Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

उत्तराखंड में अगले वर्ष 2019 में लोकसभा के साथ हो सकते हैं विधानसभा चुनाव !

Spread the love

-मुख्यमंत्री रावत ने दिये संकेत, कहा उत्तराखंड ‘एक देश-एक चुनाव’ के लिये तैयार

नवीन समाचार, देहरादून, 9 दिसंबर 2018। ऑल इंडिया पब्लिक रिलेशन कॉन्फ्रेंस में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि ‘एक राष्ट्र-एक चुनाव’ देशहित में है। सभी राज्य सरकारों को पार्टी हित छोड़ राष्ट्रहित में एक राय बनानी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार पूरी तरह से इसकी पक्षधर है और इस बार प्रदेश के कॉलेज व विश्वविद्यालयों में एक दिन चुनावों का आयोजन भी इसी का प्रयोग था, जो पूरी तरह सफल रहा।

पब्लिक रिलेशन सोसायटी ऑफ इंडिया की ओर से शनिवार को सुभाष रोड स्थित एक होटल में तीन दिवसीय कॉन्फ्रेंस का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर सीएम ने कहा कि एक राष्ट्र-एक चुनाव के लिए आज से नहीं, बल्कि 1990 से प्रयास जारी हैं, लेकिन हर प्रदेश सरकार सहमति देने में हिचकती हैं। सभी को सोचना होगा कि इससे न सिर्फ देश पर चुनावों के नाम पर पड़ने वाला अतिरिक्त खर्च का बोझ कम होगा, बल्कि सरकारें निर्णय लेने में भी सक्षम होंगी। अलग-अलग चुनावों के अनुसार उन्हें निर्णय संबंधी दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा।  इस अवसर पर यूकॉस्ट के महानिदेशक डॉ. राजेंद्र डोभाल, एचआइएचटी के वाइस चांसलर डॉ. विजय धस्माना, पीआरएसआइ के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अजीत पाठक, दिलीप चौहान, निवेदिता बनर्जी, विमल डबराल समेत कई अन्य उपस्थित रहे।

सीएम त्रिवेंद्र रावत ने कहा, मैं हरीश रावत नहीं, जानें क्यों ?

उच्च स्तर के बाद अपने निचले स्तर की इस बीमारी पर करेगी त्रिवेंद्र सरकार प्रहार
सीएम ने कहा-उच्च स्तर पर भ्रष्टाचार रुका, अब निचले स्तर पर भी भ्रष्टाचार मुक्त होगी व्यवस्था

कार्यकर्ताओं-आम लोगों को संबोधित करते मुख्यमंत्री एवं उपस्थित मंचासीन लोग।

नैनीताल, 26 नवंबर 2018। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पिछली हरीश रावत सरकार पर तल्फ टिप्पणी करते हुए कहा वे हरीश रावत नहीं है। उन्होंने यह टिप्पणी नयी योजनाओं की घोषणाओं के संदर्भ में पूछे गये सवाल के जवाब में कही। उन्होंने कहा कि हरीश रावत की सरकार ने 4200 करोड़ रुपये की घोषणाएं कर दी थीं, जबकि उनकी जेब में मात्र 400 करोड़ रुपये थे। वे ऐसी घोषणाएं नहीं करते, जिन्हें पूरी कर सकते हैं।
इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पिछले डेढ़ वर्ष से अधिक के कार्यकाल में उन्होंने पारदर्शी सरकार देने का प्रयास किया है। साथ ही उनकी कोशिश है कि योजनाएं भ्रष्टाचार के बिना समयसीमा के भीतर पूरी हों। सरकार में उच्च स्तर पर भ्रष्टाचार रुका है, और अब निचले स्तर पर भी भ्रष्टाचार रोकने की योजना है। इस कोशिश में प्रदेश का कॉल सेंटर शीघ्र शुरू हो रहा है, जिसमें आने वाली शिकायतों का निश्चित समयसीमा के भीतर निवारण होगा। सेवा का अधिकार में भी 162 नयी सेवाओं को शामिल कर लिया गया है। अब 312 सेवाएं सेवा के अधिकार में शामिल हो गयी हैं। आगे और भी सेवाओं को इसमें जोड़ेंगे। समस्या का समाधान तभी माना जायेगा तथा समस्या बताने वाला व्यक्ति संतुष्ट हो जाए। महीने में एक बार वह स्वयं आने वाली शिकायतों को देखेंगे। उम्मीद की कि इसके बाद जनता को अपनी समस्याओं के लिए जनप्रतिनिधियों से सिफारिश नहीं लगानी पड़ेंगी और कार्य हो जाएगा।

मुख्यमंत्री का अभिनंदन करते भवाली के नवनिर्वाचित पालिकाध्यक्ष संजय वर्मा।

श्री रावत ने यह बातें सोमवार को मुख्यालय में नैनीताल क्लब स्थित शैले हॉल में आयोजित जनता दर्शन कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार के आने तक राज्य में 2.34 लाख परिवारों को बिजली उपलब्ध नहीं थी, जबकि अभी केवल 8790 परिवारों को भी बिजली नहीं मिल रही है। इधी 10 दिसंबर तक इन सभी परिवारों को भी बिजली उपलब्ध करा दी जाएगी। आज ही पौड़ी एवं ऊधमसिंह नगर एवं 28 नवंबर को नैनीताल जिले को पूर्ण विद्युत आच्छादित घोषित कर दिया जाएगा। स्वास्थ्य सुविधाओं पर कहा कि दूरस्थ जिलों में विशेषज्ञ चिकित्सकों को ‘मेरा सामाजिक दायित्व’ योजना के तहत सहयोग लेकर हेली सेवा से ले जाकर एवं टेली मेडीसन के जरिये चिकित्सा सुविधाएं एवं एयर एंबुलेंस सेवा भी उपलब्ध करायी जाएगी। बैठक में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक, भाजपा के प्रदेश महामंत्री गजराज बिष्ट, जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट, विधायक बंशीधर भगत, दीवान बिष्ट व नवीन दुम्का, हल्द्वानी के नवनिर्वाचित मेयर डा. जोगेंद्र रौतेला, भवाली के पालिकाध्यक्ष संजय वर्मा, मनोज साह, दिनेश आर्य, अनिल डब्बू, चंदन बिष्ट, अरविंद पडियार, गोपाल रावत, कुंदन बिष्ट, पूरन मेहरा, मनोज जोशी, डा. जेडए वारसी, नीतू बोहरा, कैलाश रौतेला सहित अनेक लोग मौजूद रहे। संचालन राकेश नैनवाल ने किया।

वरदान साबित होगा चीड़, 50 हजार लोगों को मिलेगा रोजगार

नैनीताल। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने दावा किया कि प्रदेश में अनेक समस्याओं का कारण बनने वाला चीड़ शीघ्र राज्य वासियों के लिए वरदान साबित होगा। राज्य में 3 से 4 रुपये प्रति किग्रा के भाव से पिरूल खरीदा जाएगा और इससे 150 मेगावाट बिजली के साथ ही रेजिन, वार्निश, बिरोजा व कोलतार आदि उत्पाद तैयार किये जाएंगे। 5 नाली भूमि पर कोई भी व्यक्ति भी उद्योग लगा सकेंगे। कुल मिलाकर चीड़ से 50 हजार लोगों  को रोजगार मिल सकेगा। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री रावत ने पिछली बार मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार नैनीताल आगमन पर करीब 15 मिनट केवल 20 रुपये में तैयार होने वाली बोतल से देहरादून की रिस्पना सहित नैनीताल के गंदगी युक्त नालों को महका सकने वाला उत्पाद बनाने पर अपना संबोधन दिया था, लेकिन अब तक न तो यह उत्पाद ही कहीं नजर आया है, न नालों या नैनी झील की स्थिति में ही कोई खास फर्क आया है। 

अपनी तीनों पूर्व घोषणाओं पर भी ठोस जवाब नहीं दे पाये सीएम

मुख्यालय पहुंचने पर मुख्यमंत्री का स्वागत कर भाजपा कार्यकर्ता।

नैनीताल। बैठक में स्थानीय विधायक संजीव आर्य ने मुख्यमंत्री की पूर्व में नगर के लिये तीन घोषणाओं, नगर के 60 करोड़ रुपये से नारायणनगर में पार्किंग निर्माण एवं नगर के आधार बलियानाला एवं माल रोड के सुदृढ़ीकरण कार्यों को याद दिलाया, किंतु अपने संबोधन में मुख्यमंत्री ने केवल पार्किंग पर बात की और अन्य दो विषयों को छुवा भी नहीं। पार्किंग पर भी कहा कि मामला भूमि हस्तांतरण के लिये नोडल अधिकारी के स्तर पर लंबित है। बाद में पत्रकारों द्वारा पूछे जाने पर भी फिर केवल बलियानाला के विषय पर इतना भर कहा कि जायका के तहत इस योजना का प्रस्ताव बनाने को कहा गया है। उल्लेखनीय है कि पार्किंग पर स्थिति करीब-करीब पार्किंग के नारायणनगर में न बन पाने की बनी हुई है। वहीं बरसात के करीब तीन माह गुजर जाने के बावजूद बलियानाला के संरक्षण कार्यों में कहने भर के लिए भी कार्य नहीं हुआ है, जबकि माल रोड भी कामचलाऊ तरीके से ही चालू की गयी है। गौरतलब है कि पिछले वर्ष बीरभट्टी के पास अल्मोड़ा एनएच पर ध्वस्त हुए अंग्रेजों के जमाने के पुल की जगह भी अब तक वैली ब्रिज से काम चलाया जा रहा है। नये पुल के बारे में भी कोई बात नहीं कही जा रही है।

कार्यकर्ता बैठक या जनता दर्शन पर भ्रमपूर्ण रही स्थिति

मुख्यमंत्री के जनता दर्शन में ज्ञापन सोंपते टैक्सी-ट्रेवल एसोसिएशन के अध्यक्ष नीरज जोशी।

नैनीताल। मुख्यमंत्री के औपचारिक कार्यक्रम में पहले कार्यक्रम को कार्यकर्ता बैठक बताया गया, जबकि बाद में इसे जनता दर्शन बताया गया। यह कार्यक्रम हुआ भी तो मंच पर भी कार्यकर्ता बैठक ही लिखा गया था, लेकिन इस दौरान आम लोगों  के ज्ञापन भी लिये गये। अलबत्ता ज्ञापन देने वालों में भाजपा के कार्यकर्ताओं की संख्या ही अधिक रही। नगर के पर्यावरण मित्रों, टैक्सी-ट्रेवल एसोसिएशन, कूटा, आशा कार्यकत्रियों, राज्य आंदोलनकारियों आदि की ओर से भी ज्ञापन दिये गये।

रिलायंस के जरिये 2019 तक हर गांव को ओएफसी, हर स्कूल-अस्पताल को मिलेगी फ्री वाई-फाई सुविधा

नैनीताल। मुख्यमंत्री ने बताया कि रिलायंस कंपनी के जरिये वर्ष 2019 तक राज्य के हर गांव को इंटरनेट सेवा उपलब्ध कराने के लिए ओएफसी केबल से जोड़ दिया जाएगा। इस संबंध में उनही रिलायंस के प्रमुख मुकेश अंबानी से बात हुई है। इस कार्य हेतु उन्होंने कुछ सहूलियतों की अपेक्षा की हैं, जो उन्हें उपलब्ध करायी जा रही हैं। इस सुविधा के सभी दूरस्थ क्षेत्रों के स्कूलों व अस्पतालों को मुफ्त वाईफाई सुविधा भी मिलेगी, जिसके जरिये वहां तक इंटरनेट के माध्यम से रोगियों को विशेषज्ञों की सलाह पर उपचार भी उपलब्ध कराया जाएगा।

चुनाव में कम सक्रिय लोग रहे स्वागत में अधिक सक्रिय

नैनीताल। मुख्यमंत्री के स्वागत में नैनीताल व भवाली में भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में कम सक्रिय रहे पार्टी कार्यकर्ता अधिक सक्रिय दिखाई दिये। वहीं युवाओं की संख्या भी कम दिखाई दी। इसके अलावा पार्टी द्वारा निकाय चुनावों में सभासद पद के लिए जिन प्रत्याशियों को टिकट दिये गये थे, वे भी कार्यक्रम में नहीं दिखे।

यह भी पढ़ें : सीएम त्रिवेन्द्र रावत ने किया विडियो ट्वीट, सबके लिए जानना है जरूरी

1 अगस्त से जहां उत्तराखंड में दोपहिया वाहनों पर दूसरी सवारी के लिए भी हेलमेट पहनना अनिवार्य हो गया है, वहीं 1 अगस्त से पोलीथिन बैन होने जा रही है। हाई कोर्ट की सख्ती के बाद उत्तराखंडके मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने आज राज्य के लोगों से पॉलीथिन का इस्तेमाल न करने की अपील करते हुए 50 माइक्रोन तक की रंगबिरंगी पॉलीथिन के उपयोग करते पाए जाने पर जुर्माने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री ने ट्वीट के जरिए जानकारी देते हुए कहा है कि पॉलीथिन प्रयोग करते पाए जाने पर दुकानदारों पर 5000, ठेली वालों पर 2000 और ग्राहकों पर 500 रुपये तक का जुर्माना लगेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि पॉलीथिन के प्रयोग से पर्यावरण दूषित होता है और खेती, पशु, पक्षियों को भी नुकसान पहुंचता है। इसलिए राज्य सरकार ने एक अगस्त से पॉलीथिन के प्रयोग पर सख्ती करने का निर्णय लिया है।

मुख्यमंत्री का विडियो ट्वीट :

आज से होगी छापेमारी: मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद आज से पूरे प्रदेश में पॉलीथिन के खिलाफ छापेमारी की जाएगी। देहरादून में आठ, रुड़की और हल्द्वानी में एक-एक टीम पॉलीथिन के खिलाफ छापेमारी करेंगी। देहरादून नगर निगम के नगर आयुक्त विजय कुमार जोगदंडे ने बताया कि देहरादून में आठ टीमें बनाई गई हैं। प्रत्येक टीम को बीस चालान का लक्ष्य दिया गया है। साथ ही नगर निगम एक फोन नंबर जारी करेगा। इसमें लोग शिकायत करने के साथ अपनी बात भी रख सकेंगे।

बार्डर पर कड़ी चौकसी के निर्देश:हरिद्वार के डीएम दीपक रावत ने कहा है कि बार्डर पर पुलिस को चौकस रहने को कहा गया है ताकि बाहर से पॉलीथिन राज्य में न लाई जा सके। रावत ने कहा कि बीस पॉलीथिन मिलने पर सौ रुपये जुर्माना वसूला जाएगा।

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

Leave a Reply