Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

नैनीताल के हरदा बाबा-अमेरिका के बाबा हरिदास

Spread the love
बाबा हरी दास (हरदा बाबा)

सरोवरनगरी नैनीताल का साधु-संतों से सदियों से, वस्तुतः अपनी स्थापना से ही अटूट रिस्ता रहा है। इस नगर का पौराणिक नाम ‘त्रिऋषि सरोवर’ ही इसलिये है, क्योंकि इसकी स्थापना सप्तऋषियों में गिने जाने वाले तीन ऋषियों (लंकापति रावण के पितामह महर्षि पुलस्त्य के साथ ब्रह्मा पुत्र अत्रि व पुलह) ने की थी। आगे भी यहां समय-समय पर तिगड़ी बाबा, नान्तिन बाबा, लाहिड़ी बाबा, पायलट बाबा, हैड़ाखान बाबा, सोमवारी गिरि बाबा व नीब करौरी बाबा जैसे संतों के कदम पड़ते रहे, और यह स्थान इन ‘सप्तऋषियों’ की भी तपस्थली रहा। नगर के हनुमानगढ़ी के बारे में कहा जाता है कि यहां स्थित अंजनी मंदिर में बहुत पहले कोई सिद्ध पुरुष आये थे, और उन्होंने कहा था कि एक दिन यहाँ अंजनी का पुत्र आएगा। उनकी बात 1935-38 में बाबा नींब करौरी (अपभ्रंस बाबा नीम करौली) के रूप में विख्यात हुए बाबा घनश्याम दास के चरण-पद पड़ने के साथ सत्य साबित हुई। बाबा नीब करौरी ने यूं अपने गुरु सोमबारी बाबा की तपस्थली काकड़ीघाट के निकट कैंची धाम क्षेत्र में धूनी रमाई, लेकिन नैनीताल और हनुमानगढ़ी भी उनके श्रद्धा के केंद्र रहे। यहीं हनुमानगढ़ी में संत लीला शाह ने भी तपस्या की, और यहीं एक अन्य दिव्य पुरुष का भी आविर्भाव हुआ, जिन्हें नैनीताल के पुराने लोग हरदा बाबा के नाम से जानते हैं, लेकिन वे सात समुद्र पार अमेरिका सहित पूरी दुनिया में अपने लाखों भक्तों में बाबा हरिदास और छोटे महाराजजी के रूप में अधिक विख्यात हैं।

अमेरिका में बाबा हरि दास 

हमारे हरदा बाबा और दुनिया के बाबा हरिदास यानी छोटे महाराज जी आज भी 94 वर्ष की आयु में अमेरिका के कैलीफोनियां स्थित माउंट मडोना सेंटर में दुनिया भर के लोगों में अष्टांग योग के साथ ही महर्षि पतंजलि के आर्युवेद, कर्म योग, राज योग, क्रिया योग, हठयोग, समाख्या, तंत्र योग, वेदांत दर्शन और संस्कृत के गुरु के रूप में विश्व प्रसिद्ध हैं। वे वर्षों से मौन व्रत लिए हुए हैं, और सीटी बजाकर तभा विभिन्न भाषाओं में लिखकर अपने विचार रखते हैं। बावजूद उन्हें दुनिया भर में हिंदू धर्म का प्रसार करने के लिये जाना जाता है। अमेरिका में हर वर्ष वे रामायण का पाठ भी करवाते हैं। वे हरिद्वार में श्री राम ऑरफॉनेज यानी अनाथाश्रम, हनुमान फेलोशिप, धर्म सार, साल्ट स्प्रिंग सेंटर वेंकुवर-अमेरिका, अष्टांग योगा सेंटर, माउंट मडोना इंस्टीट्यूट व माउंट मडोना स्कूल के संस्थापक भी हैं। मां रेनु, आनंद दास, ग्रेगरी बाटेसन, टॉम हारपर, स्टीफन लेविन, जैक कॉर्नीफील्ड, भगवान दास, रामदास, जेनी पार्वती, मिशेल टिएरा, प्रेम दास, महामंडलेश्वर स्वामी शंकरानंद व डा. वसंत लाद सहित उनके शिष्यों की लंबी श्रृंखला है।

नैनीताल में हरदा बाबा 

हरदा बाबा मूलतः अल्मोड़ा के रहने वाले है। चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की रामनवमी एवं अंग्रेजी कलेंडर के अनुसार 26 मार्च 1923 को जन्मे हरदा बाबा का वास्तविक नाम हरी दत्त कर्नाटक है। 1950 के दशक में वे नैनीताल में वन विभाग में कार्यरत रहे। इस दौरान वे तल्लीताल बाजार में रहते थे। बाद में वे चीनाखान लाइन में भी रहे। यह वह दौर था जब बाबा नींब करौरी कैंची और हनुमानगढ़ी में (1952 से 1955 के बीच) मंदिरों का निर्माण कर रहे थे। कहते हैं कि बाबा नीब करौरी के संपर्क में आने के बाद हरदा उनके सबसे निकटस्थ सहयोगी रहे, और उनकी देखरेख में ही कैंची में आश्रम एवं नैनीताल के हनुमानगढ़ी में मूल मंदिर (खासकर 1952 में छोटे हनुमान मंदिर का निर्माण, कहते हैं कि बाल हनुमान की मूर्ति का निर्माण हरदा ने ही किया था) एवं मंदिर के बाहर भरत मंदिरों का निर्माण हुआ था। बताते हैं कि हरदा बाबा कैंची आश्रम में मंदिरों के निर्माण के दौरान रोज सुबह नैनीताल से पैदल कैंची जाते थे, और शाम को लौटते थे। जबकि हनुमानगढ़ी में मंदिर के निर्माण के दौरान वे वहीं रहने लगे थे। हालांकि बाद में उन्होंने किसी कारण बाबा नींब करौरी से दूरी भी बना ली थी। यहीं से अनेकों अंग्रेज श्रद्धालु उनके भक्त हो गऐ थे, और 1971 में उन्हें अपने साथ अमेरिका ले गये। जहां उन्होंने कैलीफोनियां के माउंट मडोना में अपना ध्यान केंद्र-आश्रम स्थापित किया।

नैनीताल की यादें 

नैनीताल में उनकी यादों को याद करते हुए लोगों ने बताया कि वे पैरों में जूते-चप्पल नहीं अलबत्ता कभी-कभी लकड़ी के खड़ाऊ पहनते थे। वे अविवाहित थे, किंतु बच्चों से उन्हें बेहद लगाव था। वे नगर के बच्चों को नैनी झील में तैरना भी सिखाते थे। वे स्वयं अन्न ग्रहण नहीं करते थे, परंतु अपनी कुटिया में बच्चों को बहुत स्नेह से भोजन कराते थे। बच्चों से इसी अगाध स्नेह के चलते आगे उन्होंने हरिद्वार में श्रीराम अनाथालाय की स्थापना की, जहां अब भी दर्जनों माता-पिता विहीन बच्चों को उनका प्यार-दुलार प्राप्त होता है, और यह आश्रम सैकड़ों अनाथ बच्चों का घर है। हरिद्वार में उन्होंने श्रीराम के नाम पर अस्पताल व स्कूल भी खोले।

बचपन-युवावस्था 

हरदा से जुड़े साहित्य के अनुसार वे बचपन से ही भक्ति, आस्था व श्रद्धा में रमे हुए थे। बचपन से ही वे संत सोमबारी बाबा, गुदड़ी बाबा, सूरी बाबा, खाकी बाबा, औघड़ बाबा व हैड़ाखान बाबा सहित अनेक सिद्ध योगियों की कहानियां सुनते थे। कहानियां शीघ्र ही आंखों के सामने से होकर भी गुजरने लगीं। 1929 में जब से मात्र छह साल के ही थे, तभी उन्हें पिता के साथ हल्द्वानी आते हुए काकड़ीघाट में परमानंदजी महाराज भी कहे जाने वाले सोमबारी बाबा के दर्शन हो गए थे, जिनके दर्शन मात्र से उनमें आत्मिक ऊर्जा का संचार हुआ। लेकिन इसके एक वर्ष के बाद ही उनके पिता का देहान्त हो गया। इस दौरान वे अपनी मां से ईश्वर, आत्मा और मोक्ष पर अपनी शंकाओं का समाधान करने लगे और जल्द ही आठ वर्ष की उम्र में एक दिन उन्होंने अपनी मां से विदा ले ली, और ब्रह्मचर्य व्रत ले लिया। इसी दौरान 14 वर्ष की उम्र में उन्होंने कुछ विदेशी युवकों को सन्यास लेते हुए देखा और स्वयं भी हठ योग, राजयोग, सत्कर्म, मुद्रा और संस्कृत आदि की शिक्षा लेते हुए सन्यास लेने का निश्चय कर लिया। आगे 1942 में 19 वर्ष की उम्र में उन्होंने वैरागी त्यागी वैष्णव परंपरा के रामानंदी संप्रदाय के बाबा रघुवर दासजी महाराज से सन्यास की दीक्षा ले ली। 1952-53 की सर्दियों में उनकी एक श्मशान घाट के पास गुफा में हैड़ाखान बाबा से मुलाकात हुई। हरदा बाबा बताते हैं कि उनका हाथ आग में चला गया था, तब हैड़ाखान बाबा ने उनका हाथ आग से हटाया था। 1952 में ही हरदा बाबा ने मौन व्रत ले लिया था। 1964 के दौरान हरदा नैनीताल में योगी भगवान दास और 1967 में साधु राम दास के संपर्क में आये, और बाद में अमेरिका चले गये। एक संदर्भ के अनुसार हरदा बाबा मंदिरों और देवी-देवताओं के निर्माण में भी प्रवीण थे। उन्होंने 1950 से 1964 के बीच कैंची आश्रम और हनुमानगढ़ी के साथ ही सोमबारी बाबा के काकड़ीघाट आश्रम में मंदिरों का निर्माण किया, और आगे फरवरी 1982 में अमेरिका के मडोना सेंटर में आग से ध्वस्त हुए भवन का जीर्णोद्धार कर अपने केंद्र की स्थापना की।

नैनीताल में 2004 से 2008 के बीच रहे एक अन्य बाबा महा अवतारजी के बारे में यहां से जानें @ http://www.mahaavtarbabaji.org/

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

One thought on “नैनीताल के हरदा बाबा-अमेरिका के बाबा हरिदास

Leave a Reply