Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

स्वास्थ्य : नए वर्ष की ठंड में चेहरे पर ग्लो बनाये रखने के लिये ट्राय करें यह

Spread the love

नवीन समाचार, फीचर डेस्क, नैनीताल, 22 जनवरी 2019। 

हर किसी की चाहत होती है कि उसकी त्वचा पर दाग-धब्बे ना हों, गोरी हो और उस पर ग्लो रहे. इसके लिए बाजार में कई तरह की फेयरनेस क्रीम्स उपलब्ध हैं. लोग इन्हें लगाते भी हैं पर कई बार ये चेहरे पर रौनक लाने की बजाय उसे नुकसान पहुंचाती हैं.

इसलिए आज हम आपको बता रहे हैं ऐसे घरेलू नुस्खे, जो आपके चेहरे की रंगत निखार देंगे.

– आलू में मौजूद ब्लीचिंग एजेंट चेहरे के दाग-धब्बों को हल्का करते हैं और त्वचा को साफ करते हैं. एक उबले आलू को मसलें, फिर उसमें थोडा सा दूध मिलाकर उसका एक पेस्ट तैयार करें. इस पेस्ट को चेहरे पर लगाएं और 15 मिनटों तक लगा रहने दें. इसके बाद ठण्डे पानी से मुंह धो लें. कच्चे आलू को पतला-पतला काटकर 15 मिनट के लिए रोज अपने चेहरे पर रखेंगे तो इससे भी आपके चेहरे पर निखार आएगा.

– ब्लेंडर में एक खीरा, 1/4 कप नींबू का रस, 5 चम्मच शहद और 5 चम्मच दूध डालें और उसे अच्छे से ब्लेंड करें. इस मिक्चर में थोड़ा सा आटा या बेसन मिलाकर पेस्ट बना लें. इसे 6 घंटों के लिए फ्रिज में रखकर ठंडा करें. रोज इसे चहरे पर 15 से 20 मिनट के लिए लगा रहने दें और बाद में चेहरे को गुनगुने पानी से धोकर साफ तौलिये से पोंछ लें.

Cucumber fairness face pack

– पपीता में पेपीन एन्जाइम पाया जाता है जो स्किन को निखारने में सहायक होता है. ये स्किन में नए सेल्स का निर्माण करता है. पाचन ठीक रहता है तो चहरे में ग्लो दिखाई देता है. पपीते को काटकर ब्लेंडर में ब्लेंड कर लें और इस पेस्ट को चेहरे पर 15 से 20 मिनट तक लगाए रखने के बाद चेहरा गर्म पानी से धो लें. फेसपैक बनाते समय कच्चे हरे पपीते का इस्तेमाल करें इसमें पके हुए पपीते से अधिक मात्रा में पेपीन होता है.

– नींबू में विटामिन सी होता है. विटामिन सी स्किन में मौजूद कोलेजन के स्तर को बनाए रखता है और त्वचा जवां बनी रहती है. यह शरीर से सारे टॉक्सिन्स को बाहर निकाल देता है जिससे खून साफ होता है. रोज सुबह एक गिलास पानी में एक नींबू निचोड़कर खाली पेट पीने से स्किन में रंगत आती है. नींबू एक अच्छा ब्लीचिंग एजेंट है इसके रस या छिलके को स्क्रब की तरह रगड़ने से त्वचा में निखार आता है.

– टैनिंग दूर करने का टमाटर सबसे अच्छा जरिया है. टमाटर में लाइकोपीन होता है जो स्किन की टैनिंग को तेजी से कम करता है. ब्लैंडर में 1 या 2 टमाटर ब्लेंड करें. इसमें दो चम्मच नींबू का रस और थोड़ा सा आटा या बेसन मिलाकर चिकना पेस्ट बना लें. चहरे पर 20 मिनट तक लगाए रखें फिर ठंडे पानी से धो लें. इससे स्किन में नए सेल्स का निर्माण होता है और डेड सेल्स बाहर खत्म हो जाते हैं.

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी में अपने सौन्दर्य के लिए भूलकर भी ना करें यह, वरना भुगतने पड़ेंगे गंभीर परिणाम

नवीन समाचार, नैनीताल, 20 जनवरी 2019। मां बनना हर स्त्री के जीवन का सबसे सुखद एहसास होता है, पर इस सुख के लिए महिलाओं को कई सारे कष्ट-परेशानियों से भी गुजरना होता है। खानपान से लेकर उठने-बैठने के तौर-तरीकों का जहां खास ध्यान रखना होता है। इसके साथ ही प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को एक और चीज का खास ध्यान रखना होता है और वो है ब्यूटी प्रोडक्ट्स और कॉस्मेटिक का इस्तेमाल। दरअसल, कॉस्मेटिक में बहुत सारे ऐसे खतरनाक केमिकल्स का प्रयोग होता है जो कि होने वाले बच्चे के लिए हानिकारक हो सकते हैं। आज हम आपको ऐसे ही कुछ ब्यूटी प्रोडक्ट्स और कॉस्मेटिक के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके इस्तेमाल से प्रेग्नेंट महिलाओं को बचना चाहिए।

एंटी एजिंग क्रीम :

आजकल बाजार में बहुत सी ऐसी क्रीम मौजूद हैं जो चेहरे से उम्र के निशान मिटा देने का दावा करते हैं। ऐसी क्रीम में त्वचा में विटामिन ए की कमी को पूरा करने के लिए रेटिनोड्स नामक तत्व मिलाया जाता है, जो कि गर्भ में पल रहे भ्रूण के लिए खतरनाक हो सकता है। इसलिए ऐसी क्रीम के इस्तेमाल प्रेग्नेंट महिलाओं को खासतौर पर बचना चाहिए।
एंटी एक्ने क्रीम :
डिओडरेंट, परफ्यूम

प्रेग्नेंसी के दौरान डिओडरेंट, परफ्यूम या तेज खूशबू वाले बॉडी लोशन का इस्तेमाल भी बच्चे के लिए खतरनाक होता है। डिओडरेंट, परफ्यूम में इस्तेमाल किए जाने वाले केमिकल्स गर्भ में पल रहे बच्चे को गंभीर बीमारियों दे सकती हैं। यहां तक एक शोध में ये भी सामने आया है कि गर्भावस्था के में अधिक खुशबू वाले डिओडरेंट, परफ्यूम का इस्तेमाल करने से गर्भ में पल रहे लड़के को बड़े होने पर नपुंसकता का शिकार होना पड़ सकता है। ऐसे में चीजों का इस्तेमाल करने से बचें।
(Author: Yashodhara Virodai)

यह भी पढ़ें : ब्रेस्ट कैंसर से बचे रहना है तो आज से ही अपनी लाइफस्टाइल में कर लें ये बदलाव

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 जनवरी 2019। ब्रेस्ट कैंसर से बचने के लिए महिलाओं को लाइफस्टाइल में कुछ सकारात्मक बदलाव करने होगें। महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर का खतरा तेजी से बढ़ रहा है, जिसकी वजह आज की तनाव और प्रदूषण भरी लाइफ स्टाइल है। ऐसे मे अगर महिलांए ब्रेस्ट कैंसर से बचे रहना चाहती है तो सबसे पहले उन्हें अपनी लाइफस्टाइल में कुछ सकारात्मक बदलाव करने होगें। आज हम आपको इसी बारे में बताने जा रहे हैं, किस तरह के बदलाव कर आप ब्रेस्ट कैंसर के खतरे से बच सकती हैं।

सूर्योदय से पहले उठें :

सूर्योदय से पहले उठने के फायदे तो आपने पहले भी सुन रखें होंगे, लेकिन क्या आपको पता है इससे ब्रेस्ट कैंसर से बचाव होता है। जी हां, हाल ही में हुए एक शोध में ये सामने आया है कि जो महिलाओं सूरज उगने से पहले उठती हैं, उनमें ब्रेस्ट कैंसर का खतरा 40% कम हो जाता है। असल में सुबह के समय बाकि दिन की अपेक्षा वातावरण कहीं अधिक शुद्ध और साफ होता है, जिससे आपको ऑक्सीजन अधिक मिलती है और इससे शरीर में स्तन कैंसर के विकसित होने का खतरा काफी कम हो जाता है।
अल्कोहल से बनाए दूरी :

जी हां, अल्कोहल का सेवन तो सभी के लिए नुकसानदेह होता है, लेकिन महिलाओं के लिए ये खासकर हानिकारक है, क्य़ोंकि इससे कैंसर की सम्भावना कहीं अधिक बढ़ जाती है। इसलिए बेहतर यही है कि आप अल्कोहल और स्मोकिंग से दूरी बनाए रखें।
वजन नियंत्रित रखें :

बढ़ा हुआ वजन तो बहुत सारी बीमारियों को आमंत्रण देता है, जिसमें कैसंर भी शामिल है। ऐसे में अगर आपको अपने वजन पर खास नियंत्रण रखना चाहिए।
फास्ट फूड को कहे नां :

बर्गर, पिज्जा जैसे फास्ट फूड का सेवन भी कैंसर को बढ़ावा देता है, ऐसे में अगर आप इससे बचे रहना चाहती हैं तो आपको फास्ट फूड से भी तौबा करना होगा।

यह भी पढ़ें : उत्‍तराखंड में भी जानलेवा हुआ स्वाइन फ़्लू, 15 दिन के भीतर 8 मौत

नवीन समाचार, देहरादून, 14 जनवरी 2019। देश भर में सैकड़ों लोगों की जान लेने वाला शूकर इन्फ्लूएंजा, जिसे एच1एन1 या स्वाइन फ्लू  भी कहते हैं, उत्तराखंड जैसे सर्द प्रदेश के मैदानी क्षेत्रों तक पहुँच गया है। राज्य की राजधानी देहरादून के श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में भर्ती तीन और मरीजों की मौत हो गई है। इस तरह शुरुआती चरण में ही स्वाइन फ्लू से मरने वाले मरीजों की संख्या बढ़कर अब छह हो गई है। 

अधिकांश मरीजों की मौत श्री महंत इंदिरेश अस्पताल में हुई है। जानकारी के अनुसार, नेहरू कॉलोनी निवासी 71 वर्षीय महिला को कैलाश अस्पताल से बीती पांच जनवरी को श्री महंत इंदिरेश अस्पताल के लिए रेफर किया गया था। 13 जनवरी को तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया। उपचार के दौरान  देर शाम उनकी मौत हो गई है। इसी तरह बीती नौ जनवरी से भर्ती सहारनपुर निवासी 49 साल के एक व्यक्ति तथा बीती छह जनवरी से भर्ती रुद्रप्रयाग निवासी 48 साल के एक अन्य व्यक्ति को भी श्री महंत इंदिरेश अस्पताल में मौत हो गई है। उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व इसी अस्पताल में भर्ती विकासनगर के रहने वाले मरीज को शुक्रवार रात को इमरजेंसी में भर्ती किया गया था, जहा पर आइसीयू में उसका उपचार चल रहा था। मरीज को पिछले दो दिन से तेज बुखार, कफ व सास लेने में दिक्कत हो रही थी। उसने शनिवार को उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। स्वाइन फ्लू के कारण प्रदेश में दस दिन के भीतर यह तीसरी मौत है।

इससे पूर्व बीती तीन जनवरी को मैक्स अस्पताल में प्रेमनगर निवासी एक मरीज की मौत हुई थी और उसके बाद बीते शुक्रवार को हरिद्वार की 41 साल की एक महिला की स्वाइन फ्लू से मौत हो गई थी, जो कि स्वाइन फ्लू से दूसरी मौत थी। जबकि राजधानी में अभी भी पांच स्वाइन फ्लू पीड़ित मरीजों का उपचार चल रहा है। फिलहाल श्री महंत इंदिरा अस्पताल में तीन, सिनर्जी और मैक्स अस्पताल में एक-एक स्वाइन फ्लू के मरीज भर्ती हैं। सभी सरकारी और निजी अस्पतालों को स्वाइन फ्लू को लेकर अलर्ट रहने के लिए कहा गया है। वहीं, लोगों से भी एडवाइजरी जारी कर एहतियात बरतने के निर्देश दिए गए हैं। राज्य के सभी अस्पतालों को अलर्ट जारी किया  गया है।

यह भी पढ़ें : महिलाओं में बढ़ रहे हृदय रोग और स्ट्रोक के खतरे के बचाव व समाधान

महिलाओं में हृदय रोग का खतरा तेजी से बढ़ता जा रहा है। आंकड़े बताते हैं कि दुनिया भर में हर साल हर तीन में से एक महिला की मौत हृदय रोग और आघात के चलते होती है, यानी हर 80 सेकेंड में लगभग एक महिला की जान चली जाती है। इसके अतिरिक्त, लगभग 90 फीसदी महिलाओं में हृदय रोग या स्ट्रोक के लिए एक या इससे अधिक ‘रिस्क फैक्टर’ यानी जोखिम वाले कारक हैं। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में स्ट्रोक का खतरा ज्यादा होता है।

श्रीराम मूर्ति स्मारक इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में दवा विभाग के प्रमुख और सीनियर इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. दीप चंद्र पंत ने कहा, हृदय रोग के लिए पारंपरिक जोखिम कारकों में उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप और मोटापा शामिल हैं। हालांकि, महिलाओं में हृदय रोग बढ़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले कुछ विशेष जोखिम कारकों में मधुमेह, मानसिक तनाव और अवसाद, धूम्रपान, शारीरिक गतिविधि की कमी, रजोनिवृत्ति, टूटे हुए दिल यानी ‘ब्रोकन हार्ट सिंड्रोम’ और गर्भावस्था के दौरान की जटिलताएं शामिल हैं। महिलाओं में हृदय रोग में जीवनशैली के कारक भी प्रमुख भूमिका निभाते हैं। उच्च संतृप्त वसा, चीनी और नमक वाले खाद्य पदार्थों की अधिक खपत, सब्जियों और साबूत अनाज का कम सेवन, गतिहीन जीवन शैली और बढ़ता तनाव स्तर कुछ ऐसे उदाहरण हैं जो महिलाओं के दिल की सेहत में गिरावट के लिए मुख्य भूमिका निभाते हैं।

डॉ. पंत ने आगे कहा, महिलाओं में दिल का दौरा पड़ने के कुछ संभावित चेतावनी लक्षणों में छाती के दर्द जैसे नियमित लक्षण होते हैं। हालांकि, बड़ी उम्र की महिलाओं में थकान, सांस धीमी होना, अपच, पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द या मतली, जबड़े या गले में दर्द, हाथ में दर्द, बाएं, सीधे या छाती के बीच में दर्द जैसी समस्या सामने आ सकती है। ज्यादातर महिलाएं इन लक्षणों और दर्द की अनदेखी करती हैं, जो कि दिल के दौरे के संभावित संकेत हैं। विश्व हृदय दिवस पर, इन जोखिम कारकों और लक्षणों के बारे में महिलाओं के बीच जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता है। उन्हें बताना होगा कि जैसे ही वे किसी असामान्य दर्द का अनुभव करें, उन्हें तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

महिलाओं में हृदय रोग को रोकने के लिए 5 टिप –
      1. धूम्रपान छोड़ें: सेहत के लिए हानिकारक इस आदत को छोड़ने में देर नहीं करनी चाहिए। धूूम्रपान छोड़ने से रक्तचाप को कम करने, रक्त परिसंचरण में सुधार और ऑक्सीजन की सप्लाई बढ़ाने में मदद मिलती है।
      1. स्वस्थ खाएं: वह भोजन खाएं जिसमें संतृप्त वसा, ट्रांस फैट, और सोडियम कम मात्रा में हो। बहुत सारे फल और सब्जियां, फाइबर युक्त अनाज, मछली, मूंगफली, फलियां और बीज खाएं। मांस के बिना भी भोजन खाने का प्रयास करें। कम वसा वाले डेयरी उत्पादों को तवज्जो दें। चीनी का सीमित सेवन करें। मीठे पेय और लाल मांस को सीमित करें।
      1. शारीरिक रूप से सक्रिय रहें: हर दिन लगभग 30 मिनट की सामान्य कसरत दिल के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। व्यायाम न केवल रक्त प्रवाह बढ़ाने में मदद करता है बल्कि तनाव को भी कम करता है।
      1. संबंधित स्थितियों का प्रबंधन: इन स्थितियों में मधुमेह और रक्तचाप शामिल हैं। इनके स्तर पर लगातार निगरानी रखें। अगर आप किसी भी उतार-चढ़ाव को देखते हैं, तो डॉक्टर से परामर्श करना उचित रहेगा।
    1. तनाव प्रबंधन: योग और ध्यान जैसी तकनीकों से तनाव को कम करने में मदद मिल सकती है। यह याद रखें कि तनाव विभिन्न विकारों के बढ़ने की संभावना को बढ़ाएगा। इसलिए इस पर नियंत्रण रखें और पर्याप्त नींद लें।

डिसक्लेमर: इस लेख में दी गई कोई भी जानकारी या संपूर्ण जानकारी बरेली के श्रीराम मूर्ति स्मारक इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एंड साइंसेज में दवा विभाग के प्रमुख और सीनियर इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. दीप चंद्र पंत के स्वतंत्र विचार हैं।

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

2 thoughts on “स्वास्थ्य : नए वर्ष की ठंड में चेहरे पर ग्लो बनाये रखने के लिये ट्राय करें यह

Leave a Reply