सूचना 1 : आगे भविष्य में हम तकनीकी कारणों से ह्वाट्सएप ग्रुप्स या अन्य माध्यमों से नवीन समाचारउपलब्ध नहीं करा पायेंगेे। इसलिये अभी हमारे ह्वाट्सएप चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें। 

सूचना 2: निश्चिंत रहें.. नवीन समाचार पर लगातार आ रहे ‘पॉप अपवायरस नहीं बल्कि विज्ञापन हैं। इन्हें क्लिक करके देख सकते हैं।

सूचना 3: यदि आप नवीन समाचार बिना विज्ञापन के देखना चाहते हैं तो हमारी प्रीमियम सेवा लेने के लिये यहां क्लिक करें।

(Bhookamp) उत्तराखंड में एक बार फिर धरती हिली, वहीं, जहां पहले से आई है मुसीबत…

0

Bhookamp

समाचार को यहाँ क्लिक करके सुन भी सकते हैं

नवीन समाचार, उत्तरकाशी, 15 नवंबर 2023 (Bhookamp) उत्तराखंड में एक बार फिर धरती हिली है। खास बात यह रही कि इस भूकंप के झटके उत्तरकाशी के सिलक्यारा क्षेत्र में भी महसूस किए गए हैं, जहां टनल में 40 मजदूर फंसे हुए हैं, जिनको बचाने के लिए बचाव अभियान चलाया जा रहा है।

नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी यानी राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार उत्तरकाशी में देर रात 2 बजकर 2 मिनट 10 सेंकड पर आय इस भूकंप (Bhookamp) की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 3.1 मापी गई है। इसका केंद्र के जमीन के अंदर पांच किलोमीटर की गहराई में था।

उल्लेखनीय है कि उत्तरकाशी में 12 नवंबर की सुबह चार धाम प्रोजेक्ट के तहत बन रही टनल में एक हिस्सा धंस गया था। इस मलबे में 40 मजदूर सुरंग में 200 मीटर आगे पिछले 4 दिनों से हर पल मौत से जूझ रहे हैं। अच्छी बात ये है कि अभी सभी 40 मजदूर सुरक्षित बताए जा रहे हैं। अलबत्ता उनके ठीक आगे 50 मीटर तक मलबा फैला है। बचाव दल के सदस्यों के लिए यह भी सबसे बड़ी चुनौती है कि टनल का हिस्सा काफी कमजोर है। उन्हें बचाने के लिये दिल्ली से 3 हरक्यूलिस विमानों से बुधवार को अत्याधुनिक अमेरिकी मशीनें पहुंच गयी हैं।

जोन चार और पांच में है उत्तराखंड का ज्यादातर इलाका
वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी के भूकंप विज्ञानियों की मानें तो उत्तराखंड भूकंप के लिहाज से बेहद संवेदनशील है। उत्तराखंड का ज्यादातर इलाका भूकंप के लिहाज से जोन चार और पांच में हैं। इसलिए बार-बार भूकंप की घटनाएं देखने को मिल रही हैं।

क्यों आता है भूकंप (Bhookamp) ?
वैज्ञानिक रूप से समझने के लिए हमें पृथ्वी की संरचना को समझना होगा। पृथ्वी टैक्टोनिक प्लेटों पर स्थित है। इसके नीचे तरल पदार्थ लावा है और इस पर टैक्टोनिक प्लेट्स तैरती रहती हैं। कई बार ये प्लेट्स आपस में टकरा जाती हैं। बार-बार टकराने से कई बार प्लेट्स के कोने मुड़ जाते हैं और ज्यादा दबाव पड़ने पर ये प्लेट्स टूटने लगती हैं। ऐसे में नीचे से निकली ऊर्जा बाहर की ओर निकलने का रास्ता खोजती है। जब इससे डिस्टर्बेंस बनता है तो इसके बाद भूकंप (Bhookamp) आता है।

कैसे मापी जाती है तीव्रता?
भूकंप को रिक्टर स्केल पर मापा जाता है। रिक्टर स्केल भूकंप (Bhookamp) की तरंगों की तीव्रता मापने का एक गणितीय पैमाना होता है, इसे रिक्टर मैग्नीट्यूड टेस्ट स्केल कहा जाता है। रिक्टर स्केल पर भूकंप को इसके केंद्र यानी एपीसेंटर से 1 से 9 तक के आधार पर मापा जाता है। ये स्केल भूकंप के दौरान धरती के भीतर से निकली ऊर्जा के आधार पर तीव्रता को मापता है।

जानें रिक्टर पैमाने पर भूकंप (Bhookamp) की तीव्रता के हिसाब से क्या हो सकता है असर:
– 0 से 1.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप (Bhookamp) आने पर सिर्फ सीज्मोग्राफ से ही पता चलता है।
– 2 से 2.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप (Bhookamp) आने पर हल्का कंपन होता है।
– 3 से 3.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप (Bhookamp) आने पर कोई ट्रक आपके नजदीक से गुजर जाए, ऐसा असर होता है।
– 4 से 4.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप (Bhookamp) आने पर खिड़कियां टूट सकती हैं। दीवारों पर टंगे फ्रेम गिर सकते हैं।
– 5 से 5.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप (Bhookamp) आने पर फर्नीचर हिल सकता है।
– 6 से 6.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप (Bhookamp) आने पर इमारतों की नींव दरक सकती है। ऊपरी मंजिलों को नुकसान हो सकता है।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें। 

यहाँ क्लिक कर सीधे संबंधित को पढ़ें

यह भी पढ़ें : रात्रि में नेपाल में आया 6.4 तीव्रता का बड़ा भूकंप (Bhookamp), इसके बाद आ रहे हैं आफ्टर शॉक्स…

नवीन समाचार, नैनीताल, 4 नवंबर 2023। बीती रात्रि पड़ोसी देश नेपाल में एक बार फिर भूकंप (Bhookamp) का बड़ा झटका आया है। इसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 6.4 आंकी गयी है। हालांकि इसका केंद्र उत्तराखंड नहीं बल्कि नेपाल-उत्तर प्रदेश की सीमा पर रहा है। इस भूकंप में नेपाल में अब तक करीब 157 लोगों की मौत हो चुकी है और 150 से अधिक लोग घायल हुए हैं। इसमें 36 मौतें रुकुम पश्चिम और 34 लोगों ने जाजरकोट में हुई हैं। अधिकारियों का कहना है कि मृतकों का आंकड़ा बढ़ भी सकता है।

नेपाल में आए इस भूकंप के झटके दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, पंजाब और बिहार की राजधानी पटना में भी महसूस किए गए। इसका केंद्र नेपाल में काठमांडू से 331 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में 10 किलोमीटर जमीन के नीचे था। भारत में भूकंप से अभी तक किसी तरह के जान-माल के नुकसान की खबर नहीं है। इसके बाद भी आफ्टर शॉक्स आते जा रहे हैं। अब तक दो झटके (Bhookamp)  3.5 व 3.8 तीव्रता के आ चुके हैं।

राष्ट्रीय भूकंपमापी केंद्र से प्राप्त जानकारी के अनुसार पहला झटका (Bhookamp) रात्रि 11 बजकर 32 मिनट 54 सेकेंड पर आया। इसकी तीव्रता 6.4 रही। इसका केंद्र धरती की 10 किमी की गहराई पर था। इसे दिल्ली से लेकर उत्तर प्रदेश और बिहार के साथ उत्तराखंड में भी महसूस किया गया। हल्द्वानी-नैनीताल में भी भूकंप के झटके महसूस किये गये। 

जबकि इसके बाद रात्रि 12 बजकर 14 मिनट 51 सेकेंड सेकेंड पर 3.5 तीव्रता का धरती की 10 किमी की गहराई से और तीसरा 3.5 तीव्रता का सुबह 4 बजकर 1 मिनट 36 सेकेंड पर धरती की 15 किमी की गहराई से आया था।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में आज फिर 4 तीव्रता के भूकंप (Bhookamp) से डोली धरती, लोग घरों से बाहर निकल आये, आपने महसूस किया ?

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 अक्टूबर 2023। उत्तराखंड में सप्ताह के पहले दिन सोमवार की सुबह-सुबह एक बार फिर भूकंप (Bhookamp) के झटके महसूस हुये हैं। झटके इतने जोर के थे कि लोग घरों से बाहर निकल आये।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार सुबह पिथौरागढ़ जनपद के नेपाल सीमा से लगे क्षेत्रों में तेज और जिला मुख्यालय सहित लगभग सभी क्षेत्रों में नौ बजकर 11 मिनट पर भूकंप (Bhookamp) का बड़ा झटका महसूस हुआ। इससे लोग घरों से बाहर निकल आये।

उधर, राष्ट्रीय भूकंप मापी केंद्र से प्राप्त जानकारी के अनुसार भूकंप (Bhookamp) के झटके पिथौरागढ़ से 48 किलोमीटर की दूरी पर नेपाल में भारत-नेपाल सीमा के निकट आया। इसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4 आंकी गयी है, जबकि इसका केंद्र धरती के भीतर केवल 5 किलोमीटर की गहराई पर था।

उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व रविवार को हिमालयी क्षेत्र में ही स्थित भारत की सीमा से लगे अफगानिस्तान में भूकंप (Bhookamp) के 4 झटके आये। इनकी तीव्रता नेपाल में आये भूकंप (Bhookamp) से भी अधिक 4.2, 4.3, 5.5 व 6.2 की थी। जबकि एक झटका हरियाणा के फरीदाबाद में भी 3.1 तीव्रता का आया है। नेपाल पिछले सप्ताह भी भूकंप (Bhookamp) के बडे झटके से काफी नुकसान झेल चुका है। ऐसे में चिंता लगातार बनी हुई है।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : आज फिर पड़ोस में लगातार आ रही भूकंप (Bhookamp) के झटके, आ चुके 10 झटके, इनमें कई 6 तीव्रता के भी, उत्तराखंड भी सशंकित !

नवीन समाचार, नैनीताल, 7 अक्टूबर 2023। शनिवार को पड़ोसी देश नेपाल और अफगानिस्तान में लगातार (Bhookamp) झटके आ रहे हैं। अब तक 10 इनमें से 4 झटकों की तीव्रता लगभग 6 रही है। जबकि 3 छोटे झटके मध्य प्रदेश में भी आ चुके हैं। ऐसे में उत्तराखंड भी निकट भविष्य में भूकंपों के झटकों के प्रति आशंकित है। राज्य में भी कुछ लोग आज भूकंप के हल्के झटके महसूस करने की बात कह रहे हैं।

Bhookampनेशनल सेंटर ऑफ सीस्मोलॉजी से प्राप्त जानकारी के अनुसार आज सुबह तड़के 3 बजकर 1 मिनट पर नेपाल में 3 तीव्रता का झटका आया। इसके बाद मध्य प्रदेश के सिवनी में सुबह 6 बजकर 3 मिनट, 7 बजकर 35 मिनट और 7 बजकर 44 मिनट पर 1.8, 2.0 व 2.3 तीव्रता के आये। इसके बाद नेपाल में सुबह 11.30 बजे 4.9 तीव्रता का और 11.51 बजे 3 तीव्रता के झटके आये।

जबकि इसके बाद लगातार चार झटके अफगानिस्तान में 12.11, 12.19, 12.42 व 1.10 बजे क्रमशः 6.1, 5.6, 6.2 व 5.9 तीव्रता के आये हैं। नेपाल का 3 तीव्रता वाला और अफगानिस्तान वाले झटकों को उत्तराखंड में भी हल्का महसूस किये जाने की बात कही जा रही है।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : Bhookamp : आज फिर आया उत्तराखंड में 3.2 तीव्रता के भूकंप का झटका…

नवीन समाचार, नैनीताल, 5 अक्टूबर 2023 (Bhookamp) दो दिन पूर्व उत्तराखंड की सीमा से लगे नेपाल के बजांग क्षेत्र में आये 6.2 तीव्रता के भूकंप के बड़े झटके के बाद से लगातार नेपाल व उत्तराखंड में भूकंप के लगातार झटके आ रहे हैं। इसी कड़ी में उत्तराखंड में लगातार दूसरे दिन भूकंप का झटका महसूस हुआ है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गुरुवार सुबह तड़के जब लोग नींद में थे, तभी उत्तराखंड के यमुनाघाटी क्षेत्र में लोगों की नींद भूकंप के झटके से टूट गयी। राष्ट्रीय भूकंपमापी केंद्र के अनुसार सुबह 3 बजकर 49 मिनट 47 सेकेंड पर आये इस भूकंप का केंद्र उत्तराखंड के उत्तरकाशी जनपद में 31.0 डिग्री अक्षांश व 78.29 डिग्री देशांतर पर धरती की केवल 5 किलोमीटर की गहराई में था और इसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 3.2 थी। अलबत्ता अब तक इस भूकंप से किसी तरह के नुकसान की सूचना नहीं है।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पड़ोसी राष्ट्र नेपाल में सुबह से आये भूकंप (Bhookamp) के 12 झटकों के बाद उत्तराखंड में भी आया एक झटका, जानें उत्तराखंड के लिये क्या हैं मायने…?

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 4 अक्टूबर 2023 (Bhookamp)। पड़ोसी राष्ट्र नेपाल में बुधवार अपराह्न आये 6.2 तीव्रता के भूकंप ने उत्तराखंड सहित देश की राजधानी दिल्ली को भी हिला दिया था। गौरतलब है कि भले चर्चा भूकंप के इस एक झटके की हो रही हो, लेकिन इसके अलावा भी नेपाल के उत्तराखंड से लगे बजांग क्षेत्र में कल से 12 और आज गुरुवार को भी रात्रि 12 बजे के बाद से  3.8, 3.3, 3.7, 3.4 व 3.1 तीव्रता के 5 झटके आने का समाचार प्रमुखता से प्रकाशित किया था,  लेकिन इसके बाद आज उत्तराखंड में भी एक और नेपाल में दो भूकंप के झटके और आये हैं।

नेशनल सेंटर ऑफ सीस्मोलॉजी से प्राप्त जानकारी के अनुसार आज सुबह उत्तराखंड के चमोली में 10 बजकर 55 मिनट 32 सेकेंड पर 2.6 तीव्रता का और नेपाल में अपराह्न एक बजकर 17 मिनटर 57 सेकेंड पर 2.5 तीव्रता का और 3 बजकर 24 मिनट 22 सेकेंड पर 3.2 तीव्रता का भूकंप आया है।

ऐसे में यह जानना महत्वपूर्ण है कि नेपाल में आ रहे भूकंप के यह झटके उत्तराखंड पर क्या प्रभाव डालने वाले हो सकते हैं। ऐसे में यह जानना महत्वपूर्ण है कि नेपाल में आ रहे भूकंप के यह झटके उत्तराखंड पर क्या प्रभाव डालने वाले हो सकते हैं।

उल्लेखनीय है कि नेपाल और उत्तराखंड दोनों उस यूरेशियन-इंडियन प्लेट की सर्वाधिक भूगर्भीय हलचल वाली एमसीटी यानी मेन सेंट्रल थ्रस्ट पर स्थित हैं, जो बुधवार को नेपाल में आये भूकंप और पूरी हिमालय क्षेत्र में भूकंपों और भूगर्भीय हलचलों का सबसे बड़ा कारण है। और यही कारण है, जिसके चलते उत्तराखंड और नेपाल का बड़ा क्षेत्र भूकंपों के दृष्टिकोण से सर्वाधिक खतरनाक जोन-पांच में आता है। इसके अलावा भी उत्तराखंड में पिछले 200 वर्षों में बड़े भूकंप न आने के कारण बड़ा साइस्मिक गैप उत्पन्न हो गया है, और इसलिए यहां बड़े भूकंपों की संभावना लगातार बढ़ती जा रही है।

चिंता के बढ़ने का कारण इसलिये भी अधिक है कि उत्तराखंड में पिछले 200 वर्षों में इस श्रेणी के ‘ग्रेट अर्थक्वेक” नहीं आए हैं। इस क्षेत्र में सबसे बड़ा भूकंप 1905 में कांगड़ा (हिमांचल प्रदेश) में आया था। उत्तराखंड को इस लिहाज से ‘लॉक्ड सेगमेंट” भी कहा जाता है। भूवैज्ञानिक 1905 में कांगड़ा में आये भूकंप के बाद से उत्तराखंड में बड़ा भूकंप न आने के कारण यहां केंद्रीय कुमाऊं (अल्मोड़ा व बागेश्वर जनपद) एवं देहरादून में बड़े भूकंप आने की संभावना लगातार जताते रहे हैं।

इस भूकंप को जबकि 120 वर्षों से अधिक का समय हो चुका है, और औसतन 100 वर्ष में भूकंप आने की बात कही जाती है, इसलिये ऐसे भूकंप की आशंका वैज्ञानिकों द्वारा जताई जा रही है। गौरतलब है कि इस बीच 1991 में उत्तरकाशी व 1999 के चमोली में बड़े भूकंप आये थे, लेकिन उन्हें भी कम तीव्रता के भूकंपों की श्रेणी में ही गिना जाता है।

कुमाऊं विवि के भूविज्ञान विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रो. चारु चंद्र पंत के अनुसार नेपाल और उत्तराखंड की भूगर्भीय परिस्थितियां, चट्टानें देशों की सीमाओं से इतर भूगर्भीय दृष्टिकोण से बिलकुल एक जैसी हैं। ऐसी स्थितियों का सामना घबराने के बजाय आवश्यक सुरक्षा प्रबंधों के जरिये करने की जरूरत है।

वहीं कुमाऊं विवि के भूविज्ञान विभाग के भूगर्भ वैज्ञानिक प्रो. राजीव उपाध्याय ने बताया कि बुधवार के बड़े भूकंप के बाद लगातार आ रहे भूकंप के झटकों से डरने की आवश्यकता नहीं है। बल्कि यह यह एक तरह से भूगर्भ में मौजूद ऊर्जा को अवमुक्त करने के लिहाज से लाभदायक ही हैं। उन्होंने बताया कि बड़े भूकंप के बाद कई बार कुछ दिनों तो कई बार कुछ माह तक भी छोटी तीव्रता के ‘आफ्टर शॉक्स’ कहे जाने वाले छोटे भूकंप आते रहते हैं।

नेपाल से कम खतरनाक नहीं उत्तराखंड…. जानें क्यों ?

Click for a detail Report on Earthquake in PDF Format

नैनीताल। भारत देश में भूकंपों और भूगर्भीय हलचलों का मुख्य कारण भारतीय प्लेट के उत्तर दिशा की ओर बढ़ते हुए तिब्बती प्लेट में धंसते जाने के कारण है। बताया जाता है कि करीब दो करोड़ वर्ष पूर्व भारतीय प्लेट उत्तरी पाकिस्तान के कोईस्तान से लेकर भारत के लद्दाख व दक्षिणी तिब्बत के पास सिंधु नदी से लगे ‘इंडस-सांग्पो सूचर’ क्षेत्र में तिब्बती प्लेट से टकराई थी, और इसी कारण उस दौर के टेथिस महासागर में इन दोनों प्लेटों की भीषण प्लेट से आज के हिमालय का जन्म हुआ था।

ऐसा होता है मूल भूकंप मापी यन्त्र
ऐसा होता है मूल भूकंप मापी यन्त्र

आज भी दोनों प्लेटों के बीच यह गतिशीलता बनी हुई है, और इसकी गति करीब 55 मिमी प्रति वर्ष है। इसके प्रभाव में ही गंगा-यमुना के मैदानों को शिवालिक पर्वत श्रृंखला से अलग करने वाले हिमालया फ्रंटल थ्रंस्ट, शिवालिक व लघु हिमालय को अलग करने वाले, नैनीताल के बल्दियाखान-बजून के पास से गुजरने वाली मेन बाउंड्री थ्रस्ट (एमबीटी) मौजूद हैं। 

इसी तरह आगे रामगढ़ थ्रस्ट, साउथ अल्मोड़ा थ्रस्ट, नार्थ अल्मोड़ा थ्रस्ट, बेरीनाग थ्रस्ट व मध्य हिमालय से उच्च हिमालय को विभक्त करने वाले, उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जनपद में धारचूला व मुन्स्यारी में बिर्थी फॉल से लेकर जोशीमठ के हेलंग व हिमांचल प्रदेश के कुल्लू-मनाली क्षेत्र से गुजरने वाली एमसीटी यानी मेन सेंट्रल थ्रस्ट (एमसीटी) जैसे विभिन्न टैक्टोनिक सेगमेंट्स भी आपस में उत्तर दिशा की ओर खिसक रहे हैं।

इसके अलावा भू वैज्ञानिकों के अनुसार मध्य हिमालय में स्थित उत्तराखंड को अपेक्षाकृत युवा पहाड़ कहा जाता है। हिमालय में अधिकतम 3800 मिलियन वर्ष पुरानी चट्टानें पाई गई हैं। जबकि मध्य हिमालय का क्षेत्र 560 मिलियन वर्ष पुराना बताया जाता है। यहां यह भी एक अनोखी बात यहां दिखती है कि अपेक्षाकृत पुराना मध्य हिमालय अपने से नये केवल 15 मिलियन वर्ष पुराने शिवालिक पहाड़ों के ऊपर स्थित हैं। इस प्रकार यहां कठोर व कमजोर पहाड़ों की एक-दूसरे के अंदर समाने की सतत प्रक्रिया व टक्कर के कारण उत्पन्न तनाव से भूगर्भ में भारी मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न हो रही है।

गौरतलब है कि भूमि की परतों के एक-दूसरे में समाने की यह प्रक्रिया धरती के भीतर लीथोस्फेरिक व ऐस्थेनोस्फियर परतों के बीच होती है। इससे भूगर्भ में अत्यधिक मात्रा में ऊर्जा एकत्र होती है, जो ज्वालामुखी तथा भूकंपों के रूप में बाहर निकलती है।

चूंकि भारतीय व तिब्बती प्लेटें उत्तराखंड के करीब से एक-दूसरे में समा रही हैं, इसलिये यहां भूकंपों का खतरा अधिक बढ़ जाता है। इधर यह खतरा इसलिये भी बढ़ता जा रहा है कि बीते 200 वर्षों में वर्ष 1905 के कांगड़ा व 1934 के ‘ग्रेट आसाम अर्थक्वेक” के बाद के 120 वर्षों में यहां आठ से अधिक तीव्रता के भूकंप नहीं आऐ हैं, लिहाजा धरती के भीतर बहुत बड़ी मात्रा में ऊर्जा बाहर निकलने को प्रयासरत है।

अपेक्षा से कहीं अधिक है भूगर्भ में ऊर्जा

भूवैज्ञानिकों के अनुसार अकेले एमसीटी ही अरुणांचल प्रदेश के नामचा बरुआ पर्वत से पाक अधिकृत कश्मीर के नंगा पर्वत तक करीब 2500 किमी लंबाई और करीब 60-65 किमी चौड़ाई में अनेकों दरारों के रूप में मौजूद है। इतने बड़े क्षेत्रफल के एक-दूसरे में धंसने-समाने के फलस्वरूप कितनी अधिक मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न होती होगी, इसका अंदाजा लगाना भी आसान नहीं है।

इसका अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि रिक्टर स्केल पर एक और दो तीव्रता के भूकंपों के बीच 31.5 गुना अधिक भूगर्भीय ऊर्जा बाहर निकलती है, जबकि एक से तीन तीव्रता के भूकंपों के बीच ऊर्जा का अंतर 31.5 गुणा 31.5 गुना होता है। इसी प्रकार एक और आठ तीव्रता के भूकंप की ऊर्जा का अंतर ज्ञात करने के लिए 31.5 को आपस में आठ बार गुणा करना होगा।

यह हैं उत्तराखंड में भूगर्भीय संवेदनशीलता के कारण
नैनीताल। भारत देश में भूकंपों और भूगर्भीय हलचलों का मुख्य कारण भारतीय प्लेट के उत्तर दिशा की ओर बढ़ते हुए तिब्बती प्लेट में धंसते जाने के कारण है। बताया जाता है कि करीब दो करोड़ वर्ष पूर्व भारतीय प्लेट तिब्बती प्लेट से टकराई थी, और इसी कारण उस दौर के टेथिस महासागर में इन दोनों प्लेटों की भीषण प्लेट से आज के हिमालय का जन्म हुआ था। आज भी दोनों प्लेटों के बीच यह गतिशीलता बनी हुई है, और इसकी गति करीब 55 मिमी प्रति वर्ष है।

इसके प्रभाव में ही गंगा-यमुना के मैदानों को शिवालिक पर्वत श्रृंखला से अलग करने वाले हिमालया फ्रंटल थ्रंस्ट, शिवालिक व लघु हिमालय को अलग करने वाले, नैनीताल के बल्दियाखान-बजून के पास से गुजरने वाली मेन बाउंड्री थ्रस्ट (एमबीटी), इसी तरह आगे रामगढ़ थ्रस्ट, साउथ अल्मोड़ा थ्रस्ट, नार्थ अल्मोड़ा थ्रस्ट, बेरीनाग थ्रस्ट व मध्य हिमालय से उच्च हिमालय को विभक्त करने वाले मेन सेंट्रल थ्रस्ट (एमसीटी) जैसे विभिन्न टैक्टोनिक सेगमेंट्स भी आपस में उत्तर दिशा की ओर खिसक रहे हैं।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : Bhookamp : नेपाल में आये भूकंप के 4 झटकों से नैनीताल भी हिला…

नवीन समाचार, नैनीताल, 3 अक्टूबर 2023 (Bhookamp)। मंगलवार को नेपाल में भूकंप के 4 झटके आये। इनके प्रभाव से नैनीताल में भी धरती हिलती हुई नजर आयी। यहां एक बड़े झटके के दौरान तो घरों की दूसरी-तीसरी मंजिलों पर मौजूद लोग घबरा गये और घरों से बाहर निकल आये। इस दौरान घरों के बाहर लगी लोहे की रेलिंग भी हिलती नजर आयी। हल्द्वानी में भी खासकर बहुमंजिला भवनों में लोग भूकंप के झटकों से हिल गये और घरों से नीचे चले आये।

(Bhookamp)नेशनल सेंटर ऑफ सीस्मोलॉजी से प्राप्त जानकारी के अनुसार पहला झटका अपराह्न दो बजकर 25 मिनट 52 सेकेंड पर धरती की 10 किलोमीटर की गहराई से रिक्टर स्केल पर 4.6 तीव्रता का आया। इसके बाद दूसरा सबसे बड़ा झटका 2 बजकर 51 मिनट 4 सेकेंड पर रिक्टर स्केल पर 6.2 तीव्रता का धरती के भीतर मात्र 5 किलोमीटर की गहराई से आया।

वहीं इसके बाद भी दो और झटके 3 बजकर 6 मिनट 7 सेकेंड पर व 3 बजकर 19 मिनट 45 सेकेंड पर धरती के भीतर 15 किलोमीटर की गहराई से 3.6 तीव्रता और 10 किलोमीटर की गहराई से 3.1 तीव्रता के आये। इनमें से 2 बजकर 51 मिनट 4 सेकेंड पर आये रिक्टर स्केल पर 6.2 तीव्रता के दूसरे झटके को नैनीताल में भी महसूस किया गया। अलबत्ता किसी तरह के नुकसान की सूचना नहीं है।

उल्लेखनीय है कि इसके बाद भी नेपाल में 5 बजकर 4 मिनट पर 4.3, 5 बजकर 23 मिनट पर 3.9 व 7 बजकर 29 मिनट पर 3 तीव्रता के जबकि एक अन्य भूकंप का झटका अफगानिस्तान में 4 बजकर 29 मिनट पर 4.7 तीव्रता का आया है। यानी ऐसा लगता है कि उत्तर भारत के निकट लगातार भूकंपों के झटके आ रहे हैं।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : Bhookamp : पिछले कुछ घंटों में 2 बार डोली 2 जिलों की धरती, आपने महसूस की…?

नवीन समाचार, नैनीताल, 25 सितंबर 2023। बीते कुछ घंटों में उत्तराखंड की धरती दो बार भूकंप से डोली है। उत्तराखंड के दो जिलों में भूकंप (Bhookamp) आया है। चीन के कब्जे वाले देश तिब्बत से लगे उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में भूकंप आया।

उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में स्थित बागेश्वर जिले में देर रात 12 बजकर 36 मिनट 46 सेकेंड पर भूकंप आया। जमीन की सतह से 5 किलोमीटर की गहराई पर आये इस भूकंप की रिक्टर स्केल पर तीव्रता 2.1 मैग्नीट्यूड मापी गयी है।

जबकि दूसरा झटका चीन सीमा से लगे उत्तरकाशी जिले में सुबह 8 बजकर 35 मिनट 54 सेकेंड पर आया है। जमीन की सतह से 5 किलोमीटर की ही गहराई पर आये इस भूकंप की रिक्टर स्केल पर तीव्रता 3 मैग्नीट्यूड मापी गयी है। बताया गया है कि उत्तरकाशी जनपद में 6 महीने में 8वीं बार भूकंप आ गया है।

हालांकि इन दोनों भूकंप की रिक्टर स्केल पर तीव्रता अधिक नहीं है, लेकिन यह अपेक्षाकृत कम गहराई से आये थे। अभी तक इन भूकंपों की वजह से किसी तरह के नुकसान का सामचार नहीं है। अलबत्ता भूकंप के ये झटके किसी बड़े भूकंप की आहट माने जा रहे हैं। भूवैज्ञानिकों छोटे भूकंपों के बाद बड़े भूकंप के आने की आशंका जताते रहते हैं।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : अभी शाम को उत्तराखंड में आया भूकंप-Bhookamp, आपने महसूस किया, जानें कहां था केंद्र व कितनी थी तीव्रता ?

नवीन समाचार, नैनीताल, 23 जुलाई 2023। रविवार को एक बार फिर उत्तराखंड में भूकंप (Bhookamp) आया। पिथौरागढ़ में भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप की तीव्रता 3.2 मापी गई। भूकंप के झटके महसूस होते ही लोग घरों से बाहर निकल अये। इस दौरान अफरा-तफरी का माहौल बना रहा। फिलहाल, भूकंप से किसी तरह की कोई जान माल की नुकसान की कोई सूचना नहीं है।

Bhookampप्राप्त जानकारी के अनुसार भूकंप रविवार शाम 6 बजकर 34 मिनट पर आया। जिसका केंद्र जमीन से पांच किलोमीटर नीचे पिथौरागढ़ में ही था। उल्लेखनीय है कि 22 जनवरी और 11 मई को भी पिथौरागढ़ में 3.5 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। इसलिए पिथौरागढ़ में एक बार फिर से भूकंप आने के बाद लोगों में दहशत है।

(डॉ. नवीन जोशी)आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। यदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : होली के दिन भी उत्तराखंड में भूकंप (Bhookamp) के कई झटके महसूस किये जाने के दावे, कितने सच्चे-कितने झूठे ?

नवीन समाचार, उत्तरकाशी, 8 मार्च 2023। उत्तराखंड में पिछले कुछ दिनों से बढ़ी भूकंपों (Bhookamp) की सक्रियता बुधवार को होली के दिन भी जारी रहने का दावा किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि उत्तरकाशी में होली के दिन भूकंप के कई झटके महसूस किए गए।  यह भी पढ़ें : नैनीताल पुलिस ने तत्परता से दर्दनाक सड़क दुर्घटना में एक परिवार के तीन पर्यटकों की बचाई जान

स्थानीय लोगों ने दावा किया कि पहला झटका रात 12 बजकर 40 मिनट पर, दूसरा झटका इसके पांच मिनट बाद 12.45 मिनट पर व तीसरा झटका 1 बजकर 1 मिनट पर महसूस किया गया। वहीं बुधवार को भी सुबह 10 बजकर 7 मिनट पर भी एक झटका महसूस किया गया। इस दौरान कुछ लोगों ने अचानक किचन में रखे कुछ बर्तन गिरने और कुछ ने घरों से बाहर निकलने जैसे दावे भी किये। यह भी पढ़ें : नैनीताल: जिला चिकित्सालय के दो चिकित्सकों सहित राज्य के 92 चिकित्सकों की सेवाएं समाप्त

हालांकि राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार मंगलवार की मध्य रात्रि के बाद रात्रि 1.40 बजे पहला झटका अफगानिस्तान में 4.2 तीव्रता का, दूसरा 3.08 बजे 2.4 तीव्रता का नेपाल में, तीसरा 3.59 बजे आसाम के कामरूप जिले में 3.2 तीव्रता का, चौथा सुबह 5.27 बजे तजाकिस्तान में 4.3 तीव्रता का, पांचवा सुबह 9.05 मिनट पर संागली महाराष्ट्र में, छठा म्यामार में 10.38 बजे 3.9 तीव्रता का और सातवां झटका अपराह्न 4.12 बजे तजाकिस्तान में 4.4 तीव्रता का आया। यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में यहां होली पर ‘चीर हरण’ की भी है परंपरा…

यानी उत्तराखंड में एक भी झटका नहीं आया। ऐसे में सवाल उठ रहा कि क्या वास्तव में उत्तराखंड में भूकंप के झटके आये और राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र इन्हें रिकॉर्ड नहीं कर पाया या भूकंप की संभावना से आशंकित उत्तराखंडवासी भूकंपों के प्रति इतने डरे हुए हैं कि भूकंप न आने के बावजूद झटके महसूस कर रहे हैं। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बड़ा समाचार उत्तराखंड : रात्रि में फिर भूकंप (Bhookamp) के झटके, कई बार घरों से बाहर निकले लोग, आप ने महसूस किये…?

नवीन समाचार, उत्तरकाशी, 5 मार्च 2023 (Bhookamp) । बीती रात्रि उत्तराखंड के भूकंपों के दृष्टिकोण से अति संवेदनशील उत्तरकाशी जनपद के लोग सोते हुए कई बार जाग गए और घरों से बाहर निकल आए। कई लोगों ने रात्रि में 5 बार भूकंप के झटके महसूस करने का दावा किया। हालांकि भूकंप के झटके हलके थे। अब तक इनसे किसी तरह के नुकसान की सूचना नहीं है, लेकिन लोग बड़े भूकंप की आशंका से सहमे रहे। यह भी पढ़ें : सीएम के गृह क्षेत्र के तीन अधिकारियों पर बड़ी कार्रवाई, तीनों नैनीताल संबद्ध

वहीं नेशनल सेंटर ऑफ सीस्मोलॉजी यानी राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार रात्रि में उत्तरकाशी जनपद में मध्यरात्रि 12 बजकर 45 मिनट 7 सेकेंड पर भूकंप का एक हल्का, रिक्टर स्केल पर 2.5 तीव्रता का झटका आया। इसका केंद्र 30.75-78.49 अक्षांस-देशांतर पर धरती के भीतर केवल 5 किलोमीटर अंदर था। यह भी पढ़ें : डीजीपी की बड़ी कार्रवाई: चार उप निरीक्षकों पर गिरी गाज….

हालांकि इसके अलावा रात्रि तीन बजकर 51 मिनट 46 सेकेंड पर नेपाल में धरती के भीतर 10 किमी अंदर 2.8 रेक्टर स्केल तीव्रता का और तजाकिस्तान में 11 बजकर 3 मिनट पर 4.1 तीव्रता का और आज सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर 4.3 तीव्रता के भूकंप भी आस-पड़ोस में आए हैं। हो सकता है कि पहले से ही भयग्रस्त उत्तरकाशी वासियों ने इन झटकों को भी महसूस किया हो। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें (Bhookamp) : आज फिर उत्तराखंड के 6 घंटे के भीतर दो जिलों में आए भूकंप के झटके, आपने महसूस किए…

नवीन समाचार, नैनीताल, 2 मार्च 2023 (Bhookamp) । बार-बार भूकंप के बड़े झटके के प्रति आशंकित उत्तराखंड के दो जिलों में आज गुरुवार को 6 घंटों के भीतर दो जिलों में भूकंप के झटके महसूस की गई है। दोनों झटकों का केंद्र धरती के भीतर केवल 5 किलोमीटर अंदर रहा है, लेकिन दोनों झटकों की तीव्रता 3 से कम रही है, इसलिए अभी इससे किसी नुकसान का समाचार नहीं है। यह भी पढ़ें : 2 शादियां कर चुके पिता ने अपने भाई सहित अपनी 9 वर्षीय बच्ची से किया दुष्कर्म, अब बना रहे समझौते का दबाव, हाईकोर्ट नहीं माना…

आज पहला भूकंप का झटका बागेश्वर जनपद में सुबह तड़के 4 बजकर 47 मिनट 47 सेकेंड पर आया। इसका केंद्र बागेश्वर जिले में 29.77 व 79.77 डिग्री अक्षांस-देशांतर पर धरती के केवल 5 किलोमीटर अंदर से आया। इसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 2.6 आंकी गई है। यह भी पढ़ें : सप्ताह भर का रिस्क लेकर करें रुपये दोगुने, अब बिना यूएसडीटी में बदले-सीधे मात्र 2000 रुपए से भी जुड़ सकते हैं डोकोडेमो में

वहीं दूसरा झटका इसके करीब 6 घंटे के बाद पौड़ी गढ़वाल में 10 बजकर 31 मिनट 39 सेकेंड पर आया। इसका केंद्र 30.22-78.79 अक्षांश-देशांतर पर धरती से पांच किलोमीटर अंदर था। इसकी तीव्रता 2.4 आंकी गई है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें (Bhookamp) : आज सुबह से पड़ोस में लगातार 14 भूकंप के झटके, इनमें एक 6.8 तीव्रता का महाभूकंप भी, बड़े नुकसान की संभावना

Imageनवीन समाचार, नैनीताल, 22 फरवरी 2023 (Bhookamp) । आज सुबह जब लोग सुबह उठने जा रहे थे, तब से आज भारत के पड़ोसी देश ताजिकिस्तान, अफगानिस्तान और भारत के अरुणांचल प्रदेश में 14 भूकंप के झटके आ चुके हैं। इनमें एक 6.8 व 7 तीव्रता का भी बताया जा रहा है। सभी झटकों की जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें। यह भी पढ़ें : नैनीताल: 10 बच्चों के पिता पर दूसरी शादी करने का शक, पति-पत्नी आपस में हाथापाई करने के बाद पहुंचे थाने

शुरुवाती जानकारी के अनुसार यूएस जियोलॉजिकल सर्वे के अनुसार गुरुवार सुबह 6 बजकर 7 मिनट पर भूकंप से धरती कांप उठी। यह भूकंप बेहद शक्तिशाली था। भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 6.8 तीव्रता रही और भूकंप का केंद्र तजाकिस्तान के मुर्घोब शहर के 67 किलोमीटर पश्चिम व अफगानिस्तान के फैजाबाद से 265 किलोमीटर दूर 20 किलोमीटर गहराई में था। यह भी पढ़ें : कोर्ट परिसर में जीजा-साले के बीच चले लात-घूंसे, वजह पुलिस ने बताई….

वहीं चीनी भूकंप नेटवर्क सेंटर ने कहा कि भूकंप की तीव्रता 7.2 थी और इसकी गहराई जमीन के 10 किलोमीटर नीचे थी। गौरतलब है कि विभिन्न भूकंप एजेंसियों द्वारा शुरुआती भूकंपीय माप अक्सर अलग होती है। बताया गया है कि यह क्षेत्र अधिक आबादी वाला नहीं है। फिर भी भूकंप जितना अधिक शक्तिशाली है, आशंका है कि इससे बड़े स्तर पर जान माल का नुकसान हो सकता है। यह भी पढ़ें : नैनीताल: पुलिस ने शराब पीकर दुर्घटना करने वाले चालक को किया गिरफ्तार, वाहन किया सीज, लाइसेंस निरस्त करने की भी कार्रवाई…

इधर नेशनल सेंटर ऑफ सीस्मोलॉजी के अनुसार आज सुबह पहला भूकंप रात्रि 1.41 बजे अफगानिस्तान में 3.8 तीव्रता का आया। इसके बाद भारत के अरुणांचल प्रदेश के पश्चिमी कामिंग में सुबह 2 बजकर 25 मिनट पर 3.1 तीव्रता का भूकंप आया। इसके बाद तजाकिस्तान में सुबह 6 बजकर 7 मिनट पर 6.7 तीव्रता का, 6.36 बजे 4.7 तीव्रता का, 7 बजकर 5 मिनट पर 5.2 तीव्रता का और 7 बजकर 37 मिनट पर 4.8 तीव्रता का आया है। जिस तरह से थोड़ी-थोड़ी में लगातार भूकंप आ रहे हैं, इससे आगे भी भूकंप आने की संभावना जताई जा रही है। विस्तृत विवरण की प्रतीक्षा है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें (Bhookamp) : आज फिर डोली उत्तराखंड से लेकर नेपाल व चीन तक धरती, आपने महसूस की, क्या बढ़ रहा है खतरा ?

नवीन समाचार, नैनीताल, 22 फरवरी 2023 (Bhookamp) । उत्तराखंड में एक बार फिर बुधवार दोपहर एक बजकर 30 मिनट पर भूकंप के झटके महसूस हुए हैं। भूकंप का केंद्र उत्तराखंड के पिथौरागढ़ से 143 किलोमीटर पूर्व की ओर नेपाल में धरती के भीतर 10 किमी की गहराई में था तथा इसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.4 मैग्नीट्यूड मापी गई है, जो कि अधिक की श्रेणी में आती है। यह भी पढ़ें : घर से बिन बताए भाग कर आई नाबालिग को अस्मत गंवाकर चुकानी पड़ी होटल में रात्रि बिताने की कीमत, होटल कर्मी ने किया दुष्कर्म

(Bhookamp) नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के मुताबिक इस भूकंप के झटके भारत में पिथौरागढ़ से लेकर राजधानी दिल्ली एवं एनसीआर के साथ चीन और नेपाल में भी महसूस किए गए हैं। गौरतलब है राष्ट्रीय भूभौतिकीय अनुसंधान संस्थान में भूकंप वैज्ञानिक डॉ. एन पूर्णचंद्र राव सहित कई अन्य विशेषज्ञों ने उत्तराखंड में बड़े भूकंप की चेतावनी दी है। नैनीताल : हाल में खुले नए थाने में दर्ज हुआ पहला मामला…

(Bhookamp) उनका कहना है कि उत्तराखंड के कई क्षेत्र भूकंप के लिहाज से संवेदनशील इलाकों में आते हैं, और यहां लंबे समय से कोई बड़ा भूकंप नहीं आया है। इस कारण यहां की जमीन के अंदर भूकंप के लिए अधिक दबाव हो सकता है। इसी कारण उत्तराखंड भूकंप के लिहाज से जोन पांच में रखा गया है। इसलिए छोटे भूकंपों को बड़े खतरे का संकेत भी माना जा रहा है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : आज सुबह फिर आया भूकंप, आपने महसूस किया…

नवीन समाचार, बागेश्वर, 20 फरवरी 2023 (Bhookamp) । सोमवार की सुबह तड़के उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में भूंकप के झटके महसूस किए गए हैं। भूकंप सुबह करीब 4 बजकर 49 मिनट 30 सेकेंड पर आया है। इसका केंद्र जमीन की सतह से मात्र 5 किलोमीटर नीचे था। लेकिन रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता मात्र 2.5 मापी गई है, इसलिए इसका बहुत प्रभाव नहीं देखा गया है। यह भी पढ़ें : नैनीताल: यूट्यूब की महिला संचालक पर धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में अभियोग दर्ज

(Bhookamp) फिर भी बागेश्वर के लोगों को आज सुबह भूकंप के झटकों के साथ जगना पड़ा। जब सुबह 4.49 पर भूकंप के झटके महसूस किए तो लोग अपने घरों से बाहर आए। हालांकि यह झटका थोड़ी देर के लिए था और अधिक तेज नहीं था। झटके से किसी भी तरह की कोई जान माल की कोई हानि की सूचना नहीं है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : अभी-अभी आया भूकंप (Bhookamp) का बड़ा झटका, आपको महसूस हुआ

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 24 जनवरी 2023 (Bhookamp)। मंगलवार अपराह्न दो बजकर 28 मिनट 31 सेकेंड पर उत्तराखंड के विभिन्न स्थानों से लेकर दिल्ली तक भूकंप का बड़ा झटका महसूस किया गया। भूकंप का केंद्र नेपाल में 29.41 लेटीट्यूड व 81.68 लॉंगीट्यूड पर धरती से 10 किलोमीटर की गहराई में था और इसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 5.8 थी। यानी यह एक बड़ा व खतरनाक श्रेणी का भूकंप था। यह भी पढ़ें : कोश्यारी ने जताई महाराष्ट्र के राज्यपाल के पद से हटने की इच्छा, अपनी भविष्य की इच्छा का भी किया खुलासा….

(Bhookamp) हल्द्वानी में भूकंप का यह झटका खास कर अधिक मंजिल वाले ऊंचे भवनों में करीब 4-5 सेकेंड तक काफी जोर से महसूस हुआ। इस दौरान छत पर लटके पंखे हिलने लगे। लोग दहशत में घर से बाहर निकल आए। नैनीताल में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए। आपने भी भूकंप का झटका महसूस किया या कमेंट बॉक्स में बतायें। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें (Bhookamp) : सुबह-सवेरे डोली उत्तराखंड में धरती

नवीन समाचार, पिथौरागढ़, 22 जनवरी 2023 (Bhookamp) । उत्तराखंड में रविवार सुबह एक बार फिर धरती डोली है। पिथौरागढ़ जिले में आज सुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। भूकंप भारतीय समय के अनुसार सुबह 8 बजकर 58 मिनट 31 सेकेंड पर आया है। भूकंप के झटकों से लोग दहशत में आ गए, और अपने घरों से बाहर निकल आए। यह भी पढ़ें : 8वीं कक्षा की छात्रा पेट दर्द की शिकायत लेकर पहुंची अस्पताल, निकली 12वीं के छात्र की हरकत से 9 माह की गर्भवती…

(Bhookamp) भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.8 मैग्नीट्यूट नापी गई। इसका केंद्र धरती के भीतर 10 किलोमीटर की गहराई पर था। लेकिन, राहत भरी खबर है कि इस भूकंप से किसी जानमाल का कोई नुकसान नहीं हुआ है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बीती रात्रि फिर महसूस किए गए भूकंप (Bhookamp) के झटके, क्या आपने भी महसूस किए…?

नवीन समाचार, उत्तरकाशी, 19 दिसंबर 2022 (Bhookamp) । उत्तरकाशी में एक बार फिर भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार रिक्टर पैमाने पर इस भूकंप की तीव्रता 3.1 मापी गई है। क्या आपने भी कल रात भूकंप के झटके महसूस किए यदि हां तो हमें बताएं। यह भी पढ़ें : गली के आवारा कुत्ते ने 5 वर्ष की मासूम को नोंचा, मौत, लोगों में आक्रोश…

(Bhookamp) उल्लेखनीय है कि दस दिन पहले भी उत्तराखंड में धरती डोली थी। इससे पहले उत्तराखंड में 12 दिसंबर को भूकंप आया था। तब भी उत्तरकाशी में धरती डोली थी। भूकंप के झटके दून समेत पूरे राज्य में महसूस किए गए थे। वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी के वरिष्ठ भूकंप वैज्ञानिक डॉ. अजय पॉल के अनुसार यूरेशियन प्लेट की ओर इंडियन प्लेट हर साल चार से पांच सेंटीमीटर आगे खिसक रही है उससे लगातार भूगर्भीय हलचल जारी है। यह भी पढ़ें : नैनीताल: ढाबे पर शराब पिलाते अवैध देशी शराब के साथ एक गिरफ्तार…

(Bhookamp) ऐसे में नेपाल, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर जैसे हिमालयी इलाकों में भूकंप आते रहेंगे। भूगर्भीय हलचल से उससे बड़े पैमाने पर ऊर्जा पैदा हो रही है। इससे बिहार से लेकर हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा तक लगातार भूकंप के झटके महसूस किए जा रहे हैं। रिक्टर स्केल पर कम तीव्रता वाले भूकंप इस बात का संकेत नहीं है कि भविष्य में बड़े भूकंप नहीं आएंगे। जो सेंट्रल सिस्मिक गैप बिहार से हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा तक है, इस इलाके में बड़े भूकंप की आशंका बरकरार है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें (Bhookamp) : अभी-अभी फिर डोली धरती, नैनीताल में भी किया गया महसूस

Imageनवीन समाचार, नैनीताल, 12 नवंबर 2022 (Bhookamp) । उत्तराखंड में क्या कोई बड़ा भूकंप आने वाला है। यह सवाल इसलिए कि अभी-अभी उत्तराखंड में एक बार फिर धरती डोली है। शाम सात बजकर 57 मिनट के करीब कुछ सेकेंड के अंतर में नैनीताल में भी दो झटके महसूस किए गए। भूकंप के झटके महसूस करने पर लोग घरों से बाहर निकल आए और आपस में चर्चा करने लगे। यह भी पढ़ें : छात्रा पर युवक डाल रहा धर्म परिवर्तन कर निकाह करने का दबाव, जलाकर मार डालने की भी दे रहा धमकी

(Bhookamp) हल्द्वानी में भी इसी समय भूकंप महसूस किए जाने की सूचना आ रही है। हालांकि बाद में जानकारी के अनुसार दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई इलाकों में भूकंप के झटके महसूस किए गए। बताया गया है कि रिक्टर स्केल पर 5.4 तीव्रता के इस भूकंप का केंद्र नेपाल में 10 किमी की गहराई में था।  तीव्रता हालिया समय में आ रहे सभी भूकंपों में सर्वाधिक रही। यह भी पढ़ें : नैनीताल : सुबह-सुबह चोरी करता कैमरे में कैद हुआ चोर

(Bhookamp) उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व शाम 4 बजकर 25 मिनट पर भी प्रदेश में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। इसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 3.4 थी और इसका केंद्र पौड़ी जिले में धरती के भीतर 5 किलोमीटर की गहराई पर था। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें (Bhookamp) : पूर्णिमा-चंद्रग्रहण की रात्रि से सुबह तक 5 झटकों से डोली भारत सहित 3 देशों की धरती, 6 की मौत, उत्तराखंड में भी झटके

नवीन समाचार, नैनीताल, 9 नवंबर 2022 (Bhookamp) । मंगलवार की पूर्णिमा की रात चंद्रग्रहण के बाद भूकंपों (https://riseq.seismo.gov.in/riseq/earthquake) की रात रही। रात्रि में भारत के पड़ोसी देश नेपाल में भूकंप के चार बड़े झटके आए, इनसे नेपाल के साथ भारत और चीन यानी तीन देशों की धरती डोल उठी। पूरे उत्तर भारत खासकर उत्तराखंड में भूकंप के जोरदार झटके महसूस किए गए। यह भी पढ़ें : उत्तराखंड हाईकोर्ट के नैनीताल से संभावित स्थानांतरण के विरोध में निकला जुलूस, शामिल हुए विभिन्न संगठनों के लोग देखें विडियो : मंगलवार रात्रि ज्योलीकोट-नैनीताल की एक दुकान के CCTV कैमरे में कैद हुआ भूकंप का जोरदार झटका

(Bhookamp) भूकंप से खासकर उत्तराखंड के नेपाल से लगे सीमांत पिथौरागढ़ व चंपावत जिलो में घरों की दीवारों में दरारें आने की भी सूचना है, जबकि हल्द्वानी, रुद्रपुर में खासकर ऊंचे बहुमंजिला भवनों में पंखे-खिड़कियां खड़खड़ाने लगे। ऐसे में लोग दहशत में घरों से बाहर निकल आए। इधर नैनीताल में गिने-चुने लोग ही भूकंप को महसूस करने की बात कह रहे हैं। बताया जा रहा है कि होटलों में रह रहे कुछ सैलानी दूसरे शहरों से परिजनों के फोन आने के बाद अपने कमरों से बाहर निकल आए। यह भी पढ़ें : बदलता दौर: हद है, लड़की ने लड़के द्वारा दिया लहंगा पसंद न आने पर कर दिया शादी से इंकार !

(Bhookamp) प्राप्त जानकारी के अनुसार बीती मंगलवार रात को भूकंप का पहला झटका करीब रात 8 बजकर 52 मिनट पर रिक्टर पैमाने पर 4.9 तीव्रता का आया। जिसे दिल्ली एनसीआर से लेकर लखनऊ, कानपुर, मुरादाबाद, बरेली आदि शहरों के लोगों ने महसूस किया गया। इसके बाद दूसरा झटका सुदूर पश्चिम नेपाल के डोटी में रात लगभग 9 बजकर 41 मिनट पर रिक्टर पैमाने पर 3.5 तीव्रता का आया। इसका प्रभाव नेपाल के करनाली और लुंबिनी जिले में सर्वाधिक रहा। यह भी पढ़ें : फिर शुरू हुआ फड़-पालिका वालों के बीच चूहे-बिल्ली का खेल, कई का सामान जब्त

(Bhookamp) इसके बाद देर रात एक बजकर 57 मिनट पर भूकंप का सबसे बड़ा 6.3 तीव्रता का झटका भी नेपाल में ही आया। धरती के भीतर करीब 10 किमी की गहराई से आया यह झटका करीब 6 से 8 सेकेंड तक रहा। यह इतना तेज था कि गहरी नींद में सोए लोगों की आंखें खुल गईं। दीवारें-खिड़कियां सब हिलने लगीं। दहशत में लोग घरों से बाहर की ओर भागे।

(Bhookamp) इसके बाद एक और झटका नेपाल में 3 बजकर 15 मिनट पर 3.6 तीव्रता का रिकॉर्ड किया गया। इधर बुधवार सुबह भी 6 बजकर 27 मिनट पर फिर से 4.3 रेक्टर का भूकंप आया। जिसका केंद्र नेपाल सीमा से 26 किमी दूरी पर धारचूला का सुवा क्षेत्र बताया गया है। इसके झटके पूरे पिथौरागढ़ में महसूस किए गए। यह भी पढ़ें : जनहित संगठन ने बताया-क्यों खूंखार होकर लोगो को नोंच रहे हैं आवारा कुत्ते….

नेपाल में भूकंप से छह लोगों के मौत
(Bhookamp) बताया गया है कि रात 1.57 बजे आए भूकंप से नेपाल के डोटी जिले में एक घर गिरने से छह लोगों की मौत हो गई है, जबकि पांच लोग घायल हो गए। नेपाल सेना को भूकंप प्रभावित इलाकों में तलाशी और बचाव अभियान के लिए भेजा गया है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें (Bhookamp)  (Bhookamp) : ब्रेकिंग: पौने घंटे के भीतर 3 से अधिक मैग्नीट्यूड के दो झटकों से डोली उत्तराखंड की धरती

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 8 अक्तूबर 2022 (Bhookamp) । 8 अक्तूबर 2022। उत्तराखंड में शनिवार को बारिश के बीच भूकंप के दो झटकों ने डरा दिया। इस दौरान धरती की धड़कन कुछ इतनी बढ़ी कि खासकर पिथौरागढ़़ व बागेश्वर जनपदों के सीमांत क्षेत्र के लोगों की डर के मारे धड़कन बढ़ गई और लोग बारिश के बावजूद घरों के बाहर निकल आए।

(Bhookamp) नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के अनुसार भूकंप का पहला झटका तीन बजकर 47 मिनट 31 सेकेंड पर  और दूसरा 4 बजकर 34 मिनट 3 सेकेंड पर यानी करीब पौने घंटे के बाद आया। पहला झटका रिक्टर स्केल पर 3.9 मैग्नीट्यूड का था और इसका केंद्र बागेश्वर जनपद में जमीन की सतह से करीब 10 किलोमीटर की गहराई पर था (https://riseq.seismo.gov.in/riseq/interactive/index/RmRCZmFXdEhnNGF0MWYwT0VmMnViUT09/Reviewed)। जबकि दूसरा झटका 3.4 मैग्नीट्यूड का था और इसका केंद्र पिथौरागढ़ जिले में 10 किलोमीटर की गहराई पर था (https://riseq.seismo.gov.in/riseq/interactive/index/MFRwSVA0REowaTNhbm1jSWp1cHFqUT09/Reviewed)। इन दोनों भूकंपों से समाचार लिखे जाने तक किसी नुकसान की सूचना नहीं है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें (Bhookamp) : उत्तराखंड: भूकंप के झटकों से डोली धरती, लोग घरों से बाहर निकले, घरों में दरारें आईं !

नवीन समाचार, उत्तरकाशी, 2 अक्तूबर 2022 (Bhookamp) रविवार की सुबह उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले भूकंप के झटके से धरती के कांपने की खबर आ रही है। बताया जा रहा है कि सुबह भारतीय समय के अनुसार करीब 10 बजकर 43 मिनट 11 मिनट पर उत्तरकाशी में भूकंप का झटका महसूस किया गया। इसे लोगों ने इस कदर महसूस किया कि वह डरकर घरों से बाहर निकल आए। भूकंप की वजह से तीन घरों में दरारें आने की भी प्रारंभिक खबरें हैं। देखें आज के भूकंप की पूरी जानकारी : https://riseq.seismo.gov.in/riseq/interactive/index/OUhYdHdjWE1FVmliRmxtVnNGWk9lZz09/Reviewed

(Bhookamp) अलबत्ता, भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर मात्र 2.5 बताई गई है, जो कि कम ही मानी जाती है। संभवतया भूकंप का केंद्र करीब आने की वजह से यहां इसे अधिक तीव्रता से महसूस किया गया होगा। ऐसे में नुकसान की संभावना से भी इंकार नहीं किया जा सकता है। बताया गया है कि भूकंप का केंद्र बाड़ाहाट रेंज के ग्राम उत्तरों के जंगलों के मुकता टॉप में था। उल्लेखनीय है कि उत्तरकाशी जिला भूकंप के लिहाज से बेहद संवेदनशील है। उत्तरकाशी भूकंप जोन पांच में आता है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें (Bhookamp) : आज दो बार डोली पर्वतीय क्षेत्र में धरती, एक का केंद्र उत्तराखंड में

नवीन समाचार, रामनगर, 28 जून 2021 (Bhookamp) । उत्तराखंड के सीमावर्ती पिथौरागढ़ और बागेश्वर जिलों में सोमवार दोपहर भूकंप के झटकों से लोग दहशत में आ गए। दोपहर करीब 12 बजकर 18 मिनट पांच सेकेंड पर भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। इससे लोग घरों से बाहर निकल गए। फिलहाल किसी नुकसान की सूचना नहीं है। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.7 दर्ज की गई है। इसका केंद्र पिथौरागढ़ में जमीन के भीतर करीब दस किलोमीटर रहा।

(Bhookamp) भूकंप से पिथौरागढ़ जिले के मुनस्यारी और बागेश्वर जिले के कपकोट आदि स्थानों पर लोगों को ज्यादा झटके महसूस किए गए। झटके से फिलहाल कोई नुकसान नहीं हुआ है। सूचनाएं एकत्र की जा रही है। उल्लेखनीय है कि इससे कुछ देर पहले सोमवार को ही सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर देश के लद्दाख में भी इससे बड़ा, रिक्टर स्केल पर 4.6 तीव्रता का झटका महसूस किया था। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

देखें आज के भूकंप की पूरी जानकारी : https://seismo.gov.in/MIS/riseq/earthquake/event/RTIvSThDUnZHamx4MUpQNjc4WngyZz09/Reviewed

यह भी पढ़ें (Bhookamp) : अभी-अभी भूकंप से डोली उत्तराखंड की धरती, मात्र 8 किमी नीचे था केंद्र

नवीन समाचार, पिथौरागढ़, 19 फरवरी 2021 (Bhookamp) शुक्रवार को उत्तराखंड में भूकंप के झटके महसूस किए गए। सीस्मो डॉट जीओवी डॉट इन के अनुसार भूकंप पिथौरागढ़ जिले में भारतीय समय के अनुसार चार बजकर 38 मिनट 32 सेकेंड पर आया। इसका केंद्र  (Lat, Long : 29.88, 80.29) जमीन की सतह से मात्र आठ किलोमीटर की गहराई पर था। भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने में चार आंकी गई। देखें आज के भूकंप की पूरी जानकारी : https://seismo.gov.in/MIS/riseq/nearby_seismicity/index/R1YyTHg4aTF0MHZTSzgxM1VUQ1cvdz09/Reviewed

(Bhookamp) पिथौरागढ़ के मुनस्यारी सहित तल्ला जोहार, डीडीहाट अस्कोट, थल, पांगला व जौलजीबी में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। उधर रामगंगा नदी घाटी के मुवानी तक के क्षेत्र में लोग भूकंप के डर के मारे घरों से बाहर निकल आए। वहीं बागेश्वर के कपकोट में कई क्षेत्रों भी भूकंप के झटके महसूस किए गए। सामा, गोगिना, समडर आदि इलाकों में लोग सहम गए। जिला आपदा अधिकारी शिखा सुयाल ने बताया कि फिलहाल किसी नुकसान की सूचना नहीं है।

यह भी पढ़ें : 24 घंटों में दूसरी बार आया 6 से अधिक तीव्रता का भूकंप, उत्तराखंड से अफगानिस्तान तक डोली धरती..

नवीन समाचार, नई दिल्ली, 12 फरवरी 2021 (Bhookamp) उत्तराखंड, दिल्ली, एनसीआर सहित समूचा उत्तर भारत शुक्रवार रात को भूकंप के तेज झटकों से कांप उठा। ये झटके 10 बजकर 31 मिनट पर राजस्थान, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, जम्मू और कश्मीर सहित समूचे उत्तर भारत के साथ ही पाकिस्तान व अफगानिस्तान में भी महसूस किए गए। भूकंप की तीव्रता से घबराकर कई इलाकों में लोग घरों से बाहर निकल आए।

(Bhookamp) भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 6.1 मापी गई है। जो कि काफी अधिक है। ग़नीमत रही कि अब तक किसी भी तरह के जान-माल के नुकसान की खबर सामने नहीं आई है। उल्लेखनीय है कि आज ही राजस्थान के बीकानेर में भी रिक्टर पैमाने पर 4.3 तीव्रता वाले भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। भूकंप का केंद्र बीकानेर से लगभग 420 किलोमीटर उत्तरपश्चिम में था। यह भूकंप भारतीय समयानुसार सुबह 8:01 बजे आया था।

यह भी पढ़ें (Bhookamp) : आज फिर डोली कुमाऊं-उत्तराखंड की धरती

नवीन समाचार, बागेश्वर, 08 जनवरी 2020 (Bhookamp) भूगर्भीय कमजोरी के दृष्टिकोण से जोन चार व पांच में आने वाले उत्तराखंड राज्य शुक्रवार सुबह एक बार फिर धरती डोली है। आज सुबह 10 बजकर पांच मिनट 19 सेकेंड पर भूकंप के झटके महसूस किए गए।

(Bhookamp) नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी से प्राप्त जानकारी के अनुसार भूकंप का केंद्र राज्य के कुमाऊं मंडल के पिथौरागढ़ जनपद के 52 किलोमीट उत्तर पश्चिम में यानी बागेश्वर के पास धरती के भीतर 10 किलोमीटर की गहराई में बताया गया है। भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 3.3 बताई गई है। भूकंप से फिलहाल किसी तरह के नुकसान का समाचार नहीं है। देखें पूरी जानकारी : https://seismo.gov.in/MIS/riseq/interactive/index/V2VINjkraXNPTENRV2dWS3p3VXF4QT09/

(Bhookamp) उल्लेखनीय है कि राज्य के खासकर सीमांत जनपदों में छोटे भूकंपों के आने का सिलसिला बरसों से जारी है। यह भी कहा जाता है कि राज्य बड़े भूकंप के मुहाने पर खड़ा है। हालांकि यह कब आएगा इस बारे में कोई सटीक अनुमान नहीं है। वहीं छोटे भूकंपों के बारे में कहा जाता है कि यह बड़े भूकंप आने की संभावना को कम नहीं कर पाते हैं, तथा कई बार यह बड़े भूकंप के आने का पूर्वानुमान हो सकते हैं। इसलिए छोटे भूकंपों पर भी वैज्ञानिकों एवं आम लोगों की नजर लगी रहती हैं।

यह भी पढ़ें : ब्रेकिंग (Bhookamp) : सुबह-सुबह उड़ीसा के बाद उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल के पिथौरागढ़ जिले में भूकंप के झटके…

नवीन समाचार, पिथौरागढ़, 4 दिसंबर 2020 (Bhookamp) । देश के 2 राज्यों में शुक्रवार सुबह की शुरुआत भूकंप के झटकों के साथ हुई।करीब 1 घंटे के अंतराल पर भूकंप के झटके 2 अलग-अलग राज्यों में महसूस किए गए। पहला भूकंप ओडिशा के मयूरभंज जिले में आया और इस झटके के 57 मिनट बाद अगला भूकंप उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल के पिथौरागढ़ जिले में आया। हालांकि इन दोनों ही जगहों पर भूकंप से किसी तरह के नुकसान की खबर नहीं है।

(Bhookamp) प्राप्त जानकारी के अनुसार ओडिशा के मयूरभंज जिले में शुक्रवार तड़के 2.13 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए। नेशनल सेंटर फॉर सिस्मोलॉजी के अनुसार, भूकंप की तीव्रता 3.9 आंकी गई। इस झटके के 57 मिनट बाद उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में सुबह 3.10 बजे भूकंप आया। नेशनल सेंटर फॉर सिस्मोलॉजी के अनुसार इसकी तीव्रता 2.6 आंकी गई। विदित हो कि बीते मंगलवार की सुबह हरिद्वार में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे।

(Bhookamp) भूकंप का केंद्र बहादराबाद ब्लॉक के औरंगाबाद क्षेत्र का डालूवाला कलां गांव था। भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.0 मापी गई थी, हालांकि उससे भी कोई नुकसान नहीं हुआ था। उल्लेखनीय है कि कुछ समय पहले वैज्ञानिकों ने हिमालय क्षेत्र में बड़े भूकंप की आशंका व्यक्त करते हुए कहा था कि हिमालय पर्वत श्रृंखला में सिलसिलेवार भूकंपों के साथ बड़ा भूकंप कभी भी आ सकता है।

(Bhookamp) इसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर आठ या उससे भी अधिक हो सकती है। वैज्ञानिकों का दावा है कि हिमालय के आसपास घनी आबादी वाले देशों में इससे भारी तबाही मच सकती है। हालांकि ये भूकंप कब आएंगे इसका अनुमान फिलहाल नहीं लगाया गया है। वैज्ञानिकों का मानना है कि अगले 100 साल में इनके आने की आशंका है। 

पूर्व समाचार (Bhookamp) : कुमाऊं में भूकंप के झटके…

नवीन समाचार, अल्मोड़ा, 8 फरवरी 2020 (Bhookamp) । उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल के अल्मोड़ा, बागेश्वर व पिथौरागढ़ में शनिवार सुबह भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। पिथौरागढ़ में तो कुछ लोग डर के कारण घरों से बाहर निकल आए। भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 4 बताई जा रही है। सुबह करीब 6:32 पर ये झटके महसूस किए गए। भूकंप का केन्द्र गोगिना (पिथौरागढ-बागेश्वर सीमा) बताया जा रहा है। फिलहाल भूकंप से किसी प्रकार के जानमाल के नुकसान की सूचना नहीं है।

यह भी पढ़ें (Bhookamp) : उत्तराखंड सहित नेपाल-उत्तर भारत में अभी-अभी भूकंप के झटके..

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 नवंबर 2019 (Bhookamp) पड़ोसी देश नेपाल तथा उत्तराखंड सहित दिल्ली एवं राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सहित उत्तर भारत के कई हिस्सों में अभी-अभी आये भूकंप के हलके झटके नैनीताल में भी महसूस किये गये हैं। मंगलवार की देर शाम करीब 7.05 बजे पर भूकंप के झटके महसूस किए गए भूकंप की रिक्टर पैमाने पर तीव्रता 5.3 मापी गई है।

(Bhookamp) प्राप्त जानकारी के अनुसार भूकंप का केंद्र भारत-नेपाल सीमा पर भारत के लखनऊ से 288 किमी उत्तर, नेपाल के बीरेंद्रनगर से 100 मिकी उत्तर पश्चिम एवं नेपाल के डडेलधूरा से 65 किमी पूर्व में धरती की 14 किमी की गहराई में था। इसलिए इसका प्रभाव कम रहा। फिलहाल भूकंप से किसी तरह के नुकसान की जानकारी नहीं मिली है। अलबत्ता नैनीताल में भी कुछ लोगों ने इसे महसूस किये जाने का दावा किया है।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में आया भूकंप (Bhookamp) का झटका

नवीन समाचार, देहरादून, 18 मई 2019 (Bhookamp) । शुक्रवार रात जिस वक्त लगभग सभी लोग गहरी नींद में सो रहे थे उसी समय उत्तराखंड की धरती भूकंप के झटकों से डोलने लगी। प्राप्त सूचना के मुताबिक उत्तराखंड के चमोली और उत्तरकाशी जिले में शुक्रवार को देर रात भूकंप के झटके महसूस किए गए।

(Bhookamp) इसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.8 मापी गई है। शुक्रवार की रात करीब एक बजे चमोली जिले में भूकंप के झटके महसूस हुए। इसका केंद्र जमीन में दस किमी अंदर रहा। उत्तरकाशी जनपद के गंगोत्री हर्षिल क्षेत्र में भूकंप के झटके महसूस हुए।

(Bhookamp) भूकंप आने से भयभीत स्थानीय लोग व यात्री घरों से बाहर निकल आए। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेन्द्र पटवाल ने बताया कि भूकंप का केंद्र उत्तरकाशी की सीमा से लगे चमोली जनपद में था। भूकंप की तीव्रता 3.8 माफी गई है। जिले में भूकंप से किसी तरह के नुकसान की सूचना नहीं है।

यह भी पढ़ें (Bhookamp) : भारत-नेपाल सीमा पर धारचूला के पास झटका हुआ महसूस

नैनीताल, 11 नवंबर 2018 (Bhookamp) मीडिया में कुछ दिनों से उत्तराखंड में बड़े भूकंप के आने की संभावनाएं जताते हुए आ रही खबरों के बीच रविवार अपराह्न 12 बजकर 37 मिनट पर भारत-नेपाल सीमा पर भूकंप के झटके पिथौरागढ़ जिला मुख्यालय को छोड़कर जिले के सीमांत धारचूला, मुन्स्यारी, डीडीहाट व थल आदि क्षेत्रों में महसूस किये गये। इससे लोग आशंकित हो उठे।

(Bhookamp) साथ ही किसी भूकंप के कुछ देर बाद भी भूकंप के झटके दुबारा भी आने की भूतकाल की घटनाओं के मद्देनजर लोगों में आगे बड़ा झटका आने को लेकर चिंता देखी जा रही है। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.5 थी, और इसका केंद्र उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में धारचूला से 4 किमी उत्तर में 29.88 अंश उत्तरी अक्षांश एवं 80.52 डिग्री दक्षिणी देशांतर के मध्य धरती से 20 किमी की गहराई पर था। अलबत्ता, अभी तक इस भूकंप से जान-माल के किसी तरह के नुकसान का कोई समाचार नहीं है।

पूर्व समाचार: उत्तरी भारत में अभी-अभी 6.2 तीव्रता के भूकंप (Bhookamp) के हलके झटके महसूस किये गए

(Bhookamp) बुधवार 31 जनवरी 2018 को उत्तर भारत में भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। इसका केंद्र हिंदुकुश हिमालय क्षेत्र में अफगानिस्तान में 36.55 अंश उत्तरी अक्षांस व 70.87 अंश देशांतर के बीच काबुल से 272 किमी उत्तर में स्थानीय समय के अनुसार 11 बजकर छह मिनट 59 सेकेंड यानी भारतीय समय के अनुसार दोपहर 12 बजकर 6 मिनट 59 सेकेंड पर महसूस किया गया। नैनीताल में कुछ ही सेकेंड के लिए जमीन पर बैठे लोगों ने बहुत मामूली रूप से महसूस किया। बताया गया है कि इसकी रिक्टर स्केल पर तीव्रता 6.1 थी।

(Bhookamp) इसके उपरांत भी अपराह्न में अफगानिस्तान के हिंदुकुश क्षेत्र में अपराह्न 3 बजकर 31 मिनट 38 सेकेंड यानी भारतीय समयानुसार 4 बजकर 31 मिनट 38 सेकेंड पर भूकंप का एक और झटका महसूस किया गया। इसका केंद्र काबुल से 240 किमी उत्तर में यानी पहले झटके के करीब ही, तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4 और धरती की सतह से 212 किमी की गहराई में बताई गयी है।

केदारनाथ के पास था 6 दिसंबर 2017 को रात्रि आये 5 magnitude के भूकंप (Bhookamp) का केंद्र

बुधवार 06 दिसंबर 2017 को रात्रि 8 बजकर 49 मिनट 54 सेकण्ड पर आये 5 मैग्नीट्यूड तीव्रता के भूकंप का केंद्र उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग क्षेत्र में केदारनाथ के पास कालीमठ घाटी स्थित स्वानसू में 30.71 N ; 79.27 E पर (मेरठ से 244 किमी उत्तरपूर्व, देहरादून से 126 किमी पूर्व व जोशीमठ से 33 किमी उत्तर पश्चिम में धरती से 10 किमी की गहराई पर था।

(Bhookamp) फिलहाल भूकंप से किसी तरह के नुक्सान की खबर नहीं है। अलबत्ता, रुद्रप्रयाग में कुछ घरों में दरारें आने की खबरें आ रही हैं। वैसे भी भूकंप के केंद्र का क्षेत्र निर्जन एवं संचार सुविधाओं के दृष्टिकोण से काफी दूर बताया जा रहा है। भूकंप पूरे उत्तराखंड के साथ ही दिल्ली व राजधानी क्षेत्र में महसूस किया गया है।

Leave a Reply

आप यह भी पढ़ना चाहेंगे :

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

 - 
English
 - 
en
Gujarati
 - 
gu
Kannada
 - 
kn
Marathi
 - 
mr
Nepali
 - 
ne
Punjabi
 - 
pa
Sindhi
 - 
sd
Tamil
 - 
ta
Telugu
 - 
te
Urdu
 - 
ur

माफ़ कीजियेगा, आप यहाँ से कुछ भी कॉपी नहीं कर सकते

आपके सबसे करीब, सबसे अच्छे, सबसे खूबसूरत एवं सबसे रोमांटिक 10 हनीमून डेस्टिनेशन सर्दियों के इस मौसम में जरूर जायें इन 10 स्थानों की सैर पर… इस मौसम में घूमने निकलने की सोच रहे हों तो यहां जाएं, यहां बरसात भी होती है लाजवाब नैनीताल में सिर्फ नैनी ताल नहीं, इतनी झीलें हैं, 8वीं, 9वीं, 10वीं आपने शायद ही देखी हो… नैनीताल आयें तो जरूर देखें उत्तराखंड की एक बेटी बनेंगी सुपरस्टार की दुल्हन उत्तराखंड के आज 9 जून 2023 के ‘नवीन समाचार’ बाबा नीब करौरी के बारे में यह जान लें, निश्चित ही बरसेगी कृपा नैनीताल के चुनिंदा होटल्स, जहां आप जरूर ठहरना चाहेंगे… नैनीताल आयें तो इन 10 स्वादों को लेना न भूलें बालासोर का दु:खद ट्रेन हादसा तस्वीरों में नैनीताल आयें तो क्या जरूर खरीदें.. उत्तराखंड की बेटी उर्वशी रौतेला ने मुंबई में खरीदा 190 करोड़ का लक्जरी बंगला नैनीताल : दिल के सबसे करीब, सचमुच धरती पर प्रकृति का स्वर्ग कौन हैं रीवा जिन्होंने आईपीएल के फाइनल मैच के बाद भारतीय क्रिकेटर के पैर छुवे, और गले लगाया…
%d