यह सामग्री कॉपी नहीं हो सकती है, फिर भी चाहिए तो व्हात्सएप से 8077566792 पर संपर्क करें..

नैनीताल समाचार : नगर पालिका के एक पर्यावरण मित्र कर्मी की संदेहास्पद मृत्यु

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवीन समाचार, नैनीताल, 24 अक्तूबर 2019। बुधवार रात्रि नगर में नगर पालिका के एक पर्यावरण मित्र कर्मी की संदेहास्पद तरीके से मृत्यु हो गई। मल्लीताल कोतवाली पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार 40 वर्षीय बिजेंद्र पुत्र स्वर्गीय सुंदर लाल अपने घर में सोया था। सोते हुए ही वह अचेत हो गया। इस पर परिजन उसे बीडी पांडे जिला चिकित्सालय ले कर आये, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस के एचसीपी सत्येंद्र गंगोला मृत्यु का कारण जानने के लिए शव को पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा रहे है।

यह भी पढ़ें : नैनी झील में मिले अज्ञात शव की हुई शिनाख्त..

नवीन समाचार, नैनीताल, 18 अक्तूबर 2019। नैनी झील में बृहस्पतिवार को पुलिस ने 40-45 वर्ष की उम्र के अज्ञात व्यक्ति का शव बरामद किया गया था। नाव चालकों ने झील में शव देखे जाने पर इसकी सूचना मल्लीताल कोतवाली पुलिस को दी। पुलिस के अनुसार शव काफी सड़-गल चुका है, और इससे दुर्गंध आ रही थी। इधर दूसरे दिन, शुक्रवार सुबह शव की शिनाख्त नगर के ब्रेसाइड निवासी 43 वर्षीय महेंद्र दयाल के रूप में हुई। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सोंप दिया है।
पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार बृहस्पतिवार को ही नगर के ब्रेसाइड निवासी सुरेंद्र दयाल ने अपने भाई महेंद्र दयाल के गत 14 अक्तूबर से गायब होने की सूचना मल्लीताल कोतवाली में दी थी। बताया था कि महेंद्र मानसिक रूप से कमजोर और तनाव में रहता था। 14 की शाम 6 बजे वह घर से बिना बताये कहीं चला गया था। इधर शुक्रवार को सुरेंद्र ने शव की शिनाख्त अपने भाई के रूप में की। 

यह भी पढ़ें : दिल दहलाने वाला हादसा ! शैतानी में युवक ने ऊपर से गिलास रखकर फोड़ दिया दिवाली का बम, टुकड़ा पेट में गढ़ने से मौत

नवीन समाचार, गदरपुर, 14 अक्टूबर 2019। उत्तराखंड के ऊधमसिंह नगर जनपद के गदरपुर कस्बे में सोमवार को दिल दहलाने वाला वाकया प्रकाश में आया। यहां सरकारी अस्पताल में मैकेनिक का काम करने वाले एक 18 वर्षीय युवक अरविंद पुत्र श्याम लाल को लहूलुहान अवस्था में लेकर पहुंचे उसके परिजनों का कहना था कि उसने अनार बम नाम का पटाखे को ऊपर से शैतानी में स्टील का गिलास रखकर जला दिया। इससे स्टील के गिलास के परखच्चे उड़ गए और गिलास का एक टुकड़ा उसके पेट में गढ़ गया। गंभीर स्थिति को देखते हुए उसे अस्पताल से रेफर कर दिया गया, किंतु इसी दौरान उसने दम तोड़ दिया।
हालांकि सिडकुल चौकी पुलिस मामले को संदिग्ध बता रही है। पुलिस के अनुसार मृतक के पेट में घाव बड़ा नहीं था। लिहाजा उसकी मौत का कारण संदिग्ध है। उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पोस्टमार्टम के बाद ही मृत्यु का असली कारण पता चलेगा। बहरहाल, हमारा अपने पाठकों से यही कहना है कि आगामी दिवाली के त्योहार में पहले तो पटाखे न जलाएं। और ऐसी हरकतें तो बिल्कुल भी न करें।

यह भी पढ़ें : हृदयविदारक: बाप-बेटी ने एक-दूसरे की कद्र करते हुए जहर खाकर दे दी जान

नवीन समाचार, कोटद्वार, 10 अक्तूबर 2019। उत्तराखंड के कोटद्वार से एक पिता-पुत्री के प्रेम, एक-दूसरे की कद्र-परवाह करते हुए विषपान कर जान दे देने की हृदयविदारक घटना प्रकाश में आई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार शहर के सनेह लालपानी क्षेत्र में रहने वाले 60 वर्षीय भीम सिंह भंडारी को गुर्दे के तकलीफ थी। दो माह पूर्व उनका दिल्ली के एक अस्पताल में गुर्दे का ऑपरेशन भी हुआ था। बावजूद परेशानी पूरी तरह से समाप्त नहीं हुई थी। इस पर उनकी 20 वर्षीया बेटी शिवानी उनकी देखभाल करती थी, और लगातार परहेज करने आदि की हिदायत भी देती थी। बताया जा रहा है कि मर्ज ठीक न होता देख भीम सिंह ने बुधवार दोपहर अपनी परेशानी से परिवार को हो रही परेशानी को देखते हुए विषपान करके जान दे दी। बेटी शिवानी ने यह सब देखा तो उसने भी पिता के पीछे विषपान करके अपनी जान दे दी। इस घटना से पीड़ित परिवार में घटना के दौरान कहीं गई मां और दो बेटियों के साथ ही हर कोई स्तब्ध है। हर कोई पिता-पुत्री के इस तरह जान देने और परिवार में बची मां व दो बेटियों के भविष्य के प्रति चिंता जता रहा हैं

यह भी पढ़ें : आत्महत्या करने वाले व्यक्ति का शव लेने पहुंची पांच महिलाएं, सबने बताया अपना पति..

नवीन समाचार, हरिद्वार, 2 अक्तूबर 2019। हरिद्वार के एक अस्पताल में एक व्यक्ति की आत्महत्या करने के बाद मृत्यु हो गई। किंतु मामला तब अजीबोगरीब हो गया, जब एक के बाद एक पांच महिलाएं खुद को उसकी पत्नी बताकर उसका शव लेने पहुंच गयीं।
हरिद्वार कोतवाली के पुलिस इंस्पेक्टर प्रवीण सिंह कोश्यारी के हवाले से बताया गया है कि मृतक हरिद्वार के ऋषिकुल का रहनेवाला था। वह शादीशुदा था और ड्राईवर का काम करता था। उसने रविवार की रात को जहरीला पदार्थ खाकर खुदकुशी की कोशिश की थी। उसकी पत्नी ने उसे बेहोशी की हालत में असपताल में भर्ती कराया था, जहां उपचार के दौरान “सोमवार तड़के चार बजे उसने दम तोड़ दिया। किंतु सुबह करीब 9 बजे के बाद एक के बाद एक चार अन्य महिलाएं शव लेने के लिए अस्पताल पहुंच गईं और उन्होंने मृतक की पत्नी होने का दावा किया। किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाने और सभी पांचों महिलाओं के गरीब होने व किसी के पास ही विवाह प्रमाण पत्र न होने के कारण पुलिस ने उनसे सुलह कर उस युवक का अंतिम संस्कार करने को कहा। सहमति न बनने पर आखिरकार उन लोगों ने पुलिस की निगरानी में दाह-संस्कार कर दिया।

यह भी पढ़ें : हृदयविदारक : ब्याज पर लिए कर्ज व सोने के कारोबार में आई गिरावट ने ली युवक की जान !

मृतक के मासूम बच्चे।

नवीन समाचार, नैनीताल, 11 सितंबर 2019। बुधवार सुबह नगर के मल्लीताल पॉपुलर कंपाउंड क्षेत्र का जौहरी का कारोबार करने वाला एक मात्र 38 वर्षीय युवक फंदे से लटका हुआ मिला। प्रारंभिक जानकारी के अनुसार युवक द्वारा मृत्यु को असमय गले लगाने का कारण ब्याज पर लिये कर्ज पर हो रहे लगातार तकादे और इन दिनों देश भर में सोने के कारोबार में आई गिरावट है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मोहित वर्मा (38) पुत्र राम अवतार वर्मा का शव बुधवार सुबह 6 बजे घर से मॉर्निंग वॉक पर घूमने निकला था। बाद में करीब 10 बजे घर के पास ही केएमवीएन द्वारा संचालित अप्पू घर के बंपिंग कार यार्ड में उसका शव दुपट्टे से लटका हुआ मिला। सूचना मिलते ही मल्लीताल के थाना प्रभारी अशोक कुमार सिंह, एसएसआई भुवन चंद्र मासीवाल व एसआई दीपक बिष्ट मौके पर पहुंचे और शव को फंदे से उतारकर पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। इससे पूर्व वह पुलिस को अप्पू घर की वीडियो फुटेज में वहीं घूमता व कुछ तलाशता सा देखा गया। पुलिस के द्वारा माना जा रहा है कि वह आत्महत्या करने के लिए स्थान तलाश रहा था। बताया जा रहा है कि मृतक पर करीब 50 हजार रुपए का कर्ज था, जिस पर लगातार तकादे हो रहे थे, जबकि देश भर में सोने की बढ़ती कीमतों के कारण खरीददारी घटने से काम मिलना मुश्किल हो गया था। संभवतया इस कारण ही उसने मौत को गले लगाया हो। मृतक के मात्र 10 वर्ष का पुत्र शौर्य व 3 वर्ष की बेटी त्रिषा है। उसकी मृत्यु के बाद भाई रंगकर्मी रोहित वर्मा व पत्नी आरती का रोते-रोते बुरा हाल है।

मां का कर्ज उतार रहा था

नैनीताल। मृतक मोहित वर्मा के पिता की मृत्यु काफी पहले ही, जबकि माता की मृत्यु करीब 4 वर्ष पूर्व हुई थी। तब से वह स्वयं ही मल्लीताल इंदिरा मार्केट सहित एक स्वर्णकार की दुकान के साथ ही घर पर भी जौहरी का कार्य करके कड़ी मेहनत से घर चला रहा था। बताया गया है कि वह अपनी स्वर्गीय मां द्वारा लिया गया कुछ कर्ज भी चुका रहा था। उसने बीती शाम अपनी रिस्ते की एक बहन से करीब 50 हज़ार रुपये के कर्ज को लेकर बात भी की थी, लेकिन अपनी पत्नी व भाई आदि को अपनी समस्या से अवगत नहीं कराया था। अभी बीती 31 अगस्त को उसने अपना जन्मदिन मनाया था।

Leave a Reply

Loading...
loading...