Crime

उत्तराखंड: सरकारी विद्यालय में भारी मात्रा में जिलेटिन की छड़ों सहित विष्फोटक सामग्री मिली, हड़कंप, बम निरोधक दस्ता बुलाया गया

Uttarakhand: पिथौरागढ़ के सरकारी स्कूल में मिला विस्फोटक पदार्थों का जखीरा,  हड़कंप, नजारा देख पुलिस भी हैरान - Uttarakhand Heavy amount of explosives  found in government ...नवीन समाचार, पिथौरागढ़, 19 नवंबर 2022। चीन सीमा से सटे सीमांत जनपद पिथौरागढ़ जिले के मदकोट क्षेत्र के एक सरकारी विद्यालय में पुलिस ने विस्फोटक पदार्थ का जखीरा बरामद किया है। इतनी भारी मात्रा में विस्फोटक पदार्थ मिलने की सूचना से पूरे जिले में हड़कंप मच गया। पुलिस ने बम निरोधक दस्ते को बुलाकर सभी सामग्री कब्जे में लेकर सुरक्षित स्थान पर रखवा दिया है। इस मामले में दिल्ली की एक कंपनी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। यह भी पढ़ें : चमोली में एक और बड़ा हादसा, 15 से 17 वर्षीय चार किशोरों की मौत

प्राप्त जानकारी के अनुसार मुनस्यारी के थाना प्रभारी मुनव्वर हुसैन को मुखबिर से सूचना मिली कि राजकीय प्राथमिक विद्यालय झापूली तौमिक की एक कक्षा में भारी मात्रा में विस्फोटक सामग्री रखी गयी है। इस सूचना पर थाना प्रभारी पुलिस टीम लेकर विद्यालय पहुंचे तो नजारा देखकर पुलिस भी हैरान रह गई। पुलिस ने विद्यालय के एक कक्ष में छुपाकर रखी गई जिलेटिन की 31 छड़ें, दो कोडेक्स वायर, दो इलेक्ट्रानिक वायर, एक इलेक्ट्रानिक कनेक्टर बरामद की। यह भी पढ़ें : आज यहां रहे विराट-अनुष्का

जैसे ही यह विद्यालय में विस्फोटक सामग्री मिलने की सूचना अन्य लोगों तक पहुंची तो क्षेत्र में हड़कंप मच गया। पुलिस के बम डिस्पोजल यूनिट को भी सतर्क कर दिया गया। पूछताछ में पता चला है कि विस्फोटक सामग्री दिल्ली के कीर्तिनगर की अल्फा पैसिफिक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी की है। यह कंपनी सीमांत क्षेत्र में निर्माण कार्य कर रही है। पर्वतीय क्षेत्रों में इस तरह की विस्फोटक सामग्री सड़कों के कटान के लिए चट्टानों को तोड़ने में उपयोग की जाती है। थाना प्रभारी ने बताया कि कंपनी के कर्मचारियों से पूछताछ की जा रही है। कंपनी के खिलाफ विस्फोटक अधिनियम और धारा 286 के तहत मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है। यह भी पढ़ें : चमोली में एक और बड़ा हादसा, 15 से 17 वर्षीय चार किशोरों की मौत

सवाल उठ रहा है कि सड़क बनाने में प्रयुक्त विष्फोटक सामग्री को विद्यालय में जहां बच्चे पढ़ाई करते हैं, वहां रखने का क्या औचित्य था। इससे बच्चों को खतरा पैदा हो सकता था। पुलिस के मुताबिक, जिस तरीके से विस्फोटक रखे गए थे, उसे देखकर लग रहा था कि इन्हें छुपाया गया है। ऐसे में सवाल ये भी उठ रहा है कि इन्हें विद्यालय में छुपाया क्यों गया। क्या किसी बड़ी आपराधिक घटना को अंजाम देने की साजिश तो नहीं रची जा रही थी। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : आफताब ने हत्या कर श्रद्धा के लिए 35 टुकड़े, मामले में मुंबई-दिल्ली के बाद उत्तराखंड की इंट्री

श्रद्धा-आफ़ताब का मामला लव-जिहाद का नहीं है... - श्रद्धा-आफ़ताब का मामला  लव-जिहाद का नहीं है...नवीन समाचार, नई दिल्ली, 18 नवंबर 2022। देश के बहुचर्चित श्रद्धा वाल्कर-आफताब पूनावाला के दिल दहलाने वाले मामले में मुंबई-दिल्ली के बाद उत्तराखंड-हिमांचल की भी इंट्री हो गई है। यह भी पढ़ें : हाईकोर्ट के बाद नैनीताल तीन अन्य मुख्यालयों को भी शिफ्ट करने की उठी मांग, आगे 9 पर्वतीय जिलों के मुख्यालयों के लिए उठ जाए यही मांग तो आश्चर्य नहीं….

बताया जा रहा है कि आफताब ने अपनी लिव-इन साथी श्रद्धा की हत्या करने के बाद उसके शव के 35 टुकड़े किए और उन्हें घर में फ्रिज में रखकर एक-एक टुकड़ा फेंकता रहा। इससे उत्तराखंड में पति राजेश गुलाटी द्वारा पत्नी अनुपमा के 72 टुकड़े करने की घटना की यादें भी ताजा हुईं। यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में बड़ा हादसा, एक दर्जन से अधिक लोगों का जीवन खतरे में…

बहरहाल इस मामले में अभी तक पुलिस को न तो श्रद्धा का मोबाइल फोन मिला है और न ही श्रद्धा के सिर, कपड़ों और शव काटने में प्रयुक्त आरी ही बरामद हो पायी है। ऐसे में सबूतों की तलाश में दिल्ली पुलिस अब आफताब को लेकर उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश आकर यहां उनके द्वारा बिताए समय के सीन को रिक्रिएट करेगी। यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में दो वर्ष के बाद हुए पहले छात्र संघ चुनाव में ही छात्रों के सिर फूटे…

क्योंकि बताया गया है कि इसी साल मई में दिल्ली शिफ्ट होने से पहले आफताब और श्रद्धा घूमने के लिए हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड गए थे। श्रद्धा को घूमना-फिरना बेहद पंसद था। श्रद्धा का इस दौरान का ऋषिकेश का गंगा किनारे का एक वीडियो भी सामने आया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बड़ी घटना: दिन में काशीपुर के व्यवसायियों को धमकी, रात में हल्द्वानी के व्यवसायी पर गोलीबारी, कैसे बढ़ी बाहरी गैंगों की उत्तराखंड में इतनी हिमाकत ?

हल्द्वानी में देर रात कुमाऊं ज्वेलर्स स्वामी के बेटे पर फायरिंग, लारेंस विश्नोई गैंग से मिली थी धमकीनवीन समाचार, हल्द्वानी, 3 नवंबर 2022। मंगलवार को काशीपुर के चार आभूषण विक्रेताओं को लॉरेंस विश्नोई व गोल्डी बरार गैंग की ओर से 50-50 लाख रुपए की रंगदारी मांगे जाने के फोन आए थे और रुपए न देने पर गोली मारने की धमकी दी गई थी, जबकि मंगलवार रात्रि ही हल्द्वानी के प्रतिष्ठित आभूषण विक्रेता कुमाऊं ज्वेलर्स के स्वामी के बेटे राजीव वर्मा पर घर के बाहर बाइक सवार बदमाशों ने गोलीबारी कर दी। यह भी पढ़ें : बड़ा मामला : लॉरेंस बिश्नोई व गोल्डी बरार ने तीन व्यवसायियों से 50-50 लाख की रंगदारी मांगी

बताया गया है कि कुमाऊं ज्वेलर्स के स्वामी शिवशरण वर्मा को भी गत दिनों लॉरेंस विश्नोई गैंग की ओर से रंगदारी मांगी गई थी। ऐसे में माना जा रहा है कि जेल में बंद लॉरेंस विश्नोई का गैंग उत्तराखंड में बुरी तरह से सक्रिय हो गया है। और यह भी कि उत्तराखंड पुलिस की इस दिशा में पहले से कदम न उठाए जाने के कारण ऐसे बाहरी गैंगों को उत्तराखंड में अपनी सक्रियता इस हद तक बढ़ाने का मौका मिल गया है। गौरतलब है कि उत्तराखंड के अपराधियों की शरणस्थली बनने के आरोप लगते ही रहे हैं। यह भी पढ़ें : नैनीताल के श्मशान घाट के लिए सड़क निर्माण हेतु धनराशि स्वीकृत

बताया गया है कि बुधवार देर रात कुमाऊं ज्वेलर्स के स्वामी हीरानगर निवासी शिवशरण वर्मा के बेटे राजीव दुकान बंद कर दोस्त के साथ कार से घर पहुंचे। गेट खोलने के लिए वह कार से उतर ही रहे थे कि घर के बाहर पहले से मौजूद बाइक सवार दो बदमाशों ने उन पर गोलीबारी कर दी। गोली कार के पिछले हिस्से में लगी। यह भी पढ़ें : नैनीताल : रिश्ते के भाई ने किया दुष्कर्म, बच्चा हुआ तो अस्पताल में ही छोड़कर भागा…

यह देख राजीव ने दरवाजा बंद कर पुलिस को जानकारी दी और कार को कोतवाली की तरफ मोड़ लिया। इस बीच एसपी सिटी हरबंस सिंह, सीओ सिटी भूपेंद्र सिंह धोनी व कोतवाल हरेंद्र चौधरी टीम के साथ मौके पर पहुंच गए। पुलिस राजीव को घर ले जाकर पूछताछ कर ही रही थी कि बाइक सवार बदमाश दोबारा वहां पहुंच गए। लेकिन पुलिस को देखते ही फरार हो गए। यह भी पढ़ें : हल्द्वानी में यूट्यूबर सौरभ जोशी सबको बताकर गए लांग ड्राइव पर, घर में लाखों रुपए की नगदी-ज्वेलरी पर हाथ साफ कर गया चोर…

पुलिस अधिकारियों के अनुसार शुरुआती जांच में मनोज अधिकारी का नाम सामने आ रहा है। वह पहले भी राजीव को कई बार फोन पर धमकी दे चुका है। जांच में कार के अंदर पिस्टल की गोली बरामद हुई है। एसपी सिटी हरबंश सिंह ने बताया कि बाइक सवार बदमाशों की तलाश की जा रही है। पुलिस जल्द सभी को गिरफ्तार कर लेगी। आभूषण विकेताओं की सुरक्षा बढ़ाई जा रही है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : गौवंशीय पशुओं के अवशेष मिलने से हड़कंप…

घटना काे अंजाम देने वाले लोगों तक पहुंचने में पुलिस जुट गई है।नवीन समाचार, गदरपुर, 30 अक्तूबर 2022। ऊधमसिंह नगर जनपद के गदरपुर में रविवार सुबह भाखड़ा नदी में गौवंशीय पशु के अवशेष मिलने से हड़कंप मच गया। इस पर मौके पर हिंदूवादी संगठनों के लोगों के साथ ही रुद्रपुर, दिनेशपुर और गदरपुर से पुलिस बल पहुंच गए। पुलिस ने आसपास के लोगों से जानकारी लेते हुए जांच शुरू कर दी है। यह भी पढ़ें : अचानक शव मिलने से सनसनी

गौवंशीय पशु के अंशों को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। आसपास लगे सीसीटीवी की फुटेज भी तलाशी जा रही हैं। घटना से हिंदूवादी संगठनों में रोष है। उन्होंने पुलिस से जल्द ही मामले का पर्दाफाश करने की मांग की है। यह भी पढ़ें : उत्तराखंड-बड़ा समाचार : कूड़ा बीनने वाली निकली विदेशी आतंकी की पत्नी

प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार सुबह गदरपुर दिनेशपुर मार्ग स्थित भाखड़ा पुल से गुजर रहे कुछ ग्रामीणों ने नदी किनारे गोवंश के कटे हुए अवशेष को देखा। इसका पता चलते ही आसपास के ग्रामीण और हिंदूवादी संगठनों के लोग मौके पर पहुंच गए और पुलिस को सूचना दी। इससे पुलिस महकमे में भी हड़कंप मच गया। यह भी पढ़ें : मात्र 2800 रुपए पर भी टपकी रजिस्ट्रार कानूनगो की लार, रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार…

तत्काल ही एसपी क्राइम अभय सिंह, सीओ बाजपुर भूपेंद्र सिंह भंडारी की अगुवाई में रुद्रपुर, दिनेशपुर और गदरपुर की थाना पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस टीम ने मौके पर मौजूद ग्रामीणों की मदद से गौवंश के अवशेषों को नदी से बाहर निकाला। यह भी पढ़ें : नैनीताल : पत्नी रूठ कर मायके आई तो पति ने कर दिया हंगामा, गिरफ्तार…

बताया जा रहा है कि तीन गोवंश के अवशेष मिले हैं। लोगों का कहना था कि तीनों नदी के आसपास ही घूमती थीं। संभवतया रात्रि में गौवंश तस्करों ने उन्हें पकड़कर काट डाला होगा। उनके अवशेष ही नदी में मिले। सीओ भंडारी ने बताया कि घटना के पर्दाफाश के लिए पुलिस की चार टीमें लगाई गई है। आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे चेक किए जा रहे हैं। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : फिर बड़ी वारदात : दिवाली के दौरान रौकेटों के विवाद में चली गोली, 23 वर्षीय छात्र की मौत, यूपी-उत्तराखंड पुलिस ने डाला डेरा, नेपाल सीमा भी सील

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 25 अक्तूबर 2022। आतिशबाजी को लेकर हुए विवाद के बाद रुद्रपुर में पड़ोसी राज्य यूपी के निवासी एक छात्र की गोली मारकर हत्या कर दी गई। घटना को अंजाम देने के बाद हत्यारोपित साथियों के साथ दो कारों में फरार हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने जानकारी ली और हत्यारोपितों की तलाश शुरू कर दी है। इसके लिए पुलिस और एसओजी की चार टीम जुटी हुई है। यूपी पुलिस ने भी बिलासपुर सहित कुमाऊं के इलाकों में डेरा डाल दिया है। नेपाल सीमा को भी सील कर दिया गया है। यह भी पढ़ें : दीपावली के दिन दुर्घटना, माता-पिता के बाद अभी-अभी 6 वर्षीय बच्चे की भी मौत….

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार दुर्जनपुर बिलासपुर रामपुर यूपी निवासी 23 वर्षीय दलजीत सिंह पुत्र गुरुचरण सिंह आइलेट्स का छात्र था। सोमवार को वह दीपावली पर्व पर अपने साथी मेट्रोपोलिस निवासी गिद्रों से मिलने आया हुआ था। बताया जा रहा है कि रात 10 बजे के आसपास आतिशबाजी के दौरान उनका रॉकेट उड़कर पास की बिल्डिंग में रहने वाले विसड्म आइलेट्स संस्थान के स्वामी गुरवीर सिंह के फ्लैट में जा गिरा। यह भी पढ़ें : बड़ा समाचार: दीपावली के रोज 22 वर्षीय युवक की गोली मारकर हत्या, पहले भी किया था हमला…

इससे भड़के गुरवीर सिंह ने भी गिद्रों के फ्लैट की ओर आतिशबाजी शुरू कर दी। जिसके बाद विवाद बढ़ गया। बताया जा रहा है कि इससे नाराज गुरवीर सिंह ने अपने साथियों को बुला लिया। रात साढ़े 12 और एक बजे के बीच जब दलजीत सिंह अपने साथी गिद्रों के फ्लैट से घर को जा रहा था तो गुरवीर और उसके कार सवार 10-12 अन्य साथियों ने उसका रास्ता रोक लिया और पिटाई कर दी। साथ ही दलजीत सिंह पर पिस्टल से फायर झोंक दिया। यह भी पढ़ें : कुमाऊं विश्वविद्यालय के विद्वान पूर्व प्रोफेसर जोशी का निधन, शोक की लहर…

गोली दलजीत सिंह के पेट पर लगी और वह लहुलूहान होकर वहीं गिर गया। घटना को अंजाम देने के बाद सभी आरोपित दो कारों से फरार हो गए। यह देख आसपास के लोगों ने पुलिस को सूचना दी। सूचना पर एसपी सिटी मनोज कुमार कत्याल, सीओ सिटी आशीष भारद्वाज, सीओ पंतनगर तपेश कुमार, थानाध्यक्ष पंतनगर राजेंद्र सिंह डांगी, सिडकुल चौकी प्रभारी पंकज कुमार पुलिस कर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे और जानकारी ली। साथ ही घायल दलजीत सिंह को उपचार के लिए हल्द्वानी के निजी अस्पताल ले गए। यह भी पढ़ें : दीपावली पर पहाड़ के लाल-सेना के सूबेदार की असामयिक मौत की सूचना से शोक की लहर…

हल्द्वानी से मंगलवार तड़के उसे बरेली के लिए रेफर कर दिया गया। जहां उसकी मृत्यु हो गई। एसपी सिटी मनोज कुमार कत्याल ने बताया कि हत्यारोपितों की तलाश में पुलिस और एसओजी की चार टीम लगी है। आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं। कुछ संदिग्ध लोगों को भी हिरासत में लेकर पूछताछ की गई है। बताया कि जल्द ही आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। यह भी पढ़ें : झील में डूबा 33 वर्षीय युवक, दो दिन बाद एसडीआरएफ ने किया शव बरामद

एसएसपी के आदेश पर सात टीमों को हत्याकांड के खुलासे के लिए लगा दिया है। बताया जा रहा है कि सभी हमलावर सीसीटीवी में कैद हो चुके है। पुलिस का मानना है कि हमलावर कुमाऊं, यूपी के सीमावर्ती गांवों और नेपाल बार्डर का फायदा उठाकर भाग सकते है। एसएसपी मंजूनाथ टीसी ने तत्काल सात टीमों को गठन कर स भी टीमों को अलग अलग स्थानों के लिए रवाना कर दिया है। इसके अलावा नेपाल की पुलिस और एसएसबी अधिकारियों से संपर्क कर नेपाल बार्डर को सील कर दिया है। इसके साथ ही पंतनगर सीओ तपेश कुमार के साथ पुलिस टीमों ने बिलासपुर, रामपुर के अलावा बहेड़ी में भी डेरा डाल दिया है। एसएसपी मंजूनाथ टीसी का दावा है कि हत्याकांड से जुडे कुछ हमलावरों को उठाकर पूछताछ जारी है। जल्द ही हत्याकांड का पर्दाफाश किया जाएंगा। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : दिनदहाड़े पुलिस कर्मियों पर बदमाशों ने की फायरिंग, दो पुलिस कर्मी घायल

लक्सर में बदमाशों ने सरेबाजार पुलिसकर्मियों पर गोली चला दी। एक कांस्टेबल गंभीर रूप से घायल हो गया।नवीन समाचार, हरिद्वार, 16 अक्तूबर 2022। राज्य में एक बार फिर बड़ी वारदात हुई है। रविवार को हरिद्वार जिले के लक्सर में बाइक सवार हथियारबंद बदमाशों ने पीछा कर रहे कस्बा चौकी के पुलिसकर्मियों पर भरे बाजार दिन दहाड़े ताबड़तोड़ फायर झोंक दिए। इस गोलीबारी में गोली लगने से दो सिपाही घायल हुए हैं। जिनमें से एक को गंभीर हालत में हायर सेंटर भेजा गया है। घटना के बाद से पूरे जिले में नाकाबंदी कर चेकिंग की जा रही है। यह भी पढ़ें : बिग ब्रेकिंग: हल्द्वानी के 2 स्पा सेंटरों से मुक्त कराई गईं 10 युवतियां

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार शाम पांच बजे के आसपास लक्सर कोतवाली की कस्बा चौकी में तैनात सिपाही पंचम प्रकाश और राजेंद्र सिंह एक बाइक पर नगर में गश्त कर रहे थे। इस दौरान उनको एक बाइक पर सवार दो लोगों में से एक बाइक सवार के हाथ में तमंचा दिखा। इस पर सिपाही उस बाइक का पीछा करने लगे। यह भी पढ़ें : सड़क पर खड़ी किसी अन्य की कार में नग्नावस्था में मृत मिला अज्ञात व्यक्ति ! 

बताया गया है कि लक्सर के फ्लाईओवर पर सिपाहियों ने अपनी बाइक बदमाशों से आगे निकालकर उन्हें रोकने की कोशिश की। इस पर बाइक सवार बदमाशों ने दिनदहाड़े सिपाहियों पर तीन राउंड फायरिंग कर दी। बदमाशों की गोली लगने से दोनों सिपाही घायल होकर गिर पड़े। बताया गया है कि राजेंद्र के पैर में गोली, जबकि पंचम को छर्रे लगे हैं। यह भी पढ़ें : खुशखबरी: बिन वर्षा के लबालब भरी नैनी झील, गेट खोलने की नौबत

उनके गिरते ही बदमाश फरार हो गए। लोगों ने दोनों घायल सिपाहियों को पास के निजी नर्सिंग होम भिजवाया। उधर, सिपाहियों को गोली मारने की सूचना मिलते ही सीओ हेमेंद्र सिंह नेगी और कोतवाल यशपाल सिंह बिष्ट भारी पुलिसबल के साथ तुरंत नर्सिंग होम पहुंचे और घटना की बारीकी से जानकारी ली। यह भी पढ़ें : हल्द्वानी में मुंहबोले भाई ने महिला से लगातार दुष्कर्म करते हुए 10 लाख रुपए भी वसूले

इस दौरान नर्सिंग होम के डॉक्टरों ने सिपाही राजेंद्र सिंह को गंभीर बताकर हायर सेंटर रेफर कर दिया। जबकि, दूसरे सिपाही की हालत खतरे से बाहर बताई गई है। घटना की सूचना मिलने के बाद से पुलिस पूरे जिले में चेकिंग कर रही है। सीओ हेमेंद्र सिंह नेगी ने बताया कि बदमाशों की पहचान कर गिरफ्तारी की जाएगी। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : काबीना मंत्री के घर में लुटेरों का धावा, दिन दहाड़े डेढ़ घंटे तक घर खंगाला, करोड़ों की नगदी व आभूषण उड़ाए…

-पत्नी व नौकरानियों को बनाया बंधक, करोड़ों की लूटपाट का अंदेशा, पुलिस में मचा हड़कंप
कैबिनेट मंत्री के भाई के घर लगभग 1 करोड़ की डकैती होने का अनुमान ,जानें  पूरी ख़बर – 24×7 Teza Samwad – तेजा संवाद – नई सोच नये जोश के साथनवीन समाचार, ऋषिकेश, 15 अक्टूबर 2022। उत्तराखंड के सचिवालय भर्ती प्रकरण के बाद से चर्चा में चल रहे काबीना मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल के चचेरे भाई के घर पर शनिवार की सुबह दिन दहाड़े छह डकैतों द्वाा डकैती की वारदात को अंजाम देने की बड़ी घटना हुई है। बताया गया है कि डकैतों ने घर की महिलाओं और नौकरानी को बंधक बनाने के बाद डेढ़ घंटे तक घर के अंदर से करोड़ों रुपए की नकदी और आभूषणों को लूट ले गए हैं। इस वारदात से पुलिस में हड़कंप मच गया है। यह भी पढ़ें : नैनीताल ब्रेकिंग : रात्रि में खाई में गिरा युवक, सुबह पता चलने पर बचाया, पर हुई मौत

Uttarakhand News: Assembly Speaker Premchand Aggarwal And Six Others  Acquitted Of Balwa Case - उत्तराखंड: विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल समेत  छह लोग बलवे के आरोप से बरी, पढ़ें ...पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार काबीना मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल के चचेरे भाई और डोईवाला के जाने-माने व्यापारी शीशपाल अग्रवाल उर्फ कोली पुत्र पूरन चंद अग्रवाल के डोईवाला में घराट रोड पर स्थित घर पर शनिवार करीब सुबह 11 बजे छह से अधिक नकाबपोश पहुंचे। डकैतों ने स्वयं को उनका रिश्तेदार बताते हुए 10 मिनट रुकने की बात कही, और घर के अंदर प्रवेश किया। घर में शीशपाल अग्रवाल की पत्नी ममता के अलावा दो नौकरानियां मौजूद थीं। डकैतों ने तमंचा और चाकू दिखाकर उन्हें बंधक बना दिया और घर के अंदर लगभग डेढ़ घंटे तक अलमारी के लॉकर, डबल बेड के बॉक्स आदि तमाम जगहों से नकदी और आभूषणों सहित पूरे घर को खंगाल डाला, और वहां से चलते बने। यह भी पढ़ें : उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय को जल्द मिलने वाली है बड़ी खुशखबरी !

घटना से ऐसा प्रतीत हो रहा है कि डकैतों को शीशपाल अग्रवाल के दोपहर में किस समय घर पर खाना खाने आते हैं और घर पर कौन-कौन मौजूद रहता है, जैसी सभी गतिविधियों की पहले से जानकारी थी। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची, और सांप के निकलने के बाद लकीर पीटने की तर्ज पर अपनी जांच पड़ताल शुरू कर दी है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave a Reply