उफ ऐसा बदलता दौर : सहेली के साथ ‘लिव इन’ में 7 वर्ष से रहती थी महिला पुलिस कांस्टेबल, अब किसी दूसरी पर दिल आ गया तो…. मामला दर्ज

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

फिल्म ‘मौसम इकरार के, दो पल प्यार के’ के एक दृश्य में नायक मुकेश भारती व नायिका मदालशा शर्मा. (प्रतीकात्मक चित्र)

नवीन समाचार, भटिंडा, 30 नवंबर 2019। साढ़े सात साल पहले पंजाब पुलिस की एक महिला कांस्टेबल को अपनी सहेली से प्यार हो गया। दोनों के लिए अलग-अलग रहना मुश्किल हो गया तो समाज के विरोध के बावजूद और समाज की परवाह किए बिना लिव इन रिलेशन में रहने लगीं। लेकिन अब महिला कांस्टेबल को किसी अन्य युवती से प्यार हो गया है और दोनों के बीच संबंध बन गए हैं। इस पर लिव इन रिलेशन में रह रही उसकी सहेली ने आपत्ति की। अब दोनों ने एक-दूसरे के खिलाफ पुलिस को शिकायत की है।
अब महिला कांस्टेबल के खिलाफ उसकी सहेली ने आरोप लगाया है कि वह उसके साथ मारपीट करती है। युवती का कहना है कि उनकी आपस में शादी भी हुई थी, लेकिन महिला कांस्टेबल इससे इन्कार कर रही है। सहेली ने पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि महिला कांस्टेबल के एक अन्य युवती से संबंध हो गए हैं। इस कारण उनके रिश्ते खराब हो रहे हैं। इसी वजह से वह उससे मारपीट करती है। मारपीट किए जाने से उसके पैर में चोट आई है। कांस्टेबल धमकी देती है कि वह इस समय एसटीएफ में है। उस पर नशे का केस दर्ज करवाकर जेल में बंद करा देगी। पीड़ित युवती का कहना है कि वह पुलिस के पास भी गई, लेकिन इंसाफ नहीं मिला। कोई भी उसकी सुनवाई करने के लिए नहीं पहुंचा और न ही उसको अपनी बात रखने के लिए बुलाया गया। वह तो उसके लिए अपना घर-परिवार छोड़कर आई थी, लेकिन अब वही उसको घर से निकालना चाहती है ताकि दूसरी को लाया जा सके। दूसरी तरफ महिला कांस्टेबल ने भी थाना कैनाल कॉलोनी में सहेली के खिलाफ शिकायत दी हुई है। उसका कहना है कि उसकी सहेली से कोई शादी नहीं हुई है, लेकिन हम दोनों साथ रहते थे। अब हमारे बीच मतभेद हो गए हैं और हम साथ नहीं रह सकते। इस तरह पूरा मामला पुलिस के लिए सिरदर्द बन गया है। एसएसपी नानक सिंह का कहना है कि पुलिस को शिकायत मिली है और मामले की जांच की जा रही है।

यह भी पढ़ें : स्कूल से पेन लेने को निकली और दोस्त संग गौलापार में मिली कक्षा 8 की छात्रा

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 26 नवंबर 2019। वक्त न जाने बदलता हुआ किस ओर जा रहा है। यह सवाल मंगलवार को हल्द्वानी में बहुतों की जुबान पर रहा। शहर के एक स्कूल की आठवीं कक्षा की रेलवे बाजार क्षेत्र में रहने वाली छात्रा अपनी शिक्षिका से पेन लेने का बहाना कर को कक्षा से बाहर निकली, लेकिन लौट कर नहीं आई। इससे विद्यालय के साथ ही उसके घर तक हड़कंप मच गया। बनभूलपुरा चौकी पुलिस को सूचना मिली तो वह भी छात्रा की तलाश में जुट गई। आखिर सीसीटीवी कैमरे से कुछ सुराग मिलने पर वह मिली भी तो शहर से दूर गौलापार में अपने एक दोस्त किशोर के साथ। पुलिस ने उसे तो पीछा करके पकड़ लिया किंतु किशोर भाग खड़ा हुआ। पुलिस ने किशोरी को हिदायत देकर उसके परिजनों को सोंप दिया, जबकि किशोर के परिजनों को भी कोतवाली में तलब किया। पुलिस कह रही है कि यदि छात्रा के परिजन तहरीर देते हैं तो किशोर के खिलाफ मामला दर्ज किया जा सकता है।

राज्य के सभी प्रमुख समाचार पोर्टलों में प्रकाशित आज-अभी तक के समाचार पढ़ने के लिए क्लिक करें इस लाइन को…

यह भी पढ़ें : एक बलात्कार पीड़िता की दर्द भरी गुहार….

नवीन समाचार, नैनीताल, 21 नवंबर 2019। एक बलात्कार पीड़िता ने ‘नवीन समाचार’ को पत्र लिखकर न्याय की गुहार लगाई है। हम पीड़िता के पत्र को थोड़ा संशोधन करते हुए छाप रहे हैं, ताकि उसकी गुहार जिम्मेदार अधिकारियों तक पहुंचे…
नैनीताल जनपद के सीमावर्ती अल्मोड़ा जिले के जैंती क्षेत्र में रहने वाली व मूलतः अल्मोड़ा जिले के कोसी के एक गांव की रहने वाली पीड़िता का कहना है कि 4 दिसंबर 2017 को उसके साथ हल्द्वानी निवासी अरुण कुमार तिवारी नाम के व्यक्ति ने हल्द्वानी के तल्ला हिम्मतपुर कुसुमखेड़ा में बलात्कार व मारपीट की। इसकी शिकायत लेकर वह अल्मोड़ा जनपद के महिला थाने में गई, लेकिन उसकी शिकायत दर्ज करने से मना कर दिया गया। आगे बड़ी मुश्किल से 6 मार्च 2018 को अल्मोड़ा की एसएसपी महोदया के कहने पर उसकी शिकायत दर्ज हो पाई। इसके बाद भी पुलिस ने उसे काफी परेशान किया। पीड़िता के बयान बदल दिये। पीड़िता से पुलिस कर्मी को घटनास्थल दिखाया किंतु पुलिस कर्मी सबके सामने यह कहने लगा कि पीड़िता को घटनास्थल याद नहीं है। कोर्ट में भी पुलिस कर्मी ने यही कहा। पीड़िता का कहना है कि नैनीताल जिला न्यायालय में उसे परेशान किया गया। वह न्यायालय में अपने मामले की हर तारीख-6 अगस्त 2018, फिर 23 अगस्त, 7 सितंबर, 20 सितंबर, 11 अक्टूबर, 8 नवंबर व 3 दिसंबर 2018, फिर इस वर्ष 3 जनवरी, 21 जनवरी, 11 फरवरी, 19 मार्च, 27 अप्रैल, 6 मई, 20 मई, 3 जून, 4 जुलाई, 23 जुलाई, 8 अगस्त, 21 अगस्त व 10 सितंबर 2019 को न्यायालय में उपस्थित रही, लेकिन उसके हस्ताक्षर कोर्ट में नहीं कराये जाते थे। वह कहती तो उसे कहा जाता-तुम पीड़िता हो। तुम्हारे साइन हम नहीं कराएंगे। पीड़िता के बयान भी कोर्ट में अधूरे ही कराये गऐ और उसमें भी कुछ बदल दिये गये। अपनी बात कहने पर न्यायालय से धक्का मारकर बाहर कर दिया गया। उसका नाम भी मामले में अलग ही लिखा गया है। न्यायालय के कागजों में लिखा गया कि पीड़िता कोई गवाह नहीं लाई। आरोपित ने कोर्ट में अपने कार्यालय की लड़किया गवाह के रूप में पेश कीं। उनसे कोई भी पूछताछ नहीं की गई। आरोपित की ओर से एक लड़की ने जिसका नाम एफआईआर में था, ने स्वयं को कुवारी बताकर कोर्ट में झूठी गवाही दी कि आरोपित ने पीड़िता के साथ कोई बलात्कार नहीं किया। उससे भी कोई सवाल नहीं पूछे गये। जबकि वह शादीशुदा है और उसका हल्द्वानी जजी कोर्ट में अपने पति से केस चल रहा है। इसकी शादी कौर केस का सबूत पीड़िता ने न्यायालय में दिया, किंतु उससे यह सबूत नहीं लिया गया। उस लड़की की कोर्ट में गलत नाम से गवाही चल रही है। पीड़िता का कहना है कि वह अपनी इज्जत खो चुकी है। जिसका उसे बहुत दुःख होता है। उसने पुलिस, प्रशासन और पूरी व्यवस्था से न्याय चाहा किंतु उसे न्याय देने के बजाय पुलिस से लेके सरकारी वकील और सारे लोगों ने उसकी जाति (पीड़िता अनुसूचित जाति से है) के कारण उसका उत्पीड़न किया है, उसके साथ धोखा किया है। उसका कहना है कि आरोपित से न्यायालय में जो हस्ताक्षर कराये जाते थे लेकिन वह झूठे नाम से हस्ताक्षर करता था। इधर 22 अगस्त 2018 को न्यायालय के लोगों ने बताया कि आरोपित अरुण कुमार तिवारी को 12 साल की सजा हो गई है। लेकिन सजा के आदेश में आरोपित अरुण कुमार तिवारी का पता भी फर्जी है। साथ ही उसके ऑंफिस का पता भी झूठा लिखा गया है। आरोपित अभी भी खुले में घूम रहा है। वहीं बताया गया कि आरोपित को जिला न्यायालय से जेल की सजा हो चुकी है। अलबत्ता संभवतया उसे उच्च न्यायालय से जमानत मिल चुकी है।
इस पर पीड़िता का कहना है कि उसके मामले को जानबूझकर कमजोर किया गया है। जिस कारण आरोपित का पता आदि गलत दर्शाया गया। जिस कारण वह खुला घूम रहा है।
वहीं मामले में एक समाचार पत्र में छपे समाचार के अनुसार पीड़िता ने हल्द्वानी के एक मैरिज ब्यूरो संचालक पर शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया था। पीड़िता का कहना था कि 24 जून 2016 को उसने अपनी शादी के लिए आरोपित के मैरिज ब्यूरो में अपना पंजीकरण कराया था। लेकिन मैरिज ब्यूरो से एक वर्ष तक कोई रिश्ता नहीं किया। उसने जब मैरिज ब्यूरो के कार्ड में लिखे नंबर पर संपर्क किया तो संचालक ने उसे हल्द्वानी में रिश्ता ढूंढने का आश्वासन दिया। संचालक उसे अपने बर्थडे के बहाने अपने हल्द्वानी स्थित घर ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया। युवती ने इस मामले में अल्मोड़ा महिला थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई। अल्मोड़ा पुलिस ने मामला नैनीताल जिले के मुखानी थाने को ट्रांसफर कर दिया। वह पूर्व में भी पत्रकारों को कोई कार्रवाई न होने की बात कहते हुए आपबीती सुना चुकी है।

यह भी पढ़ें : हरियाणा-राजस्थान की लुटेरी दुल्हन का गैंग उत्तराखंड में गिरफ्तार, यहां भी थे शिकार दूल्हे की तलाश में..

प्रतीकात्मक फोटो।

नवीन समाचार, नैनीताल, 20 नवंबर 2019। उत्तराखंड में राजस्थान पुलिस ने एक ऐसी लुटेरी दुल्हनों के गैंग के चार सदस्यों को गिरफ्तार करने में सफलता पाई है, जो हरियाणा व राजस्थान में शादी के नाम पर कई लोगों को लूटकर उत्तराखंड आ गई और यहां भी किसी दूल्हे की तलाश में थी जो उनके चंगुल में फंस जाए।
बताया गया है कि राजस्थान के चिकसाना थाने में दो महिलाओं संतोष अंजलि व शिवानी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई थी कि उन्होंने गत सात नवंबर को वहां शादी के बाद एक दूल्हे को दूध में नशीला पदार्थ खिलाकर लगभग सात लाख रुपए के जेवर व नगदी लेकर फरार हो गई थीं। इस पर उनकी तलाश में पहुंची राजस्थान पुलिस के एएसआई केहरी सिंह, एचसीपी रामवीर सिंह व आरक्षी दिनेश ने उत्तराखंड के किच्छा थाना क्षेत्र अंतर्गत लालपुर गांव से स्थानीय पुलिस की मदद से इन महिलाओं के गिरोह के चार सदस्यों बरेली यूपी निवासी योगेश पुत्र ओमपाल, कमला पत्नी श्याम बिहारी, राहुल पुत्र रमेश व भावना पुत्री नेत्रपाल को गिरफ्तार किया। बताया कि इस गिरोह की महिलाएं भोले-भाले लोगों को झांसे में लेकर उनसे शादी कर लेती थीं और शादी के तत्काल बाद ही मौका देखकर घर वालों को नशीला पदार्थ खिलाकर लूटकर चंपत हो जाती थीं।

यह भी पढ़ें : अल्मोड़ा के पति-पत्नी के बीच मॉरीशस का ‘वो’, पिस रहा चार साल का बच्चा…

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 11 नवंबर 2019। रुद्रपुर में किराये के घर में रहने वाली एक विवाहिता पर मॉरीशस  में रहने वाले मूलतः बरेली निवासी युवक से इश्क का ऐसा भूत सवार हो गया है कि वह पति और चार साल के बेटे को छोड़कर अपने मायके चली गई है। पति ने इसकी शिकायत पत्नी के प्रेमी के परिजनों से की तो प्रेमी ने उसे अलग-अलग नंबरों से फोन करके जान से मारने की धमकी दे डाली। इससे परेशान प्रेमी ने पुलिस से मदद की गुहार लगाई है। विवाहिता मूलतः अल्मोड़ा जिले के दन्या क्षेत्र की जबकि उसका पति अल्मोड़ा का रहने वाला है। दोनों की 6 साल पहले शादी हुई थी। पत्नी आधुनिक विचारों की है। वह ससुरालियों की भी नहीं सुनती थी, इसलिए पति उसे लेकर रुद्रपुर में किराये के घर में रहने लगा। लेकिन यहां भी पत्नी की हरकतों में कोई सुधार नहीं आया और उसने मॉरीशस में रहने वाले युवक से दोस्ती गांठ ली। इश्क के इस पूरे घालमेल में चार वर्ष का मासूम अपनी मां के प्यार से वंचित हो रहा है।

Leave a Reply

Loading...
loading...