पर्यटन, हर्बल के बाद अब जैविक प्रदेश बनेगा उत्तराखंड

      -प्रदेश के जैविक उत्पादों का बनेगा अपना राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय ब्रांड -उत्तराखंड कृषि उत्पादन विपणन बोर्ड के प्रस्ताव को मुख्य मंत्री ने दी हरी झंडी -राज्य में ही पहली बार लगने जा रही कलर सॉर्टिंग मशीनों से स्थानीय ख्याति प्राप्त उत्पाद राजमा, चौलाई, गहत, भट्ट आदि के जियोग्रेफिकल इंडेक्स बनेंगे -इस हेतु रुद्रपुर में मंडी परिषद के […]

News

नवीन समाचार पर विज्ञापनों के लिए संपर्क करें-9412037779, 8077566792 पर

       आपका प्रिय एवं भरोसेमंद, विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय*, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह*, उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त*, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार […]

नेपाली, तिब्बती, पैगोडा, गौथिक व ग्वालियर शैली में बना है नयना देवी मंदिर

       “सरोवरनगरी की पहचान से जुड़ा नगर का प्राचीन नयना देवी मंदिर नेपाली, तिब्बती, पैगोडा व कुछ हद तक अंग्रेजी गौथिक व ग्वालियर शैली में भी बना हुआ है। इसकी स्थापना नगर के संस्थापकों में शुमार मूलतः नेपाल निवासी मोती राम शाह के पुत्र अमर नाथ शाह ने अंग्रेजों से एक समझौते के तहत यहां […]

चिंताजनक: बारिश से नैनी झील लबालब पर जल प्रदाता सूखाताल झील खाली

      नवीन जोशी, नैनीताल (1 सितम्बर 2018)। सरोवरनगरी की लाइफलाइन नैनी झील लबालब भरकर शनिवार को सितंबर माह के मानकों के अनुसार इसके गेट खोले जाने के स्तर 11 फिट तक पहुंच गयी है। वहीं नैनी झील की सर्वाधिक जल प्रदाता सूखाताल झील अब भी सूखी हुई है। इससे नगर वासियों में चिंता की स्थिति है। […]

पंतनगर विवि की इस गलती से हजारों युवाओं की सांसें अटकीं

      देश के प्रतिष्ठित पंतनगर विश्वविद्यालय की एक लापरवाही से उत्तराखंड सहित देश भर के हजारों युवाओं की सांसें अटक गयी हैं। पंतनगर विवि ने आगामी तीन जून को स्नातक एवं एमसीए की परीक्षा की तिथि नियत कर दी है, जबकि इसी दिन देश के एक अन्य प्रतिष्ठित जिपमर यानी जवाहर लाल नेहरू मेडिकल इंस्टीट्यूट की […]

नाम सूखाताल, लेकिन नैनी झील को देती है वर्ष भर और सर्वाधिक 77 प्रतिशत पानी

      नवीन जोशी, नैनीताल। आईआईटीआर रुड़की के अल्टरनेट हाइड्रो इनर्जी सेंटर (एएचईसी) द्वारा वर्ष 1994 से 2001 के बीच किये गये अध्ययनों के आधार पर 2002 में जारी की गई रिपोर्ट के अनुसार नैनीताल झील में सर्वाधिक 53 प्रतिशत पानी सूखाताल झील से जमीन के भीतर से होकर तथा 24 प्रतिशत सतह पर बहते हुऐ (यानी […]