Virodh

अब उत्तराखंड पुलिस ने निकाली काली फिल्म व हूटर लगी गाड़ी वाले दिल्ली के राष्ट्रीय पार्टी के नेता की हेकड़ी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवीन समाचार, रामनगर, 3 अगस्त 2021। नैनीताल में दिल्ली के सैलानियों के बाद बाहरी लोगों के उत्तराखंड आकर पुलिस एवं स्थानीय लोगों को हेकड़ी दिखाने की एक और घटना रामनगर से प्रकाश में आई है। अब जनपद के रामनगर में दिल्ली का खुद को एक राष्ट्रीय पार्टी का नेता बताना वाला व्यक्ति अपनी शीशों पर काली फिल्में चढ़ी दिल्ली नंबर की कार से आगे चल रही पुलिस की गाड़ी को सामने से हटाने के लिए हूटर बजाने लगा। इस पर पुलिस ने उसकी गाड़ी की काली फिल्म उतार कर चालान काटा और हूटर भी निकलवा दिया।

हुआ यह कि दिल्ली के राष्ट्रीय पार्टी के नेता ने रामनगर से गुजरते हुए अपनी गाड़ी का हूटर बजाया और आगे चल रही रामनगर पुलिस की गाड़ी को आगे से हटने के लिए कहा। गाड़ी में बैठे यातायात निरीक्षक आदेश कुमार ने जब नेता जी से पूछा कि गाड़ी में काली फिल्म और हूटर किसकी अनुमति से लगा है तो वह नेतागिरी दिखाने लगा और खुद को यूपी की सीमा के नादेई जसपुर का रहने वाला सरपंच गौरव चौधरी बताने लगा। इस पर पुलिस ने उनकी एक नहीं सुनी और गाड़ी का 1500 रुपये का चालान कर दिया। साथ ही गाड़ी में लगे हूटर को भी निकलवा दिया। इस पर वह मुंह ताकता रह गया। नेता जी दिल्ली नंबर गाड़ी में सवार थे और यूपी में कही के सरपंच बता रहे थे। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : 6 करोड़ की गाड़ी में आए सैलानी नैनीताल पुलिस व नैनीताल वालों को बताने लगे ‘औकात’, मुकदमा दर्ज

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 1 अगस्त 2021। व्यक्ति की औकात उसकी महंगी गाड़ी या उसके पास मौजूद धन संपत्ति में नहीं, बल्कि उसके व्यवहार से होती है। दिल्ली से 6 करोड़ की ‘पोर्श’ गाड़ी में आए सैलानियों को शायद इसका पता नहीं था। शायद इसीलिए वह कार में नियमविरुद्ध गाड़ी के शीषों में चढ़ी काली फिल्म को हटाने की कार्रवाई करने पर पहले महिला पुलिस उप निरीक्षक और बाद में नगर के स्थानीय निवासियों को उनकी ‘औकात’ बताने लगे। बहरहाल, नैनीताल पुलिस ने उनकी हेकड़ी निकाल दी और उन्हें व उनकी गाड़ी को बमुश्किल स्थानीय लोगों के गुस्से व तोड़फोड़ से बचाते हुए थाने लाए और उनके खिलाफ मुकदमा लिख दिया गया है।

नैनीताल पुलिस से उलझते महिला सहित अन्य सैलानी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार को इंडिया होटल के पास की जा रही पुलिस की चेकिंग के दौरान एक काले रंग की, दिल्ली निवासी कार स्वामियों द्वारा करीब 6 करोड़ रुपए की बताई गई कार को रुकवाया तो कार सवार महिला उप निरीक्षक राजकुमारी से कहने लगे कि उन्हें शराब पीने को कितने रुपए चाहिए। उतने रुपए वह दे देंगे, लेकिन पुलिस कार को छुवे भी नहीं। पुलिस की इतनी औकात नहीं कि वह उनकी कार का चालान कर सके। ऐसा सुनने पर स्थानीय लोगों ने सैलानियों का विरोध किया तो वह स्थानीय लोगों से भी भिड़ गए और कहने लगे कि यहां के लोगों जैसे तो उनके वहां झाड़ू लगाने वाले नौकर हैं।

यह भी पढ़ें : मास्क न पहनकर पुलिस से उलझने पर महिला सैलानी गिरफ्तार, अपनी तरह की पहली घटना

ऐसे शब्दों को सुनकर स्थानीय लोग काफी भड़क गए और उन्हें घेर लिया। इस पर तल्लीताल थाना पुलिस के प्रभारी विजय मेहता व चीता मोबाइल शिवराज राणा सहित अन्य पुलिस कर्मी भी मौके पर पहुंच गए और उन्हें व उनकी कार को किसी तरह स्थानीय लोगों के आक्रोश व टूटने-फूटने से सुरक्षित बचाकर थाने ले आए। साथ ही घटना की गंभीरता को देखते हुए कार सवार बसंत विहार नहीं दिल्ली निवासी शिवम कुमार मिश्रा, विवेक, संदीप व साथ की एक महिला के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 504, 506, 353 व 186 के तहत लोक सेवकों को धमकी देने, गाली-गलौज व हमला करने के आरोप में मुकदमा लिख दिया गया है।

बताया गया है कि आरोपितों के परिवार की दिल्ली में गुटखा में इस्तेमाल होने वाले तंबाकू की फैक्ट्री है। उल्लेखनीय है कि इससे पहले शनिवार को भी मास्क न पहनने पर टोके जाने पर पुलिस कर्मियों से अभद्रता करने के आरोप में दिल्ली की एक महिला सैलानी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : मास्क न पहनकर पुलिस से उलझने पर महिला सैलानी गिरफ्तार, अपनी तरह की पहली घटना

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 31 जुलाई 2021। शनिवार को तल्लीताल पुलिस को मास्क पहने बिना खांस रही एक महिला सैलानी को चालान करने के साथ ही गिरफ्तार करना पड़ गया। हुआ यह कि महिला अपने पति के साथ बिना मास्क पहने हुए तल्लीताल डांठ के पास स्थित पुलिस की चेकपोस्ट के करीब से गुजर रही थी। पुलिस कर्मियों ने उसे मास्क न पहनने पर चालान करने को कहा तो वह खुद को चार माह की गर्भवती व तबियत खराब बताते हुए महिला-पुरुष पुलिस कर्मियों से बुरी तरह से उलझने लगी।

कभी वह खुद को पत्रकार तो कभी दिल्ली पुलिस से संबंध होने की बात कह भी प्रभाव दिखाने और पुलिस कर्मियों पर ही अभद्रता करने का आरोप लगाती रही, जबकि पुलिस की ओर से उसके मास्क पहने बिना आने से लेकर उसे टोकने और उसके पुलिस कर्मियों से उलझने की पूरी घटना पुलिस कर्मियों के द्वारा रिकॉर्ड की जा रही थी। वह इस बीच समझाने की कोशिश कर रहे अपने पति को भी चुप कराती नजर आई। तल्लीताल थाना प्रभारी विजय मेहता ने बताया कि किसी तरह भी न मानने, चालान के लिए अपना नाम भी न बताने जैसी स्थितियों में पुलिस उसे बमुश्किल पकड़कर थाने ले गई, और उसे सीआरपीसी की धारा 151 के तहत गिरफ्तार कर एसडीएम के न्यायालय में पेश किया गया।

उल्लेखनीय है कि नगर में खासकर महिला सैलानियों के द्वारा मास्क को लेकर पुलिस से उलझने व ऊंची पहुंच दिखाने के साथ ही अभद्रता के आरोप लगाने की इस वर्ष ही आधा दर्जन से अधिक घटनाएं हो चुकी हैं। अच्छी बात यह है कि पुलिस ऐसे लोगों का बख्श नहीं रही, और अब पहली बार किसी को गिरफ्तार करने की नौबत आई है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पुलिस ने निकाली हूटर बजा रहे यूपी के भाजपा व सपा नेताओं की हेकड़ी

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 05 जुलाई 2021। रविवार को सरोवरनगरी में सैलानियों के बेतहाशा उमड़ने एवं हल्द्वानी से नैनीताल तक जाम लगने के बीच नैनीताल पुलिस ने यूपी के भाजपा व सपा नेताओं की हेकड़ी निकाल दी। हुआ यह कि इस दौरान माल रोड पर लगे जाम के बीच यह नेता अपनी महंगी गाड़ियों में हूटर बजाने लगे। मना करने पर वह नगर कोतवाल अशोक कुमार सिंह व यातायात निरीक्षक आदेश कुमार से भी भिड़ने लगे। लेकिन पुलिस अधिकारियों ने न केवल उनके हूटर बल्कि शीशों में लगी काली फिल्में उतारीं, बल्कि उनका दो-दो हजार रुपये का चालान भी कर दिया।
पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार माल रोड पर हूटर बजाने वाले यूपी के सपा और भाजपा नेताओं-लखनऊ निवासी संजय शर्मा, इटावा निवासी अशोक कुमार, गौतमबुद्ध नगर निवासी सुशील कुमार और फतेहपुर निवासी अमन की चार फॉर्च्यूनर कारों, यूपी16सीएफ-0708, यूपी32एफयू-0500, यूपी75एडी-5500 और यूपी32केई-7123 को सख्ती दिखाते हुए सड़क किनारे लगाया गया और उनसे हूटर काली फिल्म निकाली गई, तथा उन्हें भविष्य में ऐसा नहीं करने की हिदायत दी गई। साथ ही उनके मोटर यान अधिनियम के तहत कार्रवाई करते हुए दो-दो हजार रुपये के चालान भी किये गये। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : सैलानियों ने महिला अधिवक्ता से की अभद्रता

-सड़क पर शराब पीकर कर रहे थे हुड़दंग
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 29 जून 2021। कोराना काल में शांत पड़े पहाड़ों पर भारी संख्या में पहुंच रहे सैलानी यहां की शांति में बाधा तो डाल ही रहे हैं, माहौल खराब करने पर भी उतारू हैं। सैलानी नैनीताल पहुंच भी नहीं पाते हैं कि उच्छृंखलता, अभद्रता, सड़क पर ही शराब पीने और अभद्र तरीके से नाचने लगते हैं। यही नहीं टोकने पर टोकने वाले से भी अभद्रता करने से नहीं चूकते। ऐसा ही कुछ कर रहे दिल्ली के सैलानियों को नगर की एक महिला अधिवक्ता ने टोका तो उन्होंने महिला अधिवक्ता से अभद्रता कर दी। महिला अधिवक्ता ने पुलिस में शिकायत की, इस पर पुलिस ने युवकों का चालान कर दिया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार, महिला अधिवक्ता बुधवार को अपनी कार से हल्द्वानी से नैनीताल आ रही थी। इस बीच वह नगर से करीब 4 किलोमीटर पहले ताकुला के पास रुकीं। वहां सड़क किनारे कुछ युवक शराब पीकर पार्टी करते हुए हुड़दंग कर रहे थे। महिला अधिवक्ता ने उन्हें टोका तो वे विवाद पर उतर आए। महिला अधिवक्ता के अनुसार वे नशे में धुत्त थे। उन्होंने न केवल उनसे बल्कि उनके गनर से साथ भी अभद्रता की। इसके बाद उन्होंने पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने चारों युवकों को पकड़ लिया। उन्हें पूछताछ के लिए तल्लीताल थाने ले जाया गया। पुलिस की पूछताछ में पता चला कि वे स्मार्ट सिटी पोर्टल में कराए बिना भी यहां पहुंचे थे। उनकी पहचान नरेला दिल्ली निवासी सुखबीर सिंह, राकेश, दिलबाग सिंह और विकास कुमार के रूप में हुई। पुलिस ने उनका 81 पुलिस एक्ट में चालान कर दिया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : झील में नहा रहे सैलानियों व फूड वैन संचालक का 10 हजार रुपए का चालान…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 29 जून 2021। तल्लीताल थाना पुलिस ने नगर की प्रसिद्ध नैनी झील में नहा रहे हरियाणा के पांच सैलानियों का पुलिस एक्ट के तहत चालान किया। तल्लीताल थाना प्रभारी विजय मेहता ने बताया कि हरियाणा के पांच युवा सैलानी पैडल बोट लेकर झील में उतरे थे और दूसरी ओर जाकर नहाने लगे। इस पर उनका पांच-पांच सौ रुपए का चालान किया गया।
इसके अलावा हल्द्वानी रोड पर बल्दियाखान के पास सड़क किनारे फूड वैन खड़ी करने पर वैन स्वामी का 10 हजार रुपए का चालान कर दिया है। बताया गया है सड़क पर फूड वैन खड़ी करने से जाम की स्थिति बन रही थी। इस पर पूर्व में पुलिस ने फूड वैन संचालक से वाहन को चौड़े स्थान पर खड़ा करने की हिदायत दी थी। इसके बावजूद फूड वैन को वहां से नहीं हटाया गया। इस पर थानाध्यक्ष विजय मेहता ने 83 पुलिस एक्ट के तहत कार्रवाई करते हुए फूड वैन संचालक 10000 का चालान कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : मास्क पहनने को कहने पर ऐसी बिफरी महिला सैलानी कि पुलिस कर्मियों क्या पति के हाथ जोड़ने पर भी नहीं शांत हुई

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 11 जुलाई 2021। सरोवरनगरी में सैलानी मास्क पहनने और आपस में दूरी बरतने के कोविड प्रोटोकॉल्स का पालन करने में किसी तरह राजी नहीं हो रहे हैं। आए दिन पुलिस कर्मियों को ऐसे सैलानियों से उलझना पड़ रहा है। खासकर महिला सैलानी तो पुरुषों से भी अधिक उग्र हो रही हैं। पुलिस सैलानियों को मास्क पहनने को प्रेरित करने के लिए एवं न पहनने पर चालान करने के लिए मास्क न पहनने वालों का पहले वीडियो बना ले रही है, ताकि बाद में सैलानी इससे इंकार न कर पाएं, इस पर भी सैलानी नहीं मान रहे और पुलिस से जमकर तकरार कर रहे हैं

इसी कड़ी में रविवार को मॉल रोड पर जानकीपुरम लखनऊ निवासी एक महिला सैलानी ने इंडिया होटल के सामने हंगामा ही कर दिया। तल्लीताल थाने की महिला पुलिस सब इंस्पेक्टर राजकुमारी ने जब उस महिला सैलानी को मास्क न पहनने पर टोका वह राजकुमारी से ऐसे अभद्रता पर उतर आई और इतनी आक्रोशित हो गई कि किसी के संभाले नहीं संभले। यहां तक कि महिला का पति भी हाथ जोड़कर उसे चुप रहने का वास्ता देने लगा, लेकिन वह उसके संभाले भी नहीं संभली। इस पर पुलिस कर्मी किसी तरह उसे काबू करके तल्लीताल थाने ले गए। वहां जब उस पर कार्रवाई का दबाव बनने लगा, तब जाकर किसी तरह वह शांत हुई। तल्लीताल थाना प्रभारी विजय मेहता ने बताया कि बाद में उसने पुलिस को माफीनामा लिखकर दिया, जिसके बाद उसे चालान करके छोड़ा गया। उल्लेखनीय है कि गत दिवस मल्लीताल कोतवाली पुलिस के साथ भी एक महिला कर्मी द्वारा मास्क न पहनने पर टोकने पर हंगामा करने का वीडियो वायरल हुआ था। इस दौरान महिला के साथ का युवक पुलिस के किसी डीएसपी के नाम पर पुलिस कर्मियों को उल्टा धमका रहा था। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : चार शर्तें पूरी न करने वाले सैलानी नहीं पहुंच पाए नैनीताल, तो कुछ ने रास्ता भी निकाल लिया

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 10 जुलाई 2021। उत्तराखंड उच्च न्यायालय की सख्ती के बाद शनिवार को सरोवरनगरी में वाहनों एवं सैलानियों की संख्या में कमी आई। कारण, बिना देहरादून सिटी पोर्टल पर पंजीकरण कराए, बिना कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट के एवं नगर के होटलों में बुकिंग कराए बिना आ रहे सैलानियों को जनपद के गड़प्पू, चोरगलिया, रामपुर रोड रेलवे क्रॉसिंग, लालकुआं से लेकर कालाढुंगी, मंगोली, रानीबाग व ज्योलीकोट आदि पुलिस चौकियों पर रोक कर जांच के बाद वापस लौटाया गया। वहीं जो सैलानी ऐसे होटलों में बुकिंग करके आ रहे थे, जिनमें पार्किंग की सुविधा उपलब्ध नहीं है, उनके वाहनों को नारायण नगर व रूसी बाइपास पर पार्क करवाकर उन्हें शटल टैक्सियों के जरिए शहर में भेजा गया। इसके अलावा दोपहिया वाहनों से आने वाले सैलानियों को भी नारायण नगर व रूसी बाइपास पर पार्क करवाकर उन्हें शटल टैक्सियों के जरिए शहर में भेजा गया।

रोडवेज की बसों में जांच नहीं होने का लाभ उठाया
नैनीताल। निजी वाहनों को चार शर्तें पूरी न करने पर नैनीताल नहीं आने दिया गया। ऐसे में बड़ी संख्या में सैलानी पुलिस कर्मियों से झगड़ते व विरोध जताते तो कई मिन्नते करते या जुगाड़ लगाते नजर आए। लेकिन पुलिस कर्मियों ने आज पहले दिन किसी के साथ भी कोई नरमी नहीं दिखाई। अलबत्ता, रोडवेज की बसों से आ रहे लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट नहीं जांची गई। इसका पता चलने पर कई सैलानी हल्द्वानी या अन्य जगह वाहन छोड़कर रोडवेज की बसों से बिना कोरोना जांच कराए नैनीताल आते नजर आए। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : जुलाई में मई-जून जैसा घाम और जाम, लोग कह रहे शायद ‘कोविड कर्फ्यू’ हो गया ‘जाम का नाम’

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 05 जुलाई 2021। पिछले वर्षों में जहां मई-जून माह में सैलानियों का उमड़ना जुलाई माह में बारिश की तेजी के साथ थम जाता था, वहीं इस वर्ष जुलाई माह सैलानियों के सैलाब और बारिश के मामलों में मई-जून का अहसास करा रहा है। इन दिनों बारिश नहीं हो रही है, और मई-जून जैसी गर्मी पड़ रही है, तथा मई-जून जैसा ही सैलानियों का सैलाब उमड़ पड़ा है। इससे हल्द्वानी से आगे काठगोदाम-रानीबाग से पूरे नैनीताल और उधर भीमताल, मुक्तेश्वर तक सैलानियों के वाहनों का जाम ही जाम नजर आ रहा है। ऐसे में पर्यटन से जुड़े लोग भी तंज कस रहे हैं कि एक ओर राज्य में कोविड कर्फ्यू सप्ताह दर सप्ताह आगे बढ़ाने के शासनादेश आ रहे हैं, और दूसरी ओर सैलानियों के वाहनों के जाम लग रहे हैं। लगता है जाम का नाम ही बदलकर कोविड कर्फ्यू कर दिया गया है।

इससे निपटने के लिए प्रशासनिक व्यवस्था अब तत्पर होने की कोशिश कर रही है। स्थिति यह है कि यातायात को नियंत्रित करने के लिए पूर्व वर्ष की तरह सीजन ड्यूटी हेतु पुलिस कर्मियों की व्यवस्था पहले से नहीं की गई है। पार्किंग में शौचालय, पीने के पानी की व्यवस्था नहीं है, पार्किंग में रोके गए वाहनों के सैलानियों को शहर में लाने के लिए शटल टैक्सियों की व्यवस्थाएं भी पहले से नहीं की गई हैं। ऐसे में सैलानी भी परेशान हो रहे हैं। उन्हें जगह-जगह रोक-रोक कर शहर में भेजा जा रहा है। वे खुले में शौच करने तथा पानी व नास्ते के लिए भी परेशान हो रहे हें। अब आनन-फानन में प्रशासन की ओर से यह व्यवस्थाएं करने की कोशिश की जा रही है।

शराब पीकर खुले में पेशाब कर रहे सैलानियों का चालान
नैनीताल। नगर में इन दिनों भारी संख्या में आ रहे नगर को गंदा करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रहे। यहां तक कि बच्चों को सड़क किनारे ही शौच कराना और पुरुषों के साथ ही महिला सैलानियों द्वारा भी सड़क किनारे लघुशंका निपटाना यदा-कदा देखा जाता है। इसी कड़ी में नगर की ठंडी सड़क पर बरेली यूपी के सैलानी शराब पीकर खुले में पेशाब करते देखे गए। उन्हें स्थानीय लोगों ने ऐसा करने से टोका तो वे उल्टा स्थानीय लोगों से उलझ पड़े। इस पर पुलिस को सूचना दी गई। सूचना मिलने पर पहुंचे मल्लीताल कोतवाली के वरिष्ठ उप निरीक्षक कश्मीर सिंह व अन्य पुलिसकर्मियो ने मामला शांत करवाया, और खुले में पेशाब कर रहे बिहारीपुर बरेली निवासी फैजुल रहमान, अमान अहमद, तरहब अहमद और अदनान अहमद का मेडिकल परीक्षण के बाद 81 पुलिस एक्ट में चालान कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : दिल्ली के 7 युवकों ने दिखाया कोविड सतर्कता व्यवस्था को आईना, बिना जांच पहुंच गए नैनीताल

-बिना आरटीपीसीआर रिपोर्ट व बिना पंजीकरण के पहुंच गए थे नैनीताल, तल्लीताल पुलिस ने किया महामारी अधिनियम में चालान
डॉ.नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 27 मई 2021। एक बार फिर दिल्ली निवासी सात युवकों ने एक बार फिर देश की राजधानी, पड़ोसी राज्य यूपी एवं उत्तराखंड के बीच सीमा पर कोविड-19 की महामारी को रोकने के लिए नियमों का पालन करने को तैनात पुलिस व्यवस्था को आईना दिखा दिया। दिल्ली के बसंत विहार निवासी सात युवक-युवराज, तनुज, लवीश, निशांत, राहुल, संजू यादव व संजीव यादव दो कारों-डीएल1सीयू-2909 व डीएल2सीएवाई-4408 से बिना आरटीपीसीआर की जांच व देहरादून स्मार्ट सिटी पोर्टल में पंजीकरण कराए नैनीताल पहुंच गए। तल्लीताल थाना पुलिस के जवानों ने उन्हें जांच के दौरान तल्लीताल डांठ पर पकड़ लिया, और उत्तराखंड सरकार की गाइडलाइन का पालन न करने पर सातों युवकों का महामारी अधिनियम के तहत चालान किया गया व उन्हें वापस दिल्ली के लिए रवाना कर दिया गया। तल्लीताल थानाध्यक्ष विजय मेहता ने बताया कि उन्होंने कोरोना का रैपिड एंटीजन टेस्ट कराया हुआ था।

यह भी पढ़ें : बिना कागजों की कार से बिना पंजीकरण-बिना आरटीपीसीआर जांच के नोएडा से नैनीताल पहुंच गए युवक पर यहां बच नहीं पाए, कार भी सीज..

नवीन समाचार, नैनीताल, 17 मई 2021। नियम तोड़ने वाले भले कहीं की भी पुलिस की आंखों से बच जाएं, पर नैनीताल की पुलिस से बच नहीं सकते। ऐसा कई लोगों की जुबान पर है। सोमवार को नोएडा से पांच युवक बिना आरटीपीसीआर जांच व बिना रजिस्ट्रेशन के नैनीताल घूमने पहुंच गए। पूरे रास्ते उन्हें किसी ने नहीं रोका, लेकिन नैनीताल पुलिस की नजरों से बच नहीं पाए।
हुआ यह कि नोएडा के वैभव सक्सेना, सुहेल, पीयूष कुमार व रामफूल नाम के युवक यूपी14सीएन-8005 से नैनीताल आ रहे थे। ज्योलीकोट में पुलिस ने उनकी कार रोकी तो वह वहां से भाग निकले। इस पर ज्योलीकोट पुलिस ने तल्लीताल थाने में सूचना दी। इस पर तल्लीताल चौराहे में पुलिस टीम ने युवकों को कार सहित रोक लिया। पूछताछ में युवकों के पास न तो आरटीपीसीआर जांच की कोई रिपोर्ट मिली, न ही स्मार्ट सिटी पोर्टल में पंजीकरण। यहां तक कि युवक कार के कागजात भी नहीं दिखा पाए। इस पर युवकों का कोविड नियमों के उल्लंघन करने पर आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत चालान किया गया और उनकी कार को सीज कर दिया गया।

यह भी पढ़ें : बिना पंजीकरण-बिना आरटीपीसीआर जांच के नैनीताल पहुंचे दिल्ली के चार सैलानी दबोचे

-भारतीय दंड संहिता, महामारी अधिनियम व आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज
नवीन समाचार, नैनीताल, 7 मई 2021। कोरोना काल की विभीषिका में भी पर्वतीय पर्यटननगरी सरोवरनगरी नैनीताल का आकर्षण सैलानियों में बना हुआ है। शुक्रवार को कोतवाली ने मुख्यालय में दिल्ली के ऐसे चार सैलानियों के समूह को पकड़ा, जो बिना किसी पंजीकरण व आरटीपीसीआर जांच के दिल्ली से कार से चलकर नैनीताल पहुंच गए, अलबत्ता यहां पुलिस की नजरों से नहीं बच पाए। कोतवाली पुलिस ने उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 269 व 270, 3 महामारी अधिनियम व 51 (बी) आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीकृत कर लिया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार सबसे पहले डीएल1सीएए-1614 नंबर की सफेद रंग की होंडा अमेज कार से आ रहे दिल्ली के चार सैलानियों-23 वर्षीय गोपी शर्मा पुत्र गौतम शर्मा निवासी विरेंद्र नगर थाना बुराड़ी, 21 वर्षीय अभिषेक पुत्र राम किशन निवासी सी कमल विहार कमालपुर बुराड़ी तथा जे ब्लॉक जहांगीर पुरी निवासी 19 वर्षीय पंकज कुमार पुत्र सतेंद्र सिसौदिया व 24 वर्षीय हेमंत कुमार पुत्र सतेंद्र सिसौदिया को नगर से पहले कालाढुंगी रोड पर मंगोली चौकी पर रोका तो वह पुलिसकर्मियों से जोर जबर्दस्ती कर नैनीताल की ओर भाग आए। इस पर वरिष्ठ उपनिरीक्षक कश्मीर सिंह आरक्षी गिरीश टम्टा, ललित कांडपाल व महिला आरक्षी सपना चौधरी ने उन्हें बारापत्थर चौकी के पास दबोच लिया। जांच में उनके पास उत्तराखंड पोर्टल पर पंजीकरण व आरटीपीसीआर जांच की रिपोर्ट नहीं मिली। इस पर चारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

यह भी पढ़ें : सरोवरनगरी में उमड़े सैलानी, पर पूरी तरह बिना मास्क पहने नौकायन कर कोरोना को दे रहे न्यौता, सैर में भी लापरवाही….

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 26 जून 2021। उत्तराखंड की पर्यटन राजधानी सरोवरनगरी में सैलानी उमड़ पड़े हैं। खासकर इस सप्ताहांत सरोवरनगरी में बड़ी संख्या में सैलानी पहुंचे। ऐसे में नगर की वैश्विक पहचान नैनी झील में सैलानियों को नौकायन कराती नौकाओं के मेले जैसा माहौल रहा। लेकिन सर्वाधिक चिंता की बात यह कि कोरोना की तीसरी लहर पर हर ओर से जताई जा रही गंभीर चिंताओं और उच्च न्यायालय द्वारा राज्य सरकार व नौकरशाही पर की गई बेहद तल्ख टिप्पणी के बावजूद नैनी झील में करीब 90 फीसद सैलानी बिना मास्क के नौकायन करते देखे गए, जबकि नगर में टहल रहे सैलानियों में से भी करीब 20 फीसद सैलानी बिना मास्क के घूमते नजर आ रहे हैं। तस्वीर गवाह है, जिसमें करीब 15 सैलानियों में से करीब 7 के चेहरों पर मास्क नजर नहीं आ रहा है।

शनिवार को मल्लीताल में नैनी झील किनारे टहलते 15 सैलानियों में से 7 के चेहरों पर मास्क नहीं।

जबकि सामाजिक दूरी का खयाल रखना तो किसी के जेहन में भी नजर नहीं आ रहा है। यह सब कोरोना की तीसरी लहर को समय से भी पहले आमंत्रित करता सा प्रतीत हो रहा है। आज नगर की सड़कों पर भी कई ‘बॉटल नेक’ सरीखे संकरे स्थानों पर वाहनों की भी रेलमपेल व वाहनों की कतारें लगी नजर आईं। नगर की मुख्य डीएसए मैदान स्थित कार्र पार्किंग के साथ ही मेट्रोपोल व सूखाताल की पार्किंगों में भी सैलानियों के वाहन भरे रहे।

पुलिस वीडियो बनाकर कर रही सैलानियों के चालान, पर अभियान झील में नहीं
नैनीताल। शहर में कोविड-19 के दिशा-निर्देशों को धता बता रहे सैलानियों पर नियंत्रण के लिए नैनीताल पुलिस द्वारा 500-500 रुपए के चालान किए जा रहे हैं। इससे बचने के लिए सैलानी पुलिस कर्मियों को देखने पर मास्क पहन लेते हैं। ऐसे में पुलिस पहले ही मास्क न पहन रहे सैलानियों के दूर से वीडियो बना रही है, और सैलानियों को दिखाकर उनसे चालान की धनराशि वसूल रही है। फिर भी सैलानी मास्क न पहनने के तरह-तरह के बहाने बना रहे हैं
अलबत्ता, पुलिस का कोरोना पर नियंत्रण के लिए चालान का अभियान केवल सैर-टहल करने वाले सैलानियों तक सीमित है। नैनी झील में नौकायन करने वालों के चालान नहीं किए जा रहे हैं। यहां तक कि सैलानी बोट स्टेंड पर भी मास्क नहीं पहन रहे हैं। इस पर चालान कर रहे एक पुलिस उप निरीक्षक ने माना कि सैलानी नौका स्टेंड पर फोटो खिंचवाने के लिए मास्क उतार रहे हैं। वहीं नैनी झील में नौकायन कर रहे सैलानियों को मास्क न पहनने पर चालान करने की पुलिस के पास कोई व्यवस्था नहीं है। कहना गलत न होगा कि नैनी झील में नौकायन के दौरान भी अन्य न सही नौका चालक बाहरी सैलानियों से कोरोना संक्रमित हो सकते हैं, और नगर में कोरोना के प्रसार का कारण बन सकते हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : बिना जांच कराए भी नैनीताल पहुंच रहे हैं 12 प्रतिबंधित राज्यों के सैलानी, होटल वाले नहीं दे रहे बिना जांच कमरे, फिर भी निकला बीच का रास्ता

नवीन समाचार, नैनीताल, 05 अप्रैल 2021। उत्तराखंड सरकार ने बिना कोविद-19 की जांच के 12 राज्यों से लोगों का प्रदेश में आना प्रतिबंधित किया हुआ है, फिर भी अनेक सैलानी बिना जांच के मुख्यालय पहुंच रहे हैं। अच्छी बात यह है कि यहां कई होटल वाले ऐसे बिना जांच कराए पहुंच रहे सैलानियों को अपने होटलों में नहीं रख रहे हैं। वहीं इस बीच चिकित्सालय प्रबंधन की ओर से बीच एक और बीच का रास्ता निकाला गया भी नजर आ रहा है। सैलानियों-लोगों को सिम्पट्स यानी लक्षणों के आधार पर, कोरोना के लक्षण न दिखने पर उनका तापमान लेकर तत्काल ही पर्ची पर ही मुहर लगाकर कोरोना निगेटिव की रिपोर्ट दे दी जा रही है। गत दिनों ऐसी ही मुहर लगी रिपोर्ट स्कूली बच्चों को भी दी गई। गौरतलब है कि पिछले दिनों बहुत से लोगों में बिना लक्षणों के भी कोरोना का संक्रमण होने की पुष्टि हुई थी। ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि स्वास्थ्य विभाग कहीं जनसामान्य के स्वास्थ्य से खिलवाड़ तो नहीं कर रहा है। वहीं पीएमएस डॉ. केएस धामी ने कहा कि मंगलवार से कोरोना की जांच नए सिरे से तेज की जाएगी।

रविवार को दोपहर में एक समय में बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में आधा दर्जन से अधिक सैलानियांे का एक समूह पहुंचा था। उन्होंने बताया कि वह रास्ते में ठीक से जांच न होने के कारण बिना जांच के यहां आ गए थे। किंतु होटल वालों ने उन्हें ठहराने से इंकार कर दिया। उन्हें जांच कराकर आने को कहा गया। इस पर वह बीडी पांडे जिला चिकित्सालय आए और यहां जांच करवायी, जिसमें उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई है। इसके बाद वह होटल जा रहे हैं। इस पर पता चला कि उन्हें मुहर लगी रिपोर्ट ही दी गई। इस बारे में पूछे जाने पर नैनीताल होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष दिनेश साह ने प्रशासन की जांच प्रक्रिया पर सवाल उठाते हुए होटलों द्वारा बरती जा रही सावधानी की प्रशंसा की। साथ ही बताया कि नगर में सैलानियों की भीड़भाड़ पूरी तरह से छंट गई है।

यह भी पढ़ें : मास्क न पहनने पर चालान से बचने के लिए आईएएस भाई की धमकी देने लगी महिला

नवीन समाचार, नैनीताल, 22 नवम्बर 2020। कोरोना किसी की पद प्रतिष्ठा नहीं देखता। फिर भी लोग कोरोना के दोबारा बढ़ते खतरे के बावजूद मास्क नहीं पहन रहे और आपस में तय दूरी भी नहीं रख रहे। ऐसे में दिल्ली में जहां मास्क न पहनने पर दो हजार रुपए के जुर्माने व 10 घंटे की अस्थाई जेल की सजा दी जा रही है, वहीं दिल्ली के सैलानी पहाड़ पर आकर यहां भी कोरोना को बढ़ाने में अपना योगदान दे रहे हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत पहले ही प्रदेश में कोरोना के दुबारा बढ़ने के लिए दिल्ली के हालातों को जिम्मेदार बता चुके हैं।
रविवार को नगर के तल्लीताल में पुलिस ने एक उत्तम नगर नई दिल्ली निवासी शालिनी नाम की सैलानी महिला को बिना मास्क के देखने पर उसका 200 रुपए का चालान करना चाहा तो वह अपने भाई को आईएएस व अन्य रिश्तेदारों के भी बड़े पदों पर होने का रौब गांठने लगी। यही नहीं वह अपना वीडियो चैनल बताकर चालान कर रहे पुलिस कर्मियों का वीडियो बनाते हुए कहने लगी कि उसे सारे कानून पता हैं। वह पुलिस कर्मियों को बदनाम कर देगी। अलबत्ता पुलिस ने उसका 200 रुपए का चालान कर दिया। तल्लीताल थाना प्रभारी विजय मेहता ने बताया कि राज्य में पहली बार मास्क न पहनने पर 200 रुपए तथा अगली बार में 500 रुपए के चालान का प्राविधान है।

 

Leave a Reply