पद्मावत समीक्षा : बेउसूल, बेईमान, वहशी और बदज़ात मुस्लिम किरदार के लिए देखें फिल्म

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       जायसी के पद्मावत से संबंध सिर्फ किरदारों के नाम तक जौहर फिल्म में आखिर तक नहीं है राजपूतों के संघर्ष और त्याग को भी नहीं दर्शाती है फ़िल्म नहीं पचते कई दृश्य, युद्ध दृश्यों में भी कामचलाऊपन  बहुत बड़े विषय को जल्दीबाजी में उत्पाद बनाने की भंसाली की जिद लगती है फिल्म इस एक […]

Journalism

विश्व व भारत में रेडियो-टेलीविज़न का इतिहास तथा कार्यप्रणाली

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

      डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल। जब से मानव पृथ्वी पर आया है, तभी से वह स्वयं को भावनात्मक रूप से अकेला महसूस करता रहा है। प्रारम्भ में वह संकेतों या ध्वनि के माध्यम से अपनी बात दूसरों तक पहुँचाता रहा, समय बीतते उसने भाषा की खोज की और आसानी से अपनी बात कहने […]