Crime

साइबर अपराध : नैनीताल के दो लोगों को लगा 15-15 हजार रुपए का चूना

नवीन समाचार, नैनीताल, 4 दिसंबर 2022। साइबर अपराध नई समस्या और चुनौती बनकर उभर रहे हैं। बीते 24 घंटों में नगर के दो लोग साइबर अपराधियों की कारस्तानियों से 15-15 हजार रुपए गंवा बैठे हैं। ऐसे में ऑनलाइन माध्यम का प्रयोग करने व खासकर कोई भी भुगतान करने से पहले सोचने-समझने और पता न होने पर जानकारों या संबंधितों से पुष्टि करके ऐसी स्थितियों से बचा जा सकता है। यह भी पढ़ें : कारोबारी युवती से उसके कारोबारी पार्टनर व उसके सगे भाई सहित तीन लोगों ने किया सामूहिक दुष्कर्म…

पहला मामला नगर के मल्लीताल सैनिक स्कूल निवासी हरीश रौतेला के साथ हुआ। हरीश ने गत दिवस ओएलएक्स के माध्यम से एक मोबाइल खरीदा। इसके लिए पहले 200 और कोरियर से पैकेट मिलने के बाद तय की गई 15 हजार रुपए की धनराशि का भुगतान कर दिया। लेकिन पैकेट खोलने पर मोबाइल नकली निकला। इसके बाद उसने ओएलएक्स पर दिए गए नंबर पर संपर्क किया, तो उसे बताया गया कि वह मोबाइल को वापस भेज दे, उसे दूसरा सही मोबाइल भेजा जाएगा, लेकिन दूसरा मोबाइल नहीं आया, और संबंधित मोबाइल नंबर भी बंद हो गया। ऐसे में ठगी का अहसास होने पर पीड़ित ने मल्लीताल कोतवाली में संपर्क किया। यह भी पढ़ें : जिलाधिकारी ने 13 विभागों को जारी किए 9 करोड़ 94 लाख रुपए से अधिक, जानें क्यों और किन्हें

वहीं दूसरे मामले में मल्लीताल के स्नोडन कंपाउंड निवासी शिक्षक कुंदन राम की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर उनके परिचितों से पैसों की मांग की गई। उनके एक परिचित अनिल कुमार ने इस झांसे में 15 हजार रुपए दे भी दिए। जब उसने फोन कर कुंदन राम से इसकी पुष्टि करनी चाही तो इस फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ। कोतवाली दोनों मामलों को साइबर सेल को भेजकर जांच कराने की बात कह रही है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : युवती का भारी पड़ा बैंक खाते को मोबाइल से न जोड़ना, सवा लाख से अधिक उड़ गए और…

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 नवंबर 2022। आज के दौर में जहां मोबाइल नंबर से लेकर फोन नंबर और अब बिजली का संयोजन कटने जैसे झांसे देकर साइबर अपराधियों को भोली-भाली जनता की खून-पसीने की कमाई को उड़ा रहे हैं, वहीं उपभोक्ताओं की अपनी गलतियां भी भारी पड़ रही हैं। यह भी पढ़ें : दूसरी शादी रचा रहा था महिला ग्राम प्रधान का पति, तभी पहुंच गई प्रधान पत्नी और…

अब नगर के मल्लीताल निवासी एक युवती को बैंक खाते को अपने मोबाइल नंबर से न जोड़ना भारी पड़ गया। उसके खाते से 1.3 लाख रुपये कई बार में निकाल लिए गए और उसे इसके संदेश भी नहीं आए। पीड़ित ने बैंक प्रबंधन तथा पुलिस से इसकी शिकायत कर अपनी धनराशि वापस दिलाने अन्यथा बैंक खाता बंद करने की गुहार लगाई है। यह भी पढ़ें : पंजाब में उत्तराखंड के 26 वर्षीय युवक की चाकू मारकर हत्या

प्राप्त जानकारी के अनुसार युवती बैंक में अपने पासबुक में एंट्री कराने गयी तो उसे पता चला कि उसके खाते से कई बार में एक लाख तीस हजार रुपए रुपये निकाले गए हैं। उसका मोबाइल नंबर उसके बैंक खाते से जुड़ा नहीं है। इसलिए उसे इसके मैसेज भी नहीं आए। यह भी पढ़ें : पंजाब में उत्तराखंड के 26 वर्षीय युवक की चाकू मारकर हत्या 

इस पर उसने बैंक प्रबंधन को रुपए वापस दिलाने या खाता बंद करने का प्रार्थना पत्र दिया। साथ ही पुलिस को प्रार्थना पत्र देकर रुपए वापस दिलाने की गुहार लगाई गई है। कोतवाल प्रीतम सिंह के अनुसार मामले को जांच के बाद साइबर सेल को भेजा जा सकता है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : साइबर सेल ने लौटाई ऑनलाइन ठगी गई 6.55 लाख की धनराशि….

नवीन समाचार, नैनीताल, 29 अक्तूबर 2022। नैनीताल पुलिस के साइबर सेल ने दो लोगों को उनसे ऑनलाइन ठगी गई 6.55 लाख की धनराशि वापस लौटाकर संबंधित लोगों को गदगद कर दिया है। यह भी पढ़ें : अजब मामला : चोरों ने रात्रि में दुकान का गल्ला तोड़कर उड़ाए 9 लाख रुपए, पर सुबह दुकान में होने लगी नोटों की बारिश….

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिला मुख्यालय के मल्लीताल निवासी सुनीता आर्य निवासी के बैंक खाते से किसी अज्ञात व्यक्ति ने अनधिकृत तरीके से एक लाख 77 हजार 328 रुपए, बनभूलपुरा हल्द्वानी निवासी नाजिम के क्रेडिट कार्ड से 92 हजार रुपए एवं हल्द्वानी निवासी नवीन चन्द्र सुयाल के बैंक खाते से पांच लाख 24 हजार 987 रुपए निकाल लिए गए थे। उनके द्वारा पुलिस में एवं साइबर सेल के टॉल फ्री नंबर 1930 पर इसकी शिकायत की गई। यह भी पढ़ें : नैनीताल: घर से स्कूल को निकली छात्रा बीते 10 दिनों से गायब….

इस पर साइबर सेल ने त्वरित कार्रवाई करते हुए सुनीता आर्य को 63558.14 रुपए, नाजिम को पूरे 92 हजार एवं नवीन चंद्र सुयाल को पांच लाख रुपए की धनराशि वापस करा दी है। अपनी धनराशि वापस प्राप्त करने से गदगद लोगों ने नैनीताल पुलिस का आभार जताया। पुलिस टीम में साइबर सेल के प्रभारी निरीक्षक संजय कुमार, उप निरीक्षक विजय कुमार व आरक्षी अरविंद बिष्ट शामिल रहे। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : एक पूर्व अधिकारी से पेंशन से संबंधित मामलों के जरिए धोखाधड़ी कर बैंक खाते से साढ़े 10 लाख रुपए उड़ाए, आएं ऐसे फोन तो क्या करें, यहां से लें जानकारी

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 27 अक्तूबर 2022। कोषाधिकारी कार्यालय की सावधानी बरतने की अपीलों के बाद भी पेंशन के नाम पर पेंशनरों से ठगी के मामले आते जा रहे हैं। यहां तक कि बड़े अधिकारी भी इसकी चपेट में आ रहे हैं। ताजा मामला बेस चिकित्सालय हल्द्वानी के पूर्व एमएस यानी चिकित्सा अधीक्षक डा. हरीश लाल के साथ सामने आया है। साइबर ठगों ने कोषाधिकारी बनकर उन्हें पेंशन व रिटायरमेंट की जानकारी देकर झांसे में लिया और उनके बैंक खाते से 10.5 लाख रुपये निकाल लिए। पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर मामला साइबर सेल को सौंप दिया है। यह भी पढ़ें : पुलिस ने ब्यूटी पार्लर में सेक्स रैकेट चलने की सूचना पर मारा छापा, माजरा निकला कुछ और फिर हंगामे के बाद हुआ मामले का सुखद पटाक्षेप…

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार डा. लाल को गत 24 अक्टूबर की सुबह मोबाइल पर अज्ञात नंबर से फोन आया। फोन करने वाले ने खुद को ट्रेजरी अधिकारी बताकर उनके इंप्लाई कोड व रजिस्ट्रेशन नंबर आदि की पेंशन व सेवानिवृत्ति की पूरी जानकारी के साथ बात करते हुए चार फार्म मोबाइल नंबर पर भरकर भेजने तथा अन्य औपचारिकताएं पूरी करने को कहा। यह भी पढ़ें : शादी के बाद भी मिलते रहे प्रेमी-प्रेमिका, आज मिले तो रंगे हाथों पकड़े गए और हो गया तमाशा…

यह औपचारिकताएं पूर्ण करते ही एक संदिग्ध लिंक खुद ही उनके फोन पर डाउनलोड हो गया और उनकी समस्त जानकारी ठग के पास पहुंच गई। इसके बाद 25 अक्टूबर को उनके खाते से 10.5 लाख रुपये कट गए। कोतवाल हरेंद्र चौधरी ने बताया कि अज्ञात पर धोखाधड़ी की धारा में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है, और मामला साइबर सेल को भेजा गया है। रुपये किस खाते में ट्रांसफर हुए, इसकी जानकारी जुटाई जा रही है। यह भी पढ़ें : नौकरी दिलाने के नाम पर 1 करोड़ की ठगी, नेता है आरोपित

इस घटना के बाद मुख्य कोषाधिकारी दिनेश राणा ने जिले के सभी पेंशनरों को सचेत किया है और कहा कि ट्रेजरी की ओर से किसी भी पेंशनर को फोन कर कोई जानकारी नहीं मांगी जाती है। अगर किसी के पास ऐसा कोई फोन आता है तो वह मुख्य कोषाधिकारी नैनीताल के 9997917888, कोषाधिकारी हल्द्वानी के 9917612951, उपकोषाधिकारी कालाढूंगी के 9997208445, रामनगर के 9012373850, धारी के 8057646269, कोश्यां-कुटौली के 8077391937 व बेतालघाट के 9528202775 नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

नैनीताल : यह भी पढ़ें : ऑनलाइन शॉपिंग में विशेष ऑफर के झांसे में युवती ने गंवाए 10 हजार रुपए…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 27 सितंबर 2022। नगर की एक युवती से ऑनलाइन शॉपिंग पर विशेष ऑफर के झांसे में दस हजार रुपये की ऑनलाइन ठगी होने का मामला प्रकाश में आया है। युवती की शिकायत पर मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने अज्ञात के विरुद्ध अभियोग दर्ज कर लिया है, और मामले को साइबर सेल को संदर्भित कर दिया है।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार मल्लीताल निवासी युवती ने पुलिस को शिकायती पत्र देकर कहा है, कि उसे एक कंपनी से फोन पर पांच हजार रुपए की ऑनलाइन शॉपिंग करने पर विशेष ऑफर मिलने की बात कही गई। इस पर उसने खरीददारी कर ऑनलाइन भुगतान किया तो खाते से 5 हजार की जगह 5165 रुपये कट गए। इस पर उसने शेष रुपये वापस लौटाने की मांग की तो संबंधित ने गूगल पे के माध्यम से रिफंड करने की बात कहते हुए धनराशि दर्ज कर रिफंड कोड दर्ज करने को कहा। इस पर उसके खाते से फिर 5165 रुपये और कट गए। इस प्रकार उससे 10 हजार 330 की ठगी कर ली गई है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : युवती की इंस्टाग्राम आईडी हैक

नवीन समाचार, नैनीताल, 23 अगस्त 2022। नगर के मल्लीताल क्षेत्र निवासी एक युवती की इंस्टाग्राम आईडी हैक किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। युवती ने मल्लीताल कोतवाली में तहरीर देकर कहा है कि कोई अज्ञात व्यक्ति उसकी इंस्टाग्राम आईडी हैक कर उसका नाम बदलकर इस्तेमाल कर रहा है।

उसकी आईडी से कई दोस्तों को संदेश भी भेजे जा रहे हैं। लिहाजा युवती ने पुलिस से उसकी इंस्टाग्राम आईडी को बंद कर आरोपित के विरुद्ध कार्रवाई करने की मांग की है। कोतवाल प्रीतम सिंह ने बताया कि मामले को साइबर सेल को जांच के लिए भेजा जा रहा है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल नगर पालिका के पूर्व सभासद का फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर मांगे जा रहे रुपए

सभासद डीएन भट्ट के फर्जी फेसबुक खाते से इस तरह मांगे गए रुपए।डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 28 जुलाई 2022। नैनीताल नगर पालिका के पूर्व सभासद डीएन भट्ट का फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाया गया है, और इससे वर्तमान सभासद तथा एक पत्रकार सहित कई लोगों से फेसबुक मैसेंजर के माध्यम से रुपए मांगे गए हैं। जानकारी लगने के बाद श्री भट्ट ने फर्जी अकाउंट को ‘रिपोर्ट’ कर ब्लॉक करवा दिया है, और अपने फेसबुक पर जुड़े दोस्तों से किसी के बहकावे में न आने और रुपए न देने की अपील की है।

नगर के कृष्णापुर वार्ड से दो बार सभासद रहे श्री भट्ट ने बताया कि बीती रात्रि से उन्हें कई लोगों ने फेसबुक मैसेंजर के माध्यम से रुपए मांगे जाने के कारण हाल-चाल पूछने के लिए फोन किया। इनमें नगर पालिका के सभासद, पत्रकार और अधिकारी भी शामिल हैं। इससे वह काफी परेशान रहे और लोगों से किसी को भी उनके नाम से रुपए न देने की अपील की। साथ ही पुलिस के अधिकारियों से बात कर संबंधित फर्जी फेसबुक खाते को रिपोर्ट कर ब्लॉक करवा दिया है। नगर कोतवाल प्रीतम सिंह ने कहा कि मामले में शिकायत मिलने पर साइबर सेल को भेजा जाएगा।

इस तरह फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर मांगे जाते हैं रुपए
नैनीताल। उत्तराखंड में डीजीपी से लेकर डीआईजी कुमाऊं, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष, कई डीएम व एसएसपी आदि के भी फर्जी फेसबुक खाते बनाकर रुपयों की मांग की जा चुकी है। इसमें फर्जीवाड़ा करने वाले लोग फेसबुक खाताधारक के फोटो को डाउनलोड कर अपने मोबाइल नंबर या ईमेल पते से उसी के नाम से नया फर्जी खाता बनाते हैं।

इससे संबंधित व्यक्ति के फेसबुक से जुड़े दोस्तों को फिर से फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजते हैं। इन फ्रेंड रिक्वेस्ट को स्वीकार करने वाले लोगों को कुछ समय बाद फेसबुक मैसेंजर के माध्यम से कोई आपातकालीन समस्या बताकर रुपये मांगे जाते हैं। इस प्रकार फेसबुक खाते हैक नहीं किए जाते हैं, बल्कि नाम और फोटो का प्रयोग कर फर्जी फेसबुक खाते बनाए जाते हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नौकरी के नाम पर युवक से 2.3 लाख की ऑनलाइन धोखाधड़ी

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 9 जुलाई 2022। नगर का एक युवक से नौकरी के नाम पर 2 लाख 30 हजार रुपए की ऑनलाइन ठगी का शिकार हुआ है। पीड़ित ने मल्लीताल कोतवाली में शिकायती पत्र देकर जांच कर कार्रवाई की मांग की है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मुख्यालय के निकटवर्ती ग्राम सौड़ बगड़ निवासी नीरज बिष्ट नगर के एक होटल में वेटर की रूप में कार्य करता है। नीरज ने बताया कि उसने इंटरनेट पर एक एयरपोर्ट पर आकर्षक पैकेज के साथ नौकरी का विज्ञापन देखा, और विज्ञापन के साथ दिए गए मोबाइल नंबर पर संपर्क किया तो उसे पंजीकरण के लिए ढाई हजार रुपए गूगल पे करने को कहा गया।

इसके बाद उसको नौकरी दिए जाने का आश्वासन देते हुए कई बार में कुल 2 लाख 30 हजार की धनराशि जमा करा ली। इसके बाद उसे ठगी का अहसास हुआ। बताया कि अब दूसरी ओर से संपर्क नहंी हो रहा है। इस पर उसने परिजनो के साथ मल्लीताल कोतवाली में शिकायत दर्ज करायी। कोतवाली प्रभारी प्रीतम सिंह ने बताया कि मामले केा साइबर सेल को भेजा जा रहा है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : जज साहब से डेढ़ लाख रुपए की साइबर धोखाधड़ी

उत्तराखंड : साइबर ठगों ने शातिर अंदाज में जिला जज से की जालसाज़ी,मुकदमा  दर्ज.. - GKM Newsनवीन समाचार, हरिद्वार, 27 जून 2022। उत्तराखंड में साइबर अपराधियों के द्वारा एक न्यायाधीश को अपना शिकार बनाने का मामला प्रकाश में आया है। हरिद्वार के अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश अनिरुद्ध भट्ट के ह्वाट्सएप नंबर पर सोमवार सुबह उनके एक परिचित के फोटो लगे नंबर से एक मैसेज आया, और उनसे 10 हजार रुपये के 15 अमेजन-पे के ई-गिफ्ट कार्ड मांगे गए।

मैसेज में उसका पैसा शाम तक वापस करने की बात लिखी थी। इस पर श्री भट्ट ने गिफ्ट कार्ड खरीद कर उसका लिंक वॉट्सऐप पर मैसेज कर दिया। इस तरह उनके खाते से डेढ़ लाख रुपये गायब हो गए। बाद में नंबर की जांच करने पर वह फर्जी निकला। और यह भी पता चला कि उनके परिचित ने उनको कोई मैसेज नहीं भेजा था।

तब एडीजे ने सिडकुल थाने में तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराया। सिडकुल थाना प्रभारी प्रमोद उनियाल ने बताया कि धोखाधड़ी की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। बताया जा रहा है कि व्हाट्सएप नंबर पर अपर जिला जज के परिचित का  हुआ था। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : फिर साइबर अपराधियों के निशाने पर उत्तराखंड के डीजीपी, उनकी फोटो लगी प्रोफाइल से मांगे जा रहे रुपए

Imageनवीन समाचार, देहरादून, 16 जून 2022। उत्तराखंड में साइबर अपराधी ठगी करने के लिए नए-नए हथकंडे अपना रहे हैं। पुलिस महकमा के मुखिया यानी उत्तराखंड के डीजीपी भी लगातार साइबर अपराधियों के निशाने पर है। ताजा मामला यह है कि साइबर अपराधी उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार का फोटो अपने व्हाट्सएप प्रोफाइल पर लगाकर लोगों को मैसेज भेज रहे हैं। ऐसे में डीजीपी अशोक कुमार ने भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट से ऐसे साइबर अपराधियों से सचेत रहने की अपील की है।

डीजीपी अशोक कुमार ने अपने ट्विटर हैंडल पर एक संदेश लिखा है। जिसमें उन्होंने कहा है ‘अभी-अभी मेरे संज्ञान में लाया गया है कि कुछ साइबर अपराधियों द्वारा व्हाट्सएप प्रोफाइल पर मेरी फोटो लगाकर लोगों को मैसेज भेजे जा रहे हैं। ये साइबर फ्रॉड का नया तरीका है। कृपया इस फ्रॉड में न आएं। इस सम्बन्ध में थ्प्त् कराकर वैधानिक कार्यवाही की जा रही है।’ इस मामले में साइबर थाने में अज्ञात के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। जिसके बाद पुलिस आरोपित की तलाश में जुट गई।

यह भी पता चला है कि प्रारंभिक जांच में उत्तराखंड डीजीपी का फोटो साइबर क्रिमिनल द्वारा अपने व्हाट्सएप प्रोफाइल में इस्तेमाल कर लोगों को मैसेज और बात करने वाला मोबाइल नंबर कर्नाटक के बेलगांव ग्रामीण इलाके का निकला हैं। बताया जा रहा है कि यह नंबर किसी गरीब किसान का है। जांच में पता चला है कि संबंधित किसान के पास स्मार्टफोन नहीं है और वह व्हाट्सएप नहीं चलाता है, लेकिन उसका नंबर हैक कर व्हाट्सएप में इस्तेमाल कर साइबर अपराधियों ने यह कारनामा किया है। पुलिस मामले की पूरी जांच में जुटी है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल : पुलिस की नगर में प्रवेश के लिए बुकिंग की शर्त पड़ी भारी, ऑनलाइन ठगी का शिकार हुआ सैलानी….

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 7 जून 2022। सरोवरनगरी में एक बार फिर एक होटल की ऑनलाइन बुकिंग के नाम पर ठगी का मामला प्रकाश में आया है। पूर्व मे भी साइबर ठगों के निशाने पर रहे नगर के होटल लॉ निवासा की फर्जी वेबसाइट के जरिए एक सैलानी से एडवांश बुकिंग के नाम पर 9 हजार रुपए की ठगी किए जाने की शिकायत दर्ज कराई गई है। पुलिस ने मामला साइबर सेल को संदर्भित कर दिया है।

रामनगर निवासी सैलानी बृजेश ने बताया कि उसने नगर में अपने वाहन का प्रवेश पाने के उद्देश्य से होटल लॉ निवासा में 9 हजार रुपए एडवांस देकर कमरा बुक किया था। लेकिन जब वह मंगलवार सुबह वह होटल पहुंचे तो होटल कर्मियों ने उनकी कोई भी बुकिंग नहीं होने की बात कही। यह सुन उनकी होटल कर्मियों से काफी देर बहस भी हुई। मगर धोखाधड़ी की बात सामने आने के बाद उन्होंने 112 के माध्यम से पुलिस से शिकायत की। उधर थाना प्रभारी प्रीतम सिंह की ओर से बताया गया है कि मामले को साइबर सेल को भेज दिया गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : होटल की ऑनलाइन बुकिंग के नाम से फिर फर्जीवाड़ा

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 1 जून 2022। ग्रीष्मकालीन पर्यटन सीजन के दौरान नैनीताल के होटल साइबर अपराधियों के निशाने पर हैं। एक और सैलानी नगर के एक होटल में बुकिंग के नाम पर ठगी होने का मामला सामने आया है। इससे बड़ी बात यह भी ऐसी गतिविधियों से नगर के होटल व्यवयायियो की छवि भी खराब हो रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार शिवालिक होम्स ग्रेटर नोएडा निवासी रोहित कुमार ने मल्लीताल कोतवाली में तहरीर देकर कहा है कि उन्होंने इंटरनेट पर विला एस्टोरिया होटल में बुकिंग की थी। वेबसाइट पर दिए गए नंबर से मिले निर्देशो पर छह हजार रुपये भी जमा करा दिए। लेकिन जब वह नैनीताल आकर होटल में पहुंचे तो वहां बताया गया कि उनके नाम से एडवांस में कोई बुकिंग नहीं है।

वेबसाइट में दिया गया नंबर भी उनका नहीं है। अब वह नंबर भी नहीं उठ रहा है। कोतवाल प्रीतम सिंह ने बताया कि शिकायती पत्र को साइबर सेल को भेज दिया गया है। उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व भी नगर के होटलों की ऑनलाइन बुकिंग के कई फर्जीवाड़े सामने आ चुके हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पुलिस कह रही ऑनलाइन बुकिंग लाओ, ठगों ने बुकिंग के लिए फर्जी वेबसाइट बना ली…!

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 26 मई 2022। ऑनलाइन की ओर बढ़ती दुनिया में नई समस्याएं भी उत्पन्न हो रर्ही हैं। खासकर पर्यटन नगरी नैनीताल में जहां प्रशासन सैलानियों से पहले से बुकिंग की पर्ची दिखाकर ही नगर में आने देने की बात कहती है, और बुकिंग की पर्ची ऑनलाइन बुकिंग में ही मिलती है। लेकिन इस ऑनलाइन बुकिंग में धोखाधड़ी के अनेक मामले लगातार सामने आ रहे हैं।

ताजा मामले के अनुसार नगर के मल्लीताल स्थित होटल ला निवासी के महाप्रबंधक प्रशांत पांडे ने मल्लीताल कोतवाली पुलिस को तहरीर देकर बताया है कि ठगों ने उनके होटल की एक नई वेबसाइट बना दी है। जिसमें होटल स्वामी की जगह अन्य मोबाइल नंबर लगाया गया है। इन नंबरों पर पर्यटकों से बुकिंग लेने के साथ ही उनसे रुपए भी ट्रांसफर कराने की कोशिश की जा रही है।

इससे उनके होटल में बुकिंग चाहने वाले पर्यटकों के साथ ठगी का अंदेशा है और इससे उनके होटल की छवि को भी नुकसान पहुंचने का अंदेशा है। इसलिए उन्होंने होटल की वेबसाइट के दुरुपयोग को रोकने की गुहार लगाई है। नगर कोतवाल प्रीतम सिंह ने कहा कि मामले को साइबर यूनिट को भेज दिया है। तथ्यों के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : ऑनलाइन लोन के झांसे में लड़की से 6.19 लाख की साइबर ठगी, छेड़छाड़ कर अश्लील फोटो भी वायरल की…

सावधान! झारखंड में साइबर क्राइम का नया तरीका, लड़कियों की अश्लील तस्वीरें  भेजकर की जा रही है ठगी, जानिए पूरा मामलानवीन समाचार, देहरादून, 13 मई 2022। इंटरनेट जितना सुविधाएं उपलब्ध कराने वाला है, उतना ही इस पर लुटने-धोखाधड़ी होने की भी संभावना है, लिहाजा बहुत संभलकर कार्य करने की आवश्यकता है। राजधानी के पटेलनगर क्षेत्र की एक युवती से ऑनलाइन ऐप के जरिये 6.19 लाख रुपये की साइबर ठगी होने और और उसकी फोटो से छेड़छाड़ करके अश्लील वायरल करने का मामला प्रकाश में आया है। पीड़िता की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी है।

पटेलनगर थाने के प्रभारी निरीक्षक रविंद्र यादव के अनुसार पीड़िता की शिकायत है कि 13 जनवरी को उसके मोबाइल पर एक कॉल आई। फोन करने वाले ने उसे छह हजार रुपये का लोन दिलाने का ऑफर दिया। इसके बाद युवती उस व्यक्ति द्वारा बताए गए कंपनी के ऑनलाइन ऐप से एक-दो बार मामूली धनराशि के लोन लेती और चुकाती गई।

इधर एक दिन भुगतान करने में देरी होने के बाद कंपनी की ओर से उसकी फोटो से छेड़छाड़ करके उसे उसके परिचितों को भेज दिया। युवती का आरोप है कि इस ऑनलाइन ऐप ने उसके साथ 6.19 लाख रुपये की धोखाधड़ी की है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल: मंदिर के पुजारी के बैंक खाते से 1.2 लाख रुपए उड़ाए

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 19 अप्रैल 2022। साधना-ध्यान के केंद्र मंदिर-धार्मिक स्थलों में लोग लोभ-मोह, धोखाधड़ी से बाज नहीं आते। नैनीताल जनपद के भक्तिधाम नौकुचियाताल पहुंचे दंपत्ति पर गूगल पे सिखाने के नाम पर मंदिर के पुजारी के खाते से 1.20 लाख रुपए अपने खाते में ट्रांसफर कराने का मामला प्रकाश में आया है। मंदिर के पुजारी जगदीश पांडे ने पुलिस में तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है।

पुजारी ने पुलिस को दी तहरीर में कहा है कि पिछले दिनों भक्तिधाम में आए एक ने ‘गूगल पे’ सिखाने की बात कहकर मोबाइल मांगा। इस बीच उन्होंने गूगल पे डाउनलोड कर खाते से 1.20 लाख रुपये अपने खाते में ट्रांसफर कर लिए और वहां से चले गए। उन्हें उनके जाने के बाद जब धोखाधड़ी का पता चला। पुजारी ने ऑनलाइन साइबर क्राइम में भी इसकी सूचना दी है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में गूगल के नाम पर होटलों की बुकिंग के जरिए साइबर ठगी का नया फर्जीवाड़ा

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 13 अप्रैल 2022। प्रतिष्ठित गूगल कंपनी के माध्यम से होटलों की बुकिंग कर धनराशि ले लिए की साइबर ठगी का नया फर्जीवाड़ा प्रकाश में आया है। इस मामले में नैनीताल होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष दिनेश साह ने जनपद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट को ज्ञापन भेजकर कहा है कि प्रतिष्ठित गूगल कंपनी के नाम पर लोग ठगी का शिकार हो रहे हैं।

साइबर ठगों के द्वारा गूगल की वेबसाइट का इस्तेमाल कर होटलों के नाम से बुकिंग की जा रही है, व अग्रिम भुगतान लिया जा रहा है। लेकिन यह होटल मालिकों व प्रबंधकों के संज्ञान में नहीं होता है। ग्राहकों को होटल की ओर से बुकिंग होने का मेल भी भेजा जा रहा है। इसलिए जब ग्राहक फर्जी तरीके से बुकिंग के बाद होटल में पहुंचते हैं तो होटल में उनका विवाद भी हो रहा है। लिहाजा मामले की जांच कर ठगी करने वालों के विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की मांग की गई है।

इस मामले में पूछे जाने पर एसएसपी पंकज भट्ट ने कहा कि उनके पास तक शिकायत नहीं पहुंची है। होटल मालिक इस मामले में पुलिस थाने में जाकर शिकायत दर्ज कराएं तो मुकदमा लिखा जाएगा और साइबर सेल से मामले की पूरी जांच कराई जाएगी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल: होटल व्यवसायी से गूगल के नाम पर धोखाधड़ी

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 9 अप्रैल 2022। नगर के एक होटल का गूगल के नाम पर फर्जी खाता बनाकर उसके जरिए धोखाधड़ी किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। महिला होटल व्यवसायी प्रीति पाल आहूजा ने मल्लीताल कोतवाली में तहरीर देकर कहा है कि गत 1 अप्रैल को खुद को गूगल का प्रतिनिधि बताकर किसी व्यक्ति ने उनसे खाते की पुष्टीकरण के लिए उनसे ओटीपी मांग लिया।

जब उन्हें ठगी का अहसास हुआ तो उन्होंने तत्काल अपना बैंक खाता सीज करवा दिया। लेकिन उसके बाद उनके परिचितों से उनके नाम पर धनराशि मांगने तथा कुछ लोगों के द्वारा उनके होटल में कमरा बुक कराने के लिए धनराशि ऑनलाइन जमा करने की बात कही जा रही है। जबकि उन्हें कोई धनराशि नहीं मिली है। कोतवाल प्रीतम सिंह ने बताया कि मामला साइबर क्राइम सेज को भेजा जा रहा है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : युवक को भारी पड़ा महिला को ह्वाट्सएप पर अश्लील संदेश भेजना

नवीन समाचार, चंपावत, 6 अप्रैल 2022। व्हाट्सएप पर किसी को गलत तरीके से संदेश भेजना जेल की हवा खिला सकता है। एक युवक इसी तरह व्हाट्सएप पर एक शिक्षिका को अश्लील भेज रहा था। शिक्षिका ने इसकी शिकायत पुलिस से की। पुलिस ने साइबर सेल के माध्यम से युवक की पहचान कर ली और उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर उसे गिरफ्तार कर लिया है। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार टनकपुर थाने में एक महिला शिक्षिका ने 112 पर व सीओ टनकपुर को शिकायती पत्र भेजकर कहा था कि एक अज्ञात व्यक्ति उन्हें उनके व्हाट्सएप नंबर पर बार-बार संदेश भेज कर परेशान कर रहा है। शिकायत पर सीओ टनकपुर अविनाश वर्मा ने साइबर सेल को युवक का पता लगाने के निर्देश दिए।

इस पर साइबर सेल महिला शिक्षिका को अश्लील संदेश भेजने वाले अमर सिंह बिष्ट पुत्र मोहन सिंह बिष्ट निवासी ग्राम तुमराड़ीगोठ टनकपुर तक पहुंच गई और उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस का कहना है कि अन्य लोगों को भी शिक्षिका की तरह आगे आकर ऐसे लोगों को सबक सिखाना चाहिए। युवतियों, किशोरियों को ऐसे लोगों से डरने की जरूरत नहीं है। डरने की जगह पुलिस को सूचना दें और डर से मुक्त होवें। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : साइबर ठगों का नया कारनामा : नए तरीके से हल्द्वानी के युवक को पौने 4 लाख का चूना लगाया

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 25 फरवरी 2022। साइबर युग मे ऑनलाइन ठगी के नित नए प्रयोग नजर आ रहे हैं। हल्द्वानी के मुखानी क्षेत्र में रहने वाले एक युवक की कस्टमर आईडी के माध्यम से ठगों ने उसके नाम से लोन के लिए ऑनलाइन आवेदन किया। जब पीड़ित के खाते में रकम आ गई तो ठग ने युवक को फोन कर बताया कि उसने गलती से उनके खाते में रकम ट्रांसफर कर दी है। युवक ठगों के झांसे में आ गया। इस दौरान ठगों ने उससे 3.78 लाख रुपये ठग लिए। ठगों ने यह रकम मोबाइल एप के माध्यम से ट्रांसफर कराई। पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

पीड़ित कमल पांडे जागृति विहार कॉलोनी में रहते हैं। बीते 8 जनवरी को उनके पास एक अज्ञात नंबर से कॉल आया। कॉलर ने कमल से कहा कि गलती से उसके आईसीआईसी बैंक वाले खाते में 3 लाख 78 हजार रुपये ट्रांसफर हो गए हैं। वह यह रकम उसे आई मोबाइल एप के माध्यम से उसके खाते में ट्रांसफर कर दे। पीड़ित ने अपना अकाउंट चेक किया तो उसमें नगदी दिखाई दी। इसी कारण कमल को ठग पर भरोसा हो गया।

कमल ने ठग को पूरी रकम वापस कर दी। बाद में कमल को पता चला कि उनके खाते में जो रकम थी, वह उनके खाते से पर्सनल लोन के रूप में ली गई थी। जिसके लिए उन्होंने कभी आवेदन ही नहीं किया था। बैंक ने भी इस संबध कभी कोई कॉल नहीं की। जांच में पता चला कि साइबर ठग ने ही पीड़ित की कस्टमर आईडी के माध्यम से उनके खाते से लोन के लिए ऑनलाइन आवेदन किया था। जब पैसा कमल के खाते में आ गया तो फोन कर पैसा गलती से ट्रांसफर होने का झांसा देकर पूरी रकम हड़प ली। पीड़ित ने इस संबंध में केस दर्ज कराया है।  (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : अधिवक्ता के नंबर से महिला की फर्जी अश्लील आईडी बनाकर लिखा ‘कॉल मी’, अब अधिवक्ता अश्लील फोनों से परेशान

नवीन समाचार, देहरादून, 6 फरवरी 2022। राजधानी में एक अधिवक्ता के मोबाइल नंबर से इंस्टाग्राम पर महिला के नाम से फर्जी अकाउंट बना कर उस पर अश्लील फोटो अपलोड कर फोटो के साथ अधिवक्ता का मामला प्रकाश में आया है। अधिवक्ता को जब कई व्यक्तियों से इसके बारे में फोन आए तो उसने नेहरू कालोनी थाना पुलिस में अज्ञात के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है।

महानगर के केदारपुरम निवासी अधिवक्ता अजय प्रसाद ने बताया कि उन्हें परेशान करने के उद्देश्य से किसी ने उनके मोबाइल नंबर का दुरुपयोग कर इंस्टाग्राम पर युवती के नाम की फर्जी प्रोफाइल बनाई हैं। इसमें महिला की अश्लील फोटो के साथ अधिवक्ता का फोन नंबर डाल कर ‘कॉल मी’ लिखा गया है। इस कारण अधिवक्ता को कई व्यक्तियों के फोन आ रहे हैं। इंस्पेक्टर नेहरू कालोनी प्रदीप चौहान ने बताया कि अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। मोबाइल नंबर इस्तेमाल करने वाले की तलाश की जा रही है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : कांग्रेस नेता की फेसबुक आईडी अफगानिस्तान से हो रही संचालित…

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 6 फरवरी 2022। नगर कांग्रेस के एक युवा नेता की फेसबुक आइडी हैक हो गई है। पता चला है कि उसकी आइडी को अफगानिस्तान से संचालित किया जा रहा है। इसका पता चलते ही कांग्रेस नेता ने पुलिस को तहरीर सौंपकर कार्रवाई करने की मांग की है।

युवा कांग्रेस नेता सुशील गावा ने बताया कि उनकी फेसबुक आइडी पर शनिवार को एक फोटो अपडेट हुई। इसकी उन्होंने जांच की तो पता चला कि उनकी आईडी में ईमेल आइडी भी बदल चुकी है, और उसे अफगानिस्तान से संचालित किया जा रहा है। उन्होंने मामले की शिकायत पुलिस से की है। इस मामले में कोतवाल विक्रम राठौर ने बताया कि पुलिस को तहरीर मिल चुकी है। फेसबुक आइडी बंद करायी जा रही है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : दु:खद कहानी : पति के बाद पति द्वारा हाड़-मांस गलाकर जमा किए एक लाख रुपए खोए, बैंकिंग लोकपाल में शिकायत के बाद मामला दर्ज..

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 18 नवंबर 2021। नगर की एक महिला ने पहले अपने नाव चालक पति को खोया। फिर पति द्वारा अपना हाड़-मांस गला कर इकट्ठा कर बैंक में जमा किए एक लाख रुपए भी खो दिए। वह भी ऐसे कि एटीएम उसके पास था और रुपए लखनऊ के किसी एटीएम से निकाले गए। अपने रुपए बैंक खाते में वापस पाने के लिए उसने बैंक की शाखा से लेकर पुलिस कोतवाली तक गुहार लगाई, लेकिन कहीं से उसे कोई मदद नहीं मिली। पुलिस ने मामला दर्ज तक नहीं किया। इस पर पीड़िता ने भारतीय रिजर्व बैंक के बैंकिंग लोकपाल में गुहार लगाई, इसके बाद अब कोतवाली पुलिस ने इस मामले में मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। इसके बाद उम्मीद की जा रही है कि महिला को अब उसके पति की धरोहर वापस मिल सकेगी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार नगर के वार्ड नंबर आठ, अपर माल रोड मल्लीताल निवासी ममता नेगी के पति स्वर्गीय नारायण सिंह नेगी नौका चालक थे। उन्होंने अपनी जीवन भर की कमाई पंजाब एंड सिंध बैंक के माल रोड स्थित खाते में जमा की थी। इधर, 25 अगस्त को ममता ने अपने इसी खाते से आठ हजार रुपए निकाले, और इसके करीब दो माह बात पांच अक्टूबर को बैंक में कुछ और रुपए निकालने गई तो बैंक शाखा की ओर से बताया गया कि उसके खाते से 25 अगस्त के बाद लखनऊ के किसी एटीएम से पूरे एक लाख रुपए निकाल लिए गए हैं।

ममता का बैंक खाता उसके मोबाइल नंबर से जुड़ा था, लेकिन उसके मोबाइल इसका कोई एसएमएस भी नहीं आया। बैंक शाखा के साथ ही मल्लीताल कोतवाली में शिकायत करने के बावजूद उसे कोई मदद नहीं मिली। यह मामला दर्ज तक नहीं किया गया। इस पर ममता ने समाजसेवी खीमराज बिष्ट की मदद से बैंकिंग लोकपाल में शिकायत की, इसके बाद कोतवाली पुलिस हरकत में आई है। इस मामले में कोतवाली पुलिस का अब कहना है कि पीड़िता के एटीएम कार्ड की क्लोनिंग करके ग्राम नेतवा शुक्लागंज जिला उन्नाव स्थित एटीएम से विभिन्न तिथियों में लगभग एक लाख रुपए की धोखाधड़ी की गई है।

अब इस मामले में भारतीय दंड संहिता की धारा 420 के तहत अज्ञात के विरुद्ध अभियोग पंजीकृत कर लिया गया है। मल्लीताल कोतवाली के एसएसआई प्रेम विश्वकर्मा ने भी इस मामले में अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत करने की पुष्टि की है। उल्लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही पीड़ित की शिकायत दर्ज न करने पर नगर कोतवाल निलंबित हो चुके हैं, लेकिन इस घटना के साथ यह बात भी साफ हुई है कि कोतवाली पुलिस लंबे समय से पीड़ितों की शिकायत दर्ज करने में कोताही बरतती रही है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : कथित फूफा ने महिला को झांसा देकर खाते से उड़ाए डेढ़ लाख रुपए…

नवीन समाचार @ देहरादून, 7 नवंबर 2021। उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में एक महिला से अज्ञात व्यक्ति द्वारा फोन पर खुद को फूफा बताकर करीब डेढ़ लाख रुपए की ऑनलाइन ठगी करने का मामला प्रकाश में आया है। महिला की शिकायत पर नेहरू कॉलोनी थाना पुलिस ने अभियोग पंजीकृत कर जांच शुरू कर दी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार देहरादून की फ्रेंड्स कॉलोनी निवासी महिला ममता बिष्ट ने पुलिस को तहरीर देकर कहा है कि गत 18 अक्टूबर को उसके मोबाइल पर एक फोन आया, जिसमें फोन करने वाले व्यक्ति ने खुद को उनका फूफा बताते हुए कहा कि वह उनके खाते में कुछ पैसे भेज रहा है। यह रुपए वह थोड़ी देर बाद ऑनलाइन लौटा दे।

इसके बाद महिला के फोन नंबर पर एक पैसे ट्रांसफर होने जैसा मैसेज भेजा और फिर फोन करने वाले कहा कि उनके खाते में पैसे डाल दिए हैं अब वह यह रुपए लौटा दें। महिला ने इसका प्रयास किया, लेकिन जब उससे ऐसा हो नहीं पाया तो कथित फूफा ने महिला से उसका एटीएम नंबर व अन्य गोपनीय जानकारी हासिल कर ली। इसके बाद महिला के खाते से एक लाख 45 हजार रुपए निकल गए। तब महिला को ठगी होने का एहसास हुआ। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में पेंशनधारकों के डेटा लीक ! साइबर ठग पूरी जानकारी के साथ बना रहे ऑनलाइन ठगी का शिकार

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 16 सितंबर 2021। जनपद में साईबर अपराधियों द्वारा पेंशनधारकों को जीवन प्रमाण पत्र आनलाईन अपडेट करने के लिए फोन कॉल किये जा रहे हैं, और पेंशनधारकों को उनकी सेवानिवृत्ति की तिथि, पीपीओ नंबर, बैंक खाता संबंधी सूचना, आधार कार्ड नंबर, स्थायी पता, मासिक पेंशन एवं नामिनी संबंधित जानकारियां बताकर विश्वास दिलाया जा रहा है कि वे कोषागार, उपकोषागार अथवा पेंशन निदेशालय से संबंधित व्यक्ति हैं एवं वे पेंशनधारकों को पूरा डेटा बताते हुये मोबाईल नंबर पर आए हुए ओटीपी साझा करने के लिए कहा जा रहा है।

ओटीपी लेने के बाद साइबर अपराधी पेंशनधारकों के बैंक खातों में जमा पूरी धनराशि को अन्यत्र बैंक खाते अथवा वालेट में हस्तांतरित कर रहे हैं। इस प्रकार पेंशनधारक आर्थिक ठगी का शिकार हो रहे हैं। माना जा रहा है कि पेंशनधारकों का डेटा लीक होने की वजह से साइबर अपराधी पेंशनधारकों को इस तरह उनकी पूरी जानकारी के साथ विश्वास दिलाकर ठगी कर रहे हैं।

यह बात स्वीकार करते हुए जनपद की मुख्य कोषाधिकारी अनीता आर्य ने पेंशनधारकों को सावधान किया है। उन्होंने कहा कि कोषागार, उपकोषागार अथवा पेंशन निदेशालय से किसी भी पेंशनभोगी को जीवन प्रमाण पत्र ऑनलाईन अपडेट करने के लिए किसी भी प्रकार का फोन कॉल नहीं किया जाता है

पेंशनधारक का कर्तव्य है कि वह अपने जीवन प्रमाण पत्र को व्यक्तिगत रूप से कोषागार, उपकोषागार अथवा पेंशन निदेशालय में जाकर अपडेट करायें। पेंशनधारक इस तरह की फर्जी एवं अनजान कॉल से सावधान रहें एवं अन्य पेंशनधारकों को भी सावधान करें, जिससे कि इस तरह की साईबर ठगी से बचा जा सके। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : महिला के फेसबुक अकाउंट से परिचितों-परिवारजनों को आपत्तिजनक पोस्ट आने से हड़कंप

नवीन समाचार, रुड़की, 10 सितंबर 2021। शहर के सिविल लाइंस क्षेत्र निवासी एक महिला के फेसबुक अकाउंट से उसके फेसबुक फ्रेंड्स को आपत्तिजनक पोस्ट आने से हड़कंप मच गया। महिला के किसी परिचित ने जब उसके फेसबुक पर इस तरह के मैसेज देखे तो उसने महिला को मामले की जानकारी दी। इसके बाद महिला ने जांच पड़ताल की तो पता चला कि किसी ने महिला के फेसबुक खाते से उसकी फोटो व अन्य जानकारियां लेकर उसके नाम का फर्जी फेसबुक खाता बना दिया और उसके असली फेसबुक अकाउंट के फ्रेंड्स को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर अपने खाते से जोड़ लिया और अब उन्हें आपत्तिजनक पोस्ट भेज रहा है।

महिला ने इस फेसबुक अकाउंट पर मैसेज भेजकर इस फर्जी फेसबुक अकाउंट को डिलीट करने को कहा, लेकिन वह नहीं माना। उसने महिला को धमकी दे दी। महिला के परिजनों ने इस बावत सिविल लाइंस कोतवाली पुलिस से मामले की शिकायत की है। इसके बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। सिविल लाइंस कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक अमर चंद शर्मा ने बताया कि फर्जी फेसबुक अकाउंट को चिह्नित किया जा रहा है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : युवक से नौकरी के नाम पर 10 हजार रुपए हड़पे

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 5 अगस्त 2021। मल्लीताल निवासी एक व्यक्ति से साइबर अपराधियों के द्वारा नौकरी दिलाने के नाम पर 10 हजार रुपए हड़पने का मामला सामने आया है। शिकायतकर्ता मो. अली ने पुलिस कोतवाली में शिकायती पत्र देकर कहा है कि उसके पास कुछ दिन पहले राजस्थान से राहुल गुप्ता नाम के व्यक्ति का फोन आया था।

राहुल ने उसे नौकरी देने जाने का आश्वासन दिया और रजिस्ट्रेशन व कागजी कार्रवाई के लिए 10 हजार रुपये जमा करने को कहा। नौकरी के लालच में पीड़ित ने रुपये जमा कर दिए, लेकिन इसके बाद उससे संपर्क नहीं हो पाया। कोतवाल अशोक कुमार सिंह ने कहा कि मामला साइबर सेल को भेजा जाएगा। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : फेसबुक पर फेक आईडी बनाने वाले बड़े अंतर्राज्यीय गिरोह का खुलासा, डीजीपी का फर्जी खाता बनाने वाले सहित 14 साइबर ठग गिरफ्तार…

नवीन समाचार, देहरादून, 28 जून 2021। उत्तराखंड पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर पैसे मांगने के मामले में स्पेशल टास्क फोर्स ने 14 साइबर ठगों को झारखंड और राजस्थान से गिरफ्तार कर बड़ी कामयाबी हासिल की है। पुलिस प्रवक्ता और डीआईजी एसटीएफ नीलेश आनंद भरणे ने पत्रकारों को यह जानकारी देते हुए बताया कि कुछ दिन पहले डीजीपी की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर आढ़त बाजार निवासी एक व्यक्ति से पैसे की डिमांड की गई थी। शक होने पर उसने नगर कोतवाली में तहरीर दी। कोतवाली में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।

पुलिस मुख्यालय ने मामला गंभीर होने के चलते जांच के लिए स्पेशल टास्क फोर्स और जनपद पुलिस की उच्च स्तर पर संयुक्त छह टीमें बनाई थीं। टीम की ओर से जांच में पाया गया कि इस प्रकार के अपराध मेवात क्षेत्र, पलवल व नूह (हरियाणा) एवं भरतपुर व अलवर (राजस्थान) एवं जामतारा (झारखण्ड) क्षेत्र से संचालित किए जा रहे हैं। यह टीमें मेवात,पलवल, नूह (हरियाणा) एंव राजस्थान के भरतपुर और अलवर और जमातारा (झारखंड), पश्चिम बंगाल और छत्तीसगढ़ पहुंचीं। डीआईजी ने बताया कि दो आरोपितों जाहिद पुत्र शेर मोहम्मद निवासी थाना खोह जिला भरतपुर और इरशाद पुत्र मजीद निवासी कलतरिया थाना जुरहेरा जिला भरतपुर (राजस्थान) को गिरफ्तार किया गया। बाकी सभी आरोपित प्रदेश के अलग-अलग जिलों में दर्ज हुए मामलों से संबंधित हैं। उत्तराखंड पुलिस ने प्रदेश के लोगों से साइबर ठगों के झांसे में नहीं आने की अपील की है। ऐसे ठगों को धरपकड़ के लिए पुलिस का अभियान जारी है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पत्नी ने पति पर लगाया अश्लील-अभद्र संदेश भेजने का आरोप, पुलिस भी हैरान

नवीन समाचार, खटीमा, 26 जून 2021। शहर में पति-पत्नी के बीच एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। खटीमा थाना क्षेत्र की निवासी एक महिला ने अपने पति पर अश्लील मैसेज भेजने का मुकदमा दर्ज करवाया है। पुलिस को दी तहरीर में महिला ने शिकायत की है कि आपसी मतभेद के कारण वह अपने मायके में रह रही है। लेकिन उसका पति कई दिनों से उसे आपत्तिजनक मैसेज भेज कर परेशान कर रहा है। साथ ही गालीगलौज भी कर रहा है। इधर उसने गत 17 जून को अभद्र संदेश भेजने के साथ ही उसकी हत्या करने की धमकी भी दी है। ऐसे मामले को लेकर खटीमा पुलिस भी हैरान है, और जांच कर कार्रवाई करने की बात कह रही है।

महिला का आरोप है कि अपने पति की इन हरकतों के कारण वह अपना मोबाइल अधिकांश समय बंद ही रखती है। फिर भी, जब भी अपना मोबाइल खोलती है तो उसके पति के आपत्तिजनक मैसेज आये मिलते हैं। महिला ने यह भी बताया है कि उन दोनों पति-पत्नी के बीच घरेलू हिंसा का वाद भी न्यायालय में चल रहा है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल की युवती को उसके प्रेमी के फेसबुक मैसेंजर से आने लगे अश्लील संदेश, फोटो और वीडियो…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 25 जून 2021। ऑनलाइन-साइबर अपराध लगातार बढ़ते जा रहे हैं। अब जिला-मंडल मुख्यालय में एक युवती को उसके प्रेमी के नाम की फेसबुक आईडी से अश्लील संदेश आने के मामले का खुलासा हुआ है। पता चला है कि उसके प्रेमी की फेसबुक आईडी किसी अन्य ने फेक यानी गलत तरीके से बनाई है। इस पर युवक-युवती दोनों ने मल्लीताल कोतवाली पहुंचकर शिकायती पत्र देकर कार्रवाई की मांग की है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार नगर के मल्लीताल क्षेत्र में रहने वाली युवती को कुछ दिनों से उसके प्रेमी के नाम की आईडी से फेसबुक मैसंेजर से संदेश आ रहे थे। युवती अपना प्रेमी समझकर खुद भी उससे संदेशों का आदान-प्रदान कर रही थी। लेकिन कुछ दिन बाद युवती को इसी फेसबुक आईडी से अश्लील संदेश के साथ ही उसके अश्लील फोटो व वीडियो भी भेजे जाने लगे। युवती ने इसका विरोध किया, फिर भी अश्लील मैसेज आते रहे। इस पर युवती ने अपने प्रेमी को फोन कर मिलने के लिए कहा। जब दोनों मिले तो शुरुआत में गलतफहमी में लड़ने के बाद पता चला कि युवती को अश्लील मैसेज उसका प्रेमी नहीं, बल्कि कोई और उसकी फेक फेसबुक आईडी बनाकर भेज रहा था। इस पर दोनों कोतवाली पहुंचे और कार्रवाई की मांग की। उल्लेखनीय है कि पूर्व में प्रदेश के डीजीपी से लेकर कुमाऊं रेंज के आईजी, नैनीताल के तत्कालीन एसएसपी और मौजूदा कोतवाल की फेसबुक आईडी भी हैक हो चुकी है, और पुलिस किसी भी मामले का खुलासा नहीं कर पाई है। ऐसे में देखना होगा कि इस मामले में पुलिस क्या कर पाती है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : महिलाओं की अश्लील वीडियो दिखाकर ब्लैकमेल करने वाला निकला आशिक मिजाज बुड्ढा, गिरफ्तार..

नवीन समाचार, चंपावत, 24 जून 2021। चंपावत जिले की पुलिस ने गुरुवार को वाट्सअप पर महिलाओं की आपत्तिजनक अश्लील वीडियो बनाकर लोगों को ब्लैकमेल कर पैसा उगाही करने वाले आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। खास बात यह है कि ऐसा काम करने वाला कोई युवा नहीं वरन 52 वर्षीय बुजुर्ग है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गत 21 मार्च को शिक्षा विभाग चम्पावत में कार्यरत कर्मचारी मिंटू राणा पुत्र स्व. इन्द्र सिंह राणा, निवासी लामाखेड़ा, सितारगंज, जिला ऊधमसिंह नगर को एक अज्ञात व्यक्ति ने व्हाट्सअप नंबर पर वीडियो कॉल की। कॉल करने वाले के मोबाइल में एक महिला अश्लील होकर दिख रही थी, लेकिन कोई आवाज नहीं आ रही थी। करीब डेढ़ मिनट बाद वीडियो कॉल करने वाले व्यक्ति ने कुछ कहे बिना फोन काट दिया।

इसके कुछ देर बाद ब्लैकमेलर ने वीडियो कॉल की स्क्रीन रिकॉर्डिंग कर वीडियो व स्क्रीन शॉट मिंटू राणा को भेज दिया। जिससे प्रतीत हो रहा था कि मिंटू राणा ही महिला के साथ अश्लील बातें कर रहा हो। 22 मार्च को ब्लैकमेलर द्वारा वाट्सअप मैसेज कर मिंटू राणा को आपत्ति जनक वीडियो यू-ट्यूब में पोस्ट कर धमकी देते हुए 10,300 रुपये की मांग की। ब्लैकमेल हो चुके मिंटू राणा ने डर के मारे उक्त धनराशि ब्लैकमेलर द्वारा दिए गए अकाउंट में डाल दी। इसके बाद वह लगातार रुपये मांगता रहा। मिंटू राणा ने इसकी शिकायत पुलिस से की। जिसके बाद पुलिस ने आरोपित के खिलाफ चम्पावत कोतवाली में आइपीसी की धारा 384 एवं 67 आइटी एक्ट के तहत अभियोग पंजीकृत कर कोतवाल शांति कुमार गंगवार के नेतृत्व में टीम का गठन किया।

टीम ने सर्विलांस, फोन पे, गूगल पे, पेटीएम, व्हाट्सअप तथा बैंक की डिलेट के जरिए साइबर ब्लैकमेलर की पहचान उमरदीन (52) पुत्र अश्रु, निवासी ग्राम पछलेड़ी गुलपाड़ा, थाना सीकरी, जिला भरतपुर (राजस्थान) के रूप में की, और आरोपित की गिरफ्तारी के लिए चम्पावत बाजार चौकी प्रभारी सोनू सिंह के नेतृत्व मे पुलिस टीम भरतपुर भेजी गई। जहां उसने आरोपित उमरदीन को गांव पछलेड़ी, गुलपाड़ा से गिरफ्तार कर लिया। उसे चम्पावत लाया गया है।

सीओ अशोक कुमार ने बताया कि आरोपित के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जा रही है। पुलिस टीम में प्रभारी निरीक्षक गंगवार के अलावा साइबर सैल प्रभारी हरपाल सिंह, चौकी प्रभारी सोनू सिंह, कांस्टेबल अब्दुल मलिक, मदन नाथ, पूरन आर्या, बिहारी लाल, सद्दाम हुसैन, भुवन पांडेय शामिल थे।  (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : महिला ने फेसबुक पर दोस्ती कर ऑनलाइन ठग लिए

नवीन समाचार, देहरादून, 20 जून 2021। फेसबुक के जरिए महिला से दोस्ती करने के बाद एक व्यक्ति साइबर ठगी का शिकार बन गया। व्यक्ति से लंदन से भारत आने पर कस्टम अधिकारी के रोकने का बहाना बना कर 73 हजार रुपये ऑनलाइन जमा करा लिए गए।
प्राप्त जानकारी के अनुसार डालनवाला पुलिस के मुताबिक यूनूस अली पुत्र उमरदीन निवासी देहराखास का कहना है कि उनको एक महिला ने फेसबुक पर फ्रेड रिक्वेस्ट भेजी। रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करने के बाद महिला ने दोस्ती की इच्छा जाहिर की। दोनों की आपस में बात होने लगी। बीती 17 मई को एक अन्य महिला ने उसे फोन किया। उसने अपना परिचय एयरपोर्ट कस्टम अधिकारी के रूप में दिया। कहा गया कि लंदन से आपकी महिला दोस्त भारत आई है। मनी लांड्रिंग के लिए 73 हजार रुपये जमा करने होंगे। एयरपोर्ट का कस्टम अधिकारी समझकर लंदन से आई महिला की सहायता के लिए यूनुस ने गूगल-पे से महिला को 73 हजार रुपये ट्रांसफर किए। बाद में पता चला कि साइबर ठगी हो गई है। साइबर थाने में दी गई शिकायत के बाद पटेलनगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : साइबर धोखाधड़ी रोकने के लिए उत्तराखंड में भी शुरू हुई हेल्पलाइन सेवा…

नवीन समाचार, देहरादून, 18 जून 2021। केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा साइबर धोखाधड़ी को रोकने के लिए तैयार की गई हेल्पलाइन-155260 सेवा अब उत्तराखंड में भी पूरी तरह से काम करने लगी है। यह सेवा वर्तमान में सात राज्यों-छत्तीसगढ़, दिल्ली, मध्य प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में संचालित है और देश की 35 प्रतिशत आबादी को कवर कर रही है। के बाद इसे देशभर में लागू किया जा रहा है। आगे इसे जल्द ही देशभर के लिए संचालित करने की योजना है। केंद्रीय गृह मंत्रालय से जारी हुई जानकारी के अनुसार एक अप्रैल से शुरुआती तौर पर संचालित सेवा के माध्यम से 1.85 करोड़ रुपये धोखेबाजों के हाथों में जाने से रोके गए हैं।

बताया गया है कि यह हेल्पलाइन सेवा भारतीय साइबर अपराध समन्वय केन्द्र (14सी) आरबीआई, बैंक, पेमेंट बैंक और ऑनलाइन व्यापारियों के सहयोग से चलाई जा रही है। इससे जुड़ा रिपोर्टिंग और प्रबंधन तंत्र केंद्र ने स्वयं तैयार किया है। इसके साथ प्रवर्तन एजेंसियां, बैंक, वित्तीय बिचौलिये जुड़े हैं। हेल्पलाइन को चलाने का काम स्थानीय पुलिस को दिया गया है जो रिपोर्टिंग और प्रबंधन तंत्र का प्रयोग कर धोखाधड़ी को रोकने का प्रयास करती है।

यह हेल्पलाइन समय पर साइबर धोखाधड़ी की जानकारी प्राप्त कर उस पर त्वरित कार्रवाई पर केंद्रित है। पैसे के ट्रांसफर का पीछा कर उसे बैंकों के माध्यम से फ्रीज किया जाता है। कोई भी व्यक्ति साइबर घोखाधड़ी का शिकार होने पर हेल्पलाइन पर कुछ बुनियादी जानकारी देकर शिकायत दर्ज करा सकता है। इसे आगे भेजकर तत्काल पैसे के लेन-देन को रोका जाता है। पीड़ित व्यक्ति को मैसेज के माध्यम से सूचित किया जाता है और 24 घंटे का समय लेन-देन की विस्तृत जानकारी देने के लिए दिया जाता है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : नज़रअंदाज किए आम लोगों, उच्चाधिकारियों के साथ हुए साइबर अपराध, अब डीजीपी तक पहुंचे साइबर अपराधियों के हाथ…

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 जून 2021। कुमाऊं परिक्षेत्र के आईजी अजय रौतेला, नैनीताल के तत्कालीन एसएसपी सुनील कुमार मीणा व कोतवाल अशोक कुमार सिंह, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश जोशी, जिला रेडक्रॉस सोसायटी नैनीताल के चेयरमैन विनोद तिवाड़ी, अधिवक्ता पंकज कुलौरा सहित न जाने कितने आम व खास लोग पिछले दिनों साइबर अपराधियों के निशाने पर आए। उनके नाम की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर और उनके नाम से मैसेंजर पर संदेश भेजकर उनके जानने वालों से हजारों रुपए की मांग की गई। कई लोगों ने इस कारण अपने खून-पसीने से कमाई बड़ी धनराशि भी गंवाई, लेकिन उत्तराखंड की ‘मित्र पुलिस’ व साइबर सेल किसी भी मामले का खुलासा नहीं कर सके। लाजिमी था, साइबर अपराधियों के होंसले बढ़े और अब उन्होंने प्रदेश के पुलिस विभाग के मुखिया डीजीपी अशोक कुमार की ही फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर उनके परिचितों से रुपए मांगने की हिमाकत कर डाली है।

अब तो पुलिस को हरकत में आना ही है। डीजीपी अशोक कुमार की फेक आईडी से पैसे मांगने की शिकायत पर कोतवाली देहरादून में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। साथ ही ऐसी हिमाकत करने वाले की तलाश के लिए पुलिस महानिरीक्षक (अपराध एवं कानून व्यवस्था) वी मुरूगेशन की अध्यक्षता में 6 टीमें बना ली गई हैं, जो इस प्रकरण की जांच करेंगी। प्राथमिक तौर पर आरोपी प्रोफेशनल साईबर अपराधी लग रहे हैं। जिनका संबंध बिहार, झारखंड तथा राजस्थान सेे हो सकता है। टीमों ने इन राज्यों के वरिष्ठ अधिकारियों से भी वार्ता की है। पुलिस का दावा है कि जल्द ही इस प्रकरण का खुलासा किया जायेगा।

पुलिस महानिरीक्षक (अपराध एवं कानून व्यवस्था) द्वारा पुलिस मुख्यालय स्थित सभागार में वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से पुलिस महानिरीक्षक कुमाऊं परिक्षेत्र, पुलिस उपमहानिरीक्षक, गढवाल परिक्षेत्र एवं समस्त जनपदों के प्रभारियो के साथ जनपदों द्वारा कृत कार्यवाहियों की समीक्षा की गई। साथ ही समस्त जनपद प्रभारियों को यह निर्देशित किया गया कि उनके जनपदों में रजिस्टर साईबर क्राईम से सम्बन्धित समस्त केसों का जल्द से जल्द निस्तारण किया जाए। इसके लिये अगर अन्य राज्यों में टीमों को भेजना पडे तो वह कार्यवाही की जाए। वीडियो कान्फ्रेसिंग में पुलिस उपमहानिरीक्षक (अपराध एवं कानून व्यवस्था) नीलेश आनन्द भरणे, पुलिस अधीक्षक एसटीएफ अजय सिंह, पुलिस अधीक्षक (अपराध एवं कानून व्यवस्था) श्वेता चौबे के अतिरिक्त अन्य अधिकारियों ने ऑनलाईन प्रतिभाग किया। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : पूर्व पालिका अध्यक्ष के नाम से नए मॉड्यूल से साइबर धोखाधड़ी का प्रयास, न फेसबुक आईडी हैक, न पैंसे मांगे…

-हैकरों ने बिना फेसबुक आईडी हैक किए भेजे लोगों को रुपये मांगने की जगह रुपए देने के लिए मैसेज

पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश जोशी ‘मंटू’

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 11 जून 2021। अब तक यही कहा जाता रहा है कि साइबर अपराधी लोगों की फेसबुक आईडी हैक कर फेसबुक से जुड़े मैसेंजर के जरिये उनके फेसबुक फ्रेंड्स को मैसेज भेजकर किसी परेशानी में फंसे होने की बात कह कर रुपए मांगते हैं। किंतु नगर में साइबर अपराधियों के द्वारा एक बिल्कुल नये तरीके से पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश जोशी के नाम व उनकी फोटो का इस्तेमाल कर रुपए मांगने की जगह रुपए देने के लिए मैसेज भेजे गए हैं। अलबत्ता, अभी तक श्री जोशी के फेसबुक मित्रों में से किसी के साइबर अपराधियों के जाल में फंसने की जानकारी नहीं है। अलबत्ता, जोशी ने मल्लीताल कोतवाली को इसकी सूचना दे दी है।

श्री जोशी ने बताया कि उन्हें बृहस्पतिवार रात्रि 10-11 बजे से कुछ लोगों ने उनके नाम से फेसबुक मैसेंजर के जरिये रुपयों के लिए संदेश भेजने की जानकारी मिली। इसके बाद उन्होंने आनन-फानन में अपने फेसबुक खाते हैक होने के भय से बंद कर दिए और अपने फेसबुक मित्रों को अपना फेसबुक खाता हैक होने का संदेश भेजकर किसी के झांसे में न आने की अपील की। लेकिन इधर मामले को गंभीरता से देखने पर पता चला है कि वास्तव में उनका फेसबुक खाता हैक नहीं किया गया है, बल्कि उनकी फेसबुक पर लगी प्रोफाइल फोटो और उनके नाम का इस्तेमाल करके कुछ माह पूर्व साइबर अपराधियों ने एक नया खाता बनाया है, और उससे जोशी के फेसबुक फ्रेंड्स को पहले फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी गई थी।

अब तक उस फर्जी खाते में केवल 41 लोग ही जुड़े हैं, जबकि जोशी के मूल खाते में 5000 के करीब सदस्य हैं। इसके बाद साइबर अपराधी के द्वारा जोशी के फर्जी फेसबुक खाते से जुड़े लोगों को अपने पास गूगल पे अकाउंट न होने का हवाला देकर किसी कुलदीप सिंह नाम के फौजी के द्वारा भेजे जा रहे पहले पांच रुपए जांच के लिए और बाद में 20 हजार रुपए भेजे जाने का झांसा देते हुए गूगल पे का नंबर मांगा जा रहा है। आगे यदि कोई व्यक्ति अपना गूगल पे का नंबर यदि देता है तो उससे ओटीपी नंबर लेकर उसके बैंक खाते से पूरी धनराशि निकाली जा सकती है।

बचने को यह करें
नैनीताल। फेसबुक के जरिए होने वाली ऐसी साइबर ठगी से बचने के लिए जरूरी है कि अपनी प्रोफाइल फोटो को फेसबुक द्वारा दी जाने वाली सुविधा के तहत ‘प्रोटेक्टेड’ करें। अनजान लोगों की फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार न करें और खास जान-पहचान के लोगों के नाम पर भी कभी पैंसे के लेन-देन से संबंधित मैसेंजर से कोई संदेश आने पर उससे फोन करने को कहें, अथवा संबंधित व्यक्ति को फोन करके उससे सत्यता का पता कर लें। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : अब अधिवक्ता की फेसबुक आईडी हैक कर मांगे जा रहे मित्रों से रुपये

नवीन समाचार, नैनीताल, 27 मई 2021। पूर्व में आए पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों एवं राजनेताओं के फेसबुक खाते हैक करने के मामलों की तर्ज पर अब उत्तराखंड ग्वाल सेवा संगठन के संस्थापक एवं वरिष्ठ अधिवक्ता पंकज कुलौरा की फेसबुक आईडी सायबर अपराधियों ने हैक कर ली गई है। इसके बाद कुलौरा के फेसबुक पर जुड़े कई मित्रों से फेसबुक मैसेंजर के माध्यम से धन की मांग की जा रही है। पंकज ने इसकी शिकायत थाना तल्लीताल एवं मुख्यमंत्री के शिकायत पोर्टल पर की है। वहीं तल्लीताल थाना प्रभारी विजय मेहता ने बताया कि शिकायत जांच साइबर सेल को भेज दी गई है। 

उधर, तल्लीताल बड़ा बाजार निवासी पीड़ित अधिवक्ता पंकज कुलौरा का कहना है कि किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा उनके फेसबुक अकाउंट को हैक कर उनके करीब 25 दोस्तों, रिश्तेदारों, मित्रों व सहित अन्य परिचितों से अवैध रूप से धन की वसूली के लगातार संदेश भेजे जा रहे हैं। इस पर उनके परिचितों, मित्रों सहित उनके रिश्तेदारों ने व्हाट्सएप पर उनको स्क्रीन शॉट लेकर भेजे हैं। उनका नाम भी अलग-अलग नामों से आ रहा है, और अलग-अलग नाम से पोस्ट भी बनाई गई हैं। इस प्रकार उनके नाम का दुरुपयोग कर अवैध वसूली की जा है। यह रंगदारी की श्रेणी में आता है, साथ ही आईटी एक्ट के तहत भी हैकर के खिलाफ मुकदमा दर्ज होना चाहिए, ताकि ऐसे अन्य फर्जी लोगों को रोका जा सके। (डॉ.नवीन जोशी)

यह भी पढ़ें : कुुमाउनी में लोगों को साइबर अपराधों से बचने की सलाह दे रहे पुलिस के एएसआई हुए वायरल

नवीन समाचार, नैनीताल, 25 मार्च 2021। पूर्व में मल्लीताल कोतवाली में तैनात रहे व वर्तमान में ऊधमसिंह नगर जनपद में कार्यरत एएसआई सत्येंद्र गंगोला का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में सत्येंद्र विस्तार से लोगों को साइबर अपराध बचने के तरीके समझा रहे हैं। उल्लेखनीय है कि सत्येंद्र कुमाउनी गीत भी गाते रहे हैं। उसके गाये गीतों की पूर्व में वीडियो भी आ चुकी है।

यह भी पढ़ें : एसएसपी, आईजी, कोतवाल के बाद अब एसडीएम की फेसबुक आईडी से मांगे जा रहे रुपए…

नवीन समाचार, नैनीताल, 05 मार्च 2021। जिले के पूर्व एसएसपी सुनील कुमार मीणा, आईजी अजय रौतेला व मल्लीताल के कोतवाल अशोक कुमार सिंह के बाद अब जनपद के धारी तहसील के एसडीएम विनोद कुमार की फेसबुक आईडी भी हैक कर ली गई है। कुमार की फर्जी फेसबुक आईडी बनाई गई है, और उससे उनकी असली फेसबुक आईडी से जुड़े मित्रों को पहले फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर जोड़ा गया है और फिर उन्हें संदेश भेजकर रुपए मांगे जा रहे हैं।

एक मित्र से नाम पूछने पर रामेश्वर नाम बताया गया है। इसका पता लगने पर श्री कुमार ने अपने फेसबुक से जुड़े मित्रों से उनकी आईडी पैसा मांगने वालों के झांसे में न आने की अपील की है। उल्लेखनीय है कि विनोद कुमार अभी हाल तक नैनीताल के एसडीएम भी रह चुके हैं।

एसडीएम विनोद कुमार के नाम से इस तरह मांगे जा रहे हैं रुपए : https://www.facebook.com/photo/?fbid=3640205279411979&set=a.192026927563182

यह भी पढ़ें : नैनीताल की नाबालिग को भारी पड़ा फेसबुकिया प्यार, अस्मत गंवाई, प्रेमी निकला एक बच्ची का पिता…

नवीन समाचार, नैनीताल, 28 जनवरी 2021। किसी भी अनजाने पर आंखें मूंदकर विश्वास करना भारी पड़ सकता है खासकर facebook जैसे सोशल मीडिया माध्यम पर। नगर के निकट के ग्रामीण क्षेत्र की एक नाबालिग किशोरी को ऐसा करने की बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है। उसके शातिर फेसबुकिया दोस्त ने उससे झूठा प्रेम जता कर पहले उसकी अस्मत लूट ली, और जब शादी करने की बात हुई तो खुलासा हुआ है कि वह शादीशुदा ही नहीं एक बच्चे का बाप भी है।

नगर के निकटवर्ती गांव की निवासी नाबालिग किशोरी ने तल्लीताल थाने में शिकायत दर्ज कराई है कि उत्तर प्रदेश के निगोही के रहने वाले युवक रवि कुमार ने उससे सोशल मीडिया के माध्यम से दोस्ती की, और नैनीताल मिलने के लिए आने पर शादी का झांसा देकर मल्लीताल के एक होटल में उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए।इधर उसे एक महिला का फोन आया। उस महिला ने बताया कि वह रवि की पत्नी है और उनकी एक बच्ची भी है। दरअसल महिला को अपने पति के मोबाइल में चैट देखकर किशोरी से उसके संबंधों का पता चला।

किशोरी ने बताया कि लगी ने उसे अपनी पत्नी को अपनी भाभी बताया था। सच्चाई पता चलने पर जब पीड़िता ने आरोपी से बात करनी चाही तो उसने पीड़िता से बात करना बन्द कर दिया और उसे व उसके परिजनों को जान से मारने की धमकी देने लगा। इससे घबराई पीड़िता ने अब हिम्मत दिखाते हुए अपने परिजनों के साथ तल्लीताल थाने में रवि के खिलाफ तहरीर दी है। इस पर तल्लीताल पुलिस स्टेशन के थानाध्यक्ष विजय मेहता ने बताया की आरोपी के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 376 और 3/4 पाॅक्सो अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। यथाशीघ्र आरोपी की गिरफ्तारी की जाएगी।

यह भी पढ़ें : एसएसपी के बाद अब साइबर अपराधियों ने आईजी कुमाऊं के नाम पर की धोखाधड़ी की कोशिश

-फर्जी फेसबुक खाता बनाकर लोगों से की रुपयों की मांग

नवीन समाचार, नैनीताल, 20 जनवरी 2021। बेख़ौफ़ साइबर अपराधियों ने गत दिनों नैनीताल जनपद के तत्कालीन एसएसपी सुनील कुमार मीणा के फेसबुक खाते जैसा हूबहू दिखने वाला फेसबुक खाता बना दिया था। अब ऐसा ही कुछ कुमाऊं परिक्षेत्र के आईजी, वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी अजय रौतेला के साथ हुआ है।

शातिर साइबर अपराधियों ने आईजी रौतेला की वर्दी वाली फोटो का प्रयोग करते हुए अजय रौतेला एलपीएस नाम से न केवल फेसबुक खाता बना लिया है, वरन उनके नाम से उनके फेसबुक दोस्तों को फेसबुक मैसेंजर से बड़ी धनराशि मांगी जा रही है। पूछे जाने पर आईजी रौतेला ने बताया कि अभी-अभी उनकी जानकारी में भी यह बात आई है। वह अभी देहरादून में हैं और साइबर सेल से इसकी शिकायत करने जा रहे हैं। दिलचस्प बात यह भी है उनके नाम का फर्जी खाता अजय रौतेला एलपीएस के नाम से बनाया गया है। संभवतया खाता अजय रौतेला आईपीएस नाम से बनाने का प्रयास किया गया हो, किंतु जल्दबाजी अथवा किसी अन्य कारण से आईपीएस की जगह एलपीएस लिखा गया है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल : युवतियों को मिल रहीं युवती के नाम से बनी फेसबुक आईडी से अभद्र संदेश व धमकियां

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 अगस्त 2020। नगर के पास मंगोली क्षेत्र निवासी कुछ युवतियों के साथ फेसबुक मैसेंजर पर युवती के नाम से बनी प्रोफाइल से अभद्रतापूर्ण संदेश भेजने एवं युवतियों की गंदी फोटो बनाकर फेसबुक पर अपलोड करने की धमकी देने का मामला प्रकाश में आया है। मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने मामले को साइबर सेल को भेज दिया है।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगोली निवासी युवती ने शिकायत दर्ज कराई है तीन दिन पूर्व एक युवती को अंजलि नाम की फेसबुक आईडी से फ्रेंड रिक्वेस्ट मिली। लड़की समझ कर उसने रिक्वेस्ट स्वीकार कर ली। इसके बाद उसे कथित अंजली की ओर से मैसेज आने शुरू हो गए। मैसेज में बात की तो दूसरी ओर से अभद्रतापूर्ण बातें शुरू की गईं। साथ ही एडिट कर युवती की गंदी फोटो बनाकर फेसबुक पर अपलोड करने की धमकी गई।

यह बात युवती ने गांव की अपनी अन्य सहेलियों को बताई तो उन्होंने भी इसी तरह की घटना उनके साथ होने की बात कही। इसके बाद युवती शिकायत लेकर मल्लीताल कोतवाली पहुंची। एएसआई सत्येंद्र गंगोला ने बताया कि फेक आईडी बनाया हुआ कोई परिचित ही इसके पीछे हो सकता है। उसके द्वारा युवतियों को उनके पिता के नाम आदि भी बताये गये हैं। जल्द घटना का खुलासा कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें : फर्जी फेसबुक आईडी से रुपयों की मांग

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 मई 2020। नगर के माल्डन कॉटेज निवासी सामाजिक कार्यकर्ता राम सिंह गोसांई के नाम की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर उनके मित्रों से मैसेंजर ऐप के माध्यम से किसी के द्वारा धनराशि की मांग की जा रही है। गोसांई ने इस संबंध में मल्लीताल कोतवाली में लिखित शिकायत दर्ज कर बताया है कि उनकी वास्तविक फेसबुक आईडी ब्लॉक हो चुकी है। अज्ञात व्यक्ति 9050464329 जिसका नाम ट्रूकॉलर पर संजय नयर आ रही है, लोगों को उनके नाम से संदेश भेजकर रुपये मांग रहा है। लिहाजा उन्होंने पुलिस से आरोपित के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।

यह भी पढ़ें : कुमाऊं विवि के कुलपति के नाम से धोखाधड़ी का प्रयास, बैंक खाते में ‘फोन पे’ से गड़बड़ी का आरोप

नवीन समाचार, नैनीताल, 8 मई 2020। कुमाऊं विवि के कुलपति प्रो. केएस राना के नाम से एक अज्ञात ईमेल-oscorodova11@gmail.com के जरिये विवि के प्रोफेसरों से धोखाधड़ी का प्रयास किया गया है। इस मामले में कुलपति प्रो. राना ने जनपद के एसएसपी को पत्र लिखकर कहा है कि उनके नाम व पदनाम का दुरुपयोग न होने पाये, इसलिए संबंधित अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ आईटी एक्ट के तहत कार्रवाई करने की मांग की है।

बैंक खाते में ‘फोन पे’ से गड़बड़ी का आरोप
नैनीताल। नगर के मल्लीताल प्रेम भवन निवासी राजीव लाल साह पुत्र स्वर्गीय लक्ष्मी लाल साह ने अपने पंजाब नेशनल बैंक मल्लीताल बाजार शाखा के खाते में गड़बड़ी का आरोप लगाया है। उन्होंने मल्लीताल कोतवाली में दी गई तहरीर में कहा है कि उनके खाते से ई-कॉम फोन पे प्राइवेट लिमिटेड द्वारा कई बार में 41 हजार 858 रुपए की धनराशि निकाली जा चुकी है। इस पर उन्होंने प्राथमिकी दर्ज कराने की मांग की है। उधर पुलिस मामले की जांच कर कार्रवाई करने की बात कह रही है।

यह भी पढ़ें : हाईकोर्ट की महिला अधिवक्ता को अश्लील संदेश भेजने वाला यूपी से गिरफ्तार

नवीन समाचार, नैनीताल, 2 मार्च 2020। उत्तराखंड उच्च न्यायालय की एक महिला अधिवक्ता को फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर अश्लील मैसेज भेजने के मामले में मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने खुर्जा यूपी निवासी व्यक्ति को गिरफ्तार कर साइबर अपराधियों को बड़ा संदेश दिया है। अपराधी चाहे जितना भी शातिर हों, वे कानून से बच नहीं सकते।

उल्लेखनीय है कि नवंबर 2019 में उत्तराखंड उच्च न्यायालय की एक महिला अधिवक्ता को योगी ब्वॉय योगी नाम के फेसबुक अकाउंट से अश्लील मैसेज भेजे गए थे। बताया गया है कि इस मामले में महिला अधिवक्ता की शिकायत पर आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था और कोतवाली प्रभारी अशोक कुमार सिंह ने विवेचना की। सिंह की अगुवाई में कोतवाली के एएसआई सत्येंद्र गंगोला ने फर्जी फेसबुक अकाउंट को ट्रेक कर सोमवार को खुर्जा यूपी जाकर वहां के निवासी योगेश गोस्वामी पुत्र सुंदर गोस्वामी निवासी शिव नगर खुर्जा उससे तीन मोबाइल और अन्य उपकरण जब्त कर उसे गिरफ्तार कर लिया। अलबत्ता उस पर दर्ज मुकदमे में सात वर्ष से कम सजा का प्राविधान होने यानी जमानती अपराध होने के कारण उसे मौके पर ही जमानत मिल गई, लेकिन वह कानून के शिकंजे में आ गया है। उसे न्यायालय में पेश होने के लिए बंध पत्र भरवा दिया गया है।

यह भी पढ़ें : फेसबुक फ्रेंड का फेसबुक हैक कर हैकरों ने पत्रकारों से मांगे रुपए

नवीन समाचार, नैनीताल, 28 जनवरी 2020। फेसबुक हैकरों ने पत्रकारों के एक कॉमन फेसबुक फ्रेंड का फेसबुक अकाउंट कर नगर एवं आसपास के पत्रकारों से रुपए मांग डाले। गनीमत रही कि पत्रकार तो झांसे में नहीं फंसे, अलबत्ता अल्मोड़ा निवासी एक जूनियर इंजीनियर हैकरों के झांसे में फंसकर हैकरों के खाते में चार हजार रुपए जमा कर बैठे। मामले में अब पुलिस में शिकायत दर्ज करने की तैयारी की जा रही है।

हुआ यह कि जिला रेडक्रॉस सोसायटी के पूर्व चेयरमैन विनोद तिवारी का फेसबुक खाता 26 जनवरी की सुबह किसी ने हैक कर लिया और उनकी फ्रेंडलिस्ट में जुड़े नगर के कई पत्रकारों एवं अन्य लोगों से फेसबुक मैसेंजर के माध्यम से खुद को विनोद तिवारी के रूप में पेश कर चैटिंग करते हुए बताया कि उनके यानी तिवारी के एक दोस्त के साथ दुर्घटना हो गई है और वह दिल्ली के अस्पताल में भर्ती है। दोस्त के उपचार के लिए आर्थिक मदद की मांग की गई।

पत्रकार तो हैकरों के झांसे में नहीं फंसे और ज्योलीकोट के पत्रकार कैलाश जोशी ने श्री तिवारी को फोन कर सत्यता पता करनी चाही। इसके बाद तिवारी ने अपने फेसबुक मित्रों को उनका फेसबुक अकाउंट हैक होने की जानकारी देकर किसी झांसे में न फंसने की हिदायत दी, अलबत्ता इस बीच पता चला कि उनके अल्मोड़ा के जूनियर इंजीनियर मित्र राजबीर राणा ने हैकरों के झांसे में फंसकर उनके द्वारा भेजे गए बैंक खाते में चार हजार रुपए जमा करा दिये। तिवारी आज पुलिस में इस बाबत शिकायत दर्ज कर सकते हैं।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply