News

खुशखबरी: अब अपने मोबाइल पर कुमाउनी-गढ़वाली में लिख सकेंगे अपने मन की बात… गूगल ने शुरू की सेवा

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       नवीन समाचार, नैनीताल, 02 दिसम्बर 2020। उत्तराखंड की लोकभाषाओं के बोलने वालों, साहित्यकारों, पाठकों व चाहने वालों के लिए खुशखबरी व बड़ी सफलता है। गूगल ने उत्तराखंड की दो प्रमुख लोक भाषाओं गढ़वाली व कुमाउनी को अपने गूगल कीबोर्ड-जीबोर्ड में स्थान दे दिया है। इसका लाभ अब कुमाउनी व गढ़वाली में लिखना चाहने वाले […]

News

देश की 196 भाषाओं के साथ कुमाउनीं व गढ़वाली भी खतरे की जद में

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       हिमालयी राज्यों की भाषाओं को है अधिक खतरा यूनेस्को ने उत्तराखण्ड की ‘रांग्पो’ को भेद्य तथा ‘दारमा’ व ‘ब्योंग्सी’ को निश्चित व ‘वांगनी’ को अति गम्भीर खतरे में माना नवीन जोशी, नैनीताल। भाषाओं को न केवल संवाद का माध्यम वरन संस्कृतियों का संवाहक भी माना जाता है। किसी देश की शक्ति उसकी भाषा की प्राचीनता के […]

loading...