Crime

शर्मनाक: नाम-धर्म बदलकर शादी के धोखे में बनाए शारीरिक संबंध, अब वीडियो वायरल करने की धमकी देकर दोस्तों से भी संबंध बनाने को बना रहा दबाव

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 11 अप्रैल 2021। रुद्रपुर के आदर्श कालोनी निवासी एक युवक ने अपनी कॉलोनी का ‘आदर्श’ नाम गलत साबित कर दिया है। इस युवक पर आरोप है कि उसने अपना धर्म बदलकर एक युवती का तीन साल तक शारीरिक शोषण किया। साथ ही उसकी अश्लील वीडियो और फोटो भी बनाई। आरोप यहां तक है कि अब वह युवती पर उसके दोस्तों से भी शारीरिक संबंध बनाने का दबाव बना रहा है, और ऐसा न करने पर उसकी अश्लील वीडियो और फोटो वायरल करने की धमकी दे रहा है। इस मामले में पीड़िता ने विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं के साथ कोतवाली पहुंचकर पुलिस से आरोपित के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
रविवार को विहिप कार्यकर्ता कोतवाली पहुंचे और एसएसआई सतीश कापड़ी को तहरीर सौंपी। उनका कहना था कि आरोपित युवक ने शहर की एक युवती से तीन साल पहले अपना नाम और धर्म बदलकर दोस्ती की, और बाद में शादी का झांसा देकर उससे शारीरिक संबंध बनाए और इसकी अश्लील वीडियो बनाकर अपने दोस्तों को भी दे दी। इधर गत पांच अप्रैल को युवती कहीं जा रही थी। तभी आरोपित ने उसे रास्ते में रोक लिया और अश्लील वीडियो दिखाते हुए जबरन ले जाने लगा। इसी बीच युवती का भाई भी आ गया। युवती ने अपने भाई को बताया कि उसके पास उसकी अश्लील वीडियो है। जब उसने मोबाइल छिनने का प्रयास किया तो आरोपित वीडियो वायरल करने की धमकी देकर फरार हो गया। पीड़ित पक्ष और विहिप कार्यकर्ताओं ने आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। एसएसआई सतीश कापड़ी ने जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन दिया। इस मौके पर विहिप के जिला सुरक्षा प्रमुख अनिल गंगवार, राकू, अनूप, विशाल यादव, रजत दीक्षित, गौरव कुमार, गौरव चौधरी आदि थे।

यह भी पढ़ें : चार साल तक साथ रह शारीरिक शोषण कर रहा था युवक, शादी की बात पर हुआ दूसरे धर्म का होने का खुलासा, बना रहा धर्म परिवर्तन का दबाव

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 16 मार्च 2021। हल्द्वानी के मुखानी क्षेत्र में किराए का कमरा लेकर रहने वाली एक युवती ने एक युवक पर चार साल से शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने का आरोप लगा है। यह भी बताया कि युवक से जब शादी करने को कहा गया तो उसने खुलासा किया कि वह उसके धर्म का नहीं है। युवती का आरोप है कि युवक और उसके परिजन अब उस पर धर्म परिवर्तन का दबाव बना रहे हैं। ऐसा न करने पर उसे जान से मारने की धमकी भी दी जा रही है। कोतवाली पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर दिया है।
युवती ने पुुलिस को बताया कि युवती ने बताया कि उसकी मां की मौत काफी पहले हो गई थी। पिता ने दूसरी शादी की है। इस कारण वह अकेली रहती है। इन स्थितियों का फायदा उठाकर सोनू नाम का युवक नजदीकियां बढ़ाकर उसके साथ चार साल से रह रहा था। उसने शादी करने का झांसा दिया था। इस बीच युवक ने उसके साथ कई बार शारीरिक संबंध भी बनाए थे। इधर युवक के परिवार वाले भी उससे शादी करने के लिए राजी हो गए थे। इधर युवती ने जब शादी की बात कही तो कथित सोनू ने कहा कि वह हिंदू नहीं है। उसका नाम रिजवान है और वह ऊधमसिंह नगर जिले के केलाखेड़ा बाजपुर का रहने वाला है। कुछ दिन पहले रिजवान ने घर में घुसकर उसके साथ मारपीट भी की। कोतवाली पुलिस ने धारा 376(2) एन 323, 504, 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। विवेचक उपनिरीक्षक दीपा जोशी ने पीड़िता का मेडिकल परीक्षण कराया है। इधर, सीओ भूपेंद्र सिंह धोनी का कहना है कि दोनों एक दूसरे को चार साल से जानते हैं। लव जेहाद का मामला प्रतीत नहीं हो रहा है। पुलिस इस मामले में विवेचना कर सख्त कार्रवाई करेगी।

यह भी पढ़ें : युवक ने युवती के परिजनों पर जताई धर्म परिवर्तन कराकर जबरन शादी कराने या झूठा फंसाने की आशंका

नवीन समाचार, काशीपुर, 10 जनवरी 2021। शहर के मोहल्ला टांडाउज्जैन निवासी एक युवक ने रविवार को कोतवाली पुलिस व अपर पुलिस अधीक्षक काशीपुर को तहरीर देकर आरोप लगाया है कि दूसरे संप्रदाय की उसकी पूर्व सहकर्मी के परिवार वाले उसका धर्म परिवर्तन करा कर युवती से उसकी शादी करवाना चाहते हैं। युवक ने आशंका जताई है कि युवती के स्वजन कभी भी उसे झूठे केस में फंसा सकते हैं। युवक ने कोतवाली पुलिस से कार्रवाई की मांग की है।
युवक का कहना है कि वह जून 2018 में एक निजी कंपनी में काम करता था। उसी दौरान नगर निवासी एक युवती से उसकी जान-पहचान और फिर दोस्ती हो गई। युवती की गरीबी को देखते हुए समय-समय पर वह उसकी पैसे इत्यादि से मदद किया करता था। इधर लॉकडाउन के दौरान उसकी नौकरी छूट गई। 31 दिसंबर 2020 की शाम लगभग सात बजे युवती उसके घर आ गई और कहने लगी कि वह उसे कहीं ले चलो वरना वह आत्महत्या कर लेगी। इसके बावजूद वह युवती के काफी जिद करने पर उसे मात्र रोडवेज बस अड्डे के पास स्थित एक होटल में ले गया। और उसके परिजनों को सूचना देकर उसे उसके घर भेज दिया। फिर भी उसे आशंका है कि युवती के परिजन उसे किसी झूठे मामले में फंसा सकते हैं। इस मामले में यह बात भी प्रकाश में आ रही है कि युवती के परिजन युवक के खिलाफ युवती का उत्पीड़न करने के आरोप मंे पुलिस को तहरीर दे सकते हैं।

यह भी पढ़ें : कुणाल शर्मा बनकर ताहिर हुसैन ने मंदिर में की युवती से शादी, अब धर्म परिवर्तन कर निकाह करने का बना रहा दबाव, लव जेहाद से इंकार कर रही यूपी पुलिस..

शाहिद अंसारी @ नवीन समाचार, बरेली, 02 दिसम्बर 2020। योगी सरकार के उत्तर प्रदेश में लव जेहाद पर कानून लाते ही पहला मामला बरेली में दर्ज हुआ और पहले मामले को दर्ज हुए अभी 24 घंटा का समय भी नही बीता था कि एक और नया लव जेहाद का ताजा मामला प्रकाश में आ गया है। इस मामले में दूसरे धर्म के युवक ने अपने नाम और धर्म को छिपा कर एक युवती से मंदिर में विवाह कर उसकी आबरू लूट ली और अब उस पर धर्म परिवर्तन कर निकाह करने का दबाव बना रहा था। पुलिस ने इस मामले में मुकदमा तो दर्ज कर लिया है पर पुलिस अन्जान कारणांे से लव जिहाद से इंकार कर रही है। पुलिस का कहना है कि दोनों पुराने परिचित हैं। लड़की अब शादी से इंकार कर रही है। मुकदमा दर्ज होने के बाद अब साक्ष्यों के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। आरोपित लड़के को गिरफ्तार कर लिया गया है।
योगी सरकार ने लव जेहाद के मामले पर अंकुश लगाने के लिए लव जेहाद के खिलाफ सख्त कदम उठाया है, लेकिन बरेली में लव जेहाद के एक के बाद एक मामले प्रकाश में आ रहे हैं। लव जेहाद कानून आने के बाद आये शहर और प्रदेश के दूसरे मामले में शहर के इज्जतनगर थाना क्षेत्र की एक युवती को दूसरे धर्म के युवक ने अपना नाम कुणाल बता कर पहले अपने प्यार के झांसे में लिया और फिर उससे मंदिर में शादी भी की। जब युवती गर्भवती हुई तो उसका जबरदस्ती गर्भपात करवा दिया। युवती ने इसका विरोध किया तो उसके साथ मारपीट की और अपना नाम ताहिर हुसैन बताया, तथा युवती से धर्म परिवर्तन कर निकाह करने का दबाव बनाना शुरू कर दिया। युवती के अनुसार ताहिर अपने आप को हिंदू धर्म का बताता था और उसके साथ मंदिर भी जाता था। उसने अपना नाम कुणाल शर्मा बताते हुए उसके साथ धोपेश्वरनाथ मंदिर में शादी भी की।

देखें विडियो :

युवती का आरोप है कि अब ताहिर उस पर धर्म परिवर्तन कर निकाह करने का दबाव बना रहा है, और ऐसा न करने पर उसको जान से मारने की धमकी भी दे रहा है। युवती न्याय के लिए पुलिस की शरण मे गई तो वहां भी हल्की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया। वहीं एसपी सिटी रवींद्र कुमार इस मामले को लव जेहाद का होने से भी इंकार कर रहे हैं। गौरतलब है कि प्रदेश में कुछ दिनों की अगर बात करें तो लव जेहाद के मामलों की बाढ़ सी आ गई है। सरकार लव जेहाद पर कानून तो ले आई है लेकिन लव जेहाद पर अंकुश लगाने के लिए कड़ी मशक्कत की जरूरत है। ताहिर सहित चार परिवार जनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

यह भी पढ़ें : देश में ‘लव जिहाद’ पर छिड़ी बहस के बीच उत्तराखंड सरकार अंतरधार्मिक विवाहों पर देगी 50 हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि !

नवीन समाचार, टिहरी/देहरादून, 22 नवम्बर 2020। देश में ‘लव जिहाद’ पर छिड़ी बहस के बीच जहां भारतीय जनता पार्टी की मध्य प्रदेश तथा हरियाणा की सरकारें कड़े कानून बना रही हैं, वहीं उत्तराखंड सरकार का एक विवादित आदेश चर्चाओं में है। राज्य के टिहरी जनपद के समाज कल्याण अधिकारी दीपांकर घिल्डियाल ने 18 नवंबर 2020 को जारी एक ‘प्रेस नोट’ में कहा है कि ‘राष्ट्रीय एकता की भावना को जागृत रखने और सामाजिक एकता को बनाए रखने के लिए अंतरजातीय तथा अंतर धार्मिक विवाह काफी सहायक सिद्ध हो सकते हैं… इस प्रकार के विवाह को सक्रिय प्रोत्साहन देने के लिए समाज कल्याण विभाग उत्तराखंड द्वारा अंतरजातीय तथा अंतर धार्मिक विवाह करने वाले दंपत्ति को प्रोत्साहन स्वरूप 50 हजार रुपए प्रदान किए जाते हैं।’
ज्ञातव्य हो कि अंतरजातीय और अंतर धार्मिक विवाह को प्रोत्साहित करने को लेकर वर्ष 1976 में पूर्ववर्ती प्रांत उत्तर प्रदेश में ने ‘उत्तर प्रदेश अंतरजातीय अंतरधार्मिक विवाह प्रोत्साहन नियमावली 1976’ नियमावली बनाई गई थी। इस नियमावली के तहत अंतरजातीय और अंतर धार्मिक विवाह करने वाले दंपति को प्रोत्साहन स्वरूप 10 हजार का रुपये देने की घोषणा की गई थी। वर्ष 2014 में तत्कालीन कांग्रेस की विजय बहुगुणा सरकार ने ‘उत्तर प्रदेश अंतरजातीय अंतरधार्मिक विवाह प्रोत्साहन नियमावली 1976’ के नियम-6 में पुरस्कार की धनराशि को संशोधित कर दिया था। इसके तहत उत्तराखंड में अंतरजातीय और अंतर धार्मिक विवाह करने वाले दंपति को 50 हजार रुपये का पुरस्कार दिए जाने का प्रावधान किया गया था। इसमें शर्त यह है कि वर या वधु में से कोई एक अनुसूचित जाति से होना चाहिए और उनके द्वारा नियमानुसार विवाह कर एक वर्ष के भीतर प्रोत्साहन राशि के लिए आवेदन करना चाहिए। लव जेहाद के बढ़ते प्रकरणों के कारण यह शासनादेश अब समस्या का कारण बन गया है। इस आदेश को लेकर हिन्दूवादी नेता सड़कों पर हैं और राज्य की भाजपा सरकार पर पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार द्वारा ऐसे विवाहों को प्रोत्साहन को बढ़ावा देने की नीति को ही आगे बढ़ाने वाला बता रहे हैं। उनका कहना है कि इस आदेश की आढ़ में अनुसूचित वर्ग की कन्याओं के साथ अंर्तधार्मिक व अंर्तजातीय विवाह बढ़े हैं। बावजूद समाज में किसी तरह का सामाजिक सौहार्द नहीं बढ़ा। यानी यह नियम अपने उद्देश्य की पूर्ति करने की जगह समाज में वैमनस्य बढ़ाने वाला साबित हुआ है।
इस पर बताया जा रहा है कि विवाद बढ़ने पर अब उत्तराखंड सरकार इस शासनादेश से ‘अंतरधार्मिक विवाह’ शब्द हटाने जा रही है। शीघ्र ही इसका शासनादेश जारी होगा।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply

loading...