नैनीताल डीएम की पहले पूरे राज्य में लागू करेंगे सीएम, नैनीताल को दिये 91.14 करोड़ के 47 तोहफे

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

-कहा-प्रदेश में टेलीमेडिसिन व टेली रेडियोलॉजी के साथ हृदय रोगों हेतु टेलीकार्डियोलॉजी सुविधा शुरू करेंगे
-नगर में लगने जा रही कुमाउनी लोक संस्कृति की म्यूरल पेंटिंगों, बेटियों द्वारा तैयार वॉल पेंटिंग के साथ कुमाउनी परिधानों में सजी बेटियों ने तिलक लगाकर व फूल बरसाकर छोलिया नर्तकों के साथ किया सीएम का भव्य स्वागत

नवीन समाचार, नैनीताल, 1 दिसंबर 2019। प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने नैनीताल के डीएम सविन बंसल की जनपद में चार आशा घर स्थापित करने की पहल को पूरे प्रदेश में लागू करने की बात कही। जनपद में स्थापित चार आशा घर में जच्चा को संस्थागत प्रसव के लिए लाने वालीे आशा कार्यकर्ताओं को अस्पताल में रात्रि में ठहरने की सुविधा दी जा रही है। सीएम ने रविवार को मुख्यालय में डीएम सविन बंसल द्वारा जनपद में शुरू किये गए अनेक नवाचारों का शुभारंभ किया। सीएम के साथ ही क्षेत्रीय सांसद एवं विधायक ने भी डीएम के कार्यों व कार्यशैली की मुक्त कंठ से प्रशंसा की। इस मौके पर सीएम ने जनपद के लिए 29.96 करोड़ रुपए की 12 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं 61.18 करोड़ की 35 परियोजनाओं का शिलान्यास भी किया, और इस तरह से कुल 91.14 करोड़ की 47 योजनाओं का तोहफा दिया। साथ ही प्रदेश में टेलीमेडिसिन व टेली रेडियोलॉजी सुविधा के साथ प्रदेश में हृदय रोगों के बारे में विशेषज्ञ चिकित्सकों के परामर्श प्राप्त करने हेतु टेलीकार्डियोलॉजी सुविधा शुरू करने की बात भी कही।

राज्य के सभी प्रमुख समाचार पोर्टलों में प्रकाशित आज-अभी तक के समाचार पढ़ने के लिए क्लिक करें इस लाइन को…

रविवार को पहली बार जिला मुख्यालय में जिला कलक्ट्रेट पहुंचे। इस दौरान मुख्यमंत्री का नगर में लगने जा रही कुमाउनी लोक संस्कृति की म्यूरल पेंटिंगों व बेटियों द्वारा जिला कलक्ट्रेट परिसर में बनाई गई वॉल पेंटिंगों के साथ ही परंपरागत कुमाउनी परिधानों-रंग्वाली घाघरा-पिछौड़ा में सजी बेटियों ने तिलक लगाकर व फूल बरसाकर छोलिया नर्तकों के साथ मुख्यमंत्री रावत का भव्य तरीके से स्वागत किया। उन्होंने नैनीताल के नारायण नगर में मल्टीलेवल पार्किंग के लिए 70 लाख रुपए स्वीकृतएवं जमरानी बांध के लिए 21 कर्मियों की नियुक्ति करने की बात भी कही। क्षेत्रीय सांसद अजय भट्ट ने जनपद के हल्द्वानी स्थित सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज को कैंसर इंस्टीट्यूट के रूप में विकसित करने के लिए केंद्र सरकार से 104 करोड़ रुपए स्वीकृत एवं इसमें से करीब 30 करोड़ रुपए अवमुक्त होने की जानकारी दी।
रविवार को पहली बार मुख्यालय में जिला कलक्ट्रेट पहुंचने पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने नगर में लगने जा रही कुमाउनी लोक संस्कृति की म्यूरल पेंटिंगों, दिव्यांगजनों के लिए कलक्ट्रेट में स्थपित लिफ्ट चेयर, उद्योग विभाग द्वारा स्वयं सहायता समूहों के उत्पादों के ‘हिलांस’ नाम के स्टॉल, डीएम द्वारा जनपद में सरकारी कार्यों में सुशासन एवं पारदर्शिता तथा 15 दिन के भी समस्याओं का समाधान करने के लिए सीएम हेल्पलाइन की तर्ज शुरू किये गये संतुष्टि पोर्टल, आशाओं की प्रोत्साहन राशि को प्रदर्शित करने के लिए शुरू किये देश के पहले ‘तृप्ति’ पोर्टल, राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत संस्थागत प्रसव को बढ़ाने के लिए जनपद में शुरू किये गए आठ प्रसव केंद्र व 4 आशा घर व ‘सूद’ पोर्टल, नैनी झील में आने वाली गंदगी, इसकी सफाई व अन्य गतिविधियों पर नजर रखने के लिए रात्रि में भी स्पष्ट देखने की क्षमता के कैमरों युक्त ‘रियल टाइम मॉनीटरिंग एवं सुपरविजन सिस्टम’, नैनी झील की सफाई के लिए दो नौकाओं, बेतालघाट वासियों को सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों से सीधे चिकित्सकीय परामर्श उपलब्ध कराने वाली टेलीमेडिसिन सुविधा आदि नवाचारों का भी शुभारंभ किया। साथ ही वॉल पेंटिंग बनाने वाली एवं बीच में पढ़ाई छोड़ने के बाद फिर शुरू कर मिसाल पेश करने वाली 10 बेटियों को 5-5 हजार रुपए के चेक भेंटकर उनका उत्साहवर्धन भी किया गया। अतिथियों को जिला प्रशासन कीे ओर जूट के झोलों में दालें, मंुगौड़ी व बड़ी आदि पारंपरिक जैविक उत्पाद उपहार स्वरूप भेंट किये गये। सूचना एवं जन संपर्क विभाग के कलाकारों ने कुमाउनी लोक संस्कृति के सुंदर कार्यक्रम प्रस्तुत किये। कार्यक्रम में कालाढुंगी विधायक बंशीधर भगत, भीमताल विधायक राम सिंह कैड़ा, भाजपा जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट व हल्द्वानी के मेयर डा. जोगेंद्र पाल सिंह रौतेला, मुख्यमंत्री के जनसम्पर्क अधिकारी विजय बिष्ट, मीडिया सलाहकार डा. रमेश भटट, कुमाऊं विवि के कुलपति केएस राना के अलावा तरुण बंसल, गोपाल रावत, चतुर सिह बोरा, रघुवर दत्त जोशी, आनंद बिष्ट, मनोज जोशी, राजीव लोचन साह, मनोज साह, संतोष साह, दया किशन पोखरियां, नितिन कार्की, कुंदन बिष्ट, शांति मेहरा, जीवंती भट्ट, देवेंद्र ढैला, पूरन मेहरा व दिनेश आर्या के अलावा डीएम सविन बंसल, एसएसपी सुनील कुमार मीणा, सीडीओ विनीत कुमार अन्य प्रशासनिक अधिकारी, गणमान्य नागरिक, स्काउट एवं एनसीसी के छात्र, रंगकर्मी, कलाकार एवं जनप्रतिनिधि मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री के नैनीताल देश की पहली कमिश्नरी होने व राज्य की जीडीपी देश में दूसरे नंबर पर होने के दावे

नैनीताल। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने अपने संबोधन की शुरूआत नैनीताल के देश की पहली कमिश्नरी होने से की। अलबत्ता इतिहासकार डा. अजय रावत ने इससे इंकार करते हुए बताया कि 1815 में अंग्रेजों के उत्तराखंड में आने के बाद कुमाऊं प्रोविंस या राज्य अस्तित्व में आया। 1816 से इसका मुख्यालय अल्मोड़ा और 1856 से नैनीताल में स्थापित हुआ। उन दिनों ब्रिटिश कुमाऊं प्रोविंस में आज के पूरे कुमाऊं मंडल के साथ गढ़वाल का टिहरी रियासत के अलावा का शेष हिस्सा भी शामिल था। इसके अलावा मुख्यमंत्री रावत ने प्रदेश के पर्यटन में 36.5 फीसद की वृद्धि होने, राज्य में राज्य की जनसंख्या से चार गुने अधिक पर्यटक आने, 2700 करोड़ रुपए से जमरानी बांध के बनने से केवल हल्द्वानी में नलकूपों के संचालय पर खर्च हो रहे करीब सवा दो सौ करोड़ रुपए में से पानी को पंप करने में लग रही करीब पौने दो सौ करोड़ रुपए की बिजली की बचत होने, प्रदेश में 81 फीसद से अधिक वन क्षेत्र होने तथा उत्तराखंड की जीडीपी में 32 फीसद की वृद्धि होने और राज्य की जीडीपी कर्नाटक के बाद देश में सर्वाधिक होने के दावे भी किये।

विधायक ने सीएम को ढाई वर्ष पूर्व की कार्य समिति की याद दिलाई

नैनीताल। क्षेत्रीय विधायक संजीव आर्य ने मुख्यमंत्री रावत को उनके मुख्यमंत्री बनने के तुरंत बाद नैनीताल में आयोजित प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में रखी बातों की याद दिलाई कि नारायण नगर में पार्किंग के लिए एडीबी ट्रांस-थ्री योजना के तहत 70 करोड़ रुपए की सैद्धांतिक स्वीकृति दी गई थी। उम्मीद जताई कि इस हेतु सभी समस्याएं दूर होकर जल्द पार्किंग का सपना पूरा होगा। इसके अलावा उन्होंने कोसी बैराज से नगर में पेयजल की आपूर्ति योजना के लिए डीपीआर बनाने तथा मुख्यालय में सीवर ट्रीटमेंट प्लांट के लिए 70 करोड़ रुपए का प्रोजेक्ट स्वीकृत होने की बात कहते हुए सड़कों के लिए 350 करोड़ एवं कुमाऊं विवि को 24 नये व्यवसायिक पाठ्यक्रम चलाने के लिए ‘सेंटर फॉर एक्सीलेंस’ हेतु पटवाडांगर में स्वास्थ्य विभाग की 103 एकड़ भूमि हस्तांतरित करने की मांग की।

सांसद भट्ट ने कुमाउनी में संबोधन से मन मोहा

नैनीताल। सांसद अजय भट्ट ने अपना संबोधन कुमाउनी में दिया। कहा केंद्र में मोदी, प्रदेश में त्रिवेंद्र रावत की जवाबदेह सरकार में जनपद में डीएम सविन बंसल के नये दृष्टिकोण से ‘सद्प्रेरणा’ का नया माहौल बना है। इस माहौल में सभी सीधे चल रहे हैं। कहा, जो टेढ़े चलेंगे-घर भेजे जाएंगे। उन्होंने कार्यक्रम के उद्घोषकों मीता उपाध्याय व रामनगर के एआरटीओ विमल पांडे की भी जमकर सराहना की।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में सौंदर्यीकरण के लिए प्राधिकरण ने खोली तिजोरी, साढ़े चार करोड़ से अधिक के होंगे ये कार्य..

-हल्द्वानी में प्राधिकरण का क्षेत्रीय कार्यालय में भी होंगे कार्य

जिला विकास प्राधिकरण की योजनाओं को स्वीकृति देने के लिए आहूत बैठक में मौजूद मंडलायुक्त, डीएम, प्राधिकरण उपाध्यक्ष एवं सचिव आदि।

नवीन समाचार, नैनीताल, 26 नवंबर 2019। जिला विकास प्राधिकरण ने जनपद में अवस्थापना के 16 कार्यों हेतु 4 करोड़ 58 लाख की धनराशि स्वीकृत कर दी है। प्राधिकरण के अध्यक्ष राजीव रौतेला ने बैठक की अध्यक्षता करते हुए बताया कि इस धनराशि से सरोवरनगरी में सौंदर्यीकरण के कार्य किये जाएंगे, ताकि यहां आने वाले सैलानियों को पर्यटन सीजन में कोई असुविधा न हो। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि अवमुक्त की गयी धनराशि का समयबद्धता एवं गुणवत्ता के साथ उपयोग करें।

बैठक में प्राधिकरण के रोहित मीणा ने बताया कि नैनीताल शहर के निकट रूसी बैंड से हनुमानगढ़ तक सौंदर्यीकरण हेतु 17.16 लाख, हनुमानगढ़ से डांठ तल्लीताल तक सौंदर्यीकरण कार्य हेतु 44.58 लाख रुपये, डांठ तल्लीताल से अल्का होटल, माल रोड नैनीताल तक सौंदर्यीकरण कार्य हेतु 35.76 लाख रुपये, ऑल्पस होटल के समीप मल्लीताल में सौंदर्यीकरण हेतु 22.77 लाख, कैपिटल सिनेमा के पास सौंदर्यीकरण हेतु 9.14 लाख, डांठ तल्लीताल से हनुमानगढ़ी से नीचे हेयरपिन बैंड तक स्ट्रीट लाईटें लगाने के लिए 122.16 लाख, जनपद में विभिन्न स्थानों पर सौंदर्यीकरण हेतु 2000 गमले क्रय करने के लिए 10 लाख, पुलिस विभाग द्वारा विभिन्न स्थलों पर पुलिस चेक पोस्ट बनाने के लिए 20 लाख रुपये, नैनीताल, भीमताल, सातताल एवं नौकुचियाताल के सौंदर्यीकरण के लिए परियोजना तैयार करने हेतु कंसलटेंट का चयन एवं परियोजना तैयार करने की कार्यवाही की अनुमति के लिए 20 लाख, नैनीताल शहर के आंतरिक मार्गों में रंगाई-पुताई व मरम्मत इत्यादि कार्य हेतु 20.12 लाख, नैनीताल-भवाली मार्ग पर किमी संख्या 7, 8 व 9 में सौंदर्यीकरण कार्य व किमी 1 से 7 के बीच साईनेज लगाने हेतु 35.12 लाख, इसी मार्ग पर नैनीताल चौराहे से कैलाखान चौराहे तक सड़क के किनारे स्ट्रीट लाईटों की स्थापना हेतु 28.12 लाख भीमताल झील के मंदिर मार्ग पर क्षतिग्रस्त धारक दीवारों के पुनर्निर्माण कार्य हेतु 8.02 लाख रुपये, हल्द्वानी के ऊंचापुल चौराहे पर जल निकासी हेतु नाली निर्माण एवं सिंचाई गूल के मरम्मत कार्य हेतु 20.43 लाख, जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण नैनीताल के क्षेत्रीय कार्यालय (हल्द्वानी) के पीछे रिक्त भूखण्ड में पार्किंग निर्माण कार्य हेतु 10.22 लाख व यहीं कक्षों के निर्माण के लिए 35.02 लाख, रुपए की धनराशि स्वीकृत की गई है। बैठक में डीएम सविन बंसल, अपर आयुक्त संजय खेतवाल, सचिव प्राधिकरण पंकज उपाध्याय, नगर आयुक्त सीएस मर्तोलिया, सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह, अधिशासी अभियंता सिंचाई तरुण बंसल, अधिशासी अभियंता पेयजल निगम अरविंद कुमार कटारिया के अलावा अन्य अधिकारी मौजूद रहे।
चित्र परिचयः 26एनटीएल-1ः नैनीताल: जिला विकास प्राधिकरण की योजनाओं को स्वीकृति देने के लिए आहूत बैठक में मौजूद मंडलायुक्त, डीएम, प्राधिकरण उपाध्यक्ष एवं सचिव आदि।

यह भी पढ़ें : नैनीताल जनपद में ई-गवर्नेंस व जी-गवर्नेंस की हो रही शुरुआत, जानें आपको क्या मिलेंगे इसके लाभ…

-जनपद में किये जा रहे जीआईएस मैपिंग के कार्य की सीडीओ ने समीक्षा करते हुए कहा-
ई-गवर्नेंस व जी-गवर्नेंस समय की आवश्यकता

जीआईएस तकनीक की समीक्षा बैठक में मौजूद जनपद के अधिकारी।

नवीन समाचार, नैनीताल, 21 नवंबर 2019। जनपद में ई-गर्वेन्स एवं जी-गर्वेन्स के तहत ज्योग्राफिकल इन्फॉर्मेशन सिस्टम (जीआईएस) के जरिये स्थायी एवं शुद्ध आकड़ों की मैपिंग से शासकीय कार्यों में पारदर्शिता एवं गुणवत्ता लाने तथा आम आदमी को सरकारी चल एवं अचल परिसम्पत्तियों, मानव संसाधन (कार्मिकों) के ऑनलाईन आंकड़े उपलब्ध कराने व साथ ही पानी, सीवरेज, बिजली, सड़क जैसी बुनियादी सेवाओं के विकास का जनावश्यकता के अनुसार खाका बनाने का कार्य होने जा रहा है। इस उद्देश्य से बृहस्पतिवार को नैनीताल क्लब में सीडीओ विनीत कुमार ने जनपद की जीआईएस मैपिंग कार्य की प्रगति की समीक्षा की।

देखें राज्य के सभी प्रमुख समाचार पोर्टलों में प्रकाशित आज-अभी तक के समाचार एक जगह इस लिंक पर…

सीडीओ ने कहा कि ई-गर्वेन्स एवं जी-गर्वेन्स समय की आवश्यकता है। इस आवश्यकता की पूर्ति के लिए उन्होंने सभी विभागों के अधिकारियों से वर्ष 2019-20 के आधार पर अपडेट डाटा प्राथमिकता से उपलब्ध कराने को कहा। इस मौके पर जीआईएस के राज्य के नोडल अधिकारी प्रोफेसर जेएस रावत ने बताया कि जीआईएस के माध्यम से पृथ्वी की भौगोलिक आकृतियों, भू-भागों आदि को डिजिटल रूप में प्रस्तुत किया जाता है। यह एक हाईटेक तकनीक है, जिसमें किसी भी डाटा को एनालॉग से डिजिटल तकनीक में बदला जाता है। इसमें प्रायः त्रि-आयामी तकनीक से बने मॉडलों को आधार बनाया जाता है। जीआईएस तकनीक में एरियल फोटोग्राफी तथा डिजिटल मैचिंग तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता है। जीआईएस कार्यों में भूगोल, गणित, सांख्यिकी जैसे विषयों के अलावा कंप्यूटर ग्राफिक्स, कंप्यूटर, प्रोग्रामिंग, डाटा प्रोसेसिंग व संग्रहण तथा मैपिंग के लिए कंप्यूटर कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी का प्राथमिकता से प्रयोग किया जाता है। उन्होंने बताया कि जनपद के 74 विभागों की जीआईएस मैपिंग का कार्य गतिमान है। जिसमें से 45 विभागों का डाटा पूर्ण हो चुका है तथा 17 विभागों का डाटा अपूर्ण है। उन्होंने बताया कि जनपद के 12 विभागों से अभी तक डाटा अप्राप्त है। उन्होंने बताया कि जीपीएस कॉर्डिनेट में अक्षांश व देशान्तर अवश्य अंकित किए जाए ताकि भौगोलिक सूचना प्रणाली में शुद्धता आ सके। बैठक में अनिता आर्या, रमा गोस्वामी, केके गुप्ता, योगेश मिश्रा, राजीव मेहरा, एचएल गौतम, गोपाल स्वरूप, विद्युत सैयद उस्मान, विशाल कुमार, एसके उपाध्याय, महेंद्र कुमार, भाष्कर कुलियाल, एलएम तिवारी, अखिलेश शुक्ला, संगीता आर्या, भावना जोशी, विजय थापा, मनोज बर्मन, डा. .टीके टम्टा सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Loading...
loading...