Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

नगर पालिका ने सील किये अपने ही तीन अवैध स्लॉटर हाउस

Spread the love

हरिनगर में एक स्लॉटर हाउस को सील करते नगर पालिका के कर्मी।

नैनीताल, 24 सितंबर 2018। उत्तराखंड उच्च न्यायालय के ताजा आदेशों के बाद नगर पालिका एवं खाद्य सुरक्षा विभाग के द्वारा सोमवार को नगर के सभी तीनों स्लॉटर हाउसों को सील कर दिया है। खास एवं दिलचस्प बात यह रही कि यह तीनों स्लॉटर स्वयं नगर पालिका द्वारा संचालित थे, और पिछले दिनों नगर पालिका पर खाद्य सुरक्षा विभाग के द्वारा इन तीनों स्लॉटर हाउसों को गैरकानूनी तरीके से संचालित किये जाने के लिए मुकदमा भी दर्ज किया गया था। नगर के हरिनगर स्थित बकरे के हलाल, झटका एवं बड़े मीट के नगर के तीनों स्लॉटर हाउसों के सील हो जाने से नगर में मछली मुर्गे के अलावा अन्य मांशाहार के शौकीनों को झटका लगा है।
नगर पालिका के नगर स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि डा. जीएस धर्मशक्तू ने बताया कि पूर्व में यह तीनों स्लॉटर हाउस नियमों का पालन, खासकर एनजीटी के मानकों के अनुरूप यहां ईटीपी यानी एफ्लूएंट ट्रीटमेंट प्लांट न होने के कारण बंद कर दिये गये थे, लेकिन बाद में तत्कालीन नगर पालिका अध्यक्ष ने नगर के मीट व्यवसायियों के अनुरोध पर इन्हें खुलवा दिया था। यह नगर पालिका की ही संपत्ति हैं, किंतु इनका संचालन नगर के मीट व्यवसायियों के द्वारा किया जाता है। ईटीपी लगाने के लिए यहां स्थान भी उपलब्ध नहीं है। इसलिए इन्हें सील किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि नगर पालिका के वरिष्ठ अधिकारी पूर्व में नगर में अत्याधुनिक स्लॉटर हाउस लगाने के लिए पश्चिम बंगाल की यात्रा भी कर चुके हैं, लेकिन स्लॉटर हाउस को स्थापित करने की दिशा में अंशमात्र भी कार्य नहीं हुआ है। इस मौके पर खाद्य सुरक्षा अधिकारी अश्वनी सिंह व पालिका के धर्मेश प्रसाद व देवेंद्र आदि कर्मी भी मौजूद रहे।

नैनीताल चिड़ियाघर में जानवरों और हॉस्टलों-होटलों में भी नहीं मिल पाएगा मांस

नैनीताल। नगर के तीनों स्लॉटर हाउसों के बंद हो जाने के बाद आम लोगों के साथ नगर के चिड़ियाघर में जानवरों के लिए जाने वाले बकरे एवं भैंस के मांस की आपूर्ति बाधित हो गयी है। वहीं नगर के बोर्डिंग स्कूलों में बच्चों एवं होटलों में भी मटन की आपूर्ति बंद हो गयी है। नगर के मीट व्यवसायियों ने बताया कि पूरे उत्तराखंड के साथ ही यूपी के निकटवर्ती यूपी के रुहेलखंड मंडल के बरेली, रामपुर, मुरादाबाद आदि में भी बकरे के मीट की फैक्टरी नहीं हैं। निकटतम गाजियाबाद या लखनऊ में ही मटन उपलब्ध है, और वहां से लाना आसान नहीं है। इस व्यवसाय से सैकड़ों लोगों का व्यवसाय भी जुड़ा है। इस समस्या को लेकर मीट व्यवसायी भाजपा अनुसूचित मोर्चा के मंडल अध्यक्ष अतुल पाल, जाकिर हसन व बबलू भाई आदि दिन में एसडीएम व एडीएम से मिले, और आगे मंगलवार को डीएम व कमिश्नर से भी मिलने वाले हैं।

यह भी पढ़ें : प्रदेश के अवैध स्लॉटर हाउसों को 72 घंटे में सील करने के आदेश

नैनीताल, 20 सितंबर 2018। उत्तराखंड उच्च न्यायालय की कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजीव शर्मा की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने प्रदेश में अवैध रूप से चल रही पशुवधशालाओं (स्लॉटर हाउसों) को 72 घंटे के भीतर सील करने के आदेश दिये हैं। साथ ही पीठ ने सरकार को सात दिन के भीतर कमेटी गठित करने और यह सुनिश्चित करने को भी कहा है कि कोई भी पशुवधशाला बिना लाइसेंस के न चलने पाये। इसके अलावा पीठ ने प्रदेश के निकायों को यह सुनिश्चित करने को भी कहा है कि पशुओं का वध खुले स्थानों, सड़कों व पैदल मार्गों में न होने देने को भी कहा है। मामले की अगली सुनवाई 9 अक्टूबर को होगी। 

मामले के अनुसार परवेज आलम नाम के व्यक्ति ने उच्च न्यायालय में जनहित याचिका दायर कर कहा है कि पशुओं की हत्या क्रूर तरीके से खुले स्थानों पर की जाती है। केंद्र सरकार ने इस हेतु वर्ष 2001 में नियम बनाये थे किंतु उनका पालन नहीं किया जाता है।

यह भी पढ़ें : नरेंद्र मोदी, नैनीताल नगर पालिका और नवंबर… यह कैसा संयोग ? तब नैनीताल पालिका पर ‘खुश’ हुए थे मोदी, अब दिए ‘जांच’ के आदेश

नैनीताल। नवंबर 2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नैनीताल नगर पालिका द्वारा उनकी महत्वाकांक्षी ‘स्वच्छ भारत’ योजना में ‘फिल्मी पोस्टरों’ का प्रयोग करने पर खुश हुए थे, तो इधर नवंबर 2017 में नैनीताल नगर पालिका की एक शिकायत ने मोदी को नैनीताल पालिका की जांच कराने को मजबूर कर दिया है। नरेंद्र मोदी, नैनीताल नगर पालिका व नवंबर के बीच ‘न’ की समानता के साथ एक अलग संयोग बना है।जानिये क्या है पूरा मामला…

इस वर्ष 17 जुलाई को उत्तराखंड प्रदेशीय सफाई मजदूर संघ के त्रिलोचन टांक, नरेश पारछे, राजकुमार पंवार, कमल कुमार, राजेश कुमार, अनिल कीर्ति, अमित सहदेव तथा विजय की ओर से पालिका में कूड़ा निस्तारण वाहनों व एलइडी बल्बों की खरीद तथा नियुक्तियों में अनियमितता का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शिकायती पत्र भेजा गया था। प्रधानमंत्री कार्यालय ने उनके शिकायती पत्र को राज्य के मुख्य सचिव को रेफर करते हुए कार्रवाई की अपेक्षा की है। इस पर शहरी विकास निदेशक ने नैनीताल के डीएम को शिकायती पत्र में उल्लेख किए गए बिंदुओं की जांच कर रिपोर्ट देने को कहा है। डीएम दीपेंद्र चौधरी ने बताया कि जांच एडीएम बीएल फिरमाल को सौंपी गई है। एडीएम फिरमाल ने मामले में नगर पालिका से संबंधित अभिलेख तलब कर लिए हैं। नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी रोहिताश शर्मा को भी जांच के लिए बुलाया गया है। डीएम नैनीताल दीपेंद्र कुमार चौधरी ने बताया कि प्रधानमंत्री कार्यालय के निर्देशों पर नैनीताल नगर पालिका के खिलाफ जांच के आदेश दे दिए हैं। एडीएफ बीएल फिरमाल को 15 दिनों के अंदर जांच पूरी कर रिपोर्ट देने को कहा गया है।

पीएम से कहा डीएम की जांच से संतुष्ट नहीं, सीबीआई या अन्य एजेंसी से कराएं जांच

-नैनीताल नगर पालिका के खिलाफ प्रधानमंत्री कार्यालय के आदेश पर जिला प्रशासन की जांच पर शिकायतकर्ताओं ने उठाए सवाल
-कहा, पहले हुई जांचों पर नहीं हुई कार्रवाई, उच्च संरक्षण प्राप्त हैं दोषी
नैनीताल। उत्तराखंड प्रदेशीय सफाई मजदूर संघ द्वारा नैनीताल नगर पालिका परिषद में अनियमितताओं पर सात बिंदुओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सीधे पत्र भेजकर की गयी शिकायत पर जांच अधिकारी द्वारा बुलाया जाना शिकायतकर्ताओं को अखर गया है। उन्हें जांच अधिकारी के इस कृत्य में दोषियों को उच्च संरक्षण प्राप्त होने का अंदेशा हुआ है। इसलिए भी कि पूर्व में दो बार जिला प्रशासन की ओर से नगर पालिका में व्याप्त अनियमितताओं पर जांचें हो चुकी हैं, इस पर शिकायतकर्ताओं का कहना है कि पूर्व में दीपक रुबाली की शिकायत पर तत्कालीन सीडीओ ललित मोहन रयाल और बाद में संयुक्त मजिस्ट्रेट वंदना सिंह द्वारा की गयी जांचों में दोष, अनियमितता उजागर होने के बावजूद दोषियों के विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं हुई। इससे साफ है कि दोषियों को उच्च संरक्षण प्राप्त है। साथ ही जांच अधिकारी द्वारा जांच शुरू करने की जगह उल्टे शिकायतकर्ताओं को ही तलब किया गया है, यह उन्हें धमकाने की कोशिश हो सकती है। इसलिए उन्होंने दुबारा प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर मांमले की जांच जिला प्रशासन की जगह किसी अन्य एजेंसी या सीबीआई से करने की मांग की है।
उत्तराखंड प्रदेशीय सफाई मजदूर संघ के अध्यक्ष त्रिलोचन टांक ने सोमवार को बताया कि उन्होंने दो दिन पूर्व ही प्रधानमंत्री को पत्र फैक्स के माध्यम से भेज दिया है, और आज प्रदेश के मुख्यमंत्री, डीएम एवं जांच अधिकारी एडीएम को भी पत्र की प्रतियां भेजी हैं।

पोस्टरों में मोदी के काशी की राह चला नैनीताल, तो हंस पड़े मोदी

-दिसंबर-जनवरी माह में काशी में प्रधानमंत्री मोदी के स्वच्छ भारत अभियान के ब्रांड एंबेसडर अमिताभ बच्चन की फिल्मों के पोस्टरों की मदद से अभियान के प्रचार की हुई थी पहल, इसे नैनीताल-हल्द्वानी ने भी स्वीकारा
-प्रधानमंत्री मोदी के लिखा- हा हा, स्वच्छता के लिये फिल्मों से विचार लेने का अभिनव प्रयोग
नवीन जोशी, नैनीताल। अच्छा विचार कभी रुकता नहीं, आगे बढ़ता जाता है। बीते दिसंबर-जनवरी माह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी-वाराणसी में प्रधानमंत्री द्वारा शुरू किये ‘स्वच्छ भारत अभियान” के ब्रांड एंबेसडर-सदी के महानायक कहे जाने वाले सुपरस्टार अमिताभ बच्चन की दीवार, शोले, डॉन, सिलसिला व डॉन जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्मों के पोस्टरों और संवादों को थोड़ा बदलकर अभियान के प्रचार के लिये प्रयोग करने का अनूठा प्रयोग किया। यह प्रयोग नैनीताल से होते हुए वापस प्रधानमंत्री मोदी तक पहुंचा तो वे भी मुस्कुराये बिना नहीं रह पाये, और इसे एक अभिनव प्रयोग बताया है।

उल्लेखनीय है कि देश में पिछले कुछ समय से पूरे देश भर में खुले में शौच ना करने की एक मुहिम सी चल रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वर्ष 2014में प्रधानमंत्री के गद्दी पर बैठने के बाद गांधी जयंती यानी दो अक्टूबर से ‘स्वच्छ भारत अभियान” की शुरुआत की थी। इसका लक्ष्य वर्ष 2019 में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती तक देश की 1.04 करोड़ लक्षित आबादी को शौचालयों से जोड़कर देश की खुले में शौच की समस्या को खत्म कर देना है। नैनीताल नगर पालिका ने भी इस पहल को अपने यहां प्रयोग किया। नैनीताल में लगे ऐसे फिल्मी पोस्टरों के फोटो इंटरनेट पर वायरल होते हुए मुंबई में रहने वाले लेखक, गायक व संगीतकार आशुतोष साहू को भी पसंद आये तो उन्होंने यश चोपड़ा द्वारा निर्देशित 1975 में बनी फिल्म दीवार के एक पोस्टर को अपने ‘साहूकर” ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को टैग कर दिया। उन्होंने ट्वीट किया, ‘मोदी जी कृपया ध्यान दें, जिसने भी ये पोस्टर तैयार किया किया है वो पुरस्कार का हकदार है।” पोस्टर में फिल्म दीवार में अपराधी बने अमिताभ और पुलिस इंस्पैक्टर बने शशि कपूर अपनी मां बनी निरूपा रॉय को अपने साथ रहने चलने को कहते हैं, जिस पर निरूपा राय को फिल्मी संवाद के इतर कहते दिखाया गया है, ‘नहीं, तो पहले शौचालय बनायेगा, मैं उसके साथ रहूंगी।” ट्वीट के जरिये बात प्रधानमंत्री मोदी तक पहुंची तो वे भी मुस्कुराये बिना नहीं रह सके, और आशुतोष के ट्वीट को नैनीताल में लगे पोस्टर के साथ रिट्वीट करते हुए लिखा, ‘हा हा, बॉरोज फ्रॉम सिनेमा टु मेक ए पॉइंट ऑन क्लीनलीनेस, इनोवेटिव” यानी, ‘स्वच्छता के लिये फिल्मों से विचार लेने का अभिनव प्रयोग”। यह पहल करने वाले नैनीताल नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी रोहिताश शर्मा ने बताया कि उन्होंने हल्द्वानी नगर निगम के साथ ऐसे 14-15पोस्टर तैयार करवाकर नगर के प्रमुख स्थानों पर लगाये हैं।

मुहिम के पोस्टरों से धरातल पर उतरने की जरूरत

नैनीताल। नैनीताल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान के प्रचार में पोस्टरों के स्तर पर तो मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी का अनुकरण कर लिया है। लेकिन यह कहना भी गलत नहीं होगा कि पहले से ही सफाई के प्रति काफी संवेदनशील रहे इस नगर में वाराणसी के घाटों की तरह नगर की विश्व प्रसिद्ध नैनी झील के घाटों, यहां गिरने वाले नालों की भी सफाई किये जाने की जरूरत है। नैनी झील के लिये पानी लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के कारण नगर की धमनियां कहे जाने के बावजूद गंदगी से पटे नाले और नगर भर में आवारा कुत्तों की फैली पड़ी गंदगी के ढेर भी शर्मशार करने वाले हैं। इधर स्थानीय विधायक संजीव आर्य ने नालों की सफाई से अपने कार्यों की शुरुआत कर एक संदेश दिया है, जो बेहतर भविष्य की उम्मीद जताने वाला है।

उत्तराखंड के लिए प्रधानमंत्री मोदी के सीएम कैंडीडेट के तौर पर पसंद हो सकते हैं पूर्व नौकरशाह

  • कैग में एकमात्र आईएएस अधिकारी के तौर पर भी हैं तैनात, प्रधानमंत्री मोदी हैं इनकी इमानदारी से प्रभावित और उनके करीब भी हैं सिंह
  • बेहद चर्चित आईएएस अधिकारी रहे हैं एसपी सिंह, नैनीताल व हल्द्वानी में रहा 90 के दशक में जलवा, जीएमवीएन के एमडी भी रहे
  • भाजपा उत्तराखंड के साथ ही यूपी में भी कर सकती है उपयोग, हल्द्वानी और अयोध्या सीट से चुनाव लड़ने की संभावना
  • आरएसएस के साथ ही यूपी के पूर्व सीएम कल्याण सिंह के बेहद करीबी माने जाते हैं
सूर्यप्रताप सिंह
सूर्यप्रताप सिंह

नवीन जोशी, नैनीताल। केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारी बहुमत से सत्तारूढ़ होने के बाद से हुए कई राज्यों के विधानसभा चुनावों में भाजपा अनपेक्षित निर्णय करती रही है, और बिहार व दिल्ली को छोड़कर उसके ये निर्णय सफल भी रहे हैं। ऐसे ही किसी निर्णय की उत्तराखंड में भी पार्टी रणनीति बना सकती है। इसी कड़ी में प्रधानमंत्री के करीबी, कैग में तैनात एकमात्र प्रशासनिक अधिकारी, 1982 बैच के आईएएस अधिकारी, पूर्ववर्ती यूपी के दौर में 1990 के दशक में तत्कालीन नैनीताल जनपद (वर्तमान ऊधमसिंह नगर जनपद भी शामिल) के डीएम रहते उस दौर में भी मजबूत व राज्य की मौजूदा काबीना मंत्री डा. इंदिरा हृदयेश से टकराने तथा गढ़वाल में जीएमवीएन के एमडी रहते गढ़वाल में एक तत्कालीन मंत्री (जिनके पुत्र वर्तमान में भी मंत्री हैं) के ससुर के खिलाफ कार्रवाई करते हुए बेहद दबंग और चर्चित रहे आईएएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह भाजपा में शीघ्र शामिल हो सकते हैं, और आगामी विस चुनावों में पहले से घोषित अथवा बाद में मुख्यमंत्री के रूप में पेश किये जा सकते हैं। हालांकि बकौल सिंह अभी तक उनकी भाजपा नेताओं से कोई बात नहीं हुई है, और वे यह भी मानते हैं कि किसी भी दल के नेता उन्हें स्वीकार नहीं कर पाएंगे। लेकिन उन्होंने इतना स्पष्ट कहा कि वे उनके एजेंडे को स्वीकार करने वाले किसी भी दल में शामिल हो सकते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि वे केवल विधायक बनने या सत्ता का आनंद प्राप्त करने के लिये नहीं वरन राजनीति में सुधार करने, समाज के लिये कुछ बेहतर करने के लिये राजनीति में आना चाहते हैं। उनकी ख्वाहिश है कि शिक्षा या किसी क्षेत्र विशेष में मौका मिले तो वे उसे सुधार कर रख दें। उन्होंने यूपी में सपा व बसपा को सांपनाथ व नागनाथ की संज्ञा देने के साथ भाजपा व प्रधानमंत्री मोदी के विचारों के प्रति स्पष्ट तौर पर झुकाव भी प्रदर्शित किया है।

श्री सिंह की पहचान इस रूप में भी है कि एक दौर में उन्होंने यूपी में देश के मौजूदा गृह मंत्री राजनाथ सिंह की गाड़ी से लालबत्ती उतरवा दी थी, हालांकि बाद में सीएम के रूप में राजनाथ सिंह ने उन्हें गन्ना आयुक्त की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी भी सोंपी। जबकि भाजपा सरकार के एक अन्य मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के वे पसंदीदा अधिकारी रहे, और उन्होंने ही सिंह को नैनीताल के डीएम सहित आयुक्त व कई पदों से नवाजा। बाद में अपनी दबंगई से समाजवादी पार्टी व बहुजन समाजवादी पार्टी के दौर में फिट न बैठने के कारण नौ वर्ष ‘स्टडी लीव” में अमेरिका में रहकर फेलोशिप के जरिये अध्ययन करने के बाद बकौल उनके करीब ढाई वर्षों से अपने मन से नौकरी की जिम्मेदारियों से दूर रहककर अपने ढाई लाख स्वयंसेवकों के साथ यूपी के पूर्वांचल व बुंदेलखंड के पिछड़े क्षेत्रों में बालिका शिक्षा, कुपोषण, स्कूलों के नक़ल माफिया व दागी प्रत्याशियों के खिलाफ अभियान चलाये हुए हैं। इधर वह आरएसएस के भी काफी करीब हैं, और बीती 28 नवंबर 2016 को हल्द्वानी में उन्होंने आरएसएस संचालित एकल विद्यालय समिति के द्वारा आयोजित सार्वजनिक कार्यक्रम में हल्द्वानी से विधायक काबीना मंत्री को ललकारते हुऐ चुनाव लड़ने की घोषणा भी की। इधर उनके करीबी सूत्रों के अनुसार उनकी भाजपा में जोरदार तरीके से इंट्री की तैयारियां चल रही हैं। बताया गया है कि सिंह ने भाजपा को उत्तराखंड में हल्द्वानी और यूपी में लंबे समय से भाजपा के कब्जे से दूर और भाजपा के लिये रामजन्म भूमि के नाते बेहद महत्वपूर्ण अयोध्या सीटों से चुनाव लड़ने तथा दोनों राज्यों में उनका कहीं भी उपयोग करने की पेशकश कर दी है। वहीं प्रधानमंत्री मोदी अपनी छवि से मेल खाते सिंह पर उत्तराखंड के लिये दांव लगा सकते हैं। इसका लाभ यह भी होगा कि राज्य में करीब आधा दर्जन से अधिक मुख्यमंत्री पद के दावेदारों के आपसी दांव-पेंचों से पार्टी बाहर निकल पायेगी।

प्रशासक का विनम्र होना भी जरूरी : सिंह

नैनीताल। आईएएस अधिकारी एसपी सिंह की पहचान नैनीताल में सूखाताल झील से अतिक्रमण हटाने तथा उस दौर में नगर में प्रवेश कर रहे बिल्डर्स पर लगाम कसने तथा हल्द्वानी में नैनीताल रोड से बड़े पैमाने पर अतिक्रमण हटाने तथा एक वरिष्ठ नेता के होटल को भी न बख्शने वाले एक दबंग अधिकारी की रही है। इस कारण यहां से स्थानांतरण पर जनता के समर्थन में आ खड़ा होने से उन्हें अपनी पत्नी के साथ घर की दीवार तोड़कर जाना पड़ा था, और गढ़वाल में स्थानातरण होने पर तो पुलिस बुलानी पड़ी थी। लेकिन मंगलवार को वे मुख्यालय में अशोक होटल में नगर वासियों व पत्रकारों के बीच अपने इस दबंग रवैये से काफी बदले नजर आये। कहा कि अब वे काफी बिनम्र हो चुके हैं। इसी संदर्भ में उन्होंने उत्तराखंड में राज करने वालों (मुख्यमंत्रियों) पर टिप्पणी की ‘राज्य को सही नेतृत्व नहीं मिला। एक-दो अच्छे लोग भी आये, किंतु वे काफी कठोर थे। लोकतंत्र में नेतृत्व को इतना कठोर नहीं, बल्कि विनम्र होना चाहिये”। समझा जा सकता है कि उनका इशारा किस की ओर था, और वे हर तरह से स्वयं को बेहतर सीएम प्रत्याशी होने का इशारा कर रहे थे। उन्होंने कहा, जनता अपनी समस्याओं के निदान के लिये चाहे तो वे ‘कारक” के रूप में तैयार हैं। राज्य में जाति व क्षेत्रवाद पर बोले, प्रशासक, मंत्री व मुख्यमंत्री की कोई जाति नहीं होती, और वह किसी क्षेत्र का नहीं होता। कहा, वे स्वयं को आधा पहाड़ी मानते हैं। उनका एजेंडा लोकसेवा और राज्य को बेरोजगारी से मुक्त करने का है। इसके लिये उनके पास पूरी योजना है। इसके लिये उनके एजेंडे को मानने वाले राजनीतिक दल में शामिल होने के राजनीतिक विकल्प के साथ ही ही उनके पास चुनावों के दौरान गैरराजनीतिक तरीके से लोगों को उनकी विधानसभा के प्रत्याशियों के इतिहास के बारे में जागरूक करने का विकल्प भी मौजूद है। इस मौके पर वरिष्ठ पत्रकार राजीव लोचन साह, पूर्व विधायक डा. नारायण सिंह जंतवाल, अंतर्राष्ट्रीय छायाकार अनूप साह, नवीन चंद्र साह, पूरन मेहरा, डा. जीएल साह, डा. केबी मेलकानी, विनोद पांडे व सुंदर नेगी सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

2 thoughts on “नगर पालिका ने सील किये अपने ही तीन अवैध स्लॉटर हाउस

Leave a Reply