News

2500 महिलाओं, 4000 किशोरियों के लिए कार्य कर चुकी हैं नैनीताल की कंचन, कल मिलेगा तीलू रौतेली पुरस्कार..

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवीन समाचार, नैनीताल, 07 अगस्त 2020। उत्तराखंड सरकार के द्वारा शनिवार को वीरांगना तीलू रौतेली के जन्म दिन पर 21 महिलाओं को तीलू रौतेली पुरस्कार देने की घोषणा की गई है, इनमें नैनीताल निवासी कंचन भंडारी भी शामिल हैं। कंचन अपनी संस्था विमर्श महिला सशक्तीकरण, किशोरी शिक्षा एवं बाल सुरक्षा व कन्या भ्रूण हत्या रोकने के कार्यों में लगी हैं। वे अब तक करीब 2500 महिलाओं के 120 महिला संगठनों का गठन कर चुकी हैं। उनकी संस्था के द्वारा जनपद में चाइल्ड हेल्प लाइन-1088 का संचालन भी किया जा रहा है, जिसके माध्यम से अब तक 5233 जरूरतमंद बच्चों को सहायता उपलब्ध कराई जा चुकी है। इसके अलावा वे 4000 किशोरियों में माहवारी के दौरान स्वच्छता की समझ बनाने का कार्य भी कर चुकी हैं। 170 किशोरियों को फेलोशिप भी दी गई है। इसके अलावा से जनपद की पीसीपीएनडीटी कमेटी, निर्भया कमेटी, सेवा प्रदाता डीवी एक्ट, कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न समिति, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ व परिवर्तक पालन पोषण देखभाल अनुमोदन समिति आदि समितियों में भी शामिल हैं।

यह भी पढ़ें : कल 21 महिलाओं को मिलेगा इस वर्ष का वीरांगना तीलू रौतेली पुरस्कार, 22 आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां भी होंगी पुरस्कृत

नवीन समाचार, देहरादून, 7 अगस्त 2020। महिलाओं को बहादुरी के लिए वर्ष 2019-20 के वीरांगना तीलू रौतेली पुरस्कार की घोषणा हो गयी है। इस वर्ष 21 महिलाओं को इस पुरस्कार से नवाजा जाएगा। इन महिलाओं को 22 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को कल वीरांगना तीले रौतेली की जयंती आठ अगस्त को पुरस्कृत किया जाएगा। महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास राज्यमंत्री रेखा आर्या ने दिए जाने वाले इन पुरस्कारों के नामों की घोषणा की। अल्मोड़ा जिले से प्रीति भंडारी व शिवानी आर्य, बागेश्वर से गुंजन बाला, चंपावत से जानकी चंद, चमोली से शशि देवली, देहरादून से उन्नति बिष्ट, संगीता थपलियाल व गीता मौर्या, हरिद्वार से पुष्पांजलि अग्रवाल, नैनीताल से कंचन भंडारी, माया उपाध्याय व मालविका, पिथौरागढ़ से सुमन वर्मा व शीतल, पौड़ी गढ़वाल से मधु खुगशाल, टिहरी गढ़वाल से कीर्ति कुमारी, रुद्रप्रयाग से बबीता रावत व सुमति थपलियाल, ऊधमसिंह नगर से ज्योति उप्रेती अरोड़ा, मीनू लता गुप्ता, चंद्रकला राय और उत्तरकाशी से हर्षा रावत को इस वर्ष के पुरस्कार मिलेंगे।
साथ ही अल्मोड़ा से नीता गोस्वामी व गीता देवी, बागेश्वर से पुष्पा, चंपावत से हेमा बोरा, चमोली से अंजना रावत, देहरादून से हयात फातिमा, सुधा व सीमा, हरिद्वार से पूनम, सुमनलता यादव व असमा, नैनीताल से गंगा बिष्ट, समारेज व निर्मला पांडे, पिथौरागढ़ से चंद्रकला, पौड़ी से अर्चना देवी व रोशनी, रुद्रप्रयाग से सुशीला देवी, टिहरी गढ़वाल से लक्ष्मी देवी व ललिता देवी तथा उत्तरकाशी से कुसुम मेहर और बीना चौहान को भी पुरस्कृत किया जाएगा।

यह भी पढ़ें : पहाड़ की महिलाओं ने कहा-जमीन विक्रय करने पर उनकी सहमति हो अनिवार्य

-जमीनें जिस प्रयोजन के लिए खरीदी जाती हैं, उसके इतर अन्य प्रयोजन के लिए की जा रही हैं उपयोग, इससे सरकार को होता है राजस्व का भारी नुकसान, उप जिलाधिकारी धारी को सौंपा ज्ञापन..
दान सिंह लोधियाल, नवीन समाचार, धानाचूली, 6 अगस्त 2020। क्षेत्र के ज्येष्ठ उप प्रमुख के नेतृत्व में महिला जनप्रतिनिधियों ने बृहस्पतिवार को उप जिलाधिकारी धारी को एक ज्ञापन सौंपकर महिलाओं को जमीन विक्रय में उनकी सहमति होना अनिवार्य करने और क्षेत्र में सरकारी व वन विभाग की भूमि पर अवैध तरीके से कब्जा कर रहे लोगों के खिलाफ कार्यवाही करने की भी मांग की। पत्रों की प्रतिलिपियाँ जिलाधिकारी नैनीताल, कुमाऊं कमिश्नर नैनीताल और निबंधक नैनीताल को भी प्रेषित की गई है। उप जिलाधिकारी अनुराग आर्य ने महिलाओं को आश्वासन दिया कि वह अपने स्तर से इन सभी मुद्दों पर नियमानुसार कार्रवाई करेंगे ।
बृहस्पतिवार को ज्येष्ठ उप प्रमुख धारी संजय बिष्ट के नेतृत्व में कुछ जनप्रतिनिधियों ने उपजिलाधिकारी से मुलाकात कर एक ज्ञापन सौंपा। जिसमें कहा गया है कि तहसील क्षेत्र के अंतर्गत पिछले कई वर्षो से जमीन की खरीद फरोख्त चली आ रही है। जिसमें जमीन बेचने वाले परिवार की महिला सदस्यों की सहमति नहीं ली जाती है। उन्होंने मांग की कि अब महिलाओं की सहमति के बिना जमीनें ना बेची जाएं। जमीन बेचे जाने से उन्हें आर्थिक नुकसान के साथ आजीविका चलाने में कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने एसडीएम से लिखित सहमति करने के लिए अपने स्तर से कार्यवाही करने की मांग की। पत्र में यह भी कहा कि जिन बाहरी व्यक्तियों द्वारा क्षेत्र में जमीन जिस प्रयोजन के लिए खरीदी जाती है। उसका उपयोग बाद में भवन निर्माण होने के बाद नहीं किया जाता है। वहीं सरकार को चूना लगाते हुए यह बिल्डर व बाहरी लोग होमस्टे अथवा होटल बनाकर आर्थिक लाभ उठा रहे है। उन्होंने कहा जिस प्रयोजन के लिए जमीन खरीदी जाती है। उसी प्रयोजन पर उसको कार्य में लेना चाहिए। ऐसा न करने से लाखों का राजस्व नुकसान सरकार को हो रहा है। साथ ही कहा बाहरी लोगों द्वारा अपनी जमीन से लगी हुई सिविल भूमि अथवा वन पंचायतों पर अवैध रूप से कब्जा कर निर्माण कार्य किया गया है। कुछ स्थानों पर तो जमीनों की रजिस्ट्री कही और की है ,जबकि निर्माण कार्य कही और किया गया है। उन्होंने इसकी भी जांच कराने की मांग की है। ज्ञापन सोंपने वालों में ग्राम सरपंच हंसा लोधियाल, तुलसी बिष्ट, महेश बिष्ट, राजेंद्र सिंह व पंकज बिष्ट आदि लोग मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : रक्षाबंधन पर आशा बहनों-आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को 1-1 हजार रुपए का तोहफा…

-किशोरियों के लिए सरकार जल्द लाएगी सैनेटरी नैपकिन योजना
नवीन समाचार, देहरादून, 2 अगस्त 2020। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रक्षाबंधन के पर्व पर पूर्व की तरह महिलाओं की सुविधा के लिये रक्षाबंधन के अवसर पर उन्हें उत्तराखण्ड परिवहन निगम की बसों में मुफ्त यात्रा की सुविधा के साथ ही आशा बहनों एवं आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को उनके खातों में एक-एक हजार रुपए देने की घोषणा की है।
मुख्यमंत्री रावत ने रविवार को कहा कि महिलाओं की सुविधा के लिये रक्षाबंधन के अवसर पर उन्हें उत्तराखण्ड परिवहन निगम की बसों में मुफ्त यात्रा करने की सुविधा के साथ ही किशोरियों के लिए बहुत जल्दी सेनेटरी नैपकिन योजना लाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि सैकड़ों बहनों को बद्रीनाथ, केदारनाथ, जागेश्वर धाम, गर्जिया मन्दिर, चंडी देवी मंदिर सहित अन्य प्रसिद्ध मंदिरों में प्रसाद बनाकर अपनी आजीविका चलाने का मौका दिया गया है। सरकार ने उन्हें मौका दिया है कि उनके द्वारा तैयार किये गये प्रसाद को ही श्रद्धालु भगवान को भोग के रूप में चढ़ाएं। इसी राज्य की महिलाओं व महिला समूहों को 5 लाख रूपये तक का ऋण बिना ब्याज के दिया जा रहा है।

नियमित रूप से नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड के समाचार अपने फोन पर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे टेलीग्राम ग्रुप में इस लिंक https://t.me/joinchat/NgtSoxbnPOLCH8bVufyiGQ से एवं ह्वाट्सएप ग्रुप https://chat.whatsapp.com/BXdT59sVppXJRoqYQQLlAp से इस लिंक पर क्लिक करके जुड़ें।

यह भी पढ़ें : अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस: ‘हल्लोरी’ से बयां हुआ पहाडी़ महिलाओं का दर्द, लड़कियों ने बताया-क्यों हैं वह ‘बेबाक, बकैत व घुमंतू’…

-भकार व हुड़का प्रोडक्शन के बैनर तले बनी वीडियो फिल्म ‘हल्लोरी’ का हुआ शुभारंभ

‘हिल्लोरी’ के म्यूजिक वीडियो का शुभारंभ करती ग्रामीण महिला कलाकार एवं अन्य।

नवीन समाचार, नैनीताल, 8 मार्च 2020। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर रविवार को पहाड़ की परंपरागत लोरी ‘हल्लोरी’ की वीडियो लांच की गई। खास बात हल्लोरी की वीडियो में है, जिसमें पहाड़ के गांवों में स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी की वजह से झेली जा रही समस्याओं का हृदयस्पर्शी चित्रण किया गया है। खास बात यह भी रही कि महिला दिवस के आयोजन में महिलाओं से अधिक पुरुषों की मौजूदगी रही।

देखें पूरी फिल्म :

रविवार को नगर पालिका सभागार में भकार व हुड़का प्रोडक्शन के बैनर तले बनी वीडियो फिल्म ‘हल्लोरी’ के शुभारंभ के अवसर को महिला दिवस के रूप में आयोजित किया गया। गीत के गायक व संगीतकार कमल जोशी ने बताया कि हल्लोरी गीत की परिकल्पना मूलतः पहाड़ के ‘सातूं-आठूं’ पर्व पर महिलाओं द्वारा परंपरागत तौर पर गाए जाने वाले हल्लोरी से ली गई है। करीब नौ महीने की अवधि में तैयार हुए गीत का फिल्मांकन भारती जोशी के निर्देशन में निकटवर्ती गांव-भवालीगांव में किया गया है। वीडियो फिल्म की शुरुआत प्रसव पीड़ा से बिलखती एक महिला को चारपाई पर पहाड़ी पगडंडियों व गाड़-गधेरों के रास्तों से ‘जीते जी चार कंधों पर’ ढोकर अस्पताल ले जाते दृश्य से होती है। महिला एक बच्ची को जन्म देकर मर जाती है। बच्ची को उसका पिता अकेले खुद हल्लोरी गीत के बीच पालता है। बच्ची डॉक्टर बन कर घर आती है। तभी एक अन्य महिला को प्रसव के लिए उसी तरह चारपाई पर अस्पताल ले जाते देखकर पिता अपनी पत्नी को याद करता हुआ बेटी से प्रसव कराने को कहता है। आखिर कल्पना की गई है कि बेटी अपनी ही मां का प्रसव कराकर स्वयं को पैदा कराती है। पूरी फिल्म दर्शकों की आंखों को कई बार नम कर देती हैं, अलबत्ता 9 मिनट से अधिक लंबी वीडियो गीत के लिहाज से अधिक है। इस लघु फिल्म के रूप में भी बनाया जा सकता था। फिल्म का शुभारंभ फिल्म में प्रसूता की मुख्य भूमिका निभाने वाली भवालीगांव की ग्रामीण कंचन बिष्ट के हाथों फिल्म की कलाकार उनकी बेटी रश्मि बिष्ट, पंकज भट्ट, प्रियंका बिष्ट आदि के साथ किया। इस दौरान महिला छायाकार विनीता यशस्वी व अदिति खुराना के छायाचित्रों की प्रदर्शनी भी लगाई गई। विनीता, डीएसबी परिसर की शोधार्थी कविता व प्रो. नीरजा टंडन आदि ने भी विचार रखे एवं कहा कि महिलाएं देवी नहीं मनुष्य के रूप में बराबरी चाहती है, जिन्हें दर्द व कष्ट भी होते हैं। वे स्वच्छंदता नहीं स्वतंत्रता चाहती हैं। साथ ही बताया कि क्यों वे ‘बेबाक, बकैत व घुमंतू’ लड़कियां हैं। क्यों महिलाओं की छवि उनके परिधानों, घरेलू होने और न बोलने तक सीमित है। उनसे आवाज उठाने का आह्वान भी किया गया। इस मौके पर पूर्व विधायक डा. नारायण सिंह जंतवाल, कैलाश जोशी, सिने कलाकार ललित तिवारी, महेश जोशी, जहूर आलम, इदरीश मलिक, मिथिलेश पांडे, मदन मेहरा, हरीश राणा, मुकेश धस्माना व प्रमोद प्रसाद सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply

loading...