News

सर्वोच्च न्यायालय ने शेरवुड कॉलेज मामला हल करने के लिए सुनाया बड़ा फैसला

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       -ट्रायल कोर्ट को मामला निस्तारित को छूट व 9 माह का समय दिया नवीन समाचार, नैनीताल, 20 फरवरी 2021। शिक्षा नगरी के प्रतिष्ठित विद्यालय शेरवुड कॉलेज के विवाद में सर्वोच्च न्यायालय की ओर से बड़ा फैसला आया है। सर्वोच्च न्यायालय की न्यायमूर्ति आरएफ नरीमन व न्यायमूर्ति बीआर गवई की खंडपीठ ने मामले से संबंधित […]

News

एक्टिंग तो हर कोई सुबह से शाम तक करता है, पर…: डॉ. सुवर्ण रावत

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       -कहा, एक्टिंग हर मनुष्य की जन्मजात प्रवृत्ति, लोग सुबह उठने से लेकर रात्रि तक अभिनय करते हैं, पर नाटक सिर्फ मंच या फिल्म-टीवी शो के लिए ही की जा सकती है, बताया साहित्य और रंगमंच में है बहुत गहरा सम्बन्ध नवीन समाचार, नैनीताल, 01 दिसम्बर 2020। नाटक अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। नाटक यदि […]

अमिताभ बच्चन के 77वें जन्मदिन पर उनके नैनीताल स्थित शेरवुड कॉलेज हुई विशेष प्रार्थना सभा, काटा गया केक

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       नवीन समाचार, नैनीताल, 11 अक्टूबर 2019। अपने अभिनय से सदी के महानायक कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन के शुक्रवार को 77वें जन्म दिन के अवसर पर उनके विद्यालय, नगर स्थित शेरवुड कॉलेज में विशेष प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया। साथ ही केक भी काटा गया। इस मौके पर विद्यालय के चैपल में प्रधानाचार्य […]

News

नैनीताल-कुमाऊं में फिल्माई गई फिल्में और गाने

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       मधुमती (1958)-दिलीप कुमार, वैजयन्ती माला और जॉनी वॉकर। प्रमुख गीत-जुल्मी संग आँख लड़ी, चढ़ गयो पापी बिछुआ, दिल तड़प तड़प के, घड़ी घड़ी मोरा दिल धड़के, जंगल में मोर नाचा, सुहाना सफ़र, आजा  रे परदेशी । गुमराह(1963)- सुनील दत्त, माला सिन्हा। प्रमुख गीत-इन हवाओं में, इन फ़िज़ाओं में तुझको मेरा प्यार पुकारे। कौन अपना-कौन पराया (पूर्व नाम वांटेड) (1963)-वहीदा रहमान, अशोक कुमार, विजय […]

News

कुमाऊं में 16वीं शताब्दी से लिखे व मंचित किये जा रहे हैं नाटक

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       -बताया-चंदवंश के राजा रूद्रचंद देव द्वारा संस्कृत के दो नाटकों की रचना व मंचन -नैनीताल के रंगमंच पर वृहद शोध की जरूरत उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल एवं मंडल मुख्यालय नैनीताल में रंगमंच की गौरवशाली परंपरा रही है। सोलहवीं शताब्दी में कुमाऊं में चंदवंश के राज्य में राजा रूद्रचंद देव द्वारा संस्कृत के दो नाटकों […]

loading...