बिग ब्रेकिंग: महाराष्ट्र में तीन दिन पुरानी सरकार के मुख्यमंत्री-उप मुख्यमंत्री ने दिया इस्तीफा

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवीन समाचार, मुंबई, 26 नवंबर 2019। महाराष्ट्र में बहुमत परीक्षण के लिए सुप्रीम कोर्ट की डेडलाइन के बीच तेजी से बदले घटनाक्रम में उप-मुख्यमंत्री अजित पवार के बाद मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने भी इस्तीफा दे दिया है। मंगलवार अपराह्न साढ़े तीन बजे आयोजित पत्रकार वार्ता में फड़णवीस ने अपने इस्तीफे की घोषणा की। उन्होंने कहा कि अजीत पवार के इस्तीफे के बाद उनके पास बहुमत नहीं है। इस मौके पर फड़णवीस ने कहा, वे विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी हैं। उनके गठबंधन को जनता ने जनादेश दिया। उन्होंने शिव सेना के साथ सरकार बनाने की कोशिश की, किंतु शिवसेना के राह बदल देने के बाद स्वयं सरकार बनाने से इंकार किया। इसके बाद अन्य पार्टियां भी सरकार नहीं बना पाईं। इस बीच अपनी पार्टी के नेता के रूप में अजीत पवार आये। उनके समर्थन से सरकार बनाई, किंतु अजीत पवार के आज इस्तीफे के बाद उनके पास बहुमत नहीं है, इसलिए इस्तीफा दे रहे हैं। कहा कि उन्होंने कभी ‘हॉर्स ट्रेडिंग’ नहीं की, जबकि दूसरों ने पूरा का पूरा अस्तबल ही खरीद लिया। कहा कि तीन पहियों पर चलने वाली सरकार चल नहीं पाएगी।

राज्य के सभी प्रमुख समाचार पोर्टलों में प्रकाशित आज-अभी तक के समाचार पढ़ने के लिए क्लिक करें इस लाइन को…

इससे पूर्व शनिवार को पद संभालने वाले अजित पवार ने तीन दिन बाद ही सीएम देवेंद्र फडणवीस को अपना इस्तीफा सौंप दिया था। बता दें कि फडणवीस सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार शाम 5 बजे तक बहुमत साबित करने को कहा था। बीजेपी ने अजित के दम पर ही विधानसभा में बहुमत का दावा किया था। सोमवार शाम को शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने 162 विधायकों की एक होटल में परेड कराई थी। उसके बाद से ही फडणवीस के लिए बहुमत साबित करने की राह मुश्किल मानी जा रही थी। अजित को मनाने के लिए एनसीपी की ओर से हर कोशिश की जा रही थी। मंगलवार सुबह अजित पवार की सुप्रिया सुले के पति सदानंद से मुलाकात की खबरें थीं और तभी से कहा जा रहा था कि वह शरद पवार के खेमे में वापस लौट सकते हैं।

दिल्ली में मोदी, शाह और नड्डा की मीटिंग
इस बीच देवेंद्र फडणवीस के इस्तीफे की अटकलें इसलिए भी तेज थीं, क्योंकि दिल्ली में संसद सत्र के इतर पीएम नरेंद्र मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा के बीच भी एक मुलाकात हुई। माना जा रहा है कि इस मीटिंग में महाराष्ट्र के हालात को लेकर बात हुई।

यह भी पढ़ें : महाराष्ट्र में सबसे बड़ा राजनीतिक उलटफेर: एनसीपी तोड़कर भाजपा ने बनाई सरकार

नवीन समाचार, नैनीताल, 23 नवंबर 2019। महाराष्ट्र में सबसे बड़ा राजनीतिक उलटफेर करते हुए भाजपा ने एनसीपी को तोड़कर सरकार बना ली है। महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने शनिवार सुबह आठ बजकर पांच मिनट पर भाजपा नेता देवेंद्र फड़णवीस को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ दिला दी है। उनके साथ एनसीपी के नेता अजीत पंवार ने उप मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले ली है। मालूम हो कि अजीत पवार एनसीपी प्रमुख शरद पवार के भतीजे हैं। माना जा रहा है कि अजीत पवार ने एनसीपी को तोड़कर भाजपा सरकार बनाई है। भाजपा निर्दलीयों एवं एनसीपी के टूटे धड़े के समर्थन से सरकार बनाई है। राज्यपाल कोश्यारी ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस को 30 नवंबर से पूर्व बहुमत साबित करने को कहा है। 

https://twitter.com/ANI/status/1198088483673296898

राज्य के सभी प्रमुख समाचार पोर्टलों में प्रकाशित आज-अभी तक के समाचार पढ़ने के लिए क्लिक करें इस लाइन को…

https://twitter.com/NewIndianXpress/status/1198069505471041536

बताया गया है कि शुक्रवार सुबह 5.47 बजे राज्यपाल कोश्यारी की संस्तुति पर महाराष्ट्र से राष्ट्रपति शासन हटाया गया। एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने अजीत पवार के इस फैसले से स्वयं को अलग बताने की कोशिश की है। अलबत्ता कांग्रेस व शिवसेना आदि शरद पवार पर ही हमलावर नजर आ रहे हैं, और कह रहे हैं कि उनकी सहमति के बिना ऐसा हो नहीं सकता। उल्लेखनीय है कि भाजपा की सरकार ऐसे समय में बनी है जब एनसीपी कांग्रेस और शिवसेना के सहयोग से सरकार बनाने का दावा कर रहे थे।

पल-पल कैसे बदला घटनाक्रम – 

रात 9 बजे – एनसीपी-कांग्रेस और शिव सेना की बैठक समाप्त, बैठक में उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री बनाने पर मुहर
रात 9.05 – अजित पवार बैठक से निकले, मोबाइल स्विच आफ किया
रात 11.45 बजे – अजित पवार और बीजेपी में डील हुई
रात 11.55 बजे – देवेंद्र फडणवीस ने पार्टी को सूचना दी कि शपथ ग्रहण की तैयारी पुख्ता की जाए
रात 12.30 बजे – राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिले देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार
रात 2.10 बजे – राज्यपाल के सचिव को कहा गया कि वह सुबह 5.47 बजे राष्ट्रपति शासन हटाने की अधिसूचना जारी करें और सुबह 6.30 बजे शपथग्रहण की व्यवस्था करें.
रात 12.00 बजे से लेकर शनिवार सुबह 9 बजे तक अजित पवार और फडणवीस साथ रहे
सुबह 5.30 बजे – फडणवीस और अजित पवार राजभवन पहुंचे
सुबह 5.47 बजे – राष्ट्रपति शासन हटाने की अधिसूचना जारी कर दी गई लेकिन घोषणा सुबह 9 बजे हुई।
सुबह 7.50 बजे – शपथ ग्रहण शुरू हो गया
सुबह 8.10 बजे – यह खबर पूरे देश में फैल गयी
सुबह 8.16 बजे – पीएम मोदी ने सीएम और डिप्टी सीएम को बधाई दी
सुबह 9.10 बजे – शरद पवार ने इसे अजित पवार का निजी फैसला बताया

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply

loading...