मां दुर्गा की शोभायात्रा में बर्षों बाद मशहूर शायर इकबाल के शब्द हुए साकार

-जुम्मे की नमाज संग नजर आया धार्मिक सद्भाव का बेमिसाल नजारा -शुक्रवार को शोभायात्रा के उपरांत देर शाम नैनी सरोवर

Read more

जानें, क्या है सोलह श्राद्धों का महत्व

दामोदर जोशी ‘देवांशु’, हल्द्वानी, 29 सितम्बर 2018। श्राद्ध, श्रद्धा का वार्षिक अनुष्ठान है। अपने पितरों के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करने

Read more

साफ-सफाई का सन्देश देता ‘खतडु़वा’ आया, सर्दियां लाया

-विज्ञान व आधुनिक बौद्धिकता की कसौटी पर भी खरा उतरता है यह लोक पर्व, साफ-सफाई, पशुओं व परिवेश को बरसात

Read more

काशीपुर के गौविषाण किला परिसर को राष्ट्रीय धरोहर घोषित करने के आदेश

-राज्य में स्थित प्राचीन स्मारकों व पुरातात्विक क्षेत्रों से अतिक्रमण हटाने व अनधिकृत निर्माणों पर रोक लगाने के निर्देश -इंटेक’

Read more

कुमाऊं में परंपरागत तौर पर ‘जन्यो-पुन्यू’ के रूप में मनाया जाता है रक्षाबंधन

वैश्वीकरण के दौर में लोक पर्व भी अपना मूल स्वरूप खोकर अपने से अन्य बड़े त्योहार में स्वयं को विलीन

Read more

स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता का लोकपर्व घी-त्यार, घृत संक्रांति, ओलगिया…

प्रकृति एवं पर्यावरण से प्रेम व उसके संरक्षण के साथ ही अभावों में भी हर मौके को उत्साहपूर्वक त्योहारों के

Read more

177 साल के नैनीताल में कुमाउनी रेस्टोरेंट की कमी हुई पूरी

-पूरी तरह कुमाउनी थीम पर स्थापित किया गया है 1938 में स्थापित अनुपम रेस्टोरेंट -अब यहां लीजिये कुमाउनी थाली के

Read more

सदियों पुरानी सांस्कृतिक विरासत है कुमाउनी शास्त्रीय होली

रामलीला कमेटी हल्द्वानी के व्यास पंडित गोपाल दत्त भट्ट जी के अनुसार इस बार होली के लिए चीर बंधन 26

Read more

जानें कुमाऊं-उत्तराखंड में कैसे मनाई जाती है बसंत पंचमी

कुमाऊं में ‘श्री पंचमी’, ‘सिर पंचमी’ व ‘जौं पंचमी’ के रूप में मनायी जाती है बसंत पंचमी सभी मित्रों को

Read more

कुमाऊं का लोक पर्व ही नहीं ऐतिहासिक व सांस्कृतिक ऋतु पर्व भी है घुघुतिया-उत्तरायणी

1921 में इसी त्योहार के दौरान बागेश्वर में हुई प्रदेश की अनूठी रक्तहीन क्रांति, कुली बेगार प्रथा से मिली थी

Read more

आस्था के साथ ही सांस्कृतिक-ऐतिहासिक धरोहर भी हैं ‘जागर’

इस तरह ‘जागर’ के दौरान पारलौकिक शक्तियों के वसीभूत होकर झूमते हें ‘डंगरिये’ कुमाऊं के जटिल भौगोलिक परिस्थितियों वाले दुर्गम

Read more

कुमाउनी समग्र

कुमाउनी समग्रः चंद शासन काल में राजभाषा रही कुमाउनी, गढ़वाली व जौनसारी सहित उत्तराखंड की समस्त लोक भाषाओं को उनकी पहचान लौटाने

Read more

गोल्ज्यू धाम पुटगांव में 36 दिवसीय साधना में लीन हुए सत्य साधक गुरुजी

लोक मंगल की कामना को लेकर गुरु जी ने शुरू की मां बगलामुखी जी की साधना पुटगांव-भीमताल, 10 अक्टूबर 2018।

Read more

बिन पटाखे, कुमाऊं में ‘च्यूड़ा बग्वाल’ के रूप में मनाई जाती थी परंपरागत दीपावली

-कुछ ही दशक पूर्व से हो रहा है पटाखों का प्रयोग -प्राचीन लोक कला ऐपण से होता है लक्ष्मी का

Read more

राजुला-मालूशाही और उत्तराखंड की रक्तहीन क्रांति की धरती, कुमाऊं की काशी-बागेश्वर

पौराणिक काल से ऋषि-मुनियों की स्वयं देवाधिदेव महादेव को हिमालय पुत्री पार्वती के साथ धरती पर उतरने के लिए मजबूर

Read more
Loading...