News

सुबह-सुबह शराब के नशे में धुत मिले डॉक्टर साहब, वीडियो वायरल हुआ तो नौकरी से बर्खास्त

नवीन समाचार, देहरादून, 31 अक्तूबर 2022। राजधानी देहरादून के रायपुर अस्पताल की इमरजेंसी में तैनात एक चिकित्सक को नशे की अवस्था में लड़खड़ाते हुए वीडियो सामने आने के बाद नौकरी से हटा दिया गया। ऐसा इसलिए भी हो पाया कि बुजुर्ग चिकित्सक संविदा पर कार्यरत थे। इस पर उनका अनुबंध निरस्त कर दिया गया है। यह भी पढ़ें : नैनीताल : पैराग्लाइडिंग के दौरान साल का तीसरा हादसा, गई एक सैलानी की जान देखें शराबी चिकित्सक का पूरा वीडियो:

बताया गया है कि एक मरीज को 108 की मदद से इस चिकित्सालय में लाया गया था, लेकिन उसे उपचार नहीं मिला। इस पर मरीज के तीमारदारों ने जब चिकित्सक से बात की तो वह नशे में धुत्त हो लड़खड़ाते हुए नजर आए। उनका कहना था कि अस्पताल छोटा है। यहां विशेषज्ञ सुविधाएं नहीं मिल सकतीं। जिसने मरीज को भर्ती किया, वह बेवकूफ है। इस पूरी घटना का तीमारदारों ने वीडियो बना लिया। वीडियो रविवार सुबह का बताया जा रहा है। यह भी पढ़ें : नैनीताल: 2 पिकअप में ठूंस कर ले जाये जा रहे 11 गौवंशीय पशु मुक्त कराए, तीन पशु तश्कर गिरफ्तार

वीडियो वायरल होने और इसमें विभागीय फजीहत होने के बाद स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया। चिकित्सालय के सीएमएस डा. प्रताप सिंह रावत ने बताया कि शराब के नशे में धुत्त डॉक्टर स्वास्थ्य विभाग से सेवानिवृत्त होने के बाद अब संविदा पर तैनात हैं। मरीज एवं चिकित्सक की स्थिति के बारे में सभी दस्तावेज खंगाले एवं कर्मचारियों से पूछताछ की जा रही है। इस सम्बंध में उच्चाधिकारियों को अवगत कराया गया है व पूरी रिपोर्ट भेज कर उच्चाधिकारियों को अवगत कराया जा रहा है। यह भी पढ़ें : श्रीराम सेवक सभा की 15 सदस्यीय कार्यकारिणी के लिए पहले दिन हुए 16 नामांकन

वहीं आगे वायरल वीडियो का संज्ञान लेते हुए स्वास्थ्य विभाग ने उनकी सेवाएं समाप्त कर दी हैं। जारी आदेश में कहा गया है कि विभिन्न सोशल मीडिया माध्यमों से सज्ञान में आया है कि चिकित्सक के द्वारा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तराखण्ड के अन्तर्गत सीएचसी रायपुर जनपद देहरादून में अपनी तैनाती के दौरान दिनांक 30.10.2022 को नशे की हालत (सम्भवतः मदिरा) में ड्यूटी की गयी। ऐसा करना चिकित्सकीय लापरवाही को दर्शाता है, जो कि खेद का विषय है। यह भी पढ़ें : नैनीताल : सरोवरनगरी में गीत-संगीत व नृत्य प्रतियोगिताओं की रही धूम, जीते पुरस्कार…

एक चिकित्सक के द्वारा अपनी ड्यूटी के समय नशे की हालत में मरीजों को देखना अपने कर्तव्यों का उल्लंघन है एवं मरीजों को जान-माल का खतरा भी उत्पन्न हो सकता है। चिकित्सक की इस कार्यप्रणाली से स्वास्थ्य विभाग की छवि धूमिल हो रही है एवं आम जनमानस पर स्वास्थ्य विभाग की छवि पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ना भी स्वाभाविक है। इसलिए इस प्रकरण का संज्ञान लेते अनुबंध की शर्त संख्या 15 एवं 25 के प्राविधानों के अनुसार चिकित्सक की सेवायें तत्काल प्रभाव से समाप्त की जाती हैं। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नई महिला कप्तान के आते ही अंकिता के तीनों हत्यारोपितों की मुश्किलें बढ़ीं, हुई बड़ी कार्रवाई…

-आरोपितों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत की गयी कार्रवाई
नवीन समाचार, ऋषिकेश, 30 अक्टूबर 200। जनपद पौड़ी गढ़वाल की नवनियुक्त पुलिस कप्तान नए जिले का कार्यभार संभालते ही पिछले डेढ़ माह से जनपद पौड़ी गढ़वाल के लक्ष्मणझूला क्षेत्र के अंतर्गत वनन्तरा रिसॉर्ट में कार्यरत रिसेप्शनिस्ट अंकिता हत्याकांड मामले में आरोपितों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए गैंगस्टर एक्ट मैं मुकदमा कायम करा दिया है। यह भी पढ़ें : अचानक शव मिलने से सनसनी

नवागत वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद पौड़ी गढ़वाल श्वेता चौबे ने उक्त मामले में तत्परता दिखाते हुए सम्बन्धित क्षेत्राधिकारी एवं प्रभारी निरीक्षक लक्ष्मणझूला को अभियुक्तों के विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट के तहत अभियोग पंजीकृत कर वैधानिक कार्रवाई हेतु निर्देशित किया गया था। वर्तमान में अंकिता मर्डर से सम्बन्धित अभियोग की विवेचना एसआईटी द्वारा जांच की जा रही है, जो वर्तमान में विवेचनाधीन है। यह भी पढ़ें : उत्तराखंड-बड़ा समाचार : कूड़ा बीनने वाली निकली विदेशी आतंकी की पत्नी

आरोपित गैंग लीडर पुलकित आर्य गैंग सदस्य सौरभ एवं अंकित द्वारा अपने होटलध्रिजोर्ट में व उसके आसपास के क्षेत्र में असामाजिक कृत्य कर अनैतिक व्यापार जैसे अपराधों में संलिप्त होकर अवैध रूप से धन अर्जित कर समाज विरोधी क्रियाकलाप में संलिप्त होकर क्षेत्र में जघन्य अपराध कारित करने की घटना को अंजाम देकर लोक शान्ति व्यवस्था को अस्त-व्यस्त किया गया। यह भी पढ़ें : नैनीताल : पत्नी रूठ कर मायके आई तो पति ने कर दिया हंगामा, गिरफ्तार…

इस मामले की एसआईटी टीम ने डीआईजी पी रेणुका देवी के नेतृत्व में पारदर्शिता से विवेचना की जा रही हैै। पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार के दिशा-निर्देशन में इस हत्याकांड की लगातार मॉनिटरिंग की जा रही है। यह भी पढ़ें : दिल्ली की कुमाऊं गली में रहने वाले 17 वर्षीय किशोर की बहन से छेड़छाड़ का विरोध करने पर चाकुओं से गोंदकर हत्या

उल्लेखनीय है कि गत 21 सितंबर को 19 वर्षीय अंकिता भण्डारी पुत्री वीरेन्द्र सिंह भण्डारी, निवासी ग्राम श्रीकोट, पट्टी नादलस्यूँ तहसील पौड़ी की गुमशुदगी के आधार पर राजस्व पुलिस चौकी उदयपुर तल्ला-2, तहसील यमकेश्वर में अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत किया गया था। अभियोग की गम्भीरता को देखते हुए जिलाधिकारी पौड़ी गढ़वाल ने विवेचना राजस्व पुलिस से रेगुलर पुलिस को 22 सितंबर को हस्तान्तरित कर पुलिस ने सम्बंधित अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : Big Breaking : अंकिता हत्याकांड पर पटवारी वैभव निलंबित

अंकिता भंडारी हत्याकांड: वरिष्ठ भाजपा नेता के बेटे सहित तीन गिरफ्तार, ऐसे  की हत्या - News129नवीन समाचार, काशीपुर, 27 सितंबर 2022। अंकिता हत्याकांड में शासन ने मंगलवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए पटवारी वैभव प्रताप सिंह को आज शासन ने निलंबित कर दिया है। उस पर आरोप है कि उसे अंकिता के गायब होने की पहले से जानकारी थी, लेकिन उसने कार्रवाई नहीं की, और उच्चाधिकारियों को भी जानकारी नहीं दी तथा खुद चार दिन की छुट्टी पर चला गया।

उस पर घटना के चार दिन बाद अंकिता की गुमशुदगी दर्ज करने और रिजॉर्ट मालिक हत्यारोपित से संबंधों का भी आरोप है। मामले में शुरू से ही पटवारी की भूमिका पर सवाल उठ रहे थे। लोग लगातार पटवारी को हटाए जाने और इस पूरे मामले में पटवारी की भूमिका को लेकर भी जांच करने की मांग कर रहे थे। अब जिलाधिकारी विजय कुमार जोगदण्डे ने जांच में पटवारी की भूमिका को देखते हुए उसे आज निलंबित कर दिया है।

उधर, वैभव का कहना है कि उसने मामले में कहीं भी लापरवाही नहीं बरती है। बल्कि, जब वह छुट्टी पर जा रहा था तो उसने तहसीलदार को इस मामले की पूरी जानकारी दी थी। यहां तक की विवेक को भी चार्ज सौंपने से पहले वह पूरी बात बताकर गया था। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पुलिस क्षेत्राधिकारी साह को भारी पड़ी सोशल मीडिया पर राजनीतिक टिप्पणियां, स्थानांतरित किए गए

May be an image of 1 person and standingनवीन समाचार, हल्द्वानी, 26 सितंबर 2022। भवाली के पुलिस क्षेत्राधिकारी प्रमोद साह का स्थानांतरण मुख्यालय स्तर से चमोली जिले के गोपेश्वर के लिए कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि डीजीपी के हस्तक्षेप पर उन्हें न केवल स्थानांतरित किया गया है, बल्कि उनसे स्पष्टीकरण भी मांगा गया है।

चर्चा है कि साह को सोशल मीडिया पर राजनीतिक बयानबाजी करना भारी पड़ा है। इस कारण ही उनके खिलाफ कार्रवाई की गई है। बताया जा रहा है कि उन्होंने पिछले दिनों कांग्रेस पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को लेकर एक पोस्ट की थी। जिसमें वह राहुल गांधी का सर्मथन करते दिख रहे थे। इस पोस्ट को हालांकि अब हटा दिया गया है। बताया जा रहा है कि कुछ भाजपा नेताओं के माध्यम से यह मामला पुलिस महानिरीक्षण अशोक कुमार तक पहुंच गया था।

माना जा रहा है कि इस पोस्ट को अनुशासनहीनता मानते हुए उन्हें भवाली से हटाकर चमोली जिले के गोपेश्वर के लिए स्थानांतरित कर दिया गया है, साथ ही स्पष्टीकरण मांगा गया है। एसएसपी पंकज भट्ट की ओर से बताया गया है कि सीओ प्रमोद साह को मुख्यालय स्तर से ही चमोली जिले में भेजा गया है। उल्लेखनीय है कि सेवाकाल के दौरान राजनीतिक बयानबाजी पुलिस नियमावली के अनुसार अनुशासनहीनता के दायरे में है। ऐसे अनुशासनहीन कर्मियों पर विभाग सख्त कार्रवाई कर सकता है।

गौरतलब है कि सीओ प्रमोद साह की सोशल मीडिया वॉल पर अभी भी कई राजनीतिक संदेश देती पोस्ट्स नजर आ रही हैं। बीते 16 सितंबर को सीएम पुष्कर सिंह धामी को उनके 48वें जन्मदिन पर बधाई देते हुए लिखी गई पोस्ट में तंज कसते नजर आ रहे हैं कि 22 साल के उत्तराखंड का नेतृत्व 47 वर्ष के युवा को दे दिया गया है। इसके अलावा ब्रिटेन में भारतीय मूल के ऋषि सुनक के प्रधानमंत्री न बन पाने को लेकर वह कहीं न कहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते नजर आ रहे हैं। देखें श्री साह की दोनों पोस्ट्स: https://www.facebook.com/100000067377967/posts/pfbid02jxkw3KrJZE4ncLiDd7H6PHGAtpwSasqabKdS8xnzzpNKtZB5LwwxFxQ2EqpZ1M2dl/

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=pfbid02HWaHQFLLpXZsARP8gaSmzws8UJCAJk66SZfYNT1inbWY51epkEkcRoP8axCETvxKl&id=100002032394787 (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : अंकिता के हत्यारे के पिता व भाई पर भी गिरी सरकार व पार्टी की गाज, अब राज्य के सभी रिजॉर्टों की जांच के भी आदेश

नवीन समाचार, देहरादून, 24 सितंबर 2022। अंकिता हत्याकांड में भाजपा एवं राज्य सरकार ने अपना कड़ा रुख बरकरार रखा है। राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर आरोपित पुलकित आर्य के भाई, उत्तराखण्ड अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग में नामित उपाध्यक्ष अंकित आर्य पुत्र विनोद आर्य निवासी स्वदेशी भवन, आर्य नगर, हरिद्वार को तत्काल प्रभाव से पदमुक्त कर दिया है। प्रमुख सचिवएल फैनई ने इसका आदेश जारी कर दिया है। आदेश के क्रम में अंकित आर्य को अनुमन्य सुविधाऐं भी तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दी गई है।

यह भी पढ़ें : धामी सरकार ने भाजपा के ही पूर्व दायित्वधारी के पुत्र के रिजॉर्ट पर चलाया बुल्डोजर

यह भी पढ़ें : बिग ब्रेकिंग: अंकिता हत्याकांड की आंच नैनीताल तक: 5 होटल-रिजॉर्ट्स के खिलाफ कार्रवाई

दूसरी ओर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट आरोपित के पिता डॉ. विनोद आर्य व भाई डा. अंकित आर्य को तत्काल प्रभाव से भाजपा से निष्कासित कर दिया है। प्रदेश महामंत्री राजेंद्र बिष्ट की ओर से बिना देरी किए इस संबंध में आदेश जारी हो गए हैं।
दूसरी ओर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इस घटना से सबक लेते हुए उत्तराखंड के समस्त रिजार्टों की जाँच करने के निर्देश जिलाधिकारियों को दिए हैं।

यह भी पढ़ें : 5 दिनों से गायब 19 वर्षीया रिसेप्सनिस्ट की कर दी गई हत्या, मुख्य आरोपित नेता पुत्र

यह भी पढ़ें : रिजॉर्ट की महिला रिसेप्सनिस्ट गायब, पूरा रिजॉर्ट सील, 4 कर्मी हिरासत में

जिलाधिकारियों को जो रिजार्ट अवैध बने हैं या अवैधानिक रूप से संचालित हैं उनके विरुद्ध तत्काल आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करने को कहा गया है। आदेश में प्रदेश भर में स्थित होटल, रिजार्ट व गेस्ट हाउस आदि में कार्य करने वाले कर्मचारियों से भी उनकी स्थिति के बारे में जानकारी प्राप्त करने को और शिकायतों को गम्भीरता से लेने को कहा गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : शिविर में अनुपस्थित तीन अधिकारियो का वेतन रोकने और निर्माणों में गड़बड़ी पर जांच के आदेश

दान सिंह लोधियाल @ नवीन समाचार, धानाचूली, 27 मई 2022। शुक्रवार को जनपद की धारी तहसील मुख्यालय से लगभग 100 किमी दूर राजकीय प्राथमिक विद्यालय हरीशताल में एसडीएम धारी योगेश मेहरा की अध्यक्षता में जनता दरबार का आयोजन किया गया। शिविर में तीन विभागों के अधिकारी अनुपस्थित रहे। एसडीएम धारी ने उनसे स्पष्टीकरण मांगते हुए उनका वेतन रोकने के निर्देश दिए हैं।

एसडीएम योगेश मेहरा ने बताया कि ओखलकांडा के दूरस्थ क्षेत्र हरीश ताल में ग्रामीणों की समस्याओं का समाधान के लिए एक जनता दरबार लगाया गया। शिविर में ग्रामीणों ने हरीशताल के सौंदर्यीकरण कार्य में हुई गड़बड़ी की जांच के अलावा पीएमजीएसवाई की निर्माणाधीन खस्ताहाल सड़क के मुद्दे को प्रमुखता से उठाया। इन दोनों मामलो में जांच कर कार्यवाही के निर्देश दिए गए हैं। शिविर में विद्युत, पशुपालन एवं वन विभाग के अधिकारी सूचना देने के बाद भी मौके पर नहीं पहुंचे थे। इसे गंभीरता से लेते हुए सहायक अभियंता विद्युत वितरण खंड ओखलकांडा, पशु चिकित्सा अधिकारी ओखलकांडा एवं वन क्षेत्राधिकारी का स्पष्टीकरण प्राप्त ना होने तक वेतन रोकने के निर्देश दिए।

बताया गया है कि शिविर में बिजली, पानी, सड़क, स्वास्थ्य व शिक्षा आदि की 32 शिकायतें दर्ज हुईं। इनमें से अधिकांश का मौके पर ही समाधान किया गया। शिविर में तहसीलदार धारी तान्या रजवार, खंड विकास अधिकारी ओखलकांडा आरसी भट्ट, ब्लाक चिकित्सा प्रभारी डॉ. एसपी सिंह, एडीओ पंचायत, जल संस्थान एवं ग्राम प्रधान संगठन अध्यक्ष सहित हरीशताल एवं कई ग्रामप्रधानों के अलावा अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल : कोविड कर्फ्यू में शाम पांच बजे खुले रेस्टोरेंट के स्वामी व मौजूद 5 ग्राहकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज..

डॉ.नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 27 मई 2021। नैनीताल-हल्द्वानी राष्ट्रीय राजमार्ग 87 पर आमपड़ाव के एक रेस्टोरेंट स्वामी एवं यहां खाने-पीने का आनंद ले रहे 5 लोगों को कोविड कर्फ्यू एवं सामाजिक दूरी न बरतने जैसे नियमों का उल्लंघन करते हुए रेस्टोरेंट खोलकर भीड़ एकत्र करना भारी पड़ गया। तल्लीताल थाने के अंतर्गत ज्योलीकोट चौकी पुलिस के अनुसार कोविड कर्फ्यू लागू रहने के बावजूद यहां शाम पांच बजे रेस्टोरेंट में 5 ग्राहक मौजूद मिले। इस पर पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए रेस्टोरेंट स्वामी पंकज जीना पुत्र उमेद सिंह निवासी चोपड़ा तथा अन्य पांचों ग्राहकों के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 269, 270, 188, 3/4 महामारी अधिनियम तथा 51 ख आपदा प्रबंधन अधिनियम में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : क्वारन्टाइन सेंटर में अनुपस्थित शिक्षिका का जवाब तलब

नवीन समाचार, नैनीताल, 02 जून 2020। जनपद के कोश्यां कुटौली की एसडीएम ऋचा सिंह ने डीएम के आदेशों पर अपने क्षेत्र के राजकीय इण्टर कालेज ढोकाने व राजकीय आदर्श प्राथमिक विद्यालय काकडीघाट में बने क्वारन्टाइन सेंटरों का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण में काकडीघाट के क्वारन्टाइन सेंटर में 6 और ढोकाने में 11 व्यक्ति क्वांरटीन किये मिले, किंतु काकड़ीघाट में तैनात अध्यापिका अनुपस्थित पायी गयी जिसका एसडीएम ने स्पष्टीकरण तलब कर लिया है।
एसडीएम सिंह ने बताा कि निरीक्षण के दौरान क्वारंटीन सेंटरो में साफ-सफाई व सभी मूलभूत आवश्यकताएं जैसे खाद्यान, पेयजल, विद्युत आपूर्ति पर्याप्त व सुचारू पायी गयी। यहां रह रहे लोगों ने भोजन व्यवस्था व अन्य सुविधाओं में भी किसी प्रकार की संमस्या नही होने की बात कही। उन्होंने राजस्व उपनिरीक्षक को सेंटरों का नियमित भ्रमण कर सभी व्यवस्थाएं बनाये रखने के निर्देश दिये। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave a Reply