नैनीताल के बेटे के नेतृत्व में सिक्किम की अनछुवी चोटी को छूने निकले आईटीबीपी के 34 जांबाज

सिक्किम की अनछुवी हिमालयी चोटी के लिए दल नायक डिप्टी कमांडेंट परीक्षित साह को ध्वज प्रदान कर रवाना करते आईटीबीपी के डीआईजी केडी द्विवेदी।

नैनीताल, 14 2018। भारत तिब्बत सीमा पुलिस के 34 पर्वतारोहियों का एक दल शुक्रवार को सिक्किम के लिंगडुम, गैंगटॉक से अब तक किसी के द्वारा भी फतह न की जा सकी 6,270 मीटर ऊंची चोटी को छूने के लिए निकला है। खास बात यह है कि इस ’ईस्टर्न फ्रंटियर माउंटेनियरिंग एक्सपेडीशन-आईटीवीपी विजय’ दल का नेतृत्व नैनीताल निवासी आईटीबीपी के डिप्टी कमांडेंट परीक्षित साह कर रहे हैं। साथ ही इस दल में नैनीताल के एक अन्य पर्वतारोही सुमित साह भी हैं। आईटीबीपी के डीआईजी केडी द्विवेदी ने उन्हें आईटीबीपी का ध्वज प्रदान कर इस बेहद कठिन मिशन के लिए रवाना किया है। दल के सदस्यों को इस मिशन के लिए उत्तराखंड के ऑली में पिछले 30 दिनों से कड़ा प्रशिक्षण दिया जा रहा था। बताया गया है कि पूर्वी हिमालय की यह चोटी तकनीकी रूप से अत्यंत कठिन प्राकृतिक चोटी है।
उल्लेखनीय है कि परीक्षित नगर के सेंट जोसफ कॉलेज के छात्र रहे हैं, और वर्तमान में आईटीबीपी की हल्दूचौड़ यूनिट में कार्यरत हैं। उनके दादा स्वर्गीय पूरन लाल साह नगर के अपने समय के अच्छे खिलाड़ी और ‘रेंजर साहब’ के नाम प्रसिद्ध रहे हैं।

यह भी पढ़ें : देश-दुनिया में नाम कमा पहाड़ के लिए काम कर रहे पहाड़ के बेटे

राष्ट्रीय सहारा, 14 दिसम्बर 2017

अंडर द स्काई का पार्ट-2 भी उत्तराखंड में फिल्माएंगे डा. एहसान

नवीन जोशी, नैनीताल। कम ही लोग होते हैं जो अपने घर से दूर, दुनिया में प्रसिद्ध होते हैं, लेकिन बाद में घर लौटकर अपनी प्रतिभा का लाभ अपनी मिट्टी को दिलाते हैं। उत्तराखंड के पिथौरागढ़ से निकलकर मुंबई फिल्म उद्योग में देश-दुनिया में अनेक फिल्म फेस्टिवल में आखिरी मुनादी व अंडर द स्काई जैसी अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार विजेता स्तर की फिल्म बनाने तथा छोटे पर्दे पर ससुराल सिमर का, प्रतिज्ञा व माता की चौकी जैसे चर्चित शो लिख कर नाम कमाने वाले प्रदेश के बेटे, राष्ट्रीय नाटय़ विद्यालय से स्नातक व उत्तराखंड के इतिहास विषय में पीएचडी की डिग्री प्राप्त डा. एहसान बख्श फिर उत्तराखंड में काम करने जा रहे हैं। उत्तराखंड के बच्चों को ही लेकर उत्तराखंड में ही बनायी गयी फिल्म अंडर द स्काई को देश के साथ ही दुनिया के फिल्म मेलों में मिली अपार सफलता से उत्साहित एहसान एक बार फिर उत्तराखंड के बच्चों को लेकर इसी फिल्म का पार्ट-2 बनाने जा रहे हैं।

मुख्यालय में 15 से 17 अप्रैल 2017 के बीच नैनीताल में आयोजित देश के पहले स्टूडेंट फिल्म फेस्टिवल-कौतिक में पहुंचे एहसान ने यह खुलासा किया। बताया कि उनकी उत्तराखंड में ही फिल्माई गयी फिल्म ‘आखिरी मुनादी’ देश के साथ ही दुनिया के फ्रांस, इटली, जर्मनी, पोलेंड व रोम आदि के 14 अंतराष्ट्रीय फिल्म मेलों में नामांकित और दिखाई गयी। वहीं ‘अंडर द स्काई’ भी दुनिया के सबसे बड़े बच्चों की फिल्मों के मेले हॉलेंड के सिनेकिड और चेकोस्लोवाकिया के जिलीन तथा भारत के राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव में दिखाई गयी, तथा उत्तराखंड में एक लाख बच्चों ने यह फिल्म देखी। इसकी सफलता को देखकर वे बच्चों के द्वारा पहाड़ के पर्यावरण व जंगलों को बचाने के संदेश के साथ इस फिल्म का दूसरा भाग शीघ्र फिल्माने जा रहे हैं। इसके लिए शीघ्र पहाड़ के बच्चों के ऑडीशन लिये जायेंगे।

एक साथ दो ‘यूके’ में दिखाई जाएगी हेमंत व चारु की फिल्म-बद्री-द क्लाउड, पार्ट-टू कुमाऊं में बनेगी 

नैनीताल। बड़े पर्दे पर कृष जैसी मल्टी स्टारर फिल्म और छोटे परदे पर ऑफिस-ऑफिस से चर्चित हुए ‘पांडे जी’ यानी प्रदेश के पिथौरागढ़ निवासी हेमंत पांडे और हालिया प्रदर्शित ऐतिहासिक शाहकार-मोहनजोदारो में दिखे नैनीताल निवासी कलाकार चारु तिवारी की फिल्म बद्री-द क्लाउड आगामी 21 अप्रैल को एक साथ एक सुंदर संयोग के साथ दो यूके, उत्तराखंड और यूनाइटेड किंगडम में एक साथ दिखने जा रही है। इसके साथ ही इस फिल्म के पार्ट-टू का खाका भी खींच लिया गया है। खास बात यह भी होगी जहां इस फिल्म का पहला संस्करण प्रदेश के गढ़वाल मंडल में फिल्माया गया था, वहीं दूसरा संस्करण ‘बद्री-द मिस्ट’ कुमाऊं मंडल में फिल्मायी जाएगी। फिल्म के कलाकार हेमंत पांडे व निर्माता-निर्देशन संजय सिंह ने सोमवार को राष्ट्रीय सहारा को बताया कि बद्री-द क्लाउड 21 को उत्तराखंड में के साथ यूनाइटेड किंगडम के छह सिनेमाघरों प्रदर्शित की जाएगी। पहली फिल्म की तरह ही दूसरी बद्री में भी हेमंत उत्तराखंड घूमने आये युवाओं के साथ गाइड की भूमिका में होंगे। फिल्म में कुमाऊं के नैनीताल, अल्मोड़ा, कौसानी, रानीखेत, पिथौरागढ़ व मुनस्यारी आदि पर्यटक स्थलों की खूबसूरती को उकेरा जाएगा। उत्तराखंड फिल्म विकास बोर्ड के उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी भी संभाल रहे हेमंत ने कहा कि वे नये मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत से एक बार मिल चुके हैं। आगे बोर्ड के कायरे पर नयी सरकार को निर्णय लेना है।

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

Leave a Reply

%d bloggers like this: