Good Work News

उपलब्धि : गुजरात में शुरू हुए राष्ट्रीय खेलों में उत्तराखंड की बॉक्सिंग कोच के रूप में शामिल होंगी नैनीताल की पुष्पा

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 4 अक्तूबर 2022। गुजरात में 5 से 11 अक्टूबर तक आयोजित हो रही राष्ट्रीय बॉक्सिंग एवं खेल प्रतियोगिता में नैनीताल के मोहन लाल साह बालिका विद्या मंदिर की कीड़ा शिक्षिका पुष्पा दर्मवाल का चयन उत्तराखंड की महिला बॉक्सिंग टीम की कोच के तौर पर हुआ है। पुष्पा बॉक्सिंग फेडरेशन से जुड़ी हैं, और कोच के रूप में अपनी टीम को लेकर गुजरात के लिए रवाना हो गई हैं।

उनकी इस उपलब्धि के लिए विद्यालय की प्रधानाचार्य नीता व्यास, प्रबंधक विनय साह और विद्यालय परिवार के सभी सदज्ञयों और खेल प्रेमियों ने उन्हें बधाई दी है, साथ ही उनके साथ जा रहे खिलाड़ियों के अच्छे प्रदर्शन की कामना की है। उन्होंने बताया कि जल्द ही उत्तराखंड के खिलाड़ी इस राष्ट्रीय खेलकूद प्रतियोगिता में प्रतिभाग करेंगे और उन्हें पूरी उम्मीद है कि वह उत्तराखंड के लिए पदक जीतकर लौटेंगे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : राष्ट्र स्तरीय बास्केटबॉल प्रतियोगिता में सरस्वती विहार की टीम ने पाया स्वर्ण पदक

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 24 सितंबर 2022। नगर के पार्वती प्रेमा जगाती सरस्वती विहार वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के बालकों की की अंडर-14 आयु वर्ग की टीम ने गत 21 से 24 सितंबर के मध्य महाशय चुन्नी लाल सरस्वती बाल विद्या मंदिर हरी नगर दिल्ली में आयोजित राष्ट्र स्तरीय बास्केटबॉल प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक प्राप्त किया है। प्रतियोगिता के फाइनल मुकालब में उसने पश्चिमी उत्तर प्रदेश क्षेत्र की टीम से खेलते हुए मध्य क्षेत्र की टीम को सात के मुकाबले चौदह गोलों से पराजित किया।

टीम में कक्षा नौ के ज्योतिर्मय पांडेय, नीलांजन पोखरिया, वैभव त्यागी, कक्षा आठ के अंकित कुमार, आयुष सिंह, आर्यन चौधरी, प्रियांशु बिष्ट, प्रत्युष बिष्ट तथा कक्षा 7 के आर्यन चौधरी व कक्षा 6 के नैतिक गोयल ने प्रतिनिधित्व किया।

विद्यालय के प्रधानचार्य डॉ. सूर्य प्रकाश, प्रबंधक श्याम जी अग्रवाल और कोषाध्यक्ष विपिन अग्रवाल ने इस उपलब्धि पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए विजेता खिलाडियों का विद्यालय पहुंचने पर भव्य स्वागत करने की बात कही है, तथा विद्यालय के बास्केट बॉल कोच तरुण के प्रयासों की सराहना की है। बताया गया है कि इस राष्ट्र स्तरीय प्रतियोगिता में विद्यालय की अंडर-17 और अंडर-19 आयु वर्ग की बॉस्केटबॉल टीम ने भी रजत पदक प्राप्त किया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : मलेशिया में ताइक्वांडो में स्वर्ण पदक जीतकर गृहनगर लौटे मनीष का हुआ भव्य स्वागत

-फूल मालाओं से लादकर खुली जीप में जुलूस के साथ पहुंचे घर तक
मलेशिया में स्वर्ण पदक जीतने के बाद खुली जीप में जुलूस के साथ मनीष मंडल।डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 9 सितंबर 2022। अपने पहले ही प्रयास में मलेशिया में अंतर्राष्ट्रीय स्वर्ण पदक प्राप्त कर अपने परिवार, नगर एवं प्रदेश के साथ देश का नाम रोशन करने वाले नगर के 17 वर्षीय ताइक्वांडो खिलाड़ी मनीष कुमार शुक्रवार को अपने गृह नगर नैनीताल पहुंचे। इस दौरान उनका नगर के प्रवेश द्वार तल्लीताल डांठ पर फूल मालाओं से भव्य स्वागत किया गया। इसके बाद उन्हें उनके घर तक खुली कार में जुलूस के साथ लाया गया। अलबत्ता इस स्वागत समारोह से ताइक्वांडो संघ की नगर इकाई दूर रही। बताया गया कि स्थानीय इकाई एवं मनीष के बीच कुछ विवाद रहा है।

इस मौके पर नगर के सूखाताल क्षेत्र की कमजोर आय वर्ग लोगों की मानी जाने वाली बंगाली कॉलोनी निवासी मनीष मंडल ने बताया कि गत 2 से 4 सितंबर के बीच मलेशिया की पेरसि यूनिसर्विटी में आयोजित पांचवी गेविन यूनीमैप मलेशिया ओपन इंटरनेशनल ताइक्वांडो चैंपियनशिप-2022 में उन्होंने जूनियर श्रेणी के 48 किलोग्राम भार वर्ग मे स्वर्ण पदक प्राप्त किया है। प्रतियोगिता में भारत सहित चीन, जापान, मलेसिया व नेपाल आदि दुनिया के 8 देशों के एक हजार से अधिक खिलाड़ियों नें भाग लिया। मनीष नें अपनी सफलता के पीछे अपने परिवार का सहयोग बताया। अपने पिता को 11 वर्ष पूर्व खो देने के बाद माँ गीता और दादाजी ने उसके खेल को प्रोत्साहन किया तथा स्वयं के साधनों पर ही उन्होंने उसे इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता में प्रतिभाग के लिए भेजा।

स्वागत में उत्तराखंड बॉडी बिल्डिंग एंड फिटनेस एसोसिएशन के प्रदेश उपसचिव डॉ. मोहित सनवाल, पूर्व सभासद कैलाश अधिकारी, भावना भट्ट, सभासद राहुल पुजारी, पूर्व प्रशिक्षक विनोद, ललित, मनोज भट्ट, डीएसबी परिसर के उपाध्यक्ष निशांत कुमार, मोहित साह, देवेंद्र बगडवाल, करनाधर विश्वास, राजकुमार, अनिल, हरीश, रानी, अजीत, सोनू, मोनिका, नीलम, प्रीति, सुनीता, निर्मल तथा भारतीय शहीद सैनिक विद्यालय के शिक्षक माधव सिंह सहित 30 छात्र भी सम्मिलित हुए। उनकी इस सफलता पर भारतीय टीम के कोच शुभम सक्सेना, मनीष के कोच कमलेश तिवारी, भारतीय शहीद सैनिक विद्यालय के प्रधानाचार्य बिशन सिंह मेहता, कॉमनवेल्थ गेम्स के पदक विजेता मुकेश पाल ने भी शुभकामनायें दी हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : उपलब्धि: नगर के मनीष ने मलेशिया में जीता ताइक्वांडो में स्वर्ण पदक, फहराया तिरंगा…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 8 सितंबर 2022। नगर के एक युवा ताइक्वांडो खिलाड़ी ने अपने पहले ही प्रयास में एक अंतर्राष्ट्रीय स्वर्ण पदक प्राप्त कर अपने परिवार, नगर एवं प्रदेश के साथ देश का नाम रोशन किया है। नगर के सूखाताल क्षेत्र की कमजोर आय वर्ग लोगों की मानी जाने वाली बंगाली कॉलोनी निवासी मनीष मंडल ने गत 2 से 4 सितंबर के बीच मलेशिया की पेरसि यूनिसर्विटी में आयोजित पांचवी गेविन यूनीमैप मलेशिया ओपन इंटरनेशनल ताइक्वांडो चैंपियनशिप-2022 में जूनियर श्रेणी के 48 किलोग्राम भार वर्ग मे स्वर्ण पदक प्राप्त किया है।

17 वर्षीय मनीष की यह उपलब्धि इसलिए भी बड़ी है कि एक गरीब से आने के अलावा उनके पिता भी नहीं हैं। उनके पिता का 11 वर्ष पूर्व निधन हो गया था। परिवार में उनके दादा के अलावा मां गीता मंडल हैं। यह अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार जीतने के बाद मनीश शुक्रवार को गृह नगर पहुचने वाले हैं। इस मौके पर सुबह साढे़़ 11 बजे नगर के तल्लीताल प्रवेश द्वार पर खेल प्रेमियों ने उनके स्वागत के लिए विशेष कार्यक्रम आयोजित किया है।

उनकी मां गीता मंडल ने बताया कि मनीष भारतीय सैनिक का छात्र रहा है। अलबत्ता इस वर्ष उसने एनआईओएस के माध्यम से 87 फीसद अंकों से हाईस्कूल की परीक्षा उत्तीर्ण की है। वह अपने बलबूते इस मुकाम पर पहुचा है। उत्तराखंड के लिए ओपन यूनिवर्सिटी के माध्यम से खेलते हुए देहरादून में खेलते हुए स्वर्ण पदक लाने के उपरांत उनका चयन पहले दिल्ली और वहां भी स्वर्ण पदक जीतने के बाद गोवा के लिए हुआ।

गोवा में भी स्वर्ण पदक जीतने पर उनका मलेशिया के लिए चयन हुआ था। इस प्रतियोगिता के लिए भारत से 100 खिलाड़ी मलेशिया गए हुए थे। उनके मलेशिया जाने के लिए उनकी मां ने अपने आभूषण जेवहरात गिरवी भी रखने पड़े हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में दीवार फांदकर आलू के गुटके-रोटी खाने जाते थे और पास के स्कूल की लड़कियों को तांकते थे अमिताभ, नैनीताल के प्रशांत से किया खुलासा..

haldwani prashant sharma kbc: Haldwani Professor Prashant Sharma will play kaun banega crorepatiडॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 26 अगस्त 2022। यह सभी जानते हैं कि सदी के महानायक कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन नैनीताल के शेरवुड कॉलेज से पढ़े हैं, इसलिए नैनीताल उनके दिल में बसता है। शायद इसीलिए 80 वर्ष के हो चुके अमिताभ बच्चन जब भी किसी नैनीताल वासी से मिलते हैं, नैनीताल में बिताए अपने बचपन के दिनों में खो जाते हैं और बच्चे बन जाते हैं।

इधर गुरुवार रात्रि सुप्रसिद्ध शो-‘कौन बनेगा करोड़पति’ के 14वें सीजन में अमिताभ बच्चन के सामने नैनीताल के हल्द्वानी स्थित आम्रपाली संस्थान में होटल मैनेजमेंट के डीन और शिक्षक 44 वर्षीय प्रो. प्रशांत शर्मा हॉट शीट पर नजर आए। इस दौरान अमिताभ बच्चन ने प्रशांत से नैनीताल की अपनी पुरानी बातों को याद करते हुए मजेदार व दिलचस्प खुलासे किए।प्रशांत के नैनीताल से आने की बात सुनकर बिग बी बेहद खुश नजर आए। उन्होने कहा, यह जगह उनके काफी करीब है। अमिताभ बच्चन ने बताया कि वहां उन्होंने पढ़ाई और साथ में कुछ शरारतें भी की थीं। 

इस पर होटल मैनेजमेंट के शिक्षक प्रशांत ने अमिताभ बच्चन से पूछा, ‘सर आप नैनीताल में पढ़े हैं, उस वक्त आपका फेवरिट रेस्ट्रॉन्ट कौन सा होता था।’ इस पर अमिताभ बच्चन ने बताया, ‘उस समय रोटी के साथ एक पकोड़ा बहुत बढ़िया बनता था, जहां हमारे कॉलेज की सड़क जाती थी। आलू की सब्जी होती थी, रोटी में बांधकर मिलती थी। बहुत अच्छा लगता था खाने में। उसके लिए हम दीवार तोड़कर बाउंड्री वॉल तोड़ कर जाते थे।’ अमिताभ बच्चन ने आगे कहा, ‘हमारे लिए चारदीवारी से भागना बहुत आसान था, क्योंकि हमारे स्कूल के बगल में एक गर्ल्स स्कूल था और उन्हें देखने के लिए हम हमेशा दीवार से चढ़कर जाते थे।’

उल्लेखनीय है कि नैनीताल और पहाड़ों के आलू के गुटके जिसे बाहरी लोग आलू की सब्जी ही समझते हैं, काफी प्रसिद्ध होते हैं। पहाड़ी रायते और पुदीने व पहाड़ी नींबू या दाड़िम, आलूबुखारे की चटनी के साथ इन आलू के गुटकों का स्वाद कभी न भूलने वाला होता है।

उल्लेखनीय है कि इस शो में प्रशांत ने 25 लाख रुपये जीते। उनके लिए 50 लाख रुपये का प्रश्न था, इनमें से किर्गिस्तान के लिए ट्यूलिप, मिस्र के लिए कमल और यूक्रेन के लिए नारंगी क्या है? ए-क्रांतियों के नाम, बी-राष्ट्रीय झंडे पर वस्तुएं, सी-राष्ट्रीय चिन्ह, डी-सत्तारूढ़ पार्टी का चिन्ह। प्रशांत इस सवाल का जवाब नहीं जानते थे और उनके पास कोई लाइफलाइन नहीं बची थी, जिसके चलते उन्होंने शो छोड़ने का फैसला मजेदार अंजाज में किया, ‘गाय हमारी माता है, लेकिन यह क्वेश्चन हमको नहीं आता है।’ प्रशांत ने बताया कि वर्ष 2000 से ही वह इस शो में जाने की तैयारी कर रहे थे और अब उनको मौका मिला। उन्होंने बताया कि उनको इस शो को करने में बहुत मजा आया और अमिताभ बच्चन के साथ उन्होंने कई खास यादें भी बटोरीं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : केबीसी में बिग बी के साथ हॉट शीट पर नजर आएंगे नैनीताल के मोहित, साझा की केबीसी में हॉट सीट तक पहुंचने की प्रक्रिया और बिग बी से हुई बातें…

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 16 अक्टूबर 2021। नैनीताल जिला मुख्यालय में स्थित एरीज यानी आर्यभट्ट प्रेक्षण विज्ञान शोध संस्थान में डी-श्रेणी के इंजीनियर के पद पर कार्यरत वैज्ञानिक मोहित जोशी अगले दो दिन यानी 18 एवं 19 अक्टूबर को रात्रि नौ बजे अमिताभ बच्चन द्वारा प्रस्तुत लोकप्रिय रियलिटी शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ में ‘हॉट सीट’ पर नजर आने वाले हैं। मोहित करीब दो दशक से चल रहे प्रयासों एवं करीब पांच माह की लंबी प्रक्रिया के बाद यहां पहुंचे और बड़ी धनराशि जीत कर भी लौटे हैं। देखें मोहित के केबीसी में शामिल होने का विडियो :

मोहित ने बताया कि केबीसी यानी कौन बनेगा करोड़पति में हॉट शीट तक पहुंचना एक बहुत लंबी, कदम-कदम पर ज्ञान एवं किस्मत के परीक्षण की प्रक्रिया है। मई माह में केबीसी के लिए पंजीकरण हुए थे, जिसमें बताया गया है कि करीब 1.4 करोड़ लोग शामिल हुए थे। इसके बाद इन पंजीकृत लोगों से चार सप्ताह तक हर सप्ताह सोनी टीवी की ओर से सामान्य ज्ञान के प्रश्न पूछकर स्क्रूटनी यानी छंटाई होती रहती है। इसके बाद चुनिंदा लोगों से सोनी लिव एप में पांच सवालों के वीडियो राउंड होते हैं, इसके बाद चुनिंदा प्रतिभागी ‘ग्राउंड ऑडीशन’ राउंड में शामिल होते हैं, जिसमें देश में करीब चार-पांच स्थानों पर प्रतिभागियों एवं सोनी की टीम के बीच प्रत्यक्ष तौर पर संवाद एवं सामान्य ज्ञान का भौतिक परीक्षण एवं व्यक्तिगत साक्षात्कार होता है।

मोहित के लिए यह राउंड लखनऊ में जुलाई माह में हुआ। इसके बाद सितंबर माह में पता चला कि वह उन 100 प्रतिभागियों में शामिल हो गए हैं, जिन्हें सोनी द्वारा मुंबई बुलाया जाएगा और वह तीन प्रश्नों का ‘फास्टेस्ट फिंगर फर्स्ट’ राउंड खेल पाएंगे। इसके बाद सोनी की टीम उनके घर उमागढ़ एवं एरीज नैनीताल स्थित उनके कार्यालय आई। इसके बाद इधर अक्टूबर माह के पिछले-पहले सप्ताह मुंबई में उन्हें मुंबई बुलाया गया एवं केबीसी के लिए शूटिंग हुई। इस दौरान वह तीन प्रश्नों का ‘फास्टेस्ट फिंगर फर्स्ट’ खेलकर यानी तीन प्रश्नों के उत्तर सबसे पहले उस दिन इस राउंड में शामिल 10 प्रतिभागियों में से अमिताभ बच्चन के सामने हॉट शीट पर बैठने में सफल हुए। बताया गया कि इस राउंड में कुल पंजीकरण कराने वाले कुल 1.4 करोड़ प्रतिभागियों में से करीब 50 प्रतिभागी ही पहुंच पाते हैं।

मोहित ने बताया कि जब वह अमिताभ बच्चन के साथ हॉट शीट पर थे, तब अमिताभ ने उनके बारे में सोनी द्वारा बनाया वीडियो देखकर जब जाना कि वह रामगढ़, नैनीताल से हैं जो उन्होंने भीमताल, नौकुचियाताल व काठगोदाम के बारे में बात की। उन्हें रामगढ़ से गुरुदेव रवींद्र नाथ टैगोर के जुड़ाव के बारे में जानकारी थी। इस पर उन्होंने कहा कि वह अपने चल रहे प्रोजेक्ट्स को पूरा करने के बाद रामगढ़ व एरीज नैनीताल जरूर आएंगे।

मोहित ने बताया कि रामगढ़ का उमागढ़ उनके पूर्वज उमापति जोशी के नाम पर है। उनके दादा गोविंद बल्लभ जोशी व प्रख्यात छायावादी कवयित्री महादेवी वर्मा मुंहबोले भाई-बहन थे। उन्होंने ही महादेवी जी को यहां स्थान उपलब्ध कराया था। मोहित के पिता भुवन जोशी व माता धना जोशी अभी भी उमागढ़ में ही रहते हैं, जबकि पत्नी सुनीता जोशी हल्द्वानी में एवं भाईसंजय व लता बैंक में कार्यरत है। बेटा प्रथमेश पांच वर्ष का है। वर्ष 2008 से एरीज में कार्यरत ने देवस्थल में एशिया की दूसरी सबसे बड़ी 3.6 मीटर व्यास की दूरबीन की स्थापना में वहीं रहकर उल्लेखनीय भूमिका निभाई है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : अमिताभ बच्चन ने जताई नैनीताल की शक्ति के साथ ‘डेट’ पर नैनीताल आने की इच्छा…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 30 सितंबर 2021। शिक्षा नगरी भी कहे जाने वाले नैनीताल के शेरवुड कॉलेज से पढ़े सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के दिल में नैनीताल बसता है। इसकी बानगी बीती रात्रि तब देखने को मिली जब उन्होंने अपने शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ में पहुंची नैनीताल में पली-बढ़ी शक्ति प्रभाकर के साथ ‘डेट’ पर नैनीताल आने की इच्छा जताई।

Kbc 13: गलत जवाब देकर छह लाख रुपये जीतने से चूकीं शक्ति प्रभाकर, क्या आप  जानते हैं इस सवाल का जवाब - Entertainment News: Amar Ujalaहुआ यह कि जब ‘ट्रिपल टेस्ट’ जीतकर शक्ति प्रभाकर ‘हॉट शीट’ पर पहुंचीं तो शो के प्रस्तोताओं की ओर से तैयार वीडियो में शक्ति के नैनीताल से होने और उनकी मां को उसके लिए लड़का ढूंढते हुए दिखाया गया। क्योंकि शक्ति अभी शादी नहीं करना चाहतीं। उन्हें कोई लड़का पसंद भी नहीं आ रहा। अमिताभ बच्चन ने जब यह वीडियो देखा तो उनकी हंसी रुकने का नाम नहीं ले रही थी।

इस पर अमिताभ ने शक्ति प्रभाकर से हॉटसीट पर बैठते ही कहा कि उनका बचपन भी नैनीताल में गुजरा है क्योंकि उनकी पढ़ाई वही हुई है। यह सुनकर शक्ति ने उन्हें कहा कि क्या वह नैनीताल कभी गए हैं। इस सवाल का जवाब देते हुए बिग बी ने कहा कि नहीं वो कई सालों से नैनीताल नहीं गए हैं।

अमिताभ बच्चन का जवाब सुनकर शक्ति ने उन्हें कहा कि ‘बिग बी’ को अब नैनीताल आना चाहिए। अमिताभ ने कहा कि वह जरूर आएंगे अगर शक्ति उन्हें नैनीताल घुमाने के लिए तैयार हों तो। इसके बाद अमिताभ बच्चन ने तुरंत सेट का माहोल रोमांटिक कर दिया और शक्ति से कहा, आप मेरे साथ डेट पर चलना चाहेंगी ? इस बात को सुनकर शक्ति बिलकुल हैरान रह गईं, और अचानक अमिताभ बच्चन का यह अंदाज देखकर काफी शर्मा गईं। शक्ति को विश्वास नहीं हो पाया कि अमिताभ बच्चन ने उनसे डेट पर चलने के लिए पूछा है। अमिताभ की यह बात सुनकर शक्ति ने खुद को पिंच किया। फिर सहज होकर उन्होंने कहा ‘सर आज तक इतनी खूबसूरत डेट किसी को नहीं मिली होगी, लेकिन मैं आज तक कभी किसी के साथ डेट पर नहीं गई।’ फिर भी शक्ति उन्हें नैनीताल घुमाने के लिए तुरंत राजी हो गईं।

उल्लेखनीय है कि मूल रूप से लखनऊ की रहने वाली शक्ति प्रभाकर इस खेल को खेलने के लिए अपने भाई और अपनी मां रतन ज्योति के साथ मुंबई आईं थीं। उनकी मां रतन ज्योति नैनीताल के जिला न्यायालय में कार्यरत रहीं। इधर दिसंबर 2020 में मां के सेवानिवृत्त होने के बाद वह लखनऊ चली गईं और वहां एक कॉलेज के लिए ऑनलाइन ‘श्रम कानून’ पढ़ा रही हैं। मां के साथ रहते हुए शक्ति ने नैनीताल के डीएसबी परिसर से बीकॉम और भीमताल से मानव संसाधन प्रबंधन में एमबीए किया है। अभी भी वह कुमाऊं विश्वविद्यालय से पीएचडी कर रही हैं।

हालांकि 3.2 लाख का ईनाम जीतने के बाद 6.40 लाख रुपए के लिए जब अमिताभ ने शक्ति से पूछा कि भारत के किस वायसराय की हत्या अंडमान में काला पानी की सजा काट रहे अफगान कैदी शेर अली अफरीदी ने की थी ? इस सवाल के जवाब के लिए शक्ति के सामने 4 विकल्प थे। लार्ड मेयो, लार्ड कर्जन, लार्ड लेपियर और लार्ड लिटन। इन विकल्पों में से शक्ति ने लार्ड लेपियर का चयन किया जो गलत था। जबकि सही जवाब था लार्ड मेयो। हालांकि गलत जवाब देने पर भी शक्ति का कोई नुकसान नहीं हुआ, उन्होंने 3 लाख 20 हजार की धनराशि जीती। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड की बेटी ने ‘KBC-13’ के पहले एपिसोड में जीते साढ़े 12 लाख

23 अगस्त को KBC प्रारंभ होने जा रहा है।नवीन समाचार, रुद्रपुर, 19 अगस्त 2021। सोनी टीवी पर प्रसारित होने वाले अमिताभ बच्चन द्वारा प्रस्तुति चर्चित रियलिटी शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ में गदरपुर की बेटी नेहा बाठला ने 12 लाख 50 हजार का इनाम जीतकर शहर और प्रदेश का नाम रोशन किया है। गदरपुर के किसान गुरचरण बाठला की पुत्री नेहा डा. नेहा चम्पावत के सिप्टी स्थित पशु चिकित्सालय में तैनात हैं। उनके पति डा. राहुल जोशी भी जनपद के नरियालगांव स्थित पशु प्रजनन केंद्र में कार्यरत हैं।

डा. नेहा ने बताया कि उनके ससुर प्रदीप जोशी कौन बनेगा करोड़पति शो में जाने के लिए शुरू से ही प्रयासरत रहे, लेकिन आज तक उन्हें सफलता नहीं मिल पाई। उनकी प्रेरणा पर ही उन्होंने इस बार केबीसी में अपना रजिस्ट्रेशन कराने के बाद दस सवालों का जवाब दिया तो ऑनलाइन टेस्ट के जरिये उनका चयन हुआ।

पहले प्रयास में ही ‘कौन बनेगा करोड़पति शो’ में चयनित हुई नेहा ने अमिताभ बच्चन के सामने हॉट सीट पर अपनी प्रतिभा के साथ ही अपनी सादगी का भी परिचय दिया। कार्यक्रम में अपने पति व ससुर की मौजूदगी में उन्होंने कई सवालों के जवाब देते हुए 12 लाख 50 हजार रुपए जीते। इस दौरान उन्होंने कहा कि वह इस मंच पर पैसे के लिए नहीं बल्कि सम्मान के लिए आई थी। इस KBC के 13वें संस्करण के पहले एपीसोड में आगामी 23 और 24 अगस्त को सोनी टीवी पर होना प्रस्तावित है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार नेहा बचपन से ही मेधावी रही है। नेहा ने प्रारम्भिक शिक्षा मोनाड स्कूल से प्राप्त की है। इसके बाद इंटर तक की शिक्षा नवोदय विद्यालय रुद्रपुर से ग्रहण की। नेहा की इस उपलब्धि पर क्षेत्र के अनेक लोगों ने हर्ष व्यक्त करते हुए उन्हें बधाई दी है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल के विजय के जर्मन स्टाइल खादी के वस्त्र जर्मनी, इंग्लेंड व फ्रांस तक पहुंच रहे…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 21 अगस्त 2022। प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती, बस उसे पारखी नजरों का इंतजार होता है, जो उसे सफलता का ऊंचे से ऊंचा आसमान दिला सकती है। ऐसा ही कुछ हुआ है नैनीताल के विजय कुमार के साथ। आज उनके जर्मन स्टाइल में सिले खादी के वस्त्र जर्मनी के साथ इंग्लेंड व फ्रांस तक पहुंच रहे हैं और वहां के लोगों की पसंद बन रहे हैं।

विजय की नैनीताल के तल्लीताल में एलबीडो टेलर्स नाम की कपड़े सिलने की दुकान है। यहां वह पिछले करीब 12 वर्ष पूर्व से खादी के वस्त्र सिलते हैं। इधर बीते जून माह में एक जर्मन महिला सैलानी उनकी दुकान पर आई और उसने कुछ खादी के वस्त्रों की खरीददारी की। यह महिला विजय के खादी के वस्त्रों की ऐसी प्रशंसक साबित हुईं कि उन्होंने जर्मनी जाने के बाद विजय से संपर्क कर उन्हें जर्मनी में पहने जाने वाले वस्त्रों के स्टाइल में, खासकर महिलाओं के गाउन खादी से तैयार कर भेजने के ऑर्डर दिए।

इस पर विजय ने अपेक्षित स्टाइल के वस्त्र महिला को जर्मनी भेजे जिन्हें महिला जर्मनी के साथ इंग्लेंड व फ्रांस आदि कई देशों को भी भेज रही है। विजय कुमार ने बताया कि उन्हें खादी के करीब 1500 लेडीज गाउन तैयार करने का ऑर्डर मिला है, जिसे व अल्मोड़ा के करबला में स्थित भेड़ों के ऊन से खादी का कपड़ा तैयार करने के ग्रामोद्योग रिवर व्यू फैक्टरी से प्राप्त खादी से तैयार कर भिजवा रहे हैं।

इस जानकारी के बाद विजय के खादी के वस्त्रों की मांग बढ़ गई है, और वह अपने कारोबार के साथ देश की पहचान, महात्मा गांधी द्वारा स्वतंत्रता के आंदोलन में जनजागरण के लिए प्रयुक्त की गई खादी को भी देश से बाहर एक नई पहचान दिला रहे हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : कुमाऊं विवि के फार्मास्यूटिकल साइंस विभाग को केंद्रीय रैकिंग में 61वीं रैंकिंग…

-पूरी सूची में शामिल राज्य का एकमात्र विभाग
210 investigation in the camp of the Department of Pharmaceutical Sciences  - भेषज विज्ञान विभाग के शिविर में 210 की जांचडॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 16 जुलाई 2022। कुमाऊं विश्वविद्यालय के सर जेसी बोस परिसर भीमताल में संचालित फार्मास्यूटिकल साइंस यानी भेषज विज्ञान विभाग को शिक्षा मंत्रालय की ओर से जारी एनआइआरएफ रैकिंग में 61वीं रैंकिंग मिली है। यही नहीं इस सूची में वह राज्य का एकमात्र संस्थान है। उल्लेखनीय है कि पिछली बार संस्थान की रैकिंग 58वीं थी।

उल्लेखनीय है कि 1997 में तत्कालीन रसायन विभागाध्यक्ष प्रो सीएस मथेला के नेतृत्व में प्राध्यापकों के प्रयासों से स्थापित फार्मास्यूटिकल साइंस विभाग इस वर्ष अपने रजत जयंती वर्ष में प्रवेश कर रहा है। लिहाजा इस मौके पर विभाग की इस उपलब्धि का महत्व और अधिक बढ़ गया है। संकायाध्यक्ष प्रो अर्चना नेगी साह ने बताया कि कुलपति प्रो. एनके जोशी के कार्य भार ग्रहण करने के उपरांत शिक्षा मंत्रालय की एनआइआरएफ रैकिंग को बेहतर करने के लिए विशेष कार्य किये गये।

इस उपलब्धि पर कुलपति प्रो. जोशी, परिसर निदेशक प्रो. पीसी कविदयाल, विभागाध्यक्ष डॉ. अनीता सिंह, आईक्यूएसी निदेशक प्रो. राजीव उपाध्याय, कुलसचिव दिनेश चंद्रा, वित्त नियंत्रक अनीता आर्य, उपकुलसचिव दुर्गेश डिमरी ने हर्ष जताया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में नैनीताल के खिलाड़ियों ने जीते 11 में से 9 पदक

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 5 जुलाई 2022। नैनीताल ताईक्वांडो क्लब के खिलाड़ियों ने देहरादून में आयोजित राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में शानदार प्रदर्शन करते हुए 11 में से 9 पदक जीते। इनमें योगेंद्र व गीतांजलि के 2 स्वर्ण, विभोर भट्ट, लक्ष्य व गुंजा के 3 रजत तथा खुशी, सुमन, खुशबू व गरिमा के 4 कांस्य पदक शामिल हैं।

विजेता खिलाड़ियों का नैनीताल शहर में पहुंचने पर क्लब के अध्यक्ष विश्वकेतु वैद्य, उत्तराखंड सचिव चंद्रविजय सिंह, नैनीताल सचिव सुनील सिंह, संरक्षक गोपाल रावत, कोच विनोद कुमार वैद्य, जगदीश बवाड़ी, गजाला कमाल, प्रेमा अधिकारी, जीवंती भट्ट, तुसी साह व अन्य खेल प्रेमियों ने स्वागत व अभिनंदन किया तथा उन्हें बधाई देते हुए उज्ज्वल भविष्य की कामना की। बताया गया कि प्रतियोगिता में राज्य के विभिन्न जिलों से 500 से अधिक खिलाड़ियों ने विभिन्न भार वर्गों में प्रतिभाग किया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : सच में ‘लक्ष्मी’ साबित हुई बेटी: अल्मोड़ा के एक पिता अपनी बेटी के नाम पर रातों-रात दो करोड़ रुपए कमाए

नवीन समाचार, अल्मोड़ा, 18 अप्रैल 2022। बेटियां ‘लक्ष्मी’ कही जाती हैं। अल्मोड़ा जनपद के भतरौजखान के पास के ग्राम च्यूनी निवासी ललित नैनवाल के लिए उनकी दो साल की बेटी मिताली वास्तव में लक्ष्मी साबित हुई है।

वर्तमान में काशीपुर में प्राइवेट जॉब करने वाले ललित ने अपनी बेटी मिताली के नाम पर बीती रात्रि दिल्ली कैपिटल्स व बंगलुरू की टीमों के बीच हुए आईपीएल मैच के दौरान अपनी फैंटेसी ड्रीम-इलेवन बनाकर अपनी किस्मत आजमाई थी, और उनकी आभाषी टीम ने इस मैच में सच्चाई में ऐसा प्रदर्शन किया कि वह दो करोड़ रुपए जीत गए। ललित ने इस मैच में अपनी टीम में दिनेश कार्तिक को कप्तान और डेविड वार्नर को उप कप्तान बनाया था। बैंगलोर ने इस मैच में 20 ओवर में पांच विकेट खोकर 189 रन बनाए और दिल्ली टीम सात विकेट के नुकसान पर 173 रन बना पाई। उनकी बनाई टीम के सभी खिलाड़ियों ने बेहतर प्रदर्शन कर 860 अंक के साथ प्रथम स्थान हासिल किया। 

बताया गया है कि अब उन्हें विभिन्न कर काटकर इसमें से करीब एक करोड़ 40 लाख रुपए मिलेंगे। यह रुपए भी इतने हैं, जितने कमाने में इंसान की कई बार पूरी उम्र भी लग जाती है। अलबत्ता, एक पक्ष यह भी जरूर है कि इस तरह के खेलों में जीतते गिने-चुने लोग हैं, लेकिन हर रोज हारने वालों की संख्या भी करोड़ों में होती है। इसलिए इस तरह किस्मत आजमाने की सलाह भी सामान्यतया नहीं दी जाती है। (डॉ. नवीन जोशी) अन्य ताज़ा नवीन समाचार पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : खबर सच है: एक रात में करोड़पति बना उत्तराखंड का एक चायवाला

-राईआगर में चाय की दुकान चलाने वाले हरीश कन्हैया ने ड्रीम-11 में पहले पुरस्कार के साथ जीते एक करोड़ रुपए
Dream 11 winer uttarakhandनवीन समाचार, बेरीनाग, 15 अप्रैल 2022। उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जनपद में बेरीनाग के पास राईआगर नाम के स्थान पर हरीश कन्हैया नाम के चाय की छोटी सी दुकान चलाने वाले व्यक्ति एक रात में करोड़पति बन गए हैं। हरीश ने लगातार अनुभव एवं किस्मत के संयोग से इंडियन प्रीमियर लीग यानी आईपीएल में मोबाइल गेम ड्रीम-11 के माध्यम से एक करोड़ रुपए जीत गए हैं।

रातों-रात करोड़पति बने हरीश ने बताया कि वह काफी समय से रोज ड्रीम-11 में टीम बनाकर अपनी किस्मत आजमाते थे। बुधवार को भी उन्होंने पंजाब किंग्स इलेवन और मुंबई इंडियंस के मैच में 49 रुपए लगाकर अपनी ड्रीम इलेवन टीम बनाई थी। और यह रात उनके लिए छप्पर फाड़ कर धनवर्षा करने वाली रात साबित हुई। उनकी चुनी हुई टीम ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया और उन्होंने 1 करोड़ रुपए जीत लिए।

जैसे ही हरीश को इस बात की जानकारी मिली कि वह एक करोड़ रुपये जीत चुके हैं तो उनकी खुशी का ठिकाना ना रहा। बताया गया है कि अब टैक्स काटने के बाद उनके खाते में 70 लाख रुपए की धनराशि आएगी। अलबत्ता, हरीश का कहना है कि वह आगे भी चाय की दुकान चलाते रहेंगे। हरीश की इस उपलब्धि पर पूरे क्षेत्र में खुशी का माहौल है, और क्षेत्र में उसकी प्रसिद्धि बढ़ गई है। (डॉ. नवीन जोशी) अन्य ताज़ा नवीन समाचार पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : ज्योलीकोट के दिव्यांग युवक ने 15 दिनों में ड्रीम-11 में जीते ढाइ लाख रुपए

नवीन समाचार, नैनीताल, 06 अप्रैल 2021। मुख्याालय के निकटवर्ती ज्योलीकोट के निवासी एक दिव्यांग युवक ने हालिया दौर में काफी प्रसिद्ध हुए ऑनलाइन बिडिंग गेम ड्रीम-11 में बीते 15 दिनों के अंतराल में ढाई लाख रुपए जीत लिए हैं। इस पर उसके परिवार सहित इलाके के लोगों में खुशी का माहौल है और उसे बधाइयां मिल रही हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार हरीश कुमार पुत्र स्वर्गीय भीमराम ने बीती 20 मार्च को ड्रीम-11 में श्रीलंका लीजेंड और साउथ अफ्रीका लीजेंड के बीच खेले गए टी-20 के सेमीफाइनल मुकाबले में 375 रुपये लगाए और इस मुकाबले में 767 अंक के साथ 1063 मैच खेल रहे लोगों में पहले स्थान पर रहकर 1 लाख की धनराशि जीत ली। इसी क्रम में 5 अप्रैल को फुजेरा और शारजाह की टीमों के बीच खेले गए टी 10के फाइनल मुकाबले में 999 रुपये की रकम लगाई और 640 अंक के साथ 1283 प्रतिभागियों में पहले स्थान पर रहकर एक लाख पचास हजार रुपए जीत लिये। (डॉ. नवीन जोशी) अन्य ताज़ा नवीन समाचार पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : उपलब्धि : नैनीताल की बेटी अपूर्वा ने किया अपूर्व प्रदर्शन

-भारतीय सेना की एसएससीडब्ल्यू न्यायाधीश की परीक्षा में देश में सर्वोच्च स्थान प्राप्त 

अपूर्वा शाह

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 31 मार्च 2022नैनीताल की बेटी अपूर्वा शाह अपने नाम के अनुरूप अपूर्व यानी जैसा पूर्व में कभी न हुआ हो, प्रदर्शन किया है। उन्होंने भारतीय सेना की अखिल भारतीय स्तर पर आयोजित होने वाली एसएससीडब्ल्यू न्यायाधीश की परीक्षा में देश में सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार अपूर्वा एलएलएम कर चुकी हैं तथा वर्तमान में उच्चतम न्यायालय दिल्ली में वकालत का व्यवसाय कर रही हैं। उनके पिता अखिलेश शाह वरिष्ठ अधिवक्ता, माता गृहणी तथा बड़ी बहन इंजीनियर हैं। उनकी इस उपलब्धि पर उत्तराखंड ग्वाल सेवा संगठन के संस्थापक अधिवक्ता पंकज कुलौरा, सेवानिवृत्त कर्नल डॉ. गिरजा शंकर मुनगली, उत्तराखंड सम्मान संघ के संयोजक हेमंत बोरा,

होटल एसोसिएशन नैनीताल के उपाध्यक्ष दिग्विजय बिष्ट, नैनीताल जिला बार के अध्यक्ष नीरज साह, उपाध्यक्ष संजय सुयाल, सचिव दीपक रुवाली, मनीष जोशी बहादुर पाल, हिमांशु जोशी, एमबी सिंह, गोपाल कपकोटी, तरुण कुमार, रवि शंकर, सुशील शर्मा व प्रदीप परगई सहित बार के अनेक अधिवक्ताओं ने खुशी व्यक्त करते हुए उन्हें शुभकामनाएं प्रेषित की हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : भोजन माता की पुत्री ने आईआईटी में देश में 49वीं रैंक हासिल कर किया गौरवान्वित

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 28 मार्च 2022। कुमाऊं विश्वविद्यालय के डीएसबी परिसर नैनीताल की बीएससी की छात्रा रश्मि पंत ने आईआईटी परीक्षा में अखिल भारतीय स्तर पर 49रैंक प्राप्त कर गौरवान्वित करने वाला व प्रेरणास्पद प्रदर्शन किया है। इस प्रदर्शन के आधार पर उनका चयन आईआईटी कानपुर में हुआ है।

उनकी यह उपलब्धि इसलिए भी बड़ी है कि वह पिथौरागढ़ जनपद के बेरीनाग क्षेत्र के ग्राम भट्टीगांव के एक बेहद सामान्य परिवार से आती हैं। उनकी माता प्रभा पंत ने स्थानीय विद्यालय में भोजनमाता के रूप में कार्य कर उन्हें पढ़ाया है। बचपन से मेधावी छात्रा रही रश्मि राजकीय प्राथमिक विद्यालय भट्टीगांव व राजकीय बालिका इंटर कालेज बेरीनाग से पढ़ने के बाद वर्तमान में डीएसबी परिसर नैनीताल से बीएससी कर रही हैं।

रश्मि की इस उपलब्धि पर कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एनके जोशी, कुलसचिव दिनेश चंद्रा, डीआईसी निदेशक प्रो.संजय पंत, शोध एवं प्रसार निदेशक तथा कुमाऊं विश्वविद्यालय शिक्षक संघ-कूटा के अध्यक्ष प्रो ललित तिवारी, डॉ. विजय कुमार, डॉ. दीपिका गोस्वामी, डॉ. सोहेल जावेद, डॉ. प्रदीप, डॉ. पैनी जोशी, डॉ. गगन होती, डॉ. मनोज धौनी, डॉ. सीमा, डॉ. रितेश शाह तथा डॉ.प्रभा पंत आदि प्राध्यापकों ने बधाई एवम शुभकामनाएं दी है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल के छात्र देवांश के नाम जुड़ेगी बड़ी उपलब्धि, प्रधानमंत्री के कार्यक्रम का करेंगे संचालन

देवांश बृजवासी

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 27 मार्च 2022। नैनीताल जनपद के एक छात्र के नाम बड़ी उपलब्धि जुड़ने जा रही है। जनपद के जवाहर नवोदय विद्यालय गगरकोट सुयालबाड़ी के छात्र देवांश बृजवासी एक अप्रैल को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देशभर से चुने गए बच्चों के साथ होने वाले परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम का संचालन करेंगे। देवांश शनिवार शाम इस कार्यक्रम में शाम दिल्ली रवाना हो गए हैं।

जवाहर नवोदय विद्यालय गंगरकोट के प्रधानाचार्य राज सिंह ने रविवार को बताया कि विद्यालय के कक्षा 11 के विज्ञान वर्ग के छात्र देवांश हल्द्वानी के रहने वाले हैं। उनके पिता जगदीश बृजवासी रामपुर रोड में एक फूलों की नर्सरी चलाते हैं। उन्हें कार्यक्रम के संचालन के लिए चुना गया है। यह विद्यालय के लिए भी एक बड़ी उपलब्धि है।

उन्होंने बताया कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से आयोजित एक ऑनलाइन कार्यक्रम में विद्यालयों से छात्रों से संचालन का वीडियो तैयार कर भेजने को कहा गया था। इसी वीडियो के आधर पर देवांश का इस बड़ी जिम्मेदारी के लिए चयन हुआ है। इससे विद्यालय परिवार में खुशी का माहौल है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पहले ही प्रयास में उत्तीर्ण की यूजीसी की प्रतिष्ठित नेट परीक्षा

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 20 फरवरी 2022। कुमाऊं विश्वविद्यालय के डीएसबी परिसर नैनीताल के कई विद्यार्थियों ने पहली बार में यूजीसी की नेट यानी राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण कर विभाग तथा विश्वविद्यालय का मान बढ़ाया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार संस्कृत विभाग की पूर्व छात्रा भावना कांडपाल ने भी यूजीसी ने नेट परीक्षा जेआरएफ के साथ उत्तीर्ण की है। जबकि शोध छात्र कैलाश बिजल्वाण व अनिल कुमार ने भी नेट परीक्षा उत्तीर्ण की है। साथ ही डॉ. लज्जा भट्ट के निर्देशन में संस्कृत विभाग के शोध कर रहे भास्कर कांडपाल ने यूजीसी नेट एवं कंप्यूटर साइंस के छात्र रमन कुमार ने जेआरएफ के साथ नेट परीक्षा उत्तीर्ण की है।

नेट परीक्षा उत्तीर्ण भास्कर कांडपाल व रमन कुमार।
डीएसबी के यूजीसी नेट परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्र-छात्राएं।

उधर, वाणिज्य विभाग की पूजा जोशी, दीक्षा पवार तथा आशु तोमर एवं अर्थशास्त्र विभाग के आयुष साह ने दिसंबर 2021में आयोजित राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण की है। पूजा जोशी डॉ. आरती पंत के दिशा निर्देशन में शोध कार्य कर रही है। वह इससे पहले भी, पहले ही प्रयास में यह परीक्षा उत्तीर्ण कर चुकी हैं।

वहीं, दीक्षा पवार तथा आशु तोमर वाणिज्य विभाग में डॉ.विजय कुमार के दिशा निर्देशन में शोध कार्य कर रहे हैं। उन्होंने भी अपने पहले ही प्रयास में यह परीक्षा उत्तीर्ण की है। इसके अलावा आयुष साह ठुलघरिया ने एमए तृतीय सेमेस्टर में पढ़ते हुए और अपने पहले प्रयास में ही यह परीक्षा उत्तीर्ण की है।

उनकी माता प्रीति साह नगर के सिविल कोर्ट में अधिवक्ता हैं, जबकि उनके अधिवक्ता पिता योगेश साह का अभी हाल ही में निधन हुआ है। उनकी बहन आईआईटी रुड़की में शोध छात्रा हैं। इनके अलावा नगर की उदीयमान चित्रकार अपराजिता बिष्ट ने भी फाइन आर्ट्स में यूजीसी की नेट परीक्षा उत्तीर्ण की है। वर्तमान में वह नगर के सेंट जोसफ कॉलेज में शिक्षिका हैं। उनकी पेंटिंग अनेक प्रदर्शनियों में प्रदर्शित हो चुकी हैं।

सभी की उपलब्धि पर कुलपति प्रो. एनके जोशी, डीएसबी परिसर के निदेशक प्रो. एलएम जोशी, शोध निदेशक प्रो. ललित तिवारी, प्रो. संजय पंत, प्रो.हरीश बिष्ट, प्रो. जया तिवारी, डॉ. रितेश साह, डॉ. अशोक कुमार, वाणिज्य विभागाध्यक्ष प्रो. अतुल जोशी, प्रो. बीडी कविदयाल, डॉ.आरती पंत, डॉ. विजय कुमार, डॉ.ममता जोशी, डॉ.निधि वर्मा व डॉ.हिमानी, डॉ. दीपिका गोस्वामी, डॉ. पैनी जोशी, डॉ. दीपक कुमार, डॉ. सोहेल जावेद व हेम भट्ट सहित विभागीय प्राध्यापकों व कूटा ने बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : दूसरी बार न्यूयॉर्क मीडिया फेस्टिवल की जूरी बनीं नैनीताल की बेटी डॉ. सना जाफरी

डॉ. सना जाफरी

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 3 फरवरी 2022। नगर के दिवंगत पत्रकार और लेखक सय्यद आबाद जाफरी की पुत्री डॉ. सना जाफरी दुनिया के फिल्म, मीडिया, विज्ञापन एवं रेडियो जगत की सबसे बड़ी मानी जाने वाली अवार्ड सेरेमनी-2022 की ग्रैंड जूरी में देश की चुनिंदा मीडिया हस्तियों के साथ शामिल की गई हैं। इससे पहले भी वह 2018 में ग्रैंड जूरी का हिस्सा रही थीं।

उल्लेखनीय है कि डॉ. सना ने जामिआ मिलिआ इस्लामिआ यूनिवर्सिटी से जनसंचार में गोल्ड मैडल के साथ एमए करने के उपरांत प्राइवेट एफएम में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की है। इसके बाद वह पिछले 13 सालों से देश के जाने माने मीडिया संस्थानों तथा संगठनों में कार्यरत रही हैं तथा इग्नू, जामिआ, एफटीआईआई पुणे, शारदा यूनिवर्सिटी व आईएमएस आदि में पढ़ाती भी रही हैं।

वर्तमान में वह हिंदुस्तान टाइम्स में सहायक जनरल मैनेजर के पद पर कार्य कर रही हैं। उनकी इस उपलब्धि पर उनके बड़े भाई सय्यद काशिफ जाफरी ने बताया कि सना बचपन से ही मीडिया तथा शिक्षा के क्षेत्र में रुचि रखती हैं तथा अपने पिता सय्यद आबाद जाफरी से विरासत में मिली इस योग्यता का सही उपयोग कर रही हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल निवासी प्रो. पंत बने असम केंद्रीय विश्वविद्यालय में कुलपति…

प्रो. राजीव मोहन पंत।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 16 जनवरी 2022। कुमाऊं विश्वविद्यालय के सर्वप्रमुख डीएसबी परिसर नैनीताल के पूर्व छात्र प्रो.राजीव मोहन पंत असम स्थित केंद्रीय विश्वविद्यालय सिलचर में कुलपति नियुक्त किया गया हैं। गंगोलीहाट के उपराणा ग्राम पाली के मूल निवासी राजीव का पूरा बचपन नैनीताल में ही बीता है। नगर के अयारपाटा में रहते हुए 1978 में उन्होंने डीएसबी परिसर नैनीताल में बीए प्रवेश लिया और 1982 में अर्थशासत्र से एमए किया। वह कुमाऊं विश्वविद्यालय की टीम से हॉकी टूर्नामेंट भी खेले और नगर के प्रसिद्ध नैनीताल पर्वतारोहण क्लब-एनटीएमसी के सदस्य के रूप में पर्वतारोहण भी किया। वह बिड़ला इंस्टीट्यूट भीमताल में व्याख्याता तथा राष्ट्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज संस्थान के निदेशक भी रह चुके हैं।

प्रो. पंत ने ‘नवीन समाचार’ को बताया कि वह वर्तमान में नॉर्थ ईस्टर्न रीजनल इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी ईटानगर अरुणांचल प्रदेश में प्रोफेसर के पद पर कार्यरत हैं। कल ही उनकी असम स्थित केंद्रीय विश्वविद्यालय सिलचर में कुलपति के पद पर नियुक्ति हुई है। एक-दो दिनों में वह नया कार्यभार ग्रहण करेंगे। उन्होंने कहा उनका पूरा बचपन नैनीताल बचपन में बीता है, और दिल अभी भी नैनीताल में ही रहता है। उन्होंने शीघ्र ही नैनीताल आने की बात भी कही।

कुमाऊं विश्वविद्यालय शिक्षक संघ-कूटा ने उन्हें नए दायित्व पर बधाई एवं शुभकामनाएं दी है। अध्यक्ष प्रो. ललित तिवारी ने कहा कि उनकी इस उपलब्धि से कुमाऊं विश्वविद्यालय के साथ ही उत्तराखंड राज्य भी गौरवन्वित हुआ है। कूटा की ओर से बधाई देने वालों में डॉ.विजय कुमार, डॉ.सुहैल जावेद, डॉ.दीपिका गोस्वामी, डॉ.दीपक कुमार, डॉ.पैनी जोशी, डॉ.प्रदीप कुमार, डॉ.सीमा चौहान, डॉ.गगन होती, डॉ.रीतेश साह, डॉ.युगल जोशी व डॉ.ललित मोहन इत्यादि शामिल रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल की नैना राष्ट्रीय प्रतियोगिता में जीते दो पदक

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 12 जनवरी 2022। नैनीताल की बेटी नैना अधिकारी ने भोपाल मध्य प्रदेश में आयोजित हुई राष्ट्रीय कैनो सलालम चैंपियनशिप में दो पदक, एक-एक रजत व कांश्य पदक जीते हैं। बताया गया है कि वह इस प्रतियोगिता में उत्तराखंड की इकलौती खिलाड़ी रहीं, जिन्होंने दो पदक प्राप्त किए हैं।

उल्लेखनीय है कि नैना नैनीताल में प्रकृति संरक्षण के कार्यों को समर्पित विजय अधिकारी की पुत्री हैं। वह नैनी झील के साथ गंगा एवं लद्दाख में सतलुज नदी में भी खास तरह की कैनो कही जाने वाली नौका पर कैनोइंग कर चुकी हैं। उनकी इस उपलब्धि पर नगर में उनके परिचितों व खेल प्रेमियों में हर्ष की लहर है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल की नैना ने किया कमाल, गंगा कयाक प्रतियोगिता में ओवरऑल चैंपियन व बेस्ट इंडियन पेडलर चुनी गई

नवीन समाचार, नैनीताल, 21 फरवरी 2021। नैनीताल की नैना अधिकारी ने एक बार फिर कमाल कर दिया है। वह उत्तराखंड के ऋषिकेश में उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद द्वारा गत 17 से 19 फरवरी तक आयोजित गंगा कयाक महोत्सव-2021 में महिला बोटर क्रॉस प्रो प्रतियोगिता की विजेता रही हैं। साथ ही वह इस प्रतियोगिता में दो स्वर्ण व एक रजत पदक के साथ की महिला वर्ग की ओवरऑल चैंपियन व बेस्ट इंडियन पेडलर भी चुनी गई हैं। उल्लेखनीय है कि नैना नगर के पर्यावरण कार्यकर्ता विजय अधिकारी की पुत्री है।

इस तीन दिवसीय महोत्सव के तीसरे व अंतिम दिन हुई विभिन्न श्रेणियों की प्रतियोगिताओं में से पुरुष बोटर क्रॉस प्रो में प्रथम स्थान भारत के मनीष रावत, द्वितीय स्थान नेपाल के सुमन तमांग, तृतीय स्थान भारत के अमित थापा, चतुर्थ स्थान भारत के सुनील सिंह ने, महिला बोटर क्रॉस प्रो प्रतियोगिता में प्रथम स्थान नैना अधिकारी, द्वितीय स्थान निधि भारद्वाज एवं प्रियंका राणा में टाई रहा, पुरुषों में ओवरऑल चौंपियन संजय राणा व महिलाओं में नैना अधिकारी, बेस्ट इंडियन पेडलर-पुरुष संजय राणा व बेस्ट इंडियन पेडलर-महिला नैना अधिकारी तथा बिगनर कैटेगरी में प्रथम स्थान अमर, द्वितीय स्थान अर्जुन थापा, तृतीय स्थान अंकित व राहुल ने प्राप्त किया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : 50 किलोमीटर दौड़ कर एकेश तिवाड़ी ने जैसलमेर में लहराया नैनीताल का परचम

एकेश तिवाड़ी

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 24 दिसंबर 2021। नैनीताल निवासी युवा व्यावसायी एवं धावक एकेश तिवाड़ी ने जैसलमेर में आयोजित बॉर्डर रन को समय से पहले पूरा कर एक बार फिर शहर का नाम रोशन किया है। ‘द हॉल रेस’ द्वारा जैसलमेर में आयोजित आठ घंटे की इस दौड़ में एकेश ने 50 किलोमीटर की दौड़ को 6 घंटे 18 मिनट में 7.93 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पूरा किया। इस दौड़ में शामिल हुए कुल 83 प्रतिभागियों में एकेश ने 27 वाँ स्थान प्राप्त किया।

एकेश ने कहा कि उन्हें नैनीताल के गिने-चुने अल्ट्रा रनर्स में शामिल होने की बेहद खुशी है, और वह आने वाले समय में पहाड़ के युवाओं को अल्ट्रा रनिंग की ओर प्रोत्साहित करना चाहते हैं। इस उपलब्धि पर उन्हें जिला पंचायत अध्यक्ष बेला तोलिया, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य प्रमोद तोलिया सहित नैनीतालवासियों ने हार्दिक बधाई दी है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : डीएसबी की छात्रा सागरिका का राज्य की फुटबॉल टीम में हुआ चयन…

सागरिका शाह।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 27 नवंबर 2021। डीएसबी परिसर नैनीताल के शारीरिक शिक्षा विभाग के अंतर्गत चलने वाले पाठ्यक्रम बैचलर ऑफ फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स साइंसेस की छात्रा सागरिका शाह का उत्तराखंड की सीनियर फुटबॉल टीम में चयन हुआ है। सागरिका को अपना पहला मुकाबला उत्तराखंड की टीम से केरल के कुचिपुड़ी में खेलना है।

उनके चयन पर डीएसबी के परिसर निदेशक प्रोफेसर एलएम जोशी, अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रोफेसर डीएस बिष्ट, प्रॉक्टर प्रोफेसर नीता बोरा शर्मा, विभागाध्यक्ष डॉ. संतोष कुमार, कुमाऊं विश्वविद्यालय क्रीडा अधिकारी डॉ नागेंद्र प्रसाद शर्मा, सुनील कुमार तथा अनीता बोरा आदि ने बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल के 14 वर्षीय शिवांश बने राष्ट्रीय चैम्पियन, रचा इतिहास

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 31 अक्टूबर 2021। नगर निवासी 14 वर्षीय बाल शिवांश साह ने महाराष्ट्र के पुणे (आलंदी) में आयोजित 18वीं राष्ट्रीय माउंटेन साइकिलिंग चैम्पियनशिप में उत्तराखंड के लिए खेलते हुए युवा वर्ग में स्वर्ण पदक प्राप्त किया है।

18वीं राष्ट्रीय माउंटेन साइकिलिंग चैम्पियनशिप में पहले स्थान पर रहकर दौड़ पूरी करते शिवांश साह।

इस तरह उन्होंने अपने वर्ग में माउंटेन साइकिलिंग का राष्ट्रीय चैम्पियन बनकर अपने परिवार के साथ नगर एवं प्रदेश को भी गौरवान्वित किया है। बताया गया है कि उत्तराखंड के 21 वर्ष के इतिहास में प्रथम बार साइकिलिंग में पुरुष वर्ग में स्वर्ण पदक प्राप्त हुआ है। देखें विडियो :

उल्लेखनीय है कि शिवांश नगर के सेंट जोजफ कॉलेज में 9वीं कक्षा के छात्र हैं। वह गत वर्ष 2020 में इसी प्रतियोगिता के कांश्य पदक विजेता रहे थे, जबकि इस वर्ष उन्होंने अपना पिछले वर्ष टूटा सपना पूरा किया है।

शिवांश के पिता विवेक साह भारतीय जनता पार्टी के जिला उपाध्यक्ष तथा माता पूजा साह जिला न्यायालय जिला सहायक शासकीय अधिवक्ता-अपराध हैं। उनका छोटा भाई दिव्यांश सेंट जोजफ कॉलेज में ही सातवीं कक्षा का छात्र है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : आज से स्कॉटलेंड में शुरू हो रहे वैश्विक सम्मेलन में उत्तराखंड के भाई-बहन भी पीएम मोदी सहित दुनिया के 197 राष्ट्राध्यक्षों के साथ करेंगे प्रतिभाग

नवीन समाचार, अल्मोड़ा, 31 अक्टूबर 2021। आज 31 अक्तूबर से स्कॉटलैंड के ग्लास्गो शहर में शुरू होने जा रहा संयुक्त राष्ट्र जलवायु सम्मेलन (कॉप-26) उत्तराखंड के लिए भी खास होने जा रहा है। इस वैश्विक सम्मेलन में उत्तराखंड के दो भाई-बहन, अल्मोड़ा में रहने वाले जन्मेजय तिवारी और नैनीताल उच्च न्यायालय की अधिवक्ता स्निग्धा तिवारी भी हिस्सा लेने वाले हैं।

दोनों को इस वैश्विक सम्मेलन में प्रतिनिधि के रूप में यूनाइटेड नेशंस क्लाइमेट चेंज कांफ्रेंस (यूएनएफसीसीसी) ने पंजीकृत किया है। उल्लेखनीय है कि 31 अक्तूबर से 12 नवंबर तक स्कॉटलैंड के ग्लास्गो शहर में होने वाले इस सम्मेलन में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा अमेरिका, फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया सहित दुनिया के 197 राष्ट्रों के राष्ट्राध्यक्ष भी जलवायु परिवर्तन के क्षेत्र में काम कर रहीं संस्थाओं के साथ भाग लेने वाले हैं।

जन्मेजय और स्निग्धा उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष पीसी तिवारी और स्व. मंजू तिवारी के पुत्र-पुत्री हैं। इन दोनों को सम्मेलन के दौरान जलवायु परिवर्तन, पर्यावरण के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाओं के साथ काम के अनुभवों को साझा करने के लिए नामित किया गया है। स्निग्धा इस सम्मेलन के लिए एशिया प्रशांत क्षेत्र के देशों की ओर से ग्लोबल ग्रीन के प्रतिनिधि के रूप में निर्वाचित हुई हैं। जबकि जन्मेजय स्वीडन, ताइवान, लिवरपूल में अनेक वैश्विक सम्मेलनों में भागीदारी कर चुके हैं।

स्निग्धा इस सम्मेलन में आठ नवंबर को ब्रिटेन की हाउस ऑफ लॉर्ड्स की वरिष्ठ सदस्य नताली बैनेट की अध्यक्षता में होने वाली एक महत्वपूर्ण बैठक में हिमालयी क्षेत्रों के प्राकृतिक आपदा एवं अनियोजित विकास पर अपनी अध्ययन रिपोर्ट पेश करेंगी। जबकि जन्मेजय भी इसी दिन जलवायु आंदोलन पर स्थानीय स्तर पर सामुदायिक संगठन की महत्ता पर मेंबर ऑफ यूरोपियन पार्लियामेंट के साथ चर्चा में शामिल रहेंगे। जन्मेजय इससे पहले स्वीडन, ताइवान, लिवरपूल में अनेक वैश्विक सम्मेलनों में भाग ले चुके हैं। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : 7वें नेशनल यूथ गेम्स 2021 में डीएसबी के छात्र ने जीता स्वर्ण

स्वर्ण पदक व प्रमाण पत्र के साथ कुंदन पांडे।

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 23 सितंबर 2021। टेलेंट सर्च एसोसिएशन ऑफ दिल्ली द्वारा नई दिल्ली में 18 से 20 सितंबर तक आयोजित 7वें नेशनल यूथ गेम्स 2021 ताइक्वांडो प्रतियोगिता में डीएसबी परिसर नैनीताल के बैचलर ऑफ फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स साइंसेज के छात्र कुंदन पांडे ने सीनियर वर्ग में गोल्ड मेडल प्राप्त किया है।

इस उपलब्धि के लिए डीएसबी परिसर के निदेशक प्रोफेसर एलएम जोशी, अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रोफेसर डीएस बिष्ट परिसर, प्रॉक्टर प्रो. नीता बोरा शर्मा व शारीरिक शिक्षा विभाग के अध्यक्ष डॉ. संतोष कुमार आदि ने उन्हें इस सफलता पर बधाई दी है, व उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : Exclusive : नैनीताल की बेटी ने फतह की हिमांचल की सबसे ऊंची चोटी, हर्ष की लहर

-डे स्कॉलर के रूप में नगर के सेंट मेरीज से पढ़ी हैं लेफ्टिनेंट कर्नल गीतांजलि, यहां आर्मी सिग्नल कोर में कार्यरत भी रही हैं

मणिरंग चोटी पर तिरंगे और सेना के झंडे के साथ लेफ्टिनेंट कर्नल गीतांजलि भट्ट।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 20 अगस्त 2021। देश की महिला सैनिकों के एक पर्वतारोहण दल ने 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर गत 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश की सबसे ऊंची चोटियों में से एक मणिरंग चोटी पर सफलतापूर्वक चढ़ाई कर तिरंगा फहराने का अनूठा कारनामा कर दिखाया है। रक्षा मंत्रालय की विज्ञप्ति के अनुसार इस अभियान दल का नेतृत्व भारतीय वायु सेना की विंगकमांडर भावना मेहरा ने किया। जबकि दल में लेफ्टिनेंट कर्नल गीतांजलि भट्ट, विंग कमांडर निरुपमा पांडे, विंग कमांडर व्योमिका सिंह, विंग कमांडर ललिता मिश्रा, मेजर उषा कुमारी, मेजर सौम्या शुक्ला, मेजर वीनू मोर, मेजर रचना हुड्डा, लेफ्टिनेंट कमांडर सिनो विल्सन और फ्लाइट लेफ्टिनेंट कोमल पाहुजा शामिल थीं।

2018 में सेंट मेरीज कॉन्वेंट के वार्षिकोत्सव में बतौर मुख्य अतिथि विजेताओं को पुरस्कृत करतीं लेफ्टिनेंट कर्नल गीतांजलि भट्ट।

गौरतलब है कि इनमें से लेफ्टिनेंट कर्नल गीतांजलि भट्ट नैनीताल की हैं। वह 1990 के दौर में डे-स्कॉलर के रूप में 10वीं कक्षा तक नगर के सेंट मेरीज कॉन्वेंट से पढ़ी हैं। वर्ष 2018 में वह विद्यालय के वार्षिक समारोह में बतौर मुख्य अतिथि भी शामिल रही थीं। नगर में सेना के सिग्नल कोर में कार्यरत रही हैं। उनकी माता यहां अध्यापिका थीं। वर्तमान में उनके माता-पिता हल्द्वानी में रहते हैं। उनकी इस उपलब्धि में नगर में उनके परिचितों में हर्ष का माहौल है। सेंट मेरीज में उनके शिक्षक रहे संदीप सिंह, श्री मुकुंद आदि ने उनकी इस उपलब्धि पर हर्ष जताया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बड़ी उपलब्धि : केएमवीएन की शीतल ने यूरोप की सबसे चोटी माउंट एल्ब्रुस फतह कर मनाया देश की आज़ादी का जश्न

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 16 अगस्त 2021। कुमाऊँ मंडल विकास निगम, नैनीताल के एडवेंचर विंग में कार्यरत 25 वर्षीय शीतल ने देश के 75वें स्वतंत्रता दिवस के अमृत महोत्सव के अवसर पर यूरोप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एल्ब्रुस पर तिरंगा लहराकर आजादी का जश्न मनाया। 5642 मीटर ऊंची यह चोटी रूस व जॉर्जिया की सीमा पर स्थित है। उन्होंने क्लाइम्बिंग बियॉन्ड द समिट्स (सीबीटीएस) द्वारा आयोजित चार सदस्यो की टीम का नेतृत्व करते हुए यह उपलब्धि हासिल की। उल्लेखनीय है कि शीतल इससे पूर्व दुनिया की सबसे ऊंची एवरस्ट, भारत की सबसे ऊंची कंचनजंगा और अन्नपूर्णा जैसे दुर्गम पर्वतो को फतह कर चुकी हैं और उसके नाम कंचनजंगा और अन्नपूर्णा को फतह करने वाली दुनिया की सबसे कम उम्र की महिला होने का रिकॉर्ड भी दर्ज है।

उनके अलावा उत्तराखंड पुलिस-एसडीआरएफ के जवान आरक्षी राजेंद्र नाथ ने भी यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलबु्रस में तिरंगा फहराकर इतिहास रचा है। जवान राजेंद नाथ ऐसा करने वाले उत्तराखंड पुलिस के पहले जवान पुलिस कर्मी बन गये हैं।

उनकी यह कारनामा करने वाली टीम में राजस्थान के जुड़वा भाई तपन देव सिंह और तरुण देव सिंह थे और वह एल्ब्रुस फतह करने वाले भारत के पहले जुड़वा भाई बने। दोनों भाई शीतल से ही उत्तराखंड के कुमाऊं हिमालय की दारमा और व्यास घाटी में पर्वतारोहण सीख रहे हैं। आगे उनकी योजना 2023 में माउंट एवरेस्ट अभियान की शुरुआत करने की है। टीम के चौथे सदस्य केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख से जिगमित थरचिन थे जिन्होंने इसी साल माउंट एवेरेस्ट को फतह किया है। वह केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के पहले युवा बने जिन्होंने यूरोप की सबसे ऊंची चोटी को फतह किया है।

शीतल ने बताया कि 15 अगस्त को माउंट एल्ब्रुस को फतह करने के उद्देश्य से टीम ने योजना बनाई थी। अंतिम क्षणों में कोविड महामारी के कारण फ्लाइट रद्द होने के कारण टीम तीन दिन देरी से मास्को पहुंची। इसके बावजूद 13 अगस्त को 3600 मीटर में अपना बेस कैंप बनाया और अगले दिन ही 14 अगस्त की रात को एल्बु्रस को फतह करने के लिए निकले और 15 अगस्त को दिन के 1 बजे एल्ब्रुस की चोटी पर तिरंगा लहराकर आजादी का जश्न मनाया। 48 घंटे के अंदर बेस कैंप से चढ़कर यह कारनामा करना बहुत ही मुश्किल था, और बहुत ही कम लोग ऐसा कर पाते हैं। पर एल्ब्रुस जाने से पहले टीम ने उत्तराखंड के हिमालय में जितना प्रशिक्षण देकर मेहनत की थी, उसका ही नतीजा है कि टीम रिकॉर्ड समय पर यह कारनामा कर पायी। उल्लेखनीय है कि एल्ब्रुस पर्वत कॉकस पर्वत शृंखला में स्थित एक सुप्त ज्वालामुखी है। इसके पश्चिमी शिखर 5642 मीटर और पूर्वी शिखर 5621 मीटर ऊंचे है।

एवरेस्ट विजेता और सीबीटीएस के संस्थापक योगेश गर्ब्याल ने बताया कि शीतल बहुत ही गरीब परिवार से हैं। उसके पिता पिथौरागढ़ में लोकल टैक्सी चलाकर परिवार का पालन पोषण करते हैं। शीतल की पर्वतारोहण की छमता और उनके प्रतिभा को देखकर विभिन्न संस्थाओं ने आगे आकर सहयोग किया। इसी साल शीतल को ‘द हंस फाउंडेशन’ ने दुनिया की सबसे खतरनाक माने जाने वाली चोटी अन्नपूर्णा के लिए स्पोंसर किया था। आगे शीतल का लक्ष्य है कि वो दुनिया की 8000 मीटर से ऊंची 14 सबसे ऊंची और दुनिया के सातों महाद्वीपों की ऊँचे चोटियों पर देश का झंडा फहराए। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल के छात्र ने सीडीएस परीक्षा में पाया देश में दूसरा स्थान

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 1 अगस्त 2021। नैनीताल जनपद के ज्योलीकोट के नाम एक नई उपलब्धि दर्ज हुई है। समीपवर्ती ग्राम गांजा निवासी महेंद्र सिंह कोटलिया के पुत्र हिमांशु सिंह ने देश की प्रतिष्ठित सीडीएस की मुख्य तकनीकी परीक्षा में देश में दूसरा स्थान प्राप्त कर क्षेत्र और प्रदेश का सम्मान बढ़ाया है। उसकी इस सफलता पर जनप्रतिनिधियों, स्थानीय लोगों व संगठनों ने हर्ष व्यक्त किया है।

सीडीएस परीक्षा में देश में दूसरा स्थान प्राप्त करने वाले हिमांशु कोटलिया।

हिमांशु वर्तमान में मेरठ में रहते हैं, उनकी पढ़ाई मेरठ में ही हुई है। बीटेक करने के बाद उसने इस परीक्षा की तैयारी की और प्रतियोगिता में अपना परचम लहराते हुए मुख्य परीक्षा (टेक्नीकल) में पूरे देश में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। हिमांशु के पिता महेंद्र सिंह कोटलिया इंश्योरेंस कंपनी में कार्यरत है जबकि माता नीलम कोटलिया गृहणी है। हिमांशु ने अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता, शिक्षकों और परिजनों को दिया है।

उनकी इस उपलब्धि पर विधायक संजीव आर्य, पूर्व विधायक डॉ. नारायण जंतवाल, ब्लॉक प्रमुख डॉ. हरीश बिष्ट, जिला पंचायत सदस्य गीता बिष्ट, लेखा भट्ट, प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष जया बिष्ट, सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. ललित जोशी, हरीश अधिकारी, सुरेंद्र कोटलिया, ज्येष्ठ प्रमुख हिमांशु पांडे, भवाली नगर पालिका के अध्यक्ष संजय वर्मा, भुवनेश्वर रावत, बिरेंद्र जोशी, जितेंद्र पाठक, पवन बिष्ट, मनोज चनियाल, हरगोविंद रावत, कैलाश जोशी व पुष्कर जोशी सहित ग्राम प्रधानों व कई संगठनों ने हर्ष व्यक्त किया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : कुमाऊं विश्वविद्यालय के प्रो. बिष्ट को मिलेगा ‘इंडो एशियन विशिष्ट वैज्ञानिक पुरस्कार’

-आगामी 15 जुलाई को विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर ऑनलाइन प्रदान किया जाएगा

प्रो. सतपाल सिंह बिष्ट

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 1 जुलाई 2021। आंध्र प्रदेेश सरकार तथा भारत सरकार के नीति आयोग द्वारा स्थापित आईएमआरएफ उच्च शिक्षा एवं शोध संस्थान विजयवाड़ा के द्वारा कुमाऊं विश्वविद्यालय के डीएसबी परिसर के जंतु विज्ञान विभाग के प्रोफेसर सतपाल सिंह बिष्ट को ‘इंडो एशियन विशिष्ट वैज्ञानिक पुरस्कार-2021’ के लिए चुना गया है। उन्हें यह अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार आगामी 15 जुलाई को विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर जैव प्रौद्योगिकी में उनके द्वारा किए गए विशिष्ट कार्यों के लिए ऑनलाइन माध्यम से प्रदान किया जाएगा। बताया गया है कि प्रो. बिष्ट का इस पुरस्कार के लिए चयन उनके द्वारा भारत, जापान एवं अमेरिका में किए गए शोध कार्यों के आधार पर हुआ है।
बताया गया है कि आईएमआरएफ में शिक्षकों को उनकी व्यवसायिकता व सर्वोत्तम प्रतिबद्धता के लिए सम्मानित करने की प्रथा है। इसी कड़ी में ‘इंडो एशियन विशिष्ट वैज्ञानिक पुरस्कार’ शिक्षाविदों और अनुसंधान प्रकाशन के अभ्यास और अनुकरणीय मानकों के साथ प्रतिष्ठित शैक्षणिक विषयों में बौद्धिक शालीनता व उत्कृष्टता के क्षेत्र में दिया जाता है। यह पुरस्कार अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार के रूप में मान्यता प्राप्त है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : 14 स्काउट गाइड बने स्टेट चैंपियन…

नवीन समाचार, नैनीताल, 22 मई 2021। ‘यूनाइटेड नेशंस एनवायरमेंट प्रोग्राम’ के तहत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चलाए जा रहे ‘प्लास्टिक टाइड टर्नर्स चैलेंज-पीटीटीसी’ के तहत भारत स्काउट एवं गाइड द्वारा देश भर में स्काउट गाइड के माध्यम से एक जागरूकता कार्यक्रम चलाते हुए पर्यावरण संरक्षण की अनूठी पहल की जा रही है।
इसी कड़ी में उत्तराखंड भारत स्काउट एवं गाइड द्वारा पीटीटीसी कार्यक्रम को सफलतापूर्वक संचालित किए जाने हेतु नैनीताल की दीपा पांडे एवं कमलेश सती को राज्य समन्वयक बनाया गया है। राज्य समन्वयक दीपा पांडे ने बताया की विश्व जैव विविधता दिवस पर उत्तराखंड से 14 प्रतिभागियों-टिहरी की गाइड कैप्टन अनीता उनियाल, अल्मोड़ा की गाइडर ज्योति नौला, चंपावत की गाइडर चंद्रा पाण्डे, चंपावत के स्काउटर विपिन चंद्र उप्रेती सहित विद्यार्थियों में नैनीताल की गाइड संस्कृति पांडे, स्काउट श्रेष्ठ सिंह, देहरादून की रेंजर प्रियंका राजपूत, आयुषी श्रीवास्तव, अनुराधा भंडारी, विनीता रावत, पूर्वा शुक्ला, निकिता भंडारी, प्रतिभा पांडे व प्रियंका ग्वाडी ने चैंपियन लेवल पूर्ण करने में सफलता प्राप्त की है। वहीं राज्य समन्वयक कमलेश सती के अनुसार इस अन्तर्राष्ट्रीय अभियान में अभी तक उत्तराखण्ड से 127 प्रतिभागियों का नामांकन हो चुका है, एवम पंजीकरण हेतु साइट 31 मई तक खुली है।

यह भी पढ़ें : उपलब्धि : जिला पंचायत सदस्य भाजपा नेता ने पूरी की पीएचडी

नवीन समाचार, नैनीताल, 15 अप्रैल 2021। जनपद के जिला पंचायत सदस्य एवं भाजपा नेता दीपक मेलकानी ने कुमाऊं विश्वविद्यालय के जंतु विज्ञान विभाग के शोध छात्र के रूप में पीएचडी की उपाधि हेतु मौखिकी परीक्षा उत्तीर्ण कर ली है। दीपक ने अपना शोध प्रो. सतपाल बिष्ट के निर्देशन में कुमाऊं मंडल के जनजातीय एवं सामान्य समाज में खून की कमी की सिकल सेल की आनुवांशिक बीमारी पर किया है। पिछले चार वर्ष में किए गए इस शोध के दौरान दीपक के शोध पत्र एक अंतराष्ट्रीय एवं दो राष्ट्रीय विज्ञान सम्मेलनों में प्र्रस्तुत और चार शोध पत्र राष्ट्रीय और अंतर राष्ट्रीय शोध पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं और वे एक सम्मेलन में यंग साइंटिस्ट पुरस्कार भी प्राप्त कर चुके हैं। वे पूर्व में कुमाऊं विश्वविद्यालय छात्र महासंघ के अध्यक्ष भी रह चुके हैं।

यह भी पढ़ें : भौतिकी में प्रभावी वैकल्पिक सिद्धांत देने वाले वैज्ञानिकों में शामिल हुआ कुमाऊं विवि के प्रोफेसर चंदोला का नाम

नवीन समाचार, नैनीताल, 10 अप्रैल 2021। कुमाऊं विवि के भौतिकी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. एचसी चंदोला के नाम एक उपलब्धि जुड़ी है। प्रो. चंदोला को भौतिकी में प्रचलित सिद्धांतों के प्रभावी वैकल्पिक सिद्धांत देने वाले वैज्ञानिकों की सूची में शामिल किया गया है।

प्रो. चंदोला ने बताया कि कि उन्होंने हिग्स बोसोन कणों की बहुचर्चित बिग बैंग थ्योरी देने वाली स्विटजरलेंड की सर्न लेबोरेटरी में भी कार्य किया है, जिसमें कहा गया था कि हिग्स बोसोन कण किसी भी पदार्थ को द्रव्यमान देने के लिए जिम्मेदार हैं। इसके इतर प्रो. चंदोला ने वर्ष 1993 में वैकल्पिक सिद्धांत दिया था कि किसी भी पदार्थ में द्रव्यमान उसके अणुओं में मौजूद इलेक्ट्रॉन, प्रोटॉन, न्यूट्रान क्वार्कों के आंतरिक स्पंदन की वजह से आता है।

इस वैकल्पिक सिद्धांत को देने के लिए ही उनका नाम प्रतिष्ठित शोध पत्रिका फिजिक्स लेटर्स ने प्रकाशित करते हुए दुनिया के भौतिकी में प्रचलित सिद्धांतों के प्रभावी वैकल्पिक सिद्धांत देने वाले वैज्ञानिकों की सूची में शामिल किया गया है। उल्लेखनीय है कि प्रो. चंदोला पूर्व में जर्मनी की ओर से डीएएडी, बैल्जियम की ओर से सीईसी व सीईआरएच तथा स्विटजरलैंड के कोलोटेडो विवि की ओर से अतिथि वैज्ञानिक व शोध वृत्तियों से सम्मानित हो चुके हैं।

यह भी पढ़ें : कुमाऊं विश्वविद्यालय की दो छात्राओं को मिली 10-10 लाख रुपए की फेलोशिप…

नवीन समाचार, नैनीताल, 01 अप्रैल 2021। कुमाऊं विश्वविद्यालय के वनस्पति विज्ञान विभाग की शोधार्थी सौम्या अग्निहोत्री तथा प्रीति डोभाल को विकासशील देशों की अनुसंधान एवं सूचना प्रणाली नई दिल्ली से 10-10 लाख रुपए की फेलोशिप प्राप्त हुई है। फेलोशिप दो वर्षों के लिए होगी तथा प्रतिवर्ष पांच लाख रुपये मिलेंगे। इस आशय का पत्र संस्थान के निदेशक डॉ. महेश चंद्र अरोरा की ओर से दोनों शोधार्थियों को जारी किया गया है। उल्लेखनीय है कि सौम्या एवं प्रीति वनस्पति विज्ञान विभाग की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. सुषमा टम्टा के निर्देशन में शोध कार्य कर रही हैं।

सौम्या अग्निहोत्री ‘ट्रेड एंड मैनेजमेंट ऑफ ट्रेडिशनल मेडिसिनल प्लांट इन रूप रीजन्स ऑफ पिथौरागढ़ डिस्ट्रिक’ विषय पर तथा प्रीति डोभाल ‘वैल्यू चेन एनालिसिस ऑफ रॉ मैटेरियल यूज्ड इन सोया रिगपा ट्रेडिशनल सिस्टम’ विषय पर शोध कार्य कर रहीं हैं। उनकी इस उपलब्धि पर प्रो. एलएम जोशी, शोध निदेशक प्रो. ललित तिवारी, संयुक्त निदेशक डॉ. आशीष तिवारी, डॉ. महेश आर्या, संकायाध्यक्ष प्रो.सुरेश चंद्र सती,प्रो. वाई. एस.रावत,प्रो. एस. एस. बर्गली, डॉ. किरन बर्गली, डॉ.नीलू लोधियाल, डॉ.अनिल बिष्ट, डॉ. कपिल खुल्बे, डॉ. हर्ष चौहान, डॉ. प्रभा पंत, डॉ. नवीन पंत सहित कूटा के डॉ. सुचेतन साह, डॉ. विजय कुमार,डॉ. सुहेल जावेद, डॉ. दीपिका गोस्वामी, डॉ. दीपक कुमार, डॉ. प्रदीप कुमार, डॉ. गगन होती, डॉ. रीतेश साह, डॉ. सीमा चौहान, डॉ. पैनी जोशी तथा डॉ.मनोज धोनी ने बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं।

यह भी पढ़ें : कुमाऊं विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र बने भारतीय भूगर्भ विज्ञान सर्वेक्षण संस्थान के नए महानिदेशक

नवीन समाचार, नैनीताल, 31 मार्च 2021। कुमाऊं विश्वविद्यालय के मुख्यालय स्थित डीएसबी परिसर के पूर्व छात्र राजेंद्र सिंह गर्खाल को जीएसआई यानी भारतीय भूगर्भ विज्ञान सर्वेक्षण संस्थान का महानिदेशक नियुक्त किया गया है। भारत सरकार के खान मंत्रालय ने राष्ट्रपति की अनुशंसा पर श्री गर्खाल को तत्काल जीएसआई के महानिदेशक के पद का कार्यभार ग्रहण करने के आदेश जारी किए हैं।

जीएसआई के नवनियुक्त महानिदेशक डॉ. राजेंद्र सिंह गर्खाल।

उल्लेखनीय है कि श्री गर्खाल उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल के पिथौरागढ़ जनपद के सीमांत क्षेत्र के मूल निवासी हैं। उन्होंने 1983 मं डीएसबी परिसर के भूगर्भ विभाग से एमएससी की थी। वह इस पद पर पहुंचने वाले कुमाऊं मंडल के पहले व्यक्ति हैं। इससे पूर्व श्री गर्खाल जीएसआई में अपर महानिदेशक के पद पर कार्यरत रहे हैं। उनके इस पर नियुक्त होने पर कुमाऊं विश्वविद्यालय में खुशी की लहर है। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एनके जोशी, डीएसबी परिसर निदेशक प्रो. एलएम जोशी, डॉ. युगल जोशी एवं कूटा यानी कुमाऊं विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के अध्यक्ष प्रो. ललित तिवारी, डॉ. सुचेतन साह, डॉ. विजय कुमार, डॉ. सोहेल जावेद, डॉ. दीपक कुमार, डॉ. दीपिका, डॉ. प्रदीप व डॉ. रितेश साह आदि ने उन्हें बधाई प्रेषित की है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल के नन्हे शिवांश ने कर्नाटक में साइकिलिंग में हासिल की बड़ी उपलब्धि

नवीन समाचार, नैनीताल, 22 फरवरी 2021। नैनीताल के मात्र 12 वर्ष के शिवांश साह ने कर्नाटक में साइकिलिंग में बड़ी उपलब्धि हासिल की है। कर्नाटक के गदग नाम के स्थान पर आयोजित 17वें राष्ट्रीय माउण्टेन बाइक साइकिलिंग प्रतियोगिता में शिवांश ने उत्तराखंड राज्य का प्रतिनिधित्व करते हुए युवा वर्ग की 15 किलोमीटर की स्पर्धा में कांस्य पदक प्राप्त किया है। अपने वर्ग में पदक प्राप्त करने वालों में शिवांश सबसे कम उम्र के साइकिलिस्ट हैं।

उल्लेखनीय है कि शिवांश नैनीताल निवासी भाजपा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष विवेक साह एवं सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता पूजा साह के पुत्र हैं। वह नगर के सेंट जोसफ कॉलेज में नौवीं कक्षा के छात्र हैं और पिछले पांच वर्षों से साइकिल चला रहे हैं। उल्लेखनीय है कि इस प्रतियोगिता में उत्तराखंड के रजत पांडे ने भी 23 किलोमीटर की स्पर्धा में कांश्य पदक प्राप्त किया है।

 

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

One Reply to “उपलब्धि : गुजरात में शुरू हुए राष्ट्रीय खेलों में उत्तराखंड की बॉक्सिंग कोच के रूप में शामिल होंगी नैनीताल की पुष्पा

Leave a Reply