Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

नैनीताल पर फिर फंसे भाजपा-कांग्रेस के पेंच, कांग्रेस में हरिद्वार पर भी संशय

Spread the love

कोश्यारी के टिकट पर टिकीं कांग्रेस की निगाहें, भगतदा नैनीताल से नहीं उतरे तो नैनीताल से लड़ेंगे हरीश रावत

नवीन समाचार, नैनीताल, 20 मार्च 2019। कांग्रेस में पांचों सीटों को लेकर प्रत्याशियों की तस्वीर साफ हो गयी है, लेकिन नैनीताल सीट को लेकर अभी प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की जा रही है। कांग्रेस के जिम्मेदार सूत्रों का कहना है कि भगत सिंह कोश्यारी के चलते अभी दो सीटों पर निर्णय नहीं हो पा रहा है। उल्ललेखनीय हैै कि इससे पूर्व नैनीताल सीट के लिये अजय भट्ट द्वारा अपने समर्थकों को ‘जुटने’ का इशारा भी कर दिया था। किंतु यह भी सच्चाई है कि नामांकन के लिये केवल आज 20 मार्च, 23 मार्च व 25 मार्च की तिथियां ही बची हैं और अब तक भाजपा-कांग्रेस के किसी संभावित प्रत्याशी ने नामांकन पत्र भी नहीं खरीदे हैं।

उल्लेखनीय है कि नैनीताल के वर्तमान सांसद भगत सिंह कोश्यारी चुनाव लड़ने में अनिच्छा जता चुके हैं। ऐसे में इस बात पर असमंजस की स्थिति है कि भाजपा वहां से भगतदा को ही उतारती है या फिर प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट को उम्मीदवार बनाती है। इसी पर कांग्रेस का सारा गुणा-भाग चल रहा है। बताया जा रहा है कि हरीश रावत ने दो जगह नैनीताल और हरिद्वार से दावेदारी की है। अगर कोश्यारी को भाजपा नैनीताल से उतारती है तो रावत हरिद्वार से लड़ेंगे और अगर भाजपा कोश्यारी के बजाय किसी को और को नैनीताल में प्रत्याशी बनाती है तो हरीश रावत नैनीताल से लड़ेंगे। सूत्रों का कहना है कि भाजपा का पेंच भी नैनीताल पर ही फंसा हुआ है। इस सीट पर भगत सिंह कोश्यारी को सबसे मजबूत उम्मीदवार माना जा रहा है। बताया जा रहा है कि भाजपा इस चुनाव में किसी भी सीट पर रिस्क लेने की स्थिति में नहीं है और हर सीट पर सबसे मजबूत दावेदार पर ही दांव लगाने के लिए पार्टी पहले ही तय कर चुकी है। कोश्यारी द्वारा चुनाव लड़ने से अनिच्छा जताने के पीछे यह भी बताया जा रहा है कि उन्हें केंद्र में मंत्री बनाते-बनाते पार्टी ने निर्णय बदल दिया था। इस बात से वे आहत भी बताये जा रहे हैं। बताया तो यह भी जा रहा है कि वे पार्टी के निर्णय को मानेंगे और सरकार बनने की स्थिति में अपने मंत्री पद को पक्का करना चाहते हैं। बहरहाल भाजपा नैनीताल पर क्या निर्णय लेती है यह तो प्रत्याशियों की घोषणा के बाद ही सामने आएगा, लेकिन इसकी वजह से कांग्रेस भी अधर में लटकी हुई है।

यह भी पढें : टिकट की घोषणा नहीं, पर इस सीट पर कमाबेश साफ हुई भाजपा-कांग्रेस के प्रत्याशियों की स्थिति

नवीन समाचार, देहरादून, 18 मार्च 2019। सोमवार को उत्तराखंड में पांचों संसदीय सीटों पर पहले चरण में 11 अप्रैल को होने वाले चुनाव के लिये आज अधिसूचना जारी होने के साथ ही नामांकन पत्र भरने की प्रक्रिया शुरू हो गयी। पूरे दिन खासकर भाजपा व कांग्रेस के द्वारा अपने प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की गयी। पहले दिन आज किसी भी प्रत्याशी ने अपना नामांकन पत्र नहीं भरा लेकिन पांचों सीटों, हरिद्वार, टिहरी, पौडी, अल्मोडा और नैनीताल पर 48 उम्मीदवारों ने फार्म खरीदे। इन फार्मों से खासकर पौड़ी सीट पर भाजपा-कांग्रेस के संभावित प्रत्याशियों के बारे में बात काफी साफ हो गयी।
दरअसल यहां नामांकन पत्र खरीदने वालों में प्रमुख रूप से कांग्रेस की तरफ से मनीष खंडूरी और भाजपा की तरफ से पार्टी के राष्ट्रीय सचिव तीरथ सिंह रावत शामिल रहे। माना जा रहा है कि दोनों अपने दलों से प्रत्याशी घोषित हो सकते हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी सौजन्या ने बताया कि पांचों सीटों पर चुनाव लड़ने के इच्छुक प्रत्याशी 25 मार्च तक हर कार्य दिवस पर प्रातः 11 बजे से लेकर अपराह्न तीन बजे तक नामांकन पत्र भर सकेंगे।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड: भाजपा-कांग्रेस से इन नेताओं टिकट करीब पक्के, कभी भी हो सकती है घोषणा

नवीन समाचार, नई दिल्ली, 17 मार्च 2019। उत्तराखंड में सभी पांच सीटों पर पहले चरण में 11 अप्रैल को मतदान होना है। इसके लिए सोमवार 18 मार्च से ही नामांकन प्रक्रिया प्रारंभ हो जाएगी। यह प्रक्रिया शुरू होने के लिए जबकि अब कुछ ही घंटों का समय शेष है, सत्तारूढ़ भाजपा व कांग्रेस दोनों दलों की ओर से प्रत्याशियों की घोषणा में देरी हो रही है। दोनों दल इस हेतु ‘पहले आप, पहले आप’ की रणनीति पर भी चलते नजर आ रहे हैं, ताकि दूसरे दल के प्रत्याशी के आधार पर अपने प्रत्याशी तय कर सकें। बहरहाल, दोनों पार्टियों से जुड़े भरोसेमंद उच्च पदस्थ सूत्रों मिली जानकारी के अनुसार निम्न प्रत्याशियों को टिकट देने की घोषणा किसी भी समय हो सकती है।

भाजपा:
अल्मोड़ाः अजय टम्टा
हरिद्वार: डा. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’
टिहरी: महारानी माला राज्यलक्ष्मी शाह
नैनीताल: अजय भट्ट
पौड़ी: तीरथ सिंह रावत

कांग्रेस:
अल्मोड़ा: प्रदीप टम्टा
हरिद्वार: हरीश रावत
नैनीताल: डा. महेंद्र पाल
पौड़ी : मनीश खंडूड़ी
टिहरी: प्रीतम सिंह

यह भी पढ़ें : सूचियों के बार-बार बदलने-नाम छूटने का मामला पहुंचा हाई कोर्ट, आधार कार्ड से जोड़ने की भी हुई मांग

नवीन समाचार, नैनीताल, 15 मार्च 2019। चुनावों में बार-बार मतदाताअ सूचियों को बदलने की वजह से अनेक लोगों के नाम छूट जाने की अक्सर आने वाली शिकायतों का मामला उत्तराखंड उच्च न्यायालय के दरबार में पहुंच गया है। इस संबंध में देहरादून निवासी रविन्द्र जुगरान ने उच्च न्यायालय में जनहित याचिका दायर की है। याचिका में नाम छूटने की शिकायत के साथ ही मतदाता पहचान पत्रों को आधार कार्ड से जोड़ने की मांग भी की गयी है। न्यायमूर्ति आलोक सिंह की एकलपीठ ने मामले की सुनवाई की। इस दौरान केंद्रीय चुनाव आयोग के अधिवक्ता के मौजूद नहीं होने के कारण एकलपीठ ने सुनवाई की अगली तिथि सोमवार की तिथि नियत कर दी है।
जुगरान ने याचिका दायर कर कहा है कि पिछले विधान सभा के चुनाव में लाखों लोगांे ने वोट दिया था परंतु निकाय चुनाव में उन में में से कई के नाम बिना उनको सुने हटा दिये गये, जोकि भारतीय सम्विधान के अनुच्छेद 326 व जनप्रतिनिधि कानून के विरुद्ध है। इस संबंध में याची ने 19 दिसंबर 2018 को राज्य निर्वाचन आयोग को प्रत्यावेदन भी दिया था, जिस पर आयोग ने जाँच करने को भी कहा है। उन्होंने देश भर में लागू जीएसटी की तरह मतदाता पहचान पत्रों को आधार से जोड़ने की मांग की है। साथ ही कहा है कि निकाय, विधानसभा व लोक सभा चुनावों में हर बार अलग-अलग मतदाता सूचियां तैयार करना नियम विरुद्ध है। आधार से जुड़ने पर बार-बार सूचियों को बदलने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी, और जनता का पैंसा भी बचता।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड के एक डीएम का मतदाता जागरूकता गीत हुआ हिट, देखें-सुनें…

नवीन समाचार, चंपावत, 14 मार्च 2019। कुछ बिरले लोग ऐसे भी होते हैं जो अपने कार्य के साथ ही कला के क्षेत्र में भी अच्छा दखल रखते हैं। ऐसे ही एक प्रशासनित अधिकारी हैं उत्तराखंड के चंपावत जिले के डीएम के पद पर कार्यरत आईएएस रणवीर सिंह चौहान। नैनीताल जिले के सीडीओ रहते आईएएस ने ष्नैनीताल सिटी एंथमष्.ये नैनीताल है स्वयं गाकर और उसमें एक्ट भी करके तैयार किया था। इसे आज भी नैनीताल में नैनीताल के स्थापना दिवस व नैनीताल विंटर कार्निवाल तथा गर्मियों के सीजन में कई सार्वजनिक मौकों पर बजाया जाता है। इंटरनेट पर भी वह गीत खासा हिट है। वहीं अब उन्होंने भारत सरकार के स्वीप कार्यक्रम के तहत एक मतदाता जागरूकता अभियान का गीत तैयार किया हैए जो उत्तराखंड में मतदाता जागरूकता के लिए थीम सोंग के तौर पर पुनः काफी पसंद किया जा रहा है। गीत के बोल हैंरू ष्हक है जो तेरा कर ले तू उसको अदाए अपनी शक्ति को अब तो तुम पहचान लो.वोट दोए अब की बार ये मौका ना हाथ से जाने दोष्

यह भी पढ़ें : कांग्रेस ने ढूंढी भाजपा के ‘राष्ट्रवाद’ की काट, एनएसयूआई ने भी तय किया यह नया एजेंडा

-‘बेहतर भारत’ एजेंडे के साथ विद्यार्थियों के बीच जाएगी एनएसयूआई
नवीन समाचार, नैनीताल, 12 मार्च 2019। भाजपा के ‘राष्ट्रवाद’ के बरक्श कांग्रेस पार्टी भी पार्टी की नई बनीं महासचिव प्रियंका बाड्रा गांधी के आगामी लोकसभा चुनावों के मद्देनगर दिये नये ‘देशभक्ति’ के एजेंडे की राह पर चलने वाली है। वहीं कांग्रेस पार्टी का छात्र संगठन एनएसयूआई भी इसी रणनीति पर ‘बेहतर भारत एजेंडे’ की राह पर चलेगा। बुधवार को एनएसयूआई के प्रदेश महासचिव व नैनीताल जिला प्रभारी गोपाल मोहन भट्ट ने नगर के माल रोड स्थित शालीमार होटल में संगठन कार्यकर्ताओं की बैठक ली और संदेश दिया कि सभी कार्यकर्ता ‘बेहतर भारत’ एजेंडे के साथ विद्यार्थियों के बीच जाएंगे और कॉलोजों की समस्याओं को दूर करेंगे। साथ ही उन्होंने आगामी 16 मार्च को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के उत्तराखंड आगमन पर सभी कार्यकर्ताओं से देहरादून पहुंचने का आह्वान भी किया। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने डीएसबी परिसर के छात्र संघ चुनाव में एनएसयूआई प्रत्याशी ललित बोरा के खिलाफ काले झंडे लेकर चुनाव लड़े लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की, इसे भट्ट ने स्वीकार करते हुए कहा कि संगठन विरोधी लोगों को कतई बर्दास्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने एनएसयूआई की नगर कार्यकारिणी को भंग करने की घोषणा भी की और कहा कि अतिशीघ्र नई कार्यकारिणी बनाई जाएगी। बैठक में जिला महासचिव शार्दूल नेगी, सोहित चंद्र, नीरज बोरा सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूर रहे।

Loading...

Leave a Reply