Crime

उत्तराखंड में पेंशनधारकों के डेटा लीक ! साइबर ठग पूरी जानकारी के साथ बना रहे ऑनलाइन ठगी का शिकार

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
समाचार को सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें
डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 16 सितंबर 2021। जनपद में साईबर अपराधियों द्वारा पेंशनधारकों को जीवन प्रमाण पत्र आनलाईन अपडेट करने के लिए फोन कॉल किये जा रहे हैं, और पेंशनधारकों को उनकी सेवानिवृत्ति की तिथि, पीपीओ नंबर, बैंक खाता संबंधी सूचना, आधार कार्ड नंबर, स्थायी पता, मासिक पेंशन एवं नामिनी संबंधित जानकारियां बताकर विश्वास दिलाया जा रहा है कि वे कोषागार, उपकोषागार अथवा पेंशन निदेशालय से संबंधित व्यक्ति हैं एवं वे पेंशनधारकों को पूरा डेटा बताते हुये मोबाईल नंबर पर आए हुए ओटीपी साझा करने के लिए कहा जा रहा है। ओटीपी लेने के बाद साइबर अपराधी पेंशनधारकों के बैंक खातों में जमा पूरी धनराशि को अन्यत्र बैंक खाते अथवा वालेट में हस्तांतरित कर रहे हैं। इस प्रकार पेंशनधारक आर्थिक ठगी का शिकार हो रहे हैं। माना जा रहा है कि पेंशनधारकों का डेटा लीक होने की वजह से साइबर अपराधी पेंशनधारकों को इस तरह उनकी पूरी जानकारी के साथ विश्वास दिलाकर ठगी कर रहे हैं।
यह बात स्वीकार करते हुए जनपद की मुख्य कोषाधिकारी अनीता आर्य ने पेंशनधारकों को सावधान किया है। उन्होंने कहा कि कोषागार, उपकोषागार अथवा पेंशन निदेशालय से किसी भी पेंशनभोगी को जीवन प्रमाण पत्र ऑनलाईन अपडेट करने के लिए किसी भी प्रकार का फोन कॉल नहीं किया जाता है। पेंशनधारक का कर्तव्य है कि वह अपने जीवन प्रमाण पत्र को व्यक्तिगत रूप से कोषागार, उपकोषागार अथवा पेंशन निदेशालय में जाकर अपडेट करायें। पेंशनधारक इस तरह की फर्जी एवं अनजान कॉल से सावधान रहें एवं अन्य पेंशनधारकों को भी सावधान करें, जिससे कि इस तरह की साईबर ठगी से बचा जा सके।

यह भी पढ़ें : महिला के फेसबुक अकाउंट से परिचितों-परिवारजनों को आपत्तिजनक पोस्ट आने से हड़कंप

नवीन समाचार, रुड़की, 10 सितंबर 2021। शहर के सिविल लाइंस क्षेत्र निवासी एक महिला के फेसबुक अकाउंट से उसके फेसबुक फ्रेंड्स को आपत्तिजनक पोस्ट आने से हड़कंप मच गया। महिला के किसी परिचित ने जब उसके फेसबुक पर इस तरह के मैसेज देखे तो उसने महिला को मामले की जानकारी दी। इसके बाद महिला ने जांच पड़ताल की तो पता चला कि किसी ने महिला के फेसबुक खाते से उसकी फोटो व अन्य जानकारियां लेकर उसके नाम का फर्जी फेसबुक खाता बना दिया और उसके असली फेसबुक अकाउंट के फ्रेंड्स को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर अपने खाते से जोड़ लिया और अब उन्हें आपत्तिजनक पोस्ट भेज रहा है।

महिला ने इस फेसबुक अकाउंट पर मैसेज भेजकर इस फर्जी फेसबुक अकाउंट को डिलीट करने को कहा, लेकिन वह नहीं माना। उसने महिला को धमकी दे दी। महिला के परिजनों ने इस बावत सिविल लाइंस कोतवाली पुलिस से मामले की शिकायत की है। इसके बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। सिविल लाइंस कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक अमर चंद शर्मा ने बताया कि फर्जी फेसबुक अकाउंट को चिह्नित किया जा रहा है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : युवक से नौकरी के नाम पर 10 हजार रुपए हड़पे

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 5 अगस्त 2021। मल्लीताल निवासी एक व्यक्ति से साइबर अपराधियों के द्वारा नौकरी दिलाने के नाम पर 10 हजार रुपए हड़पने का मामला सामने आया है। शिकायतकर्ता मो. अली ने पुलिस कोतवाली में शिकायती पत्र देकर कहा है कि उसके पास कुछ दिन पहले राजस्थान से राहुल गुप्ता नाम के व्यक्ति का फोन आया था।

राहुल ने उसे नौकरी देने जाने का आश्वासन दिया और रजिस्ट्रेशन व कागजी कार्रवाई के लिए 10 हजार रुपये जमा करने को कहा। नौकरी के लालच में पीड़ित ने रुपये जमा कर दिए, लेकिन इसके बाद उससे संपर्क नहीं हो पाया। कोतवाल अशोक कुमार सिंह ने कहा कि मामला साइबर सेल को भेजा जाएगा। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : फेसबुक पर फेक आईडी बनाने वाले बड़े अंतर्राज्यीय गिरोह का खुलासा, डीजीपी का फर्जी खाता बनाने वाले सहित 14 साइबर ठग गिरफ्तार…

नवीन समाचार, देहरादून, 28 जून 2021। उत्तराखंड पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर पैसे मांगने के मामले में स्पेशल टास्क फोर्स ने 14 साइबर ठगों को झारखंड और राजस्थान से गिरफ्तार कर बड़ी कामयाबी हासिल की है। पुलिस प्रवक्ता और डीआईजी एसटीएफ नीलेश आनंद भरणे ने पत्रकारों को यह जानकारी देते हुए बताया कि कुछ दिन पहले डीजीपी की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर आढ़त बाजार निवासी एक व्यक्ति से पैसे की डिमांड की गई थी। शक होने पर उसने नगर कोतवाली में तहरीर दी। कोतवाली में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।

पुलिस मुख्यालय ने मामला गंभीर होने के चलते जांच के लिए स्पेशल टास्क फोर्स और जनपद पुलिस की उच्च स्तर पर संयुक्त छह टीमें बनाई थीं। टीम की ओर से जांच में पाया गया कि इस प्रकार के अपराध मेवात क्षेत्र, पलवल व नूह (हरियाणा) एवं भरतपुर व अलवर (राजस्थान) एवं जामतारा (झारखण्ड) क्षेत्र से संचालित किए जा रहे हैं। यह टीमें मेवात,पलवल, नूह (हरियाणा) एंव राजस्थान के भरतपुर और अलवर और जमातारा (झारखंड), पश्चिम बंगाल और छत्तीसगढ़ पहुंचीं। डीआईजी ने बताया कि दो आरोपितों जाहिद पुत्र शेर मोहम्मद निवासी थाना खोह जिला भरतपुर और इरशाद पुत्र मजीद निवासी कलतरिया थाना जुरहेरा जिला भरतपुर (राजस्थान) को गिरफ्तार किया गया। बाकी सभी आरोपित प्रदेश के अलग-अलग जिलों में दर्ज हुए मामलों से संबंधित हैं। उत्तराखंड पुलिस ने प्रदेश के लोगों से साइबर ठगों के झांसे में नहीं आने की अपील की है। ऐसे ठगों को धरपकड़ के लिए पुलिस का अभियान जारी है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पत्नी ने पति पर लगाया अश्लील-अभद्र संदेश भेजने का आरोप, पुलिस भी हैरान

नवीन समाचार, खटीमा, 26 जून 2021। शहर में पति-पत्नी के बीच एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। खटीमा थाना क्षेत्र की निवासी एक महिला ने अपने पति पर अश्लील मैसेज भेजने का मुकदमा दर्ज करवाया है। पुलिस को दी तहरीर में महिला ने शिकायत की है कि आपसी मतभेद के कारण वह अपने मायके में रह रही है। लेकिन उसका पति कई दिनों से उसे आपत्तिजनक मैसेज भेज कर परेशान कर रहा है। साथ ही गालीगलौज भी कर रहा है। इधर उसने गत 17 जून को अभद्र संदेश भेजने के साथ ही उसकी हत्या करने की धमकी भी दी है। ऐसे मामले को लेकर खटीमा पुलिस भी हैरान है, और जांच कर कार्रवाई करने की बात कह रही है।

महिला का आरोप है कि अपने पति की इन हरकतों के कारण वह अपना मोबाइल अधिकांश समय बंद ही रखती है। फिर भी, जब भी अपना मोबाइल खोलती है तो उसके पति के आपत्तिजनक मैसेज आये मिलते हैं। महिला ने यह भी बताया है कि उन दोनों पति-पत्नी के बीच घरेलू हिंसा का वाद भी न्यायालय में चल रहा है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल की युवती को उसके प्रेमी के फेसबुक मैसेंजर से आने लगे अश्लील संदेश, फोटो और वीडियो…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 25 जून 2021। ऑनलाइन-साइबर अपराध लगातार बढ़ते जा रहे हैं। अब जिला-मंडल मुख्यालय में एक युवती को उसके प्रेमी के नाम की फेसबुक आईडी से अश्लील संदेश आने के मामले का खुलासा हुआ है। पता चला है कि उसके प्रेमी की फेसबुक आईडी किसी अन्य ने फेक यानी गलत तरीके से बनाई है। इस पर युवक-युवती दोनों ने मल्लीताल कोतवाली पहुंचकर शिकायती पत्र देकर कार्रवाई की मांग की है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार नगर के मल्लीताल क्षेत्र में रहने वाली युवती को कुछ दिनों से उसके प्रेमी के नाम की आईडी से फेसबुक मैसंेजर से संदेश आ रहे थे। युवती अपना प्रेमी समझकर खुद भी उससे संदेशों का आदान-प्रदान कर रही थी। लेकिन कुछ दिन बाद युवती को इसी फेसबुक आईडी से अश्लील संदेश के साथ ही उसके अश्लील फोटो व वीडियो भी भेजे जाने लगे। युवती ने इसका विरोध किया, फिर भी अश्लील मैसेज आते रहे। इस पर युवती ने अपने प्रेमी को फोन कर मिलने के लिए कहा। जब दोनों मिले तो शुरुआत में गलतफहमी में लड़ने के बाद पता चला कि युवती को अश्लील मैसेज उसका प्रेमी नहीं, बल्कि कोई और उसकी फेक फेसबुक आईडी बनाकर भेज रहा था। इस पर दोनों कोतवाली पहुंचे और कार्रवाई की मांग की। उल्लेखनीय है कि पूर्व में प्रदेश के डीजीपी से लेकर कुमाऊं रेंज के आईजी, नैनीताल के तत्कालीन एसएसपी और मौजूदा कोतवाल की फेसबुक आईडी भी हैक हो चुकी है, और पुलिस किसी भी मामले का खुलासा नहीं कर पाई है। ऐसे में देखना होगा कि इस मामले में पुलिस क्या कर पाती है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : महिलाओं की अश्लील वीडियो दिखाकर ब्लैकमेल करने वाला निकला आशिक मिजाज बुड्ढा, गिरफ्तार..

नवीन समाचार, चंपावत, 24 जून 2021। चंपावत जिले की पुलिस ने गुरुवार को वाट्सअप पर महिलाओं की आपत्तिजनक अश्लील वीडियो बनाकर लोगों को ब्लैकमेल कर पैसा उगाही करने वाले आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। खास बात यह है कि ऐसा काम करने वाला कोई युवा नहीं वरन 52 वर्षीय बुजुर्ग है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गत 21 मार्च को शिक्षा विभाग चम्पावत में कार्यरत कर्मचारी मिंटू राणा पुत्र स्व. इन्द्र सिंह राणा, निवासी लामाखेड़ा, सितारगंज, जिला ऊधमसिंह नगर को एक अज्ञात व्यक्ति ने व्हाट्सअप नंबर पर वीडियो कॉल की। कॉल करने वाले के मोबाइल में एक महिला अश्लील होकर दिख रही थी, लेकिन कोई आवाज नहीं आ रही थी। करीब डेढ़ मिनट बाद वीडियो कॉल करने वाले व्यक्ति ने कुछ कहे बिना फोन काट दिया। इसके कुछ देर बाद ब्लैकमेलर ने वीडियो कॉल की स्क्रीन रिकॉर्डिंग कर वीडियो व स्क्रीन शॉट मिंटू राणा को भेज दिया। जिससे प्रतीत हो रहा था कि मिंटू राणा ही महिला के साथ अश्लील बातें कर रहा हो। 22 मार्च को ब्लैकमेलर द्वारा वाट्सअप मैसेज कर मिंटू राणा को आपत्ति जनक वीडियो यू-ट्यूब में पोस्ट कर धमकी देते हुए 10,300 रुपये की मांग की। ब्लैकमेल हो चुके मिंटू राणा ने डर के मारे उक्त धनराशि ब्लैकमेलर द्वारा दिए गए अकाउंट में डाल दी। इसके बाद वह लगातार रुपये मांगता रहा। मिंटू राणा ने इसकी शिकायत पुलिस से की। जिसके बाद पुलिस ने आरोपित के खिलाफ चम्पावत कोतवाली में आइपीसी की धारा 384 एवं 67 आइटी एक्ट के तहत अभियोग पंजीकृत कर कोतवाल शांति कुमार गंगवार के नेतृत्व में टीम का गठन किया। टीम ने सर्विलांस, फोन पे, गूगल पे, पेटीएम, व्हाट्सअप तथा बैंक की डिलेट के जरिए साइबर ब्लैकमेलर की पहचान उमरदीन (52) पुत्र अश्रु, निवासी ग्राम पछलेड़ी गुलपाड़ा, थाना सीकरी, जिला भरतपुर (राजस्थान) के रूप में की, और आरोपित की गिरफ्तारी के लिए चम्पावत बाजार चौकी प्रभारी सोनू सिंह के नेतृत्व मे पुलिस टीम भरतपुर भेजी गई। जहां उसने आरोपित उमरदीन को गांव पछलेड़ी, गुलपाड़ा से गिरफ्तार कर लिया। उसे चम्पावत लाया गया है। सीओ अशोक कुमार ने बताया कि आरोपित के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जा रही है। पुलिस टीम में प्रभारी निरीक्षक गंगवार के अलावा साइबर सैल प्रभारी हरपाल सिंह, चौकी प्रभारी सोनू सिंह, कांस्टेबल अब्दुल मलिक, मदन नाथ, पूरन आर्या, बिहारी लाल, सद्दाम हुसैन, भुवन पांडेय शामिल थे। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : महिला ने फेसबुक पर दोस्ती कर ऑनलाइन ठग लिए

नवीन समाचार, देहरादून, 20 जून 2021। फेसबुक के जरिए महिला से दोस्ती करने के बाद एक व्यक्ति साइबर ठगी का शिकार बन गया। व्यक्ति से लंदन से भारत आने पर कस्टम अधिकारी के रोकने का बहाना बना कर 73 हजार रुपये ऑनलाइन जमा करा लिए गए।
प्राप्त जानकारी के अनुसार डालनवाला पुलिस के मुताबिक यूनूस अली पुत्र उमरदीन निवासी देहराखास का कहना है कि उनको एक महिला ने फेसबुक पर फ्रेड रिक्वेस्ट भेजी। रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करने के बाद महिला ने दोस्ती की इच्छा जाहिर की। दोनों की आपस में बात होने लगी। बीती 17 मई को एक अन्य महिला ने उसे फोन किया। उसने अपना परिचय एयरपोर्ट कस्टम अधिकारी के रूप में दिया। कहा गया कि लंदन से आपकी महिला दोस्त भारत आई है। मनी लांड्रिंग के लिए 73 हजार रुपये जमा करने होंगे। एयरपोर्ट का कस्टम अधिकारी समझकर लंदन से आई महिला की सहायता के लिए यूनुस ने गूगल-पे से महिला को 73 हजार रुपये ट्रांसफर किए। बाद में पता चला कि साइबर ठगी हो गई है। साइबर थाने में दी गई शिकायत के बाद पटेलनगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : साइबर धोखाधड़ी रोकने के लिए उत्तराखंड में भी शुरू हुई हेल्पलाइन सेवा…

नवीन समाचार, देहरादून, 18 जून 2021। केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा साइबर धोखाधड़ी को रोकने के लिए तैयार की गई हेल्पलाइन-155260 सेवा अब उत्तराखंड में भी पूरी तरह से काम करने लगी है। यह सेवा वर्तमान में सात राज्यों-छत्तीसगढ़, दिल्ली, मध्य प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में संचालित है और देश की 35 प्रतिशत आबादी को कवर कर रही है। के बाद इसे देशभर में लागू किया जा रहा है। आगे इसे जल्द ही देशभर के लिए संचालित करने की योजना है। केंद्रीय गृह मंत्रालय से जारी हुई जानकारी के अनुसार एक अप्रैल से शुरुआती तौर पर संचालित सेवा के माध्यम से 1.85 करोड़ रुपये धोखेबाजों के हाथों में जाने से रोके गए हैं।
बताया गया है कि यह हेल्पलाइन सेवा भारतीय साइबर अपराध समन्वय केन्द्र (14सी) आरबीआई, बैंक, पेमेंट बैंक और ऑनलाइन व्यापारियों के सहयोग से चलाई जा रही है। इससे जुड़ा रिपोर्टिंग और प्रबंधन तंत्र केंद्र ने स्वयं तैयार किया है। इसके साथ प्रवर्तन एजेंसियां, बैंक, वित्तीय बिचौलिये जुड़े हैं। हेल्पलाइन को चलाने का काम स्थानीय पुलिस को दिया गया है जो रिपोर्टिंग और प्रबंधन तंत्र का प्रयोग कर धोखाधड़ी को रोकने का प्रयास करती है।
यह हेल्पलाइन समय पर साइबर धोखाधड़ी की जानकारी प्राप्त कर उस पर त्वरित कार्रवाई पर केंद्रित है। पैसे के ट्रांसफर का पीछा कर उसे बैंकों के माध्यम से फ्रीज किया जाता है। कोई भी व्यक्ति साइबर घोखाधड़ी का शिकार होने पर हेल्पलाइन पर कुछ बुनियादी जानकारी देकर शिकायत दर्ज करा सकता है। इसे आगे भेजकर तत्काल पैसे के लेन-देन को रोका जाता है। पीड़ित व्यक्ति को मैसेज के माध्यम से सूचित किया जाता है और 24 घंटे का समय लेन-देन की विस्तृत जानकारी देने के लिए दिया जाता है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : नज़रअंदाज किए आम लोगों, उच्चाधिकारियों के साथ हुए साइबर अपराध, अब डीजीपी तक पहुंचे साइबर अपराधियों के हाथ…

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 जून 2021। कुमाऊं परिक्षेत्र के आईजी अजय रौतेला, नैनीताल के तत्कालीन एसएसपी सुनील कुमार मीणा व कोतवाल अशोक कुमार सिंह, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश जोशी, जिला रेडक्रॉस सोसायटी नैनीताल के चेयरमैन विनोद तिवाड़ी, अधिवक्ता पंकज कुलौरा सहित न जाने कितने आम व खास लोग पिछले दिनों साइबर अपराधियों के निशाने पर आए। उनके नाम की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर और उनके नाम से मैसेंजर पर संदेश भेजकर उनके जानने वालों से हजारों रुपए की मांग की गई। कई लोगों ने इस कारण अपने खून-पसीने से कमाई बड़ी धनराशि भी गंवाई, लेकिन उत्तराखंड की ‘मित्र पुलिस’ व साइबर सेल किसी भी मामले का खुलासा नहीं कर सके। लाजिमी था, साइबर अपराधियों के होंसले बढ़े और अब उन्होंने प्रदेश के पुलिस विभाग के मुखिया डीजीपी अशोक कुमार की ही फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर उनके परिचितों से रुपए मांगने की हिमाकत कर डाली है। अब तो पुलिस को हरकत में आना ही है। डीजीपी अशोक कुमार की फेक आईडी से पैसे मांगने की शिकायत पर कोतवाली देहरादून में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। साथ ही ऐसी हिमाकत करने वाले की तलाश के लिए पुलिस महानिरीक्षक (अपराध एवं कानून व्यवस्था) वी मुरूगेशन की अध्यक्षता में 6 टीमें बना ली गई हैं, जो इस प्रकरण की जांच करेंगी। प्राथमिक तौर पर आरोपी प्रोफेशनल साईबर अपराधी लग रहे हैं। जिनका संबंध बिहार, झारखंड तथा राजस्थान सेे हो सकता है। टीमों ने इन राज्यों के वरिष्ठ अधिकारियों से भी वार्ता की है। पुलिस का दावा है कि जल्द ही इस प्रकरण का खुलासा किया जायेगा।
पुलिस महानिरीक्षक (अपराध एवं कानून व्यवस्था) द्वारा पुलिस मुख्यालय स्थित सभागार में वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से पुलिस महानिरीक्षक कुमाऊं परिक्षेत्र, पुलिस उपमहानिरीक्षक, गढवाल परिक्षेत्र एवं समस्त जनपदों के प्रभारियो के साथ जनपदों द्वारा कृत कार्यवाहियों की समीक्षा की गई। साथ ही समस्त जनपद प्रभारियों को यह निर्देशित किया गया कि उनके जनपदों में रजिस्टर साईबर क्राईम से सम्बन्धित समस्त केसों का जल्द से जल्द निस्तारण किया जाए। इसके लिये अगर अन्य राज्यों में टीमों को भेजना पडे तो वह कार्यवाही की जाए। वीडियो कान्फ्रेसिंग में पुलिस उपमहानिरीक्षक (अपराध एवं कानून व्यवस्था) नीलेश आनन्द भरणे, पुलिस अधीक्षक एसटीएफ अजय सिंह, पुलिस अधीक्षक (अपराध एवं कानून व्यवस्था) श्वेता चौबे के अतिरिक्त अन्य अधिकारियों ने ऑनलाईन प्रतिभाग किया। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : पूर्व पालिका अध्यक्ष के नाम से नए मॉड्यूल से साइबर धोखाधड़ी का प्रयास, न फेसबुक आईडी हैक, न पैंसे मांगे…

-हैकरों ने बिना फेसबुक आईडी हैक किए भेजे लोगों को रुपये मांगने की जगह रुपए देने के लिए मैसेज

पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश जोशी ‘मंटू’

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 11 जून 2021। अब तक यही कहा जाता रहा है कि साइबर अपराधी लोगों की फेसबुक आईडी हैक कर फेसबुक से जुड़े मैसेंजर के जरिये उनके फेसबुक फ्रेंड्स को मैसेज भेजकर किसी परेशानी में फंसे होने की बात कह कर रुपए मांगते हैं। किंतु नगर में साइबर अपराधियों के द्वारा एक बिल्कुल नये तरीके से पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश जोशी के नाम व उनकी फोटो का इस्तेमाल कर रुपए मांगने की जगह रुपए देने के लिए मैसेज भेजे गए हैं। अलबत्ता, अभी तक श्री जोशी के फेसबुक मित्रों में से किसी के साइबर अपराधियों के जाल में फंसने की जानकारी नहीं है। अलबत्ता, जोशी ने मल्लीताल कोतवाली को इसकी सूचना दे दी है।
श्री जोशी ने बताया कि उन्हें बृहस्पतिवार रात्रि 10-11 बजे से कुछ लोगों ने उनके नाम से फेसबुक मैसेंजर के जरिये रुपयों के लिए संदेश भेजने की जानकारी मिली। इसके बाद उन्होंने आनन-फानन में अपने फेसबुक खाते हैक होने के भय से बंद कर दिए और अपने फेसबुक मित्रों को अपना फेसबुक खाता हैक होने का संदेश भेजकर किसी के झांसे में न आने की अपील की। लेकिन इधर मामले को गंभीरता से देखने पर पता चला है कि वास्तव में उनका फेसबुक खाता हैक नहीं किया गया है, बल्कि उनकी फेसबुक पर लगी प्रोफाइल फोटो और उनके नाम का इस्तेमाल करके कुछ माह पूर्व साइबर अपराधियों ने एक नया खाता बनाया है, और उससे जोशी के फेसबुक फ्रेंड्स को पहले फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी गई थी। अब तक उस फर्जी खाते में केवल 41 लोग ही जुड़े हैं, जबकि जोशी के मूल खाते में 5000 के करीब सदस्य हैं। इसके बाद साइबर अपराधी के द्वारा जोशी के फर्जी फेसबुक खाते से जुड़े लोगों को अपने पास गूगल पे अकाउंट न होने का हवाला देकर किसी कुलदीप सिंह नाम के फौजी के द्वारा भेजे जा रहे पहले पांच रुपए जांच के लिए और बाद में 20 हजार रुपए भेजे जाने का झांसा देते हुए गूगल पे का नंबर मांगा जा रहा है। आगे यदि कोई व्यक्ति अपना गूगल पे का नंबर यदि देता है तो उससे ओटीपी नंबर लेकर उसके बैंक खाते से पूरी धनराशि निकाली जा सकती है।

बचने को यह करें
नैनीताल। फेसबुक के जरिए होने वाली ऐसी साइबर ठगी से बचने के लिए जरूरी है कि अपनी प्रोफाइल फोटो को फेसबुक द्वारा दी जाने वाली सुविधा के तहत ‘प्रोटेक्टेड’ करें। अनजान लोगों की फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार न करें और खास जान-पहचान के लोगों के नाम पर भी कभी पैंसे के लेन-देन से संबंधित मैसेंजर से कोई संदेश आने पर उससे फोन करने को कहें, अथवा संबंधित व्यक्ति को फोन करके उससे सत्यता का पता कर लें। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : अब अधिवक्ता की फेसबुक आईडी हैक कर मांगे जा रहे मित्रों से रुपये

नवीन समाचार, नैनीताल, 27 मई 2021। पूर्व में आए पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों एवं राजनेताओं के फेसबुक खाते हैक करने के मामलों की तर्ज पर अब उत्तराखंड ग्वाल सेवा संगठन के संस्थापक एवं वरिष्ठ अधिवक्ता पंकज कुलौरा की फेसबुक आईडी सायबर अपराधियों ने हैक कर ली गई है। इसके बाद कुलौरा के फेसबुक पर जुड़े कई मित्रों से फेसबुक मैसेंजर के माध्यम से धन की मांग की जा रही है। पंकज ने इसकी शिकायत थाना तल्लीताल एवं मुख्यमंत्री के शिकायत पोर्टल पर की है। वहीं तल्लीताल थाना प्रभारी विजय मेहता ने बताया कि शिकायत जांच साइबर सेल को भेज दी गई है। 
उधर, तल्लीताल बड़ा बाजार निवासी पीड़ित अधिवक्ता पंकज कुलौरा का कहना है कि किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा उनके फेसबुक अकाउंट को हैक कर उनके करीब 25 दोस्तों, रिश्तेदारों, मित्रों व सहित अन्य परिचितों से अवैध रूप से धन की वसूली के लगातार संदेश भेजे जा रहे हैं। इस पर उनके परिचितों, मित्रों सहित उनके रिश्तेदारों ने व्हाट्सएप पर उनको स्क्रीन शॉट लेकर भेजे हैं। उनका नाम भी अलग-अलग नामों से आ रहा है, और अलग-अलग नाम से पोस्ट भी बनाई गई हैं। इस प्रकार उनके नाम का दुरुपयोग कर अवैध वसूली की जा है। यह रंगदारी की श्रेणी में आता है, साथ ही आईटी एक्ट के तहत भी हैकर के खिलाफ मुकदमा दर्ज होना चाहिए, ताकि ऐसे अन्य फर्जी लोगों को रोका जा सके। (डॉ.नवीन जोशी)

यह भी पढ़ें : डीजीपी से शिकायत करने पर वापस मिले बहन की शादी के लिए बचाकर रखे एक लाख रुपए…

नवीन समाचार, देहरादून, 05 अप्रैल 2021। बहन की शादी के लिए बैंक में जमा की गई रकम साइबर ठगों ने उड़ा ली। लाचार भाई इसकी शिकायत लेकर स्थानीय थाने में गया तो उसकी सुनवाई नहीं हुई। इस पर उसने प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) से कार्रवाई कर गुहार लगाई। डीजीपी के आदेश पर त्वरित कार्रवाई के बाद पीड़ित को उससे ठगे गऐ रुपयों में से एक लाख रुपये वापस मिल गए हैं।
प्राप्त जानकारी के अनुसर रुड़की के कृष्णानगर निवासी भीम सिंह काफी के पास गत दिवस एक व्यक्ति का फोन आया। उसने उन्हें झांसे में लेकर एक लाख रुपये बैंक खाते से उड़ा दिए। भीम ने यह रुपए अपनी बहन की शादी के लिए रखे थे। भीम ने बैंक में इसकी शिकायत की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। आरोप है कि स्थानीय थाने की पुलिस भी उनकी शिकायत पर कार्रवाई के बजाय टालमटोल करती रही। इस पर धनराशि वापस मिलने की उम्मीद खो चुके भीम सिंह ने आखिर में डीजीपी अशोक कुमार से गुहार लगाई। डीजीपी ने एसएसपी हरिद्वार को मामले की गंभीरता से जांच करने और कार्रवाई करने का निर्देश दिया। इसके बाद हरिद्वार पुलिस ने ठगों के खाते को सीज कर पीड़ित भीम सिंह के खाते में एक लाख रुपए की धनराशिवापस डलवा दी। इसके साथ ही डीजीपी ने सभी जिलों की पुलिस को निर्देशित किया है कि साइबर अपराधों के मामलों को गंभीरता से लेते हुए त्वरित कार्रवाई करें। पीड़ितों को थाने-चौकियों के चक्कर न काटने पड़ें।

यह भी पढ़ें : सोशल मीडिया पर युवती ने नग्न होकर युवक से हड़प लिए 11 हजार रुपए

नवीन समाचार, बहादराबाद (हरिद्वार), 28 मार्च 2021। अपराधी प्रवृत्ति के युवक ही नहीं युवतियां भी सोशल मीडिया का उपयोग लोगों को लूटने के लिए किया जा रहा है। ऐसा ही एक मामला नगर के रावली महदूद निवासी एक युवक के साथ हुआ है। उसे एक अज्ञात युवती की फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार करना बहुत भारी पड़ गया। पीड़ित युवक का कहना है कि युवती वीडियो कॉलिंग में उसके सामने नग्न हुई और उससे भी कई बार मना करने के बावजूद नग्न होने को कहती रही। इस पर वह भी नग्न हो गया। इसके बाद युवती ने युवक से व्हाट्सएप पर भी जुड़कर उससे वीडियो कॉलिंग पर नग्न अवस्था में वीडियो क्लिप बना ली, और उस वीडियो क्लिप को वायरल करने की धमकी देकर गूगल-पे से 11 हजार रुपए हड़प लिए। इसके बाद भी युवती युवक से वीडियो को वायरल करने की धमकी देकर हजारों रुपए की मांग करने लगी, इस पर युवक ने पुलिस से मदद मांगी। इस पर पुलिस ने अज्ञात युवती के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है, और युवती की तलाश में जुट गई है।
सिडकुल थाने के प्रभारी लखपत सिंह बुटोला ने कहा कि इस तरह सोशल मीडिया पर ब्लैकमेलिंग के कई मामले सामने आ चुके है। लोगों को अनजान लोगों की फेसबुक आईडी पर फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार नहीं करनी है।

यह भी पढ़ें : कुुमाउनी में लोगों को साइबर अपराधों से बचने की सलाह दे रहे पुलिस के एएसआई हुए वायरल

नवीन समाचार, नैनीताल, 25 मार्च 2021। पूर्व में मल्लीताल कोतवाली में तैनात रहे व वर्तमान में ऊधमसिंह नगर जनपद में कार्यरत एएसआई सत्येंद्र गंगोला का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में सत्येंद्र विस्तार से लोगों को साइबर अपराध बचने के तरीके समझा रहे हैं। उल्लेखनीय है कि सत्येंद्र कुमाउनी गीत भी गाते रहे हैं। उसके गाये गीतों की पूर्व में वीडियो भी आ चुकी है।
देखें एएसआई सत्येंद्र गंगोला का कुमाउनी में साइबर अपराधों से बचने का संदेश:

यह भी पढ़ें : एसएसपी, आईजी, कोतवाल के बाद अब एसडीएम की फेसबुक आईडी से मांगे जा रहे रुपए…

नवीन समाचार, नैनीताल, 05 मार्च 2021। जिले के पूर्व एसएसपी सुनील कुमार मीणा, आईजी अजय रौतेला व मल्लीताल के कोतवाल अशोक कुमार सिंह के बाद अब जनपद के धारी तहसील के एसडीएम विनोद कुमार की फेसबुक आईडी भी हैक कर ली गई है। कुमार की फर्जी फेसबुक आईडी बनाई गई है, और उससे उनकी असली फेसबुक आईडी से जुड़े मित्रों को पहले फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर जोड़ा गया है और फिर उन्हें संदेश भेजकर रुपए मांगे जा रहे हैं। एक मित्र से नाम पूछने पर रामेश्वर नाम बताया गया है। इसका पता लगने पर श्री कुमार ने अपने फेसबुक से जुड़े मित्रों से उनकी आईडी पैसा मांगने वालों के झांसे में न आने की अपील की है। उल्लेखनीय है कि विनोद कुमार अभी हाल तक नैनीताल के एसडीएम भी रह चुके हैं।

एसडीएम विनोद कुमार के नाम से इस तरह मांगे जा रहे हैं रुपए : https://www.facebook.com/photo/?fbid=3640205279411979&set=a.192026927563182

यह भी पढ़ें : सरकारी स्कूल की ‘मैडम जी’ ने 5 रुपये में मंगाया ऑनलाइन पिज्जा, और लग गया 60 हजार का चूना

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 25 फरवरी 2021। देश की शिक्षा व्यवस्था जाने क्या-क्या सिखाती है, लेकिन व्यवहार में आने वाली छोटी-छोटी बातें व जीवन में बरती जाने वाली सावधानियां नहीं सिखाती। इसका ही परिणाम है कि बच्चों को ऐसी जानकारियां देने की जिन पर जिम्मेदारी होनी चाहिए थी, ऐसी एक सरकारी विद्यालय की शिक्षिका को ₹5 में पिज्जा दिलाने का झांसा देकर साइबर अपराधियों ने ₹60000 लूट लिए। मामला हल्द्वानी का है। हल्द्वानी कोतवाली पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर घटना की जांच शुरू कर दी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार सीएमटी कालोनी डहरिया निवासी शिक्षिका कमला जोशी ने 22 फरवरी को पिज्जा मंगाने का ऑनलाइन ऑर्डर किया था। बुकिंग के बाद उन्हें मैसेज मिला कि वह पांच रुपये का भुगतान करें। कमला ने तुरंत ऑनलाइन पांच रुपये का भुगतान कर दिया। लेकिन इसके पांच मिनट बाद ही तीन किस्तों में 19999, 19999 और 19998 (59 हजार 996) रुपये निकाले जाने के मैसेज आ गये। इस पर कमला परेशान हो गईं। उन्होंने एसपी सिटी डॉ. जगदीश चंद्र को अवगत कराया। एसपी सिटी के निर्देश पर एसओजी की टीम सक्रिय तो हुई लेकिन तब तक पैसे निकल चुके थे। कोतवाली पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया है। मुकदमे की विवेचना टीपीनगर चौकी प्रभारी सतीश शर्मा को सौंपी गई है।

यह भी पढ़ें : एसएसपी, आईजी के बाद अब कोतवाल की फेसबुक आईडी हैक कर रुपए मांगे..

नवीन समाचार, देहरादून, 21 फरवरी 2021। जिले के पूर्व एसएसपी सुनील कुमार मीणा, आईजी अजय रौतेला के बाद अब मल्लीताल के कोतवाल अशोक कुमार सिंह की फेसबुक आईडी भी हैक कर ली गई है। सिंह की फर्जी फेसबुक आईडी बनाई गई है, और उससे उनकी असली फेसबुक आईडी से जुड़े मित्रों को पहले फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर जोड़ा गया है और फिर उन्हें संदेश भेजकर रुपए मांगे जा रहे हैं। इसका पता लगने पर कोतवाल ने फेसबुक आईडी को ब्लॉक करवा दिया है, और अपने फेसबुक से जुड़े मित्रों से उनकी आईडी पैसा मांगने वालों के झांसे में न आने की अपील की है। इन दिनों अवकाश पर चल रहे सिंह ने बताया कि उन्होंने एसओजी को मामले की जानकारी दे दी है। अब तक किसी मित्र के झांसे में आकर रुपए भेजने की जानकारी नहीं है।

यह भी पढ़ें : युवती की वीडियो पोर्न साइट पर अपलोड, दोस्ती पड़ी भारी…

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 17 फरवरी 2021। शहर में एक युवती की तस्वीरें इंटरनेट पर अश्लील पोर्न साइट पर दिखने से हड़कंप मच गया। युवती के भाई ने जब ऐसा देखा तो सक्रियता दिखाते हुए कोतवाली पुलिस में लिखित शिकायत की। इस पर पुलिस ने संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर तहकीकात शुरू कर दी है। युवती के साथ ऐसी हरकत करने का आरोप उसके एक परिचित युवक पर लगा है। बताया जा रहा है कि युवती से संबंध बनाने से इंकार करने पर युवक ने उसे बदनाम करने नीयत से उसकी अश्लील वीडियो पोर्न साईड में अपलोड कर दी हैं। मामला चोरगलिया क्षेत्र का बताया जा रहा है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार तीन साल पूर्व युवती पड़ोस में किराए पर रहे एक युवक के संपर्क में आई थी। जिसके बाद दोनों के बीच दोस्ती हो गई। दोनो के बीच का प्रेम प्रसंग के चलते परिजनों ने युवती को समझाबुझाकर अलग कर दिया। बताया जा रहा कि बीते दिन युवती के भाई के दोस्तों ने एक पोर्न साइट पर उसका अश्लील वीडियो देखा और जानकारी दी। युवती के भाई ने तहरीर देते हुए कहा कि अज्ञात शख्स द्वारा उसकी बहन की अश्लील वीडियो अपलोड की गई हैं। इस कारण वह मानसिक रूप से परेशान है। इससे उसकी सामाजिक प्रतिष्ठा भी खराब हो रही है। इस पर पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए वीडियो अपलोड करने वाले की तलाश शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड पुलिस की बड़ी कार्रवाई, एक करोड़ से अधिक की ठगी करने वाले साइबर मास्टरमाइंड को किया गिरफ्तार

नवीन समाचार, देहरादून, 06 फरवरी 2021। उत्तराखंड एसटीएफ व साइबर क्राइम पुलिस की संयुक्त टीम ने एक क्लिक करते ही लाखों की ठगी करने वाले अंतरराज्यीय गिरोह के मास्टर माइंड को राज्य से लगभग 1600 किमी दूर कोलकाता से गिरफ्तार करने की बड़ी सफलता प्राप्त की है। पकड़े गए आरोपित अनिकेत चक्रवर्ती पर आरोप है कि उसने राज्य के चम्पावत निवासी व्यक्ति से अज्ञात मोबाइल नंबर द्वारा फोन एवं एसएमएस के माध्यम से सम्पर्क करके और इंटरनेट बैंकिग का एक्सेस प्राप्त कर उसके खाते से 30 लाख रुपये ऑनलाइन निकाल लिए थे। इस मामले में यह बड़ा खुलासा भी हुआ है कि घटना में प्रयुक्त हुये बैंक खातों में कुछ माह की अवधि में ही लगभग 1 करोड़ से अधिक की धनराशि का लेनदेन किया गया है।
देहरादून के एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि विवेचना के दौरान अपराधियों द्वारा प्रयोग किये गये मोबाइल नंबरों विश्लेषण करने पर पता चला कि वे पश्चिम बंगाल के निकले। जबकि साइबर अपराधियों द्वारा पश्चिम बंगाल के 2 बैंक खातों का प्रयोग करते हुये धोखाधड़ी से 30 लाख की धनराशि स्थानान्तरित की गयी थी। इन बैंक खातों में कुछ माह की अवधि में ही लगभग 1 करोड़ से अधिक की धनराशि का लेनदेन होना पाया गया। प्रकरण में निरीक्षक विकास भारद्वाज के नेतृत्व में एक पुलिस टीम को पश्चिम बंगाल भेजा गया, जिन्होंने आरोपित को चिन्हित कर पश्चिम बंगाल के दूरस्थ जनपद 24 परगना से गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित अनिकेत शातिर किस्म का साइबर अपराधी और मास्टर माइंड भी है। उसके द्वारा विभिन्न राज्यो के कई व्यक्तियो को इसी प्रकार झांसे में लेकर इंटरनेट बैंकिंग का एक्सेस प्राप्त करके ठगी का शिकार बनाया है। इधर एसटीएफ उत्तराखण्ड के प्रभारी ने जनता से अपील की है कि किसी भी अन्जान व्यक्ति द्वारा भेजे गये किसी भी पेमेंट गेटवे, वॉलेट-मोबाईल एप्लीकेशन पर धनराशि प्राप्त करने हेतु क्यूआर कोड स्कैन न करें। कभी भी किसी से अपने डेबिट-क्रेडिट कार्ड की जानकारी शेयर न करें तथा किसी भी प्रकार के धनराशि से संबंधित अन्जान लिंक पर क्लिक न करें, और कोई भी शक होने पर तत्काल निकटतम पुलिस स्टेशन या साईबर क्राईम पुलिस स्टेशन देहरादून से सम्पर्क करें। इसके साथ में जनता को विश्वास दिलाया कि अपराधी किसी भी कोने एवं दिशा में छुप जाए, एसटीएफ एवं साईबर थाना उसे गिरफ्तार करके रहेंगे।

यह भी पढ़ें : पिथौरागढ़ की युवती को असफल फेसबुकिया प्रेम में बागेश्वर के युवक ने मारा नैनीताल से ले जाकर चाकू, गला भी दबाया…

नवीन समाचार, पिथौरागढ़, 30 जनवरी 2021। नगर की एक युवती को फेसबुक पर बागेश्वर के युवक से दोस्ती करना भारी पड़ गया। युवक ने तीन साल से चल रही इस फेसबुकिया दोस्ती को प्यार समझ लिया, और उसने युवती के सामने शादी का प्रस्ताव रखा। युवती ने शादी करने से मना किया तो उसने योजना बनाकर युवती को मारने की साजिश रची और नैनीताल से चाकू ले जाकर पिथौरागढ़ में युवती के पेट में चाकू मार दिया और फरार हो गया। उसका गला दबाने का प्रयास भी किया। अलबत्ता, पुलिस ने मामला दर्ज कर उसे एसओजी की मदद से घटना के कुछ घंटे बाद ही पकड़ लिया। युवती को अस्पताल में भर्ती किया गया है, उसके पेट में 5 टांके आये हैं।
पुलिस के अनुसार, फेसबुकिया प्रेम में असफल रहे बागेश्वर के युवक को युवती द्वारा उसे ठुकराने की बात बुरी लग गई इसलिए उसने युवती को मारने का फैसला लिया। इसलिए वह युवती से मिलने उसके घर पहुंचा। उसने एक बार फिर उसे सालों की दोस्ती और जज्बातों का हवाला देते हुए प्रेम की दुहाई दी, लेकिन युवती ने अपने मन में कभी इस तरह के विचार न होने की बात कह उससे साफ मना कर दिया। इससे भड़के युवक ने युवती के पेट में चाकू मारकर उसे घायल कर दिया, और फरार हो गया। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस और एसओजी ने घेराबंदी कर थल पुलिस की मदद से उसे मुवानी में पकड़ लिया।
पुलिस ने उसके पास से हमले में प्रयुक्त, नैनीताल से लाया गया चाकू भी बरामद कर लिया। युवती के परिजनों की तहरीर पर आरोपी के खिलाफ पिथौरागढ़ थाने में आईपीसी की धारा 324, 504, 506, 307 के तहत मामला दर्ज किया गया। गिरफ्तार करने वाली टीम में एसआई विजय कुमार, संजय सिंह, एसओजी प्रभारी सुरेश सिंह कंबोज, कांस्टेबल उमेश सिंह, गोविंद सिंह शामिल रहे। एसपी पिथौरागढ़ सुखबीर सिंह ने कहा कि युवती को चाकू मारने के आरोपी को घटना के कुछ घंटे बाद ही गिरफ्तार करने में पुलिस और एसओजी की टीम ने सराहनीय कार्य किया है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल की नाबालिग को भारी पड़ा फेसबुकिया प्यार, अस्मत गंवाई, प्रेमी निकला एक बच्ची का पिता…

नवीन समाचार, नैनीताल, 28 जनवरी 2021। किसी भी अनजाने पर आंखें मूंदकर विश्वास करना भारी पड़ सकता है खासकर facebook जैसे सोशल मीडिया माध्यम पर। नगर के निकट के ग्रामीण क्षेत्र की एक नाबालिग किशोरी को ऐसा करने की बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है। उसके शातिर फेसबुकिया दोस्त ने उससे झूठा प्रेम जता कर पहले उसकी अस्मत लूट ली, और जब शादी करने की बात हुई तो खुलासा हुआ है कि वह शादीशुदा ही नहीं एक बच्चे का बाप भी है।
नगर के निकटवर्ती गांव की निवासी नाबालिग किशोरी ने तल्लीताल थाने में शिकायत दर्ज कराई है कि उत्तर प्रदेश के निगोही के रहने वाले युवक रवि कुमार ने उससे सोशल मीडिया के माध्यम से दोस्ती की, और नैनीताल मिलने के लिए आने पर शादी का झांसा देकर मल्लीताल के एक होटल में उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए।
इधर उसे एक महिला का फोन आया। उस महिला ने बताया कि वह रवि की पत्नी है और उनकी एक बच्ची भी है। दरअसल महिला को अपने पति के मोबाइल में चैट देखकर किशोरी से उसके संबंधों का पता चला।
किशोरी ने बताया कि लगी ने उसे अपनी पत्नी को अपनी भाभी बताया था। सच्चाई पता चलने पर जब पीड़िता ने आरोपी से बात करनी चाही तो उसने पीड़िता से बात करना बन्द कर दिया और उसे व उसके परिजनों को जान से मारने की धमकी देने लगा। इससे घबराई पीड़िता ने अब हिम्मत दिखाते हुए अपने परिजनों के साथ तल्लीताल थाने में रवि के खिलाफ तहरीर दी है। इस पर तल्लीताल पुलिस स्टेशन के थानाध्यक्ष विजय मेहता ने बताया की आरोपी के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 376 और 3/4 पाॅक्सो अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। यथाशीघ्र आरोपी की गिरफ्तारी की जाएगी।

यह भी पढ़ें : एसएसपी के बाद अब साइबर अपराधियों ने आईजी कुमाऊं के नाम पर की धोखाधड़ी की कोशिश

-फर्जी फेसबुक खाता बनाकर लोगों से की रुपयों की मांग

नवीन समाचार, नैनीताल, 20 जनवरी 2021। बेख़ौफ़ साइबर अपराधियों ने गत दिनों नैनीताल जनपद के तत्कालीन एसएसपी सुनील कुमार मीणा के फेसबुक खाते जैसा हूबहू दिखने वाला फेसबुक खाता बना दिया था। अब ऐसा ही कुछ कुमाऊं परिक्षेत्र के आईजी, वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी अजय रौतेला के साथ हुआ है।

शातिर साइबर अपराधियों ने आईजी रौतेला की वर्दी वाली फोटो का प्रयोग करते हुए अजय रौतेला एलपीएस नाम से न केवल फेसबुक खाता बना लिया है, वरन उनके नाम से उनके फेसबुक दोस्तों को फेसबुक मैसेंजर से बड़ी धनराशि मांगी जा रही है। पूछे जाने पर आईजी रौतेला ने बताया कि अभी-अभी उनकी जानकारी में भी यह बात आई है। वह अभी देहरादून में हैं और साइबर सेल से इसकी शिकायत करने जा रहे हैं। दिलचस्प बात यह भी है उनके नाम का फर्जी खाता अजय रौतेला एलपीएस के नाम से बनाया गया है। संभवतया खाता अजय रौतेला आईपीएस नाम से बनाने का प्रयास किया गया हो, किंतु जल्दबाजी अथवा किसी अन्य कारण से आईपीएस की जगह एलपीएस लिखा गया है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल : युवतियों को मिल रहीं युवती के नाम से बनी फेसबुक आईडी से अभद्र संदेश व धमकियां

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 अगस्त 2020। नगर के पास मंगोली क्षेत्र निवासी कुछ युवतियों के साथ फेसबुक मैसेंजर पर युवती के नाम से बनी प्रोफाइल से अभद्रतापूर्ण संदेश भेजने एवं युवतियों की गंदी फोटो बनाकर फेसबुक पर अपलोड करने की धमकी देने का मामला प्रकाश में आया है। मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने मामले को साइबर सेल को भेज दिया है।
पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगोली निवासी युवती ने शिकायत दर्ज कराई है तीन दिन पूर्व एक युवती को अंजलि नाम की फेसबुक आईडी से फ्रेंड रिक्वेस्ट मिली। लड़की समझ कर उसने रिक्वेस्ट स्वीकार कर ली। इसके बाद उसे कथित अंजली की ओर से मैसेज आने शुरू हो गए। मैसेज में बात की तो दूसरी ओर से अभद्रतापूर्ण बातें शुरू की गईं। साथ ही एडिट कर युवती की गंदी फोटो बनाकर फेसबुक पर अपलोड करने की धमकी गई। यह बात युवती ने गांव की अपनी अन्य सहेलियों को बताई तो उन्होंने भी इसी तरह की घटना उनके साथ होने की बात कही। इसके बाद युवती शिकायत लेकर मल्लीताल कोतवाली पहुंची। एएसआई सत्येंद्र गंगोला ने बताया कि फेक आईडी बनाया हुआ कोई परिचित ही इसके पीछे हो सकता है। उसके द्वारा युवतियों को उनके पिता के नाम आदि भी बताये गये हैं। जल्द घटना का खुलासा कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें : फर्जी फेसबुक आईडी से रुपयों की मांग

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 मई 2020। नगर के माल्डन कॉटेज निवासी सामाजिक कार्यकर्ता राम सिंह गोसांई के नाम की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर उनके मित्रों से मैसेंजर ऐप के माध्यम से किसी के द्वारा धनराशि की मांग की जा रही है। गोसांई ने इस संबंध में मल्लीताल कोतवाली में लिखित शिकायत दर्ज कर बताया है कि उनकी वास्तविक फेसबुक आईडी ब्लॉक हो चुकी है। अज्ञात व्यक्ति 9050464329 जिसका नाम ट्रूकॉलर पर संजय नयर आ रही है, लोगों को उनके नाम से संदेश भेजकर रुपये मांग रहा है। लिहाजा उन्होंने पुलिस से आरोपित के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।

यह भी पढ़ें : कुमाऊं विवि के कुलपति के नाम से धोखाधड़ी का प्रयास, बैंक खाते में ‘फोन पे’ से गड़बड़ी का आरोप

नवीन समाचार, नैनीताल, 8 मई 2020। कुमाऊं विवि के कुलपति प्रो. केएस राना के नाम से एक अज्ञात ईमेल-oscorodova11@gmail.com के जरिये विवि के प्रोफेसरों से धोखाधड़ी का प्रयास किया गया है। इस मामले में कुलपति प्रो. राना ने जनपद के एसएसपी को पत्र लिखकर कहा है कि उनके नाम व पदनाम का दुरुपयोग न होने पाये, इसलिए संबंधित अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ आईटी एक्ट के तहत कार्रवाई करने की मांग की है।

बैंक खाते में ‘फोन पे’ से गड़बड़ी का आरोप
नैनीताल। नगर के मल्लीताल प्रेम भवन निवासी राजीव लाल साह पुत्र स्वर्गीय लक्ष्मी लाल साह ने अपने पंजाब नेशनल बैंक मल्लीताल बाजार शाखा के खाते में गड़बड़ी का आरोप लगाया है। उन्होंने मल्लीताल कोतवाली में दी गई तहरीर में कहा है कि उनके खाते से ई-कॉम फोन पे प्राइवेट लिमिटेड द्वारा कई बार में 41 हजार 858 रुपए की धनराशि निकाली जा चुकी है। इस पर उन्होंने प्राथमिकी दर्ज कराने की मांग की है। उधर पुलिस मामले की जांच कर कार्रवाई करने की बात कह रही है।

यह भी पढ़ें : पीएम मोदी के नाम पर साइबर ठगी का किया गया प्रयास

नवीन समाचार, नैनीताल, 30 अप्रैल 2020। कोरोना विषाणु की महामारी एवं लॉक डाउन के दौरान साइबर ठग भी सक्रिय हो गये हैं। बृहस्पतिवार को एक ऐसे ही एक साइबर ठग द्वारा 8409384856 नंबर से सूचना विभाग में कार्यरत प्रकाश पांडे को फोन पर उनके एटीएम कार्ड के बारे में जानकारी लेने का प्रयास किया गया। अलबत्ता पांडे ने विवेक का प्रयोग करते हुए जल्दी ही भांप लिया कि उन्हें साइबर ठग द्वारा ठगने का प्रयास किया जा रहा है, इसलिये उन्होंने पहले ही सतर्कता बरतते हुए अपने पास एटीएम कार्ड ही न होने की बात कह साइबर ठग से पीछा छुड़ा लिया। उधर ठग का कहना था कि जिनके पास एटीएम कार्ड है उनके एटीएम कार्ड की जानकारी देने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से लॉक डाउन की वजह से 6000 रुपए की धनराशि दी जा रही है। पांडे ने बताया कि उन्होंने जनपद के एसएसपी को भी इसकी शिकायत की है। एसएसपी सुनील कुमार मीणा ने एसओजी को इस मामले में जांच सोंपने की बात कही है। उन्होंने अन्य लोगों से भी ऐसे फोन आने पर सतर्क रहने की सलाह दी है।
साइबर ठगी के प्रति जागरूक कर रहे हैं अधिवक्ता मिगलानी
नैनीताल। उत्तराखंड उच्च न्यायालय के अधिवक्ता ललित मिगलानी ने बताया कि लॉक डाउन में साइबर ठग लोगों को ठगने के लिए अधिक सक्रिय हो गये हैं। वे स्वयं तथा उनकी संस्था भारतीय जागरूकता समिति के द्वारा लोगों को इंटरनेट के माध्यम से होने वाले लेन-देन एवं साइबर ठगी तथा इससे बचने आदि के बारे में जानकारियां देकर जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने इस संबंध में सोशल मीडिया पर विस्तृत जानकारी भी साझा की है।

यह भी पढ़ें : दिल्ली दंगे: उत्तराखंड टूरिज्म की वेबसाइट हैक, हैकर्स ने दिल्‍ली दंगे को लेकर दी चेतावनी

लिखा- भाइयों को नुकसान पहुंचाने पर चुप नहीं बैठेंगे

नवीन समाचार,देहरादून, 3 मार्च 2020।उत्तराखंड सरकार के टूरिज्म विभाग की वेबसाइट हैक हो गई है। हैकर्स का दावा है कि वे इंडोनेशिया के मुस्लिम हैं और दिल्ली में सीएए हुए दंगों का बदला लेने के लिए उन्होंने यह वेबसाइट हैक की है।

हैकर्स ने भारत सरकार को भी चेतावनी दी है। हैकर्स ने वेबसाइट के सिनॉप्सिस में लिखा है, ‘यह वेबसाइट भारत सरकार को सबक सिखाने के लिए वन हैट साइबर टीम ने हैक की है। दिल्ली में मुस्लिमों पर काफी अत्याचार हुए, जिसमें कई मुस्लिम घायल हुए। जब हमारे भाइयों को नुकसान पहुंचाया गया हो, हम शांत नहीं बैठेंगे।’ हैकर्स ने आगे लिखा है कि हम आपको चेतावनी देते हैं कि प्लीज इसे रोकिए।

यह भी पढ़ें : हाईकोर्ट की महिला अधिवक्ता को अश्लील संदेश भेजने वाला यूपी से गिरफ्तार

नवीन समाचार, नैनीताल, 2 मार्च 2020। उत्तराखंड उच्च न्यायालय की एक महिला अधिवक्ता को फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर अश्लील मैसेज भेजने के मामले में मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने खुर्जा यूपी निवासी व्यक्ति को गिरफ्तार कर साइबर अपराधियों को बड़ा संदेश दिया है। अपराधी चाहे जितना भी शातिर हों, वे कानून से बच नहीं सकते।
उल्लेखनीय है कि नवंबर 2019 में उत्तराखंड उच्च न्यायालय की एक महिला अधिवक्ता को योगी ब्वॉय योगी नाम के फेसबुक अकाउंट से अश्लील मैसेज भेजे गए थे। बताया गया है कि इस मामले में महिला अधिवक्ता की शिकायत पर आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था और कोतवाली प्रभारी अशोक कुमार सिंह ने विवेचना की। सिंह की अगुवाई में कोतवाली के एएसआई सत्येंद्र गंगोला ने फर्जी फेसबुक अकाउंट को ट्रेक कर सोमवार को खुर्जा यूपी जाकर वहां के निवासी योगेश गोस्वामी पुत्र सुंदर गोस्वामी निवासी शिव नगर खुर्जा उससे तीन मोबाइल और अन्य उपकरण जब्त कर उसे गिरफ्तार कर लिया। अलबत्ता उस पर दर्ज मुकदमे में सात वर्ष से कम सजा का प्राविधान होने यानी जमानती अपराध होने के कारण उसे मौके पर ही जमानत मिल गई, लेकिन वह कानून के शिकंजे में आ गया है। उसे न्यायालय में पेश होने के लिए बंध पत्र भरवा दिया गया है।

यह भी पढ़ें : फेसबुक फ्रेंड का फेसबुक हैक कर हैकरों ने पत्रकारों से मांगे रुपए

नवीन समाचार, नैनीताल, 28 जनवरी 2020। फेसबुक हैकरों ने पत्रकारों के एक कॉमन फेसबुक फ्रेंड का फेसबुक अकाउंट कर नगर एवं आसपास के पत्रकारों से रुपए मांग डाले। गनीमत रही कि पत्रकार तो झांसे में नहीं फंसे, अलबत्ता अल्मोड़ा निवासी एक जूनियर इंजीनियर हैकरों के झांसे में फंसकर हैकरों के खाते में चार हजार रुपए जमा कर बैठे। मामले में अब पुलिस में शिकायत दर्ज करने की तैयारी की जा रही है।
हुआ यह कि जिला रेडक्रॉस सोसायटी के पूर्व चेयरमैन विनोद तिवारी का फेसबुक खाता 26 जनवरी की सुबह किसी ने हैक कर लिया और उनकी फ्रेंडलिस्ट में जुड़े नगर के कई पत्रकारों एवं अन्य लोगों से फेसबुक मैसेंजर के माध्यम से खुद को विनोद तिवारी के रूप में पेश कर चैटिंग करते हुए बताया कि उनके यानी तिवारी के एक दोस्त के साथ दुर्घटना हो गई है और वह दिल्ली के अस्पताल में भर्ती है। दोस्त के उपचार के लिए आर्थिक मदद की मांग की गई। पत्रकार तो हैकरों के झांसे में नहीं फंसे और ज्योलीकोट के पत्रकार कैलाश जोशी ने श्री तिवारी को फोन कर सत्यता पता करनी चाही। इसके बाद तिवारी ने अपने फेसबुक मित्रों को उनका फेसबुक अकाउंट हैक होने की जानकारी देकर किसी झांसे में न फंसने की हिदायत दी, अलबत्ता इस बीच पता चला कि उनके अल्मोड़ा के जूनियर इंजीनियर मित्र राजबीर राणा ने हैकरों के झांसे में फंसकर उनके द्वारा भेजे गए बैंक खाते में चार हजार रुपए जमा करा दिये। तिवारी आज पुलिस में इस बाबत शिकायत दर्ज कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : पति की फेसबुक आईडी हैक कर पत्नी को भेजे अभद्र संदेश, मामला दर्ज

नवीन समाचार, काशीपुर, 13 जनवरी 2020। हैकर के द्वारा नगर के एक युवक की फेसबुक आइडी हैक कर उसकी पत्नी को मैसेंजर के माध्यम से अभद्र संदेश भेजने, जान से मारने की धमकी देने एवं ब्लैकमेल करते हुए 15 हजार रुपये रंगदारी मांगने का मामला प्रकाश में आया है। मामले में पुलिस ने युवक द्वारा सीएम समाधान पोर्टल पर की गई शिकायत के आधार पर अज्ञात हैकर के खिलाफ जान से मारने की धमकी व आइटी एक्ट की धारा 506 व 66 सी के तहत मामला दर्ज कर मामले में जांच शुरू कर दी है।
शहर के मोहल्ला कानूनगोयान निवासी युवक अमित नागर ने कोतवाली में तहरीर देकर बताया कि नौ जनवरी को किसी ने उसकी फेसबुक आइडी हैक कर उसी की पत्नी को फेसबुक मैसेंजर पर अभद्र मैसेज भेजे। यही नहीं पत्नी से 15 हजार रुपए की रंगदारी मांगी और रुपये न देने पर फेसबुक आइडी से लोगों से पैसों की नाजायज मांग कर फंसवा देने और फेसबुक से पारिवारिक फोटो लेकर उन फोटो का दुरुपयोग करने की धमकी दी। मामले की विवेचना कोतवाल चंद्रमोहन सिंह रावत कर रहे हैं।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply