Crime

ढाई माह में ही पति ने घोंट दिया पत्नी का गला, फिर खुद ही थाने पहुंचा और….

समाचार को यहाँ क्लिक करके सुन भी सकते हैं

पति ने जीजा के साथ मिलकर पत्नी की गला घोंटकर की हत्या, मामलानवीन समाचार, रुद्रपुर, 6 जनवरी 2022। शादी के ढाई माह बाद ही पति द्वारा पत्नी की मुंह दबाकर हत्या किए जाने का मामला प्रकाश में आया हैं। हत्या को अंजाम दिए जाने के बाद पति खुद ही कोतवाली पहुंचा और पुलिस अधिकारियों को बताया कि उसने अपनी पत्नी का मुंह दबाकर हत्या कर दी है। पुलिस ने पति को हिरासत में लेकर और उसकी पत्नी के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। आरोपित के ससुर ने पुलिस में तहरीर देकर दामाद पर दहेज के लिए हत्या किए जाने की तहरीर दी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार खेड़ा निवासी 26 साल की फरहा की शादी 24 अक्टूबर 2021 को रम्पुरा पुलिस चौकी क्षेत्र के भदईपुरा निवासी मशरूफ से करीब दो माह पहले हुई थी। बताया जा रहा है कि मशरूफ अक्सर दहेज के लिए फरहा को परेशान किया करता था। बृहस्पतिवार सुबह छह बजे किसी बात पर मशरूफ ने फराह का मुंह दबाकर उसकी हत्या कर दी। कुछ देर पत्नी की लाश के पास बैठकर वह खुद ही सीधे कोतवाली पहुंचा और पुलिस अधिकारियों को जानकारी दी। इससे पुलिस भी सकते में आ गई। सीओ सिटी अभय सिंह, कोतवाल विक्रम राठौर, एसएसआई सतीश चंद्र कापड़ी आदि उसे लेकर भदईपुरा स्थित उसके घर पहुंचे जहां फरहा की लाश बिस्तर पर पड़ी हुई थी।

इस पर पुलिस ने मृतका के खेड़ा निवासी मायके वालों को घटना की जानकारी दी और शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। कोतवाल विक्रम राठौर ने बताया कि हत्या के कारणों की जांच की जा रही है। आरोपित से पूछताछ की जा रही है। इसके बाद ही हत्या के कारणों का पता चलेगा। बताया गया है कि मशरूफ को दहेज में एक अल्टो कार मिली थी, जो कुछ दिन पूर्व दुर्घटनाग्रस्त हेा गई थी। इस कारण फरहा उसे ताने मारती थी। इसी बात को लेकर हुए विवाद में मशरूफ ने उसकी हत्या कर दी। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पुलिस कर्मी पर पत्नी का दहेज उत्पीड़न और अप्राकृतिक संबंध बनाने का आरोप, मुकदमा दर्ज…

Molestation Charge Against Husband. - पति करता था अप्राकृतिक सेक्स, बनाता था  वीडियो - Amar Ujala Hindi News Liveनवीन समाचार, रुद्रपुर, 29 दिसंबर 2021। उत्तराखंड पुलिस के एक कर्मी पर उसकी पत्नी ने दहेज में कार, एक लाख रुपये और सोने की चेन मांगने और न देने पर मारपीट कर घर से निकालने, उससे जबरन अप्राकृतिक संबंध बनाने का आरोप लगाया है। पुलिस कर्मी की पीड़िता पत्नी की शिकायत पर पुलिस ने आरोपित पुलिस कर्मी के खिलाफ दहेज उत्पीड़न और अप्राकृतिक संबंध बनाने का केस दर्ज कर लिया है।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार रुद्रपुर के भदईपुरा निवासी महिला ने पुलिस को सौंपे शिकायती पत्र में कहा है कि एक जून 2012 को उसका विवाह ग्राम मेहनरबूंगा निवासी, उत्तराखंड पुलिस में आरक्षी के पद पर किच्छा कोतवाली में कार्यरत अनिल रावत पुत्र कल्याण सिंह रावत के साथ हुआ था। शादी के बाद से उसके ससुराली कम दहेज देने का ताना देकर उसका उत्पीड़न करने लगे थे।

पीड़िता का आरोप है कि उसका पति शादी के बाद से ही नशा करके उसके साथ अप्राकृतिक रूप से जबरदस्ती संबंध बनाता था, और विरोध करने पर मारपीट करता था। वर्ष 2013 में पुत्री के जन्म के बाद उसकी सास उसे लडकी पैदा करके बर्बाद करने और बेटे की दूसरी शादी करने की धमकी देने लगी। इधर 9 फरवरी 2021 को पति अनिल सात साल की बेटी के सामने ही अश्लील हरकत करने लगा। विरोध करने पर दहेज में कार व एक लाख रुपये तथा सोने की चेन मांगते हुए घर से निकाल दिया। इस पर वह अपने मायके आ गई, और अब किसी तरह बात न बनने पर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पति बनाता था अप्राकृतिक संबंध, अब दुधमुहे बच्चे के साथ मारपीट कर घर से निकाला

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 16 दिसंबर 2021। समाज में महिलाओं को बराबरी का वास्तविक दर्जा न जाने कब मिलेगा। न जाने कब उसे संपत्ति की तरह मनचाहे तरीके से भोगने की वस्तु दहेज कमाने की वस्तु माने जाने से निजात मिलेगी।

एक बच्चे की मां ने ससुरालियों पर दहेज प्रताड़ना के साथ पति पर अप्राकृतिक तरीके से संबंध बनाने और दुधमुहे बच्चे के साथ घर से निकालने का आरोप लगाया है। पुलिस ने पीड़िता की तहरीर पर उसके पति सहित ससुरालियों पर मुकदमा दर्ज कर आरोपों की जांच शुरू कर दी है।

पुलिस को सौंपी तहरीर में कमलुवागांजा निवासी विवाहिता ने कहा है कि उसका विवाह 1 दिसमबर 2017 को अंकुश बिष्ट पुत्र वीरेंद्र बिष्ट निवासी काशीराम नगर मुरादाबाद के साथ परिजनों की सामर्थ्यानुसार पूरे दान-दहेज के साथ हुआ था। लेकिन दहेजलोभी ससुराली उसे शादी कुछ समय बाद से ही प्रताड़ित करने लगे। पति आए दिन शराब पीकर उसके साथ मारपीट और अप्राकृतिक तरीके से शारीरिक संबंध बनाने लगा। यहां तक कि उसे मारपीट कर दूधमुंहे बच्चे के साथ घर से निकाल दिया गया है। जिस कारण वह मायके में रह रही है। विवाहिता ने पति से स्वयं के साथ-साथ मायके पक्ष को भी जानमाल का खतरा बताया है। तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर अपनी कार्यवाही शुरू कर दी है।(डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : ऐसा तो कोई निरीह पशु से भी ना करे: विवाहिता से देवर करता रहता है दुष्कर्म, ससुर ने भी किया दुष्कर्म का प्रयास, फिर दहेज के लिए मारपीट, घर से निकालाMarried woman raped in Nabarangpur - OrissaPOST

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 5 दिसंबर 2021। लगता नहीं यह इसी दुनिया का समाचार है। महिलाओं के साथ आज भी समाज में छुपे भेड़िये ऐसा व्यवहार कर रहे हैं, जैसे वह किसी दूसरी दुनिया से आई कोई निरीह पशु या गुलाम हो, जिसके साथ जो मर्जी किया जा सकता है। एक विवाहिता से उसके देवर द्वारा दुष्कर्म करने व ससुर द्वारा दुष्कर्म का प्रयास करने और आखिर दहेज के लिए घर से निकाल देने का मामला प्रकाश में आया है। पुलिस ने मामले में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गोरापड़ाव के फत्ताबंगर निवासी महिला ने हल्द्वानी पुलिस कोतवाली मे तहरीर देकर कहा है कि उसका विवाह 2010 मे नरेन्द्र कश्यप के साथ हुवा था। पति से उसके दो बच्चे भी हैं। विवाह के कुछ समय बाद से ही उसकी सास, ननद, देवर व ससुर दहेज के लिए उत्पीड़न करते हुए उसके साथ गाली-गलौज करने लगे। कई बार उसे दहेज के लिए घर से भी निकाला। आरोप लगाया इस बीच एक दिन जब उसका पति घर पर नही था तो उसके ससुर ने कमरे मे घुस कर उससे जबरन दुष्कर्म कर दुष्कर्म करने का प्रयास किया। इसका विरोध करने पर भी उसेे घर से निकाल दिया।

इधर जनवरी 2020 में भी एक दिन उसे घर पर अकेले पाकर उसके देवर गौरव ने उसके कमरे में घुसकर उससे बलात्कार किया, और किसी को बताने पर बच्चों का जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद भी मौका मिलने पर देवर बच्चों को मारने की धमकी देकर उसके साथ दुष्कर्म करता रहा। पति से शिकायत की तो उसने लोक लाज का भय दिखाकर उसे चुप करा दिया। ससुरालियों से देवर के द्वारा दुष्कर्म करने की शिकायत की तो उन्होंने जान से मारने का प्रयास किया। इस पर वह किसी तरह अपनी जान बचाकर अपनी मायके आ गई।

इधर दो दिसंबर को जब वापस ससुराल गई तो सास, ससुर, दोनों ननद व देवर आदि ने मारपीट कर उसे फिर घर से निकाल दिया। इसके बाद तीन दिसंबर को पीड़िता की मां उसे ससुराल आई तो ससुरालियों ने मां को भी जान से मारने की नीयत से प्रहार किया। पुलिस हेल्प लाईन पर कॉल करने के बाद पुलिस के आने पर जान बच पायी। महिला ने यह भी आरोप लगया कि उसके सास ससुर ने उसके दोनो बच्चों को अपनी गिरफ्त मे ले रखा है। कोतवाल संजय कुमार ने बताया कि महिला की तहरीर पर दहेज अधिनियम, बलात्कार सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर दिया है। मामले की जांच की जा रही है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में न्याय: शादी के 9 साल बाद महिला ने आत्महत्या, बच्चे हुए पक्षद्रोही, लैब की रिपोर्ट गलत आई, फिर भी पति को 5 वर्ष की जेल

What is a Court Issued Order?

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 1 दिसंबर 2021। जनपद के द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश राकेश कुमार सिंह की अदालत ने एक पति को अपनी पत्नी को आत्महत्या के लिए उकसाने का दोषी मानते हुए 5 वर्ष की जेल और 30 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है। खास बात यह है कि इस मामले में विवाहिता ने शादी के 9 वर्ष के बाद पति के दुष्प्रेरण से तंग आकर आत्महत्या की थी, जबकि दहेज का मामला नहीं बनता है। यह भी हुआ कि मुख्य गवाह के रूप में मृतका की बेटी खुशी व बेटे हर्षित ने भी अभियोजन के पक्ष का समर्थन नहीं किया, इस पर उन्हें पक्षद्रोही घोषित किया गया। साथ ही विधि विज्ञान प्रयोगशाला रुद्रपुर की रिपोर्ट भी संदेहास्पद आई। फिर भी अदालत का यह फैसला आया है।

मामले की गंभीरता को देखते हुए अभियोजन की ओर से स्वयं मामले की पैरवी करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि हेमा देवी पुत्री स्वर्गीय हरि दत्त पलड़िया निवासी ग्राम पिनरौ पिनसेला तहसील व धारी नैनीताल की शादी 27 नवंबर 2007 को हरीश चंद्र पुत्र लीलाधर निवासी सुभाष नगर बिंदूखत्ता से हुई थी। इधर 12 सितंबर 2016 की सुबह करीब आठ बजे हेमा ने अपनी बहन को फोन कर बताया कि उसका पति उसे जान से मारने की बात कहते हुए कह रहा है कि अब तो शादी को 9 साल हो गए हैं।

अब दहेज का मुकदमा भी दर्ज नहीं होगा। इसी दिन दिन में करीब डेढ़ बजे उसकी ससुराल से फोन पर सूचना दी गई कि हेमा ने खुद को आग लगा ली है। अस्पताल ले जाते हुए मायके वाले पहुंचे तो जली हुई अवस्था में मिली हेमा ने बताया कि उसके पति ने उसका यह हाल किया है। इस दौरान ही उसकी मृत्यु हो गई। इस मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से 15 गवाह पेश किए गए। इनमें से मुख्य गवाह पुत्र-पुत्री के पक्षद्रोही हो जाने पर अभियोजन ने तर्क दिया कि दोनों बच्चे मां की मृत्यु के बाद अपनी दादी के घर में रहने के कारण प्रभावित हो गए हैं।

न्यायालय ने आरोपित पति को सजा सुनाते हुए यह भी कहा कि हेमा देवी ने अतिरिक्त दहेज की मांग पर आये दिन तंग, परेशान व मारपीट किए जाने के कारण ससुराल में आत्महत्या की, इसकी जिम्मेदारी पूर्ण रूप से पति की ही मानी जाती है। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित पति हरीश चंद्र को तीन वर्ष के कारावास व 2500 रुपए जुर्माने पत्नी की आत्महत्या कर मृत्यु हो जाने के आरोप में भारतीय दंड संहिता की धारा 306 के तहत 5 वर्ष के सश्रम कारावास एवं 25 हजार रुपए के अर्थदंड तथा की सजा सुनाई है। दोषी पति को अर्थदंड न अदा करने पर एक माह का अतिरिक्त कारावास भी भुगतना होगा।

विधि विज्ञान प्रयोगशाला की रिपोर्ट, देरी व विधि को न्यायालय ने गलत माना
नैनीताल। इस मामले में विधि विज्ञान प्रयोगशाला रुद्रपुर की रिपोर्ट भी संदेहास्पद आई कि मृतका के कुछ भाग में पेट्रोल व कुछ भाग में मिट्टी का तेल पाया गया। इस पर न्यायालय ने अपने निर्णय में विधि विज्ञान प्रयोगशाला रुद्रपुर को केवल एक वैज्ञानिक द्वारा चलाए जाने तथा लंबी अवधि के बाद जांच की रिपोर्ट भेजे जाने पर यह कहकर संदेह जताया कि इतनी लंबी अवधि में पेट्रोल का संबंधित नमूने से मिल पाना संभव नहीं है। न्यायालय ने विधि विज्ञान प्रयोगशाला की सूंघकर जांच किए जाने की विधि को भी गलत माना। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : तीन माह की गर्भवती फंदे पर लटकी हुई मिली, पति समेत ससुरालियों पर हत्या का आरोप

नवीन समाचार, जसपुर, 20 नवंबर 2021। ऊधमसिंह नगर के जसपुर थाना क्षेत्र में तीन माह की गर्भवती नवविवाहिता का शव बेहद संदिग्ध परिस्थितियों में फांसी पर झूलता पाया गया है। इस मामले में मृतका के पिता ने उसके पति पर परिजनों के साथ मिलकर उसकी हत्या करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने मृतका के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों के सुपुर्द किया है।

KATNI: गर्भवती ने फांसी पर झूलते हुए बच्चे को जन्म दिया, मां की मौत, बच्चा  जिंदा | MP NEWSपुलिस को दी तहरीर में ग्राम सीताबनी जल्लापुर खादर तहसील व थाना चांदपुर जनपद बिजनौर उत्तर प्रदेश निवासी उदल सिंह पुत्र सुखवा सिंह ने कहा है कि उसने अपनी 20 वर्षीय पुत्री अंजू देवी का विवाह बीती 29 अप्रैल 2021 को ग्राम सूरजपुर तहसील जसपुर निवासी शिवम कुमार पुत्र जसवीर सिंह के साथ धूमधाम से की थी। शादी के कुछ दिन बाद ही दहेज के लोभी ससुरालियों ने नवविवाहिता को छोटी-छोटी बातों पर प्रताड़ित करना शुरू कर दिया।

आरोप है कि बीते 19 नवंबर को अंजू के पति शिवम, सास मीना, व ननद आंचल, नानी ओमवती पत्नी प्रेम राज सिंह तथा मामा वीरेंद्र के उकसाने पर विवाहिता के साथ गाली-गलौज करते हुए उसकी बुरी तरह पिटाई की, और जबकि वह तीन माह की गर्भवती भी थी, वह ससुराल में बेहद संदिग्ध परिस्थितियों में फंदे पर झूलती हुई पाई गई। पुलिस के अनुसार घटना के बाद से सभी आरोपित फरार हो गए हैं। तहरीर के आधार पर पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पति-ससुराल पर लाखों लुटाए, पति की मौत के बाद ससुराली करने लगे दहेज उत्पीड़न, शर्मनाक हरकत भी की..!

बुजुर्ग ने की शर्मनाक हरकत, मासूम को दस रुपये का लालच देकर मकान में बुलाया,  फिर... | The shameful act of the elderly, inviting innocent to the house  with a greed of
प्रतीकात्मक चित्र

नवीन समाचार, मंगलौर, हरिद्वार, 20 नवंबर 2021। शहर की एक विधवा महिला ने पति को खोने के बाद अपने ससुरालजनों पर दहेज उत्पीड़न सहित कई गम्भीर आरोप लगाये हैं। आरोपों में देवर पर सार्वजनिक स्थान पर उसके कपड़े फाड़े जाने का आरोप भी शामिल है। पुलिस ने देवर सहित ससुरालियों पर मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्रवाई प्रारंभ कर दी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार शहर के मोहल्ला टोली की रहने वाली शगुफ्ता खानम ने पुलिस में तहरीर देकर कहा है कि उसकी शादी नसीम अहमद के साथ 22 अप्रैल 2017 को पूरे दान-दहेज के साथ हुआ था। उसने अपने वेतन से करीब पांच लाख का सामान भी ससुराल के लिए लिया, और 10 लाख रुपये अपने पति को बिजनेस के लिए भी दिये थे। महिला का आरोप है कि उसके पति की मौत के बाद अचानक उसके ससुरालजनों का रवैया उसके प्रति बदल गया है, और वे उसका उत्पीड़न कर रहे हैं। उसके देवर ने सार्वजनिक स्थान पर उसके कपड़े फाड़ने की शर्मनाक हरकत भी की। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : दहेज हत्या में आरोपित सास व देवर को 10-10 वर्ष का सश्रम कारावास, यतीम बच्चे की देखभाल को अब कोई नहीं..

-मृतका के 7 वर्षीय यतीम बच्चे को सरकार से सहायता देने की संस्तुति
डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 29 सितंबर 2021। जनपद के द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश राकेश कुमार सिंह की अदालत ने फईमा नाम की मृतका की हत्यारोपित साह फरीदा पत्नी ताहिर व देवर नसरुद्दीन पुत्र ताहिर हुसैन निवासी वार्ड नंबर 3 बंजारा बस्ती कालाढुंगी को दहेज हत्या के अपराध में भारतीय दंड संहिता की धारा 304 बी के तहत 10-10 वर्ष के सश्रम कारावास, दहेज उत्पीड़न के अपराध में धारा 498ए के तहत 3-3 वर्ष के सश्रम कारावास व 5-5 हजार रुपए जुर्माने व जुर्माना न चुकाने पर 6 माह के अतिरिक्त कारावास एवं दहेज प्रतिषेध अधिनियम की धारा 4 के तहत 1 वर्ष के सश्रम कारावास व 1-1 हजार रुपए जुर्माने व जुर्माना न चुकाने पर एक माह के अतिरिक्त कारावास की सजा सुनाई।

जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी-सुशील कुमार शर्मा ने इस मामले में पैरवी करते हुए अदालत को बताया कि मृतका फईमा पुत्री मौ. इस्लाम निवासी वार्ड नंबर 2 कालाढुंगी का निकाह 5 नवंबर 2012 को नसीर अहमद पुत्र ताहिर अहमद के साथ पांच नवंबर को हुआ था, और सास व देवर के उत्पीड़न से उसकी मौत एक अगस्त 2014 को एसटीएच हल्द्वानी घर के अंदर अप्राकृतिक तरीके से आग में जलने के बाद हो गई थी। मामले के न्यायालय में विचारण के दौरान उसके पति नसीर अहमद की मौत बिजली का करंट लगने से हो चुकी है।

अब जबकि सास व देवर को भी सजा हो रही है तो उनके सात वर्षीय मासूम पुत्र की देखरेख करने वाला अब कोई नहीं है, लिहाजा उसकी आर्थिक मदद की जाए। इस पर न्यायालय ने राज्य सरकार के गृह मंत्रालय को भारतीय दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 357ए के तहत सहायता योजना 2013 के तहत बच्चे को सहायता प्रदान करने की संस्तुति की। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : दहेज के लिए पत्नी को आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरित करने वाले हत्यारोपित पति की जमानत अर्जी खारिज

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 28 सितंबर 2021। जनपद के जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी ने पत्नी को आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरित करने के आरोपित पति प्रमोद कुमार पुत्र विश्राम सिंह निवासी गौलापार थाना काठगोदाम का जमानत प्रार्थना पत्र मामले की गंभीरता को देखते हुए खारिज कर दिया।

जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने जमानत का विरोध करते हुए तर्क रखा कि गत 19 जुलाई 2021 को थाना काठगोदाम में राम कुमार सिंह निवासी ग्राम चंदोखा थाना मदनापुर जिला शाहजहांपुर यूपी ने तहरीर दर्ज कराई कि उन्होंने अपनी बेटी आरती की शादी 2 जून को प्रमोद सिंह के साथ लगभग 4 लाख रुपए दहेज देकर कराई थी, लेकिन जब उसने छोटी बेटी सुनीता की शादी में 6 लाख रुपए खर्च करके की तो प्रमोद आरती को प्रताणित करने लगा। इसी प्रताणना से आरती ने विषपान कर आत्महत्या कर ली थी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : दहेज के लिए उफ ऐसी अमानवीयताः देवर ने किया दुष्कर्म, ससुर ने जलाने को केरोसीन उड़ेला, पति ने कान काट डाला…

Dowry Was Not Found In Marriage Husband Wounded - शादी में नहीं मिला दहेज  तो पति ने पत्नि से की मारपीट | Patrika Newsनवीन समाचार, हल्द्वानी, 29 अगस्त 2021। हल्द्वानी के मुखानी थानांतर्गत एक विवाहिता से देवर द्वारा दुष्कर्म करने एवं सास-ससुर द्वारा दहेज के लिए उत्पीड़न करते हुए जलाने का प्रयास करने का का मामला प्रकाश में आया है। महिला की तहरीर पर मुखानी पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ दुष्कर्म व दहेज उत्पीडन का मुकदमा दर्ज किया है।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के बरेली जिले के थाना मीरगंज निवासी पीड़िता का विवाह तीन वर्ष पूर्व रामपुर जिले के थाना शहजाद नगर क्षेत्र निवासी युवक से हुआ थ। वर्तमान में वह मुखानी थाना क्षेत्र में रहती है। पीड़िता का आरोप है कि ससुराल पक्ष के लोग उससे दहेज में कार की मांग पर प्रताणित कर रहे हैं, उसे बांझ होने का ताना देकर घर से निकालने की कोशिश में हैं।

उसके देवर ने गत 11 अगस्त को उसके पति की अनुपस्थितित में कमरे में घुसकर उसके मुंह में कपड़ा ठूंसकर चाकू की नोक पर दुष्कर्म किया। पीड़िता ने सास को आपबीती बताई तो सास ने घर की बदनामी की दुहाई देकर मुंह बंद रखने के लिए दबाव बनाया। इस पर उसने फोन करके अपने पिता को मामले की जानकारी दी। इस पर सास व ससुर ने फोन छीनकर मारपीट की, और पति व देवर को उकसाते हुए जलाकर मार डालने का प्रयास किया। ससुर ने उस पर मिट्टी का तेल उड़ेल दिया और पति ने आग लगाने के लिए माचिस निकाली तभी चीख पुकार पर बस्ती के लोगों के आ जाने से वह बच गई।

13 अगस्त को उसके पिता ससुराल हल्द्वानी पहुंचे व बात करने का प्रयास किया, तो ससुराल पक्ष के लोगों ने पिता को भी मारपीट कर बेइज्जत किया। पिता के सामने ही बेटी को भी पीटा। यहां तक कि ससुर के कहने पर पति ने चाकू से नाक-कान काटने का प्रयास किया और एक कान काटकर अलग कर दिया और नाक काटने लगे तो स्थानीय लोगों ने जान बचाई। इसके बाद उसे पिता के साथ मात्र फटे हुए पहने कपड़ों में समस्त स्त्रीधन छीनकर धक्का देकर भगा दिया। इस पर पीड़िता ने बरेली के मीरगंज थाने में भी रिपोर्ट लिखाने का प्रयास किया। लेकिन वहां इंकार होने पर मुखानी थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है। मुखानी एसओ सुशील कुमार ने बताया कि आरोपित देवर के खिलाफ दुष्कर्म के लिए धारा 376 तथा पति, सास व ससुर के खिलाफ दहेज उत्पीडन का मुकदमा दर्ज मामले की विवेचना शुरू कर दी गई है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल की बेटी के दहेज लोभी ससुर गिरफ्तार, पति व सास ने भी किया न्यायालय में आत्मसमर्पण

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 26 अगस्त 2021। नैनीताल के रुकुट कंपाउंड निवासी एक बेटी को उसके ससुरालियों ने शादी के करीब एक वर्ष बाद ही दहेज में बड़ी धनराशि देने के बावजूद और बड़ी धनराशि की मांग पर मायके छोड़ दिया था। इस मामले में पीड़िता के परिजनों की शिकायत पर दर्ज मामले में बृहस्पतिवार को कोतवाली पुलिस ने उसके ससुराल को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया, जबकि उसके पति व सास ने स्वयं न्यायालय में आत्मसमर्पण कर दिया। बताया गया है कि इसके बाद न्यायालय ने उन्हें जमानत दे दी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार रुकुट कंपाउंड मल्लीताल निवासी नीलम फर्त्याल पुत्री भुवन सिंह फर्त्याल का का विवाह 13 दिसंबर 2019 को दिल्ली के दिलशाद गार्डन निवासी पुनीत सरन पुत्र विनीत सरन से हुआ था। विवाह में 7 लाख रुपए कूर्मांचल बैंक के जरिए आरटीजीएस के माध्यम से दहेज दिया गया था। इसके बावजूद और 10 लाख रुपए दहेज की मांग करते हुए ससुरालियों ने नीलम को 1 अप्रैल 2020 को मायके छोड़ गए। इस पर पीड़िता की ओर से उसके पति पुनीत के साथ ही ससुर विनीत सरन, सास पूनम सरन व ननद दीपिका और नंदोई करन के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 323, 504, 498ए व 3/4 दहेज उत्पीड़न अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीकृत कर लिया है।

इधर पुलिस ने मामले की जांच के बाद पुनीत, उसके पिता विनीत सरन व मां नीलम सरन के खिलाफ न्यायालय में आरोप पत्र दायर किया था, जबकि ननद व ननदोई के खिलाफ साक्ष्य नहीं मिले थे। इधर बुधवार शाम मल्लीताल कोतवाली के एसआई नितिन बहुगुणा तीनों की गिरफ्तारी का प्रयास किया था, किंतु केवल विनीत सरन ही घर पर मिले, लिहाजा उनकी गिरफ्तारी कर ली गई। बताया गया है कि उनके पीछे-पीछे उनकी पत्नी व पुत्र ने भी स्वयं नैनीताल आकर आत्मसमर्पण कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : विवाहिता की मौत के मामले में मायके पक्ष के 18 लोगों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज

नवीन समाचार, लालकुआं, 22 अगस्त 2021। गत 13 अगस्त को बेरीपड़ाव के हिम्मतपुर चौम्वाल में संदिग्ध परिस्थितियों में हुई दीपा महिला की मौत के मामले में मृतका के पति की तहरीर पर मायके पक्ष के 18 लोगों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। जबकि पुलिस पहले मृतक महिला के पति, देवर व सास आदि को दहेज हत्या की धाराओं में जेल भेज चुकी है।

उल्लेखनीय है कि दीपा पत्नी मनीष कुंवर ने गत 13 अगस्त को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। इसके दूसरे दिन मायके पक्ष के लोगों ने मृतका की ससुराल जाकर हंगामा किया। स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए पुलिस व पीएसी को भी मौके पर पहुंचना पड़ा। इसके बाद पुलिस ने मृतका की मां पुष्पा देवी की तहरीर पर उसके पति, देवर व सास के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था। जिसके बाद पुलिस ने पति मनीष व देवर प्रकाश को जेल भेज दिया।

लेकिन जेल जाने से पहले मृतका के आरोपित पति मनीष ने कोतवाली में मृतका के मायके वालों के खिलाफ घर में घुसकर मारपीट करने, तोडफोड़ करने व जान से मारने की धमकी समेत कई आरोप लगाते हुए पुलिस को तहरीर दी थी। इस पर मृतका के मायके वाले हल्द्वानी निवासी देवेंद्र बिष्ट, उसके माता व पिता, शांतिपुरी नंबर चार निवासी ललित नेगी, पूजा नेगी, खड़कपुर निवासी हरीश नेगी, जीवन रौतेला, पुष्पा रौतेला, राधा रौतेला, रुद्रपुर निवासी ममता नेगी, हेमा नेगी व छडैल हल्द्वानी निवासी रविंदन सहित छः अन्य लोगों के खिलाफ धारदार हथियार व लाठी डंडों से लैस होकर घर में घुसकर जानलेवा हमला करने, गैस का सिलेंडर खोलकर घर में आग लगाने का प्रयास करने व तोडफोड़ करने तथा जान से मारने व जेवर चोरी के आरोप में भारतीय दंड संहिता की धारा 323, 504, 506, 379, 452, 427 व 147 के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच प्रारम्भ कर दी है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : कीटनाशक पीकर आत्महत्या की कोशिश करने वाली विवाहिता की तहरीर पर ससुरालियों पर दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज

नवीन समाचार, लालकुआं, 23 जुलाई 2021। गत दिवस कीटनाशक पीकर आत्महत्या का प्रयास करने वाली निकटवर्ती घोड़ानाला बिंदूखत्ता निवासी विवाहिता ने ससुरालियों पर दहेज के लिए उत्पीड़न करने, उसे उसके नवजात बच्चे से जबरन अलग करने और आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया है। कोतवाली लालकुआं पुलिस ने उसकी तहरीर पर ससुरालियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच प्रारंभ कर दी है।

शुक्रवार को विवाहिता ने कोतवाली में तहरीर देते हुए बताया कि उसका विवाह 2017 में नागेश जोशी पुत्र लीलाधर जोशी निवासी घोड़ानाला बिंदूखत्ता से हुआ था। इस विवाह में उसके पिता विनोद कुमार अंडोला ग्राम हरिपुर, ऊधमसिंह नगर ने अपनी क्षमतानुसार दहेज दिया था। लेकिन विवोह के कुछ महीनो बाद ही सास-तुलसी देवी, पति-नागेश, ससुर लीलाधर जोशी, और ननद-माया देवी आदि ने उस पर दहेज की मांग करते हुए मानसिक व शारीरिक उत्पीडन करना शुरू कर दिया। 2018 में पुत्र होने के जन्म के बाद भी उनका व्यवहार नहीं बदला। उसका पति नशे का आदी भी हैं।

2020 में पुलिस चौकी प्रभारी राकेश कठायत के समक्ष मौखिक तौर पर सुलहनामा भी हुआ। उसके बाद ससुराल वालों का व्यवहार पहले से और ज्यादा उग्र हो गया। उसे निरंतर शारीरिक एवं मानसिक प्रताड़ना देते हुए मारने के लिए उकसाया जाता रहा। इधर 18 जुलाई 2021 की शाम को सास, ससुर और पति ने उसे बुरी तरह से पीटा और गालियां दीं। जिसके बाद कोई रास्ता न देखते हुए उसने कीटनाशक का सेवन कर लिया। जिसके बाद भाइयों ने उसका सुशीला तिवारी अस्पताल में इलाज कराया। अब उसे ससुरालियों से अपनी और बेटे की जान का भय है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पत्नी की दहेज हत्या एवं डेढ़ वर्षीय बेटे की हत्या के मामले में पति दोषी करार, बेल से जेल भेजा

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 20 जुलाई 2021। जनपद की प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने भावना नाम की विवाहिता की दहेज के लिए एवं उसके दुधमुंहे डेढ़ वर्षीय पुत्र खिलेश की विषपान से हुई हत्या के मामले में केशव दत्त मेलकानी पुत्र पान देव निवासी पतलिया जिला नैनीताल को दोषी करार दे दिया है। इसके बाद जमानत में बाहर रह रहे पति को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। सजा पर सुनवाई आगामी 24 जुलाई को है।

मामले में जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने अभियोजन की ओर से 9 गवाह पेश करते हुए इस तथ्य को साबित किया कि शादी के बाद से ही अभियुक्त मृतका को एक लाख रुपए और लाने की मांग करते हुए आए दिन मारपीट करता था। यह धमकी भी देता था कि वह दूसरी जगह शादी करके अच्छा दहेज लेगा। घटना से पहले दो बार उसने ग्राम प्रधान व क्षेत्र पंचायत सदस्य आदि के सामने पत्नी से दहेज की मांग करने का जुर्म स्वीकार किया था। बाद में उसके पत्नी व दुधमुंहे बेटे को 19 दिसंबर 2015 को जहर दे दिया था, जिससे उनकी मौत हो गई। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : 20 लाख दहेज मांग रहे नैनीताल के हत्यारोपित पति को साढ़े चार माह बाद भी नहीं मिली जमानत

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 19 जुलाई 2021। जनपद की प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश-प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने गत दो फरवरी को मुख्यालय के अयारपाटा क्षेत्र में हुई एक विवाहिता की मौत के मामले में करीब साढ़े चार माह से जेल में बंद उसके पति दीप शर्मा पुत्र ईश्वरी दत्त शर्मा को जमानत नहीं दी है।

इस मामले में जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अभियोजन पक्ष की ओर से जमानत याचिका का विरोध करते हुए बताया कि आरोपित का विवाह मृतका अंशु से 28 फरवरी 2017 को हुआ था। वह पत्नी से 20 लाख रुपए दहेज की मांग करते हुए न देने पर जान से मारने की धमकी दे रहा था। उससे दहेज के लिए लगातार मारपीट भी की जाती थी और उसे कई बार मायके भेज दिया जाता था। आरोपित द्वारा महिला फांसी पर लटकी हुई बताई गई, जबकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार उसकी मौत दम घुटने व गला दबाने से हुई थी। उसके चेहरे पर भी खरोंच के निशान पाए गए थे। लिहाजा घटना को गंभीर मानते हुए न्यायालय ने दहेज हत्यारोपित पति का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल : प्रेम विवाह के एक साल बाद ही आत्महत्या करने वाली विवाहिता के ससुरालियों की जमानत अर्जी खारिज

-ससुरालियों के उत्पीड़न से परेशान होकर विवाहिता ने मायके आकर आत्महत्या कर ली थी
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 13 जुलाई 2021। जनपद की प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने गत 22 अप्रैल को मरी मनीषा नाम की विवाहिता की दहेज के लिए हत्या करने की आरोपित, मृतका की सास देवी ननद संगीता, जेठ पंकज बोहरा निवासी पथरिया पीर, नेस विला रोड देहरादून की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

अभियोजन की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए बताया कि दीवान सिंह भंडारी निवासी गांधी नगर बिंदूखता की पुत्री मनीषा का 9 अगस्त 2019 को देहरादून निवासी नीरज से प्रेम विवाह हुआ था। शादी में 50 हजार की सोने की अंगूठी व अन्य सामान दहेज में दिए थे। फिर भी आरोपित 2 लाख रुपए नकद व कार की मांग कर रहे थे। इस पर उन्हें 1 लाख रुपए देने के बाद भी उसे परेशान करते थे। उत्पीड़न से परेशान होकर मनीषा ने 15 अप्रैल को मायके में ही आत्महत्या कर ली थी। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपितों की जमानत अर्जी धारा 304 बी के अंतर्गत खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : दहेज कम मिलने की शिकायत कर नवविवाहिता को छोड़ पति ने की दूसरी शादी

-राजस्व पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 08 जुलाई 2021। मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर पंगोट के मल्ला बगड़ गांव की रहने वाली एक नवविवाहिता ने अपने पति तथा अन्य ससुरालियों पर दहेज उत्पीड़न तथा पति पर दूसरा विवाह भी करने का आरोप लगाया है। शिकायत पर राजस्व पुलिस ने महिला के पति सहित चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच रेगुलर पुलिस को हस्तांतरित कर दी है।

प्राप्त जानकारी के अुनसार मल्ला बगड़ निवासी कविता आर्या की शादी बीती 15 मार्च को बगड़ निवासी कमल कुमार के साथ हुई। शादी के कुछ समय बाद उसका पति घर छोड़कर चला गया। इस बीच वह मायके चली गई। इस दौरान महिला के प्रार्थना पत्र के आधार पर पुलिस में उसकी गुमशुदगी भी दर्ज कराई गई, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल सका। उसके मायके वालों ने जब उसके ससुराल वालों से उसे मायके से ले जाने के लिए कहा तो ससुरालियों की ओर से दहेज कम मिलने की बात कहकर उसे मायके में ही रहने को कह दिया गया। करीब एक माह बाद उसके पति का फोन आया और उसने भी दहेज नहीं देने की बात कही। साथ ही बताया कि दहेज कम लाने के कारण वह किसी अन्य युवती से विवाह कर चुका है। तहरीर के बाद पुलिस ने नवविवाहिता के पति कमल कुमार, ससुर डुंगर लाल, सास तथा देवर के खिलाफ दहेज समेत विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : गौलापार की बेटी की शादी के दूसरे माह ही दिल्ली में कर दी गई दहेज के लिए हत्या, एक दिन पहले ही मायके से ले गया था पति..

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 19 जून 2021। गौलापार के लछमपुर तारानवाड निवासी एक युवती की शादी के दूसरे माह में ही दिल्ली में संदिग्ध परिस्थितियों में मौत होने का समाचार है। मृतका मौत के एक दिन पहले ही मायके से ससुराल गई थी। मृतका के शरीर पर अधिकांश जगहों पर पर चोट के गंभीर निशान मिले हैं। इस पर मायके पक्ष के लोगों ने दिल्ली पहुंच कर उसके ससुरालियों के खिलाफ पुलिस में दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज करा दिया है। वहीं पुलिस ने भी त्वरित कार्रवाई करते हुए पति सहित ससुराल पक्ष के चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया। बताया जा रहा है कि गिरफ्तारी के दौरान आरोपित पति के पास से दहेज में मिले जेवर व नगदी भी बरामद हुई।

प्राप्त जानकारी के अनुसार लक्षमपुर तारानवाड़़ निवासी किसान हीरा सिंह रौतेला की बेटी भारती की शादी इसी वर्ष गत 26 अप्रैल को दिल्ली के फतहेपुर बेरी निवासी कुलदीप राणा के साथ हुई थी। शादी के बाद से भारती का उत्पीडन शुरू हो गया था। इधर गत नौ जून को दामाद गौलापार आया था और 16 जून की सुबह कार से भारती को साथ ले गया था। लेकिन अगले दिन ही 17 जून की सुबह दिल्ली में रहने वाले उनके साले ने उन्हें बताया कि भारती की मौत हो गई है। परिजनों के अनुसार मामले में भारती के पति कुलदीप, उसके पिता, मां व भाई के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

 

यह भी पढ़ें : मृतका की मौत के मामले में मायके वालों की तहरीर पर पुलिस ने की कार्रवाई

-पति, सास, ननद-नंदोई आदि के खिलाफ दर्ज किया धारा 304बी के तहत मुकदमा
नवीन समाचार, नैनीताल, 02 फरवरी 2021। जिला मुख्यालय के मल्लीताल अयारपाटा क्षेत्र में मंगलवार दोपहर घर में संदिग्ध अवस्था में, गले में चोट के निशान के साथ मृत मिली महिला की मौत के मामले में उसके मायके वालों ने पुलिस में तहरीर दी है। इसके आधार पर कोतवाली पुलिस ने मृतका के पति दीप शर्मा, सास वैष्णवी देवी, ननद मुन्नी जोशी, ननदोई कैलाश जोशी सहित उनके दो बच्चों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 304 बी के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है।
यह भी पढ़ें: नैनीताल : नवविवाहिता के घर से आई चीख की आवाज और मिली मृत, हत्या-आत्महत्या में उलझी मौत की गुत्थी..

रहस्यमय : उत्तराखंड में एक घर में मृत मिले एक ही परिवार के पांच लोग

देर शाम मृतका के भाई नीरज पलड़िया ने पुलिस को तहरीर देकर आरोप लगाया कि मृतका के परिजनों ने उन्हें फोन कर घटना की सूचना तक नहीं दी। जबकि दिल्ली में रह रहे रिश्तेदारों को मामले की सूचना दी गई। आरोप लगाया कि एक होटल में काम करने वाले मृतका के पति और ससुराली हमेशा उनसे दहेज की मांग करते थे। शादी में पर्याप्त दहेज देने के बावजूद ससुरालियों का उत्पीड़न कम नहीं हुआ। कुछ समय पूर्व आरोपी पति उसे तलाक देने को भी कह रहा था। इससे पूर्व अपराह्न करीब ढाई बजे भीमताल से जिला चिकित्सालय पहुंचे महिला के मायके पक्ष के लोगों ने अंशु के पति, सास और नंद-नंदोई आदि पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए हंगामा भी किया। उधर मृतका के परिजनों की ओर से कहा जा रहा है कि मंगलवार की सुबह करीब दस बजे अंशु अपनी बेटी के साथ बीडी पांडे जिला चिकित्सालय गई थी और लगभग 11.30 बजे वहां से अपने घर लौट आई। दिन में करीब 12 बजे जब उसके परिजन घर के पास आंगन में धूप सेंक रहे थे, तभी उसकी दो वर्षीय बेटी ने मां के पास जाने की जिद की। बेटी को लेकर पति घर के अंदर गया, तो दरवाजा अंदर से बंद मिला। इस पर पति ने दरवाजे को धक्का देकर खोला। पति के मुताबिक अंदर पत्नी अंशु फंदे से लटकी हुई मिली। उसने अंशु को आनन-फानन में नीचे उतारा और पड़ोसियों की मदद से बीडी पांडे जिला चिकित्सालय पहुंचाया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें : पुलिस कर्मी पत्नी पर दिखा रहा वर्दी का रौब, बच्चों सहित घर से निकालकर सहारा दे रहे भाई को भी दी जान से मारने की धमकी !

-पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा, यूपी पुलिस का सिपाही है आरोपित
नवीन समाचार, हल्द्वानी, 17 जनवरी 2021। हल्द्वानी निवासी महिला ने अपने पति पर दहेज के लिए प्रताणित करने का आरोप लगाते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस ने मारपीट और दहेज उत्पीड़न के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया है और जांच करने की बात कही है। खास बात यह भी है कि आरोपी यूपी पुलिस में कार्यरत है।
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार हल्द्वानी के छड़ायल निवासी मंजू ध्यानी की शादी सहारनपुर, यूपी में तैनात सिपाही राजेश ध्यानी के साथ 21 मई 2014 को हुई थी। मंजू का आरोप है कि राजेश शराब पीकर आए दिन उनके साथ गालीगलौज करता था और दहेज को लेकर ताने देता था। प्रताड़ना से परेशान होकर उसने सहारनपुर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। इसके बाद भी दिसंबर 2019 में राजेश ने लोहे की रॉड से मंजू पर हमला किया। मंजू के घायल होने की सूचना मिलने पर उनका भाई उसे मायके ले आया। लेेकिन बाद में माफी मांगने पर वह फिर राजेश के पास चली गई। लेकिन इधर 27 नवंबर 2020 को राजेश ने फिर उनके साथ मारपीट की और उसे दोनों बच्चों सहित घर से बाहर निकाल दिया। इस पर वह फिर मायके अपने भाई भुवन चंद्र मठपाल के पास चली आई। मंजू ने यह भी आरोप लगाया है कि राजेश ने अपनी वर्दी का रौब दिखाते हुए उसके भाई भुवन को भी जान से मारने की धमकी दी। इस पर मंजू ने मुखानी पुलिस से उसकी शिकायत की। थानाध्यक्ष सुशील कुमार ने बताया कि इस मामले में राजेश के खिलाफ 498 ए और 3/4 दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज किया गया है। नियमानुसार जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें : हद है ! शादी के पांच माह के भीतर ही दूसरा निकाह करने पर आमादा हुआ पति, कर दी पत्नी की गला घोंट कर हत्या !

नवीन समाचार, किच्छा, 22 दिसम्बर 2020। ऊधमसिंह नगर जिले के पुलभट्टा थाना अंतर्गत वार्ड 20 निवासी एक नवविवाहिता की शादी के पांच माह के भीतर ही संदिग्ध परिस्थितियों में मौत से हड़कंप मच गया। इस मामले में मृतका के परिजनों ने दामाद पर गला घोंट कर मारने का आरोप लगाया है। घटना की सूचना पर पुलिस ने मौके पर पहुच शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार वार्ड 20 के सीरिया मस्जिद निवासी 22 वर्षीय सना बेगम पत्नी मो. सलीम की मध्य रात्रि संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। मौत की जानकारी मिलने पर मूल रूप से मिर्जापुर थाना बहेड़ी जिला बरेली व हाल निवासी वार्ड 18 चार बीघा पुलभट्टा निवासी मृतका के पिता अब्दुल शमी व मां हाशमीन बेगम मंगलवार सुबह पुत्री के ससुराल पहुंचे। उन्होंने थाना पुलिस को घटना की सूचना दी। इस पर एसआई कीर्ति भट्ट व एसआई बसंत पंत मौके पर पहुचे। शादी को छह माह का समय होने के कारण तहसीलदार जगमोहन त्रिपाठी, राजस्व निरीक्षक अशोक कुमार भी मौके पर पहुंचे। मृतका के पिता अब्दुल शमी ने बताया कि पांच माह पूर्व जुलाई में उन्होंने मुस्लिम रीति रिवाज से अपनी पुत्री सना का विवाह मोहम्मद सलीम पुत्र अहमद हुसैन के साथ किया था। शादी के बाद से ही दामाद लगातार दूसरा निकाह करने को लेकर सना को प्रताड़ित कर रहा था। इधर बीती रात करीब 10 बजे उसकी सना के साथ बात भी हुई थी। तब वह पूरी तरह से स्वस्थ थी। रात करीब 11 बजे दामाद ने फोन कर सना की तबीयत खराब होने की बात बताते हुए कहा कि वह उसे मजार पर लेकर जा रहे हैं। जब उन्होंने अपने भाई को मजार पर भेजा तो मौके पर कोई भी मौजूद नहीं था। इसी बीच दामाद सलीम ने दोबारा फोन कर बताया कि सना की मौत हो गई है, जिसके बाद सभी लोग सना के ससुराल पहुंचे। जहां उनकी बेटी मृत अवस्था में पड़ी हुई थी।

यह भी पढ़ें : एसडीएम पर पत्नी ने लगाया दहेज उत्पीड़न का आरोप, पुलिस ने नहीं सुनी, अब कोर्ट के आदेश पर दर्ज किया मुकदमा..

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 11 दिसंबर 2020। जिन पर दूसरों को न्याय दिलाने की जिम्मेदारी होती है, उनके परिवारजनों को ही उन पर आरोप लगाकर न्याय दिलाने की गुहार लगानी पड़े तो क्या कहेंगे। एक एसडीएम पर उसकी पत्नी ने दहेज के लिए उत्पीडन करने व जबरन तलाकनामे पर हस्ताक्षर करवाने का प्रयास करने आरोप लगाने का मामला प्रकाश में आया है। आरोपित एसडीएम का विवाह दो वर्ष पूर्व ही हुआ था। पीड़िता ने पुलिस से शिकायत की, लेकिन पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया। इस पर पत्नी को न्यायालय की शरण लेनी पड़ी है। अब न्यायालय के आदेशों पर पुलिस ने पति सहित सात ससुरालियों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर लिया है। बताया गया है कि आरोपित यूपी में एसडीएम है।
पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार निकटवर्ती दानपुर, कीरतपुर निवासी रिंकी नाम की विवाहिता ने न्यायालय को सौंपे शिकायती पत्र में कहा था कि उसका विवाह 15 दिसंबर 2018 को यूपी के थाना और जिला देवरिया के ग्राम मूड़ाडीह निवासी अरुण कुमार गौड़ पुत्र राम चंद्र गौड़ से हुआ था। उसका पति अरुण कुमार गौड़ वर्तमान में एसडीएम के पद पर तैनात है। पति के पद के अनुरूप उसके परिजनों ने शादी में 30 लाख रुपए नगद और कार सहित लाखों रुपए के जेवरात तथा अन्य सामान दहेज में दिये थे। इसके बावजूद पति ने विवाह के बाद पति ने हनीमून पर गोवा से ही उसके साथ अभद्रता पूर्ण व्यवहार शुरू कर दिया था। गोवा से वापस आने के बाद पति के साथ ही ससुर तथा अन्य परिजन दिलीप कुमार, मंजू देवी, शशि प्रभा, अजय कुमार और रंजीता देवी ने उससे 30 लाख रुपये और दहेज में लाने की मांग करते हुए मारपीट की। इधर सात अप्रैल 2020 को भी पति ने उससे मारपीट की और उसकी अश्लील फोटो भी खींची, तथा उसे घर से निकाल दिया। फिर भी 9 मई 2020 को पति दो सिपाहियों और चालक के साथ उसके मायके आया और मारपीट कर जबरन तलाकनामे पर हस्ताक्षर करने का प्रयास हुए लाइसेंसी पिस्टल दिखाकर घर से जबरन ले जाने लगा। शोर होने पर उसके मायके वालों ने उसे बचाया। मामले की शिकायत पुलिस से की, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। इधर, न्यायालय के आदेश पर पुलिस ने पति सहित सात ससुरालियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। कोतवाल एनएन पंत ने पत्रकारों को बताया कि मुकदमा दर्ज किया गया है। जांच की जा रही है, इसके बाद आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें : शादी के दो वर्ष के भीतर ही कर दी पत्नी की दहेज के लिए हत्या.. आरोपित पति को नहीं मिली जमानत…

नवीन समाचार, नैनीताल, 24 नवम्बर 2020। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजीव कुमार खुल्बे की अदालत ने दहेज के लिए हत्या करने के आरोपित का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया है। मंगलवार को मामले में आरोपित तल्ली हल्द्वानी पुरानी आईटीआई निवासी कृपाल सिंह पुत्र भगवान सिंह की अमानत अर्जी का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने बताया कि आरोपित के खिलाफ उसके ससुर दीवान सिंह बोरा पुत्र हरीश बोरा निवासी राम मंदिर, गणाई-गंगोली बेरीनाग की शिकायत पर दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोपित की शादी मई 2018 में शिकायतकर्ता की पुत्र रिचु से हुई थी। आरोपित पति एवं सास-ससुर रिचु को 10 लाख रुपए और दहेज की मांग करते हुए प्रताणित करते थे। जून 2019 में रिचु द्वारा एक पुत्री को जन्म दिया, जिसके बाद उत्पीणन और बढ़ गया। इस दौरान दिसंबर 2019 में बच्ची की भी मौत हो गई। इधर 10 मई 2020 को रिचु ने अपनी मां को फोन कर ससुरालियों के द्वारा 10 लाख रुपए की मांग किए जाने और अपनी जान का खतरा होने की सूचना दी। 11 मई को दामाद कृपाल खुद ससुराल आया और ट्रक खरीदने के लिए 10 लाख रुपए मांगे। इसके दो दिन बाद ही 13 मई की सुबह रिचु की उसकी ससुराल में जहर खाने से मौत हो गई। इस पर उसके खिलाफ भादंसं की धारा 304बी के तहत मुकदमा दर्ज हुआ। इस दलील पर न्यायालय ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

यह भी पढ़ें : पत्नी को दहेज की मांग पर जहर पिलाकर मारने के आरोपित पति की जमानत अर्जी खारिज

नवीन समाचार, नैनीताल, 29 सितंबर 2020। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजीव कुमार खुल्बे की अदालत ने पत्नी को दहेज की मांग पर जहर पिलाकर मारने के आरोपित पति की जमानत अर्जी खारिज कर दी। मंगलवार को जेल में बंद आरोपित के जमानत प्रार्थना पत्र का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि आरोपित जसवंत लाल पुत्र बिशन राम निवासी ग्राम पतलिया कोटाबाग ने गत एक जून की शाम अपनी पत्नी प्रेमा निवासी ग्राम बासी पोस्ट सौड़ कालाढुंगी को हाथ-पैर बांधकर मारा पीटा और जहर पिलाकर मार डाला। उनकी शादी करीब पांच वर्ष पूर्व हुई थी और पति पहले से ही पत्नी को कम दहेज लाने को लेकर प्रताणित करता था। मृतका ने मृत्यु के दो दिन पूर्व भी मायके में इसकी फोन पर शिकायत की थी। इन तथ्यों पर अदालत ने आरोपित की जमानत अर्जी को खारिज कर दिया। जबकि उसकी 75 वर्षीय मां नंदी देवी को उम्र एवं विशेष आरोप न होने के आधार पर जमानत दे दी।

यह भी पढ़ें : पहले पत्नी को बीड़ी से जलाता थी, फिर फिर पेट्रोल छिड़ककर आग ही लगा दी, अब लगाई जमानत के लिए गुहार…

नवीन समाचार, नैनीताल, 24 सितंबर 2020। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजीव कुमार खुल्बे की अदालत ने शुक्रवार को पत्नी पर शक करने व हत्यारोपित पति गुड्डू के जमानत प्रार्थना पत्र को खारिज कर दिया। मामले में आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने न्यायालय के समक्ष तर्क दिया कि आरोपित गुड्डू पुत्र बाबू लाल निवासी रेशमा स्थान रामनगर की 11 वर्ष पूर्व इस्माइल पुत्र यूसुफ की पुत्र बबली से विवाह हुआ था। गत 11 अगस्त को बबली घर में 50 फीसद से अधिक जली हुई मिली। बाद में उसकी मौत हो गई। गुड्डू पर आरोप है कि उसने पहले शराब पीकर पत्नी से मारपीट की और फिर पेट्रोल छिड़ककर उस पर आग लगा दी। वह अपनी पत्नी पर शक करता था और उस पर नजर रखने के लिए घर में सीसीटीवी कैमरे लगाए थे और उसकी रिकॉर्डिंग अपने मोबाइल ने जोड़ी थी पर घटना के कुछ दिन पूर्व कैमरे हटा दिए थे। वह अपनी पत्नी के शरीर को बीड़ी से जलाकर भी मारपीट करता था। मृत्यु से पूर्व बबली ने पड़ोसियों को बताया था कि पति के शारीरिक व मानसिक शोषण से अत्यधिक परेशान होकर उसने ऐसा कदम उठाया। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित पति की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

यह भी पढ़ें : नैनीताल की बेटी ने दून निवासी पति व ससुरालियों पर लगाया दहेज उत्पीड़न का आरोप

नवीन समाचार, नैनीताल, 14 अगस्त 2020। नगर के मल्लीताल निवासी एक महिला ने अपने ससुराल पक्ष पर दहेज उत्पीड़न का गंभीर आरोप लगाते हुए पुलिस में शिकायत की है। महिला का कहना है कि उसकी शादी देहरादून निवासी युवक के साथ नवंबर 2018 में हुई थी। शादी के बाद से ही ससुराल वाले दहेज के लिए उस पर दबाव बनाकर शारीरिक व मानसिक उत्पीड़न करने लगे थे। शादी के एक साल के बाद भी वे नहीं सुधरे तो उसने मायके वालों को जानकारी दी और 5 अक्टूबर 2019 को ससुराल में झगड़ा होने के बाद वह मायके चली आई। अब उसने कोतवाली पुलिस से कार्यवाही की मांग की है। इधर कोतवाली पुलिस ने महिला की तहरीर के आधार पर मामले की रिपोर्ट महिला हेल्पलाइन को भेज दी है, जिसके बाद आगे की कार्रवाई होगी।

यह भी पढ़ें : पति से फोन पर हुए विवाद पर नवविवाहिता ने मायके में गटका जहर, मौत..

-10 माह पूर्व ही हुआ था विवाह, लॉक डाउन से अपनी मां की देखरेख के लिए मायके में ही रह रही थी नवविवाहिता
-मायके वालों ने पति व ससुराल पक्ष पर लगाये प्रताड़ना के आरोप, पति द्वारा फोन पर मायके वालों पर कुछ कह देने से थी नाराज
नवीन समाचार, नैनीताल, 12 जुलाई 2020। मुख्यालय के समीपवर्ती घुघुसिंगड़ी क्षेत्र में लॉक डाउन से अपनी बीमार मां की देखरेख के लिए मायके में रह रही, मात्र 10 माह पूर्व ही विवाहित हुई, एक नवविवाहिता ने फोन पर पति द्वारा उसके मायके वालों के लिए कुछ गलत कह दिये जाने पर अवसाद में घर में रखा कीटनाशक गटक लिया। परिजन उपचार के लिए उसे बीडी पांडे जिला चिकित्सालय लेकर पहुंचे। यहां उपचार के दौरान रविवार सुबह उसकी मौत हो गयी। पुलिस ने तहसीलदार की मौजूदगी में उसका पंचनामा कर शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है। इधर मायके पक्ष के लोगों ने अभी कोई तहरीर तो नहीं सोंपी है, अलबत्ता उन्होंने आरोप लगाया है कि ससुराल पक्ष के लोग और पति शादी के बाद से ही उससे मारपीट और गाली-गलौज करते थे।
जानकारी के मुताबिक घुघु सिगड़ी निवासी 22 वर्षीय पूजा बिष्ट पुत्री गोधन सिंह बिष्ट का विवाह 10 माह पूर्व धनपुर कालाढूंगी निवासी नरेश बिष्ट से हुआ था। नरेश हिमांचल प्रदेश में किसी कंपनी में कार्यरत है। इधर लॉक डाउन के दौरान पूजा की मां की तबियत बिगड़ी तो देखभाल के लिए वह मायके चली आयी। शनिवार को पूजा अपने पति से फोन पर बात कर रही थी कि पति ने उससे और उसके मायके पक्ष के लोगों को लेकर गाली-गलौज कर दी। जिससे गुस्से में आकर पूजा ने घर पर रखा कीटनाशक गटक लिया। परिजनों को जब यह पता लगा तो वह उसे लेकर बीडी पांडे जिला चिकित्सालय पहुंचे। जहां उसे उपचार दिया जा रहा था। रविवार सुबह उपचार के दौरान अचानक उसकी तबियत बिगडने के बाद उसकी मौत हो गयी। पूजा के पिता का आरोप है कि ससुराल पक्ष और पति उससे अक्सर मारपीट करते थे, जिससे उसने ऐसा आत्मघाती कदम उठा लिया। सूचना के बाद तहसीलदार भगवान सिंह चौहान ने अस्पताल पहुंच कर परिजनों से पूछताछ की। उन्होंने बताया कि महिला के शव को पंयायतनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया हैं। इस मामले में फिलहाल कोई शिकायत प्राप्त नहीं हुई है।

यह भी पढ़ें : पत्रकार की पुत्री के दहेज हत्यारोपित फौजी पति को नहीं मिली जमानत

नवीन समाचार, नैनीताल, 26 मार्च 2019। मुक्तेश्वर के पत्रकार गंगा सिंह की पुत्री बिमला की बीते वर्ष 27 दिसंबर को अपनी पसंद से विवाह करने के आठ माह के भीतर ही मौत हो गयी थी। इस मामले में उसके फौजी पति गौरव सिंह, मौसेरी सास सरस्वती देवी व शादी में बिचौलिया रहे कृपाल सिंह के विरुद्ध मुक्तेश्वर पुलिस में मामला दर्ज हुआ था। तभी से जेल में बंद फौजी पति गौरव सिंह ने इधर अपनी जमानत के लिए अदालत में अर्जी दी थी।
मंगलवार को प्रभारी जिला जज प्रथम अतिरिक्त जिला जज विनोद कुमार की अदालत में जमानत अर्जी पर सुनवाई के दौरान जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने विरोध करते हुए बताया कि आरोपित 10 लाख रुपये की मांग कर रहे थे। दिसंबर माह में ही उन्हें 35 हजार रुपये दिये भी गये थे, बावजूद उन्होंने जहर पिलाकर बिमला की हत्या कर दी थी। उन्होंने सात गवाह भी पेश किये जिन्होंने आरोपों की पुष्टि की। इस पर न्यायालय ने जमानत अर्जी खारिज कर दी।

पूर्व समाचार : पत्रकार की पुत्री की दहेज हत्या के प्रकरण का आरोपी पहुँचा जेल

दान सिंह लोधियाल @ नवीन समाचार, धानाचूली, 7 जनवरी 2019। मुक्तेश्वर थाने क्षेत्र में हुई पत्रकार की पुत्री की दहेज हत्या के मुख्य आरोपी गौरव सिंह को आज कोर्ट में पेश किया गया। जहाँ से उसे जेल भेज दिया गया है। सोमवार को विवेचना अधिकारी सीओ आरएस नबियाल ने यह जानकारी देते हुए बताया कि आगे की जाँच जारी रहेगी।
उल्लेखनीय है 26 दिसंबर धानाचूली निवासी गंगा सिंह बिष्ट की पुत्री विमला बिष्ट की संदिग्ध हालत में मौत होने पर मृतका के पिता द्वारा अपने दामाद गौरव सिंह, उसकी नानी एक अन्य के खिलाफ दहेज हत्या का भादस की धारा 304 बी के तहत थाना मुक्तेश्वर में मुकद्दमा दर्ज कराया गया था। मामले की विवेचना सीओ भवाली आरएस नबियाल द्वारा की जा रही है। पीएम रिपोर्ट मिलने के उपरांत मुख्य आरोपित गौरव को बीते रविवार को गिरफ्तार कर लिया था। इधर मृतका के पिता गंगा सिंह बिष्ट ने आरोप लगाया है कि उनकी पुत्री के पांव में गले में चोट के निशान थे, उसको मारपीट कर जहर देकर मारा गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि आरोपी के द्वारा धनबल का प्रयोग करके पीएम रिपोर्ट पर भी छेड़छाड़ की गई है। उन्होंने अन्य आरोपितों के गिरफ्तारी न होने पर भी संदेह जताया है।

सीओ को ज्ञापन सोंपते मुख्यालय के पत्रकार।

पत्रकार की पुत्री की दहेज के लिए हत्या पर पत्रकारों में आक्रोश

नवीन समाचार, नैनीताल, 29 दिसंबर 2018। जनपद के धानाचूली से एक समाचार पत्र के लिए पत्रकारिता करने वाले पत्रकार गंगा सिंह बिष्ट की नवविवाहिता पुत्री की दो दिन पूर्व ससुरालियों ने दहेज के लिए हत्या कर दी है। इससे जनपद भर के पत्रकारों में आक्रोश है। शनिवार को इस संबंध में धानाचूली क्षेत्र के पत्रकारों द्वारा थाना मुक्तेश्वर पहुंचकर आरोपित ससुरालियों के खिलाफ तहरीर दी, जिस पर भारतीय दंड संहिता की धारा 304 बी के तहत मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया। तहरीर में बताया गया है कि बेटी के ससुराली 10 लाख रुपये की मांग कर रहे थे। मृत्यु से कुछ देर पूर्व बेटी ने अपनी पूरी होने जा रही कन्याधन की पासबुक के बारे में भी जानकारी ली थी। यानी ससुराली उसका कन्याधन भी हड़पना चाह रहे थे। इधर मुख्यालय के पत्रकारों ने भी इस मुद्दे पर पुलिस क्षेत्राधिकारी विजय थाप के माध्यम से एएसपी को ज्ञापन दिया एवं दहेज हत्या के आरोपितों को शीघ्र गिरफ्तार कर जेल की सलाखों के पीछे पहुंचाने की मांग की। इस मौके पर नवीन जोशी, कमल जगाती, अजमल हुसैन, दीवान बिष्ट, सुरेश कांडपाल, सुनील बोरा, भूपेंद्र रावत, मनीश उपाध्याय आदि पत्रकार मौजूद रहे।

उल्लेखनीय है कि प्रमुख दैनिक समाचार पत्रों ने अपनी ही बिरादरी के एक पत्रकार के साथ घटी इतनी बड़ी दुर्घटना का दुःख बांटने तक की इंसानियत नहीं दिखाई और बहुत ही ‘हल्की’ खबर लगाई। इस पर भी पत्रकारों में कड़ा आक्रोश है।

पूर्व समाचार : दहेज की बलि चढ़ी समाचार पत्र प्रतिनिधि की पुत्री, फौजी पर लगा दहेज हत्या का आरोप

मुक्तेश्वर थाने के सुनकिया गांव की है घटना, हल्द्वानी में इलाज के दौरान हुई नवविवाहिता की मौत, इसी वर्ष 9 मार्च को हुई थी शादी
नवीन समाचार, धानाचूली, 28 दिसंबर 2018। मुक्तेश्वर थाना क्षेत्र के सुनकिया गांव में एक नव विवाहिता घरेलू हिंसा की भेंट चढ़ गयी। मृतका के पिता के द्वारा अपनी पुत्री के ससुरालियों, उसके फौजी पति आदि पर दहेज हत्या करने का आरोप लगाया गया है, तथा उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी की जा रही है। मृतका की इसी वर्ष मार्च माह में ही शादी हुई थी। उधर मृतका का पोस्टमार्टम कराने के बाद अंतिम संस्कार रानीबाग में कर दिया गया है। मृतका के पिता हल्द्वानी से प्रकाशित एक दैनिक समाचार पत्र के प्रतिनिधि हैं।
प्राप्त जानकारी के अनुसार धानाचूली निवासी गंगा सिंह बिष्ट की पुत्री विमला बिष्ट (22) का विवाह मुक्तेश्वर थाना क्षेत्र के लेटीबुंगा निवासी हिम्मत सिंह उर्फ पहाड़ी के फौज में कार्यरत पुत्र गौरव सिंह के साथ इसी वर्ष मार्च माह में हुआ था। अब यह परिवार सुनकिया गांव में रहता है। बताया गया है कि बृहस्पति को विमला ने अपने पिता को फोन कर उसे मायके ले जाने को कहा था, साथ ही अपने पति व सास पर मारपीट करने की बात भी कही थी। इस पर उसके पिता गंगा सिंह द्वारा उसको लेने के लिए अल्टो कार भेजी। जिस पर उसे पता चला कि उसकी बेटी ने जहर खा लिया है। आनन-फानन में बिमला का पति उसे कार से सरगाखेत मुक्तेश्वर के चिराग अस्पताल में ले गया। जहां से उसे पहले पदमपुरी अस्पताल और वहां से हल्द्वानी के सुशीला तिवारी चिकित्सालय रेफर कर दिया गया। जहां उसने बृहस्पतिवार रात्रि में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। इधर शुकवार को उसका पीएम कराया गया। जिसके बाद उसका गमगीन माहौल में रानीबाग चित्रशिला घाट में अंतिम संस्कार कर दिया गया।

बेटी के अंतिम शब्द: पापा काश मैं आपकी बात मान लेती, ये लोग मुझे मार डालेंगे !
धानाचूली। सूत्रों के अनुसार बेटी के अंतिम शब्द थे – पापा जल्दी यहां आ जाओ, नहीं तो ये लोग मुझे मार डालेंगे। इस पर पापा बोले, बेटा तू चिंता मत कर, मैंने गाड़ी भेज दी है। पहले घर आ जा, फिर देखेंगे क्या करना है। साथ ही वह बार-बार यही कहती रही कि मैंने यहां शादी करके गलती की। काश, मैं आपकी बात मान लेती तो ये दिन नही देखना पड़ता। मेरी जिंदगी खराब हो गयी। यह आखरी शब्द मृतका विमला के थे। इसके बाद वह नही बोली। बताया जा रहा है विमला ने अपने परिजनों की इच्छा के विपरीत अपनी पसंद से विवाह किया था।

Leave a Reply