यह सामग्री कॉपी नहीं हो सकती है, फिर भी चाहिए तो व्हात्सएप से 8077566792 पर संपर्क करें..

नैनीताल के नवीन समाचार : शहर में ‘बाइक तोड़’ गिरोह सक्रिय, लोग चले थाने…

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवीन समाचार, नैनीताल, 8 अक्तूबर 2019। सरोवर नगरी में पिछले कई दिनों से ‘बाइक तोड़’ गिरोह सक्रिय है। इन असामाजिक तत्वों ने बीती रात्रि नगर के श्रीकृष्णापुर वार्ड में आधा दर्जन से अधिक मोटरसाइकिलों को क्षतिग्रस्त कर दिया।कई मोटरसाइकिलें तो अपने स्थान से करीब आधा किलोमीटर दूर तक मिलीं। इससे क्षेत्रवासियों में जबरदस्त आक्रोश है। इस सिलसिले में क्षेत्रीय लोग तल्लीताल थाना पहुंच रहे हैं।
क्षेत्रवासी अधिवक्ता हरेंद्र सिंह के अनुसार बीती रात उनकी नई अपाचे बाइक संख्या यूके 04 वाई 0 933 गायब मिली। बाद में ढूंढने पर करीब 600 मीटर दूर कूड़ा खंड के पास मिली। इसमें अज्ञात लोगों ने काफी तोड़फोड़ भी की गई थी। इसी तरह बाइक संख्या यूके जीरो 40 762 सहित कई अन्य दुपहिया वाहनों मैं तोड़फोड़ की की गई है। इसके अलावा नगर में मोटरसाइकिन पेट्रोल चोरी की घटनाएं भी आम हैं। उल्लेखनीय है की पर्वतीय शहर होने के कारण लोग अपनी बाइकों को अपनी घरों तक नहीं ले जा पातेे हैं, और सड़क पर ही खड़ीीी रहती हैं पूर्व मेंं पहाड़ों को ‘अपराध मुक्त-ताला रहित’ कहा जाता था। लोग अपने घरोंं में ताले भी नहींं लगाते थे। किंतु इधर हालिया वर्षों में चोरी और इस तरह की घटनाएं आम हो गई हैं।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में दिन-दहाड़े सेना के जवान के घर से 80 हजार रुपए के आभूषण चोरी

नवीन समाचार, नैनीताल, 27 अगस्त 2019। नगर के तल्लीताल के आर्मी कैंट क्षेत्र में पुलिस थाने से चंद कदमों की दूरी पर एक सेना के जवान के घर से दिन-दहाड़े चोरी की घटना सामने आई है। अज्ञात चोरों ने पुलिस को चुनौती देते हुए चोरी की घटना को तब अंजाम दिया, जब सैनिक सुनील कुमार की पत्नी घर के दरवाजे पर ताला लगाकर बच्चों को स्कूल छोड़ने गई थी। जब वह घर लौटी तो घर का ताला टूटा और घर खुला मिला और घर से 80 हजार रुपए के आभूषण गायब थे। पुलिस ने सैनिक की तहरीर पर चोरी का मुकदमा दर्ज कर चोरों की तलाश शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें : बदमाश दर्जी ने व्यापारी को बच्चे को जान से मारने की धमकी देकर मांगे डेढ़ करोड़, पुलिस ने सिखाया मजा…

आरोपित दर्जी

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 20 जुलाई 2019। हल्द्वानी में शुक्रवार को सदर बाजार स्थित साड़ी संगम मंगल नाम के प्रतिष्ठान के स्वामी पवन जैन को उनके लैंड लाइन फोन पर डेढ़ करोड़ रुपए देने की मांग की गयी, और रुपये न देने पर उनके बेटे को जान से मारने की धमकी दी गयी। इस पर पुलिस ने धारा 386 के तहत अज्ञात के विरुद्ध अभियोग पंजीकृत किया। मामले की विवेचना मगंलपड़ाव के चौकी प्रभारी उपनिरीक्षक बलवंत कंबोज के सुपुर्द की गयी। विवेचना में उप निरीक्षक ने एसओजी नैनीताल की सयुक्त टीम के सहयोग से तत्काल कार्रवाई करते हुए उस्मान अली पुत्र कासिम अली निवासी उत्तर उजाला थाना बनभूलपुरा को शनिवार को 20 जुलाई को उस मोबाइल के साथ शनि बाजार से गिरफ्तार’ कर लिया, जिससे व्यवसायी को धमकी दी गयी थी। जांच में यह भी पता चला है कि आरोपित नगर बद्रीपुरा क्षेत्र में कपड़े सिलने का कार्य करता है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल पुलिस ने दो चोरी की गाड़ियों सहित मामा-भांजा गिरफ्तार

-ठाकुरद्वारा के कबाड़ी से खरीदी थीं चोरी की गाड़ियां, चल रही थीं टैक्सी के रूप में

मल्लीताल कोतवाली पुलिस की गिरफ्त में चोरी की गाड़ियां चलाने वाले।

<

p style=”text-align: justify;”>नवीन समाचार, नैनीताल, 7 जुलाई 2019। नैनीताल पुलिस ने रविवार को चोरी की दो गाड़ियां जब्त करने का दावा किया। इनके साथ आपस में मामा-भांजा का रिश्ता रखने वाले मूलतः यूपी के दड़ियाल रामपुर निवासी व यहां मेट्रोपोल कंपाउंड में रहने वाले लियाकत अली पुत्र अहमद अली व आरिफ पुत्र हसमत अली नाम के दो लोगों को भी पकड़ा गया है। दोनों पर आरोप है कि उन्होंने यह गाड़ियां ठाकुरद्वारा के एक कबाड़ी से खरीदी हैं। कारों के इंजन व चेसिस नंबर में छेड़छाड़ भी की गयी है।
जनपद की पुलिस अधीक्षक अपराध एवं यातायात रचिता जुयाल ने रविवार को मल्लीताल कोतवाली में आयोजित पत्रकार वार्ता में बताया कि शनिवार को मल्लीताल कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार के नेतृत्व में उप निरीक्षक दीपक बिष्ट तथा आरक्षी विनोद यादव, सोनू सिंह व शाहिद अली ने चेकिंग के दौरान मुखबिर की सूचना पर मेट्रोपोल टैक्सी कार पार्किंग में खड़ी 2 इको वाहन संख्या यूके04टीए-2310 व यूके01टीए-1367 के दस्तावेजों में अंकित चेचिस व इंजन नंबरों का मिलान वाहनों के चेचिस नंबर एवं इंजन नंबरों के साथ किया तो उनका मिलान नहीं हुआ। इस पर इन वाहलों के स्वामियों ने स्वीकार किया कि दोनों गाड़ियां चोरी की है तथा उन्होंने यह गाड़ियां ठाकुरद्वारा में एक कबाड़ी की मदद से इनके इंजन नंबर व चेचिस नंबर इत्यादि में हेरफेर कर इनमें अलग से किसी अन्य गाड़ी का इंजन लगा लिया था। दोनों वाहनों को कब्जे में लेकर दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर उन पर भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 467, 468 व 482 के तहत अभियोग पंजीकृत किया तथा दोनों न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत कर न्यायिक हिरासत में जेल भेजने की कार्रवाई की। तीन वर्ष से टैक्सी के रूप में नगर में चल रही थी गाड़ियां
नैनीताल। पकड़े गये आरोपितों का कहना है कि उन्होंने इनमें से एक गाड़ी हल्द्वानी व दूसरी अल्मोड़ा से खरीदी थी, और उन्हें इनके चोरी के होने का पता नहीं था। अलबत्ता उन्होंने गाड़ियों के इंजन बदलवाए हैं। उनका यह भी कहना है कि यह गाडियां नगर में पिछले तीन वर्ष से टैक्सी के रूप में चल रही हैं, और कभी चेकिंग में नहीं पकड़ी गयीं।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में दो पक्षों के बीच इतनी सी बात पर खूनी संघर्ष

नवीन समाचार, नैनीताल, 2 जुलाई 2019। नगर के मल्लीताल राजमहल कंपाउंड दो पक्षों के बीच वाहन खड़ा करने की छोटी सी बात को लेकर खूनी संघर्ष हो गया। मामले में एक पक्ष के ट्रेवल व्यवसायी राजेंद्र बिष्ट ने बताया कि वह अपनी मोटरसाइकिल से घर जा रहे थे। आगे सड़क पर खड़े वाहन को लेकर उन्होंने सैलानी वाहन स्वामी को टोका तो उन पर दो लोगों ने जानलेवा हमला कर दिया। साथ ही बचाव में आये उनके भाई गोपाल को भी मारपीट कर लहूलुहान कर दिया गया।

देखें घटना का वीडियो :

वहीं दूसरे पक्ष के ठेकेदार रिजवान व उसके पुत्र रेहान का कहना था कि उनके रिश्तेदार बाहर से आये थे और सड़क पर वाहन खड़े करने पर टोके जाने के बाद वाहन हटा ही रहे थे, कि राजेंद्र व गोविन्द आदि ने उनके घर में घुसकर मारपीट शुरू कर दी। इस बीच दोनों पक्षों में हाथ में जो आया, उससे एक-दूसरे पर वार-प्रतिवार होते रहे। धारदार हथियार से भी हमला बोला गया। पहले सूचना मिलने पर पुलिस भी मामले में हस्तक्षेप करना टालती दिखी। आखिर कोतवाली से प्रभारी कोतवाल बीसी मासीवाल, एसआई जयानंद पांडे, एएसआई सत्येंद्र गंगोला, संदीप नेगी, कांस्टेबल विनोद यादव व मनोज जोशी आदि ने मौके पर पहुंचकर मामला किसी तरह शांत कराया और दोनों पक्षों के दो-दो लोगों का 500-500 रुपए का चालान कर दिया। बाद में पुलिस ने दोनों पक्षों के बीच समझौता होने का भी दावा किया। गनीमत रही मामला सांप्रदायिक रंग नहीं ले पाया।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में सिर्फ इतनी सी बात पर वायु सैनिक का महिला सहित फड़ फड़ वालों ने सिर फोड़ डाला

नवीन समाचार, नैनीताल, 21 जून 2019। सरोवरनगरी में बीती रात्रि हुई एक वारदात में नगर के फड़ व्यवसायियों ने बरेली से घूमने आये एक वायु सैनिक का बेहद मामूली सी बात पर सिर फोड़ डाला। इससे नगर की पर्यटन नगरी के रूप में भी छवि धूमिल हुई है। बात इतनी सी हुई कि सैलानियों ने मल्लीताल पेविंग के पास लगे एक टोपियों से फड़ से हैट (टोपी) उठाई और उसे पहनकर फड़ पहनने लगे। इस पर दुकान स्वामी ने हैट पहनकर फोटो खिंचवाने के 20 रुपए मांगे। पर्यटक को यह अटपटा लगा तो बात टोपी की कीमत 250 बताने तक आ गयी और आखिर सैलानी से कह दिया कि ‘हैट खरीदने की उसकी औकात नहीं है’ इस पर बात मारपीट तक पहुंच गयी। यहां तक कि बरेली में ही वायु सैनिक के पद पर तैनात आरके सक्सेना को सिर में छातों के डंडों आदि से गंभीर रूप से चोटिल कर दिया, जबकि उसकी पत्नी मीतू और बहनोई रामपुर जिला कलक्ट्रेट में नाजिर के पद पर कार्यरत विकास सक्सेना को भी चोटें आईं। बताया गया कि बरेली के सन सिटी निवासी 15-16 पारिवारिक सदस्य जागेश्वर से होते हुए नगर में घूमने आये थे। तभी यह घटना हुई। मामले में चर्चित महिला फड़ व्यवसायी रीना कश्यप, कन्हैया व अली सहित दो अन्य फड़ वाले शामिल रहे। घटना के बाद पहुंची पुलिस ने कन्हैया व अली को दबोच कर थाने में बैठा दिया। मामले में दोनों पक्षों की ओर से पुलिस में तहरीर दी गयी है। लेकिन इधर शुक्रवार को मामले में फड़ वालों के द्वारा सैलानियों से माफी मांगी गयी और मामले को निपटाने का प्रयास किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें : नयना देवी मंदिर में श्रद्धालुओं के मोबाइल उड़ाते पकड़े गये पॉकेटमार

नवीन समाचार, नैनीताल, 15 जून 2019। शनिवार को चोरों ने नगर की आराध्य देवी-माता नयना देवी के मंदिर परिसर में दर्शनों को आये दो बाहरी श्रद्धालुओं की जेब से उनके मोबाइल उड़ा दिये। श्रद्धालुओं के शोर मचाए जाने पर मंदिर समिति के पदाधिकारियों ने गेट से बाहर तक पीछा कर तीन युवकों को पकड़ लिया और मोबाइल बरामद कर लिये। घटना की सूचना मल्लीताल कोतवाली पुलिस को दी गयी। पुलिस ने युवकों से पूछताछ की। उनके साथ आए अन्य युवकों की भी खोजबीन की गयी। मोबाइल मिल जाने पर श्रद्धालुओं ने कोई कार्रवाई करने से इंकार कर दिया, इस पर पुलिस ने भी पॉकेटमार युवकों को छोड़ दिया। बताया कि उनका कोई पुराना आपराधिक इतिहास नहीं है। अलबत्ता, उन्होंने मंदिर परिसर में चोरी का प्रयास किया।

यह भी पढ़ें : ‘डीजे’ के शोर में काट दिया था चंदन का पेड़, वन विभाग ने पकड़े तस्कर, भेजे जेल…

शाकिर हुसैन / ललित मोहन बधानी @ नवीन समाचार, कालाढूंगी, 24 मई 2019। नैनीताल तिराहे पर स्थित देश-दुनिया में प्रसिद्ध कार्बेट संग्रहालय कालाढुंगी में खड़े चंदन के पेड़ को आठ दिन पहले 16,मई की रात काटकर ले जाने वाले तीन तस्करों को कार्बेट की एसओजी टीम ने पकड़ लिया है, जबकि दो तस्कर अभी फरार बताए जा रहे हैं। शुक्रवार को पार्क वार्डन शिवराज चंद्र व शोध रेंज के रेंज अधिकारी व एसओजी प्रभारी संजय पांडे ने कार्बेट संग्रहालय पहुंचकर घटना का खुलासा किया। पांडे ने बताया कि विक्की तिवारी पुत्र हेम चंद्र तिवारी निवासी अस्पताल वार्ड 4 कालाढूंगी, दीपक सिंह बिष्ट पुत्र सुभाष सिंह गुलजारपुर बंकी, इश्तिकार पुत्र सादक निवासी स्वार रामपुर को पकड़ा गया है। तीनों ने चंदन का पेड़ काटने का जुर्म कबूल लिया तथा दो और साथियों के नाम बताए हैं। तस्करों से चंदन की लकड़ी व कटर बरामद हुआ है। तीनों तस्करों को वन अधिनियम के तहत जेल भेज दिया गया है, जबकि दोनों फरार तस्करों की तलाश की जा रही है। टीम में सुदेश कुमार, नरेश कुमार विनोद बिष्ट व वीरेंद्र आदि मौजूद थे।

शादी के शोर में काट डाला था पेड़

पूछताछ में तस्करों ने वन विभाग की टीम को बताया कि उस रात संग्रहालय के पास में एक विवाह समारोह चल रहा था। इस कारण संग्रहालय में रहने वाले परिवार के लोग भी शादी में चले गये थे और शादी में अत्यधिक तेज गति से डीजे बज रहा था। डीजे की तेज आवाज के चलते नैनीताल तिराहे पर पुलिस कर्मियों को पेड़ गिरने की आवाज नही आई। उन्होने पेड़ को काट कर ग्राम छोटी हल्द्वानी से होकर कुआठात होकर गुलजारपुर निवासी दीपक के घर छुपा दिया था, और बाद में स्वार निवासी इस्तहकार को लकड़ी के 2 भाग बेचने के लिए दे दिए थे। इनमें से एक दीपक के घर से बरामद किया गया है।

यह भी पढ़ें : आज किसने और क्यों कहा- उत्तराखंड में ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ नहीं, ‘बेटी फंसाओ-बेटी पकड़ाओ’ 

कहा-अब तक एक भी भाजपा नेता नहीं बोले एक पीड़ित बेटी के पक्ष में

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 मई 2019। बीती 9 मई को अधिवक्ता रवि कनवाल पर हुए कथित जानलेवा हमले के बाद, सीसीटीवी फुटेज में आरोपों की पुष्टि न होने के बाद उत्तराखंड उच्च न्यायालय से जमानत प्राप्त आरोपित सरिता नेगी ने आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री मोदी के ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ के नारे के इतर उत्तराखंड में भाजपा सरकार और पार्टी के नेता ‘बेटी फंसाओ-बेटी पकड़ाओ’ की नीति पर चल रहे हैं। बताया कि सैनिक पति की मौत के बाद उनके द्वारा किसी तरह हिम्मत कर चलाये जा रहे उत्तरांचल होटल व उत्तरांचल रेस्टोरेंट बंद हैं, और कुछ लोग चाहते हैं कि यह बंद ही हो जाएं। कहा-अब तक एक भी भाजपा नेता एक पीड़ित बेटी के पक्ष में नहीं बोले।

मामले में बिना अपराध गिरफ्तार उनके चचेरे भाई गौरव मेहरा की नैनीताल जेल में पिटाई की गई, और अब प्रभारी जेलर रमेश भारती द्वारा उच्चाधिकारियों के हवाले से उन्हें कहा गया है कि किसी को गौरव से मिलने नहीं दिया जाएगा। इससे पूरा परिवार भयग्रस्त है। इस पर उन्होंने मल्लीताल कोतवाल को पत्र लिखकर सुरक्षा की मांग की है। बताया कि महिला अधिकार मंच व महिला सहायता मंच आदि महिला संगठनों ने उनका पूरा प्रकरण जानने के बाद उनके पक्ष का समर्थन करने का एलान किया है।

यह भी पढ़ें : अधिवक्ता से मारपीट मामले में अब इन्होंने लगाया पुलिस पर उत्पीड़न का आरोप

-पुलिस अब मेरे पीछे पड़ी: इंदर
-गौरव से मारपीट के विरोध में आज अधिवक्ताओं को एसएसपी से मिलना था, परंतु नहीं मिले
नवीन समाचार, नैनीताल, 17 मई 2019। बीती 9 मई को अधिवक्ता रवि कनवाल से कथित तौर पर हुई मारपीट के एक अन्य आरोपित इंदर सिंह नेगी ने कहा है कि अब अकारण पुलिस उनके पीछे पड़ गयी है। जबकि वह घटना के दिन ही स्वयं पुलिस कोतवाली आकर अपनी बेगुनाही से पुलिस के अधिकारियों को संतुष्ट कर चुके हैं। मुख्य आरोपित सरिता नेगी के जेठ इंदर ने कहा कि मेडिकल जांच में भी उनके बेगुनाह होने की पुष्टि होती है। अब तक पुलिस भी उनके बारे में बात नहीं कर रही थी, किंतु इधर सरिता नेगी की गिरफ्तारी पर उच्च न्यायालय से रोक लगने के बाद पुलिस बुरी तरह से उन्हें तलाश रही है। उन्हें भय है कि जैसे सरिता के चचेरे भाई गौरव के साथ पुलिस का व्यवहार रहा है, और जेल में भी उसकी पिटाई की गयी है, उसके बाद वे भयाक्रांत हैं। कहा कि पुलिस एवं अधिवक्ता जगत में कुछ लोग पूरी सच्चाई और उनकी बेगुनाही जानने के बावजूद अपने पवित्र पेशे की साख पर बट्टा लगाते हुए उनके पीछे पड़ गये हैं।

एसएसपी ने दिया है गिरफ्तारी का आश्वासन !

नैनीताल। अधिवक्ता पर कथित जानलेवा हमले की आरोपित सरिता नेगी की गिरफ्तारी पर उच्च न्यायालय से रोक लगने के बाद अधिवक्ताओं ने एसएसपी से मुलाकात कर इंदर नेगी को गिरफ्तारी करने के लिए सोमवार तक का समय दिया है। अधिवक्ताओं के अनुसार एसएसपी ने उन्हें इसका आश्वासन भी दिया है, जिसके बाद ही उन्होंने अपना अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार वापस लिया है।

यह भी पढ़ें : अधिवक्ताओं ने की अधिवक्ता पर जानलेवा हमले के आरोपित से जेल में मारपीट की निंदा, जेलर के निलंबन की मांग करेंगे…

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 मई 2019। बीती 9 मई को अधिवक्ता रवि कनवाल पर सड़ियाताल जल प्रपात के पास रेस्टोरेंटों की भूमि के विवाद में हुए जानलेवा हमले में ‘नवीन समाचार’ द्वारा हमले के आरोपित से नैनीताल जिला जेल में मारपीट होने के समाचार पर अधिवक्ता जगत से प्रतिक्रिया आई है। जिला बार एसोसिएशन के उपाध्यक्ष प्रदीप परगाई ने कहा, “अधिवक्ता जगत जेल में आरोपित से मारपीट की घटना की निंदा करता है। जेलर घटना के लिए जिम्मेदार हैं उन्होंने क्यों नहीं घटना होने पर मारपीट करने वालों के खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई ? इस मामले में शुक्रवार को अधिवक्ता जनपद के एसएसपी से मिलकर जेलर को निलंबित करने की मांग करेंगे।”

उल्लेखनीय है कि हमले की आरोपित सरिता नेगी के भाई गोविंद मेहरा ने ‘नवीन समाचार’ को बताया था कि बृहस्पतिवार को कुछ लोग मामले में नैनीताल जिला कारागार में बंद उनके चचेरे भाई गौरव मेहरा से मिलने गये थे, तब गौरव ने बताया कि उसके साथ जेल की बैरक में मारपीट हुई है। इससे उसके पेट, पीठ और चेहरे पर हौंठों में चोटें आई हैं। जेलर रमेश कुमार भारती ने भी मारपीट की पुष्टि करते हुए बताया कि वह 14 मई की रात्रि जेल बंद करके चले गये थे, तब उनकी अनुपस्थिति में कुछ लोगों ने बैरक में कहासुनी के बाद गौरव के साथ मारपीट की है। जानकारी मिलने के बाद उन्होंने गौरव का जेल में ही उपचार कराया और उसका बैरक बदल दिया है।

सीसीटीवी कैमरे ने अदालत में बयां की सच्चाई, घटना के दौरान होटल में थी आरोपित, हाईकोर्ट ने लगाई गिरफ्तार पर रोक

नैनीताल। बृहस्पतिवार को उच्च न्यायालय की न्यायमूर्ति रवींद्र कुमार मैठाणी की एकलपीठ ने अधिवक्ता रवि कनवाल पर जानलेवा हमले की मुख्य आरोपित सरिता नेगी की गिरफ्तार पर रोक लगा दी। उल्लेखनीय है कि एकलपीठ ने मल्लीताल थाने को निर्देश दिए थे कि वह घटना से संबंधित सीसीटीवी कैमरे की फुटेज न्यायालय में प्रस्तुत करे। बृहस्पतिवार को हुई सुनवाई के दौरान पीठ ने सीसीटीवी कैमरे की फुटेज का अवलोकन किया। पीठ ने सीसीटीवी कैमरे की फुटेज देखकर पाया कि एफआईआर में अधिवक्ता से मारपीट का जो समय दर्ज किया गया है, उस समय आरोपित महिला अपने रेस्टोरेंट में मौजूद थी। एफआईआर के अनुसार शाम को छह बजे से साढ़े छह बजे के बीच मारपीट की घटना दर्ज की गयी है। वहीं कैमरे के फुटेज के अनुसार आरोपी 6 से पौने सात बजे तक अपने रेस्टोरेंट में मौजूद दिखाई दे रही है। इसे आधार मानकर कोर्ट ने उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है।

इधर जिला बार एसोसिएशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रदीप परगाई ने बताया कि अधिवक्ताओं ने एसएसपी सुनील कुमार मीणा से मुलाकात कर मामले में सरिता नेगी के जेठ इंदर नेगी की गिरफ्तारी की मांग की। इस पर एसएसपी के आश्वासन के बाद अपनी तीन दिन से चल रही अनिश्चितकालीन हड़ताल सोमवार तक के लिए स्थगित कर दी। बार के कनिष्ठ उपाध्यक्ष रवि शंकर आर्या ने बताया कि आज जिला बार के नवनिर्वाचित अध्यक्ष हरिशंकर कंसल, निवर्तमान अध्यक्ष ओंकार गोस्वामी, सचिव अरुण बिष्ट, उपाध्यक्ष प्रदीप परगाई, रविशंकर आर्या, प्रमोद तिवारी, मुकेश कुमार, मेघा उप्रेती, हरेंद्र सिंह, बहादुर पाल, बीसी मेलकानी, संजय सुयाल, भानु प्रताप, अजीम, संतोष, तरुण, गौरव, गंगा सिंह, हरीश आर्य, भगवत प्रसाद, अनिल व मनीश कांडपाल आदि अधिवक्ताओं ने एसएसपी से भी मुलाकात की। 

यह भी पढ़ें : मौके पर नहीं, बजून में था अधिवक्ता पर हमले का आरोपित-गिरफ्तार चचेरा भाई

नवीन समाचार, नैनीताल, 15 मई 2019। गत 9 मई को अधिवक्ता रवि कनवाल से सड़ियाताल जल प्रपात के पास जानलेवा हमला करने के मामले में आरोपित महिला सरिता नेगी के भाई ने ‘नवीन समाचार’ से बात करते हुए दावा किया कि घटना के दौरान पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया महिला चचेरा भाई गौरव मेहरा मौके पर नहीं, बल्कि शाम 6 से बजून के ‘उत्तराँचल इन’ होटल में मौजूद था और वहां के सीसीटीवी कैमरे में शाम 7 बजकर 15 मिनट पर नजर आ रहा है। उन्होंने यह भी दावा किया कि वास्तव में अधिवक्ता रवि कनवाल के साथ कोई घटना नहीं हुई। जिस दौरान की घटना बताई जा रही है उस दौरान सरिता नेगी व उनके जेठ भी कैमरे में नजर आ रहे हैं। इस दौरान उनके द्वारा पुलिस के अधिकारीयों को की गई फोन कॉल की डिटेल से इसकी पुष्टि होती है। यह भी दावा किया कि कैमरे में अधिवक्ता अपनी कार में सही सलामत जाते भी नजर आ रहे हैं। वारदात केवल बनाई गयी है। इधर बताया गया है कि सरिता नेगी की अग्रिम जमानत पर बुधवार को उच्च न्यायालय में कोई आदेश नहीं आये। मामले की अगली सुनवाई बृहस्पतिवार को हो सकती है। इधर ऑल इंडिया वीमन कांफ्रेंस महिला सरिता नेगी के मामले में सहायता करने की बात कही है। 

हाईकोर्ट बार ने दिया जिला बार को समर्थन

नैनीताल। अधिवक्ता रवि कनवाल पर गत नौ मई को हुए जानलेवा हमले की हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने कड़े शब्दों में भर्त्सना की है। साथ ही जिला बार एसोसिएशन द्वारा इस संबंध में उठाये गये कदम का पूर्ण समर्थन करने की घोषणा की है।

यह भी पढ़ें : महिला उद्यमी की गिरफ्तारी की मांग पर अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार पर गए जिला बार के अधिवक्ता, पुलिस ने महिला का चचेरा भाई दबोचा

नवीन समाचार, नैनीताल, 14 मई 2019। बीती 9 मई को अधिवक्ता रवि कनवाल पर हुए जानलेवा हमले की आरोपित महिला उद्यमी सरिता नेगी की गिरफ्तारी की मांग पर जिला बार एसोसिएशन नैनीताल के अधिवक्ता कार्य बहिष्कार पर चले गए हैं। मंगलवार सुबह अधिवक्ताओं ने जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष हरिशंकर कंसल के नेतृत्व में जिला बार एसोसिएशन भवन के समक्ष नारेबाजी की। इधर पुलिस ने दबिश देकर महिला के चचेरे भाई गौरव उर्फ गुड्डू को गिरफ्तार कर लिया है। सीओ विजय सिंह थापा ने बताया कि महिला की भी तलाश की जा रही है अभी वह पकड़ से बाहर है।

प्रदर्शन में शामिल रहे बार के वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रदीप परगाई ने बताया कि आरोपित की गिरफ्तारी होने तक के लिए अधिवक्ता अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार पर चले गए हैं।प्रदर्शन में प्रमोद कुमार, संजय सुयाल, अनिल हर्नवाल, सुल्तान मलिक एवं तस्लीम आदि अधिवक्ता भी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें, महिला की गिरफ्तारी के लिये ग्रामीण व अधिवक्ताओं का चार बजे तक अल्टीमेटमGYapan

नवीन समाचार, नैनीताल, 13 मई 2019। गत 9 मई को अधिवक्ता रवि कनवाल से सड़ियाताल जल प्रपात के पास जानलेवा हमला करने की आरोपित महिला सरिता नेगी की गिरफ्तारी के लिये स्थानीय ग्रामीण व अधिवक्ता सोमवार को बड़े समूह में जिला कलक्ट्रेट पहुंचे और यहां डीएम की अनुपस्थिति में डीएम को संबोधित ज्ञापन एसडीएम विनोद कुमार को सौंपा। उन्होंने एसडीएम को सोमवार अपराह्न का चार बजे तक का समय देते हुए महिला की गिरफ्तारी करने की मांग की, तथा ऐसा न होने पर राजमार्ग जाम करने और कानून हाथ में लेने तक की चेतावनी दी। इस पर एसडीएम ने एसएसपी व एएसपी से वार्ता की एवं आवश्यक कार्रवाई करने का आश्वासन दिया। इसके अलावा सड़ियाताल जल प्रपात के पास वन विभाग की भूमि पर बीते वर्षों में हुए कब्जों की जांच कर कार्रवाई किये जाने की मांग भी की गयी। लोगों ने महिला पर पूर्व में भी कई लोगों से बदसलूकी किये जाने का आरोप भी लगाया। बताया जा रहा है कि महिला द्वारा पूर्व में कई लोगों से की गयी बदसलूकी के कारण भी इस बार लोग उनके खिलाफ लामबंद हो गये हैं।

इस अवसर पर जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष हरिशंकर कंसल, भाजपा नगर अध्यक्ष मनोज जोशी, अधिवक्ता एवं भाजयुमो के जिला अध्यक्ष नितिन कार्की, पूर्व भाजपा जिला महामंत्री एवं अधिवक्ता दया किशन पोखरिया, बार के उपाध्यक्ष अरुण बिष्ट, रविशंकर आर्या, उक्रांद नेता डॉ सुरेश डालाकोटी, हरेंद्र बिष्ट व दीवान सिंह कनवाल सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित रहे।

भगाकर संपत्ति हड़पना चाहते हैं पड़ोसी और स्थानीय लोग: सरिता

नैनीताल। इधर आरोपित सरिता नेगी ने प्रेस को पूर्व के प्रपत्र दिखाते हुए कहा है कि उसके रेस्टोरेंट के बगल में रेस्टोरेंट चलाने वाले व स्थानीय लोग वर्ष 2015 में उनके सैनिक पति की हृदयाघात से मौत होने के बाद से कभी कूड़े तो कभी आदि को लेकर उसके पीछे पड़े हैं ताकि वह यहां से चली जाए और वे उसकी संपत्ति को हड़प ले। वह कारगिल युद्ध लड़े पति की मौत के बाद से अपने बच्चों व कारोबार को संभाल रही है और सैनिकों के लिए धनराशि भी जुटाती है। पूर्व में पंचायत राज अधिकारी द्वारा प्रदत्त प्रमाण पत्र से उसने मनसा देवी मंदिर के पास मोबाइल वैन रेस्टोरेंट चलाया था, तब भी उसकी वैन में तोड़फोड़ कर स्टाफ व बच्चों को धमकाया गया था। पुलिस में शिकायत किये जाने के बाद तब समझौता हुआ था।

यह भी पढ़ें : अधिवक्ता से मारपीट मामले में ग्रामीण लामबंद, यह है अधिवक्ता व महिला के बीच मारपीट मामले की असली वजह

नवीन समाचार, नैनीताल, 12 मई 2019। बीती 9 मई को खुर्पाताल में अधिवक्ता रवि कनवाल पर हुए हमले की आरोपित महिला उद्यमी सरिता नेगी व उनके जेठ इंदर नेगी के खिलाफ क्षेत्रीय ग्रामीणों का एक वर्ग लामबंद हो गया है। ग्रामीणों ने रविवार को मल्लीताल कोतवाली को दिये एक मेजरनामे में कहा गया है कि सरिता नेगी ग्रामीणों पर छेड़छाड़ के आरोप लगाकर उनसे मारपीट करती व धमकाती रहती है। उसने ग्रामीणों का मार्ग भी बाधित किया है, तथा उनके पानी को भी दूषित करती व रोकती रही है। इसलिये उससे ग्रामीण दहशत में हैं। अगस्त 2017 में महिला के द्वारा वैष्णवी देवी मंदिर परिसर में मांश बेचने का मामला भी विवादों में रहा था। तब समझौता हो गया था। प्रशासन पर महिला के दबाव में कार्य करने का आरोप लगाते हुए सोमवार को ग्रामीणों के द्वारा डीएम से मिलकर आवश्यक कार्रवाई करने की मांग करने की बात भी कही गयी है। ज्ञापन में दीपक कनवाल, दिग्विजय सिंह, नरेंद्र सिंह, धीरेंद्र नेगी, अनिल सिंह, कृपाल सिंह, विजय, रमेश, दलीप सहित 71 ग्रामीणों के हस्ताक्षर हैं।

यह है विवाद की असली वजह

नैनीताल। खुर्पाताल ग्राम सभा के प्रधान मनमोहन कनवाल ने बताया कि वास्तव में सड़ियाताल जल प्रपात के पास स्थित चार रेस्टोरेंटों की करीब 5.11 नाली भूमि श्रेणी पांच के तहत गोधन सिंह, बच्ची सिंह व पूरन सिंह पुत्र गुलाब सिंह के नाम थी। इनमें से कुछ दिवंगत भी हो चुके हैं। इस पट्टे की भूमि पर केवल पट्टा धारक ही उपयोग कर सकते हैं। इस स्थान पर पूर्व में घराट यानी पनचक्की भी थी। साथ ही आसपास की भूमि संभवतया वन एवं लोनिवि की है, जिस पर कब्जा किया गया है। इस भूमि की तत्कालीन कुमाऊं आयुक्त राकेश शर्मा ने जांच की बात भी कही थी। इधर इस भूमि पर कब्जा करने तथा अपना बर्चस्व साबित करने की लड़ाई चल रही है। लिहाजा पूरी जमीन की राजस्व व वन विभाग से पैमाइश कराकर भू-दस्तावेजों से मिलान किया जाना चाहिए। अन्यथा यहां विवाद लंबे समय से चल रहा है, और आगे भी जारी रहेगा।

यह भी पढ़ें : अधिवक्ता से मारपीट मामले में दोनों पक्षों पर मुकदमा दर्ज, बड़ा सवाल : क्या कोतवाली में सुतली बम फोड़ने पर भी होगी कार्रवाई ?

घायल अधिवक्ता रवि कनवाल।

नवीन समाचार, नैनीताल, 10 मई 2019। बीती रात्रि मुख्यालय में एक अधिवक्ता से मारपीट का मामले प्रकाश में आने पर देर रात्रि तक हंगामे की स्थिति रही। इधर शुक्रवार को मामले में दोनों पक्षों पर एक-दूसरे से मारपीट करने के मामलों में मुकदमे दर्ज कर लिये गये हैं। इस दौरान यह बात भी आम चर्चा में रही कि पुलिस कोतवाली में एएसपी रचिता जुयाल के पहुंचते समय गोली चली। अब पुलिस का साफ तौर पर कहना है कि गोली नहीं चली, अलबत्ता कुछ असामाजिक तत्वों ने कोतवाली में हंगामे के दौरान सुतली बम फोड़ा था। बड़ा सवाल यह है कि इतने अधिक लोगों की मौजूदगी में की गई ऐसी हरकत, जिससे भगदड़ मचकर जनहानि भी हो सकती थी, कोतवाली पुलिस कोई कार्रवाई करेगी ?
घटनाक्रम के अनुसार बृहस्पतिवार देर शाम सड़ियाताल निवासी अधिवक्ता रवि कनवाल ने लहूलुहान अवस्था में मल्लीताल कोतवाली पहुंचकर उनके घर के पास रेस्टोरेंट संचालिका सरिता नेगी पत्नी पूरन सिंह नेगी व ललित सिंह पर धारदार हथियार से जानलेवा हमला कर मारपीट करने का आरोप लगाया था। उसे बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में उपचार के बाद हल्द्वानी रेफर कर दिया गया था। वहीं दूसरे पक्ष ने अधिवक्ता रवि कन्याल व उनके पिता बहादुर सिंह कन्याल तथा अन्य पर मारपीट के आरोप लगाये थे। इधर कोतवाली पुलिस के अनुसार इस मामले में शुक्रवार को रवि कनवाल की तहरीर पर सरिता नेगी तथा ललित सिंह व अन्य के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 307, 324, 341, 504 व 427 के तहत तथा सरिता नेगी की तहरीर पर रवि कनवाल व बहादुर कनवाल व अन्य के खिलाफ भादंसं की धारा 323 व 504 के तहत मुकदमा पंजीकृत कर दिया है। मामले की जांच मंगोली चौकी प्रभारी भावना बिष्ट को सोंपी गयी है।

सीसीटीवी में कैद है पूरा मामला, लेकिन मारपीट नहीं

नैनीताल। एसएसआई बीसी मासीवाल ने बताया कि मूलतः मामला दो रेस्टोरेंट संचालकों के बीच एक विवादित भूखंड पर कब्जे को लेकर विवाद का है। महिला का इस भूखंड पर कब्जा है। वीडियो फुटेज में इसी भूखंड में कुछ लोग चारदीवारी के खंभे उखाड़ते व महिला व वीडियो बना रहे उसके जेठ को गालियां देते दिख व सुनाई दे रहे हैं। एसएसआई के अनुसार वीडियो एवं सीसीटीवी की फुटेज में पूरा मामला कैद है। एक वीडियो में अधिवक्ता द्वारा महिला के पैरों की और झुकते देखा जा रहा है, अलबत्ता मारपीट कहीं नहीं दिखाई दे रही है। ऐसे में बड़ा सवाल यह उठ रहा है कि अधिवक्ता रवि कनवाल कैसे लहूलुहान हुए।

कोतवाली में फोड़ा था सुतली बम

नैनीताल। रात्रि में पुलिस कोतवाली में हुए हंगामे के दौरान गोली चलने की आम चर्चा रही। किंतु एसएसआई बीसी मासीवाल ने बताया कि हंगामे के दौरान पुलिस कोतवाली के दौरान सुतली बम फोड़ा गया था। पुलिस ने बम के धागे सुरक्षित रख लिये हैं, और इसे भी जांच के अधीन रखा गया है।

यह भी पढ़ें : कारगिल व यूएन शांति सेना के सैनिक की विधवा को पीट कर निकले अधिवक्ता और खुद पिटकर पहुंचे अस्पताल ! जानें क्या है पूरा माजरा…

नवीन समाचार, नैनीताल, 9 मई 2019। एक वीडियो फुटेज में दिख रहा है कि निकटवर्ती खुर्पाताल में एक रेस्टोरेंट चलाने वाली कारगिल युद्ध व संयुक्त राष्ट्र शांति सेना में शामिल रहे एक सैनिक की विधवा के बृहस्पतिवार शाम कुछ लोगों के द्वारा पीटी जा रही है। उसे गंदी-गंदी गालियां दी जा रही हैं और उसके कब्जे वाले एक क्षेत्र से कुछ लोग चारदीवारी के खंभों को उखाड़ रहे हैं। इसके बाद एक कार में कुछ लोग निकल रहे हैं, और कार तथा उसमें बैठे लोग ठीक-ठाक हैं। बताया गया है कि उसमें बैठे व्यक्ति एक अधिवक्ता हैं और उनके लोगों ने ही महिला के साथ मारपीट की है। लेकिन बाद में यही अधिवक्ता मुख्यालय स्थित बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में बुरी तरह पीटे गये अवस्था में पहुंचते हैं। उनकी गाड़ी को भी तोड़े जाने की बात कही जा रही है। चिकित्सालय से भी उन्हें उनकी गंभीर स्थिति को देखकर हल्द्वानी रेफर कर दिया गया है। इस मामले को लेकर बृहस्पतिवार देर रात्रि तक मल्लीताल पुलिस कोतवाली में हंगामे की स्थिति रही। बताया गया कि पीड़ित अधिवक्ता को पीटने वाले लोगों ने ही उल्टे अधिवक्ता के खिलाफ पुलिस में तहरीर दी है। बहरहाल, पुलिस अभी कुछ भी कहने से बच रही है। एसएसआई बीसी मासीवाल ने कहा कि मूलतः मामला दो रेस्टोरेंट संचालकों के बीच एक विवादित भूखंड पर कब्जे को लेकर विवाद का है। महिला का इस भूखंड पर कब्जा है। वीडियो फुटेज में इसी भूखंड में कुछ लोग चारदीवारी के खंभे उखाड़ते व महिला व वीडियो बना रहे उसके जेठ को गालियां देते दिख व सुनाई दे रहे हैं।
इधर महिला के जेठ इंद्र सिंह नेगी ने बताया कि विवाद 2015 से चल रहा है। बताया कि अधिवक्ता व उनके पिता के द्वारा तब से महिला सरिता नेगी व उनके पति पूरन सिंह नेगी को प्रताणित किया जा रहा है। वे चाहते हैं कि नेगी यहंां से चले जाएं व उनकी संपत्ति को वे हड़प जाएं। इसी प्रताणना के दबाव में कारगिल युद्ध व संयुक्त राष्ट्र शांति सेना में शामिल रहे सैनिक पूरन सिंह नेगी आखिर हार गये और अज्ञात कारणों से उनकी मृत्यु हो गयी। अब सरिता यहां रेस्टारेंट चलाती है। गत दिनों वह एक समाचार पत्र में अपने रेस्टोरेंट में शहीदों की मदद के लिए एक सहायता बॉक्स रखने तथा उसमें जमा धनराशि के बराबर धनराशि अपनी ओर से भी जोड़कर भारत सरकार को सोंपने की खबर से भी चर्चा में आई थी। इंदर का कहना है कि इस खबर के प्रकाशित होने के बाद से दूसरा पक्ष उन्हें और अधिक परेशान करने लगा। इधर तीन-चार दिनों से विवाद और बढ़ गया था। जिसकी शिकायत वे लगातार पुलिस से कर रहे थे, जिसकी उनके पास क्लिपिंग हैं। लेकिन पुलिस सहयोग नहीं कर रही थी। उल्टे दूसरे पक्ष की इस शिकायत पर कि सरिता के रेस्टोरेंट का गंदा पानी उनके क्षेत्र को प्रदूषित कर रहा है, तीन दिन पहले पुलिस आई थी, और 2015 से चल रहे कई समझौतों की तरह समझौता करा गयी थी। आज भी जब अधिवक्ता के साथ कथित मारपीट बताई जा रही है उस समय वह जिले के एसएसपी सुनील कुमार मीणा तथा डीजी-कानून व्यवस्था अशोक कुमार सहित अन्य पुलिस के अधिकारियों से संपर्क कर मदद की गुहार लगा रहे थे। इसकी भी उनके पास फुटेज हैं। लेकिन इसी दौरान अधिवक्ता के बुरी तरह से पीटे जाने की बात कही जा रही है।

यह भी पढ़ें : हाईकोर्ट के अधिवक्ता के घर से लूट ! घर का सामान-हाईकोर्ट की फाइलों सहित यूपी में फेंकी हुई मिलीं

नवीन समाचार, नैनीताल, 7 मई 2019। उत्तराखंड उच्च न्यायालय के अधिवक्ता एवं हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के प्रेस सेक्रेट्री मुकेश रावत के घर से सारा सामान यूपी में फेंके जाने का खुलासा हुआ है। रावत का कहना है कि वह 3 मई को अपने घर देहरादून गए थे उनको 5 मई की शाम को उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले की थाना स्वार पुलिस का फोन आया कि उनकी सीमा क्षेत्र में उनका पूरा सामान कोर्ट की फाइलें, बेड, कपड़े, जूते, प्रेस, गद्दे वहां फेंके मिले हैं। स्वार पुलिस ने कहा उनका पता उनकी फाइलों में लिखे नंबर से पता चला है। इसके बाद वे अपने मुख्यालय स्थित घर हाडी-बॉडी स्थित एसएजी फ्लैट न. 6 पहुंचे तो उनको गेट की ग्रिल काटकर व कमरे का ताला टूटा हुआ मिला और कमरे से सारा सामान गायब मिला। उन्होंने हरिद्वार निवासी एक व्यक्ति पर उनका सामान फेंके जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनके घर से लूट की वारदात हुई है। आरोपित उनके घर पर कब्जा करना चाहते हैं। उन्होंने इस आशय की शिकायत मल्लीताल थाने में की है। लेकिन पुलिस ने मामला दर्ज किया, और अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने को कहा। रावत का कहना है कि सीसीटीवी की वीडियो फुटेज में शर्मा सहित 5-6 लोग दिखाई दिये हैं।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में भाजपा के ‘दबंग’ विधायक की गाड़ियों की पूरी फ्लीट का हुआ चालान

-चालान से बचने को होटल में घुसे विधायक, बावजूद हुआ चालान
नवीन समाचार, नैनीताल, 29 अप्रैल 2019। सोमवार को मुख्यालय में अपनी तरह की कुछ अलग घटना देखने को मिली। यहां शाम करीब 4 बजे हाईकोर्ट के किसी कार्य से मुख्यालय आये ‘दबंग’ छवि रखने वाले खानपुर से सत्तारूढ़ भाजपा के विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन की तीन गाड़ियों की फ्लीट स्टेट बैंक तिराहे के पास से नैनीताल क्लब की ओर के ‘वन-वे’ मार्ग पर उल्टी दिशा से आगे बढ़ गयी। एएसपी रचिता जुयाल की नजरों में यह पूरा माजरा आ गया। उन्होंने तत्काल डीसीआर पर यह सूचना फ्लैश की और मल्लीताल कोतवाली के वरिष्ठ उपनिरीक्षक भुवन चंद्र मासीवाल को फ्लीट में शामिल वाहनों पर कार्रवाई करने के लिए भेजा। तब तक मोहन-को चौराहे पर तैनात पुलिस कर्मी ने भी फ्लीट को रोकने की कोशिश की किंतु फ्लीट बिना रुके आगे बढ़ गयी, किंतु शायद उन्हें कार्रवाई का अहसास हो गया, इसलिये फ्लीट में शामिल वाहन रॉयल होटल के अंदर चले गये, तब तक मासीवाल भी वहां पहुंच गये और फ्लीट में शामिल विधायक चैंपियन की फॉरच्यूनर कार संख्या यूके04क्यू-0123, दूसरी स्कॉर्पियो कार संख्या यूके04एई-0123 व स्विफ्ट कार संख्या यूपी70सीके-0661 का मोटर यान अधिनियम के तहत चालान कर दिया। बाद में विधायक चैंपियन ने पुलिस की कार्रवाई को उचित ही ठहराया और कहा कि उन्हें इस मार्ग पर ‘वन-वे’ व्यवस्था होने की जानकारी नहीं थी।

यह भी पढ़ें : किशोर सिर्फ बाइक चलाने के शौक के लिए बन गया था बाइक चोर…

-एक रात में पांच बाइकों के ताले टूटने व तीन के चोरी जाने का दिलचस्प खुलासा…

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 अप्रैल 2019। बीते सप्ताह 8 अप्रैल को नगर के चार्टन लॉज क्षेत्र में दो बाइकों के ताले टूटे थे और तीन बाइकें गायब हो गयी थीं। इस मामले में कोतवाली पुलिस ने तिरछाखेत निवासी एक 14-15 वर्षीय किशोर को एक बाइक के साथ गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त कर ली है। किशोर के पिता प्लंबर के रूप में कार्य करते हैं। उल्लेखनीय है कि पुलिस पहले ही दो बाइकों को तलाश चुकी है। पकड़े गये किशोर के हवाले से पुलिस का कहना है कि किशोर बाइक चलाने के शौक के लिए बाइकें चलाता है।
पुलिस के अनुसार 8 अप्रैल की रात्रि किशोर चार्टन लॉज क्षेत्र में आया, और उसने बिना किसी उपकरण की मदद के एक-एक कर सड़क पर खड़ी पांच मोटर साइकिलों के ताले उन्हें चलाने के शौक के कारण तोड़े। इनमें से एक मोटरसाइकिल को लेकर वह चला किंतु उसके ब्रेक ठीक से नहीं लगे। इस कारण उसे पास ही स्थित सीआरएसटी इंटर कॉलेज के पास छोड़ गया। वापस दूसरी मोटर साइकिल लेने आया और एक और मोटर साइकिल का ताला तोड़ा, उसकी लाइट नहीं जली, एक अन्य में भी ऐसी ही कोई समस्या आई। फिर चौथी को लेकर चला। स्नो व्यू के पास जाकर उसका पेट्रोल खत्म हो गया। यह मोटरसाइकिल भी पुलिस पहले बरामद कर चुकी है। वापस लौटकर फिर पांचवी मोटरसाइकिल का ताला तोड़ा और उसे लेकर चला गया। इस मोटरसाइकिल को आज बरामद किया गया है। पुलिस की बाकी कहानी तो ठीक है। किंतु एक ही बालक ने एक रात में पहले चार्टन लॉज से सीआरएसटी, फिर वहां से वापस चार्टन लॉज, फिर सात नंबर और फिर वहीं चार्टन लॉज लौटकर क्यों मोटर साइकिलों के ताले तोड़े। तथा क्या मोटरसाइकिलों के ताले बिना किसी उपकरण के इतनी आसानी से झटका देकर टूट जाते हैं, इन प्रश्नों के जवाब फिलहाल पुलिस के पास नहीं हैं। गनीमत है कि इस मामले में घटना के आठ दिन बाद रंजीत सिंह की तहरीर पर दर्ज हुई रिपोर्ट पर तीनों मोटरसाइकिलें बरामद कर ली गयी हैं। आगे उसे किशोर न्याय बोर्ड के समक्ष पेश करने की तैयारी है।

पूर्व समाचार : मल्लीताल में रात्रि में 5 मोटरसाइकिलों के ताले टूटे, 2 चोरी

नवीन समाचार, नैनीताल, 8 अप्रैल 2019। जिला व मंडल मुख्यालय नैनीताल के मल्लीताल क्षेत्र में पुलिस कोतवाली से चंद मीटर की दूरी पर बीडी पांडे जिला चिकित्सालय के आवासों के करीब चार्टन लॉज क्षेत्र में बीती रात्रि 4 पल्सर सहित पांच मोटरसाइकिलों के ताले तोड़ने की सनसनीखेज खबर आई है। जिन मोटरसाइकिलों के ताले तोड़े गए हैं उनके नंबर UK04Q-2741, HR42B-1682 के साथ ही एक अन्य नई केटीएम मोटरसाइकिल है, जिसके ताले दूसरी बार तोड़े गए हैं। वहीं स्थानीय पल्सर मोटरसाइकिल के स्वामी बैंक ऑफ बड़ौदा की डीएसबी परिसर शाखा में कार्यरत राकेश लाल आर्य ने बताया कि उनकी सहित तीनों मोटरसाइकिल है तारे तोड़ने के बाद कुछ दूरी पर खड़ी मिली है। वहीं इसी स्थान से भोटिया मार्केट के दो दुकानदारों की 2 पल्सर मोटरसाइकिलों को चोरी कर के भी ले जाने की भी खबर हैं। पुलिस में शिकायत दर्ज कराने की तैयारी है।

यह भी पढ़ें : होटल के कब्जेदार की तहरीर पर होटल मालिक के खिलाफ मुकदमा दर्ज…

-कोर्ट के आदेश पर दर्ज हुआ धोखाधड़ी का मुकदमा
नवीन समाचार, नैनीताल, 13 अप्रैल 2019। नगर की मल्लीताल कोतवाली में सिविल कोर्ट के आदेशों पर नगर के एक होटल के कब्जेदार की तहरीर पर होटल के मूल मालिक के खिलाफ धोखाधड़ी तथा जान से मारने की धमकी सहित अन्य आरोपों में मुकदमा दर्ज किया गया है। शिकायतकर्ता करन सहगल पुत्र मनोज सहगल हाल निवासी नीतिखंड इंदिरा पुरम गाजियाबाद ने नगर के दयाल हाउस कंपाउंड मल्लीताल निवासी तरुण राज सहदेव उनके पिता गुरुदयाल सिंह एवं चाचा रमेंद्र पाल सिंह के खिलाफ नगर के वैलवेडियर कंपाउंड स्थित होटल सनराइज होटल के कक्षों की संख्या में छेड़छाड़ कर झूठे साक्ष्य तैयार करने, सीसीटीवी कैमरे, आठ हजार रुपये, तीन तोले की सोने की चेन गायब होने एवं जान से मारने की धमकी देने के आरोप लगाये हैं। पुलिस ने मामले में भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 467, 468, 471, 380 व 506 के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया है। मामले की जांच कोतवाली के वरिष्ठ उप निरीक्षक बीसी मासीवाल को सोंपी गयी है।
इधर कोतवाली पुलिस के अनुसार सनराइज होटल के मूल मालिक दयाल परिवार एवं काबिज करन सहगल के बीच पूर्व से ही विवाद चल रहा है। दोनों पक्षों की ओर से पूर्व में कोतवाली में एक-दूसरे के खिलाफ तहरीर दी गयी है। होटल मालिक का कहना है कि करन को होटल लीज पर दिया गया था, जिसकी सीमा समाप्त हो चुकी है। बावजूद वे कब्जा नहीं छोड़ रहे हैं।

यह भी पढ़ें : जानलेवा हमला कर काट कर अलग कर दिया था कान व रेता था गला भी, कोर्ट ने जमानत अर्जी पर दिया यह फैसला

नवीन समाचार, नैनीताल, 1 अप्रैल 2019। जिला एवं सत्र न्यायाधीश नरेंद्र दत्त की अदालत ने जानलेवा हमला कर कान व गला काटने वाले आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। सोमवार को आरोपित केशर सिंह जीना पुत्र मोहन जीना की जमानत अर्जी का जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने विरोध करते हुए अदालत को बताया कि 21 जनवरी की शाम सात बजे आरोपित ने हीरा सिंह रावत पुत्र उमेद सिंह रावत पर तिवारी नगर बिंदूखत्ता में धारदार हथियार से हमला कर उसका दाहिना कान काट दिया तथा दूसरे वार में गर्दन का भी आधा हिस्सा काट दिया। बाद में पीड़ित के घर जाकर उसकी पत्नी व बच्चों से भी अभद्रता व जान से मारने की कोशिश की। बमुश्किल पीड़ितों ने भागकर अपनी जान बचाई। आरोपित का भाई लक्ष्मण जीना इस पूरे घटनाक्रम का चश्मदीद था, उसने भी आरोपित के खिलाफ गवाही दी, साथ ही सुशीला तिवारी अस्पताल के चिकित्सक ने भी पीड़ित का कान व गला कटने की पुष्टि की। इस प्रकार आरोपित को जमानत देना उचित नहीं है। इस पर न्यायालय ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में संदिग्ध परिस्थितियों में राख हुईं दो मोटरसाइकिलें

जली बाइकें

नवीन समाचार, नैनीताल, 18 मार्च 2019। रविवार की बीती रात्रि नगर के 7 नंबर क्षेत्र में दो मोटर साइकिलें संदिग्ध परिस्थिति में जलकर पूरी तरह से खाक हो गईं। क्षेत्र में रहने वाले लोगों को रात्रि करीब 1:45 बजे घटना का पता चला। तब तक दोनों मोटरसाइकिल पूरी तरह से जल चुकी थीं। घटना बिड़ला रोड पर स्नो व्यू हट्स होटल के पास की है। जली मोटरसाइकिलों में से एक क्षेत्र निवासी पवन कुमार की 2013 मॉडल टीवीएस अपाचे UK 04 क्यू 2156 एवं दूसरी शौकीर अली की 2014 मॉडल बजाज डिस्कवर संख्या यूके 18-5916 थी। इनके साथ ही पास में खड़ी एक मारुति अल्टो कार की पीछे की लाइट भी आग की वजह से झुलस कर क्षतिग्रस्त हो गई हैं। क्षेत्रवासियों को आशंका है कि आग लगाने की यह कुत्सित हरकत क्षेत्र में सक्रिय स्मैक व अन्य नसों के शौकीन नशेड़ियों की हो सकती है, जो अक्सर बाइकों से पेट्रोल भी चोरी कर लेते हैं। क्षेत्रवासियों ने क्षेत्र में पुलिस की गश्त लगा कर इस तरह की घटनाओं पर लगाम लगाने की मांग की है। दुर्योग से डिस्कवर मोटरसाइकिल का इंश्योरेंस भी नहीं किया हुआ है।

यह भी पढ़ें : तल्लीताल बाजार के पति-पत्नी को ‘पड़ोसी-प्रभावशाली’ दुकानदारों से खतरा, एनसीआर दर्ज

<

p style=”text-align: justify;”>-10 वर्ष से बीमार की छड़ी व कुर्सी तोड़ दी दबंगों ने
नवीन समाचार, नैनीताल, 14 मार्च 2019। नगर के तल्लीताल बाजार निवासी महिला शोभा तिवारी पत्नी दिनेश चंद्र तिवारी की तहरीर पर थाना पुलिस ने गुरुवार को आरोपित दुकानदार अमनदीप आनंद पुत्र रहवेल आनंद व रहवे आनंद के खिलाफ आईपीसी की धारा 323, 427 व 504 के तहत मामला पंजीकृत कर दिया है। शोभा का आरोप है कि दबंगों ने उनके 10 वर्ष से बीमार पति के चलने की सहारा छड़ी व कुर्सी तोड़ दी तथा आगे दिखने पर धमकियां दीं। वे अक्सर झगड़े को उतारू भी रहते हैं।

नैनीताल में बंद घर में हुई चोरी, पर पुलिस फिर क्यों कर रही चोरी से इंकार ?

-पुलिस को दूसरी बार चोरों ने दी चुनौती 

बेकरी कंपाउंड क्षेत्र में इस खिड़की की बीड़िंग निकालकर भीतर घुसे चोर।

नवीन समाचार, नैनीताल, 10 मार्च 2019। जिला व मंडल मुख्यालय में नये कोतवाल के आने के बाद चोरों ने एक बार फिर पुलिस को चुनौती देते हुए बीती रात्रि चोरी की घटना को अंजाम दिया है। पीड़ित परिवार के अनुसार घर की खिड़की की बाहर की ओर की बीडिंग तोड़कर चोरों ने घर में रखे 20 हजार रुपये की नगदी उड़ा ली है। पीड़ित की ओर से मल्लीताल कोतवाली में तहरीर भी दी गयी है, जिसके बाद पुलिस ने मौका मुआयना किया है तथा चोरी की घटना से इंकार करते हुए केवल खिड़की का शीशा टूटने की बात स्वीकारी है।
नगर के बेकरी कंपाउंड निवासी एवं उत्तराखंड प्रशासन अकादमी में कार्यरत मनोज कुमार बेदी पुत्र बुद्धि प्रकाश ने बताया कि उनका पूरा परिवार पिछले बृहस्पतिवार से परिवार की एक शादी में भाग लेने के लिए गया हुआ था। इधर शनिवार की रात्रि करीब 12 बजे पड़ोसियों ने उन्हें घर की खिड़की तोड़कर चोरी होने की सूचना दी। रात्रि में ही वे लौट आये और देखा कि अलमारी में कपड़ों के नीचे छुपाकर रखे गये 20 हजार रुपये की नगदी गायब थी। चोरों ने घर में अन्य कोई छेड़छाड़ नहीं की। इससे लगता है कि चोरों को घर के बारे में जानकारी थी। मनोज के पुत्र अभिषेक ने बताया कि आसपास में शराबी और रजा क्लब के पास स्मैक पीने वालों का अड्डा बना हुआ है। बावजूद क्षेत्र में पुलिस की गस्त नहीं होती है। उधर पूछे जाने पर मौका-मुआयना करने वाले मल्लीताल कोतवाली के वरिष्ठ उप निरीक्षक बीसी मासीवाल ने चोरी से इंकार करते हुए केवल खिड़की का शीशा टूटने की बात स्वीकारी और मामले की जांच करने की बात कही।

ठीक एक माह पूर्व 10 फरवरी को भी हुई थी चोरी और पुलिस ने किया था इंकार

नैनीताल। उल्लेखनीय है कि इससे ठीक एक माह पूर्व 10 फरवरी की रात्रि नगर मोहन-को से हाईकोर्ट जाने वाले मार्ग पर स्थित स्काईलार्क बिल्डिंग स्थित तीन कार्यालयों में भी चोरी की घटना की सूचना मिली थी। घटना में नगर के प्रतिष्ठित चार्टर्ड अकाउंटेंट पवन नाथ ने 15-16 हजार की नगदी, बजाज एलियांज के कार्यालय से 39,491 रुपये की चेारी होने की बात कही गयी थी। किंतु शुरुआती जांच के बाद कोतवाली पुलिस ने इस घटना को भी चोरी मानने से इंकार कर दिया था।

पूर्व समाचार : नैनीताल की स्काईलार्क बिल्डिंग में चोरों ने हजारों की नगदी पर किया हाथ साफ

चोरी की घटना पर मौका मुआयना करते सीओ एवं कोतवाल

नवीन समाचार, नैनीताल, 11 फरवरी 2019। नगर के मल्लीताल हाई कोर्ट रोड स्थित स्काईलार्क बिल्डिंग में बीती रात्रि अज्ञात चोरों ने धावा बोलकर हजारों रुपए की नगदी एवं अन्य जरूरी कागजातों आदि पर हाथ साफ कर दिया। घटना का पता सोमवार सुबह कार्यालय खुलने पर चला। इस भवन में नगर के प्रतिष्ठित चार्टर्ड अकाउंटेंट पवन नाथ, बजाज एलियांज एवं हाईकोर्ट के अधिवक्ता परीक्षित सैनी के कार्यालय भी हैं। श्री नाथ ने बताया कि उनके कार्यालय का मुख्य द्वार तथा मेज की दराज का लॉक तोड़कर करीब 15-16 हजार रुपये की नगदी तथा आईसीआईसीआई, यूनियन बैंक व विजया बैंक की चेक बुकें सहित कई जरूरी कागजात चोर चुरा ले गए। हैरत की बात रही कि कार्यालय में मौजूद कम्प्यूटर व चांदी की मूर्तियों सहित अन्य सामान पर चोरों ने हाथ भी नहीं लगाया।
इसी तरह बगल में स्थित बजाज एलियांज के शाखा कार्यालय में चोर शीशा तोड़कर भीतर घुसे एवं यहां छुपाकर रखी गयी लॉकर की चाबी से ही लॉकर खोलकर उसमें रखे गये 39,491 रुपये की नगदी सहित अन्य सामान चोरी गया है। खास बात यह भी है कि यहां भी चोरों ने अन्य कीमती सामान को हाथ नहीं लगाया। वहीं दूसरी मंजिल पर स्थित हाईकोर्ट के अधिवक्ता परीक्षित सैनी के कार्यालय का चोरों ने ताला काटने का प्रयास किया, लेकिन सफल नहीं हो पाये।

यह भी पढ़ें : रामनगर के दिवंगत क्षेपं सदस्य का भाई अवैध तमंचे के साथ गिरफ्तार, जेल भेजा

-पिछले वर्ष क्षेत्र पंचायत सदस्य मनराल की रामनगर में न्यायालय में कर दी गयी थी बहुचर्चित हत्या, इधर हत्यारोपितों की जमानत अर्जी पर चल रही थी सुनवाई
नवीन समाचार, नैनीताल, 2 मार्च 2019। नगर की तल्लीताल थाना पुलिस ने रामनगर के छोई से क्षेत्र पंचायत सदस्य रहे स्वर्गीय वीरेंद्र मनराल उर्फ बीरू के भाई को नगर से अवैध देसी पिस्टल व जिंदा कारतूसों के साथ गिरफ्तार किया है। तल्लीताल थाना प्रभारी राहुल राठी के अनुसार उप निरीक्षक दिलीप कुमार व आरक्षी शिवराज के द्वारा मुखबिर की सूचना पर लोनिवि कार्यालय तल्लीताल के पास एक व्यक्ति को एक अवैध देसी पिस्टल व 4 जिंदा कारतूस के साथ गिरफ्तार किया गया। थाना प्रभारी ने बताया कि उसकी पहचान दिवंगत वीरेंद्र मनराल के भाई शिव सिंह मनराल पुत्र शेर सिंह मनराल निवासी ग्राम मदनपुर बोरा पोस्ट छोई थाना रामनगर के रूप में हुई। वह स्वर्गीय वीरेंद्र का भाई बताया गया है, जिसकी एक सितंबर 2018 को रामनगर में न्यायालय में पेशी के दौरान हत्या कर दी गयी थी। शुक्रवार को स्वर्गीय मनराल के हत्यारोपितों-मदनपुर बोरा निवासी देवेंद्र सिंह उर्फ बाऊ, बंदरजूड़ा बैलपड़ाव निवासी गुरुप्रीत सिंह, अलीगंज बाईपास रोड खेड़ा ऊधमसिंह नगर निवासी दर्शन सिंह के द्वारा जिला एवं सत्र न्यायाधीश नरेंद्र दत्त की अदालत में दी गयी जमानत अर्जी पर सुनवाई हुई थी, जिसमें न्यायालय ने जमानत अर्जी खारिज कर दी थी।
थाना प्रभारी श्री राठी ने बताया कि पकड़े गये शिव सिंह ने बताया कि उसने परिवार की सुरक्षा के लिए अवैध हथियार रखा था। बताया कि उसके खिलाफ आर्म्स एक्ट की धारा 4/19 के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया और अदालत में पेश करने के बाद अदालत के आदेशों पर हल्द्वानी जेल भेज दिया है।

पूर्व समाचार : क्षेत्र पंचायत सदस्य वीरेंद्र मनराल का हत्यारोपी बाऊ तीन साथियों सहित गिरफ्तार

नैनीताल, 4 सितंबर 2018। बीती 1 सितंबर 2018 को रामनगर स्थित कोर्ट परिसर के बाहर समय क्षेत्र पंचायत सदस्य वीरेंद्र मनराल के हत्यारोपी देवेंद्र सिंह उर्फ बाऊ पुत्र सुरजीत सिंह निवासी एचसी पेट्रोल पंप के पास बैलपड़ाव तहसील रामनगर को गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी पुत्र मेजर सिंह निवासी बन्दरजूड़ा तल्ला बैलपड़ाव व दर्शन सिंह पुत्र दिलबाग सिंह निवासी अलीगंज रोड बांसखेड़ा थाना आईटीआई काशीपुर के साथ अपराह्. 1.05 बजे गिरफ्तार कर लिया। उनकी गिरफ्तारी बैलपड़ाव के पास से दिखाई गयी है। बताया गया है कि बाऊ ने पूछताछ पुलिस को बताया है कि मृतक वीरेंद्र मनराल द्वारा वर्ष 2016 में हेमंत फर्त्याल की हत्या करने के लिए उसे पैसे देने की बात कही थी परंतु हत्या के बाद उसने पैसे देने से इंकार कर दिया था, और पैसे की मांग करने पर मरवाने की धमकी दी थी। हेमंत की हत्या करने के बाद जेल में रहने तथा जमानत लेने के लिए उसके घर वालों को अपना प्लॉट भी बेचना पड़ा जिससे उसके परिवार की आर्थिक स्थिति काफी खराब हो गई थी। इस कारण उसने वीरेंद्र को मारने की ठानी। कई बाद वीरेंद्र के अकेले ना होने के कारण ऐसा न हो सका। इधर 1 सितंबर 2018 को सोनू कांडपाल की वीरेन्द्र मनराल के कोर्ट में अकेले आने की सूचना पर बाऊ अपने साथियों के साथ कोर्ट पहुंचा, लेकिन उसने कोर्ट में अपनी उपस्थिति दर्ज नहीं कराई और जब वीरेंद्र अपनी उपस्थिति दर्ज करा कर वापस कार पार्किंग में आया तो बाऊ ने पीछे से उसे गोली मार दी तथा अपने दोनों साथियों के साथ मिलकर अपनी कार संख्या यूके-04 डब्ल्यू-2389 को टंकी के पास छोड़ कर जंगल की ओर भाग गया। पुलिस ने बताया कि हेमंत फर्त्याल की हत्या में बाऊ को वर्ष 2017 में बाजपुर पुलिस द्वारा भी उसके एक अन्य साथी के साथ हथियारों सहित गिरफ्तार किया गया था।

यह भी पढ़ें : क्षेत्र पंचायत सदस्य की अदालत के बाहर गोली मार कर हत्या, हत्यारा सुपारी किलर, ब्लॉक प्रमुख पर भी आरोप !

नैनीताल, 1 सितंबर 2018। रामनगर में अदालत के बाहर छोई के क्षेत्र पंचायत सदस्य की गोली मार कर हत्या कर दी गई है। घटना गैंगवार का परिणाम और पुलिस की मौजूदगी में होनी बताई जा रही है। पुलिस ने घटना के बाद हत्यारों की धर पकड़ के लिए रामनगर से जाने वाले तमाम रास्तों को सीज कर दिया है। उधर मृतक के भाई शिव सिंह मनराल ने कथित तौर पर सुपारी किलर देवेंद्र उर्फ बाऊ, रामनगर के ब्लॉक प्रमुख संजय नेगी, हरीश फर्त्याल व सोनू कांडपाल पर हत्या करने का आरोप लगाया है। जबकि यह भी बताया जा रहा है कि नेगी ही मृतक को उपचार के लिए अस्पताल लेकर आये थे। मृतक भाजपा से भी जुड़ा था, और कांग्रेस से जुड़े हेमंत फर्त्याल की हत्या के मामले में सुपारी किलर बाऊ के साथ जेल भी जा चुका था। इसी मामले की तारीख पर वह अदालत आया था, तभी अज्ञात लोगों ने गोली मार कर उसकी हत्या कर दी।

मिली जानकारी के अनुसार शनिवार दोपहर छोई के पंचायत सदस्य वीरेंद्र मनराल रामनगर अदालत में एक पुराने मामले में पेशी के लिए आए थे। तभी अदालत के बाहर जीआईसी के पास एक काले शीशों वाली आल्टो कार से आए अज्ञात लोगों ने उन पर फायरिंग कर दी। इससे मनराल की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंच गई और शव को कब्जे में लेकर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। रामनगर से निकलने वाले तमाम रास्तों को सीज कर दिया गया है। अभी हत्यारे पुलिस की पकड़ से बाहर हैं। बताया गया है कि कुछ वर्ष पूर्व कोसी बैराज पर हेमंत फर्त्याल नाम के युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी और मामले में वीरेंद्र को गवाही के लिए कोर्ट मेंं पेश होना था। (इनपुट सलीम मलिक, रामनगर)

तो हेमंत के हत्यारे ने ही की है वीरेंद्र की हत्या !

बताया जा रहा है कि  वीरेंद्र मनराल का पहले हेमंत फर्त्याल के साथ काफी समय तक विवाद रहा। जिसके बाद वीरेंद्र ने छोई निवासी बाऊ को हेमंत को मारने की सुपारी दी थी। 28 जून 2016 को बाऊ ने हेमन्त की अपने पंजाब के एक साथी के साथ मिलकर हत्या कर दी थी। इस मामले में बाऊ पकड़ा गया था और वीरेंद्र को भी पुलिस ने हत्या के षड्यंत्र में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया था। जेल से छूटने के बाद बाऊ लगातार सुपारी की रकम मांग रहा था, जिसे वीरेंद्र अभी तक नहीं दे पाया था। आज बाहू भी मामले के सिलसिले में कोर्ट पहुंचा था। उधर हत्या में प्रयुक्त कार कोटद्वार रोड पर लावारिस हालत में कुछ हथियारों सहित खड़ी मिल गयी है। माना जा रहा है कि वारदात को अंजाम देने के बाद हत्यारे बिजरानी के जंगलो की ओर भाग गए हैं।

पूर्व समाचार : नैनीताल में मिला हाथ-पैर बंधा, गला घोंट कर मारे गये युवक का शव

-कहीं बाहर से हत्या कर शव फेंका गया लगता है, पुलिस शिनाख्त के प्रयासों में जुटी, स्वयं भी दर्ज कर सकती है अज्ञात के विरुद्ध हत्या का मुकदमा
-नैनीताल व कालाढुंगी पुलिस की सक्रियता पर भी उठे सवाल
नैनीताल, 12 मई 2018। मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर कालाढुंगी रोड पर बजून से आगे सड़क से करीब 10-15 मीटर नीचे एक युवक का शव बरामद हुआ है। खास बात यह है कि करीब 30-35 वर्ष के युवक के शव के दोनों हाथ व पांव आपस में बंधे हुए हैं। साथ ही उसके गले में कपड़े का फंदा भी लगा हुआ है, तथा उसके गले से ऊपर चेहरा का हिस्सा खून जमने से लाल पड़ा है। साथ ही एक चादर भी मिली है। इससे उसकी कहीं अन्यत्र गला घोंट कर हत्या किये जाने और चादर में बांध कर लाने तथा यहां फैंके जाने के बात साफ तौर पर समझी जा सकती है। एएसपी हरीश चंद्र सती ने मृतक के हुलिये के आधार पर भी कहा कि वह उत्तराखंड मूल का नहीं लगता है। एएसपी ने बताया कि मृतक के कपड़े रेडीमेड हैं, तथा शव के पास किसी तरह का पहचान का चिन्ह नहीं मिला है। बावजूद पुलिस उसकी शिनाख्त करने के प्रयास कर रही है। शव अधिक पुराना भी नहीं मालूम हो रहा है, लिहाजा माना जा रहा है कि शव को एक दिन पहले ही अथवा बीती रात्रि ही कहीं बाहर से लाकर यहां फेंका गया है।
इससे पूर्व सुबह मल्लीताल कोतवाली के अंतर्गत मंगोली चौकी को स्थानीय लोगों से शव देखे जाने की सूचना मिली। मामले की गंभीरता को देखते हुए स्वयं एएसपी सती, सीओ विजय थापा, मल्लीताल कोतवाली के वरिष्ठ उप निरीक्षण बीसी मासीवाल व एसआई भावना बिष्ट सहित बड़ी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंचा, एवं खाई से शव को सड़क पर लाकर उसकी शिनाख्त के प्रयास किये। समाचार लिखे जाने तक उसकी शिनाख्त नहीं हो पाई है। वहीं मामले में पुलिस अपनी ओर से भी हत्या का मुकदमा लिख सकती है। अलबत्ता, चिंताजनक बात यह है कि बीते कुछ समय से बाहर से शव लाकर जनपद में फैंकने की घटनाओं में आई कमी पर इस घटना ने पलीता लगा दिया है, तथा खासकर नैनीताल व कालाढुंगी पुलिस की सक्रियता पर भी सवाल उठा दिये हैं, जिनके क्षेत्र से शव को यहां लाकर फेंका गया है।

यह भी पढ़ें: मुरादाबाद के युवक का निकला बजून में मिला हाथ-पैर बंधा शव

छोटे भाई पर हत्या का शक जमीनी विवाद बताया जा रहा है कारण
नैनीताल। मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर कालाढुंगी रोड पर बजून से आगे बूड़ा पहाड़ के पास सड़क से नीचे बीती 12 अप्रैल को मिला शव पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जनपद के ग्राम टांडा अमरपुर थाना बिलारी निवासी मनोज चौधरी का निकला है। मृतक के पिता जहेंद्र पाल ने मंगलवार को मुख्यालय पहुंचकर शव की शिनाख्त की। अलबत्ता, मामले में सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि पिता ने अपने ही छोटे बेटे पर जमीन-जायदाद हड़पने के लिए बड़े भाई की हत्या करने का शक जताया है। पुलिस आगे तथ्यों की पड़ताल कर रही है। यदि इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस एवं मौका-ए-वारदात से इस संबंध में तथ्यों की कड़ी जुड़ती है तो नैनीताल पुलिस जल्द ही हत्यारों को गिरफ्तार कर सकती है।
एक छोटे भाई द्वारा अपने ही इकलौते बड़े भाई की इस तरह दोनों हाथ-पैर आपस में बांधकर व गला घोंटकर हत्या करने और शव को करीब 100 किमी दूर लाकर नैनीताल जनपद के बूड़ा पहाड़ के पास जंगल में फेंक देने की इस अविश्वसनीय सी दिल-दहला देने वाली घटना की कलई स्वयं मृतक के पिता जहेंद्र पाल ने खोली है। अपने बड़े व छोटे भाई के साथ बड़े बेटे के शव की शिनाख्त करने के बाद शोक संतप्त पिता का कहना था कि उनका छोटा बेटा रवि चार वर्ष पूर्व विवाह होने के बाद से बिगड़ गया है। वह ससुरालियों के साथ मिलकर उनकी संपत्ति हड़पना चाहता है।
करीब 6 माह पूर्व उसने इसी नीयत से उन (पिता) पर जानलेवा हमला किया था, जिसके बाद वे बड़े बेटे मनोज व अन्य परिजनों के साथ संभल आकर किराये के घर में रहने लगे। इधर वे गांव की जमीन बेचकर संभल में ही प्लॉट खरीदकर घर बनाने की सोच रहे थे। इसी दौरान 9 मई को प्लॉट देखने के लिये किसी का फोन आने पर मनोज प्लॉट देखने गया था, और इसके बाद से वापस नहीं लौटा। संभवतया गांव की जमीन पर काबिज रवि को उनकी जमीन बेचने की मंशा का भान हो गया होगा, इसलिये उसने अपने बड़े भाई मनोज को धोखे से बुलाकर उसकी हत्या कर दी होगी। सभी जगह तलाश करने के बाद उन्होंने 12 मई को थाना मनियाढेर में उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई। इधर उन्हें पुलिस से नैनीताल में बेटे का शव मिलने की सूचना मिली।

यह भी पढ़ें : प्रदेश की सबसे बड़ी गौमांश की बरामदगी, आरोपित से नहीं दिखाई अदालत ने कोई मुरव्वत

-बीते माह गौवंश स्क्वायड ने किया था हल्द्वानी के बनभूलपुरा में आरोपित के पास से 11 कुंतल गौमांश पकड़ने का दावा, दो साथी अभी भी हैं फरार
नवीन समाचार, नैनीताल, 25 फरवरी 2019। बीते माह 12 जनवरी को गौवंश स्कवायड ने नैनीताल जनपद के बनभूलपुरा हल्द्वानी में आसिफ कुरैशी नाम के व्यक्ति को गौकसी करते हुए 11 कुंतल गौवंशीय पशुओं के मांश के साथ पकड़ने का दावा किया था, जबकि उसके दो साथी भागने में सफल रहे थे। इसे प्रदेश की अब तक की सबसे बड़ी गौवंशीय पशु मांश की सबसे बड़ी बरामदगी बताया गया था। इधर करीब डेढ़ माह से जेल में बंद कुरैशी ने जिला एवं सत्र न्यायाधीश नरेंद्र दत्त की अदालत में जमानत अर्जी लगाई थी जिसे न्यायालय ने खारिज कर दिया।
सोमवार को जिला न्यायालय में अभियोजन पक्ष की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने बताया कि आसिफ कुरैशी पुत्र युसुफ कुरैशी निवासी वार्ड नंबर 21 इंद्रानगर बनभूलपुरा को कुमाऊं परिक्षेत्र के गौवंश स्क्वायड मुख्यालय किच्छा के प्रभारी उप निरीक्षक ओम प्रकाश शर्मा ने बनभूलपुरा में गौकशी करते हुए दबोचा था व उनके पास से करीब 11 कुंतल मांश भी बरामद हुआ था। मांश की पहचान पशु चिकित्सकों के द्वारा गौमांश के रूप में हुई थी। मौके से उसके दो भाई शाहिद व शानू फरार हो गये थे, जोकि अभी भी फरार चल रहे हैं। इस पर न्यायालय ने आसिफ की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

यह भी पढ़ें : लेक ब्रिज चुंगी कर्मी पर गोली चलाने वाला पुलिस कर्मी प्रारंभिक जांच के बाद निलंबित

नवीन समाचार, नैनीताल, 2 फरवरी 2019। नैनीताल नगर के प्रवेश द्वार पर स्थित लेक ब्रिज चुंगी में चुंगी कर्मी पर फायर झोंकने वाले सिपाही को प्रारंभिक जांच में आरोपों की पुष्टि होने के बाद निलंबित कर दिया गया है। एसएसपी सुनील कुमार मीणा के निर्देशों पर सीओ विजय थापा ने यह कार्रवाई की है। उल्लेखनीय है कि बीती 1 जनवरी 2019 को नैनीताल नगर में मित्र पुलिस का अपना नाम गलत साबित करने का कारनामा सामने आया था। बीती 28 जनवरी की देर रात्रि एक बजकर 45 मिनट की बतायी गयी है। घटना के बाद चुंगी कर्मी को पुलिस कर्मी के द्वारा कथित तौर पर घटना के बाद फोन कर चुंगी कर्मी को मुंह खोलने पर ‘निपटा देने’ की धमकी दी गई। इसलिये डरे सहमे चुंगी कर्मी दो दिन बाद घटना की जानकारी देने की हिम्मत जुटा पाये। नगर पालिका द्वारा संचालित तल्लीताल स्थित लेक ब्रिज चुंगी पर देर रात ड्यूटी कर रहे ठेकेदार के कर्मचारी को कार सवार दोस्तों के साथ आए तल्लीताल थाने में तैनात एक पुलिसकर्मी ने गोली मार दी, और शोर मचाने पर आरोपी मौके से भाग निकले। गनीमत रही कि गोली उसके बेहद नजदीक से गुजर गई। पूरा मामला चुंगी के बाहर लगी सीसीटीवी कैमरे में कैद भी हुआ है। साथ ही चुंगी कर्मियों ने पुलिस कर्मी द्वारा चलाई गयी गोली का खोखा भी सुरक्षित अपने पास संभाल लिया है। बताया गया है कि चुंगी संचालक ने एसएसपी सुनील कुमार मीणा को तहरीर देकर तरुण चौधरी नाम के आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है, जिस पर एसएसपी ने मामले की जांच कराने के आदेश दिए हैं।
मामले में दी गई तहरीर के अनुसार चिड़ियाघर रोड तल्लीताल निवासी नंदन सिंह 28जनवरी की रात चुंगी पर ड्यूटी कर रहा था। इस बीच रात करीब दो बजे एक पोलो कार संख्या यूके04एस-3473 चुंगी पर पहुंची, जिसमें तल्लीताल थाने में तैनात एक पुलिसकर्मी आरक्षी तरुण चौधरी, उसके रामनगर निवासी साथी हर्षवर्धन एवं दिनकर सिंह थे। उन्होंने कार रोक कर एक पूर्व चुंगी कर्मी जगदीश कन्याल के बाबत पूछताछ की। आरोप है कि इसके बाद कार में बैठे पुलिस कर्मी ने शीशा नीचे कर पिस्टल से चुंगी कर्मी पर फायर झोंक दिया, और मौके से भाग निकले। गनीमत रही कि गोली उसके चेहरे के पास से गुजर गई। बताया जा रहा है कि चुंगी कर्मियों ने सड़क पर गिरा गोली का खोखा सुरक्षित रख लिया है। गोलीकांड के बाद मौके से एक खोखा भी मिला है। उल्लेखनीय है कि लेक ब्रिज चुंगी पर चुंगी वसूलने को लेकर आए दिन हंगामा होता है। कई बार मारपीट की नौबत आ जाती है। पहले कुछ मामलों के बाद तल्लीताल पुलिस ने यहां रात्रि गश्त के लिए एक जवान तैनात किया गया था। इसके बावजूद टोल टैक्स पर हो रहे हंगामों पर नकेल नहीं कसी जा सकी है।
जनपद के पुलिस कप्तान सुनील कुमार मीणा ने बताया कि पुलिस क्षेत्राधिकारी विजय थापा से घटना की जांच कराई जा रही है।

नैनीताल जिले में बड़ा फर्जीवाड़ा : फर्जी वसीयत से भाइयों को कर दिया पारिवारिक संपत्ति से बेदखल, सधवा बहन को विधवा बना सरकार से भी हड़प ली जमीन

नैनीताल, 23 अक्टूबर 2018। जनपद में एक ऐसा सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है, जिसमें दो भाइयों का आरोप है कि उनके सगे भाई ने अपने पिता की फर्जी वसीयत के जरिये उन्हें संपत्ति से बेदखल कर दिया है। उन्होंने इस मामले में डीएम को शिकायती पत्र सोंपकर वसीयत की जांच करने की मांग की है। साथ ही भाई पर अपनी सधवा बहन को विधवा दिखाकर शासन को गुमराह करके जमीन हासिल की है।

जिला कलक्ट्रेट पहुंचे पीड़ित।
राष्ट्रीय सहारा, 25

मंगलवार को सूचनाधिकार कार्यकर्ता हेमंत गौनिया के साथ जिला कार्यालय पहुंचे जिले के ग्राम अनोठी पोस्ट सरगाखेत पट्टी गहना तहसील व जिला नैनीताल निवासी लाल सिंह व उनके भतीजों दीप सिंह, हरेंद्र सिंह व तारा सिंह ने डीएम की अनुपस्थिति में उनके कार्यालय में संबोधित शिकायती पत्र सोंपा। पत्र में कहा गया है कि उनके पिता नैन सिंह की मृत्यु वर्ष 2010 में हुई। इसके बाद उनकी जमीन की दाखिल खारिज उनके पुत्रों-दीवान सिंह व लाल सिंह तथा बिशनी देवी पत्नी स्वर्गीय तेज सिंह व पौत्र दीप सिंह, हरेंद्र ंिसह व तारा सिंह के नाम पर हुई। लेकिन एक-दो वर्षों के बाद उन्हें पता चला कि इस 35 नाली आठ मुट्ठी जमीन की दाखिल खारित बिना किसी कार्यवाही या जांच के पिता की कथित वसीयत के जरिये बहन माधवी देवी के नाम पर कर दी गयी, और उन्हें संपत्ति से बेदखल कर दिया गया। दावा किया कि पिता की बतायी जा रही वसीयत फर्जी है। उसमें पिता के हस्ताक्षर झूठे हैं, तथा अंगुलियों के निशान भी नहीं है। इससे साफ होता है कि यह पिता की मृत्यु के बाद फर्जी तरीके से बनायी गयी है। लिहाजा वसीयत की जांच व दोषियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

उनका आरोप है कि यह फर्जी वसीयत उनके ही भाई ने कराई है। बहन माधवी उसके साथ ही रहती है। लेकिन शायद बहन को भी इस पूरे फर्जी वाड़े की जानकारी न हो, क्योंकि समस्त कार्रवाई भाई ही करता है। जमीन जरूर बहन के नाम है, लेकिन इसका उपयोग भाई ही कर रहा है। यही नहीं, भाई ने बहन माधवी को सधवा होने के बावजूद विधवा और उसके नाम पर वसीयत से 35 नाली भूमि होने के बावजूद उसे भूमिहीन दिखाकर शासन से उसके नाम पर जमीन प्राप्त कर ली है। लिहाजा पूरे मामले की जांच होनी चाहिए। आरोपित आईवीआरआई मुक्तेश्वर में कार्यरत बताया गया है।

यह भी पढ़ें  : 

यह भी पढ़ें  : खाई में बोरे में मिला हाथ-पैर, गला बंधा अज्ञात युवक का शव

-पहले भी जून माह में बिलकुल इसी तरह घटनास्थल से करीब 5 किमी दूर इसी तरह से फेंका गया था शव

शाकिर हुसैन, कालाढूंगी/नैनीताल, 14 सितंबर 2018। मुख्यालय से करीब 20 किमी दूर कालाढुंगी मार्ग पर मंगोली चौकी व मंगोली बाजार के बीच शिव मंदिर के निकट सड़क से करीब 150 मीटर गहरी खाई में करीब 30-32 वर्षीय अज्ञात युवक का शव मिला है। उल्लेखनीय है इसी वर्ष 12 मई को भी इसी स्थान से करीब 5 किमी पहले नैनीताल की ओर ठीक इसी तरह मुरादाबाद निवासी युवक का हाथ-पैर गला बंधा शव बरामद हुआ था। उसी की तरह माना जा रहा है कि यह शव भी किसी बाहरी, संभवतया यूपी के व्यक्ति का है। शव के-हाथ पैर बंधे हुए थे और मुंह में भी उसकी चीख को दबाने के लिए कपड़ा बांधा गया था। साथ ही गला भी रस्सी से घोंटा  गया है ।पहले कंबल में लिपटा और फिर खाद की बोरी में ठूंसा गया है। और संभवतया बीती रात्रि ही इसे यहां जंगल में डाला गया है।
घटना की सूचना किसी ग्वाले ने पहले मंगोली चौकी को दी, जिसके बाद मुख्यालय को सूचना मिलने पर जिले के एएसपी हरीश चंद्र सती, सीओ विजय थापा, मल्लीताल कोतवाल विजय पंत और घटना स्थल पर पहुंचे, और शव को पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। शव के पास किसी तरह के पहचान के कागजात नहीं है, ऐसे में इसकी शिनाख्त अगले कुछ समय में पुलिस के लिये चुनौती साबित होने वाली है। साफ तौर पर लग रहा है युवक के शव को कहीं बाहर हत्या कर यहां लाकर फेंका गया है। पुलिस के अधिकारियों के अनुसार शिनाख्त के लिए यूपी व उत्तराखण्ड के सभी थानों को सूचित किया जा रहा है। मंगोली पुलिस चौकी प्रभारी भावना बिष्ट, आरक्षी मनोज जोशी, राजकुमार व संजय सहित कई पुलिस कर्मी मौजूद थे।

भ्रामक सूचना फैलाई तो न मिलेगी नौकरी, न ठेके, न लाइसेंस, न पासपोर्ट…

एडीजी-आईजी ने जारी की एडवाइजरी, न अफवाह फैलाएं, न संदिग्धों से मारपीट करें
नैनीताल, 20 जुलाई 2018। उत्तराखंड के अपर पुलिस महानिदेशक-अपराध एवं कानून व्यवस्था तथा कुमाऊं परिक्षेत्र के आईजी पूरन सिंह रावत ने भी सोशल मीडिया पर इन दिनों बच्चा चोरी करने वाले, बंग्लादेशी व छैमार गिराहों तथा अन्य अपराधिक समूहों के विभिन्न नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में सक्रिय होने की अफवाहें फैलाने पर एडवाइजरी जारी की है। साथ ही लोगों को ऐसे संदेशों की बिना सोचे समझे, बिना पुष्टि किये आगे न फैलाने की नसीहत दी है। उन्होंने सभी जिम्मेदार नागरिकों से आग्रह किया है कि वह इस प्रकार के भड़काऊ, अफवाहजनक तथा दुष्प्रचार करने वाले मैसेज को फारवर्ड न करें तथा किसी भी मैसेज को फारवर्ड करने से पूर्व उसके सम्बन्ध में भली-भांति जांच पड़ताल कर लें। यदि किसी व्यक्ति को इस प्रकार के मैसेज मिलते हैं तो वह उन नम्बरों सम्पर्क करे जिनसे उन्हें इस प्रकार के मैसेज प्राप्त हुए है, उसकी पुष्टि संबंधित नम्बर से करने का कष्ट करें। इस प्रकार के भड़काऊ मैसेज फैलाना अपराधिक कृत्य है। बताया कि अब तक कुमाऊं परिक्षेत्र जनपद नैनीताल में 5, बागेश्वर में 1 तथा चम्पावत में 3 लोगों के विरूद्ध ऐसे भड़काऊ मैसेज फैलाने के आरोप में पुलिस द्वारा कार्यवाही की जा चुकी है। कहा कि ऐसे लोगों सरकारी नौकरी के लिए होने वाले सत्यापन, ठेकेदारी के लिए पंजीकरण, असलहों का लाईसेंस बनाने, पासपोर्ट बनाने व इसी प्रकार के अन्य सत्यापनों के दौरान भी सत्यापन प्रपत्र में इसका स्पष्ट उल्लेख किया जायेगा, जिसके कारण संबंधित व्यक्ति अपेक्षित लाभ से वंचित हो जायेगा। अपने क्षेत्रों में रात्रि में गश्त के नाम पर अन्य लोगों को संदिग्ध समझकर मारपीट या अमानवीय हरकत करने वालों को भी आईजी ने कार्रवाई के लिए चेताया है।

पढ़ें: एडीजी अशोक कुमार का संदेश:

विगत दिनों से प्रदेश के जनपदों में कुछ अराजक तत्वों द्वारा सामाजिक माहौल को खराब करने के उद्देश्य से सोशल मीडिया (WhatsApp/Facebook) पर कुछ झूठे/भ्रामक सन्देश प्रसारित किये जा रहे हैं, जिससे समाज में भय का माहौल उत्पन्न हो रहा है :

“काकड़ीघाट अल्मोड़ा से भिखारी के बेस में पांच सौ लोग निकलने जो रास्ते में जो मिलता है उसको काटकर कलेजे और कीडनी निकाल रहे है जिसमे से छः सात लोग पकड़े गए है .जो पकडे़ गए हैं वही लोग को कडी़ पूछताछ के बाद पांच सौ लोग आने की बात कबुल की है। कृपया सावधान रहे 15 से 20 लोगों की टोली आई है उनके साथ बच्चे और लेडीज हैं और उनके पास हथियार भी हैं और और आधी रात को किसी भी वक्त आते हैं और बच्चे के रोने की आवाज आती है“।

’’थाना मुक्तेश्वर क्षेत्रान्तर्गत धानाचूली धारी क्षेत्र में बच्चों/वयस्कों का अपहरण कर किडनी निकालने वाले गिरोह को पकड़ा गया है, इसी तरह क्षेत्र में बच्चा चोर गिरोह सक्रिय है तथा रात में संदिग्ध व्यक्ति देखे जा रहे हैं’’।

“अलर्ट उत्तराखंड” : ख़ासकर घरेलू महिलाओं से अनुरोध है, किसी भी अजनबी जैसे कबाड़ीवाला, फेरीवाला, बाबा या कोई भिखारी कोई भी हो उसके लिए दरवाज़ा ना खोले ना ही कोई बात करे बस हल्ला करके भगा दें। ग़लती से भी ये शब्द ना कहे । “अभी घर में कोई नही है, बाद में आना या चले जाओ“ घर में अगर कुत्ता है तो उसे खोल दो उसी टाइम और मेन गेट मत खोलो । अपना और अपने बच्चे का ध्यान रखिए। सतर्क रहें। सुरक्षित रहें।

सोशल मीडिया पर इस प्रकार की झूठी सूचना प्रसारित करना दण्डनीय अपराध है। जनपद पुलिस द्वारा ऐसे भ्रामक सन्देश प्रसारित करने वालों को चिन्हित कर उनके विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की गयी है। आपसे अपील की है कि फेसबुक, ट्विटर या व्हट्सएप्प में पोस्ट को डालने से पहले अपने विवेक से काम लें। कोई भी मैसेज या विडियो शेयर करने से पहले उसकी वास्तविकता का भी पता लगाएं, बिना सच्चाई का पता किए कोई भी विडियो या पोस्ट शेयर नहीं करें। आप सभी लोगों से अनुरोध है कि इस प्रकार की भ्रामक सूचनाओं पर ध्यान ना दे, ना ही सोशल मीडिया में इसे शेयर करें। इस सम्बन्ध में अपने आस-पास के लोगों को भी जागरूक करें।

अतः सोच विचार कर, खबर की पुष्टि कर पोस्ट एवं शेयर करें। अन्यथा शेयर करने वालों पर भी मुकदमा/FIR दर्ज की जा सकती है।

मीडिया सेल,
पुलिस मुख्यालय, उत्तराखण्ड।

जनपद नैनीताल के पुलिस अधिकारियों के नाम, मोबाइल व फोन नंबर : 

1- वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, नैनीताल। 9411112712, 05942-235730, 235586, 05946-220740
2- अपर पुलिस अधीक्षक, नैनीताल। 9997243044, 05942-235730,
3- अपर पुलिस अधीक्षक, हल्द्वानी। 9411112743, 05946-221538
4- क्षेत्राधिकारी नैनीताल। 9411112084, 05942-235730,
5- क्षेत्राधिकारी भवाली 9411112757 
6- क्षेत्राधिकारी हल्द्वानी 9411112741, 05946-220797
7- क्षेत्राधिकारी रामनगर 9411112097, 05947-254673
8-  क्षेत्राधिकारी लालकुआं 9411112088 
9 – निरीक्षक एलआईयू नैनीताल 9411315784, 05942-237515,231950
10 – श्री विपिन चन्द्र पंत कोतवाली मल्लीताल 9411112869, 05942-23424
11- श्री राहुल राठी थाना तल्लीताल 9411112870, 05942-236470
12 – श्री उम्मेद सिंह दानू कोतवाली भवाली 9411112990, 05942-220023
13 – श्री प्रमोद पाठक थाना भीमताल 9411112872, 05942-247044
14 – श्री कैलाश जोशी थाना मुक्तेश्वर 9411112871, 05942-286178
15 – श्री रोहताश सिंह थाना बेतालघाट 9411112880, 05942-241918
16 – श्री नरेश चौहान प्रभारी कालाढूॅगी 9411112875, 05942-242233
17 – श्री विक्रम सिंह राठौर प्रभारी कोतवाली रामनगर 9411112876, 05947-251343
18 – श्री रवि कुमार सैनी प्रभारी कोतवाली लालकुऑ 9411112873, 05945-268036
19- श्री के0आर0 पाण्डेय प्रभारी कोतवाली हल्द्वानी 9411112877, 05946-284329
20 – श्री नन्दन सिंह रावत थानाध्यक्ष  मुखानी 9837633858, 05946-260755
21 – श्री दिनेश नाथ महंत थानाध्यक्ष वनभूलपुरा 9412507516, 05946-255100
22- श्री कमाल हसन थानाध्यक्ष काठगोदाम 9411112879, 05946-266744
23-  श्री शांति कुमार गंगवार थानाध्यक्ष चोरगलिया 9411112878, 05945-243400
24 – श्री हरकेश कुमार प्रभारी सीपीयू हल्द्वानी 9690314608 
25 – श्री महेश चन्द्रा प्रभारी निरीक्षक यातायात हल्द्वानी 9412374312 
26 – डी0सी0आर0 नैनीताल 9411112979, 05942-235847
27- सी0सी0आर0 हल्द्वानी – 05946-220019
जनपद नैनीताल के चौकी प्रभारियों के नाम व मोबाइल नंबर : 
1- सुश्री भावना बिष्ट चौकी प्रभारी मंगोली कोतवाली मल्लीताल 8193040454 
2- श्री दिनेश जोशी चौकी प्रभारी ज्योलीकोट कोतवाली मल्लीताल 9808446257 
3- श्री देवेन्द्र सिंह बिष्ट चौकी प्रभारी खैरना कोतवाली भवाली 73511100 
4- श्री अनिल आर्या चौकी प्रभारी रामगढ़ कोतवाली भवाली 9411907952 
5- श्री देवनाथ गोस्वामी चौकी प्रभारी क्वारब कोतवाली भवाली 9759861663, 9456117096 
6- श्री खेम सिंह अधिकारी चौकी प्रभारी कोटाबाग थाना कालाढूॅगी 9411118075 
7- श्री कविन्द्र शर्मा चौकी प्रभारी पीरूमदारा कोतवाली रामनगर 9897140686 
8- श्री सुशील जोशी चौकी प्रभारी बैलपड़ाव थाना कालाढूॅगी 9456130333, 9837134000 
9- श्री मुन्नवर हसन चौकी प्रभारी मालधनचौड़ कोतवाली रामनगर 7500540951 
10- श्री हरीश पुरी चौकी गर्जिया प्रभारी कोतवाली रामनगर 9720047369 
11- चौकी ढेला कोतवाली प्रभारी, रामनगर 
12- श्री सजंय जोशी चौकी प्रभारी लामाचौड़ थाना मुखानी 9412976900 
13- श्री प्रेमराम विश्वकर्मा चौकी प्रभारी मंगलपड़ाव कोतवाली हल्द्वानी 8937031642 
14- श्री प्रताप सिंह नगरकोटी चौकी प्रभारी भोटियापड़ाव कोतवाली हल्द्वानी 9837000334 
15- श्री अजेन्द्र प्रसाद चौकी प्रभारी टी0पी0 नगर 9411196894 
16- श्री राजेश कुमार चौकी प्रभारी मण्डी कोतवाली हल्द्वानी 7830202038 
17- श्री कैलाश जोशी प्रभारी चौकी मेडिकल कोतवाली हल्द्वानी 9411794035, 9760723333 
18- श्री त्रिलोचन जोशी चौकी प्रभारी काठगोदाम थाना काठगोदाम 9410311422, 8449910191 
19- श्री निर्मल लटवाल चौकी प्रभारी हीरानगर कोतवाली हल्द्वानी 7983488305 
20- श्री विमल मिश्रा चौकी प्रभारी हल्दूचौड़ कोतवाली लालकुऑ 9412394286

पत्नी वियोग में जलती आग में कूदा प्रतिष्ठित परिवार का युवक

-बीते वर्ष ही हुआ था विवाह, विवाह के कुछ ही दिनों साथ रहकर पत्नी चले गयी थी मायके
नैनीताल, 3 मार्च 2018। नगर के प्रतिष्ठित परिवार का युवक बीती रात्रि घर में लगी आग में जलकर जिंदा भुन गया। युवक का विवाह बीते वर्ष ही 28 अप्रैल 2017 को हुआ था, और विवाह के बाद कुछ ही दिन साथ रहने के बाद उसकी पत्नी मायके चली गयी थी। बताया गया है कि तभी से वह गहरे अवसाद में था।

घटनाक्रम के अनुसार शुक्रवार रात्रि करीब 12 बजे नगर के शेरवानी लॉज क्षेत्र में अज्ञात कारणों से जबर्दस्त आग लग गयी। घर में नगर पालिका के अध्यक्ष पद के लिए भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ चुकी विद्या भास्कर पत्नी स्वर्गीय मदन लाल भास्कर (पूर्व सहायक शिक्षाधिकारी) अपने पुत्र पंकज कुमार (37) के साथ रहती थीं। आग लगने के बाद दोनों घर से बाहर निकल आए, और स्थानीय लोगों की मदद से आग बुझाने का प्रयास हुआ। आग न बुझने व विकराल रूप लेने पर करीब एक बजे आग की सूचना अग्निशमन विभाग को एवं कालाढुंगी रोड पर रहने वाली वाणिज्य कर विभाग में उपायुक्त के पद पर कार्यरत बेटी एवं नैनीताल जिले के मुख्य विकास अधिकारी प्रकाश चंद्र व दूसरे बेटे गदरपुर (ऊधमसिंह नगर) में ग्राम विकास अधिकारी के पद पर कार्यरत विमल कुमार आदि को दी गयी, तथा वे करीब डेढ़ बजे मौके पर पहुंचे। इस बीच आग को अन्य सटे हुए घरों में फैलने से बचाने के लिए टिन की छत को तोड़ने व खास कर घर के भीतर मौजूद गैस सिलेंडरों को बाहर निकालने, के काम में व्यस्त लोगों के बीच से पंकज किसी समय धधकती आग से घिरे घर के भीतर चला गया, और किसी तरह चीखा-चिल्लाया भी नहीं। स्थिति यह रही कि आग के करीब-करीब बुझने के बाद सुबह चार-साढ़े चार बजे उसके धधकते घर के भीतर होने का पता चला। तब तक वह बुरी तरह से भुन चुका था। सुबह करीब सात बजे उसके शव को घर से बाहर लाया जा सका। वहीं करीब 12-13 वर्ष पूर्व घर की दूसरी मंजिल कमोबेश भष्म हो चुकी है। आग बुझाने में अग्निशमन विभाग व एसडीआरएफ के जवानों के साथ ही क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता भूपेंद्र बिष्ट, पप्पू भट्ट, राम सिंह रौतेला, हरीश जोशी, गोपाल मेहरा, प्रताप बिष्ट आदि ने उल्लेखनीय योगदान दिया। घर में सुबह नौ बजे भी आग की लपटें उठती देखी गयीं। वाहनों के लिए तीक्ष्ण चढ़ाई का मार्ग होने की वजह से अग्निशमन विभाग के वाहन चढ़ने में दिक्कत आई, जबकि पेयजल की हो रही कटौती के कारण पानी भी उपलब्ध नहीं हुआ। आसपास के लोगों ने अपनी पानी की टंकियां खाली कर आग बुझाने में योगदान दिया।

यह भी पढ़ें : 

उत्तराखंड में ‘दावानल’ की राष्ट्रीय आपदा : न खुद भड़की आग, न उकसाया हवा ने

नैनीताल में आग की भेंट चढ़ चुके है कई विरासत महत्व के भवन

नैनीताल राजभवन में आग, फिर मंगल को सामने आया अमंगल

Loading...
loading...