Politics

केंद्र सरकार ने एचएमटी फैक्टरी की 45.33 एकड़ जमीन उत्तराखंड सरकार को कर दी है हस्तांतरित, जानें इसका क्या मिलेगा लाभ ?

हल्द्वानी स्थित एचएमटी फैक्ट्री की 45.33 एकड़ जमीन उत्तराखण्ड सरकार को  मिली, भारी उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा आदेश जारी -  Devbhoomisamvad.comनवीन समाचार, नैनीताल, 27 अक्तूबर 2022। भारत सरकार ने नैनीताल जनपद के रानीबाग स्थित एचएमटी फैक्टरी की 45.33 एकड़ जमीन को उत्तराखंड सरकार को हस्तांतरित कर दिया है। इस संबंध में केंद्रीय भारी उद्योग मंत्रालय द्वारा आदेश जारी कर दिया गया है। इसके अनुसार रानीबाग और हल्द्वानी स्थित एचएमटी की 45.33 एकड़ भूमि उत्तराखण्ड सरकार को 72 करोड़ 2 लाख 10 हजार रुपये की रिजर्व प्राइस पर हस्तांतरित की गई है। यह भी पढ़ें : हाथ में फटा पटाखा, महंगे उपचार के बाद भी काटना पड़ गया हाथ

केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट ने इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री महेंद्र नाथ पांडे व मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का आभार जताया है। यह भी पढ़ें : शादी के बाद भी मिलते रहे प्रेमी-प्रेमिका, आज मिले तो रंगे हाथों पकड़े गए और हो गया तमाशा…

केंद्रीय मंत्री भट्ट ने कहा कि रानीबाग एचएमटी की यह भूमि उत्तराखंड को हस्तांतरित होने के पश्चात राज्य के विकास कार्यों के काम में लाई जा सकेगी। उन्होंने कहा कि एचएमटी का मसला काफी लंबे समय से विचाराधीन था। अब केंद्र सरकार ने इस विषय में महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए उत्तराखंड सरकार को यह भूमि हस्तांतरित कर दी है। यह भी पढ़ें : पुलिस ने ब्यूटी पार्लर में सेक्स रैकेट चलने की सूचना पर मारा छापा, माजरा निकला कुछ और फिर हंगामे के बाद हुआ मामले का सुखद पटाक्षेप…

श्री भट्ट ने कहा कि पूर्व में भी उनके द्वारा एचएमटी का निरीक्षण कर भारी उद्योग मंत्री से मामले के निस्तारण का अनुरोध किया था। इसका प्रतिफल आज मिल गया है। अब राज्य सरकार इस भूमि का उपयोग प्रदेश के हित में कर सकेगी। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : केंद्रीय मंत्री के कार्यक्रम में एक साथ जुटे भाजपा-कांग्रेस के नेता…

नवीन समाचार, नैनीताल, 14 अक्तूबर 2022। केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री व क्षेत्रीय सांसद अजय भट्ट शुक्रवार को नैनीताल जिला मुख्यालय के निकटवर्ती क्षेत्रों में थे। इस दौरान श्री भट्ट के एक कार्यक्रम में भाजपा-कांग्रेस के नेताओं का एक स्थान पर जुटना चर्चा का विषय बना। यह भी कहा जा रहा है कि इस तरह श्री भट्ट सभी दलों के स्वीकार्य नेता के रूप में भी स्थान बना रहे हैं।

हुआ यह कि श्री भट्ट ने आज क्षेत्रीय विधायक सरिता आर्य के साथ भीमताल विकासखंड के आलूखेत व गेठिया में मनरेगा के अंतर्गत निर्मित महिला चेतन उपवन ‘घतूरा पार्क’ का रिबन काटकर शुभारम्भ किया। इस अवसर पर ब्लाक प्रमुख एवं कांग्रेस नेता डॉ. हरीश बिष्ट व जिला पंचायत सदस्य गीता बिष्ट सहित ग्राम प्रधान अमित कुमार एवं अन्य जनप्रतिनिधियों व क्षेत्रीय महिलाओं ने श्री भट्ट का फूल माला एवं पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया।

इस मौके पर श्री भट्ट ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश का लगातार हर क्षेत्र में विकास हो रहा है। महिला शक्ति एवं नौजवानों को आत्मनिर्भर बनाने हेतु लगातार विभिन्न क्षेत्रों में केंद्र सरकार कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार से पिकनिक स्पॉटो को केंद्र सरकार की योजना मनरेगा के अंतर्गत विकसित किया जाएगा ताकि पर्यटन को बढ़ावा मिले व स्थानीय लोगो को रोजगार के अवसर मिल सके। कार्यक्रम में क्षेत्रीय विधायक श्रीमती आर्या ने महिला चेतन उपवन घतूरा पार्क के अन्य कार्यों के लिए ढाई लाख रुपया देने की भी घोषणा की।

इस अवसर पर एसडीएम राहुल शाह, परियोजना निदेशक अजय सिंह, क्षेत्र पंचायत सदस्य रानी कोटलिया, भवाली के नगर पालिका अध्यक्ष संजय वर्मा, दुग्ध संघ के अध्यक्ष मुकेश बोरा, सांसद प्रतिनिधि गोपाल रावत, मारुति नंदन साह के साथ ही विभिन्न क्षेत्र पंचायत सदस्य, जिला पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान एवं विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

टी-टूरिज्म को आगे बढ़ाने का जताया इरादा
नैनीताल। केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने शुक्रवार को भवाली के पास श्यामखेत स्थित चाय बागान का भी निरीक्षण किया एवं इस स्थान को ‘टी-टूरिज्म’ को आगे बढ़ाने का इरादा जताया। उन्होंने कहा कि सरकार की पूरी कोशिश स्थानीय लोगो के लिये रोजगार के अवसर पैदा करने हेतु चाय बागान का विस्तार करने की है। बताया गया कि चाय बागान से वर्ष 2021-2022 में 66 लाख की चाय बागान के आउटलेट से बेची गयी है। इसके अलावा विदेशो में भी यहां से उत्तराखण्ड की चाय बेची जा रही है।

इस दौरान यहां कार्यरत महिलाओं ने श्री भट्ट को अपनी समस्याओ से भी अवगत कराया। इस पर मंत्री ने उचित समाधान करने की बात कही। इस दौरान एटीआई के अतिरिक्त निदेशक प्रकाश चंद्र, मैनेजर नवीन चंद्र पांडे, भावना मेहरा, पालिकाध्यक्ष संजय वर्मा, प्रकाश चंद्र, गोपाल रावत, नंद किशोर पांडे, शिवांशु जोशी, मनोज भट्ट, दिवान मेहरा, कुंदन चिलवाल, दयाकिशन पोखरिया, ललित भट्ट व रवि कुमार आदि लोग मौजूद रहे। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : केंद्रीय मंत्री भट्ट ने सड़कों के आंगणन प्रस्ताव तैयार कर देने को कहा…

ajay bhatt modi cabinet minister, Ajay Bhatt Minister: उत्‍तराखंड में BJP  सरकार बनवाने में निभाई थी बड़ी भूमिका, अजय भट्ट को मिला इनाम - ajay bhatt  played a big role in formingनवीन समाचार, नैनीताल, 14 जुलाई 2022। केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट ने अपने संसदीय क्षेत्र के राज्य मार्ग संख्या 10 रानीबाग, भीमताल, पदमपुरी, लोहाघाट, पंचेश्वर मोटर मार्ग और चाफी, पदमपुरी, धारी, धानाचूली, पहाड़पानी एवं मोतियापत्थर क्षेत्र की अनुमानित 30.80 किलोमीटर सड़क तथा महरागांव-सातताल मोटर मार्ग के अनुमानित 6.5 किलोमीटर, राज्य मार्ग संख्या 64 खुटानी, भवाली, धानाचूली, पतलोट मोटर मार्ग में खुटानी नाले में 24 मीटर स्पान सेतु के निर्माण एवं सुधारीकरण कार्य का आगणन तैयार करने एवं इसे केंद्रीय सड़क इंफ्राफ्रेंड सीआरआईएफ के अंतर्गत प्रस्तावित करने के निर्देश दिए हैं।

इसके अलावा राजमार्ग संख्या 64 में गोलूधार गधेरे नाले में 20 मीटर स्पान सेतु का निर्माण तथा भवाली बाईपास मोटर मार्ग पर 30 मीटर स्पान टूलेन स्टील गार्डर सेतु के निर्माण कार्य का आगणन भी अविलंब प्रस्तावित करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही श्री भट्ट ने सभी विधायकों से अनुरोध किया है कि वह अपने क्षेत्र में कार्यों का विवरण शीघ्र केंद्र को भेजें ताकि केंद्र से जल्द से जल्द विकास कार्यों को स्वीकृति मिल सके। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : सांसद भट्ट के केंद्रीय मंत्री के रूप में एक वर्ष की उपलब्धियां गिनाईं….

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 8 जुलाई 2022। क्षेत्रीय सांसद अजय भट्ट का केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री के कार्यकाल को शुक्रवार को 1 वर्ष पूरा हो गया है। इस अवसर पर श्री भट्ट के नैनीताल विधानसभा के प्रतिनिधि गोपाल रावत ने प्रेस को जारी बयान में बताया कि श्री भट्ट ने राज्य के विकास के लिए बीते 1 वर्ष में कई ऐतिहासिक व महत्वपूर्ण कार्य धरातल में उतारने के लिए विशेष प्रयास किए हैं।

खासकर नैनीताल जिले के रामगढ़ में विश्व भारती विश्वविद्यालय की स्वीकृति में श्री भट्ट की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। इसके अलावा तराई भाबर की महत्वपूर्ण जमरानी बहुउद्देशीय बांध परियोजना को तेजी से धरातल में उतारने के लिए विशेष प्रयास किए हैं। हल्द्वानी सहित नैनीताल-ऊधमसिंह नगर संसदीय क्षेत्र में गैस पाइप लाइन स्वीकृत कराए जाने और उनके विस्तार पर महत्वपूर्ण कार्य किया गया है।

साथ ही केंद्रीय मंत्री भट्ट ने पंतनगर एयरपोर्ट के विस्तारीकरण एवं यहां हवाई सेवाओं में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। श्री भट्ट के प्रयासों से पंतनगर से देहरादून और दिल्ली के लिए दो हवाई सेवाएं लगातार जारी हैं। इसके अलावा ऊधमसिंह नगर में कुमाऊं के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं में ऐतिहासिक सौगात एम्स का सेटेलाइट सेंटर स्थापित करने के लिए भी श्री भट्ट ने विशेष प्रयास किए हैं।

उत्तराखंड राज्य बनने के बाद पहली बार रक्षा संपदा कार्यालय देहरादून और रानीखेत में खोले जाने को लेकर भी श्री भट्ट का सराहनीय प्रयास रहा है। इसके अलावा श्री भट्ट ने हल्द्वानी में देश का पहला डिजिटल विलेज बनाए जाने को लेकर भी दो करोड़ का बजट स्वीकृत कराया तथा जसपुर में स्टूडियो सहित पूर्ण रेडियो स्टेशन की स्थापना हेतु 20 करोड़ रुपए की अग्रिम धनराशि स्वीकृत की है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : सुबह का विचारणीय समाचार: उत्तराखंड बनने के बाद से आपके वेतन-भत्ते कितने बढ़े ? विधायकों के तो बढ़ गए 15 से 30 गुने

MLA wants to increase salary allowances | प्रोटोकॉल की आड़ में वेतन भत्ते  बढ़वाना चाहते हैं माननीय | Patrika Newsनवीन समाचार, काशीपुर, 28 मई 2022। उत्तराखंड गठन के बाद से अब तक उत्तराखंड वासियों के वेतन-भत्तों, जीवन स्तर में कितना बदलाव हुआ है, यह तो सबके सामने है, पर राज्य के माननीयों के वेतन में 15 गुना और भत्तों में 30 गुना तक वृद्धि हो चुकी है। यह खुलावा काशीपुर के आरटीआई कार्यकर्ता नदीम उद्दीन को विधानसभा सचिवालय से उपलब्ध कराई सूचना में यह हुआ है।

इस सूचना के अनुसार राज्य गठन के समय विधायकों का वेतन दो हजार रुपये प्रतिमाह था, जबकि वर्ष 2004 में इसें 3000, वर्ष 2009 में पांच हजार, वर्ष 2014 में 10 हजार, वर्ष 2017 में 30 हजार रुपये कर दिया। यानी वेतन में अब तक 15 गुना वृद्धि हो चुकी है।

वहीं भत्तों की बात करें तो राज्य गठन के समय विधायकों को 5000 रुपये का भत्ता मिलता था, जो वर्तमान में करीब डेढ़ लाख रुपये तक हो गया है। उत्तराखंड गठन के समय प्रतिवर्ष 93 हजार रुपये रेलवे कूपन व डीजल-पेट्रोल भत्ते मिलते थे, जो अब 3 लाख 25 हजार रुपये यानी मासिक 27 हजार रुपए से अधिक हो गया है। है। शुरु में विधायकों को चालक भत्ता नहीं मिलता था लेकिन वर्ष 2014 से यह मिलने लगा। पूर्व में जन सेवा भत्ते के रूप में 200 रुपये मिलते थे, जो अब 2000 रुपये हो चुका है।

यह भी है कि कई बार विधायक अपना एक दिन का पूरे माह का वेतन आपदा आदि के दौरान किसी कोष में देने की बात करते हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि विधायकों का वेतन होता ही काफी कम है। उसे देने से उन्हें कोई फर्क भी नहीं पड़ता। कभी किसी विधायक ने अपने भत्ते देने की बात अब तक की हो, इसकी जानकारी नहीं है।

यह भी पढ़ें : ‘अन्त्योदय’ की भावना साकार करने भोजनमाताओं को सम्मानित कर मनाया केंद्रीय मंत्री भट्ट का जन्मदिन

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 30 अप्रैल 2022। भारत सरकार के रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री एवं सांसद अजय भट्ट के जन्मदिन के उपलक्ष्य में रविवार को जिला मुख्यालय स्थित नैनीताल क्लब में विशेष कार्यक्रम आयोजित हुआ। इस मौके पर मुख्य अतिथि विधायक सरिता आय एवं सांसद प्रतिनिधि गोपाल रावत की उपस्थिति में केक काटा गया, साथ ही 37 भोजन माताओं को सम्मानित किया गया।

सांसद प्रतिनिधि श्री रावत ने बताया कि पार्टी की अंत्योदय की परिकल्पना व कोशिश के तहत नगर की भोजन माताओं को इस अवसर पर सम्मानित किया गया। साथ ही उपस्थित लोगों ने सांसद भट्ट के स्वस्थ एवं दीर्घायु रहने की कामना की। इस मौके पर भाजपा के मंडल अध्यक्ष आनंद बिष्ट, पूर्व दायित्वधारी शांति मेहरा, विमला अधिकारी, जीवंती भट्ट, गजाला कमाल, हरीश भट्ट, ज्योति गोस्वामी, रईस खान, मीनू बुधलाकोटी, तुसी साह, विवेक वर्मा, केएल आर्य व विश्वकेतु वैद्य सहित पार्टी के कई वरिष्ठ कार्यकर्ता मौजूद रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : कोविड केयर सेंटरों पर केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट एक्शन में, राज्य के चिकित्सा सचिव को लिखा कड़ा पत्र

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 20 अप्रैल 2022। केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट ने डीआरडीओ द्वारा कोविड-19 के दौरान हल्द्वानी और ऋषिकेश में खोले गए कोविड केयर सेंटरों को बंद न करने और उनकी अवधि बढ़ाने के लिए प्रदेश के चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा सचिव को पत्र लिखकर निर्देशित किया है। श्री भट्ट ने इसी क्रम में डीआरडीओ को समय बढ़ाने के लिए निर्देशित किया परंतु डीआरडीओ द्वारा बताया गया है कि उत्तराखंड शासन द्वारा कोविड केयर सेंटर बंद करने के निर्देश दिए हैं।

इस पर श्री भट्ट ने उत्तराखंड के चिकित्सा स्वास्थ्य सचिव को लिखे पत्र में केंद्रीय मंत्री श्री भट्ट ने कहा है कि उनके संज्ञान में आया है कि डीआरडीओ द्वारा कोविड-19 के दौरान खोले गए कोविड-19 अस्पतालों को सचिव उत्तराखंड शासन द्वारा बंद करने के निर्देश दिए हैं, परंतु अभी तक कोविड-19 पूर्ण रूप से समाप्त नहीं हुआ है तथा अब फिर से दिन प्रतिदिन कोविड-19 के नए मामले बढ़ रहे हैं। यह भी कहा है कि नैनीताल और ऋषिकेश विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल होने के साथ-साथ पूरे देश-विदेश से लोग यहां भ्रमण के लिए आते हैं।

श्री भट्ट ने कहा है कि वर्तमान समय में विशेषज्ञों द्वारा कोविड-19 की चौथी लहर के संकेत दिए जा रहे हैं। अगर चौथी लहर आती है तो स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा सकती है। लिहाजा इन परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए चिकित्सालयों व कोविड-19 सेंटरों को बंद करना न्यायोचित प्रतीत नहीं होता है। इसलिए स्वास्थ्य सचिव जन भावनाओं के अनुरूप इस विषय को प्राथमिकता से लेते हुए इन कोविड-19 केयर सेंटर को बंद न करते हुए पूर्व के अपने पत्रों को संशोधित करते हुए फिलहाल इन अस्पतालों की अवधि आगे बढ़ाने की कार्रवाई करें। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : निर्दलीय विधायक बने पत्रकार उमेश कुमार पर आपराधिक मामले छुपाने का आरोप, हाईकोर्ट ने छुट्टी के बावजूद की सुनवाई..

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 18 मार्च 2022। पत्रकार से विधायक बने उमेश कुमार शुक्रवार को उधर अपनी विधानसभा में हेलीकॉप्टर से फूल उड़ा रहे थे और इधर नैनीताल स्थित उत्तराखंड उच्च न्यायालय में उनके खिलाफ कार्रवाई की तलवार लटक रही थी। उनके खिलाफ उच्च न्यायालय में विधानसभा चुनाव के दौरान आपराधिक तथ्यों को छुपाने के आरोप में दायर याचिका को होली के अवकाश के बावजूद कार्यवाहक मुख्य न्यायधीश न्यायमूर्ति संजय कुमार मिश्रा व न्यायमूर्ति मनोज कुमार तिवारी की खंडपीठ ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये याचिका को अतिआवश्यक मानते हुए सुनवाई की।

अलबत्ता सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता पीठ के समक्ष पर्याप्त तथ्य नहीं दे सके। इस कारण पीठ ने याचिका की पोषणीयता पर सवाल उठाया और याचिकाकर्ता ने पूरे तथ्य पेश करने के लिए समय मांगा। इस पर पीठ ने अगली सुनवाई की तिथि 23 मार्च की नियत करते हुए इस तिथि तक पूरे तथ्य पेश करने को कहा। उल्लेखनीय है कि मामले में उत्तराखंड के मुख्य चुनाव आयुक्त को भी पक्षकार बनाया गया है।

विदित हो कि हरिद्वार के लक्सर निवासी वीरेंद्र कुमार व हल्द्वानी निवासी जनता कैबिनेट पार्टी की अध्यक्ष भावना पांडे ने खानपुर विधायक उमेश शर्मा के याचिका दायर कर उन पर नामांकन के साथ दाखिल शपथ पत्र में उनके विरुद्ध विभिन्न न्यायालयों में विचाराधीन 29 आपराधिक मामलों की सूची देते हुए कहा है कि उमेश ने केवल 16 मामलों की सूची ही शपथ पत्र के साथ निर्वाचन अधिकारी के समक्ष पेश की है, और महत्वपूर्ण तथ्यों को छुपाया गया है। इसलिये उन्हें विधायक की शपथ लेने से रोका जाए, साथ ही चुनाव आयोग को उमेश के खिलाफ जनप्रतिनिधि अधिनियम के तहत कार्यवाही करने के लिए निर्देशित किया जाए। इस पर पीठ ने याचियों को लगाए गए आरोपों से संबंधित पूरे रिकार्ड देने को कहा, जो याचिकाकर्ता नहीं दे सके। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल विधायक सरिता ने कहा-मुख्यमंत्री धामी के नेतृत्व में लड़ा चुनाव, वही बनें मुखिया

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 13 मार्च 2022। नैनीताल की नवनिर्वाचित विधायक सरिता आर्य ने मुख्यमंत्री पुष्कर धामी को समर्थन देने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में ही वह चुनाव लड़ीं व विजय प्राप्त की। धामी के नेतृत्व में ही प्रदेश में भारी बहुमत के साथ दुबारा भाजपा सत्तासीन हुई है। देखें विधायक सरिता आर्य ने क्या कहा :

विधानसभा चुनाव में सभी सीटों में प्रचार के कारण वह खुद अपनी सीट पर कम समय दे सके, जिसकी वजह से मुख्यमंत्री की सीट पर विपरीत परिणाम देखने को मिले। कहा कि यदि नैनीताल आरक्षित सीट नहीं होती, तो वह स्वयं मुख्यमंत्री के लिये अपनी सीट खाली कर देतीं। कहा कि वह व्यक्तिगत रूप से प्रदेश व राष्ट्रीय नेतृत्व से पुष्कर सिंह धामी को दुबारा मुख्यमंत्री बनाने की मांग करती हैं। वह चाहती हैं कि धामी ही प्रदेश के मुख्यमंत्री बने रहें। उन्होंने खुद पर विश्वास जताने के लिए पार्टी के शीर्ष नेतृत्व का आभार भी जताया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट ने कहा अभी विरोध, वोटों की चिंता नहीं, ठोकी अधिकारियों की पीठ, खुद को बताया देश का पहला आपदा मंत्री

-कहा आपदा राहत को हाथ में हैं 250 करोड़
-किया मुख्यालय के आपदा प्रभावित बलियानाला, कोयला टाल, पिछाड़ी बाजार व कैंट क्षेत्र का दौरा

बलियानाला क्षेत्र में जनता की समस्याएं सुनते सांसद एवं केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 25 अक्टूबर 2021। केंद्रीय मंत्री एवं स्थानीय सांसद अजय भट्ट को सोमवार को लोगों की नाराजगी एवं समर्थन में नारे सुनने को मिले। कुछ लोगों ने भाजपा को वोट न देने की बात भी कही। इस पर भी मंत्री दोनों स्थितियों में बेहद सहज दिखे। विरोध पर उन्होंने कहा, अपने ही लोग हैं। परेशान हैं, उनसे नहीं कहेंगे तो किससे कहेंगे। कहा, अभी विरोध व वोटों की चिंता करने या राजनीति की बातें करने का समय नहीं है। सिर्फ आपदा न्यूनीकरण पर ध्यान है। अलबत्ता, एक नहीं कई बार जिला प्रशासन, खासकर डीएम-एसडीएम आदि का नाम लेकर उनके द्वारा बहुत अच्छा कार्य करने की बात कहते हुए मंत्री ने उनकी पीठ ठोकी, और संदेश दिया कि राज्य सरकार की ओर से आपदा प्रबंधन में बेहतर कार्य किया जा रहा है। देखें क्या कहा श्री भट्ट ने :

वहीं केंद्र की ओर से अब तक मुआवजे की घोषणा न करने पर बोले, केंद्र सरकार ने 20-25 दिन पहले ही राज्य सरकार को आपदा मद में 250 करोड़ रुपए दिए थे। वह धनराशि ही यहां खुले हाथ से खर्च हो रही है, और अभी काफी बची है। केंद्रीय गृह मंत्री ने जरूरत पड़ने पर और धनराशि देने की बात कही है। पांच दिन तक सरकार को जानकारी नहीं थी। विपक्ष ने जानकारी दी। मोदी सरकार द्वारा लगातार दिए जा रहे पैकेज से केदारपुरी का नवनिर्माण हो रहा है।

श्री भट्ट ने सोमवार को अपने दौरे की शुरुआत बलियानाला क्षेत्र से की। यहां कुछ लोगों उनके व सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की। अलबत्ता, बलियानाला संघर्ष समिति के अध्यक्ष मुख्तार अली के अली में स्थानीय लोगों ने संयत तरीके से बलियालाला का अब तक ठीक से संरक्षण न किए जाने के कारण उनके समक्ष अपने घर छोड़ने की नौबत आने की बात कही। साथ ही उन्होंने जीजीआईसी, जीआईसी व प्राथमिक विद्यालय के विस्थापन स्थलों में शौचालय, नहाने-धोने व भोजन बनाने में आ रही परेशानी बताई। साथ ही जीआईसी के नीचे चार-पांच टेड़े पेडों को आपदा के दृष्टिगत कटवाने का अनुरोध भी किया। वहीं कमल सिलेलान, ममता जोशी सहित अन्य लोगों का कहना था कि वर्ष 2015 से मंत्री श्री भट्ट एवं सरकार को अन्य माध्यमों से यहां की समस्या से अवगत कराया जा रहा है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई।

इसके उपरांत मंत्री ने पुराने कोयला टाल एवं कैंट क्षेत्र की दुकानों का भी दौरा किया। यहां तल्लीताल व्यापार मंडल अध्यक्ष मारुति नंदन साह की अगुवाई में दुकानदारों का कहना था कि एक दौर में उनका किराया छावनी परिषद से 2 रुपए प्रतिवर्ष एवं इधर 2007-08 में 8272 रुपए प्रति वर्ष था, जो गत वर्ष एक लाख 34 हजार 723 व इस वर्ष एक लाख 60 हजार रुपए प्रति वर्ष कर दिया गया है। उन्होंने हालिया करीब 20 फीसद की बढ़ोत्तरी की जगह पांच वर्षों में 5 से 10 फीसद की बढ़ोत्तरी ही किए जाने और पूर्व का अवशेष जमा करने के लिए समय दिए जाने की मांग रखी। इस पर आश्वासन देने पर लोगों ने उनकी जिंदाबाद के नारे भी लगाए।

इस दौरान उनके साथ नगर पालिकाध्यक्ष सचिन नेगी, सभासद रेखा आर्य, सांसद प्रतिनिधि गोपाल रावत, भाजपा नगर अध्यक्ष आनंद बिष्ट, मनोज जोशी, बिमला अधिकारी, अंबा दत्त आर्य, मोहन पाल, अरविंद पडियार, दयाकिशन पोखरिया, भानु पंत, कैंट सभासद बहादुर सिंह, पूरन मेहरा, विक्की राठौर, डीएम धीराज गर्ब्याल, एडीएम अशोक जोशी, एसडीएम प्रतीक जैन, सीओ संदीप नेगी सहित बड़ी संख्या में भाजपा नेता मौजूद रहे।

खुद को बताया देश का पहला आपदा मंत्री, बलियानाला प्रभावितों को अन्यत्र बसाने की की घोषणा
नैनीताल। बलियानाला की समस्या पर श्री भट्ट ने बताया कि भगत सिंह कोश्यारी के मुख्यमंत्री रहने के दौर में देश में पहली बार उत्तराखंड में आपदा मंत्रालय बना था और उनके यानी भट्ट के पास ही आपदा मंत्रालय था। तब उन्होंने बलियानाला के संरक्षण के लिए 15 करोड़ रुपए दिए थे। उसके बाद एक बार और बड़ी धनराशि जारी हुई थी। सरकार इस समस्या का पूर्ण समाधान चाहती है, एवं यहां के लोगों का जीवन बचाना सरकार की पहली प्राथमिकता, नैतिक जिम्मेदारी व कर्तव्य है।

इस दौरान उन्होंने डीएम धीराज गर्ब्याल को प्रभावित परिवारों को दुर्गापुर के आवासीय भवनों में तुरन्त विस्थापित करने और शेष के लिए रूसी बाईपास पर ताकुला में 50 नाली भूमि पर प्रस्तावित हाउसिंग प्रोजेक्ट के लिए पहले से स्वीकृत भूमि पर बसाने हेतु प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिये।

उन्होंने कहा जीएसआई यानी जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के भूवैज्ञानिक कह चुके हैं कि बलियानाला का क्षेत्र बहुत कच्ची है, खिसकने वाली है। इसका स्थायी समाधान संभव नहीं है। इसलिए बलियालाला क्षेत्र के विस्थापितों में से करीब 50-60 परिवारों को दुर्गापुर में एवं अन्य को ताकुला-रूसी बाईपास में स्थायी तौर पर विस्थापित किया जाएगा। जो अभी वहां नहीं जाना चाहते उन्हें अस्थायी तौर पर स्थानीय विद्यालयों में रखा जाएगा। दुर्गापुर में आने-जाने व स्वास्थ्य जांच की व्यवस्था भी की जाएगी। यह भी कहा कि बलियानाले में उपचारात्मक कार्य तो चल रहे हैं। सरस्वती विहार में 1200 बच्चों के लिए सड़क ध्वस्त होने से भोजन पहुंचने में समस्या आ रही है। भूवैज्ञानिकों के निर्देशों पर ही स्थायी समाधान के कार्य होंगे। कुछ लोगांे द्वारा वोट न देने की बात कहने पर उन्होंने संयत टिप्पणी करते हुए कहा कि वोट देना जनता का निजी निर्णय व स्वतंत्रता की बात है। सरकार का ध्यान अभी वोटों पर नहीं आपदा के न्यूनीकरण पर है।

आपदा प्रभावित गांवों में प्राथमिकता से सुचारू करें बिजली, पानी, सड़क व संचार सुविधाएंः भट्ट
नैनीताल। केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट ने सोमवार को नैनीताल क्लब में विभागीय अधिकारियों की बैठक लेते हुए उनसे आपदा कार्यो को संवेदनशीलता से करते हुए गति लाने को कहा। कहा कि जिन आपदा प्रभावित क्षेत्रों के गांवों में विद्युत, पानी, सडक व संचार व्यवस्थाएं बाधित हैं उन्हे भी प्राथमिकता से सुचारू करें। साथ ही कहा कि आपदा कार्यो में लापरवाही कतई बर्दाश्त नही की जायेगी। लापरवाही को गम्भीरता से लिया जायेगा। उन्होने अधिकारियों से कहा कि वे स्वयं क्षेत्रों में जाकर जनप्रतिनिधियों के साथ संयमित होकर जनता से वार्ता करने के भी निर्देश दिये।

बैठक में जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने बताया कि जनपद में सभी राष्ट्रीय राजमार्ग खोल दिये गये हैं, जबकि अभी चार राज्य सडक मार्ग व तीन मुख्य जिला सडक मार्ग बंद हैं। इन पर भी कार्य प्रगति पर है। आपदा के दौरान 484 ग्रामीण आंतरिक मार्ग बंद हुये थे। इनमें से 401 मार्ग खोल दिये गये हैं जबकि 83 मार्ग बाधित हैं। उन्होंने बताया कि जनपद में लगभग 2.60 करोड की राहत धनराशि वितरित कर दी गई है। उन्हांेने बताया कि जनपद में आपदा से 34 जनहानि हुई थीं जिसमें से 31 शव बरामद कर लिये गये हैं, बिहार के मृतकों के शव उनके घर भेज दिये गये हैं। इस पर रक्षा राज्य मंत्री ने त्वरित आपदा कार्य एवं तत्काल बिहार निवासियों के शवांे को उनके घर भजने के लिए जिला प्रशासन को बधाई दी व आपदा में त्वरित कार्यो की सराहना भी की।

बैठक में सीडीओ डॉ. संदीप तिवारी, डीएफओ टीआर बीजूलाल, एडीएम अशोक जोशी, संयुक्त मजिस्ट्रेट प्रतीक जैन, मुख्य अभियंता जल निगम बीके पंत, महाप्रबंधक जल संस्थान डीके सिंह, जिला विकास अधिकारी रमा गोस्वामी, सीएमओ डॉ. भागीरथी जोशी, केएमवीएम के महाप्रबंधक एपी बाजपेयी सहित मुख्यमंत्री के जन सम्पर्क अधिकारी दिनेश आर्य, मोहन पाल, सुरेश परिहार, गोपाल रावत, आनंद बिष्ट, मनोज जोशी, दयाकिशन पोखरिया, भावना मेहरा, प्रकाश आर्य, शिवांशु जोशी, लक्ष्मण खाती व भानु पंत सहित सभी संबंधित अधिकारी मौजूद रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : केंद्रीय मंत्री भट्ट ने आपदा प्रभावित परिवार को भेंट किया आठ लाख का चेक तो छलक उठी आंखें

-किया आपदा प्रभावित निगलाट, गरमपानी एवं खैरना का दौरा
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 24 अक्टूबर 2021। देश के रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री व स्थानीय सांसद अजय भट्ट ने रविवार को जनपद के आपदा प्रभावित क्षेत्रों-निगलाट, गरमपानी एवं खैरना का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने आपदा में परिवार के दो सदस्यों को खो चुके पीड़ित परिवार के सुरेश चौहान को बेहद भावुक माहौल में 8 लाख रुपये की मुआवजा धनराशि के चेक भेंट किए। उन्होंने कहा कि परिवार को हुई जन क्षति की भरपाई कोई नहीं कर सकता। दुःख एवं संवेदना की इस घड़ी में सरकार सभी आपदा प्रभावितों के साथ है। उन्होंने प्रभावितों को सरकार की ओर से हर संभव मदद का आश्वासन भी दिया।

आपदा प्रभावित परिवार को 8 लाख का चेक भेंट करते केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट।

इस दौरान उन्होंने अधिकारियों से उन्होंने आपदा पीड़ित परिवारों के क्षतिग्रस्त भवनों की मुआवजा धनराशि शीघ्र देने हेतु सभी औपचारिकताऐं प्राथमिकता से पूर्ण करने के निर्देश दिये। उन्होंने क्षतिग्रस्त रामगाढ़ लघु जल विद्युत परियोजना को शीघ्रता से सुचारू करने हेतु उरेडा के अधिकारियों को तुरंत बनाने को एवं लोनिवि के अधिकारियों को क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत व मलबा हटाने के कार्य में तेजी लाने के निर्देश भी दिये।

इसके साथ ही उन्होंने तहसील भवन में आयोजित बैठक में क्षेत्रीय अधिकारियों व अभियंताओं से अब तक किये गये कार्यों की विस्तार से जानकारी ली और उनसे आपदा प्रभावित क्षेत्रों को सामान्य स्थिति में लाने के लिए युद्ध स्तर पर तत्परता, समयबद्धता एवं गुणवत्ता से पूर्ण करने को कहा। निरीक्षण के दौरान अपर जिलाधिकारी अशोक जोशी, अधिशासी अभियंता विद्युत हारून रशीद, अपर जिला पंचायतराज अधिकारी मौहम्मद असलम, डॉ. योगेश कुमार, जनसम्पर्क अधिकारी दिनेश आर्य, जिलाध्यक्ष भाजपा प्रदीप बिष्ट के अलावा गोपाल रावत, हरीश भट्ट, प्रकाश आर्य, जुगल मठपाल, एडवोकेट सचिन गुप्ता, बालम मेहरा, राजू कांडपाल, अम्बा दत्त आर्य, मोहन पाल व देवेंद्र ढैला आदि दौरे में उनके साथ रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : केंद्रीय मंत्री अगले दो दिन करेंगे आपदा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, कांग्रेस में वापसी के बाद क्षेत्र में फिर जुटे संजीव, SC आयोग के उपाध्यक्ष भी साथ

केंद्रीय मंत्री भट्ट अगले दो दिन करेंगे आपदा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 23 अक्टूबर 2021। केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्यमंत्री अजय भट्ट जनपद भ्रमण पर आ रहे है। जानकारी देते हुये मंत्री के निजी सचिव पीके सुरेश ने बताया कि श्री भट्ट 24 अक्टूबर को प्रातः 8 बजे हल्द्वानी से प्रस्थान कर 9 बजे कैंची में दैवीय आपदा से प्रभावित लोगों से मुलाकात करेंगे तथा साढ़े नौ बजे गरमपानी में बाढ़ प्रभावित कार्यों का निरीक्षण एवं प्रभावितों से मिलेंगे तथा 10 बजे गरमपानी मे बैठक करेंगे।

आगे श्री भट्ट 12 बजे बेतालघाट पहुंचकर बाढ़ प्रभावित कार्यों का निरीक्षण एवं आपदाग्रस्त लोगों से मिलेंगे तथा 2 बजे प्रेम प्रभु भवन में स्थानीय लोगों से मुलाकात तथा रात्रि विश्राम नैनीताल में करेंगे। आगे 25 अक्टूबर सोमवार को वह मुख्यालय में सुबह साढ़े 10 बजे से कार्यकर्ताओं से मिलेंगे तथा 11 बजे अधिकारियों के साथ वार्ता व 12 बजे प्रेस वार्ता करंेगे, तथा इसके पश्चात नैनीताल मे आपदाग्रस्त क्षेत्रों का भ्रमण कर शाम को ट्रेन से नई दिल्ली को प्रस्थान करेंगे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।यहां क्लिक करें।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply