News

हल्द्वानी में कोरोना विस्फोट, दो गर्भवती महिलाओं के संपर्क में आये 20 सहित 22 लोगों में कोरोना की पुष्टि

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नैनीताल के लिए कोरोना के मोर्चे पर बड़ी राहत की खबर, फिलहाल खत्म हुआ सात नंबर का खतरा

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 1 जुलाई 2020। बुधवार को हल्द्वानी में 22 नये कोरोना संक्रमित रोगियों के मिलने से कोरोना के विष्फोट जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई है। प्रारंभिक जानकारी के अनुसार हल्द्वानी के इंदिरा नगर बनभूलपुरा में 13 तथा हीरा नगर में सात लोगों में कोरोना की पुष्टि बताई जा रही है। इनके अलावा रामपुर रोड की समता आश्रम गली में भी दो नये कोरोना संक्रमित मिले हैं। यह दो व्यक्ति दिल्ली से आये लोग हैं, जबकि अन्य 20 लोगों का कोई यात्रा इतिहास नहीं है। इस घटना के बाद हल्द्वानी का महिला अस्पताल भी निशाने पर आ गया है। 
चिंताजनक बात यह भी है कि इंदिरा नगर बनभूलपुरा एवं हीरा नगर में मिले नये कोरोना संक्रमितों का कोई यात्रा इतिहास नहीं बताया जा रहा है। बल्कि बताया जा रहा है इंदिरा नगर की जिस 30 साल की कोरोना संक्रमित महिला ने गत दिवस कोविद समर्पित सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज में एक बच्चे को जन्म दिया है, यह सभी उसी के संपर्क में आये लोग हैं। इस घटना के बाद इस महिला से संपर्क में आने वाले 59 लोगों को अलग-अगल स्थानों में संस्थागत क्वारंटीन किया गया था। इसमें पहले 7 लोगों और आज 13 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हो गई है। इन 13 लोगों में एक सात साल के बच्चे व एक बारह साल की बालिका से लेकर पचपन साल तक के चार पुरुष एवं नौ महिलाएं शामिल हैं। इनको बागजाला में संस्थागत क्वारंटीन पर रखा गया था। 

वहीं हीरानगर निवासी लोग यहां की एक गर्भवती महिला के संपर्क में आये लोग बताये जा रहे हैं। जानकारी के अनुसार यह महिला हल्द्वानी के महिला अस्पताल में खुद को दिखाने के लिए जाती थी। माना जा रहा है कि उसे वहीं से कोरोना संक्रमण हुआ है। बताया गया है कि प्रशासन ने इन दो महिलाओं के संपर्क में आये 59 लोगों की पहचान कर उनकी कोरोना जांच कराई थी, जिनमें से 20 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है।  यही नहीं सात लोग एक दिन पहले ही संक्रमित मिल चुके हैं। यह संख्या 27 पार हो गई है। 

उल्लेखनीय है कि एक गर्भवती महिला का पति पहले ही कोरोना संक्रमित पाया जा चुका है। अब बड़ी चिंताजनक स्थिति यह भी उत्पन्न हो गयी है कि इन 20 लोगों के संपर्क में आये लोगों में भी कोरोना का संक्रमण हो सकता है। साथ ही बड़ा सवाल भी पैदा हो गया है कि इनके माध्यम से हल्द्वानी में कोराना संक्रमण समाज में भी फैल हो सकता है। ऐसी स्थिति उत्पन्न होने, खासकर हल्द्वानी में पिछले कुछ दिनों में चार गर्भवती महिलाओं को कोरोना का संक्रमण होने पर भी सवाल उठ रहे हैं। इससे इंदिरानगर के बाद अब हीरानगर नया कोरोना हॉट स्पाट के तौर पर आ गया है। यदि यह सही है तो इससे इंदिरा नगर व हीरा नगर पर कंटेनमेंट जोन में तब्दील होने का संकट भी उत्पन्न हो गया है।

प्रशासनिक अधिकारियों के अनुसार सभी कोरोना संक्रमितों को एसटीएच में भर्ती करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। प्रशासन ने अभी तक किसी में कोरोना के लक्षण दिखने से इंकार किया है। प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार अब इंदिरा नगर एक नए कटेनमेंटजोन के तौर पर उभरने लगा है। यह हल्द्वानी के लोगों के लिए बड़ी चिंता का विषय बन गया है। यह चिंता हीरानगर तक भी जाती है।वहीं इस बारे में पूछे जाने पर जनपद की नवनियुक्त मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. भागीरथी जोशी ने कहा कि उन्होंने आज ही कार्यभार ग्रहण किया है। अभी वे वीडियो कांफ्रेंस में हैं। पूरे मामले को गंभीरता से देखा जा रहा है।

यह भी पढ़ें : गर्भवती महिला के पति सहित नैनीताल में आज चार नये मामले

नवीन समाचार, नैनीताल, 30 जून 2020। नैनीताल जनपद में आज कोरोना के चार नये मामले आए हैं। स्वास्थ्य विभाग के मेडिकल बुलेटिन के अनुसार इनमें से एक मुरादाबाद व एक महाराष्ट्र से आये, एक पुराने संक्रमित के संपर्क में आये एवं एक बिना किसी यात्रा इतिहास वाले व्यक्ति शामिल हैं। जनपद की अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. रश्मि पंत ने बताया कि ये सभी पहले से कोरोना की संभावना के दृष्टिगत जनपद के कोविद समर्पित सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज में पहले से भर्ती थे। इनमें से एक पूर्व में संक्रमित के संपर्क में आया व्यक्ति पूर्व में संक्रमित पायी गयी गर्भवती महिला का पति भी है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल के धारी में एक ही परिवार के तीन सहित पांच लोग मिले कोरोना पॉजिटिव, क्षेत्र में हड़कंप

-पहली बार कोरोना के मामले मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग व तहसील प्रशासन खंगालने में जुटा यात्रा इतिहास, 22 जून को पदमपुरी में लिए थे नमूने
दान सिंह लोधियाल @ नवीन समाचार, धानाचूली, 25 जून 2020। अब तक कोरोना के संक्रमण से बचे नैनीताल जनपद के धारी विकासखंड में पहली बार चार लोगों की कोविड-19 रिपोर्ट की पॉजिटिव आ गई है। इनमें एक परिवार के 12 व 14 वर्ष की उम्र के दो बच्चे, तथा 43 वर्षीय पिता सहित अन्य परिवार की 35 वर्षीय एक अन्य महिला व एक अन्य पुरुष शामिल हैं। गत 22 जून को पदमपुरी के स्वास्थ्य केंद्र में 18 लोगों के साथ इनके नमूने लिये गये थे। उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव पाये जाने के बाद स्थानीय प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के साथ ही क्षेत्र में हड़कंप मच गया है। प्रशासन चारों लोगो से सम्पर्क कर उनका स्वास्थ्य परीक्षण कराने में जुट गया है।
धारी के उपजिलाधिकारी अनुराग आर्या ने बताया कि धारी के कौल (पोखराड) ग्राम सभा के एक ही परिवार के 3 लोगों एवं देवनगर कनर्खा निवासी एक अन्य व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव पायी गयी है। चारो लोगांे को स्वास्थ्य परीक्षण के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पदमपुरी भेजा जा रहा है। वहां चिकित्सको की टीम उनका स्वास्थ्य परीक्षण करेगी। उन्होंने बताया कि अगर घातक लक्षण पाए जायेगे तो ही सुशीला तिवारी अस्पताल भेजा जाएगा। अन्यथा इन सभी को पहले की तरह होम या संस्थागत क्वारंटाइन कराया जाएगा। उनके घर राजस्व उपनिरीक्षक हेम चन्द्र पलड़िया व ललित मोहन सिंह जैड़ा को भेज कर सभी कोरोना पॉजिटिव लोगों को सरकारी वाहन से पदमपुरी भेजने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। वहीं स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी जेसी आर्या ने बताया कि इन सभी का 22 जून को पदमपुरी में कोरोना के नमूने लिये गये थे और इनकी टेबल हिस्ट्री दिल्ली की बताई जा रही है। उन्होंने बताया की धारी कौल के तीन लोग एक ही परिवार के कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जबकिवहीं महिला हल्द्वानी में क्वारन्टाइन की गई बताई गई है। वहीँ देवनगर कनर्खा का एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। अब स्वास्थ्य विभाग की टीमें भी इनके संपर्क में आए लोगों की जानकारी जुटा रहा है।

यह भी पढ़ें : कोरोना संक्रमित व उसके भाई के खिलाफ मुकदमा दर्ज, कार्रवाई के भय से दो युवक शहर से भागे

-23 और लोगों के नमूने लिये अब तक 81 लोग संस्थागत एकांतवास में रखे गये हैं
नवीन समाचार, नैनीताल, 23 जून 2020। गत दिवस कोरोना संक्रमित पाये गये नगर के सात नंबर निवासी 31 वर्षीय युवक व उसके भाई पर आखिर मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने भारतीय दंड संहिता 188, 269 व 270 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। वहीं गुड़गांव से आकर खुद को गाजियाबाद से आया बताकर सात दिन के संस्थागत एकांतवास में जाने से बचे दो युवक कार्रवाई के भय से ही भाग गये हैं। वहीं जिला चिकित्सालय ने इस युवक के संपर्क में आये 23 लोगों के आज नमूने लेकर कोरोना की जांच के लिए भेज दिये हैं। साथ ही बताया गया है कि अब तक उसके संपर्क में आये 81 लोगों को एकांतवास में रखा गया है, जबकि अभी भी ऐसे लोगों का आना जारीी है।
नगर कोतवाल अशोक कुमार सिंह ने पूछे जाने पर दोनों भाइयों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की जानकारी दी। वहीं गुड़गांव के युवकों पर कार्रवाई के बारे में पूछे जाने पर बताया कि वे कार्रवाई के भय से शहर से भाग गये हैं। वहीं जिला चिकित्सालय के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. केएस धामी ने बताया कि गुड़गांव के युवकों के खिलाफ कार्रवाई के लिए उन्होंने पुलिस को लिखा था। इसके बाद पुलिस उन्हें पकड़कर अस्पताल लायी थी। यहां से उन्हें संस्थागत एकांतवास में भेजे जाने की बात कही गई, इस पर उन्होंने शहर से वापस अपने गंतव्य जाने की बात कही और चले गये।
वहीं एसडीएम विनोद कुमार ने बताया कि कोरोना संक्रमित युवक हल्द्वानी से अपने जीजा की मौत की बात कहकर आ गए थे। 17 जून को वे अपने जीजा के अंतिम संस्कार में जाने की जगह सीधे उनके गांव, कोश्यां कुटौली विकास खंड स्थित गांव चौरसा गये और 18 को लौटकर बीडी पांडे जिला चिकित्सालय आये। यहां भी वे अपने जीजा की मौत का बहाना लेकर संस्थागत एकांतवास की जगह होम क्वारन्टाइन में चले गये। इस बारे में कोश्यां कुटौली तहसील और नगर की होम क्वारन्टाइन में रखे लोगों की घर-घर जाकर जांच करने वाली सीआरटी यानी सिटी रिस्पॉस टीम से रिपोर्ट लेकर कार्रवाई की जा रही है।
उल्लेखनीय है कि इन चारों युवकों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर नगर वासियों में काफी नाराजगी भी देखी जा रही थी।

यह भी पढ़ें : एक कोरोना पॉजिटिव के संपर्क में आये 35 लोगों को पुलिस पकड़ कर अस्पताल लाई

नवीन समाचार, नैनीताल, 22 जून 2020। कोरोना संक्रमितों ने पुलिस एवं प्रशासनिक कर्मियों को जबरदस्ती दौड़ा दिया है। बीती 20 जून की शाम कोरोना संक्रमित पाये गये नगर के सात नंबर-स्नो व्यू निवासी 31 वर्षीय युवक के संपर्क में आये करीब 30 लोगांे की पहचान कर उन्हें आज मल्लीताल कोतवाली पुलिस पकड़ कर बीडी पांडे जिला चिकित्सालय लाई है। नगर कोतवाल अशोक कुमार सिंह ने यह जानकारी दी। इसके बाद जिला चिकित्सालय में चिकित्सक इन लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कर रहे हैं।

जिला चिकित्सालय के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. केएस धामी ने बताया कि इनमें से करीब 70 फीसद यानी करीब 25 लोगों को संस्थागत और शेष को होम क्वारन्टाइन में भेजा जा रहा है। उन्होंने बताया कि इसी मामले में कोरोना संक्रमित व उसके चचेरे भाई के परिवार के करीब डेढ़ दर्जन लोग पहले भी संस्थागत आइसोलेशन में भेजे गये हैं, वहीं रविवार को उसके संपर्क में आये करीब 40 लोगों को संस्थागत आइसोलेशन में भेजा गया है। इस प्रकार इस एक व्यक्ति से कोरोना के संक्रमण की संभावना वाले करीब सात दर्जन लोग हो गये हैं। इधर संबंधित व्यक्ति के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग भी सामाजिक तौर पर और सोशल मीडिया में उठ रही है। मल्लीताल कोतवाली के वरिष्ठ उप निरीक्षक मो. यूनुस ने बताया कि अभी इस मामले में कोई कानूनी कार्रवाई नहीं हुई है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में पहले ‘लापरवाह’ कोरोना पॉजिटिव से सिर्फ चार दिनों में संपर्क में आये 7 दर्जन से अधिक लोगों को संक्रमण का खतरा !

नवीन समाचार, नैनीताल, 21 जून 2020। जिला-मंडल मुख्यालय में रविवार को कोरोना पॉजिटिव निकला पहला व्यक्ति मात्र चार दिनों में करीब सात दर्जन लोगों के संपर्क में आया है। पहले ही उसके व उसके चचेरे भाई के परिवार के करीब डेढ़ दर्जन लोगों को स्वास्थ्य विभाग व पुलिस-प्रशासन के द्वारा संस्थागत एकांतवास में भिजवा दिया गया है, जबकि आज करीब 60-70 लोग स्वयं तथा पुलिस एवं स्वास्थ विभाग द्वारा उसके संपर्क में आये लोगों की पहचान किये जाने के बाद जिला अस्पताल पहुंचे। इतनी बड़ी संख्या में लोगों के पहुंचने से स्वास्थ्य विभाग भी सहम गया है और इन लोगों को होम क्वारन्टाइन में भेजकर उन्हें ऐहतियात बरतने की हिदायत दी है। आगे स्वास्थ्य विभाग की टीम पहले संस्थागत एकांतवार में रखे गये लोगों तथा बाद में इन सभी लोगों की भी रेंडम आधार पर नमूने जांच के लिए ले कर भिजवा सकती है।
इसके साथ साफ हो गया है कि नगर का इकलौता कोरोना संक्रमित व्यक्ति हल्द्वानी व जिला चिकित्सालय में नमूने लिये जाने और जांच व बाद जांच रिपोर्ट आने से पहले ही काफी गैरगंभीर रहा। पीएमएस डा. धामी ने संक्रमित के संपर्क में आने के बाद कोरोना के संक्रमण के भय से अस्पताल आये करीब 60-70 लोगों से बातचीत के आधार पर बताया कि इस दौरान युवक निकटवर्ती गांव के साथ ही आस-पड़ोस में लोगों के साथ शराब भी पीता रहा। उसने कोई ऐहतियात भी नहीं बरती। इस कारण केवल चार दिन में ही 60-70 लोग उसके संपर्क में आकर खुद में संक्रमण के प्रति आशंकित हो गये हैं। इनके अलावा और लोग भी हो सकते हैं जो उसके संपर्क में आये हों। साथ ही डा. केएस धामी ने बताया कि अभी सूखाताल में रखे गये 18 लोगों एवं उससे संपर्क में आये अन्य लोगों की अगले कुछ दिनों में कोरोना की जांच के लिए रेंडम आधार पर नमूने लिये जाएंगे। डा. धामी ने कहा कि लोगों से घबराने नहीं बल्कि ऐहतियात बरतने को कहा गया है। ऐसे व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई की बात चिकित्सकों की ओर से भी कही जा रही है।

यह भी पढ़ें : बिग ब्रेकिंग: नैनीताल निवासी व्यक्ति में कोरोना की पुष्टि, पहला मामला, परिवार के 17 लोग भी क्वारन्टाइन में भेजे

नवीन समाचार, नैनीताल, 20 जून 2020। अब तक कोरोना के संक्रमण से सीधे तौर पर बचे जिला-मंडल मुख्यालय में कोरोना के संक्रमण के पहले मामले की पुष्टि हो गयी है। नगर के सात नंबर निवासी 31 वर्षीय युवक में कोरोना की पुष्टि हुई है। पुलिस एवं स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने उसे कोविद समर्पित रियो ग्रांड होटल में आइसोलेशन में भेजने के साथ ही उसके परिवार के नौ तथा उसके चचेरे भाई के परिवार के 8 लोगों को पर्यटक आवास गृह सूखाताल के संस्थागत एकांतवास केंद्र में भेज दिया है। अब स्वास्थ्य विभाग की टीम रविवार को इन सभी लोगों के नमूने जांच के लिए ले कर भिजवा सकता है।
बीडी पांडे जिला चिकित्सालय के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. केएस धामी ने बताया कि प्राप्त जानकारी के अनुसार यह व्यक्ति बीती 17 जून को दिल्ली से अपने चचेरे भाई के साथ निजी वाहन से आया था। हल्द्वानी के गौलापार स्थित स्टेडियम में दोनों का नमूना लिया गया था। बताया गया है कि उन्होंने परिवार में किसी की मृत्यु होने की बात कही थी, इसलिए उन्हें नमूना लेने के बाद होम क्वारन्टाइन में घर भेज दिया था। यह भी बताया जा रहा है कि वह बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में भी जांच के लिए आया था, और उसने यहां भी घर में किसी की मृत्यु की बात कही थी, इस पर यहां से भी उन्हें होम क्वारन्टाइन में भेजा गया था। इधर रविवार शाम आठ बजे की स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में उसे कोरोना होने की पुष्टि होने के बाद स्वास्थ्य व पुलिस विभाग की टीमों ने उसे आइसोलेशन में उसके व उसके साथ रहे चचेरे भाई व उसके पूरे परिवार को संस्थागत एकांतवास में भेज दिया है। नगर कोतवाल अशोक कुमार सिंह ने बताया कि उसके घर में किसी की मृत्यु होने या न होने पर कल स्थिति साफ हो पाएगी।
वहीं डा. केएस धामी ने बताया कि अभी सूखाताल में 18 लोग पहले से एकांतवास में हैं। आज 11 लोगों की रिपोर्ट ली गई हैं व कुल 13 लोगों की रिपोर्ट आनी शेष हैं। विशेष सतर्कता बरती जा रही है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल लाये जा रहे हैं पांच कोरोना संक्रमित

नवीन समाचार, नैनीताल, 17 जून 2020। बुधवार को प्रदेश में 43 के साथ नैनीताल जनपद के आठ लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। इनमें से 6 दिल्ली, 1 गाजियाबाद और एक मुंबई से लौटे प्रवासी हैं। इधर यह जानकारी भी आई है कि इनमें से पांच लोग दिल्ली से लौटने के बाद जनपद के गरमपानी क्षेत्र में इंस्टीट्यूशनल क्वारन्टाइन यानी संस्थागत एकांतवास में, दो हल्द्वानी के कोविद-19 समर्पित एसटीएच में तथा एक रामनगर में रखे गये थे। इनमें से गरमपानी क्षेत्र के पांच कोरोना युवकों को कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद नैनीताल जिला मुख्यालय लाया जा रहा है। जनपद की एसीएमओ डा. रश्मि पंत ने बताया कि ये पांचों युवक हैं। वहीं जिला चिकित्सालय के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. केएस धामी ने बताया कि इन पांच कोरोना संक्रमित युवकों को संस्थागत एकांतवास में रखने के प्रबंध किये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि इसके अलावा आज कुछ लोगों के कोरोना जांच के लिए नमूने लिये गये हैं। साथ ही एकांतवास की अवधि पूरी कर घर भेजे जा रहे लोगों की रेंडम आधार पर रैपिड टेस्टिंग भी की जा रही है।

यह भी पढ़ें : सैन्य अधिकारी के वाहन चालक में कोरोना की पुष्टि, परिजनों के भी नमूने लिये

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 जून 2020। मंगलवार को नोएडा के सेक्टर 93 निवासी एक वाहन चालक में कोरोना की पुष्टि होने के बाद उसे मुख्यालय में आइसोलेशन सेंटर में रख लिया गया है। साथ ही उसके परिवार जनों के नमूने भी लिये गये हैं। जिला चिकित्सालय के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. केएस धामी ने बताया कि वाहन चालक जनपद के नौकुचियाताल में रहने वाले एडमिरल स्तर के एक सैन्य अधिकारी का वाहन चालक है। उसका 10 जून को दिल्ली में कोरोना का टेस्ट हुआ था। इस बीच 12 जून को वह सैन्य अधिकारी सहित तीन लोगों को लेकर नौकुचियाताल आ गया। यहां आकर वह होम क्वारन्टाइन में रह रहा था। इधर मंगलवार को उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उसे मुख्यालय लाया गया और यहां से उसे आइसोलेशन सेंटर में भिजवा दिया गया। साथ ही भवाली में उसके परिवार के सात सदस्यों के भी नमूने ले लिये गये हैं।
साथ ही डा. धामी ने बताया कि पूर्व में पॉजिटिव आये बेतालघाट निवासी पिता-पुत्र को स्वस्थ होने के बाद छुट्टी दे दी गयी है। इसके अलावा एक अन्य व्यक्ति को भी संस्थागत एकांतवाल में रखा गया है जबकि 11 लोगों को निर्धारित अवधि पूरी होने पर छुट्टी दे दी गयी है। इस प्रकार अब यहां 23 लोग बच गये हैं। इधर भीमताल के नगर पंचायत अध्यक्ष देवेंद्र चनौतिया ने पांडे गांव से नौकुचियाताल तक के क्षेत्र को सील करने की मांग की है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल जिला चिकित्सालय के कुल चार चिकित्सकों सहित 11 लोगों के कोरोना के नमूने लिये, स्वयं एकांतवास में गये

नवीन समाचार, नैनीताल 3 जून 2020। मुख्यालय स्थित बीडी पांडे जिला चिकित्सालय तक कोरोना की आंच पहुंचती नजर आ रही है। यहां ऐहतियात के तौर पर कोरोना के संभावितों एवं संक्रमितों के नमूने लेने, जांच करने आदि में लगे ‘ए’ टीम के पहली पंक्ति के 11 कोरोना योद्धाओं के रेंडम यानी यादृच्छिक-अनियमित आधार पर कोरोना के नमूने लेकर कोविद समर्पित सुशीला तिवारी मेडिकल चिकित्सालय को भेज दिये गये हैं। हालांकि सभी लोगों में किसी तरह के कोरोना के लक्षण फिलहाल नहीं देखे गये हैं, फिर भी सभी 11 लोग स्वयं क्वारन्टाइन यानी एकांतवास में चले गये हैं। इसके बाद जिला चिकित्सालय में अब तक अलग रखे गये बी टीम के चिकित्सक चिकित्सालय की व्यवस्थाएं देखेंगे।
बीडी पांडे जिला चिकित्सालय के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. केएस धामी ने बताया कि वरिष्ठ फिजीशियन डा. एमएस दुग्ताल, डा. मोनिका कांडपाल, डा. अक्षय एवं डा. सौरिन धूलिया के साथ ही दो सिस्टर, मरीजों की स्क्रीनिंग करने वाले प्रयोगशाला सहायक, चिकित्सालय में बिजली का काम करने वाले, एक ऑफिस कर्मी आदि 11 चिकित्सा कर्मियों के स्वैब नमूने लिये गये हैं। इसके साथ भी स्वयं डा. धामी, डा. दुग्ताल, डा. अक्षय व डा. सौरिन दो सिस्टर आदि नैनीताल क्लब में एकांतवास में चले गये हैं। इनमें से डा. दुग्ताल सहित कुछ चिकित्सकों ने स्वयं को पूरी तरह से स्वस्थ भी बताया है। वहीं घर पर सुविधा होने पर डा. मोनिका सहित कुछ लोग घर पर ही एकांतवास में भी चले गये हैं। डा. धामी ने कहा कि इसके बाद बृहस्पतिवार से वे स्वयं फिजीशियन के रूप में चिकित्सालय में सेवाएं देंगे। कल भी ऐहतियातन कुछ अन्य चिकित्सकों एवं चिकित्सा कर्मियों के नमूने भी लिये जा सकते हैं। चिंता की कोई बात नहीं है।

नवीन समाचार
मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड
https://navinsamachar.com

2 Replies to “हल्द्वानी में कोरोना विस्फोट, दो गर्भवती महिलाओं के संपर्क में आये 20 सहित 22 लोगों में कोरोना की पुष्टि

  1. We r unable to read the news due to only of advertisements. I HV many times tried to see the current news bt thanks to ur adds I m unable to see the news. Thanks a lot Navin Samachaar

    1. बिना विज्ञापनों के समाचार पत्रों की तरह समाचार पोर्टल भी नहीं चल सकते..
      समाचार पत्र तो खरीद कर मिलते हैं, फिर भी विज्ञापन देखने पड़ते हैं, जबकि समाचार पोर्टल में समाचार मुफ्त मिलते हैं…
      इसलिए कुछ समस्या तो रहेगी..
      आशा है समस्या को समझेंगे…

Leave a Reply

loading...