अब शमी पर उत्तराखंड में आई नयी आफत

ट्रक से टकराई मोहम्मद शमी की कार, सिर में लगी चोट

देहरादून, 25 मार्च 2018। टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी के लिए बीते कुछ दिन किसी बुरे सपने से कम नहीं रहे। शमी की पत्नी ने उन पर व्याभिचार से लेकर मैच फिक्सिंग तक के आरोप लगाए थे। इधर, रविवार को उत्तराखंड में हुई एक कार दुर्घटना में घायल हो गए हैं। इस कार दुर्घटना में उनके सिर पर चोट लगी है, जिसके चलते उनके सिर पर टांके आए हैं। फिलहाल शमी ठीक हैं और देहरादून में हैं। डॉक्टरों ने उन्हें आराम की सलाह दी है। शमी की कार देहरादून से दिल्ली जाते समय आशारोड़ी चेकपोस्ट के पास एक ट्रक से टकरा गई थी।

बता दें कि शमी क्रिकेट प्रैक्टिस के लिए शुक्रवार से देहरादून में थे। वह यहां की अभिमन्यु क्रिकेट अकैडमी में प्रैक्टिस करने आए थे। अपनी क्रिकेट ट्रेनिंग को पूरा कर शमी दिल्ली लौट रहे थे। इस दौरान उनकी कार दुर्घटनाग्रस्त हो गई।

मालूम हो किअभिमन्यु क्रिकेट अकैडमी बंगाल के बल्लेबाज अभिमन्यु ईश्वरन के पिता चलाते हैं। शमी को देहरादून का शांत माहौल काफी पसंद है इसलिए पिछले दिनों उनकी निजी जिंदगी में जो भी उथल-पुथल मची वह उससे उबरने के लिए इस शांत जगह पर आकर अपनी क्रिकेट ट्रेनिंग पूरी कर रहे थे।

मोहम्मद शमी इस बार IPL में दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम से खेलेंगे। अपनी टीम से जुड़ने से पहले वह खुद को शारीरिक और मानसिक रूप से तैयार करने के लिए देहरादून आए थे।

हालांकि बीसीसीआई ने अपनी जांच में शमी को मैच फिक्सिंग के आरोपों में बेगुनाह पाया है और उन्हें उनका कॉन्ट्रैक्ट सौंप दिया है। बोर्ड से कॉन्ट्रैक्ट पाने के बाद कुछ राहत में लौटे शमी अब एक बार फिर मैदान पर अपनी वापसी के लिए तैयार होना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें : मोहम्मद शमी को बहुत-बहुत बड़ी राहत: बीसीसीआई ने फिक्सिंग के अारोपों से किया बरी

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने पारिवारिक समस्या झेल रहे मोहम्मद शमी को बड़ी राहत दी है। उन्हें फिक्सिंग के आरोपों से बरी करते हुए कॉन्ट्रैक्ट में भी शामिल कर लिया है। उन्हें ग्रेड-बी ऑफर किया गया है, जिससे उन्हें 3 करोड़ रुपये मिलेंगे। वह 7 अप्रैल से शुरू होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग में अपनी फ्रैंचाइजी दिल्ली डेयरडेविल्स की तरफ से खेलने के लिए भी स्वतंत्र होंगे। बीसीसीआई ने गुरुवार को बयान जारी कर बताया कि शमी के खिलाफ फिक्सिंग की जांच की गई और वह किसी भी तरह दोषी नहीं पाया।

उल्लेखनीय है कि शमी की पत्नी हसीन जहां ने इंग्लैंड के रहने वाले मोहम्मद भाई का नाम लेते हुए शमी पर मैच फिक्सिंग का और व्यभिचार और घरेलू हिंसा का आरोप लगाया था और उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। शमी ने सभी आरोपों का खंडन किया था। इन आरोपों के मद्देनजर बीसीसीआई ने शमी का अनुबंध रोके रखने का फैसला किया था। 

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त क्रिकेट प्रशासकों की समिति ने दिल्ली के पूर्व पुलिस कमिश्नर और बीसीसीआई की भ्रष्टाचार निरोधक इकाई के अध्यक्ष नीरज कुमार से मोहम्मद शमी पर लगे फिक्सिंग के अरोपों की जांच करने के लिए कहा था। अब इस मामले में नीरज ने प्रशासकों की समिति (COA) के समक्ष रिपोर्ट पेश कर दी है। बीसीसीआई के अनुसार, ‘नीरज कुमार ने अपनी गोपनीय रिपोर्ट सीओए को सौंप दी है। रिपोर्ट के निष्कर्ष के आधार पर सीओए का मानना है कि इस मामले में बीसीसीआई भ्रष्टाचार निरोधक संहिता के तहत आगे किसी तरह की कार्रवाई की जरूरत नहीं है।’ इसके बाद बीसीसीआई ने तुरंत संज्ञान लेते हुए मोहम्मद शमी को सालाना कॉन्ट्रैक्ट में शामिल करने का फैसला कर लिया है। उन्हें ग्रेड-बी ऑफर किया। बता दें कि इस ग्रेड में शमी के अलावा लोकेश राहुल, उमेश यादव, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, हार्दिक पंड्या, इशांत शर्मा और दिनेश कार्तिक शामिल हैं। 

किस ग्रेड में कौन-कौन से खिलाड़ी: 

A+ ग्रेड के खिलाड़ी: विराट कोहली, रोहित शर्मा, शिखर धवन, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह।
A ग्रेड के खिलाड़ी: आर. अश्विन, रविंद्र जडेजा, मुरली विजय, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, एमएस धोनी, ऋद्धिमान साहा।
B ग्रेड के खिलाड़ी: लोकेश राहुल, उमेश यादव, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, हार्दिक पंड्या, इशांत शर्मा, दिनेश कार्तिक।
C ग्रेड के खिलाड़ी: केदार जाधव, मनीष पांडे, अक्षर पटेल, करुण नायर, सुरेश रैना, पार्थिव पटेल, जयंत यादव।

यह भी पढ़ें : शमी-हसीन जहां विवाद : ‘जोरू’ से अधिक ‘जर’ और ‘जमीन’ है असली वजह

जर, जोरू और जमीन, हर झगड़े के पीछे ये ही तीन कारण बताये जाते हैं। जोरू यानी पत्नी हसीन जहां द्वारा लगाए गए आरोपों के बाद जमीन पर आ गिरे भारतीय क्रिकेट सितारे मोहम्मद शमी के जोरू से चल रहे विवाद में आरोपों के अनुसार कारण तो अन्य ‘जोरू’ बताई जा रही है, पर असली वजह ‘जर और जमीन’ यानी धन-संपत्ति विवाद से जुड़े हैं। शमी से जुड़े भरोसेमंद सूत्र अनौपचारिक तौर पर यही मूल कारण बता रहे हैं। इन मूल विवादों के कारण ही क्रिकेटर मो. शमी की कॅरियर चौपट होने की कगार पर आ गया है। यह भी बताया जा रहा है कि जर और जमीन के स्तर पर होने वाले समझौते से ही यह विवाद सुलझ सकता है।

यह भी पढ़ें : 

सूत्रों के अनुसार यह विवाद हाल ही में शमी के पिता के इंतकाल के बाद शुरू हुआ, जब शमी पर घर की जिम्मेदारी भी आ पड़ी। उनके भाइयों ने भी कथित तौर पर उन्हें घर देखने की सलाह दी। कहते हैं कि इसके बाद पत्नी व बच्ची के साथ कोलकाता में ही बसने चले शमी ने वापस अपने यूपी-मुरादाबाद स्थित घर की ओर रुख कर लिया। अपनी कोलकाता की कुछ संपत्तियों को भी समेट कर वे घर की ओर आ गये, और यहां संपत्तियां जोड़ लीं। इस दौरान पत्नी भी गांव साथ आई, लेकिन शहरी माहौल में पली-बड़ी व मॉडल व मॉडर्न पत्नी को गांव का जीवन कुछ रास नहीं आया। इस बाबत उन्होंने शमी के पारिवारिक सदस्यों पर कुछ आरोप भी लगाए।

इसके अलावा शमी जो बचाव में इशारा कर रहे हैं कि इस सब यानी पत्नी के द्वारा लगाये जा रहे आरोपों के पीछे कोई और है, वह पत्नी हसीन जहां का ‘अतीत’ बताया जा रहा है। आने वाले समय में इस मामले की कुछ और परतें धीरे-धीरे खुलने की उम्मीद की जा सकती है।

शमी द्वारा खरीदा गया फार्म माना जा रहा है झगड़े की वजह

बताया जा रहा है कि शमी ने हाल में यूपी में अपने गृह जनपद अमरोहा जिले के अली नगर गांव में 150 बीघा यानी करीब 60 एकड़ का फार्म हाउस खरीदा है। इस फार्म हाउस की कीमत बाजार भाव से करीब 12 से 15 करोड़ रुपए बतायी गयी है। बताया जा रहा है कि यहां शमी स्पोर्ट्स एकेडमी खोलना चाहते हैं, और इसका नाम अपनी पत्नी हसीन जहां के नाम पर रखा है, लेकिन कानूनी तौर पर फार्म हाउस में हसीन जहां का कोई हिस्सा नहीं है। इसके अलावा भी कभी कपड़े की गैंद से खेलने वाले शमी के द्वारा क्रिकेट स्टार बनने के बाद के दौर में कई अन्य बहुमूल्य संपत्तियां इसी क्षेत्र में खरीदी हैं। इस बात से हसीन जहां खुश नहीं है, बल्कि वह अमरोहा के बजाए अपने मायके पश्चिम बंगाल में प्रॉपर्टी खरीदना चाहती थी। लिहाजा झगड़े की मूल वजह यह फार्म हाउस है।

कुछ पुरानी यादें : 

नैनीताल में अपनी बेटी की फोटो लेते क्रिकटर मो. शमी (18.10.2016)
नैनीताल में शेल्फी लेते क्रिकटर मो. शमी (18.10.2016)
भारत के तेज गेंदबाद मोहम्मद शमी के साथ (18.10.2016) एरीज, नैनीताल.

भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी से कल 18 अक्टूबर को यहाँ एरीज में मुलाक़ात हुई. हालांकि देश में बहुत से क्रिकेटर हैं, पर मैं बीती 2 अक्टूबर को तब उनका प्रशंषक हुआ, जब अपनी ससुराल कोलकाता में खेले गए न्यूजीलेंड से दूसरे व भारत के कुल मिलाकर 250वें टेस्ट मैच के दूसरे दिन से शमी की 14 महीने की बेटी आयरा को बहुत तेज बुखार होने के बाद हालत काफी बिगड़ने पर आईसीयू में रखा गया था, और वो बिना कप्तान को यह बताए खेलते रहे, और खुद 3 विकेट लेकर भुवनेश्वर कुमार के साथ किसी टेस्ट में भारतीय पेसरों द्वारा मिलकर 8 विकेट लेने का रिकोर्ड बनाते हुए टीम को जीत भी दिलाई।

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

Leave a Reply

%d bloggers like this: