News

उपलब्धि: राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में स्वर्ण जीत राष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए चयनित हुए नैनीताल के हर्षित…

      डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 1 जुलाई 2022। नगर के नारायण वार्ड के निवासी 11 वर्षीय बालक हर्षित कुमार ने राज्य स्तरीय ताइक्वांडो प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक हासिल कर नगर एवं जनपद का नाम रोशन किया है। इसके साथ ही अब हर्षित आगामी राष्ट्रीय प्रतियोगिता में उत्तराखंड राज्य का प्रतिनिधित्व कर अपना हुनर […]

Tourism

नैना देवी हिमालयन पक्षी आरक्षित क्षेत्र में शुरू हुआ पक्षियों का पहला सर्वेक्षण…

      -अगले चार दिन देश भर से आए 54 पक्षी विशेषज्ञ जुटाएंगे यहां पाए जाने वाले पक्षियों के ब्यौरे डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 16 जून 2022। जनपद मुख्यालय के निकट किलबरी-पंगोट क्षेत्र में स्थित नैना देवी हिमालयन पक्षी आरक्षित क्षेत्र में पहली बार पक्षियों के सर्वेक्षण का कार्य होने जा रहा है। नैनीताल […]

News

‘नवीन समाचार’ के सभी समाचार एक जगह

       उत्तराखंड में जमकर हो रहा है नकली व नशीली दवाइयों तथा नकली उत्पादों का काला कारोबार, छोटा सा ट्रेलर बड़ी बरामदगी में देखा गया…2 July 2022 सुहागरात की रात ही सुहाग के जेवहरात लेकर ‘पिंकी’ फरार, शादी कराने वाला पंडित भी गायब…2 July 2022 सनसनीखेज खुलासा: भारतीय किसान यूनियन-टिकैत गुट के नेता निकले उत्तराखंड […]

महेश खान: यानी प्रकृति और जैव विविधता की खान

      पहली नजर में दो हिंदू-मुस्लिम नामों का सम्मिश्रण लगने वाले महेश खान के नाम में ‘खान’ कोई जाति या धर्म सूचक शब्द नहीं है, लेकिन ‘खान’ शब्द को दूसरे अर्थों में प्रयोग करें तो यह स्थान प्रकृति के लिए भी प्रयोग किए जाने वाले महेश यानी शिव की धरती कहे जाने वाले कुमाऊं में वानस्पतिक […]

पक्षी-तितली प्रेमियों का सर्वश्रेष्ठ गंतव्य है पवलगढ़ रिजर्व

      उत्तराखंड का नैनीताल जनपद में रामनगर वन प्रभाग स्थित पवलगढ़ रिजर्व पक्षी प्रेमियों के लिए बेहतरीन गंतव्य है। दिल्ली से सड़क और रेल मार्ग से करीब 260 किमी तथा नजदीकी हवाई अड्डे पंतनगर से करीब 87 किमी दूर रामनगर के जिम कार्बेट नेशनल पार्क से कोसी नदी के दूसरी-पूर्वी छोर से सटा 5824 हैक्टेयर में […]

भगवान राम की नगरी के समीप माता सीता का वन ‘सीतावनी’

       देवभूमि कुमाऊं-उत्तराखंड में रामायण में सतयुग, द्वापर से लेकर त्रेता युग से जुड़े अनेकों स्थान मिलते हैं। इन्हीं में से एक है त्रेता युग में भगवान राम की धर्मपत्नी माता सीता के निर्वासन काल का आश्रय स्थल रहा वन क्षेत्र-सीतावनी, जो अपनी शांति, प्रकृति एवं पर्यावरण के साथ मनुष्य को गहरी आध्यात्मिकता के साथ मानो उसी […]