Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

‘टीम नैनी’ ने राष्ट्रीय स्तर पर जीते दो पुरस्कार

Spread the love

नैनीताल, 5 अक्टूबर 2018। उत्तराखंड के अपने इकलौते वाणिज्यिक बैंक-द नैनीताल बैंक लिमिटेड को दो राष्ट्रीय स्तर के प्रतिष्ठित ‘आधार एक्सीलेंस अवार्ड’ मिले हैं। गत दिवस गोवा में आयोजित एक समारोह में बैंक के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी मुकेश शर्मा ने यह पुरस्कार ग्रहण किये। उन्होंने इन दोनों पुरस्कारों का श्रेय नैनीताल बैंक के अधिकारियों-कर्मचारियों की ‘टीम नैनी बैंक’ को दिया है, और खासकर बैंक की सभी एवं खासकर दिल्ली के शालीमार बाग की शाखा की ‘आईटी टीम’ को दिया है। साथ ही इस बात पर खुशी जताई है कि नैनीताल बैंक बैंकिंग उद्योग में राष्ट्रीय स्तर पर दिख रहा है, साथ ही अपनी टीम का आगे भी ‘मीलों आगे’ चलने के लिये आह्वान किया है।

यह भी पढ़ें : अंशधारकों को 18 फीसद लाभांश देगा और इस वर्ष आठ नई शाखाएं व 20 व्हाइट लेबल एटीएम खोलेगा नैनीताल बैंक

  • नैनीताल बैंक के 97वें स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित हुई वार्षिक साधारण सभा में चेयरमैन मुकेश शर्मा ने की घोषणा
मंगलवार को नैनीताल बैंक की एजीएम में अंशधारकों के समक्ष बैंक की प्रगति की जानकारी रखते चेयरमैन मुकेश शर्मा।

नैनीताल, 31 जुलाई 2018 उत्तराखंड के अपने इकलौते 97 वर्ष के हो चले वाणिज्यिक बैंक-नैनीताल बैंक लिमिटेड ने अपने अंशधारकों को इस वर्ष 18 फीसद लाभांश देने की घोषणा की है। साथ ही इस वर्ष आठ नई शाखाएं एवं 20 व्हाइट लेबल एटीएम खोलने की भी बैंक के चेयरमैन मुकेश शर्मा द्वारा स्थापना दिवस पर आयोजित हुई एजीएम यानी वार्षिक साधारण सभा में घोषणा की गयी। साथ ही बताया कि नैनीताल बैंक ने सूचना प्रौद्योगिकी युक्त महत्वपूर्ण कार्ययोजना तैयार की है, जिसमें व्यवसायिक वृद्धि और मौजूदा सूचना प्रौद्योगिकी प्लेटफार्म को बेहतर बनाने के लिए अनेक क्षेत्र चिन्हित किये गये हैं।

इससे पूर्व स्थापना दिवस पर बैंक के चेयरमैन ने बैंक मुख्यालय में बैंक के संस्थापक भारत रत्न पंडित गोविंद बल्लभ पंत की मूर्ति पर श्रद्धा सुमन अर्पित किये तथा अन्य अधिकारियों के साथ बैंक परिसर में पौधरोपण भी किया। वहीं एजीएम में उन्होंने 137 शाखाओं वाले नैनीताल बैंक की पिछले वर्ष की प्रगति का ब्यौरा रखते हुए उन्हें उत्तराखंड रत्न प्राप्त होने तथा बीती 14 दिसंबर को एसोचैप के द्वारा निजी क्षेत्र का सर्वश्रेष्ठ एमएसएमई बैंक के रूप में सम्मानित किये जाने की भी जानकारी दी। बताया कि बैंक का बीते वित्तीय वर्ष में सकल व्यवसाय रुपए 10,772 करोड़, कुल जमा राशियां 7,332 करोड़, सकल ऋण राषि 3,440 करोड़, सकल लाल 97.68 करोड़ व शुद्ध लाल 48.89 करोड़ रहा। इसके अलावा उल्लेखनीय तौर पर बैंक का एनपीए मार्च 2018 को केवल 1.14 फीसद रहा, जो वर्तमान बैंकिंग परिदृश्य में उल्लेखनीय एवं अन्य व्यवसायिक बैंकों की तुलना में काफी कम रहा। इस अवसर पर बैंक के जीएम एवं सीओओ एके सिंह, वाइस प्रेजीडेंट डीके कांडपाल, रमन गुप्ता, सतीश छावड़ा, नैनीताल बैंक स्टाफ एसोसिएशन के महासचिव प्रवीण साह, एमएल साह, डा. एनएस जंतवाल, डा. महेंद्र पाल, राजीव लोचन साह, केपी काला, अभय कुमार, भुवन हरबोला, आरसी शर्मा, केएल साह, एमएस बिष्ट, एसके बिष्ट, पान सिंह रौतेला सहित बड़ी संख्या में अंशधारक मौजूद रहे।

यह किए सामाजिक उत्तरदायित्व के कार्य

नैनीताल। चेयरमैन शर्मा ने बताया कि नैनीताल बैंक के द्वारा कारपोरेट सामाजिक दायित्व के अन्तर्गत पिछले वर्ष नगरपालिका नर्सरी विद्यालय नैनीताल के 112 निर्धन बच्चों को ब्लेजर, रैमजे अस्पताल नैनीताल को एक एम्बूलेंस एवं जनरेटर, निर्धन व्यक्तियों को शीत ऋतु में प्रधान कार्यालय परिसर में कम्बल वितरण एवं तल्लाकून ग्राम जनपद नैनीताल में पेयजल सुविधा हेतु सहायता प्रदान कर सामाजिक उत्थान में सहयोग किया गया। इधर बैंक ने 1973 में बैंक ऑफ बड़ौदा के संचालन में जाने के बाद से पहली बार सभी श्रेणियों में 170 पदोन्नतियां की गई हैं। साथ ही बैंक द्वारा चतुर्थ श्रेणी, लिपिक एवं मेनेजमेंट ट्रेनी स्तरों पर 307 नयी नियुक्तियां की तथा रोजगार के नये आयाम स्थापित किये गये हैं। 

यह भी पढ़ें: नैनीताल बैंक कराएगा कैशलेश चारधाम यात्रा और देगा बिना गारेंटर होम लोन की सुविधा

-जीएमवीएन से किया करार, शीघ्र प्रधानमंत्री कर सकते हैं योजना का शुभारंभ

पत्रकार वार्ता करते नैनीताल बैंक के चेयरमैन एवं अन्य उच्चाधिकारी।

नैनीताल, 2 मई 2018। उत्तराखंड में चार धाम की धार्मिक यात्रा पर आने वाले श्रद्धालु सैलानियों को अब यात्रा में नगदी की समस्या से नहीं जूझना पड़ेगा। उत्तराखंड राज्य का अपने इकलौते वाणिज्यिक बैंक-द नैनीताल बैंक लिमिटेड ने इन श्रद्धालुओं के लिए नगदी रहित यात्रा कराने के लिए बुधवार को जीएमवीएन यानी गढ़वाल मंडल विकास निगम लिमिटेड से करार कर लिया है। इस करार के तहत यात्रियों को उनकी मनचाही धनराशि की प्रीपेड नगदी रहित सुविधा मिलेगा, जिसका इस्तेमाल वे जीएमवीएन के पर्यटक आवास गृहों व रेस्टोरेंटों तथा अन्य सुविधाओं में कर सकेंगे। यह सुविधा बुधवार से ही शुरू हो जाएगी। बताया कि इस योजना का औपचारिक उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के हाथों से निकट भविष्य में किया जायेगा। इसके अलावा बैंक ने होम लोन की ऐसी अभूतपूर्व व अनूठी योजना शुरू की है, जिसमें ब्याज की दर एक से डेढ़ फीसद तक कम देनी पड़ेगी, साथ ही किसी गारेंटर की जरूरत भी नहीं होगी। इस योजना के लिए बैंक मई माह में विशेष अभियान चलाएगा, जबकि योजना आगे भी जारी रहेगी।

बुधवार को नैनीताल बैंक मुख्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में बैंक के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यपालक मुकेश शर्मा ने इन योजनाओं की जानकारी दी। बताया कि बैंक अब तक अधिकतम 1.5 करोड़ तक के होम लोन अधिकतम 25 वर्षों के लिए 9.5 फीसद ब्याज पर देता है, जबकि अब “अपना आशियाना” गृह ऋण योजना के अन्तर्गत 5 करोड़ तक के अधिकतम ऋण 30 वर्षों तक के लिए व 8.45 फीसद की दर पर बिना गारेंटर के दिये जा सकेंगे। ऋण के सुरक्षित होने की स्थिति में बैंक मुख्यालय और आधा फीसद ब्याज दर कम कर सकेगा। साथ ही बताया कि उत्तराखण्ड में 76 सहित दिल्ली, राजस्थान, हरियाणा व उत्तर प्रदेश में 137 शाखाओं के इस बैंक ने बीते दो वर्षों के उनके कार्यकाल में विमुद्रीकरण, जीएसटी एवं अभी हाल में पीएनबी घोटाले के साथ बैंकिंग क्षेत्र में आयी बड़ी समस्याओं का बखूबी सामना करते हुए 98 करोड़ के सकल लाभ के साथ अपने समान बैंकों में सर्वाधिक 34 फीसद की विकास दर हासिल की है। बैंक का सकल व्यवसाय जो 31 मार्च 2016 को लगभग 8050 करोड़ था, 31 मार्च 2018 को 10771 करोड पहुंच गया है, जिसमें कुल जमा राशियां 7332 करोड़ तथा सकल ऋण राशि 3439 करोड़ रही हैं। बैंक का सकल एनपीए अन्य व्यावसायिक बैंकों की तुलना में काफी कम-5 फीसद से भी कम तथा शुद्ध एनपीए एक फीसद से भी कम है। आगे बैंक के 8 नई शाखाएं खोलने, एटीएम की संख्या 27 से बढ़ाकर 50 व पीओएस मशीनों की संख्या 987 को 1000 और बढ़ाने तथा फिनेकल टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म पर जाकर डिजिटलाइज होने के प्रस्ताव हैं। इसके साथ ही उन्होंने  बैंक द्वारा सीएसआर यानी सामाजिक उत्तरदायित्व के कार्यों के लिए वित्त मंत्री प्रकाश पन्त के हाथों देहरादून में आयोजित भव्य समारोह में “उत्तराखण्ड रत्न” से सम्मानित किये जाने और इससे पूर्व जनवरी माह में एसोचैम के द्वारा नैनीताल बैंक को एमएसएमई बैंकों में सर्वश्रेष्ठ बैंक के पुरस्कार से नवाजे जाने को बैंक के समस्त कर्मचारियों का प्रतिफल बताया। पत्रकार वार्ता में बैंक के वाइस प्रेसीडेंन्ट रमन कुमार गुप्ता, महाप्रबंधक अनिल कुमार सिंह एवं एवीपी मार्केटिंग एसके छावड़ा आदि भी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : बना रहेगा नैनीताल बैंक, ना मर्जर करेगा, ना अपनी हिस्सेदारी कम करेगा ‘बॉब’

नैनीताल बैंक के अध्यक्ष मुकेश शर्मा को ‘उत्तराखंड रत्न’ सम्मान प्रदान करते प्रदेश के वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री प्रकाश पंत।

यह भी पढ़ें : नैनीताल बैंक के चेयरमैन मुकेश शर्मा को मिला ‘उत्तराखंड रत्न’ सम्मान

नैनीताल, 29 अप्रैल 2018। उत्तराखंड के अपने, इकलौते वाणिज्यिक बैंक द नैनीताल बैंक लिमिटेड के अध्यक्ष व मुख्य कार्यकारी अधिकारी मुकेश शर्मा को रविवार को देहरादून स्थित श्री देव सुमन सुभारती मेडिकल कॉलेज मे ‘उत्तराखंड रत्न’ सम्मान से सम्मानित किया गया। तीन दशक पुरानी ‘ऑल इंडिया कांफ्रेंस ऑफ इंटलेक्चुअल्स’ के द्वारा उनके कार्योें को देखते हुए उन्हें यह पुरस्कार प्रदेश के वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री प्रकाश पंत के हाथों प्रदान किया गया। श्री शर्मा को यह पुरस्कार नैनीताल बैंक के द्वारा उनके कार्यकाल में उत्तराखंड राज्य के बैंकिंग, वित्त, विकास एवं सामाजिक उत्तरदायित्व के कार्यों के निर्वहन के लिए प्रदान किया गया। श्री शर्मा ने कहा कि यह पुरस्कार नैनीताल बैंक के ताज में एक और नगीने की तरह है। इसका श्रेय उन्होंने संस्थान के प्रत्येक एवं सभी कर्मचारियों-‘टीम नैनी’ को दिया हैं।

यह भी पढ़ें : पदोन्नत हुए अध्यक्ष मुकेश शर्मा

नैनीताल बैंक के चेयरमैन मुकेश शर्मा

नैनीताल। बैंक ऑफ बड़ौदा से नैनीताल बैंक के चेयरमैन व मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पद पर नियुक्त मुकेश शर्मा का बैंक ऑफ बड़ौदा ने ग्रेड-6 के डिप्टी जनरल मैनेजर पद से ग्रेड-7 के जनरल मैनेजर पद पर पदोन्नत कर दिया है। उल्लेखनीय है कि नैनीताल बैंक के चेयरमैन पद पर बॉब से डिप्टी जनरल मैनेजर ही नियुक्त होते हैं, लिहाजा पदोन्नति के बाद उन्हें इस पद से बड़ी जिम्मेदारी मिलने की संभावना जताई जा रही है। उन्होंने इस उपलब्धि के लिए नैनीताल बैक के अधिकारियांे व कर्मचारियों का योगदान मानते हुए धन्यवाद दिया है। बताया कि सबके सहयोग से ही पिछले दो वर्षों में बैंक प्रगति के नये सोपान चढ़ा है। देश भर की चिंताओं के बीच नैनीताल बैंक ने इस वर्ष एनपीए को और कम करने की उपलब्धि भी हासिल की है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल बैंक को देश के सर्वश्रेष्ठ एमएसएमई बैंक का पुरस्कार

देश के सर्वश्रेष्ठ एमएसएमई बैंक के पुरस्कार के साथ नैनीताल बैंक के अध्यक्ष, सीईओ व अन्य वरिष्ठ अधिकारी।

नैनीताल। भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग मंडल (एसोचैम) के द्वारा नैनीताल बैंक लिमिटेड को बैंकिंग में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए 2017 का निजी क्षेत्र के सर्वश्रेष्ठ एमएसएमई यानी ‘माइक्रो एंड मीडियम स्केल इंटरप्राइज’ बैंक का पुरस्कार दिया गया है। नई दिल्ली के होटल ‘दि पार्क’ में एसोचैम द्वारा आयोजित पुरस्कार समारोह में दिल्ली के सांसद डा. उदित राज के हाथों नैनीताल बैंक के अध्यक्ष मुकेश शर्मा को यह पुरस्कार प्रदान किया गया। नैनीताल बैंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एके सिंह ने बताया कि नैनीताल बैंक द्वारा एमएसएमई क्षेत्र में ग्राहकों के लिए विभिन्न उत्कृष्ट ऋण योजनाएं उपलब्ध करायी जा रही हैं। बताया कि ‘बैंक आफ बड़ोदा’ की 98.57 फीसद शेयर धरिता वाला 96 साल पुराना नैनीताल बैंक निरंतर प्रगति की ओर अग्रसर है, और एमएसएमई क्षेत्र में त्वरित ऋण उपलब्धता सुनिश्चित करके अपने कार्य क्षेत्र के आर्थिक विकास में योगदान देने के लिए सुनियोजित तरीके से काम कर रहा है। सर्वोत्तम ग्राहक सेवा एवं बैंक के कर्मचारियों की कार्य निष्पादन शैली के कारण नैनीताल बैंक अपने ग्राहकों का लोकप्रिय बैंक है।

राष्ट्रीय सहारा, 18 दिसम्बर 2017

नोएडा में स्थापित हुआ नैनीताल बैंक का ‘नैनी बिजनेस सेंटर’

राष्ट्रीय सहारा, 25 अक्टूबर 2017

-देश के पांच राज्यों में 135 शाखाएं हैं बैंक की, 10 हजार करोड़ रुपए पहुंच गया है 96 वर्ष पुराने नैनीताल बैंक का कुल व्यवसाय
नैनीताल/नोएडा। नैनीताल बैंक ने अपने पंचकुइयां रोड दिल्ली स्थित क्षेत्रीय कार्यालय को सी-20/ए-7 सेक्टर-62 नोएडा में नए बनाए गए आधुनिक सुविधाओं से युक्त ‘नैनी बिजनेस सेंटर’ यानी एनबीसी में स्थान्तरित कर दिया है। यहीं से नैनीताल बैंक का दिल्ली का क्षेत्रीय कार्यालय, नैनी लोन पॉइंट एवं नैनीताल बैंक के अध्यक्ष का कैंप कार्यालय भी एक साथ कार्य करेगा। मंगलवार (24.10.2017) को नैनीताल बैंक के 98.57 फीसद शेयर धारक बैंक ऑफ बड़ौदा के कार्यकारी निदेशक अशोक कुमार गर्ग ने बैंक के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी मुकेश शर्मा, मुख्य परिचालन अधिकारी एके सिंह तथा निदेशक मंडल के कई सदस्यों की मौजूदगी में नैनी बिजनेस सेंटर का नोएडा में उद्घाटन किया।

नोएडा में नैनीताल बैंक के ‘नैनी बिजनेस सेंटर’ का उद्घाटन करते बैंक ऑफ बड़ौदा के कार्यकारी निदेशक अशोक कुमार गर्ग।

बताया कि नैनीताल बैंक विगत 96 वर्षों से लगातार प्रगति के कई शिखरों को पार करता हुआ निरंतर राष्ट्र के विकास एवं उन्नति में योगदान दे रहा है। आज नैनीताल बैंक का कुल व्यवसाय 10 हजार करोड़ रुपये तक पहुंच चुका है तथा बैंक पांच राज्यों- उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा एवं राजस्थान में 135 शाखाओं के माध्यम से वित्तीय सेवाएं प्रदान कर रहा है। बैंक अपने इस नए परिसर के द्वारा अपने बढ़ते हुए व्यवसाय एवं ग्राहक आधार को निरंतर उत्कृष्ट सेवाएं प्रदान करने के लिए कृत संकल्प है।

नैनीताल बैंक की मदद से पहली बार नर्सरी स्कूल के बच्चों ने पहने ब्लेजर

नर्सरी स्कूल में बच्चों को ब्लेजर भेंट करते नैनीताल बैंक के चेयरमैन, सीईओ व मार्केटिंग हेड तथा प्रधानाध्यापिका आदि।

-खिल उठे बच्चों के चेहरे, चेयरमैन मुकेश शर्मा ने कहा आगे भी सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत हर संभव मदद करेंगे
नैनीताल। सदैव ही अपने बैंकिंग कार्य के साथ सामाजिक कल्याण के कार्यों में भी प्रतिबद्ध एवं आगे रहे नैनीताल बैंक ने शुक्रवार (17.11.2017) को कुछ ऐसा कार्य किया कि में 1953 में स्थापित नगर पालिका द्वारा संचालित नर्सरी विद्यालय के बच्चे विद्यालय के छह दशक से अधिक लंबे इतिहास में पहली बार ब्लेजर पहन पाए। इस बात की खुशी उनके साथ ही शिक्षक-शिक्षिकाओं के चेहरों पर साफ नजर आ रही थी। उम्मीद बढ़ी तो प्रधानाध्यापिका सरिता साह गंगोला ने कहा कि आगे भी नैनीताल बैंक से मदद की उम्मीद रहेगी, इस पर चेयरमैन मुकेश शर्मा ने भी उन्हें निराश नहीं किया। कहा, आगे भी कार्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत विद्यालय की हर संभव मदद करेंगे। बैंक के सीओओ एके सिंह ने कहा, विद्यालय ने उन्हें समाज के लिए कुछ करने का अवसर प्रदान किया है।
इस अवसर बैंक के अध्यक्ष श्री शर्मा ने बच्चों को देश के अनुशाषित एवं अच्छे नागरिक बनने के लिए भी प्रेरित किया। प्रधानाचार्य श्रीमती साह ने बताया की स्कूल के सभी बच्चे अत्यंत निर्धन परिवारों से हैं, अब वे नैनीताल बैंक के योगदान से शीतकाल में ठण्ड से सुरक्षित रहेंगे। बैंक के द्वारा इस अवसर पर बच्चों में चाकलेट इत्यादि का वितरण भी किया। ज्ञातव्य है कि विगत वर्ष भी शीतकाल के समय नैनीताल बैंक द्वारा गरीब परिवारों में कम्बलों का वितरण किया गया था। इस अवसर स्कूल की सभी अध्यापिकाएं, अभिवावक एवं नैनीताल बैंक के मार्केटिंग हेड विपिन खन्ना, कम्पनी सचिव विवेक साह, मोहन सहित अनेक लोग उपस्थित रहे।

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड