Good Work

हल्द्वानी के हासिब की इमानदारी व पुलिस की मेहनत से गणाई की प्रियंका का ‘ब्लड प्रेशर’ हुआ ठीक…

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवीन समाचार, काठगोदाम, 13 दिसम्बर 2020। इंसानियत सबसे बड़ी चीज है और अभी भी जिंदा है। गणाई गंगोलीहाट की प्रियंका को जरूर इस बात का अहसास हुआ होगा। दरअसल गत एक दिसंबर को एक शादी से लौटकर हल्द्वानी से अपने घर जा रही प्रियंका पंत पत्नी जीवन चंद्र पंत निवासी देवराडी पंत गणाई गंगोलीहाट जिला पिथौरागढ का सोने का करीब सवा लाख रुपए का मंगलसूत्र रास्ते में कहीं गिर गया था। प्रियंका को जब इस बात का पता चला तो उसका ‘ब्लड प्रेशर डाउन’ हो गया और वह बीमार हो गई। उसने इतना बड़ा नुकसान होने की बात डर कर अपने परिजनों को भी नहीं बतायी। ऐसे में मंगलसूत्र मिलना भी मुश्किल था।
ऐसे में इंसानियत और किस्मत ने खेल दिखाया। हुआ यह कि लाईन नंबर 16 कब्रिस्तान गेट सफदर का बगीचा हल्द्वानी के रहने वाले और पुराने आरटीओ कार्यालय काठगोदाम के पास की दुकान के स्वामी मौ. हासिब खान पुत्र वाहिद खान को यह मंगलसूत्र शाम करीब साढ़े पांच बजे मिल गया। हासिब ने पहले फेसबुक व अन्य माध्यमों से इस मंगलसूत्र के असली मालिक को ढूंढने का प्रयास किया और नाकाम रहने पर तीन नवंबर को उन्होंने थाना काठगोदाम आकर यह मंगलसूत्र सुपुर्द कर दिया। अब शुरू हुई काठगोदाम पुलिस की लावारिश मंगलसूत्र को उसके असली मालिक तक पहुंचाने की कवायद। इसके लिए पुलिस ने जहां मंगलसूत्र मिला था, उसके आस-पास के ससभी सीसीटीवी कैमरे खंगाले। इससे कुछ पता नहीं चला। फिर पहाड से आने वाले गाडियों व शादियों का पता किया गया तो एक दिसंबर को यूके05टी-2908 द्वारा आरटीओ में ऑनलाइन टैक्स काटने की जानकारी सामने आई। आरटीओ कार्यालय से फोन नंबर पता कर पूछताछ करने पर पता चला कि यह गाडी गणाई गंगोलीहाट से शादी में गयी थी लेकिन यह भी बताया गया कि गाडी में से किसी भी महिला का सोने का हार नहीं गिरा था। जांच में वाहन स्वामी से दूल्हे के पिता हरीश चंद्र पंत का मोबाईल नम्बर लिया गया। उन्होंने भी कह दिया कि किसी भी महिला का मंगलसूत्र नहंी खोया है। क्योंकि महिला ने किसी को इसकी जानकारी ही नहीं दी थी। इस पर काठगोदाम पुलिस ने बारात में आये हुए सभी महिलाओं से पूछताछ करवाई, तब पता चला कि प्रियंका का मंगलसूत्र खोया था। उसने डर के कारण अपने घरवालों को नहीं बताया था। वह तब से ब्लड प्रैसर कम होने के कारण बीमार चल रही थी। इस पर रविवार को वह मंगलसूत्र बनाने वाले सुनार व फोटो को देखकर पुष्टि करने पर प्रियंका व उसके परिजनों ने मिले हुए मंगलसूत्र की पहचान की। इस पर पुलिस ने मंगलसूत्र उनके सुपुर्द किया। इस पर प्रियंका व उसके परिजनों ने मौ. हासिब खान व नैनीताल पुलिस की ईमानदारी की मुक्त कंठ की प्रशंसा की।

यह भी पढ़ें : नवरात्र के बीच कुलदेवी की पूजा के लिए उत्तराखंड पहुंचे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल

नवीन समाचार, ऋषिकेश। भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने शुक्रवार को सपरिवार पहुंचकर परमार्थ निकेतन के पावन गंगा तट पर दिव्य गंगा दर्शन किया। आश्रम में रात्रि विश्राम के बाद अजीत डोभाल ने परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती के साथ प्रातः कालीन प्रार्थना और नवरात्रि की सप्तमी तिथि के अवसर पर होने वाले हवन में प्रतिभाग किया और राष्ट्रगान में शामिल हुए।

गुरुवार शाम करीब 7:30 बजे देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल कड़ी सुरक्षा के बीच स्वर्ग आश्रम स्थित परमार्थ निकेतन पहुंचे। इस दौरान उनके साथ में आए सुरक्षाकर्मियों ने मीडिया को दूर रखा। शुक्रवार सुबह पौड़ी जिले में स्थिति अपने पैतृक गांव के लिए प्रस्थान करने से पूर्व उन्होंने परमार्थ आश्रम में यज्ञ में प्रतिभाग किया। स्वर्ग आश्रम आगमन पर उन्होंने आश्रम के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती के साथ बंद कमरे में करीब आधा घंटे मंत्रणा भी की।

ज्वाल्पा देवी मंदिर पहुंचे एनएसए
ऋषिकेश से पौड़ी रवाना होने के दौरान रास्ते में एनएसए ज्वाल्पा देवी मंदिर पहुंचे। यहां उन्होंने मां ज्वाल्पा देवी, भगवान शिव की आराधना की। उन्होंने मंदिर समिति और पुजारियों के साथ बातचीत की। यहां रात्रि विश्राम के बाद वह शनिवार की सुबह अपने पैतृक गांव घीड़ी में कुलदेवी बालकुमारी की पूजा करेंगे।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply

loading...