News

उत्तराखंड : वरिष्ठ महिला अधिकारी ने विभागीय सचिव-वरिष्ठ आईएएस अधिकारी पर लगाए चारित्रिक व मानसिक उत्पीड़न के आरोप…

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

-अपने प्रिय ठेकेदार को निविदा न देने पर उत्पीड़न करने का आरोप लगाया
नवीन समाचार, देहरादून, 23 फरवरी 2021। उत्तराखंड में कार्यरत एक निदेशक स्तर की वरिष्ठ महिला अधिकारी ने अपने विभागय सचिव -वरिष्ठ आईएएस अधिकारी पर चारित्रिक व मानसिक उत्पीड़न करने का बड़ा आरोप लगा कर सनसनी मचा दी है। संस्कृति विभाग की निदेशक बीना भट्ट ने अपर मुख्य सचिव कार्मिक राधा रतूड़ी के साथ ही मुख्य सचिव ओमप्रकाश व महिला आयोग को लिखे चार पेज के पत्र में विभागीय प्रभारी सचिव दिलीप जावलकर पर गंभीर आरोप लगाए हैं। इस मुद्दे पर अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने पूरे मामले की विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। आईएएस के खिलाफ मोर्चा खुलने से शासन में अटकलों का बाजार भी गर्म हो गया है। साथ ही इस हाईप्रोफाइल मामले को लेकर शासन व सत्ता के गलियारों में तूफान आना तय है।
संस्कृति विभाग में 2009 से निदेशक पद पर तैनात बीना भट्ट ने अपने चार पेज के पत्र में सचिव जावलकर पर आरोप लगाते हुए पत्र में कहा गया है कि सचिव व अपर सचिव-महानिदेशक ने उत्पीड़न की सारी सीमाएं लांघ दी हैं। उन्होंने कर्मचारियों के सामने महिला होने के साथ ही उनकी कार्य कुशलता व चरित्र पर अशोभनीय टिप्पणी कर नीचा दिखाने का प्रयास किया। जबकि उन्हें राज्यपाल व सीएम कार्यालय से कई बार प्रशंसा पत्र मिल चुके हैं। यही नहीं उनकी पदोन्नति की फाइल सचिव ने ढाई साल तक दबाए रखी, और जब उत्तराखंड उच्च न्यायालय के आदेश के बाद 7 सितम्बर 2020 को उन्हें पदोन्नति मिली तो सचिव ने तत्काल 18 सितम्बर को विभाग में महानिदेशक का पद सृजित कर आनंद स्वरूप की नियुक्ति कर दी। यह भी आरोप लगाया कि सचिव ठेकेदार राजेश रावत व एक एनजीओ को टेंडर दिलाने का दबाव डालते रहे हैं। साथ ही राजेश रावत के जरिए भी उन्हें धमकी दी गयी है। भारत सरकार की योजना के तहत हरिद्वार के घाटों में ऑडियो विजुअल फैसिलिटी से जुड़ी निविदाएं देने के लिए उन पर भारी दबाव बनाया गया, और मानसिक उत्पीड़न किया गया। हर की पैड़ी में निविदा मिलने के बाद ठेकेदार राजेश रावत ने सामान की आपूर्ति नहीं की। इसके अलावा ऋषिकेश के आस्था पथ की निविदा सचिव के प्रिय राजेश रावत को नहीं मिलने पर उनका मानसिक उत्पीड़न किया गया। एक महिला की एक अन्य स्ववंसेवी संस्था को भी काम देने को भी सचिव भारी दबाव बनाते है। यही नहीं, नौकरी से निकालने की भी बार-बार धमकी देते है। पत्र में तत्कालीन अपर सचिव व महानिदेशक आनंद स्वरूप को भी कठघरे में खड़ा किया गया है। इसके अलावा सचिव दिलीप जावलकर की कार्यप्रणाली पर भी कई आरोप लगाए है।

यह भी पढ़ें : मंत्री के परिवार की सोसायटी पर भूमि हड़पने का आरोप, बुजुर्ग महिला ने खुद पर पेट्रोल डाला..

नवीन समाचार, काशीपुर, 22 फरवरी 2021। बाजपुर में कैबिनेट मंत्री अरविंद पांडे के भाई अमर पांडे पर धोखाधड़ी कर भूमि हड़पने का आरोप लगाते हुए एक बुजुर्ग महिला पेट्रोल एवं माचिस लेकर धरने पर बैठ गई।पीड़ित बुजुर्ग दोनों भाइयों के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए न्याय दिलाने की मांग कर रही थी। इस दौरान महिला ने अपने ऊपर पेट्रोल छिड़ककर आग लगाने का प्रयास भी किया। सूचना मिलने पर प्रशासन में हड़कंप मच गया। सूचना पर मौके पर तहसीलदार प्रेम सिंह चौहान पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और महिला को समझा बुझाकर सीओ ऑफिस ले गए।
ग्राम बिचपुरी निवासी 63 वर्षीय परमजीत कौर ने बताया कि उनकी खाता संख्या 17, खसरा नं06/2 कुल रकबा 1.0117 हेक्टेयर भूमि ग्राम बिचपुरी केलाखेड़ा एनएच 74 पर स्थित है। इसमें से 1 एकड़ भूमि विद्या ज्योति एजुकेशन सोसाइटी ने पांच वर्ष के लिए लीज और किराए पर ली थी। परमजीत कौर ने बताया उसे पढ़ना नहीं आता है। वो सिर्फ पंजाबी में साइन करना जानतीं हैं। इसकी लिखा पढ़ी अजय डबास पुत्र जोगेंद्र सिंह और अमर पांडे ने श्रीनिवास मित्तल के यहां की थी। 3 दिसंबर 2019 को इन्होंने धोखाधड़ी करके उसकी भूमि को 30 वर्ष की लीज पर करा लिया है। काफी समय बाद लीज के कागज उन्हें 20 जून 2020 को उपलब्ध कराए गए, जब उन्हें पता चला शिक्षा कैबिनेट मंत्री अरविंद पांडे के छोटे भाई अमर पांडे सहित विद्या ज्योति एजुकेशन सोसाइटी के सदस्य कैबिनेट मंत्री के पुत्र अतुल पांडे उपाध्यक्ष हैं, पुत्रवधू अनीता पांडे सचिव हैं तथा अरविंद पांडे की पत्नी सुमन पांडे इस सोसाइटी की सदस्य हैं।
पीड़िता का कहना है कि इनके द्वारा धोखाधड़ी करके एक एकड़ भूमि की जगह मेरी ढाई एकड़ भूमि पर इन्होंने तीन-चार दिन के अंदर 50 मजदूर लगाकर चारदीवारी खड़ी कर दी है। बताया गया है कि पीड़ित परमजीत कौर बनाम विद्या ज्योति एजुकेशन सोसायटी के खिलाफ कोर्ट में लीज खारिज करने के लिए मुकदमा दायर किया गया है। पीड़ित महिला परमजीत कौर ने प्रशासन से आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करते हुए लीज खारिज करने की मांग की है। उधर शिक्षा मंत्री के भाई ने आरोपों को निराधार बताते हुए कहा है कि महिला को लीज के अनुसार किराया ऑनलाइन दिया जा रहा है।

यह भी पढ़ें : पूर्व विधायक व जिला पंचायत सदस्य पर तीन लाख रुपए की रंगदारी मांगने के आरोप में मुकदमा दर्ज..

नवीन समाचार, सितारगंज, 24 जनवरी 2021। सितारगंज से बसपा के पूर्व विधायक व वर्तमान में कांग्रेस नेता नारायण पाल तथा एक स्थानीय जिला पंचायत सदस्य उत्तम आचार्य पर एक स्थानीय खनन कारोबारी ने तीन लाख रुपए की रंगदारी मांगने का आरोप लगाते हुए पुलिस को तहरीर दी है। इस पर पुलिस ने दोनों के खिलाफ रंगदारी मांगने के आरोप में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
Pal College of Technology & Management - Chairman's Messageएमआर इंटरप्राइजेज के स्वामी मोहम्मद रियाज ने पुलिस को दी गई तहरीर में कहा है कि उसने बीती 18 दिसंबर 2020 को शक्ति फार्म स्थित निर्मल नगर के पास बैगुल नदी में रिवर ट्रेनिंग का काम लिया था। एसडीएम मुक्ता मिश्र ने 20 जनवरी 2021 को इस हेतु स्वीकृति भी दी थी, स्थानीय ग्रामीणों को भी इस पर कोई आपत्ति नहीं थी। इसके बावजूद पूर्व विधायक पाल व जिला पंचायत सदस्य आचार्य ने अपने अन्य साथियों के साथ मौके पर पहुंचकर काम रुकवा दिया, और वहां काम कर रहे हैं लोगों को धमकाया। तहरीर में रियाज ने आरोप लगाया कि दोनों ने उससे तीन लाख रुपए की मांग की और रुपए देने से इंकार करने पर उसे डराया व धमकाया जाने लगा। शिकायतकर्ता ने काम रुकने की वजह से उसे आर्थिक नुकसान होने के साथ ही खुद पर जान-माल का खतरा बने होने की बात भी कही है। वही तहरीर के आधार पर बिना पूछताछ किए मुकदमा दर्ज किए जाने को लेकर पूर्व विधायक ने कोतवाली पहुंचकर अपनी नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने सीओ सुरजीत कुमार व कोतवाल सलाउद्दीन खान से उनकी शिकायत उच्च अधिकारियों से करने की बात कही। साथ ही मामले को राजनीति से प्रेरित भी बताया। कहा कि जांच में सारा मामला अपने आप स्पष्ट हो जाएगा। जिला पंचायत सदस्य उत्तम आचार्य ने भी आरोपों से इंकार किया है।

यह भी पढ़ें : आगरा डायेसिस ने प्रतिष्ठित विद्यालय में प्रवेश न कर पाने पर पुलिस की भूमिका पर उठाए सवाल, पुनः जाएंगे कोर्ट..

-कहा, पुलिस चाहती तो प्रवेश करा देती, पर प्रवेश नहीं कराया गया, अब पुनः न्यायालय की शरण में जाकर अपनी बात रखेंगे

पत्रकार वार्ता करते आगरा डायेसिस के सदस्य।

नवीन समाचार, नैनीताल, 13 दिसम्बर 2020। नगर के प्रतिष्ठित कॉन्वेंट कॉलेज के विवाद पर रविवार को आगरा डायेसिस के बिशप व अधिकारियों ने पत्रकार वार्ता की और कहा कि पुलिस की मौजूदगी में प्रवेश करने में असमर्थ रहे हैं। बिशप डा. पीपी हाबिल ने इस मामले में पुलिस की भूमिका पर सवाल उठाते हुए कहा कि पुलिस चाहती तो उन्हें जबरन प्रवेश करा सकती थी। लेकिन पुलिस ने ऐसा नहीं किया। इसके पीछे कोई बात हो सकती है, पर वे इस पर अभी कुछ नहीं कहेंगे। अब कॉलेज में प्रवेश के लिए पुनः न्यायालय जाएंगे और अपनी बात रखेंगे और कॉलेज में प्रवेश करने के आदेश प्राप्त करेंगे।
नगर के एक चर्च में आयोजित पत्रकार वार्ता में बिशप डा. पीपी हाबिल की मौजूदगी में सदस्यों ने दोहराया कि वर्ष 2017 में गवर्निग बॉडी के आदेशों की अवहेलना तथा न्यायालय में उलझाने सहित अन्य आरोपों पर 21 अक्टूबर 2019 को अमनदीप संधू को प्रधानाचार्य के पद से निलंबित किया गया और डा. पीटर धीरज इमेन्युअल को अंतरित प्रधानाचार्य नियुक्त किया गया है। इधर उच्च न्यायालय से अंतरिम प्रधानाचार्य पीटर इमेन्युअल एवं आगरा डायेसिस के अधिकृत सदस्यों को विद्यालय के प्रधानाचार्य का भौतिक रूप से कार्यभार ग्रहण करने के दौरान सुरक्षा प्रदान करने एवं निलबित प्रधानाचार्य अमनदीप संधू को पीटर इमेन्युअल व समिति के सदस्यों को कॉलेज में प्रवेश से रोकने पर रोकने की मांग की थी। इस पर डिप्टी अटॉर्नी जनरल ने कहा था कि जब भी याचिकाकर्ता आएंगे उन्हें सुरक्षा उपलब्ध कराई जाएगी। मामले में गृह विभाग एवं एसएसपी नैनीताल व तल्लीताल थाना प्रभारी भी पक्षकार हैं। यह भी कहा कि गेट पर गार्ड एवं अन्य कर्मचारी विरोध कर रहे थे। इसलिए प्रवेश नहीं किया गया। क्योंकि उनकी मंशा कर्मचारियों पर किसी तरह के दमन की नहीं, वरन उनसे वार्तालाप कर समझाने की थी। लेकिन ऐसा करना संभव नहीं था। पत्रकार वार्ता में सलाहकार अमित सिंह, घोषित अंतरिम प्रधानाचार्य पीटर धीरज इमेन्युअल, डा. एसपी सिंह, डा. अविनाश आदि मौजूद रहे।

उन्होंने बताया कि डायसिस चर्च ऑफ नार्थ इंडिया (सीएनआई) से संचालित होते हैं। यह देश में 27 डायसिस का संचालन करती है, जिसमें लखनऊ भी एक है। वर्ष 1869 में स्थापित शेरवुड विद्यालय पूर्व में लखनऊ डायसिस से संचालित होता था। वर्ष 1976 में आगरा डायसिस बना और शेरवुड का जिम्मा इसे सौंप दिया गया।
वर्ष 2004 में अमनदीप संधू को शेरवुड का प्रधानाचार्य नियुक्त किया गया। वर्ष 2010 में विजय मंटोडे ने स्वयं को बिशप लखनऊ बताते हुए सोसायटी में पंजीकरण करा लिया, जिस पर हमारे निर्देश पर ही संधू 2011 में हाईकोर्ट गए। हाईकोर्ट ने कहा डिप्टी रजिस्ट्रार को बिशप कौन होगा यह तय करने का अधिकार नहीं है। बाद में मंटोडे ने वर्ष 2015 में संधू को टर्मिनेट करने का आदेश दिया जिस पर हाईकोर्ट ने कहा कि प्रधानाचार्य को हटाने का अधिकार गवर्निंग बॉडी का है। विद्यालय कर्मचारियों से संवाद जरूरी : हाबिल
नैनीताल। पीपी हाबिल ने कहा कि विद्यालय कर्मचारियों से संवाद की जरूरत है और उन्हें बताना है कि आगरा डायसिस कर्मचारियों के हित में कार्य करेगा। किसी भी कर्मचारी को नौकरी से नहीं निकाला जाएगा। हम न्यायालय में अपनी बात रखेंगे। हाबिल ने कहा कि वर्ष 2018 में हमारे कहने पर भी बजट पास नहीं करवाया गया।

मेरे पास अधिकार, हाबिल के पास नहीं : संधू
नैनीताल। शेरवुड के प्रधानाचार्य अमनदीप संधू ने कहा कि पूर्व में प्रधानाचार्य के पद का विवाद हाईकोर्ट तक गया था, तब 2014 में कोर्ट ने संधू को ही प्रधानाचार्य माना था और 2016 में हाईकोर्ट की डबल बेंच ने उन्हें इस पद पर कार्य करने और विद्यार्थियों व स्टाफ के हित में कार्य करने को कहा था। उन्होंने सतत इस दिशा में कार्य किया और कोरोना काल में भी विद्यार्थियों की पढ़ाई बाधित नहीं होने दी। साथ ही कर्मचारियों को इस पूरे दौर में पूरा वेतन दिया और किसी को भी नौकरी से नहीं हटाया। इससे देश भर में विद्यालय की प्रतिष्ठा और भी बढ़ी। संधू ने कहा कि वह तो हाईकोर्ट के आदेश से कार्यरत हैं, लेकिन स्वयं को अध्यक्ष बताने वाले हाबिल के पास कोई अधिकार नहीं है। अध्यक्ष पद के लिए विभिन्न लोगों ने दावा कर रखा है और दावे को लेकर निचली कोर्ट में सुनवाई चल रही है। खास बात यह है कि इसमें हाबिल पार्टी तक नहीं हैं यानी कि उन्होंने तो दावेदारी तक नहीं कर रखी है। ऐसे में हाबिल उन्हें किस हैसियत से हटा सकते हैं। संधू ने कहा कि उन पर 35 करोड़ के घपले का आरोप मनगढ़ंत है क्योंकि स्कूल की कुल 10 करोड़ की फीस आती है जिसमें 6 करोड़ सैलरी और बाकी विद्यार्थियों के भोजन व अन्य मदों में खर्च होता है। ऐसे में इसमें 35 करोड़ के घपले का आरोप ही हास्यास्पद है। संधू ने कहा कि वह समस्त तथ्य हाईकोर्ट के समक्ष रख कर न्याय की गुहार लगाएंगे।

यह भी पढ़ें : हिंदू जागरण मंच का बड़ा आरोप: हिंदू विरोधी है उत्तराखंड सरकार, मुस्लिम तुष्टीकरण कर रही है…

-हिंदू जागरण मंच के प्रदेश अध्यक्ष ने की पत्रकार वार्ता, न्यायालय के आदेशों के पालन में भी भेदभाव करने का लगाया सरकार व प्रशासन पर आरोप
-जन जागरूकता, धरना-प्रदर्शन, लव जिहाद, विधायकों का घेराव व अल्पसंख्यकों से पीड़ितों को साथ लेकर राजधानी में प्रदर्शन करने का ऐलान

पत्रकार वार्ता करते हिंदू जागरण मंच के प्रदेश अध्यक्ष एवं अन्य पदाधिकारी।

नवीन समाचार, नैनीताल, 12 नवम्बर 2020। हिंदू जागरण मंच ने हिंदूवादी मानी जाने वाली भाजपा की उत्तराखंड सरकार पर उत्तराखंड सरकार पर हिंदू विरोधी होने और मुस्लिम तुष्टीकरण करने का आरोप लगाया है। बृहस्पतिवार को नैनीताल क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता में मंच के प्रदेश अध्यक्ष कृष्ण सिंह बोरा ने आरोप लगाया कि पूरे प्रदेश में शासन-प्रशासन में एक जैसी मानसिकता नजर आ रही है। न्यायालय के आदेश पर प्रशासन के द्वारा भेदभावपूर्ण कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने सरकार पर अकर्मण्यता और प्रशासन की कार्रवाई पर मूक समर्थन होने का आरोप भी लगाया और इसके खिलाफ जनता और धरना-प्रदर्शन, विधायकों के घेराव और मुस्लिम तुष्टीकरण के भुक्तभोगियों, लव जिहाल से पीड़ित राज्य की लड़कियों, मुस्लिमों से पीड़ित अनुसूचित वर्ग के लोगों व मंदिरों के पुजारियों आदि को साथ लेकर राजधानी में प्रदर्शन करने की भावी योजना का ऐलान भी किया।
श्री बोरा ने इस दौरान भीमताल में जिला विकास प्राधिकरण कार्यालय से 100 मीटर की दूरी पर मस्जिद के अवैध निर्माण, नैनीताल में एक हिंदू नाई की दुकान की दुकान तोड़कर सामान निकालने व कब्जा करने वाले मुस्लिम पर कोई कार्रवाई न करने, उच्च न्यायालय के धार्मिक स्थलों के अतिक्रमण व ध्वनि विस्तारक यंत्र हटाने संबंधी आदेश पर भी मस्जिदों-मजारों को बचाकर मुस्लिम तुष्टीकरण करने, लव जिहाद से पीड़ित हरिद्वार व देहरादून की तीन लड़कियों को संरक्षण देने के बजाय आरोपितों को बचाने, जसपुर में अनुसूचित समाज के व्यक्ति पर हमला करने वाले मुस्लिम वर्ग के व्यक्ति को पुलिस द्वारा बचाने, गौ हत्यारों के प्रति पुलिस द्वारा मित्रवत व्यवहार करने तथा दीपावली के केवल तीन दिन पहले पटाखों पर प्रतिबंध लगाने को लेकर भी सरकार पर आरोप लगाये।
वहीं वीरांगना वाहिनी की जिलाध्यक्ष डा.केतकी तारा कुमैया ने इस मौके पर तथाकथित धर्मनिरपेक्षता की आढ़ में अल्पसंख्यकों का तुष्टीकरण व बहुसंख्यकों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किए जाने का आरोप लगाते हुए संविधान के आर्टिकल 15 के तहत धारा 25, 26, 27, 28, 29 व 30 में बदलाव की आवश्यकता जताई। इस मौके पर मंच के प्रदेश प्रचार प्रमुख हरीश राणा, सोनी अनीश, सार्थक गहतोड़ी, लक्ष्मण मेहरा, मोहित व समीर आदि कार्यकर्ता भी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : नंदा देवी मेले को लेकर अधिकारियों पर धार्मिक भेदभाव का आरोप, मुख्यमंत्री से की शिकायत..

नवीन समाचार, नैनीताल, 28 अगस्त 2020। उत्तराखंड उच्च न्यायालय के अधिवक्ता एवं पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष नितिन कार्की ने प्रदेश के मुख्यमंत्री को शुक्रवार को एक पत्र भेजा है। ‘माता नंदा देवी महोत्सव नैनीताल में श्रद्धालुओं को दर्शन से वंचित रखने’ के विषय पर लिखे पत्र में कहा गया है कि जहां मुख्यमंत्री प्रदेश को कोराना से मुक्त कर स्थिरता की ओर ले जाने का प्रयास कर रहे हैं, वहीं कुछ प्रशासनिक अधिकारी अपनी मनमानी से धार्मिक भेदभाव एवं उन्माद फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। कार्की के अनुसार अल्मोड़ा में जहां सभी श्रद्धालुओं को सामाजिक दूरी का पालन कर माता नंदा-सुनंदा के दर्शन करने का अवसर प्राप्त हुआ, वहीं नैनीताल में श्रद्धालओं को दर्शनों से वंचित रखा गया, जबकि जुम्मे की नमाज में सैकड़ों की संख्या में लोगों के द्वारा मस्जिद के अंदर नमाज अदा की जा रही है। दावा किया है कि ऐसा जिला अधिकारी के आदेशों पर प्रशासन के द्वारा बनाई गई व्यवस्था के तहत हुआ है, इसमें किसी भी धर्म के लोगों का कोई दोष नहीं है।

आदर्श रामलीला एवं जन कल्याण समिति सूखाताल के महासचिव मोहित लाल साह ने भी श्री कार्की द्वारा उठाए गए मुद्दों का पूर्ण समर्थन करने हुए कहा कि अल्मोड़ा, भवाली सहित सभी स्थानों पर नंदा देवी के महोत्सव में लोग नंदा-सुनंदा के दर्शन करने की मिली। ऐसे में वे नैनीताल में श्रद्धालुओं को रोके जाने के प्रशासनिक निर्णय की कड़ी निंदा करते हैं।

यह भी पढ़ें :

बड़े मलाल के साथ माता नंदा-सुनंदा के महोत्सव का हुआ समापन

यह भी पढ़ें : आरटीआई मांगने पर जान से मारने की धमकी मिलने का आरोप

नवीन समाचार, नैनीताल, 17 अगस्त 2020। भवाली निवासी गणेश गयाल कुमाऊं मंडलायुक्त को ज्ञापन भेजकर सुरक्षा की गुहार लगाई है। गयाल का कहना है कि उन्होंने नगर पालिका से पूर्व में 21 जुलाई को सूचना के अधिकार के तहत कुछ जानकारियां मांगी थीं, तब भी उन्हें धमकी दी गई थी। इसकी शिकायत उन्होंने मंडलायुक्त से की थी। इधर उन्होंने पुनः नगर पालिका से सूचनाएं मांगी हैं, इसके बाद उन्हें शहर के प्रभावशाली लोगों के द्वारा अप्रत्यक्ष तौर पर पुनः देख लेने व जान से मार डालने तक की धमकियां दी जा रही है।

यह भी पढ़ें : पर्यावरण प्रेमी के खिलाफ मानहानि की शिकायत, पूर्व में ली गई जमानत भी वापस ली…

नवीन समाचार, भवाली, 12 अगस्त 2020। नगर की उत्तरवाहिनी शिप्रा नदी अथवा नाले के विवाद में नया मोड़ आ गया है। शिप्रा के नदी अथवा नाला होने पर सवाल उठाने वाले पर्यावरण प्रेमी गणेश गयाल के खिलाफ शिप्रा कल्याण समिति भवाली के अध्यक्ष जगदीश नेगी ने भवाली कोतवाली में मानहानि की शिकायत की है। भवाली के कोतवाल ने बताया कि मामले की जांच एसएसआई विमल मिश्रा को सोंपी गई है। वे बृहस्पतिवार तक इस मामले में अपनी रिपोर्ट दे सकते हैं। रिपोर्ट के अनुसार आगे कार्रवाई की जाएगी।
प्राप्त जानकारी के अनुसार जगदीश नेगी ने तहरीर में कहा है कि गणेश गयाल पुत्र बंशीधर गयाल से उसके अच्छे संबंध रहे, उन्होंने दोनों पिता-पुत्र के एक फौजदारी के मामले में जमानत भी दी थी। कोई विवाद भी नहीं हुआ। वह चुपचाप अपनी संस्था के माध्यम से शिप्रा की सफाई के कार्य में जुटे हैं। फिर भी गयाल ने 11 अगस्त को फेसबुक पर उनके खिलाफ अभद्र टिप्पणी की है और उनके कार्य पर अंगुली उठाई है। इससे उनकी मानहानि हुई है और उनकी वर्षों की सामाजिक कार्य से बनी छवि भी धूमिल हुई है। इसलिए वे दोनों पिता-पुत्र के खिलाफ जमानत वापस लेना चाहते हैं और गणेश के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करना चाहते हैं, लिहाजा इस प्रकरण में उचित कार्रवाई की जाए।

यह भी पढ़ें : विधायक पुत्र के निधन पर परिजनों ने पुलिस में दी तहरीर, जांच की मांग..

नवीन समाचार, नैनीताल, 11 अगस्त 2020। पूर्व विधायक खड़क सिंह बोहरा के छोटे पुत्र अमित मोहन सिंह बोहरा उर्फ आशु के निधन पर जिला बार एसोसिएशन के बाद उनके परिवार की ओर से भी सवाल उठाए गए हैं तथा जांच की मांग की गई है। इस संबंध में मृतक के परिजनों की ओर से थाना कालाढुंगी में तहरीर देकर अज्ञात पर उसकी हत्या करने का आरोप लगाया गया है। इस मामले में स्वर्गीय अमित के बड़े भाई ललित बोहरा ने कहा कि जब तक वह और परिजन मौके पर पहुंचे अमित के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने की तैयारी की जा रही थी और दुर्घटनाग्रस्त कार को मौके से हटा लिया गया था। उन्होंने दावा किया कि अमित की गर्दन पर आगे व पीछे गहरे कटे का निशान था तथा उसका कॉलर भी कटा हुआ था। उन्होंने कार के कथित तौर पर दीवार पर टकराने के बाद वापस उल्टी दिशा में कार के मुड़ने व कार के स्टार्ट ही होने व अमित के पैर एक्सीलेंटर पर होने के बावजूद कार के ढाल पर भी बिना किसी अवरोध से टकराये रुकने पर भी सवाल उठाए हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि अमित की किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी और वह बेहद सौम्य व मिलनसार इंसान था। उधर कालाढुंगी के थानाध्यक्ष दिनेश नाथ महंत ने बताया कि अभी-अभी तहरीर मिली है। नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें : कोतवाली पुलिस पर नाबालिग पुत्र को प्रताड़ित करने का आरोप, एसएसपी को लिखा पत्र..

नवीन समाचार, भवाली, 05 अगस्त 2020। नगर निवासी व्यवसायी राकेश रावत पुत्र भवान सिंह ने भवाली कोतवाली पुलिस पर अपने नाबालिक पुत्र को प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए जनपद के एसएसपी को एक पत्र भेजा है, और दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही करने व न्याय दिलाने की गुहार लगाई है। पत्र में उन्होंने कहा है कि उनके नाबालिग पुत्र द्वारा बिना किसी के दवाब में फेसबुक पर पालिकाध्यक्ष संजय वर्मा के विरुद्ध टिप्पणी की थी। लेकिन कोतवाली पुलिस द्वारा पालिकाध्यक्ष के दबाव में उनके व पुत्र के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया हैं। साथ ही उनके पुत्र को यह कहने के लिए दबाव बनाते हुए प्रताड़ित किया जा रहा है कि यह टिप्पणी उसने व्यापार मंडल अध्यक्ष नरेश पांडे के कहने पर की है। ऐसा कहकर उसे बार-बार जेल भेजने की धमकी भी दी जा रही है। जिससे वह काफी भय में है। उल्लेखनीय है कि इस मामले से जुड़े मामले में भी व्यापार मंडल को 6 माह के लिए जिला बदर कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें : पालिकाध्यक्ष पर जानमाल के खतरे का आरोप, डीएम से कार्रवाई की गुहार

नवीन समाचार, नैनीताल, 04 अगस्त 2020। प्रशासन द्वारा छह माह के लिए जिला बदर किये गये भवाली के व्यापार मंडल अध्यक्ष नरेश पांडे के मामले में अब उनके पिता सामने आये हैं। कहलक्वीरा निवासी पूरन चंद्र पांडे ने इस संबंध में मंगलवार को एसडीएम के माध्यम से डीएम को पत्र भेजकर कहा है कि उनका पुत्र भवाली नगर पालिका अध्यक्ष के वर्तमान अध्यक्ष संजय वर्मा के खिलाफ 2018 में चुनाव लड़ा था। इस कारण वर्मा ने उसके खिलाफ राजनीतिक द्वेष के चलते तथ्यहीन व झूठा मुकदमा दर्ज कराया है, तथा इस मामले में नाबालिग को कोतवाल के द्वारा डरा-धमका कर झूठी गवाही देने के लिए मजबूर किया जा रहा है। उन्होंने पालिकाध्यक्ष पर डराने-धमकाने के साथ आगे भी झूठे मुकदमे में फंसाने का अंदेशा जताते हए उचित कार्रवाई करने की मांग भी की है। इस मामले में नगर पालिका अध्यक्ष से संपर्क नहीं हो पाया। यदि उनका पक्ष आता है तो उसे भी प्रकाशित किया जाएगा।

अब मल्लीताल व्यापार मंडल भी आया आंदोलन की राह पर…

यह भी पढ़ें : पति ने तीन तलाक दिया तो पत्नी ने की पति को जहर देकर मारने की कोशिश, फिर लाखों के जेवहरात लेकर हुई फरार..

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 3 अगस्त 2020। एक पत्नी पर अपने मायके वालों सहित छह लोगों की मदद से पति को जान से मारने का षड़यंत्र रचने और षडयंत्र का पता लगने पर घर से कीमती जवाहरात लेकर फरार होने का सनसनीखेज आरोप लगा है। इस मामले में सोमवार को पीड़ित-रुद्रपुर के प्रीत विहार निवासी तौकीर अहमद की शिकायत के बाद पुलिस ने आरोपित पत्नी व अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। इधर यह भी पता चला है कि पति अपनी पत्नी को तीन तलाक दे चुका है, और यह मामला कोर्ट में लंबित है।
इधर पीड़ित का कहना है कि रुबीनास से निकाह होने के बाद वह विदेश में नौकरी करता था। जबकि उसकी पत्नी रुद्रपुर में ही उसके घर में रह रही थी। पत्नी के कहने पर वह हर माह हजारों रुपये उसके खाते में भेजता था। इधर कुछ समय पहले वह घर वापस आया तो पत्नी का चालचलन ठीक नहीं लगा। इस पर उसने पत्नी को समझाने की कोशिश की लेकिन वह नहीं सुधरी। उसने आरोप लगाया कि कुछ समय पहले पत्नी ने अपने मायके पक्ष व एक अन्य व्यक्ति के साथ मिलकर उसे जहर देकर मारने की कोशिश की और इधर वह बिना उसकी अनुमति के घर से लाखों रुपये नगदी और जेवर लेकर भाग गई है। मामले में पुलिस ने पत्नी के साथ ही पांच मंदिर निवासी विवेक, कच्ची खमरिया निवासी अतीक अहमद, जावेद मलिक, नावेद मलिक, सीरीनाज के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

यह भी पढ़ें : एनजीओ संचालिका से कैंसर प्रोजेक्ट के नाम पर 26 लाख की धोखाधड़ी, पैरेंट्स एसोसिएशन ने स्कूल पर लगाये आरोप…

नवीन समाचार, नैनीताल, 25 जुलाई 2020। नैनीताल में एक स्वयं सेवी संस्था की संचालिका महिला से 26 लाख रुपये की धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया है। पुलिस ने शिकायती पत्र के आधार पर मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार महिला ने मल्लीताल कोतवाली में शिकायती पत्र देकर कहा है कि बीते वर्ष दिसंबर में कैंसर पीड़ितों के प्रोजेक्ट को लेकर तीन लोग उससे मिले। उन लोगों के कहने पर प्रोजेक्ट के लिए आठ कर्मचारियों को प्रतिमाह 30 हजार रुपए के वेतन पर रखा गया एवं 35 हजार रुपए प्रतिमाह पर किराए का भवन लिया गया। इसका पूरा खर्चा उन लोगों की ओर से दिया जाना था, लेकिन एक माह पूरा होने पर दफ्तर का किराया और कर्मचारियों का वेतन देने के नाम पर युवकों ने बहाना बनाना शुरू कर दिया। इस बीच संचालिका ने अपनी जमा पूंजी से ही किराया व कर्मचारियों को वेतन दिया। अब संचालिका का कहना है कि भवन किराया, बिजली-पानी का बिल और अन्य खर्चा कुल मिलकार 26 लाख की देनदारी उन युवकों पर बनती है। उन्होंने धनराशि का भुगतान और युवाओं पर कार्रवाई करने की मांग की है। एसएसआई यूनुस खान ने बताया मामले की जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

विद्यालय पर कम्पार्टमेंट परीक्षा को लेकर लगाये आरोप

नैनीताल। नैनीताल पैरेंट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सुहृद सुदर्शन से जिलाधिकारी को ज्ञापन सोंपकर अपनी पुत्री के विद्यालय नगर के मोहन लाल साह बाल विद्या मंदिर विद्यालय पर 11वीं कक्षा की छात्राओं को कोरोना की महामारी के दौरान नियमों के विपरीत कम्पार्टमेंट की परीक्षा में जानबूझ कर फेल करने का आरोप लगाया है, इस मामले में विद्यालय की प्रधानाचार्या व शिक्षिकाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने तथा सीबीएससी के नोटिफिकेशन के अनुसार सभी छात्राओं को प्रोन्नत किये जाने की मांग की है। उनका कहना है कि विद्यालय ने सीबीएसई के निर्देशों के विपरीत और अभिभावकों के लगातार अनुरोध के बावजूद कम्पार्टमेंट की परीक्षा केवल ऑफलाइन माध्यम से कराई। यह भी आरोप लगाया कि अधिकांश छात्राओं व उनके परिजनों को 13 जुलाई को आयोजित हुई परीक्षा की जानकारी नहीं दी गई, जबकि कुछ को केवल दो दिन पूर्व 11 जुलाई को जानकारी दी गई। इसके अलावा उन्होंने परीक्षा की प्रक्रिया पर भी सवाल उठाए। पत्र में रमेश कुमार, राकेश भारती, बहादुर सिंह किरौला, दीपक सहदेव व सरजीत सिंह के नाम भी लिखे हुए हैं।

यह भी पढ़ें : पूर्व छात्र नेताओं ने लगाए कुमाऊं विश्वविद्यालय प्रशासन पर आरोप

नवीन समाचार, नैनीताल, 20 जून 2020। कुमाऊं विश्वविद्यालय के डीएसबी परिसर के पूर्व छात्र नेताआंे ने कुलसचिव को 16वंे दीक्षांत समारोह के बिलों के लेकर ज्ञापन दिया। ज्ञापन में दीक्षांत समारोह में बड़े घोटाले की आशंका जताई गई है। छात्र नेताओं का कहना है कि उन्होंने सूचना अधिकार अधिनियम-2005 के तहत सूचना मांगी थी। उन्होंने विश्वविद्यालय प्रशासन पर इस बारे में सूचना छुपाने तथा निविदा से इतर बिलो में गड़बड़ी करने का आरोप भी लगाया। छात्र नेताओं ने बताया कि कुलपति ने द्वारा पूर्व में आश्वासन के बाद भी इस मामले में कोई भी जांच के आदेश नही दिए गए। छात्र नेताओं ने इस मामले की पुनः उच्च स्तरीय जांच करवाने की मांग की है और अन्यथा उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होने की धमकी दी है। ज्ञापन देने वालो में पूर्व अध्यक्ष दिग्विजय बिष्ट, करन दनाई, छात्रा उपाध्यक्ष पूजा रौतेला, अंकित चंद्रा, नितिन देवल तथा एनएसयूआई के जिला सचिव शार्दूल नेगी आदि शामिल रहे। इस बारे में कुलपति प्रो. एनके जोशी से बात करने का प्रयास किया गया, परंतु उनका फोन स्विच ऑफ मिला।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बस किराये में वृद्धि पर किया विरोध प्रदर्शन
नैनीताल। मुख्यालय के निकटवर्ती ज्योलीकोट में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शनिवार को प्रदेश सरकार द्वारा बसों के किराए में दोगुनी वृद्धि के विरोध में धरना प्रदर्शन किया और प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते निर्णय को वापस लेने की मांग की। ज्येष्ठ ब्लॉक प्रमुख हिमांशु पांडे के नेतृत्व में आयोजित हुए इस धरने में पूर्व प्रधान धर्मेंद्र सिंह, राम दत्त चनियाल, जीवन चंद्र, वीरेंद्र बोरा, सुरेंद्र कोटलिया, वीरेंद्र बोरा, उपप्रधान मनोज चनियाल, क्षेत्रपाल सिंह, मनोज कुमार मन्नू, दीपक चौहान, साहिल चनियाल, विनोद जेम्स, नन्द लाल व गोपाल जोशी सहित अन्य कार्यकर्ता सम्मलित हुए।

यह भी पढ़ें : कुमाऊं विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में धांधली के आरोप, कुलपति को सोंपा ज्ञापन

-परिसर निदेशक ने धांधली के आरोपों से किया इंकार, कहा-अभी कोई भुगतान हीं नहीं हुआ, आपातकालीन परिस्थितियों एवं बारिश-बर्फबारी की वजह से ठेकेदार ने प्रस्तुत किये हैं बड़े बिल
नवीन समाचार, नैनीताल, 8 जून 2020। डीएसबी परिसर के छात्र नेताओं ने गत सात मार्च को आयोजित हुए कुमाऊं विश्वविद्यालय के 16वें दीक्षांत समारोह में धांधली होने के आरोप लगाये हैं। सोमवार को विजय बिष्ट, करन दनाई, पवन कन्याल व दिग्विजय बिष्ट आदि छात्र नेताओं ने इस संबंध में विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एनके जोशी को ज्ञापन सोंपा है। ज्ञापन में टेंडर की राशि से कई गुना अधिक बिल लगाने का आरोप लगाया गया है और उचित राशि का भुगतान ही करने की मांग की गई है। अन्यथा की स्थिति में सूचना के अधिकार के तहत जानकारियां लेकर उच्च न्यायालय की शरण में जाने की धमकी दी गई है।
इस मामले में कुलपति प्रो. जोशी से संपर्क करने का प्रयास किया गया तो उनका फोन नहीं उठा। वहीं डीएसबी परिसर के निदेशक प्रो. एलएम जोशी ने कहा कि अभी किसी बिल का भुगतान नहीं किया गया है, इसलिए किसी धांधली का सवाल नहीं उठता है। आगे भुगतान ऑडिट कराकर और वित्त विभाग की आपत्तियों का संबंधितों से निस्तारण कराकर ही किये जाएंगे।
साथ ही उन्होंने बताया कि इस वर्ष दीक्षांत समारोह अचानक बिगड़े मौसम, बर्फबारी के बीच तथा आपातकालीन परिस्थतियों में कराया गया। इस कारण पांच अतिरिक्त वाटर प्रूफ टेन्ट, दो अतिरिक्त कॉफी मशीनें आदि कुछ अतिरिक्त व्यवस्थाएं चार मार्च को कुलपति से मिले अनुमोदन के बाद सात मार्च को ही आयोजन होने के कारण आपातकाल में बिना नयी निविदा प्रक्रिया के पहले से निविदाप्राप्त ठेकेदार से ही कराई गयीं। फिर भी अतिरिक्त व्यवस्थाओं के लिए ठेकेदार को तय व जायज दरों के आधार पर ही भुगतान किया जाएगा।

दिमागी रूप से अस्वस्थ पति व दो बच्चों को छोड़ किसी अन्य के साथ भागी महिला, नाले में मिला 3 साल की बच्ची का शव

यह भी पढ़ें : कोरोना से निपटने में विफलता का आरोप, पार्टी ने की मुख्यमत्री के इस्तीफे और राज्य में राष्ट्रपति शासन लगवाने की मांग

नवीन समाचार, नैनीताल, 25 मई 2020। रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया रिफार्मिस्ट उत्तराखंड के प्रदेश अध्यक्ष गोपाल वनवासी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को हल्द्वानी आगमन एवं कोरोना से संबंधित व्यवस्थाओं पर सवाल उठाये हैं। वनवासी ने सरकार पर कोरोना के विस्फोट के लिये जिम्मेदार होने और अभी भी कोई निर्णय लेने से पीछे हटने का आरोप लगाया है। उन्होंने राज्य में मंत्रियों के मोदी चालीसा व मोदी आरती गाने पर भी टिप्पणी करते हुए अपनी विफलता पर ,मुख्यमंत्री से इस्तीफा देने और राज्य में राष्ट्रपति शासन लगवाने की मांग की है।
प्रेस को जारी बयान में वनवासी ने कहा है कि जब सरकार के पस कोई तैयारी नहीं थी तो प्रवासियों की घर वापसी नहीं की जानी थी। उन्होंने आरोप लगाया कि त्रिवेंद्र सरकार ने जान-बूझकर देवभूमि को कोरोना महामारी की ओर धकेला है। उन्होंने कोरोना से निपटने के लिये सरकार पर विफलता का आरोप लगाते हुए कहा कि पहाड. के अस्पतालों में कोरोना महामारी से निपटने के लिये पर्याप्त संसाधन नहीं हैं। आरोप लगाया कि प्रशासनिक अधिकारियों व सरकार की नाकामयाबी के कारण ग्राम प्रधानों को प्रवासियों की जिम्मेदारियां दी जा रही हैं। कहा कि सरकार की क्वारन्टाईन नीति के कारण गाँवों में तनाव का माहौल बन रहा है। इससे हालात काबू होने नामुमकिन है। उन्होंने मुख्यमंत्री के द्वारा भीड़ के साथ जनपदों का दौरा करने को भी निन्दनीय कदम बताते हुए कहा कि उन्हें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से सीख लेनी चाहिये। साथ ही उन्होंने हल्द्वानी में मुख्यमंत्री के दौरे को जमरानी में गत दिनों सरकार द्वारा कराये जा रहे खनन से भी जोड़ा। कहा कि सरकार अपने नुमाईंदों को फायदा पहुंचाने के लिय जबरन खनन करने पर आमादा है।

यह भी पढ़ें : होटलों-स्कूलों द्वारा कर्मियों की वेतन कटौती पर भामसं ने दी धमकी

नवीन समाचार, नैनीताल, 8 मई 2020। भारतीय मजदूर संघ के जिलामंत्री विरेंद्र खंकरियाल ने केंद्र सरकार की अपील को दरकिनार कर नगर के होटल प्रबंधकों और निजी विद्यालयों पर लॉकडाउन अवधि में कर्मचारियों को वेतन नहीं देने और वेतन मांगने पर नौकरी से निकालने की धमकी देने का आरोप लगाया है। वहीं संघ के जिलाध्यक्ष पवन साह ने कहा कि अगर होटल मालिकों एवं निजी स्कूलों के संचालकों द्वारा कर्मचारियों को इस करोना महामारी के समय वेतन नही दिया जाता है तो संघ डीएम और श्रमायुक्त से मामले की शिकायत करेगा, तथा सैकड़ों कर्मचारियों को लेकर प्रदर्शन करने को मजबूर होगा। संघ से जुड़े नासिर खान, विकास जोशी, हरीश विश्वकर्मा, रमेश चंद्र जोशी एंव होटल कर्मचारी संघ के अध्यक्ष नरेंद्र पपोला, नरेंद्र कुमार जगदीश प्रकाश, राजेंद्र प्रसाद हरीश चौधरी व प्रेमा बिष्ट आदि ने भी आंदोलन में भागीदारी करने का ऐलान किया है। इधर स्कूल व होटल मालिकों का कहना है कि सरकार ने उन्हें कर्मचारियों को न निकालने की हिदायत तो दे दी, लेकिन उन्हें कर्ज एवं बिलों की मांफी तो दूर, बिजली व पानी के वास्तविक बिल ही वसूलने की राहत तक नहीं दी है। ऐसे में उनकी आय शून्य हो चुकी है, और खर्चे अपनी जगह बने हुए हैं। ऐसे में वह कैसे अपने कर्मियों को नौकरी पर बनाये रख सकते हैं और कैसे उन्हें समय पर वेतन दे सकते हैं, इस बारे में सरकार की ओर से स्थिति स्पष्ट नहीं की गई है।

कूटा ने उठाई स्थायी कुलपति की नियुक्ति व एक्ट में संशोधन की मांग

नैनीताल। कुमाऊं विश्वविद्यालय शिक्षक संगठन कूटा ने विवि में शीघ्र स्थाई कुलपति की नियुक्ति की मांग की है। कूटा ने शनिवार को प्रदेश के राज्यपाल, मुख्यमंत्री व उच्च शिक्षा मंत्री को ज्ञापन भेजा। जिसमें विवि हित में स्थाई कुलपति नियुक्त करने की मांग को प्रमुखता से रखा। कूटा ने विवि में कार्यवाहक कुलपति की नियुक्ति में विश्वविद्यालय के वरिष्ठतम प्राध्यापक अथवा संबद्ध महाविद्यालयों के वरिष्ठतम प्राचार्य को कार्यवाहक कुलपति बनाने का संशोधन करने की मांग भी की है। ज्ञापन में कूटा के अध्यक्ष प्रो. ललित तिवारी, उपाध्यक्ष दीपक कुमार, महासचिव डा. सुचेतन शाह, कोषाध्यक्ष डा.विजय कुमार व उपसचिव डा. सुहेल जावेद आदि के हस्ताक्षर हैं।

यह भी पढ़ें : समाचार पत्र कर्मी पर समाचार पत्र वितरक को मृत्यु तक पहुंचाने के आरोप

नवीन समाचार, लालकुआं, 4 मई 2020। लालकुआं एवं बिंदूखत्ता क्षेत्र में दो समाचार पत्रों का कई वर्षों से वितरण का कार्य करने वाले रमेश चंद्र पांडे पुत्र नारायण दत्त पांडे निवासी इंद्रानगर-द्वितीय बिदंूखत्ता की गत दिवस मौत हो गई। रमेश के भाई हरीश पांडे ने इस मामले में एक समाचार पत्र के कर्मी रामेंद्र प्रताप सिंह पर भाई को डराने-धमकाने व मानसिक रूप से प्रताणना देकर मृत्यु तक पहुंचाने के लिए आरोपित करते हुए लालकुआं पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है और कार्रवाई की मांग की है। मृतक के हाथ से लिखे कुछ नोट भी प्राप्त हुए हैं, जिनमें लिखा गया है, ‘सत्य हमेशा जीतेगा… जब मैं बार-बार परेशान हो गया तो आखरी कदम मैंने यह उठाया..’ साथ ही एक कागज में आत्महत्या कर सकने की बात भी लिखी है और अपनी मौत के लिए रामेंद्र को जिम्मेदार बताया है।
पुलिस को दी गई तहरीर में मृतक के भाई हरीश पांडे का कहना है कि विगत आठ माह से आरोपित कर्मी रामेंद्र के द्वारा उनके भाई को पैंसे के लेन-देन के लिए बार-बार घर पर आकर प्रताणित किया जा रहा था। बीती 14 सितंबर 2019 की रात्रि नौ बजे भी राजेंद्र उनके घर आया था और आवश्यक कार्य के बाने अपने साथ ले गया। जब सुबह तक रमेश न लौटे तो फोन करने पर रामेंद्र ने कहा कि भाई समाचार पत्र की हल्द्वानी स्थिति प्रेस में है। भाई चाहिये तो पैंसे लेकर आओ। इस पर हरीश किसी तरह 47 हजार रुपए का इंतजाम करके हल्द्वानी गये और भाई को छुड़ाकर लाये। इसके बाद भी रामेंद्र आये दिन घर आकर मृतक के बच्चों के साथ गाली-गलौज तथा जमीन व जानवर बेचने के लिए प्रताणित करता था। इससे पूरा परिवार मानसिक तनाव में आ गया था। वहीं मृतक हर माह भुगतान करता रहता था। शेष रकम मई माह में देने की बात हुई थी। इधर बीती 29 अप्रैल को भी शाम सात बजे रामेंद्र घर आया और रमेश को अपने साथ ले गया और कुछ देर बाद गेट पर छोड़कर चला गया। उसकी हालत नाजुक थी। पूछने पर उसने बताया कि रामेंद्र ने उसे शिव दत्त नैनवाल नाम के व्यक्ति के घर से पानी व गिलास मांग कर पानी पिलाया। तब से उसकी हालत खराब हो गयी है, उसे बचा लें। इस पर उसे लालकुआं व हल्द्वानी में अस्पतालों में उपचार के लिए ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान 30 अप्रैल को उसकी मृत्यु हो गयी। इस बारे में लालकुआं पुलिस से संपर्क करने का प्रयास किया गया तो थाना प्रभारी ने फोन नहीं उठाया, जबकि एक लैंड लाइन नंबर उपयोग में न होने तथा दूसरा थाने से बाहर एक कम्युनिकेशन शॉप का बताया गया।

यह भी पढ़ें : छात्रों को कोरोना न होने के बावजूद 14 की जगह 28 दिन से क्वारन्टाइन में रखने का लगाया आप प्रदेश अध्यक्ष ने आरोप

-प्रदेश अध्यक्ष कलेर ने सरकार व उसकी मशीनरी पर लगाया सुशुप्तावस्था में जाने का आरोप
नवीन समाचार, नैनीताल, 22 अप्रैल 2020। आम आदमी पार्टी ने प्रदेश में लॉक डाउन के कारण छात्रों व मजदूरों को हो रही परेशानियों को लेकर चिंता जताते हुए प्रदेश सरकार पर ढुलमुल रवैये का आरोप लगाते हुए भर्त्सना की है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष एसएस कलेर ने बुधवार को प्रेस को जारी बयान में कहा कि भुक्तभोगियों की सुनवाई नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि नैनीताल जिला प्रशासन ने रुद्रप्रयाग व गुप्तकाशी के कुछ छात्रों को उनके भीमताल स्थित कलेर होटल में 14 दिनों के लिए क्वारन्टाइन किया था। इन छात्रों को क्वारन्टाइन में 14 की जगह 28 दिन हो गये हैं। उन्हें दो बार स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना मुक्त होने का प्रमाण पत्र भी दे दिया है। स्वयं उन्होंने प्रशासन से कई बार इस बारे में आग्रह किया। फिर भी उन्हें घर जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है। ऐसे कई और उदाहरण भी हो सकते हैं। इससे ऐसा लगता है जैसे प्रदेश के मंत्री व विधायक भी क्वारन्टाइन में चले गये हैं और सरकार व उसकी मशीनरी सुप्तावस्था में चली गई है। उन्होंने कहा कि कोरोना मुक्त लोगों को जबरन क्वारन्टाइन में रखना सरासर अन्याय है। सरकार ऐसे लोगों को चिन्हित कर उनके घर भेजने की व्यवस्था करे।

यह भी पढ़ें : सोशल मीडिया पर अभद्र पोस्ट को लेकर पालिकाध्यक्ष ने कांग्रेस नेता के खिलाफ दर्ज कराई रिपोर्ट..

-पहले पालिकाध्यक्ष के खिलाफ दर्ज हुई थी रिपोर्ट, भड़के पालिकाध्यक्ष ने थाने में रात को दिया धरना
-कांग्रेस नेता पर छवि खराब कराने के लिए सोशल मीडिया पर पोस्ट डलवाने का लगाया आरोप
नवीन समाचार, गदरपुर, 23 जनवरी 2020। नगर पालिकाध्यक्ष गुलाम गौस ने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य व वरिष्ठ कांग्रेस नेता राजेंद्र पाल सिंह पाटू सहित तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। मामला पालिकाध्यक्ष के खिलाफ गत दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हुई एक पोस्ट से जुड़ा है।

उल्लेखनीय है कि गत दिवस मजराशिला निवासी हारिस पुत्र मोहम्मद अयूब की तहरीर पर पालिकाध्यक्ष के खिलाफ थाना गदरपुर में रिपोर्ट दर्ज की गई थी, जिसमें पालिकाध्यक्ष एवं पालिकाध्यक्ष के प्रतिनिधि के रूप में कार्य करने वाले तारीख एवं मोमिन सिद्दीकी के खिलाफ मारपीट एवं उसको जबरन उठाने के आरोप लगाए गए हैं। इसकी जानकारी लगने पर पालिकाध्यक्ष बीती रात्रि पालिका के सभासदों के साथ थाने पहुंचे। इस दौरान सैकड़ों लोग भी पालिकाध्यक्ष के समर्थन में पुलिस प्रशासन हाय हाय के नारे लगाते हुए थाना परिसर में ही धरने पर बैठ गए। उन्होंने थानाध्यक्ष जसविंदर सिंह पर दबाव में काम करने और एक व्यक्ति विशेष के कहने पर मुकदमा लिखे जाने के आरोप लगाए। माहौल बिगड़ता देख मौके पर पहुंची क्षेत्राधिकारी दीपशिखा अग्रवाल ने पालिकाध्यक्ष को मनाने का प्रयास किया। काफी देर की नोकझोंक के बाद भी पालिकाध्यक्ष ने दूसरे पक्ष के खिलाफ मुकदमा लिखवाया।
पालिकाध्यक्ष ने थाना गदरपुर में दी गई तहरीर में कहा है कि मजराशिला निवासी हारिस पुत्र मोहम्मद अय्यूब ने नगर में चल रहे है सोशल मीडिया के कई व्हाट्सएप ग्रुप्स में उनके विरुद्ध एक अभद्र पोस्ट डाली थी। किंतु जब इस विषय में हारिस से बात की तो वह 17 जनवरी की शाम उनके पास आया और माफी मांगने लगा, तथा बताया कि इस पोस्ट को झगड़पुरी निवासी प्रधान पति शराफत अली मंसूरी पुत्र शौकत ने उन्हें भेजी थी और नगर के कांग्रेसी नेता राजेंद्र पाल सिंह पुत्र भगत सिंह निवासी अलखदेवी ने ग्रुप में डाल कर पालिकाध्यक्ष को बदनाम करने को कहा था। पालिकाध्यक्ष गौस का यह भी कहना है कि वह निजी कार्य से करतारपुर रोड से जा रहे थे तो बस अड्डे के पास शराफत अली व राजेंद्र पाल ने उन्हें रोक लिया तथा उनके साथ मारपीट की तथा जान से मारने की धमकी दी। साथ ही उनकी छवि को खराब करने के लिए पोस्ट वायरल की।इस पर पालिकाध्यक्ष ने राजेंद्र पाल सिंह, शराफत अली मंसूरी व हारिश के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है।

यह भी पढ़ें : राजस्व अधिकारियों पर नशे में धुत हो दुर्व्यवहार करने का आरोप

नवीन समाचार, नैनीताल, 23 नवंबर 2019। अल्मोड़ा जिले की असगोली गांव निवासी महिला वंदना अधिकारी ने कुमाऊं आयुक्त राजीव रौतेला को ज्ञापन सौंपकर क्षेत्र के राजस्व अफसरों पर शराब के नशे में जबरन घर में घुसकर वृद्ध सास-ससुर के साथ धक्का-मुक्की करने का आरोप लगाया है। महिला का आरोप है कि बीती 27 सितंबर को क्षेत्र के राजस्व अधिकारियों ने शराब के नशे में बचे सिंह, रतन सिंह व उसके पति नंदन सिंह अधिकारी की दुकान में छापेमारी की। दुकान में कुछ न मिलने पर उनके घर में घुसकर छानबीन करने लगे और इस दौरान उसके वृद्ध सास-ससुर से धक्का-मुक्की की और अपशब्द भी कहे। इसकी शिकायत जिले के अधिकारियों से करने पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। महिला ने आयुक्त से इस पूरे मामले की जांच राजस्व विभाग के इतर किसी अधिकारी से कराने की मांग की है।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply

loading...