News

नैनीताल : प्रतियोगी परीक्षाओं के पाठ्यक्रम में लोक भाषा के साहित्य को भी सम्मिलित करने की उठी मांग…

      -कुमाउनी जागर, रास और वीर गाथा काल के रासो साहित्य की एकरूपता पर शोध कार्य करने एवं उत्तर एवं दक्षिण भारत की लोक भाषाओं पर अध्ययन की जताई गई आवश्यकता -प्रसिद्ध विद्वान चिन्नास्वामी सुब्रहण्यम भारती के जन्म दिन पर हुआ ‘भारतीय भाषा उत्सव’ शीर्षक से राष्ट्रीय ई-संगोष्ठी का आयोजन नवीन समाचार, नैनीताल, 11 दिसंबर 2022। […]