News

भारत-नेपाल के बीच सीमापारीय जैव विविधता प्रबंधन पर आयोजित हुआ वेबिनार..

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       नवीन समाचार, नैनीताल, 30 दिसम्बर 2020। गोविंद बल्लभ पंत राष्ट्रीय हिमालयी हिमालयी पर्यावरण संस्थान कोसी कटारमल अल्मोड़ा तथा आईसीआईएमओडी नेपाल के तत्वाधान में चल रही पवित्र कैलाश भू-क्षेत्र संरक्षण एवं विकास पहल परियोजना के अंतर्गत बुधवार को सीमापारीय जैव-विविधता प्रबंधन पर भारत और नेपाल के बीच एक साझा मंच तैयार करने के उद्देश्य एक […]

News

आज से ही हो गई कुमाउनी होली की शुरुआत…

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       नवीन समाचार, नैनीताल, 20 दिसम्बर 2020। कुमाऊं में परंपरागत तौर पर राग-रागनियों पर आधारिक कुमाउनी बैठकी होली की शुरुआत पूस यानी पौष माह के पहले रविवार से हो जाती है, और यह आज से हो गई है। रविवार को नैनीताल में नगर की सबसे पुरानी धार्मिक-सामाजिक संस्थाओं में से एक श्रीराम सेवक सभा भवन […]

News

न्याय देवता के चितई ग्वेलज्यू मंदिर के मामले में हाईकोर्ट ने निर्णय लेने से किया इंकार, निचली अदालत को भेजा अधिकार का मामला..

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       नवीन समाचार, नैनीताल, 19 नवम्बर 2020। उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने प्रदेश में न्याय के देवता के रूप में प्रसिद्ध ग्वेलज्यू के चितई अल्मोड़ा स्थित मंदिर के प्रबंधन को लेकर जनहित याचिका व पुनर्विचार याचिका में खुद कोई निर्णय लेने से इंकार करते हुए सिविल न्यायालय अल्मोड़ा को मामले में उपासना से संबंधित अधिकार के […]

News

देखें पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला…

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       देखें 7वें दिन की पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला : देखें छठे दिन की पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला : देखें पांचवे दिन की पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला :  देखें चौथे दिन की पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला : देखें तीसरे दिन की पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला :  देखें दूसरे दिन की पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला : देखें पहले दिन […]

News

कोरोना काल में सादगी से मनाई गई पं. पंत की 133वीं जयंती, पहली बार सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित नहीं हुए

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       नवीन समाचार, नैनीताल, 10 सितंबर 2020। भारत रत्न पंडित गोविंद बल्लभ पंत की 133वीं जयंती शुक्रवार को कोविड-19 संक्रमण के चलते सरोवर नगरी के पंत पार्क में पूर्ण सादगी से मनाई गई। इस अवसर पर मुख्य अतिथि आईजी अजय रौतेला व अपर मंडलायुक्त संजय खेतवाल की अगुवाई में उपस्थित लोगों ने पं. पंत को […]

News

‘नवीन समाचार’ में सभी समाचार एक जगह

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       नैनीताल : गौकशी करते हुए पकड़े आरोपितों से न्यायालय ने बरती कोई मुरौबत..18 January 2021 नैनीताल : लालकुआं के कोतवाल को हटाने को कांग्रेसियों ने आईजी से उठाई मांग18 January 2021 पिछले माह हल्द्वानी में नाबालिग ने दिया था बच्चे को जन्म, अब उससे दुराचार करने का आरोपी युवक गिरफ्तार..18 January 2021 शोक समाचार-नैनीताल […]

साफ-सफाई का सन्देश देता ‘खतडु़वा’ आया, सर्दियां लाया

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       -विज्ञान व आधुनिक बौद्धिकता की कसौटी पर भी खरा उतरता है यह लोक पर्व, साफ-सफाई, पशुओं व परिवेश को बरसात के जल जनित रोगों के संक्रमण से मुक्त करने का भी देता है संदेश नवीन जोशी, नैनीताल। उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों, खासकर कुमाऊं अंचल में चौमांस-चार्तुमास यानी बरसात के बाद सर्दियों की शुरुआत एवं […]

News

अंतर्राष्ट्रीय वेबीनार से मनाया गया गुरुदेव का जन्मदिन, राष्ट्रगान दिवस के रूप में मनाने का केंद्रीय मंत्री ने जताया संकल्प

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       -गुरुदेव द्वारा रचित राष्ट्रगान वाले दो देश भारत और बांग्लादेश आज साथ मिलकर गुरुदेव का जन्म दिन मना रहे हैं: रिवानवीन समाचार, देहरादून, 7 मई 2020। राष्ट्रगान ‘जन गण मन’ के लेखक गुरुदेव रबींद्रनाथ टैगोर का 159वां जन्मोत्सव बृहस्पतिवार को ऑनलाइन अंतर्राष्ट्रीय वेबिनार के जरिये आयोजित किया गया। इस मौके पर बोलते हुए केंद्रीय […]

News

ग्लोबलवार्मिंग का प्रभाव ! तीन माह पूर्व ही “काफल पाको पूसा…!!!” 🤔

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       नवीन समाचार, नैनीताल, 9 जनवरी 2019। कुमाऊं के सुप्रसिद्ध लोकगीत ‘बेड़ू पाको बारों मासा, ओ नरैंण काफल पाको चैता’ में वर्णित व चैत यानी चैत्र माह के आखिर में पकना शुरू करने वाला और वास्तव में मई-जून की गर्मियों में शीतलता प्रदान करने वाला काफल (वानस्पतिक नाम मैरिका एस्कुलेंटा-Myrica esculenta) लगातार दूसरेे वर्ष संभवतया […]

स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता का लोकपर्व घी-त्यार, घृत संक्रांति, ओलगिया…

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       प्रकृति एवं पर्यावरण से प्रेम व उसके संरक्षण के साथ ही अभावों में भी हर मौके को उत्साहपूर्वक त्योहारों के साथ ऋतु व कृर्षि पर्वों के साथ मनाना देवभूमि उत्तराखंड की हमेशा से पहचान रही है। यही त्योहारधर्मिता उत्तराखंड के कमोबेश सही लोक पर्वों में दृष्टिगोचर होती है। यहां प्रचलित हिंदू विक्रमी संवत की […]

उत्तराखंड के कुमाऊं-गढ़वाल को जोड़ने के लिए इस बड़ी कोशिश में है सरकार

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       -इस हेतु प्रयासरत वन मंत्री डा. हरक सिंह रावत ने कहा कंडी मार्ग बन कर रहेगी, बरसात पूर्व व बाद वन्य जीवों के आवागमन पर राष्ट्रीय वन्य जीव संस्थान के सहयोग से किया जा रहा है सर्वे, सितंबर तक आ जाएगी सर्वे रिपोर्ट नैनीताल, 2 जुलाई 2018। उत्तराखंड के कुमाऊं व गढ़वाल मंडलों को […]

177 साल के नैनीताल में कुमाउनी रेस्टोरेंट की कमी हुई पूरी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       -पूरी तरह कुमाउनी थीम पर स्थापित किया गया है 1938 में स्थापित अनुपम रेस्टोरेंट -अब यहां लीजिये कुमाउनी थाली के साथ ही पहाड़ी शिकार सहित अनेक पहाड़ी जड़ी-बूटी युक्त व्यंजनों का भी स्वाद नवीन जोशी, नैनीताल। 1841 में अपनी बसासत से ही अंग्रेजी रंग में रंगी ‘छोटी बिलायत’ भी कहलाने वाली सरोवरनगरी नैनीताल में […]

जागेश्वर मंदिर समूह बना कुमाऊं विवि का आधिकारिक प्रतीक

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       नैनीताल। कुमाऊं विश्वविद्यालय ने सातवीं से 14वीं शताब्दी में बने देश के 12 ज्योर्तिलिंगों में से एक, 125 मंदिरों के जागेश्वर मंदिर समूह को अपना आधिकारिक प्रतीक चुन लिया है। विवि के कुलपति प्रो. डीके नौड़ियाल ने बताया कि काफी सोच-विचार के बाद कुमाऊं के सबसे बड़े मंदिर समूह व पहचान के रूप में […]

News

उत्तराखण्ड की पत्रकारिता का इतिहास

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       आदि-अनादि काल से वैदिक ऋचाओं की जन्मदात्री उर्वरा धरा रही देवभूमि उत्तराखण्ड में पत्रकारिता का गौरवपूर्ण अतीत रहा है। कहते हैं कि यहीं ऋषि-मुनियों के अंतर्मन में सर्वप्रथम ज्ञानोदय हुआ था। बाद के वर्षों में आर्थिक रूप से पिछड़ने के बावजूद उत्तराखंड बौद्धिक सम्पदा के मामले में हमेशा समृद्ध रहा। शायद यही कारण हो […]

आस्था के साथ ही सांस्कृतिक-ऐतिहासिक धरोहर भी हैं ‘जागर’

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       इस तरह ‘जागर’ के दौरान पारलौकिक शक्तियों के वसीभूत होकर झूमते हें ‘डंगरिये’ कुमाऊं के जटिल भौगोलिक परिस्थितियों वाले दुर्गम पर्वतीय क्षेत्रों में संगीत की मौखिक परम्पराओं के अनेक विशिष्ट रूप प्रचलित हैं। उत्तराखंड के इस अंचल की संस्कृति में बहुत गहरे तक बैठी प्रकृति यहां की लोक संस्कृति के अन्य अंगों की तरह […]

loading...