Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

वन विभाग ने पथरीले पहाड़ पर उगाया ‘हिमालयन बॉटनिकल गार्डन’

तत्कालीन वन वर्धनिक उत्तराखंड मनोज चंद्रन ने 350 हेक्टेयर क्षेत्रफल को केवल 90.5 लाख रुपए से किया सबसे बड़े जीवंत

Read more

एक वर्ष में दो बार खिला उत्तराखंड का यह खास फूल, दिये जलवायु परिवर्तन के खतरनाक संकेत

नवीन जोशी, नैनीताल। उत्तराखंड का राज्य वृक्ष बुरांश इस बार एक ही वर्ष में आश्चर्यजनक तौर पर दो बार खिल

Read more

‘कार्बन न्यूट्रल’ होगा गौलापार हल्द्वानी में प्रस्तावित देश का पहला अंतरराष्ट्रीय चिड़ियाघर

पांच सौ करोड़ की लागत से बनने वाले इस प्राणी उद्यान में आधुनिक अस्पताल भी होगा जहां जानवरों के इलाज

Read more

वट-पीपल बंधे विवाह बंधन में, गांव वाले बने बाराती

धूमधाम से हुआ बरगद व पीपल के पेड़ों का विवाह हल्द्वानी रोड चील चक्कर के पास स्थित शिवालय में हुआ

Read more

प्रधानमंत्री के बाद अब पलायन आयोग से लगाई गुहार, प्रशासनिक व न्यायिक प्रक्रिया पर लगाएआरोप

नैनीताल। प्रशासनिक व्यवस्थाओं से त्रस्त मुख्यालय के टैक्सी वालों ने प्रधानमंत्री के बाद अब पलायन आयोग से गुहार लगाई है।

Read more

बीमार राष्ट्रीय पक्षी को बचाने के लिए बनाया नेबुलाइजर का ‘जुगाड़’

-शेड्यूल एक का प्राणी भारतीय मोर करीब चार दिन से हैं ठंड की वजह से बीमार -नैनीताल चिड़ियाघर में चिकित्सक

Read more

डोलमार में एनएच पर दिखा विशालकाय अजगर, कौतूहल का केंद्र बना

नैनीताल, 12 अक्तूबर 2018। शुक्रवार को जनपद के हल्द्वानी रोड पर मुख्यालय से करीब 25 किमी दूर डोलमार नाम के

Read more

कुमाऊं के पर्वतीय क्षेत्रों में एकल घर बनाने वालों के लिए बड़ी राहत, 5 की जगह केवल 1 फीसद देना होगा शुल्क

राष्ट्रीय व राज्य मार्गों के केवल 200 मीटर के दायरे ही आयेंगे प्राधिकरण के दायरे में 200 मीटर के अंतर्गत

Read more

पक्षी-तितली प्रेमियों का सर्वश्रेष्ठ गंतव्य है पवलगढ़ रिजर्व

उत्तराखंड का नैनीताल जनपद में रामनगर वन प्रभाग स्थित पवलगढ़ रिजर्व पक्षी प्रेमियों के लिए बेहतरीन गंतव्य है। दिल्ली से

Read more

18 सितम्बर 1880 : नैनीताल वालो जरा आँख में भर लो पानी…

वह मनहूस दिन….. ….आधिकारिक तौर पर 18 नवम्बर 1841 को नगर में आये एक अंग्रेज पीटर बैरन द्वारा नगर के

Read more

देवभूमि के कण-कण में देवत्व

आदि गुरु शंकराचार्य का उत्तराखंड में प्रथम पड़ाव: कालीचौड़ मंदिर देवभूमि के कण-कण में देवत्व होने की बात यूँ ही

Read more

‘पेपरलेस’ होने की ओर बढ़ा देश, सभी राज्य विधानसभाएं होंगी ‘पेपरलेस’

कुमाऊं विश्वविद्यालय ‘ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया’ के जरिये हर वर्ष बचायेगा 1785 से अधिक पेड़, परीक्षार्थियों के बचेंगे 2.6 करोड़ रुपये

Read more

नैनी झील एवं नैनीताल नगर के बारे में नगरवासियों की संवेदनशीलता का परीक्षण करने के लिए किया गया एक लघु शोध

यह नैनीताल पर एक लघु शोध प्रबंध है, इसे इस लिंक पर क्लिक कर फॉर्मेट में भी देखा-पढ़ा जा सकता

Read more
Loading...