Astha

नैनीताल : शुरू होगा रामलीला स्टेज का सौंदर्यीकरण, रजा क्लब में शिफ्ट होगी मंडी

       डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 22 जून 2022। व्यवसायियों के ग्रीष्मकालीन पर्यटन सीजन के दौरान न शुरू किए जाने के अनुरोध के बाद अब मुख्यालय में मल्लीताल रामलीला स्टेज में सौंदर्यीकरण के कार्य शुरू होने जा रहे हैं। इस कार्य हेतु बुधवार को एसडीएम प्रतीक जैन ने नगर पालिका के ईओ अशोक […]

News

नैनीताल की रामलीला की एक विशेषता यह भी, यहां 41 वर्षों से रामकाज कर रहे हैं भीम व विमल

      डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 13 अक्टूबर 2021। नैनीताल की रामलीला की कई अनूठी विशिष्टताएं हैं। इन्हीं में दो व्यक्तियों भीम सिंह कार्की व विमल चौधरी का जिक्र करना भी जरूरी है। भीम सिंह पिछले 41 वर्षों से मल्लीताल की रामलीला में रूप सज्जा का कार्य संभाल रहे हैं, जबकि करीब इतना ही […]

News

साफ-सफाई का सन्देश देता ‘खतडु़वा’ आया, सर्दियां लाया

      -विज्ञान व आधुनिक बौद्धिकता की कसौटी पर भी खरा उतरता है यह लोक पर्व, साफ-सफाई, पशुओं व परिवेश को बरसात के जल जनित रोगों के संक्रमण से मुक्त करने का भी देता है संदेश डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 17 सितंबर 2021। उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों, खासकर कुमाऊं अंचल में चौमांस-चार्तुमास यानी बरसात के […]

News

‘नवीन समाचार’ के सभी समाचार एक जगह

       उत्तराखंड में जमकर हो रहा है नकली व नशीली दवाइयों तथा नकली उत्पादों का काला कारोबार, छोटा सा ट्रेलर बड़ी बरामदगी में देखा गया…2 July 2022 सुहागरात की रात ही सुहाग के जेवहरात लेकर ‘पिंकी’ फरार, शादी कराने वाला पंडित भी गायब…2 July 2022 सनसनीखेज खुलासा: भारतीय किसान यूनियन-टिकैत गुट के नेता निकले उत्तराखंड […]

दीवाली पर नैनीताल की बेटी दीक्षा ने दक्षिण अमेरिकी बच्चों को दिया यह ‘हिंदुस्तानी’ तोहफा

      -कनाडा में दूसरी पुस्तक ‘वेद‘स लिटिल बुक ऑन डिवोसन’ हुई लॉंच -बिक्री के मामले में अमेजन पर बच्चों की हिंदू धर्म की पुस्तकों में सर्वाधिक बिकने वाली सूची में दो दिन में ही दूसरे स्थान पर आ गयी है  यह पुस्तक  नैनीताल, 5 सितंबर 2018। दिवाली के त्यौहार पर नैनीताल की एक बेटी दीक्षा पाल नारायणन […]

नेपाली, तिब्बती, पैगोडा, गौथिक व ग्वालियर शैली में बना है नयना देवी मंदिर

       “सरोवरनगरी की पहचान से जुड़ा नगर का प्राचीन नयना देवी मंदिर नेपाली, तिब्बती, पैगोडा व कुछ हद तक अंग्रेजी गौथिक व ग्वालियर शैली में भी बना हुआ है। इसकी स्थापना नगर के संस्थापकों में शुमार मूलतः नेपाल निवासी मोती राम शाह के पुत्र अमर नाथ शाह ने अंग्रेजों से एक समझौते के तहत यहां […]