Court News Crime

कांग्रेस नेत्री से वर्ष 2018 से लगातार दुष्कर्म करने और उसके बच्चे का पिता होने के आरोपित को HC से अंतरिम राहत नहीं

समाचार को यहाँ क्लिक करके सुन भी सकते हैं

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 11 मई 2022। गत 26 अप्रैल को कांग्रेस पार्टी की एक शादीशुदा महिला द्वारा आरोप लगाए जाने के करीब 15 दिन गुजर जाने के बाद भी पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार नहीं किया है। अलबत्ता आरोपित को उच्च न्यायालय से अंतरिम राहत नहीं दी है। उधर पीड़िता ने महिला आयोग की उपाध्यक्ष शायरा बानो को भी मामले में एक शिकायती पत्र भेजा है।

आरोपित तरुण साह की ओर से उच्च न्यायालय में पीड़िता की तहरीर पर दर्ज हुई प्राथमिकी को निरस्त करने एवं अंतरिम राहत प्राप्त करने के लिए याचिका दायर की गई थी। मंगलवार को याचिका पर न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की एकलपीठ में सुनवाई के दौरान याची के अधिवक्ता ने तर्क रखा कि प्राथमिकी में घटना की तिथि और समय का जिक्र नहीं है, इसलिए प्राथमिकी कानून की दृष्टि से योग्य नहीं है।

दूसरी ओर तर्क रखा गया कि विवेचना के दौरान पीड़िता ने धारा 161 एवं 164 के तहत अपने बयानों में प्राथमिकी में लगाए गए आरोपों की पुष्टि की है, और यह भी कहा है कि उसे आरोपित से पैदा हुआ बच्चा भी है। इस आधार पर एकलपीठ ने याची को कोई अंतरिम राहत देने से पूर्व प्रतिपक्षी से प्रतिशपथ मांगा है। मामले की अगली सुनवाई 25 जून को होगी।

उल्लेखनीय है कि महिला नेत्री ने आरोप लगाया है कि आरोपित तरुण साह पीड़िता से वर्ष 2018 से उसके पति की बीमारी का फायदा उठाकर लगातार कई बार जबर्दस्ती, इच्छा के विरुद्ध, डरा-धमकाकर अवैध संबंध बनाए हुए है। आरोपित से पीड़िता को वर्ष 2019 में एक बच्चा भी हुआ है। पीड़िता ने आरोपित के पास पिस्टल होने का हवाला देते हुए उससे अपने बच्चे व परिवार को जान का खतरा भी बताया हैं। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने आरोपित के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 376 व 506 के तहत थाना मुखानी में अभियोग पंजीकृत कर लिया गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : बिग ब्रेकिंग-एक्सक्लूसिव: हल्द्वानी में NSUI के पूर्व जिलाध्यक्ष पर पार्टी की ही प्रदेश स्तरीय शादीशुदा महिला नेत्री से दुष्कर्म किए जाने के आरोप में मुकदमा दर्ज

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 26 अप्रैल 2022। कांग्रेस पार्टी की छात्र इकाई एनएसयूआई के पूर्व जिलाध्यक्ष पर पार्टी की युवा इकाई की एक प्रदेश पदाधिकारी ने बेहद संगीन आरोप लगाए हैं। आरोपों के अनुसार आरोपित पीड़िता से वर्ष 2018 से उसके पति की बीमारी का फायदा उठाकर लगातार कई बार जबर्दस्ती, इच्छा के विरुद्ध, डरा-धमकाकर अवैध संबंध बनाए हुए है।

आरोपित से पीड़िता को एक बच्चा भी हुआ है। पीड़िता ने आरोपित के पास पिस्टल होने का हवाला देते हुए उससे अपने बच्चे व परिवार को जान का खतरा भी बताया हैं। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने आरोपित के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 376 व 506 के तहत थाना मुखानी में अभियोग पंजीकृत कर लिया है।

पीड़िता ने पुलिस को दी तहरीर में कहा है कि तरुण साह नाम के आरोपित ने उससे 2018 में सबंध बनाए और उसके पति की बीमारी का फायदा उठाकर उसके घर में ही उसे अकेला पाकर उसकी इच्छा के विरुद्ध समाज का डर दिखाकर उसका बार-बार शारीरिक शोषण किया। लोक-लाज का हवाला देकर चुप कराया और बार-बार धमकाया। वर्ष 2019 में पीड़िता का आरोपित से बच्चा भी हुआ।

इसके साथ ही आरोपित ने पीड़िता को समाज में बदनाम और बार-बार परेशान भी किया। आरोपित पीड़िता को शारीरिक संबंध न बनाने पर समाज में सब बना देने की और कई बार जान से मारने की धमकी भी दे चुका हैं यह भी कहा है कि आरोपित के पास लाइसेंसी पिस्टल है, लिहाजा उसे, उसके पति, बच्चे व परिवार को आरोपित से जान का खतरा है। पीड़िता की तहरीर पर मंगलवार शाम मुखानी पुलिस ने अभियोग दर्ज कर लिया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : महिला से ‘रसभरी’ बातें करते पकड़े गए उत्तराखंड के बुजुर्ग मंत्री !!

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 10 फरवरी 2022। उत्तराखंड में एक पूर्व मुख्यमंत्री से लेकर एक निवर्तमान मंत्री तथा एक निवर्तमान विधायक सहित कई राजनेताओं का सैक्स-स्कैंडलों में फंसने की कड़ी में एक और नाम जुड़ता नजर आ रहा हैं। हम इन ऑडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं करते।

सोशल मीडिया एक नेता के कई ऑडियो तेजी से वायरल हो रहे है, जिसमें आशिक मिजाज नेता महिलाओं से रसभरी बातें कर रहे हैं। एक ऑडियो में तो ऐसी बातें हैं, जिन्हें दोहराया भी नहीं जा सकता। आप भी सुनें नेता जी के यह ऑडियो :

ऑडियो काफी पुरानी बताई जा रही है, और अभी ठीक चुनाव से पहले सोशल मीडिया पर लीक व वायरल की गई हैं। बताया जा रहा है कि यह ऑडियो चुनाव लड़ने की कतार में खड़े संबंधित नेता के विरोधियों ने ही चार दिन बाद होने जा रहे विधानसभा चुनाव के दृष्टिगत लीक और वायरल की हैं। मामले के आने वाले दिनों में राज्य की राजनीति के केंद्र में आने की संभावना हैआज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : दुष्कर्म के मामले में आरोपित भाजपा विधायक को डीएनए जांच संबंधी याचिका में बड़ी राहत

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 10 दिसंबर 2021। उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने आसन्न विधान सभा चुनाव से ठीक पहले द्वाराहाट के भाजपा विधायक महेश नेगी को दुराचार के आरोप से मुक्त कर दिया है। उच्च न्यायालय का यह आदेश तब आया, जब देहरादून सीजेएम कोर्ट से उनके डीएनए का नमूना लेने के आदेश को चुनौती देने वाले याचिका पर सुनवाई के दौरान सरकार की ओर से कोर्ट में दाखिल शपथपत्र में मामले की विवेचक द्वारा फाइनल रिपोर्ट लगाने की जानकारी दी गई। फाइनल रिपोर्ट में विधायक व उनकी पत्नी के खिलाफ किसी तरह का अपराध नहीं पाया गया है। कोर्ट ने सरकार के शपथपत्र के आधार पर विधायक की याचिका को निस्तारित कर दिया।

अलबत्ता न्यायालय ने इसी मामले से जुड़े एक अन्य मामले में महिला का यौन शोषण किये जाने मामले की सीबीआइ जांच कराने को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए सरकार व विधायक महेश नेगी को चार सप्ताह में जवाब दाखिल करने के निर्देश दिए हैं। इस मामले की अगली सुनवाई 13 जनवरी को होगी। गौरतलब है कि इस मामले में पीड़िता की ओर से याचिका दायर कर कहा गया कि नेगी उसकी बेटी के पिता हैं। इसलिए उनकी डीएनए जांच कराई जाए। उच्च न्यायालय के ताजा फैसले और सरकार की फाइनल रिपोर्ट के बाद लगता है कि इस मामले में भी विधायक को राहत मिल सकती है।  आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बिग ब्रेकिंग : दुराचार के आरोपों में फंसे भाजपा विधायक को राहत नहीं….

-अगली सुनवाई 19 जून को राज्य सरकार से जवाब दाखिल करने को कहा
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 12 जुलाई 2021। उत्तराखंड उच्च न्यायालय की न्यायाधीश न्यायमूर्ति एनएस धानिक की एकलपीठ ने हरिद्वार जिले की ज्वालापुर विधानसभा सीट के भाजपा विधायक सुरेश राठौर को दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तारी पर रोक व प्राथमिकी को निरस्त करने संबंधी याचिका पर कोई राहत नहीं दी है। अलबत्ता, राज्य सरकार से अगली सुनवाई की तिथि 19 जुलाई तक मामले में शपथपत्र पेेेश करने को कहा है। साथ ही पीड़िता के खुद को विधायक से खतरा बताने पर हरिद्वार के एसएसपी को पीड़िता को सुरक्षा उपलब्ध कराने के आदेश भी दे दिए गए हैं।

उल्लेखनीय है कि विधायक सुरेश राठौर ने याचिका दाखिल कर कहा है कि उनके खिलाफ महिला की ओर से बदले की नीयत से दुराचार करने के झूठे आरोप लगातते हुए पहली जुलाई 2021 को दी गई तहरीर पर भारतीय दंड संहिता की धारा 156(3) के तहत थाना बहादराबाद में प्राथमिकी दर्ज की गई है। इस मामले में वह पुलिस की जांच में सहयोग करने को तैयार हैं। उन्होंने यह भी कहा है कि 2020 में महिला के खिलाफ उन्होंने शिकायतकर्ता महिला पर ब्लैकमेलिंग का मुकदमा दर्ज कराया था। इस मामले में पुलिस ने जांच के बाद आरोपी महिला को पति सहित दो अन्य साथियों को जेल भेज दिया था परंतु पिछले साल कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखर कर इन लोगों को निचली अदालत ने रिहा कर दिया था। इस पर जेल से बाहर आने के बाद महिला ने उनके खिलाफ बदले की भावना से कई बार दुराचार करने का झूठा आरोप लगाकर मुकदमा दर्ज कराया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : भाजपा विधायक के खिलाफ भाजपा नेत्री की शिकायत पर दुष्कर्म के आरोप में मुकदमा दर्ज..

नवीन समाचार, हरिद्वार, 02 जुलाई 2021। उत्तराखंड भाजपा के लिए एक और बुरी खबर है। सैंक्स स्केंडल में फंसे भाजपा के द्वाराहाट विधायक महेश नेगी के बाद हरिद्वार के ज्वालापुर से भाजपा विधायक सुरेश राठौर के खिलाफ भाजपा नेत्री की तहरीर पर न्यायालय के आदेशों पर बहादराबाद थाने में दुष्कर्म की गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। महिला ने न्यायालय में प्रार्थना पत्र देकर कहा था कि वह किसी काम के सिलसिले में विधायक से मिलने गई थी। इसी दौरान विधायक ने उसे अपने झांसे में लेकर उसके साथ दुराचार किया। उल्लेखनीय है कि आरोप लगाने वाली महिला, उसका पति व दो कथित पत्रकार विधायक से इस मामले में एक करोड़ की फिरौती मांगने के आरोप में जेल जा चुके हैं।

उल्लेखनीय है कि बीते दिनों भाजपा विधायक सुरेश राठौर ने ज्वालापुर कोतवाली पुलिस को बताया था कि कुछ लोग कथित अश्लील वीडियो वायरल कर उन्हें ब्लैकमेल कर रहे हैं। विधायक की शिकायत पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था। जिसके बाद पुलिस ने दो पत्रकारों सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने मीडिया को बताया था कि आरोपी भाजपा विधायक को कथित आपत्तिजनक वीडियो वायरल करने के नाम पर डेढ़ करोड़ रुपए मांग रहे थे। गिरफ्तार आरोपितों में एक रुड़की तथा दूसरा सहारनपुर का रहने वाला था। इसके बाद पुलिस ने इसी मुकदमे में एक भाजपा नेत्री और उसके पति सहित तीन अन्य लोगों को गिरफ्तार किया था। आरोपियों में रणवीर गौतम, सतीश दास, एसडी गौतम, निवासी बेगमपुर बहादराबाद और विजेंद्र के नाम सामने आए थे। इसी प्रकरण में अब पीड़िता ने शुक्रवार को विधायक सुरेश राठौर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराकर सनसनी मचा दी है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : भाजपा विधायक पर बलात्कार के आरोप के बाद अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर मांगे 1.5 करोड़, करीबी भाजपा नेत्री व दो कथित पत्रकारों सहित 5 गिरफ्तार

-उल्टे विधायक ने बातों में फंसाकर दर्ज कराया था मुकदमा
नवीन समाचार, हरिद्वार, 26 मई 2021। पिछले दिनों महामंडलेश्वर बनने वाले ज्वालापुुर के भाजपा विधायक सुरेश राठौर पर बलात्कार के गंभीर आरोप लगाते हुए कथित वीडियो वायरल करने की धमकी देकर डेढ़ करोड रुपये मांगने वाली भाजपा विधायक की ही करीबी भाजपा महिला नेत्री, उसके पति व दो कथित पत्रकारों सहित पांच लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इन सभी के खिलाफ विधायक सुरेश राठौर ने ही मुकदमा दर्ज कराया था।

प्राप्त जानकारी के अनुसार कुछ दिन पहले रणवीर गौतम निवासी ग्राम बेलड़ा, निवासी रुड़की, सतीश दास निवासी नागल सहारनपुर, एसडी गौतम निवासी नागल सहारनपुर, सुरेखा निवासी बेगमपुर बहादराबाद और उसके पति विजेंद्र ने विधायक सुरेश राठौर के नंबर पर एक वीडियो भेजकर वीडियो को वायरल करने की धमकी दी थी। वायरल करने से बचने के लिए विधायक से डेढ करोड रुपए मांगे गए। इस पर विधायक सुरेश राठौर आरोपियों से बात कर रहे और लगातार बात करने पर पूरी डील तीस लाख रुपए में फाइनल हो गई थी और डील फाइनल होते ही भाजपा विधायक सुरेश राठौर ने सुरेखा सहित अन्य लोगों पर मुकदमा दर्ज करा दिया था। जिसके बाद पुलिस ने सुरेखा सहित पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।

बताया गया है कि पकड़ी गई भाजपा नेत्री सुरेखा भाजपा विधायक सुरेश राठौर को बहुत अच्छे से जानती है और उसका घर भी आना-जाना है। सुरेखा भी खुद को भाजपा नेत्री बताती है। आरोप है कि सुरेखा ने भाजपा विधायक से पार्टी में अच्छा पद दिलाने और मकान में पत्थर लगाने का आश्वासन पूरा ना होने पर अपने दूसरे साथियों से मिलकर उनके खिलाफ बलात्कार का षडयंत्र रचा। लेकिन, विधायक राठौर की समझबूझ और आरोपियों को बातों में लगाकर डील डेढ़ करोड से तीस लाख तक लाने के चलते पांचों आरोपित जाल में फंस गए और गिरफ्तार हो गए। (डॉ.नवीन जोशी)

यह भी पढ़ें : सैक्स स्कैंडल में फंसे विधायक को हाईकोर्ट ने फिर दी राहत

नवीन समाचार, नैनीताल, 06 अप्रैल 2021। उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने एक महिला द्वारा अपनी बच्ची का पिता के रूप में आरोपित किए जा रहे चर्चित भाजपा विधायक महेश नेगी को डीएनए जांच के लिए न्यायालय में पेश होने के मामले में फिर बड़ी राहत दे दी है। उच्च न्यायालय की न्यायाधीश न्यायमूर्ति रमेश चंद्र खुल्बे की एकलपीठ में विधायक नेगी की याचिका पर सुनवाई करते हुए उनकी डीएनए जांच कराए जाने पर निचली अदालत के फैसले पर पूर्व में लगाई गई रोक को बरकरार रखा है, और राज्य सरकार से तीन सप्ताह के भीतर जवाब तलब करते हुए अगली सुनवाई 27 अप्रैल को नियत कर दी।

उल्लेखनीय है कि नेगी ने देहरादून के सीजेएम कोर्ट के उस आदेश को चुनौती दी है, जिसमें उन्हें डीएनए सैंपल देने के लिए कोर्ट में पेश होने व सीएमओ को सैंपल लेने के लिए बुलाने का आदेश पारित किया था। उच्च न्यायालय ने 11 जनवरी को सीजेएम कोर्ट के इस आदेश पर रोक लगा दी थी। याचिकाकर्ता ने अदालत को बताया कि शिकायतकर्ता ने शामली के जिस चिकित्सक की डीएनए टेस्ट रिपोर्ट का जिक्र किया है, वह फर्जी है। इस मामले में स्वयं चिकित्सक ने विवेचक को बयान दिया है कि उनके यहां किसी का डीएनए सैंपल नहीं लिया गया। डीएनए की जांच बिना अदालत के आदेश के नहीं हो सकती।

लिहाजा पीड़िता ने अदालत में जो डीएनए रिपोर्ट दाखिल की है, वह फर्जी है और उन्हें ब्लैकमेल करने के लिए फर्जी तरीके से तैयार की गई है। यह भी सवाल उठाया कि आज तक शिकायतकर्ता के पति की ओर से सक्षम अधिकारी के समक्ष या कोर्ट में बच्ची के पिता होने के संबंध में किसी तरह का सवाल नहीं उठाया गया। एकलपीठ ने मामले को सुनने के बाद निचली कोर्ट के आदेश पर रोक बरकरार रखते हुए अगली सुनवाई 27 अप्रैल को नियत कर दी। साथ ही सरकार को मामले में तीन सप्ताह में जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया।

बिग ब्रेकिंग : सैक्स स्कैंडल में फंसे भाजपा विधायक को और मिली डीएनए नमूने देने अनौपचारिक राहत

नवीन समाचार, नैनीताल, 13 जनवरी 2021। उत्तराखंड उच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति एनएस धानिक की एकलपीठ ने सैक्स स्कैंडल में फंसे अल्मोड़ा जिले के द्वाराहाट से विधायक महेश नेगी की डीएनए नमूने प्रस्तुत करने के सीजेएम देहरादून के आदेश के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया है। इसके बाद अब मुख्य न्यायाधीश को मामले को नई बेंच को भेजना होगा।

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों एकलपीठ ने सीजेएम कोर्ट के आदेश पर फिलहाल रोक लगाते हुए सरकार व अन्य विपक्षी को नोटिस जारी कर जवाब दाखिल करने के निर्देश दिए थे। देहरादून की निचली अदालत ने डीएनए रिपोर्ट पेश करने के लिए अंतिम समय दिया था, जिसे विधायक द्वारा हाई कोर्ट में याचिका दायर कर चुनौती दी गई है। आज इस मामले में सुनवाई होनी थी। आज सुनवाई न हो पाने से विधायक को अगली सुनवाई तक की और मोहलत मिल गई है।

यह भी पढ़ें : सैक्स स्कैंडल में फंसे भाजपा विधायक को डीएनए जांच कराने से दो दिन की फौरी राहत

नवीन समाचार, नैनीताल, 11 जनवरी 2021। उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने द्वाराहाट के भाजपा विधायक महेश नेगी को डीएनए के लिए प्रस्तुत होने के सीजेएम देहरादून के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए विपक्षी व सरकार को अगली सुनवाई 13 जनवरी तक जवाब दाखिल करने के निर्देश देते फौरी तौर पर 48 घंटे यानी दो दिन की राहत दे दी है। उल्लेखनीय है कि सीजेएम देहरादून ने विधायक नेगी को डीएनए जांच कराने के आदेश दिये थे। इस आदेश के क्रम में शासन ने विधायक को सोमवार को डीएनए के लिए प्रस्तुत होने का अंतिम समय दिया था। इसी आदेश को विधायक ने अधिवक्ता के माध्यम से सोमवार को हाईकोर्ट में चुनौती दी। मामले की सुनवाई न्यायमूर्ति एनएस धनिक की एकलपीठ में हुई।

मामले के अनुसार गत पांच सितंबर को उत्तराखंड के इस चर्चित सेक्स स्कैंडल में पीड़ित महिला ने विधायक महेश नेगी व उनकी पत्नी को भी आरोपित बनाते हुए भारतीय दंड संहिता की धारा 376 और 506 के तहत बलात्कार का मुकदमा दर्ज करवाया था, और पीड़िता ने विधायक को अपनी बेटी का पिता बताते हुए उसके डीएनए टेस्ट की मांग भी की है। पीड़िता का कहना है कि विधायक ने एक दिसम्बर 2018 और उसके बाद कई महीने तक उसके साथ जबरन शारीरिक संबंध बनाए। शादी के बाद डरा धमका कर उसको कई जगह ले जाकर बलात्कार किया। मामले की अब तक हुई पुलिस जांच में पीड़िता के बताए स्थानों विधायक निवास, मसूरी, सिनर्जी अस्पताल और दिल्ली के होटल में दोनों के रहने की तथ्यात्मक पुष्टि भी होने की भी सूचना पुलिस सूत्रों के अनुसार हो चुकी है।

पीड़िता की ओर से दर्ज मुकदमे में विधायक नेगी और पीड़िता के एक साथ नेपाल, हिमाचल, हल्द्वानी और बिनसर (अल्मोड़ा) में भी ठहरने का जिक्र है। वहीं विधायक की पत्नी रीता नेगी ने पीड़िता पर ब्लैकमेलिंग और 5 करोड़ की रंगदारी का देहरादून के नेहरू कॉलोलोनी थाने में सबसे पहले मुकदमा दर्ज करवाया। इस मुकदमे के दर्ज होने के बाद पीड़िता को भी गिरफ्तारी से बचने के लिए हाईकोर्ट से स्टे लेना पड़ा था। इधर पीड़िता ने यह भी कहा गया है कि इस मामले जांच कर रहे दो आईओ को भी सरकार द्वारा बदला जा चुका है। पीड़िता ने विधायक के सत्तारूढ़ पार्टी के होने का हवाला देते हुए मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। यह भी आरोप लगाया है कि देहरादून पुलिस इस मामले की जांच करने में पक्षपातपूर्ण रवैया अपना रही है। इसमें सही तरीके से जांच भी नहीं की जा रही है। वहीं सोमवार को हुई सुनवाई में विधायक के अधिवक्ता ने बताया कि शासन ने 18 दिसंबर 2020 को आदेश जारी कर विधायक को डीएनए के लिए प्रस्तुत करने को कहा था, जिसे उन्होंने हाईकोर्ट में चुनौती दी है। न्यायालय ने 13 जनवरी को सुनवाई की तिथि नियत कर विपक्षी व सरकार को जवाब दाखिल करने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें : बड़ा समाचार : अब विधायक व उनकी पत्नी के खिलाफ बलात्कार व धमकाने के आरोपों में मुकदमा दर्ज

कलाकार BJP विधायक: पत्नी संग मिलकर दबा दिया दुष्कर्म मामला, अब हुआ ये हालनवीन समाचार, देहरादून, 06 सितंबर 2020। अल्मोडा की द्वाराहाट सीट से विधायक महेश नेगी एवं उन पर एक महिला द्वारा अपनी बेटी का जैविक पिता होने का आरोप लगाकर डीएनए जांच की मांग कर रही महिला के मामले में एक बार फिर नया मोड़ आ गया है। पहले पीड़िता पर ही मुकदमा दर्ज होने, फिर उच्च न्यायालय के पीड़िता की गिरफ्तारी पर रोक लगने तथा पीड़िता के बिना न्यायालय के आदेश के बेटी व पति की डीएनए जांच कराने तथा राज्य महिला आयोग के समक्ष उपस्थित न होने के साथ मामला पीड़िता के खिलाफ जाता दिख रहा था। किंतु बीती शनिवार की देर रात्रि देहरादून के एसीजेएम पंचम की अदालत के आदेशो के बाद नेहरू कालोनी थाना पुलिस ने विधायक महेश नेगी और उनकी पत्नी रीता नेगी के विरूद्ध बलात्कार व धमकाने् की धाराओ में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार पीडिता के प्रार्थना पत्र एवं एफआईआर विधायक पर पीडिता के साथ दुष्कर्म करने और समय-समय पर धमकी देते हुये मुंह बंद रखने को धमकी देने का आरोप लगाया गया है। जबकि विधायक की पत्नी पर इस मामले में चुप रहने के एवज में बड़ी धनराशि का लालच देने का आरोप लगाया गया है। उल्लेखनीय है कि कि पीडिता लगातार विधायक पर उसकी बेटी का जैविक पिता होने का आरोप लगाकर डीएनए जांच की मांग कर रही है। मामले में नेहरू कॉलोनी के थाना प्रभारी ने बताया है कि न्यायालय के आदेशों पर देर रात मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply