का समुचित उपचार सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश पर हेलीकाप्टर से गंभीर  रूप से बीमार व्यक्तियों को उपचार के लिए हल्द्वानी लाकर भर्ती कराया गया है। विशेषज्ञ चिकित्सकों को भी भेजा गया है। मुख्यमंत्री ने कमिश्नर कुमाऊं को भी जिलाधिकारी बागेश्वर के निरंतर संपर्क में रहने को कहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि फूड पाइजनिंग से बीमार लोगों को उपचार की हर प्रकार की सहायता उपलब्ध कराई जाएगी। डीएम बागेश्वर ने बताया कि बीमार लोगों का बागेश्वर के सरकारी व निजी अस्पतालों में निश्घ्शुल्क इलाज किया जा रहा है

विषाक्त रायते ने फैला दिया ‘रायता’ ! पूर्व विधायक सहित 250 बाराती बीमार

बागेश्वर, 30 नवंबर 2018। बागेश्वर जिले के कपकोट ब्लॉक के ग्राम बास्ती में विषाक्त भोजन खाने से कपकोट के पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण समेत 250 से अधिक बाराती और घराती बीमार हो गए। इनमें अधिकतर घराती हैं। सूचना मिलने पर जिला प्रशासन ने गांव में डॉक्टरों की टीम भेजी। प्राथमिक उपचार के बाद मरीजों को बेड़ीनाग, कांडा और बागेश्वर के अस्पतालों में भर्ती किया गया। कई मरीजों का गांव में ही इलाज चल रहा है। कपकोट के पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण को उनकी गंभीर हालत के मद्देनजर अल्मोड़ा बेस अस्पताल में लाया गया जहां उनकी हालत में सुधार बताया जा रहा है। 
गडेरा निवासी हरीश सिंह गढ़िया के बेटे नंदन सिंह गढ़िया की बारात बृहस्पतिवार को बास्ती गांव में मोहन सिंह महर के घर गई थी। बाराती-घराती खाना खाकर घर चले गए थे। रात में लगभग दस बजे के करीब जिन-जिन लोगों ने बारात में खाना खाया था, उन्हें उल्टी-दस्त होने लगे तो हड़कंप मच गया। रातभर ग्रामीण परेशान रहे। शुक्रवार सुबह बागेश्वर जिला प्रशासन को सूचित किया गया। कपकोट विधायक बलवंत सिंह भौर्याल के निर्देश पर जिला प्रशासन ने डॉक्टरों की टीम को बास्ती गांव भेजा। प्रशासन ने बताया कि बास्ती, गडेरा, सनगाड़, थूमा और द्वारी गांवों के 250 से अधिक ग्रामीण बीमार हैं। इनमें से 152 से अधिक मरीज बेरीनाग अस्पताल, 42 कांडा और लगभग 14 मरीज बागेश्वर अस्पताल में मरीज भर्ती हैं। कपकोट के पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण व जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश ऐठानी के गनर नरेंद्र सिंह  को भी गंभीर हालत में जिला अस्पताल बागेश्वर में भर्ती किया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें अल्मोड़ा रेफर कर दिया गया। एसडीएम कांडा रिंकू बिष्ट, सीओ महेश जोशी सहित डॉ. बीएस रावत, केबी वर्मा, विक्रम वर्मा, मनोज कोरंगा, विक्रम कार्की ने बास्ती गांव जाकर मरीजों का हाल जाना और उनका प्राथमिक उपचार किया। कांडा, बेरीनाग, बागेश्वर से मंगाई गई पांच एंबुलेंसों से मरीजों को अस्पतालों में भेजा गया। एसडीएम रिंकू बिष्ट ने बताया कि 70 से अधिक लोगों का गांव में ही इलाज चल रहा है। डॉ. बीएस रावत ने बताया कि अधिकांश मरीजों की हालत में अब सुधार है।  

रायते के विषाक्त होने का अंदेशा, रायता खाने से बकरी भी बीमार 

बास्ती गांव में बारात के भोजन के दौरान किस खाने में विषाक्त होने के लक्षण थे, यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा लेकिन ग्रामीणों को आशंका है कि रायता विषाक्त होगा क्योंकि जिन लोगों ने रायता नहीं खाया वे बीमार नहीं हुए। ग्रामीणों ने बताया कि बारात में चंचल महर, इंदिरा देवी, तारा देवी, धन सिंह ने रायता नहीं खाया तो उन्हें फूड प्वॉइजनिंग नहीं हुई।  ग्रामीणों ने बताया कि रायते के विषाक्त होने का अंदेशा तब गहरा हो गया जब एक बकरी को रायता दिया तो वह भी बीमार हो गई। हालांकि, प्रशासन घटना की गहन जांच कर रहा है। जांच के बाद ही सही तथ्य सामने आएंगे।  

जिला पंचायत अध्यक्ष ने नहीं खाया रायता 

जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश ऐठानी, पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण ने साथ ही भोजन किया। पूर्व विधायक बीमार हो गए, लेकिन जिपं अध्यक्ष ठीक है। जिला पंचायत अध्यक्ष ने बताया कि उन्होंने रायता नहीं लिया जिससे अंदेशा लगाया जा रहा है कि रायता ही खराब था। जिला पंचायत अध्यक्ष का गनर नरेंद्र सिंह भी बीमार है।  

यह भी पढ़ें : सिडकुल की फैक्ट्री में जहरीली गैस का रिसाव, 7 महिला कर्मी बेहोश, हडकंप…

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 17 जनवरी 2019। सिडकुल की एलजीबी फैक्ट्री में जहरीली गैस का रिसाव होने से आधा दर्जन महिला कर्मी बेहोश ही गई हैं। इसका पता चलते फैक्ट्री प्रबंधन में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में उन्‍हें निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 17 जनवरी 2019। सिडकुल की एलजीबी फैक्ट्री में जहरीली गैस का रिसाव होने से आधा दर्जन महिला कर्मी बेहोश ही गई हैं। इसका पता चलते फैक्ट्री प्रबंधन में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में उन्‍हें निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

रुद्रपुर के सिडकुल के सेक्टर 9 स्थित बाइक की चेन बनाने वाली एलजीबी फैक्ट्री में बृहस्पतिवार दोपहर में फैक्ट्री में तैनात महिला कर्मचारी खाना खाने के लिए केबन में गई हुई थीं। इसी बीच कमरे में जहरीली गैस का रिसाव हो गया, जिससे सात महिला कर्मी बेहोश हो गईं। यह देख पीछे से आ रही महिला कर्मियों में भी हड़कंप मच गया। शोर सुनकर फैक्ट्री अधिकारी भी पहुंच गए। बेहोश महिला कर्मी रेनू, आर्किल यादव, रचना, रोली यादव, ज्योति, प्रियंका और कल्पना को फैक्ट्री के वाहन से निजी अस्पताल पहुंचाया। जहां उनकी हालत सामान्य बनी हुई है। इसका पता चलते ही सिडकुल चौकी प्रभारी केजी मठपाल पुलिस कर्मियों के साथ फैक्ट्री पहुंचे और घटना की जानकारी ली। फिलहाल पुलिस जांच कर रही है।

यह भी पढ़ें : पुल गिरने सहित दो हादसों से हुई शुक्रवार की शुरुआत, 4 की मौत, कई घायल

नवीन समाचार, देहरादून/हल्द्वानी, 28 दिसंबर 2018। उत्तराखंड वासियों के लिए शुक्रवार की सुबह दो बड़े हादसों की खबर ले कर आई है। इन दो बड़े हादसों में देहरादून में एक पुल गिरने एवं हल्द्वानी में दो वाहनों की टक्कर में 2-2 यानी कुल चार लोगों की मौत एवं अन्य के घायल होने की खबर है। पुल टूटने से कई गांवों का दून से सीधा संपर्क भी टूट गया है। 
पहली घटना देहरादून में सुबह करीब 5 बजे की है। यहां गढ़ी कैन्ट से संतला देवी मंदिर को जोड़ने वाला 115 साल पुराना बीरपुर 9 नंबर पुल ढह गया। इस घटना में 3 व्यक्तियों के घायल व 2 व्यक्ति को मृत होने की खबर है। बताया जा रहा है कि अचानक ही यह लोहे का पुल पूरी तरह टूट कर गिर गया। जिस समय यह हादसा हुआ उस वक्त पुल पर एक डम्फर के पीछे दो बाइक होने की बात कही जा रही है। जिसमे बाइक संख्या यूके07एएस-6319 और यूके07के-5869 के सवार चलते चलते पुल के साथ नदी में जा गिरे। मृतकों के नाम धन बहादुर थापा पुत्र आरएस थापा निवासी बानगंगा बीरपुर, प्रेम थापा पुत्र तारा थापा निवासी डाकरा गढ़ी कैंट बताये गये हैं वहीं घायलों में शाहरुख पुत्र सगीर ढकरानी विकासनगर, जुल्फान पुत्र मंजूर हसन ढकरानी विकासनगर हैं, जबकि एक की पहचान नहीं हो पाई है।घायलों को एसडीआरएफ की टीम द्वारा सिनर्जी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया।
वहीं दूसरी घटना में हल्द्वानी में बच्चीनगर, कमलुवागांजा रोड, लामाचौड़ में शुक्रवार सुबह करीब साढ़े पांच बजे हुए एक सड़क हादसे में दो लोगों की मौत हो गई। मारे एक व्यक्ति की ही शिनाख्त हो पाई है। हादसे में छोटा हाथी संख्या यूके 07सीएम 6259 व ट्रक संख्या यूके 04 सीए 3472 में आमने सामने की टक्कर हो गयी। हादसा इतना भयावह था कि छोटा हाथी में फंसे दो शवों को निकालने में गैस कटर का उपयोग करना पड़ा। वहीं ट्रक चालक और परिचालक वाहन को मौके पर ही छोड़कर फरार हो गए। मारे गए एक व्यक्ति की शिनाख्त बाघ सिंह पुत्र विजय सिंह बिष्ट निवासी जाख चमोली के रूप में हुई है। जबकि दूसरे व्यक्ति की शिनाख्त कराने का पुलिस प्रयासकर रही है।

नवीन समाचार, देहरादून/हल्द्वानी, 28 दिसंबर 2018। उत्तराखंड वासियों के लिए शुक्रवार की सुबह दो बड़े हादसों की खबर ले कर आई है। इन दो बड़े हादसों में देहरादून में एक पुल गिरने एवं हल्द्वानी में दो वाहनों की टक्कर में 2-2 यानी कुल चार लोगों की मौत एवं अन्य के घायल होने की खबर है। पुल टूटने से कई गांवों का दून से सीधा संपर्क भी टूट गया है। 
पहली घटना देहरादून में सुबह करीब 5 बजे की है। यहां गढ़ी कैन्ट से संतला देवी मंदिर को जोड़ने वाला 115 साल पुराना बीरपुर 9 नंबर पुल ढह गया। इस घटना में 3 व्यक्तियों के घायल व 2 व्यक्ति को मृत होने की खबर है। बताया जा रहा है कि अचानक ही यह लोहे का पुल पूरी तरह टूट कर गिर गया। जिस समय यह हादसा हुआ उस वक्त पुल पर एक डम्फर के पीछे दो बाइक होने की बात कही जा रही है। जिसमे बाइक संख्या यूके07एएस-6319 और यूके07के-5869 के सवार चलते चलते पुल के साथ नदी में जा गिरे। मृतकों के नाम धन बहादुर थापा पुत्र आरएस थापा निवासी बानगंगा बीरपुर, प्रेम थापा पुत्र तारा थापा निवासी डाकरा गढ़ी कैंट बताये गये हैं वहीं घायलों में शाहरुख पुत्र सगीर ढकरानी विकासनगर, जुल्फान पुत्र मंजूर हसन ढकरानी विकासनगर हैं, जबकि एक की पहचान नहीं हो पाई है।घायलों को एसडीआरएफ की टीम द्वारा सिनर्जी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया।
वहीं दूसरी घटना में हल्द्वानी में बच्चीनगर, कमलुवागांजा रोड, लामाचौड़ में शुक्रवार सुबह करीब साढ़े पांच बजे हुए एक सड़क हादसे में दो लोगों की मौत हो गई। मारे एक व्यक्ति की ही शिनाख्त हो पाई है। हादसे में छोटा हाथी संख्या यूके 07सीएम 6259 व ट्रक संख्या यूके 04 सीए 3472 में आमने सामने की टक्कर हो गयी। हादसा इतना भयावह था कि छोटा हाथी में फंसे दो शवों को निकालने में गैस कटर का उपयोग करना पड़ा। वहीं ट्रक चालक और परिचालक वाहन को मौके पर ही छोड़कर फरार हो गए। मारे गए एक व्यक्ति की शिनाख्त बाघ सिंह पुत्र विजय सिंह बिष्ट निवासी जाख चमोली के रूप में हुई है। जबकि दूसरे व्यक्ति की शिनाख्त कराने का पुलिस प्रयासकर रही है।

पिथौरागढ़ के सीमावर्ती क्षेत्र में सड़क निर्माण के दौरान चट्टान गिरने से महिला सहित दो मजदूरों की दबकर मौत

नवीन समाचार, धारचूला, पिथौरागढ़, 27 दिसंबर 2018। पिथौरागढ़ जनपद के सीमावर्ती क्षेत्र में बन रहे तवाघाट-लीपूलेख सड़क निर्माण के दौरान शुक्रवार को एक दुर्घटना हो गयी। दुर्घटना में सड़क को काटे जाने के दौरान चट्टान नीचे कार्य पर लगे मजदूरों पर गिर गयी। दुर्घटना में एक महिला सहित दो मजदूरों की चट्टान के मलबे में दबने से मौके पर मौत होने की सूचना है।प्रारंभिक जानकारी के अनुसार शुक्रवार दोपहर 12 बजकर 36 मिनट पर तवाघाट-लीपूलेख सड़क पर गर्भाधार के निकट ग्रिफ द्वारा किये जा रहे कटिंग कार्य के दौरान भूस्खलन हो गया। जिसमें दबकर मजदूर भगवान दत्त (नेपाली) और दुर्गा देवी (भारतीय) की मौके पर ही मौत हो गई। सूचना मिलने पर एसडीआरएफ और पांगला पुलिस व प्रशासन की टीमें मौके के लिए रवाना हो गई हैं। दूरस्थ क्षेत्र होने के कारण घटना की अधिक जानकारी नहीं मिल पाई है।

Loading...

Leave a Reply