Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

हल्द्वानी में 16 साल की किशोरी की हुई ‘ऑनर किलिंग’! तो 18 के किशोर ने तीन दिन भूखा रह, जहर खाकर दे दी जान

Spread the love

मृतक किशोर

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 17 फरवरी 2019। हल्द्वानी के गौलापार बागजाला क्षेत्र में चार दिन पूर्व एक 16 वर्षीय किशोरी की उसके परिजनों के द्वारा प्रेम संबंधों के कारण ‘ऑनर किलिंग’ यानी सम्मान के लिए हत्या किये जाने की सनसनीखेज खबर सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी, जिसके बाद काठगोदाम पुलिस ने किशोरी के घर व अस्पताल सहित रानीबाग श्मशान घाट जाकर भी जांच की थी। तब मृतका के परिजनों ने उल्टी-दस्त को मौत की वजह बताया था। अब इस मामले में एक नया मोड़ आ गया है। बताया जा रहा है कि निकट के ही देवला तल्ला पजाया क्षेत्र निवासी एक 18 वर्षीय किशोर इंदर पाल पुत्र स्वर्गीय काशी राम ने बीते तीन दिनों से खाना-पीना छोड़ दिया था, और वह गहरे तनाव में था। इस बीच उसके पांव में भी अनजान कारण से चोट लगी थी और बीती शाम उसने विषपान कर लिया। परिजन उसे बचाने के लिए सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज ले गये, जहां इलाज के दोरान उसकी मौत हो गयी। आसपास के क्षेत्र के दो हमउम्र किशोर-किशोरी की मौत के दोनों मामलों को जोड़कर देखा जा रहा है। इधर मृतक के भाई जय पाल ने कहा है कि वह अपने भाई का मोबाइल चेक कराने सहित उसके द्वारा विषपान किये जाने की जांच करायेगा।

यह भी पढ़ें : किस ओर जा रहा समाज ? वेलेंटाइन वीक में एक लड़के के लिए दून की सड़कों पर हुआ छात्राओं का ‘गैंगवार’

नवीन समाचार, देहरादून, 13 फरवरी 2019। समाज किस ओर जा रहा है। खासकर अति स्वतंत्रता की नई-नई चली हवा में लड़कियां भी उस ओर बढ़ती नजर आ रही हैं जिसके लिए कभी वे लड़कों को कोसती और उन पर हंसती थीं। देहरादून के पटेल नगर थाना इलाके में लालपुल स्थित स्‍कूल के बाहर सोमवार को बीच सड़क पर छात्राओं में ‘गैंगवार’ हो गया। वजह बना वैलेंटाइन वीक का प्रॉमिस डे। एक ही क्‍लास की दो छात्राओं के बीच एक लड़के से दोस्‍ती को लेकर विवाद इतना बढ़ गया कि बाहर से लड़कियां बुलाकर सड़क पर हिसाब निपटाने उतर गईं।

स्‍कूल की छुट्टी के बाद बाहर निकल कर लड़का एक लड़की का हाथ पकड़कर चल रहा था। दूसरी छात्रा को यह नागवार गुजरा और दोनों एक दूसरे पर पिल पड़ीं। यही नहीं दोनों के पक्ष में उनकी अन्‍य दोस्‍त भी झगड़े में उतर गईं। दोनों पक्षों में जमकर मारपीट हुई। पुलिस की दो महिला कांस्‍टेबल भी मौके पर पहुंची, लेकिन उन्‍हें छुड़ा नहीं पायीं।

छुट्टी के बाद हुआ झगड़ा

मामला सोमवार दोपहर दो बजे सहारनपुर रोड पर लालपुल के पास हुआ। एसजीआरआर स्‍कूल की छुट्टी के बाद बच्‍चे बाहर निकले तो पुल के पास ही विवाद हो गया। गर्ल्‍स के बीच मारपीट हो गई। मौके पर स्‍कूल के कई बच्‍चे और लोग जमा हो गए, लोग वीडियो बनाते रहे, लेकिन किसी ने छात्राओं के बीच बचाव कर झगड़ा खत्‍म करने की कोशिश नहीं की। बाद में इस झगड़े के वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गए।

लोग रह गए हैरान

स्‍कूली बच्‍चों के बीच ऐसी खतरनाक मारपीट देखकर लोग हैरान रह गए। छात्राओं के मुंह से खून भी आ गया, लेकिन बीच सड़क पर झगड़ती लड़कियां रुकी नहीं। एक दूसरे को पटक पटक कर पीटा।

झगड़े में बाहर की लड़कियां भी

झगड़े में कुछ लड़कियां स्‍कूल ड्रेस में तो कुछ विदआउट ड्रेस में थी। ऐसे में संदेह यह भी है कि एक ग्रुप में कुछ लड़कियां बाहरी भी थीं। स्‍कूल की छुट्टी पर पहले से विवाद करने की साजिश रही होगी। वरना अचानक बाहरी लड़कियां कैसे झगड़े में शामिल हो गईं।

दो छात्राओं में विवाद, एक दर्जन कूदी झगड़े में

लालपुल स्थित फेमस स्‍कूल की एक ही क्‍लास की दो छात्राओं में लड़के से दोस्‍ती को लेकर तनातनी चल रही थी। छात्राओं ने दूसरी छात्रा पर हमला कर दिया। झगड़ा इतना बढ़ गया कि बीच सड़क पर स्‍कूल ड्रेस में एक दर्जन से अधिक लड़कियां में जमकर लात घूंसे चलते रहे। इस दौरान ट्रैफिक जाम भी हो गया। बाजार चौकी से पुलिस भी मौके पर पहुंची, बीच बचाव की कोशिश की गई, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। काफी देर मारपीट के बाद लड़कियां एक एककर मौके से भाग गईं। जाम लगने से लोगों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा।

इस तरह की कोई शिकायत नहीं आई

इंस्पेक्टर पटेलनगर सूर्य भूषण नेगी ने बताया कि छात्राओं के बीच मारपीट के वीडियो के वायरल होने की जानकारी तो मिली है, लेकिन पुलिस में इस तरह की कोई शिकायत नहीं आई है। बाजार चौकी पुलिस को छुट्टी के समय महिला पुलिस कर्मी की तैनाती करने को कहा गया है।

यह भी पढ़ें :वेंलेंटाइन डे से पहले ही उतर गया प्यार का बुखार, प्रॉमिस डे पर पत्नी बनी प्रेमिका पर चलाये लात-घूंसे चलाए

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 12 फरवरी 2019। गलत नहीं कहते कि प्यार का बुखार जल्दी ही उतर जाता है। प्यार का बुखार जिस प्यार को पाने के लिए जमाने भर से दुश्मनी मोल ली, अब उसी प्यार से निजात पाने के लिए प्रेमी तरह-तरह के हथकंडे अपना रहा है। मामला नगर के ट्रांजिट थाना क्षेत्र के शिवनगर की रहने वाली गरीब घर से ताल्लुक रखने वाली कंचन का है। उसके पिता जूते बेच कर घर चलाते हैं और कंचन एक डिस्पेंसरी में काम करके पिता का सहयोग करती थी। इधर सिडकुल की एक कंपनी में बतौर सुपरवाइजर काम करने वाला घासमंडी निवासी सौरभ राणा नाम का एक युवक हमेशा आते-जाते उसका पीछा करता था। उसके मना करने पर वह खुद को चोट पहुंचा कर कंचन को रिझाने की कोशिश करने लगा और ऐसा करते-करते वह कंचन को मनाने में कामयाब भी हो गया।

उफ़ वह दीवानगी !

कंचन ने बताया कि सौरभ उसके प्यार में पूरी तरह दीवाना हो चुका था। जब उसने सौरभ का प्रेम प्रस्ताव ठुकरा दिया तो वह और पागल हो गया। सौरभ पूरा पूरा दिन उस डिस्पेंसरी के बाहर बैठा रहता जहां कंचन काम करती थी। कई दफा तो सौरभ डिस्पेंसरी में भी घुसा और इसका खामियाजा कंचन को भुगतना पड़ा। कंचन को काम से निकाल दिया गया, लेकिन इसका सौरभ पर कोई असर नहीं पड़ा। जब कंचन काम से निकाली गई तो सौरभ ने उसके मोहल्ले में डेरा डाल लिया।

सात माह पहले दोनों अपने परिवार से भाग कर कोर्ट में शादी कर ली। कंचन के इस कदम का कंचन के घरवालों ने पहले विरोध किया और फिर मान गए। लेकिन कुछ समय बाद ही सौरभ के दिल ओ दिमाग पर छाया प्यार का खुमार उतरने लगा और वह कंचन से पीछा छुड़ाने के तरीके तलाशने लगा। उसने कंचन पर घर से एक लाख रुपये लाने का दबाव बनाया, जब कंचन अपने गरीब पिता का हवाला देती तो उसे सौरभ की पिटाई सहन करनी पड़ी। अब अकसर कंचन के साथ मारपीट होती और प्रॉमिस डे से पहले सौरभ ने उसे लात घूंसों से बुरी तरह पीटा और घर से निकाल दिया। जिसके बाद कंचन अपने घर आ गई और आज सुबह अपनी मां को लेकर ट्रांजिट कैंप थाने पहुंची। जहां पुलिस ने यह कर उसे चलता कर दिया कि मामला उसके थानाक्षेत्र का नहीं है।

यह भी पढ़ें : पहली शादी को छिपा कर ‘साजन चले थे दूसरी ससुराल’, छोटे भाई की हो गयी दुल्हन

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 10 फरवरी 2019। रिश्ता तय होने के बाद चोरी से दूसरी युवती से शादी रचाने वाले युवक को दोबारा शादी का सेहरा पहनना महंगा पड़ गया। वह गाजे बाजे के साथ बारात लेकर दुल्हन के द्वारा पहुंचा, लेकिन शादी की रस्म पूरी होने से पहले ही उसका भेद खुल गया। इस पर दुल्हन पक्ष के लोग भड़क गए। उन्होंने दूल्हे को बंधक बना कर पुलिस बुला ली। बाद में कुछ बुजुर्गों के हस्तक्षेप से दूल्हे के छोटे भाई से युवती की शादी की रस्म पूरी की गईं।
महानगर से एक युवक की शादी करीब डेढ़ वर्ष पहले तय हुई थी। दोनों परिवारों के बीच शादी की तिथि में सामंजस नहीं बैठने के कारण शादी लंबी खिंच गई। इस बीच युवक ने परिजनों की नाखुशी के बावजूद चुपचाप बरेली की एक युवती से शादी कर ली। इधर परिजन युवक की पहली शादी की बात को गोपनीय रखकर दो दिन पूर्व उसकी बारात लेकर बदायूं जिले के बजीरगंज पहुंच गए। लेकिन जयमाल से पहले ही किसी ने दुल्हन पक्ष को यह बता दिया कि जिस युवक के साथ वह बेटी ब्याह रहे हैं वह पहले ही शादी रचा चुका है। इस पर दुल्हन पक्ष के लोग भड़क गए। दूल्हे को बंधक बना लिया गया और शादी की तैयारियों में होने वाले खर्च की मांग करते हुए पुलिस भी बुला ली गई। इस पर मामला बिगड़ता देखकर वर पक्ष के लोगों ने सच्चाई स्वीकार कर ली। बाद में बुजुर्गों के हस्तक्षेप से दूल्हे के छोटे भाई से दुल्हन के फेरे करा दिए गए। तब जाकर मामला रफा दफा हो सका। उधर, जब यहां दुल्हन के साथ दूल्हा उतरा तो मोहल्ले के लोग हैरत में पड़ गए थे, क्योंकि यहां से दूल्हा बन कर कोई और गया था और दुल्हन लेकर उसका भाई उतरा। लिहाजा इस शादी की काफी चर्चा है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में ‘पुलिस वाले साजन’ चले थे ‘दूसरी ससुराल’, पर मंडप में ही बन गये ‘सैंडविच’, जानें कैसे.. ?

-दूसरी शादी कर रहे पुलिस वाले की मंडप में हुई जोरदार पिटाई, पुलिस वालों ने बमुश्किल बचाया, अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद भर्ती
नैनीताल, 24 नवंबर 2018। एक पत्नी के होते हुए दूसरी शादी करने चले एक ‘पुलिस वाले साजन’ शनिवार को दूसरी ससुराल बनाने चले थे कि ससुरालियों व पहली बीवी ने उन्हें मंडप में ही ऐसा ‘सैंडविच’ बना डाला कि अब हायर सेंटर के बेड पर अपने जख्मों का इलाज करा रहे हैं। जी हां, पहली पत्नी के होते दूसरी शादी करने के विषय पर बनी ‘साजन चले ससुराल’ व ‘सैंडविच’ जैसी फिल्मों की कहानी को एक पुलिस वाले के द्वारा शुक्रवार को सरोवरनगरी में घटित करने का प्रयास किया गया। लेकिन क्लाइमेक्स कुछ दूसरा रहा। मंडल में फेरे शुरू होने ही वाले ही थे कि अचानक दूल्हे बने पुलिस वाले की पहली पत्नी प्रकट हो गयी। उसने मंडप को तहस-नहस कर डाला और दूल्हे की पगड़ी उछालकर जमीन पर पटक दी। इसके बाद दूल्हे की ओर से अपनी पूर्व पत्नी को पहले पहचानने से इंकार करने के बाद समझाने का प्रयास किया गया, किंतु माजरा उनकी जगह दुल्हन के परिजनों और बारातियों की समझ में पहले आ गया। फलस्वरूप उन्होंने दूल्हे की जमकर इतनी पिटाई कर दी कि सूचना मिलने पर पहुंचे पुलिस कर्मी बमुश्किल उसे भीड़ के चंगुल से बचा पाये। उसे जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे उच्च केंद्र के लिए संदर्भित कर दिया। ऐसे में एक ओर उसकी पूर्व पत्नी उसे सबक सिखाने की बात कर रही है, वहीं दूसरी ओर दुल्हन पक्ष की ओर से शादी में हुए खर्चे के दुगने-20 लाख रुपये की मांग की जा रही थी। 
प्राप्त जानकारी के अनुसार पीएसी की सी कंपनी-31 बटालियन में वर्ष 2006 में भर्ती नगर के धूप कोठी-रुकुट कंपाउंड निवासी मयंक रौतेला पुत्र स्वर्गीय नंदन सिंह रौतेला का विवाह शनिवार को नगर के माल रोड स्थित सेंट्रल होटल में नगर के ही सात नंबर निवासी पूर्व सैनिक की पुत्री से हो रहा था। इस दौरान ही रुद्रपुर के इंद्रा कॉलोनी निवासी पहली पत्नी मंडप में पहुंची और हो-हल्ला मचाकर खुद को मयंक की पत्नी बताया। गीता का कहना था कि एक माह पूर्व ही मयंक और उसकी कोर्ट मैरिज हुई है। इस पर मयंक उसे पहले पहचानने से इंकार करते हुए बाद में चुप रहने के लिए समझाने लगा। लेकिन इसी दौरान दुल्हन पक्ष के लोगों व भीड़ ने आक्रोशित होकर बुरी तरह से उसकी पिटाई कर डाली। इसके बाद पुलिस उसे किसी तरह बचाकर अस्पताल ले गयी। उधर मल्लीताल कोतवाली पहुंचे दुल्हन पक्ष के लोगों ने विवाह में करीब 10 लाख रुपये का खर्च बताकर इसकी दोगुनी 20 लाख रुपये धनराशि की मांग कर डाली। उधर दुल्हन ने भी ऐसे दूल्हे से विवाह करने से इंकार कर दिया।

पहले साथी से पत्नी का तलाक कराया, हरिद्वार में तीसरी से भी संबंध बनाये

नैनीताल। नगर में आज दूसरी शादी करते हुए पिटे पीएसी कर्मी दूल्हे मयंक की कहानियां ही कहानियां हैं। उसकी पूर्व पत्नी ने बताया कि मयंक ने पहले उसका पूर्व पति से तलाक कराया। उसका पहला पति मयंक का दोस्त एंव उसी के बैच का पीएसी कर्मी था। मयंक दोस्त के घर अक्सर आया करता था, और लगातार घर आते हुए उसने उसे अपने झूठे प्रेम के जाल में फंसा लिया। इस पर पति-पत्नी के संबंध खराब होते चले गये। मयंक ने उसको पूर्व पति से तलाक लेने के लिये उकसाया। उसका पहला विवाह 2009 में हुआ था। उसका तब पूर्व पति से डेढ़ वर्ष का बेटा भी था। इस पर उसने पूर्व पति को तलाक का नोटिस दे दिया, और 30 मार्च 2014 से दोनों बेटे को साथ लेकर ‘लिव-इन रिलेशन’ में साथ रहने लगे। तलाक का पूरा खर्चा भी मयंक ने उठाया। इधर जून 2018 में तलाक मिलने के बाद पिछले माह 22 अक्तूबर 2018 को दोनों ने बकायदा विवाह न्यायालय में विधिवत विवाह कर लिया। उसने बताया कि इस बीच मयंक ने हरिद्वार में एक महिला पुलिस आरक्षी से भी संबंध बनाये। वहां महिला पुलिस आरक्षी मयंक से विवाह करने की जिद पर अड़ गयी थी। अलबत्ता, मयंक ही शादी करने से पीछे हट गया था। इधर शुक्रवार व शनिवार को मयंक व उसके दूसरे भाई का विवाह था। उसको पति ने केवल अपने भाई की शादी का ही कार्ड दिखाया था, और उसे तेज स्वभाव का बताकर शादी में आने से मना कर दिया था। किंतु उसे शक हो गया। उसने किसी तरह उसकी आज ही उसकी हो रही शादी का पता लगा लिया, और रुद्रपुर से यहां पहुंच गयी। उसने बताया कि मयंक व उसकी मां ने उसे समझाने का प्रयास किया कि शादी कर लेने दो। उसे पहली पत्नी का सम्मान देंगे, और आज हो रही शादी की दुल्हन से तलाक ले लेंगे। उसने कहा कि अब वह उसे नहीं छोेड़ेगी और उसका जीवन दूभर कर देगी।

नैनीताल राजभवन के पुलिस गेस्ट हाउस का प्रभारी है आरोपित दूल्हा

नैनीताल। पहली पत्नी के होते दूसरी शादी करने वाला आरोपित पीएसी में हेड कांस्टेबल के पद पर एवं मुख्यालय में राजभवन के गेट के पास स्थित पुलिस के गेस्ट हाउस का प्रभारी है। उसने पत्नी को रुद्रपुर में ही रखा हुआ था, और वहां आता-जाता रहता था। उसकी पत्नी का मायका भी रुद्रपुर में ही है, और वह वहीं विशाल कार बाजार में प्राइवेट नौकरी करती है। पत्नी के पिता पूर्व सैनिक रहे हैं, जबकि आज वह जिस युवती से विवाह कर रहा था, उसके पिता भी पूर्व सैनिक ही हैं।

शादी के दौरान मां को बीमार बताकर दो बार हुआ गायब

नैनीताल। दूसरी शादी कर रहा पुलिस कर्मी शनिवार को सुबह 9 बजे ही बारात लेकर पहुंच गया था, किंतु पूर्व पत्नी के आने की भनक लगने के बाद शादी के दौरान पहले धूलिअर्घ्य एवं बाद में जयमाल के दौरान दो बार विवाह समारोह से गायब हो गया था। बारातियों में शामिल मोहित साह ने बताया कि पहली बार वह रॉयल होटल व दूसरी बार इंडिया होटल के पास मिला, और पूछने पर मां को बीमार बताकर उसे देखने की बात कही। वहीं उसकी पूर्व पत्नी का कहना था कि इस दौरान वह दूल्हे की शेरवानी में ही मोटरसाइकिल पर अपनी मां के पास जाकर मामले को संभालने का प्रयास कर रहा था।

फॉलोअप: जानें क्या हुआ दूसरी शादी करने वाले ‘पुलिस वाले साजन’ और कहानी के अन्य किरदारों का

दूसरी शादी करने पर पिटते पुलिस वाले को बचाकर लाते पुलिस कर्मी
दूसरी शादी करने पर पिटते पुलिस वाले को बचाकर लाते पुलिस कर्मी

नैनीताल, 25 नवंबर 2018। शनिवार को एक पत्नी के होते पीएसी के हेड कांस्टेबल मयंक रौतेला द्वारा की जा रही दूसरी शादी के मामले में एक दिन बाद ऊपरी तौर पर काफी कुछ सामान्य हो गया है, अलबत्ता अंदर हर ओर दर्द ही दर्द है। जिस लड़की के साथ मयंक दूसरी शादी करने जा रहा था, उसने शादी करने से इंकार कर दिया था, अलबत्ता उसके परिवार ने शादी में हुए आर्थिक नुकसान और सामाजिक मान-प्रतिष्ठा को हुए नुकसान पर मयंक की मां के साथ आर्थिक नुकसान की करीब दो गुनी धनराशि, 20 लाख रुपये में समझौता कर लिया है। बताया गया कि शादी के आयोजन में करीब 10 लाख रुपये का नुकसान हुआ था। इस समझौते के तहत पीड़ित परिवार ने मयंक के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज नहीं कराया। इस कारण मयंक की पीएसी की नौकरी बच गयी है।
उधर पुलिस सुरक्षा में उसकी पहली पत्नी को उसके रुद्रपुर स्थित आवास पर पहुंचा दिया गया है। वह इस पूरे मामले से काफी आक्रोशित है, और मयंक का जीना जीवन भर दूभर करने की बात कह चुकी है।
इधर, मयंक की विधवा मां को 20 लाख रुपये का समझौता करना पड़ा है। दो लाख रुपये पीड़ित परिवार को दे दिये गये हैं, और शेष 18 लाख रुपये सोमवार को देने की बात मल्लीताल कोतवाली पुलिस के समक्ष तय हुई है। वहीं कल हुए विवाद के दौरान उसकी मां के हाथ में पहनी सोने की बनी ‘पहुंची’ के गायब होने की बात भी कही जा रही है। उधर कोतवाली पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मयंक हल्द्वानी के निजी अस्पताल में उपचार व विभिन्न शारीरिक जांचें करने के बाद स्वस्थ हो गया है।

सबको किया शर्मशार, पहुँचाया आर्थिक नुक्सान

इसके अलावा मामले में कुछ नये तथ्य भी सामने आये हैं, जिनके अनुसार मयंक की पहली पत्नी का पति का पति मयंक का रिस्ते का भाई ही था, और दोनों एक ही जाति के एवं एक ही अथवा आसपास के मूल गांव के रहने वाले थे। यानी मयंक ने अपने भाई का ही घर तोड़कर उसकी पत्नी से अपनी मां को जानकारी दिये बिना, यानी उनका भरोसा भी तोड़कर शादी रचा ली थी। मयंक के स्वर्गीय पिता बैंक कर्मी थे। उनकी मृत्यु के बाद उनकी जगह उसका बड़ा भाई नौकरी कर रहा है, जिसकी एक दिन पहले ही शादी हुई है। इस प्रकार मयंक ने अपनी हरकत से अपने बड़े भाई की पद-प्रतिष्ठा को भी चोट पहुंचाई है, और उसे उसके ससुराल पक्ष के समक्ष भी शर्मशार किया है।

एक को शादी का झांसा देकर दुष्कर्म कर दूसरी से करने चला था शादी, शादी के ठीक एक दिन पहले दर्ज हुआ मुक़दमा, शादी भी टूटी

नवीन समाचार, रूडकी, 27 जनवरी 2019। मनुष्य के अच्छे-बुरे कर्म उसकी राह में कभी समय पर तो कभी देर-सबेर आ ही जाते हैं। पिरान कलियर नगर पंचायत में तैनात एक क्लर्क पर एक युवती की तहरीर पर शादी का झांसा देकर एक साल तक दुष्कर्म करने के आरोप में दुष्कर्म और धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कर लिया गया  है। खास बात यह है कि आरोपित पर यह मामला उसकी रविवार 27 जनवरी को तय शादी की तिथि के ठीक एक दिन पहले दर्ज हुआ है इसके बाद दुल्हन पक्ष ने भी उससे शादी तोड़ दी है। मामला दर्ज होने के बाद आरोपित फरार हो गया है, और पुलिस उसकी तलाश कर रही है।
रुड़की  के सिविल लाइंस कोतवाली क्षेत्र निवासी युवती ने शनिवार को कोतवाली पहुंचकर शिवाजी नगर ढंडेरा निवासी एवं पिरान कलियर नगर पंचायत में क्लर्क के पद पर तैनात जितेंद्र पुरी पर शादी का झांसा देकर एक साल तक दुष्कर्म करने का आरोप लगाया था। युवती ने आरोप लगाया कि पुरी ने उसके साथ धोखे से शारीरिक संबंध बनाए थे, और इधर वह सहारनपुर के एक गांव निवासी युवती से शादी करने जा रहा था। उसने युवक से इसकी जानकारी ली तो उसने बात करने से इनकार कर दिया। पीड़िता ने पुलिस को तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की थी। पुलिस ने मामले की छानबीन करने के बाद जितेंद्र पुरी के खिलाफ धोखाधड़ी और दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कर लिया था। मुकदमा दर्ज होने के बाद गिरफ्तारी से बचने के लिए आरोपी घर से फरार हो गया था। इसकी जानकारी सहारनपुर निवासी युवती पक्ष को मिली तो वे शनिवार रात कोतवाली पहुंचे और पुलिस से जानकारी ली। पूरा मामला पता चलने के बाद युवती पक्ष ने शादी से इनकार कर दिया और युवक के परिजनों से अब तक खर्च हुए दस लाख रुपये वापस मांगे। कोतवाली प्रभारी अमरजीत सिंह ने बताया कि जितेंद्र पुरी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपी की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें : शादी के 2 साल बाद पत्नी को बीच बाज़ार छोड़ प्रेमिका के साथ फरार हुआ पति

नवीन समाचार, रूडकी, 24 जनवरी 2019।ससुराल से पत्नी को लेकर घर के लिए निकला पति प्रेमिका के साथ फरार हो गया। पत्नी ने घर जाकर मायके वालों को उसे बाजार में छोड़ जाने की बात कही। इस पर ससुरालियों ने छानबीन की तो पता चला कि युवक का एक युवती से प्रेम प्रसंग चल रहा है और वह उसके साथ ही गया है। पत्नी ने पुलिस को तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है।
सिविल लाइंस कोतवाली क्षेत्र स्थित एक गांव निवासी युवती की शादी भगवानपुर थाना क्षेत्र निवासी युवक से करीब दो साल पूर्व हुई थी। कुछ दिन पहले उसकी पत्नी मायके रहने आई थी। इधर बुधवार को उसका पति उसे लेने ससुराल आया था। यहां से पत्नी को लेकर वह रुड़की आया और पत्नी से बाजार में खरीदारी की बात कही। पत्नी एक दुकान पर खरीदारी कर रही थी कि युवक उसे छोड़कर गायब हो गया। पत्नी ने पति को गायब देख बाजार में उसकी तलाश की, लेकिन कुछ पता नहीं चला। इसके बाद वह मायके आ गई। यहां उसने पति के बाजार में छोड़कर गायब होने की बात बताई। ससुरालियों ने छानबीन की तो पता चला कि युवक का एक युवती से प्रेम प्रसंग चल रहा है। वह युवती के साथ गया है। कोतवाली प्रभारी अमरजीत सिंह ने बताया कि महिला के पति को बुलाया गया है।

यह भी पढ़ें : शर्मनाक ! बेटी की उम्र के भतीजे से लड़ा रही थी इश्क़, पति को पता चला तो उसी से करा दी पति की हत्या…

-भतीजे से चल रहे अवैध संबंधों में आढ़े आया पति तो पत्नी ने प्रेमी व दोस्त के साथ मिलकर कर दी गला घोंटकर हत्या
नवीन समाचार, देहरादून, 28 जनवरी 2019। अवैध संबंध में रोड़ा बन रहे पति की पत्नी के प्रेमी ने अपने दोस्त के साथ मिलकर गला घोंटकर हत्या कर दी। हत्यारोपी मंजीत (22) के मृतक देवेंद्र उर्फ टीटू की पत्नी व रिश्ते की चाची रीना (42) से अवैध संबंध थे। इस बात की जानकारी देवेंद्र को हो गई थी। इसलिये वह पत्नी पर निगाह रखने लगा था, जिसके चलते उसकी हत्या कर दी गई। मृतक पेशे से लोडर चालक था। खास बात यह भी है कि पत्नी ने ही इस मामले में अपने पति की गुमशुदगी दर्ज कराई और पुलिस के हाथ गिरेबां तक पहुंचते लगे तो प्रेमी संग गायब हो गयी। खास बात यह है कि महिला का कथित प्रेमी व उसके पति का हत्यारा उससे 20 वर्ष कम उम्र का उसका भतीजा है और महिला की बड़ी बेटी से कुछ ही बड़ा है। 
इधर खुलासा हुआ है कि देवेंद्र हत्याकांड का मास्टर माइंड 22 वर्षीय मंजीत हाल फिलहाल ही कुवैत से लौटा था। वह कुछ समय पूर्व ही कुवैत में नौकरी के लिए गया था, उसका पिता राज सिंह कुवैत में ही नौकरी करता है। कुवैत में रहने के दौरान ही मंजीत के अपने दूर के रिश्ते में चाचा लगने वाले देवेंद्र की पत्नी यानी अपनी चाची से प्रेमिका बनी रीना से प्रेम की शुरुआत करीब एक साल पहले हुई थी। 
बताया गया है कि देवेंद्र इन दिनों अपनी पत्नी रीना के साथ देहरादून के लक्ष्मण चौक के पास रह रहा था। रविवार देर शाम ढालूवाला मजबता निवासी रीना ने सिडकुल थाने में पहुंचकर खुद ही अपने पति देवेंद्र उर्फ टीटू (40) पुत्र जागेंद्र सिंह की गुमशुदगी दर्ज कराई। सिडकुल पुलिस ने हत्याकांड से पर्दा उठाते हुए संदेह के घेरे में आए मृतक के एक दोस्त रवि पुत्र सुरेश निवासी ढालूवाला मजबता को हिरासत में लिया, और उससे सख्ती से पूछताछ की तो रवि ने हकीकत उगल दी। रवि ने पूछताछ में कबूला कि 25 जनवरी को उसने एवं उसके गांव के ही दोस्त प्रीता उर्फ मंजीत ने देवेंद्र को गांव में ही बुलाया था। यहां उन्होंने एक सुनसान स्थान पर बैठकर शराब पी। शराब पीने के बाद उसने एवं मंजीत ने मिलकर देवेंद्र की गला दबाकर हत्या कर दी और शव गन्ने के खेत में फेंक दिया। इसके बाद आरोपी की निशानदेही पर सिडकुल पुलिस ने गन्ने के खेत से शव बरामद कर लिया। वहीं रवि के पकड़े जाने की भनक लगते ही रीना अपने प्रेमी के साथ फरार हो गयी है। पुलिस दोनों की तलाश कर रही है।

यह भी पढ़ें : धर्म की पहचान छुपाकर शादी-दुष्कर्म करने वाले अधिवक्ता को हुई 7 वर्ष की सजा…

नवीन समाचार, देहरादून, 22 जनवरी 2019। धर्म की पहचान छुपाकर युवती को प्रेम जाल में फंसाकर शादी करने और उससे दुष्कर्म करने वाले वकील को अपर सत्र न्यायाधीश चतुर्थ शंकर राज की अदालत ने दोषी करार देते हुए सात साल के कारावास और 30 हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है।

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता जया ठाकुर के अनुसार देहरादून निवासी एक युवती ने 12 जनवरी 2018 को अब्बास अली नाम के अधिवक्ता के खिलाफ पटेलनगर थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। युवती की शिकायत के अनुसार वह साल 2013 में एक दुकान पर काम करती थी, वहां अनिल नाम का खुद को अधिवक्ता बताने वाला एक युवक भी आता था, जिससे उसकी दोस्ती हो गई। दिसंबर 2017 में अनिल ने युवती के समक्ष शादी करने का प्रस्ताव रखा, जिस पर दोनों ने 11 दिसंबर 2017 को अनिल के कुछ दोस्तों की मौजूदगी में मसूरी में पंडित के जरिये सनातन रीति रिवाज से शादी कर ली। इसके बाद अनिल उसे लेकर बड़ोवाला के एक मकान में आ गया। सुबह वह युवती को कमरे में छोड़कर बाहर निकला और किसी से बात करने लगा। युवती ने उसकी बातें सुनी तो पता चला कि उसका नाम अनिल नहीं बल्कि अब्बास है। इस पर जब उसने विरोध किया और खुद को फंसाए जाने की बात कही तो वह धमकी देने लगा। इस बीच उसे यह भी पता चला कि अब्बास दूसरी शादी भी करना चाहता है। इसके बाद वह थाने पहुंची और अब्बास के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया, इस पर पुलिस ने तय समय सीमा में ही आरोपपत्र दाखिल कर दिया। इस मुकदमे में अभियोजन की ओर से पंडित समेत सात गवाह पेश किए गए। इनकी गवाही और तमाम साक्ष्यों के आधार पर न्यायालय ने उसे सात साल की सजा और तीस हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है।

यह भी पढ़ें : सगाई के डेढ़ साल बाद शादी करने से मुकरा युवक तो देना पड़ा हर्जाना

नवीन समाचार, नैनीताल, 21 जनवरी 2019। कालाढुंगी निवासी एक टैक्सी चालक ने मल्लीताल कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत रहने वाली नगर की युवती से सगाई के डेढ़ साल बाद शादी करने से इन्कार कर दिया। इससे गुस्साए लड़की पक्ष ने युवक के खिलाफ कोतवाली में तहरीर दे दी। दोनों पक्षों के बीच तीखी बहस के बाद युवक का परिवार सगाई पर हुए एक लाख रुपये खर्च देने को राजी हो गया। इस पर दोनों पक्षों में समझौता हो गया।
बताया गया है कि दोनों की शादी की बात पक्की होने के बाद करीब डेढ़ साल पहले सगाई हुई थी। लेकिन बाद में वह शादी करने से लगातार टालमटोल करता रहा। इधर करीब दो सप्ताह पहले युवती की ओर से मल्लीताल कोतवाली में सगाई के बाद शादी करने से मुकरने को लेकर तहरीर दी गई थी। जबकि इधर पुलिस के बुलाने पर युवक व उसके परिजन कोतवाली पहुंचे तो युवती भी पहुंच गई और कार्रवाई की मांग करने लगी। इस दौरान युवक ने शादी से साफ इंकार कर दिया, जिसके बाद लड़की पक्ष की ओर से सगाई में खर्च की भरपाई की मांग की गई, जिसके बाद दोनों पक्षों में एक लाख रुपये का चेक देने पर समझौता हो गया। इसके बाद युवती की ओर से मामले में किसी तरह की कार्रवाई नहीं करने संबंधी प्रार्थना पत्र पुलिस को सौंप दिया गया।

यह भी पढ़ें : पहले पत्नी छोड़ी, अब प्रेमिका को छोड़कर भागा युवक, दोनों ने पुलिस से की कार्रवाई की मांग

नवीन समाचारहरिद्वार, 18 जनवरी 2019 । युवक ने प्रेमिका के लिए पहले अपनी पत्नी को छोड़ दिया और फिर प्रेमिका को भी छोड़कर फरार हो गया। कोतवाली पहुंची युवक की पत्नी और प्रेमिका ने युवक पर गंभीर आरोप लगाते हुए पुलिस से कार्रवाई की मांग की है।
पुलिस ने छानबीन की तो पता चला कि युवक शहर स्थित एक होटल में गुपचुप तरीके से रह रहा है। वह अब प्रेमिका के बजाय पत्नी के साथ रहना चाहता है।
पुलिस के अनुसार, गंगनहर कोतवाली क्षेत्र निवासी युवक के घर पर एक महिला अपने पति के साथ किराए पर रहती थी। इस बीच महिला और मकान मालिक के शादीशुदा बेटे के बीच प्रेम प्रसंग हो गया। युवक अपनी पत्नी को छोड़ कर  प्रेमिका  के साथ फरार हो गया और शहर से बाहर रहने लगा। कुछ दिनों बाद वह प्रेमिका को लेकर वापस आया तो युवक के पिता ने दोनों को घर से बाहर निकाल दिया। लिहाजा युवक अपनी प्रेमिका और उसके आठ साल के बेटे को लेकर शहर स्थित एक होटल में रहने लगा। कुछ दिन होटल में रहने के बाद वह प्रेमिका को छोड़कर फरार हो गया। प्रेमिका ने उसके घर पहुंचकर जानकारी ली तो पता चला कि वह घर नहीं लौटा। प्रेमिका ने उसकी आसपास तलाश की, लेकिन कुछ पता नहीं चला। शनिवार को युवक की पत्नी और प्रेमिका दोनों कोतवाली पहुंचीं और युवक पर कार्रवाई की मांग की। पुलिस ने दोनों को समझाकर वापस भेज दिया। एसएसआई रणजीत तोमर ने बताया कि तहरीर आने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

प्रेमिका की शादी रोकने को पुलिस से गुहार

रुड़की में रहकर पढ़ाई कर रहे ऊधमसिंह नगर जिले के बाजपुर थाना क्षेत्र स्थित एक गांव निवासी युवक ने प्रेमिका की शादी रुकवाने के लिए पुलिस से गुहार लगाई है। युवक ने सिविल लाइंस कोतवाली पहुंचकर बताया कि प्रेमिका के परिजन जबरन उसकी शादी दूसरी जगह कर रहे हैं। शनिवार को उसने सिविल लाइंस कोतवाली पहुंचकर पुलिस को बताया कि उसका पास के ही गांव निवासी युवती से पिछले पांच साल से प्रेम प्रसंग चल रहा है।
प्रेमिका के परिजनों को इसका पता चला तो उन्होंने करीब दो माह पूर्व उसकी मर्जी के बिना शादी दूसरी जगह तय कर दी। विरोध किया तो जान से मारने की धमकी दी गई। युवक ने बताया कि प्रेमिका ने शादी तय करने की जानकारी मोबाइल पर उसे दी। साथ ही बताया कि परिजन उसकी जबरन शादी करना चाहते हैं। युवक ने बताया कि 22 जनवरी को प्रेमिका की शादी है। प्रेमिका लगातार फोन कर शादी रोकने की बात कह रही है। युवक ने पुलिस से शादी रुकवाने की गुहार लगाई। एसआई नरेंद्र सिंह ने बताया कि युवक प्रेमिका की शादी रुकवाने के लिए आया था। इसके बाद वह वापस ऊधमसिंह नगर जाने की बात कहकर चला गया।

यह भी पढ़ें : 7 साल के प्यार, थाने में निकाह व विदाई पर तीन तलाक की दिल दहलाने वाली दास्तान

वीन समाचार, रामनगर, 7 फरवरी 2019। पहले 7 साल का प्रेम प्रसंग, फिर थाने में निकाह और अब विदाई से पहले तीन तलाक। यूपी के रामपुर थाने में निकाह के बाद अपने मायके नैनीताल के रामनगर आई महिला को उसके पति ने पत्र भेजकर तीन तलाक दे दिया। इससे दुखी पीड़िता ने महिला आयोग की पूर्व उपाध्यक्ष अमिता लोहनी से न्याय की गुहार लगाई। बड़ी मस्जिद खताड़ी निवासी महिला ने लोहनी को बताया कि वह जिला रामपुर यूपी के थाना टांडा बादली में नानी के घर रहती थी।वहां पड़ोस में रहने वाले युवक से उसका सात साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था। जब युवक ने शादी करने से इंकार कर दिया तो उसने थाने में शिकायत की। इसके बाद 30 जून 2018 को थाने में निकाह हुआ और तय हुआ कि फरवरी 2019 में विदाई की जाएगी। विदाई से पहले ही 17 जनवरी को युवक ने नोटरी के माध्यम से भेजे गए पत्र से तीन तलाक दे दिया।

यह भी पढ़ें ; तीन तलाक कानून के तहत उत्तराखंड में पहला मामला दर्ज, पीड़िता ने पीएम मोदी को कहा शुक्रिया…

नवीन समाचारहरिद्वार, 18 जनवरी 2019 । पत्नी को तीन माह में तीन नोटिस भेजकर तीन तलाक देने वाले पति पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। पत्नी पहले भी पति के खिलाफ दहेज मांगने के आरोप में मुकदमा दर्ज करा चुकी है। इसे तीन तलाक पर आए नए कानून-मुस्लिम महिला (अधिकार एवं विवाह संरक्षण) अध्यादेश 2018 के तहत उत्तराखंड के रुड़की में पहला मुकदमा बताया जा रहा है। पुलिस ने मामले में केवल पति को नामजद किया है हालांकि अभी गिरफ्तारी नहीं की गई है। पुलिस का दावा है कि अधिनियम की संपूर्ण जानकारी जुटाने के बाद आगे की कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
तीन तलाक पर मुकदमा दर्ज होने के बाद शबाना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया। उनका कहना है कि प्रधानमंत्री ने तीन तलाक पर जो कानून बनाया है, वह मुस्लिम महिलाओं के लिए इंसाफ दिलाने वाला है। जो महिलाएं तीन तलाक की तकलीफ से परेशान हैं, उन्हें इस कानून से इंसाफ मिल रहा है। वहीं पुलिस के अनुसार, आजाद नगर निवासी शबाना परवीन पुत्री शरीफ अहमद की शादी वर्ष 2011 में मेहताब अली पुत्र मुनफैद निवासी 16/13 सकरी रोड, मोदीनगर जिला गाजियाबाद उत्तर प्रदेश से हुई थी। आरोप है कि शादी के बाद ससुराल में दहेज के लिए महिला का उत्पीड़न किया जाने लगा। इस दौरान महिला को एक बेटा भी हुआ। इसके बाद भी महिला पर ससुराल में अत्याचार होता रहा। इस पर महिला अपने मायके रुड़की आकर रहने लगी और महिला हेल्पलाइन में शिकायत की। इसके बाद महिला हेल्पलाइन में पति-पत्नी की काउंसलिंग हुई। पति उसके साथ रहने को राजी हो गया और अपने साथ ले गया, लेकिन इसके बाद फिर से शबाना का उत्पीड़न शुरू हो गया। पति उसके साथ मारपीट करने लगा। लिहाजा महिला अपने पांच साल के बेटे के साथ मायके आ गई। आरोप है कि दो जनवरी को मेहताब ससुराल पहुंचा और शबाना के साथ गालीगलौज कर मारपीट की। साथ ही तीन तलाक का नोटिस देकर जान से मारने की धमकी देकर चला गया। शबाना ने गंगनहर कोतवाली पहुंचकर पति के खिलाफ तीन तलाक का नोटिस देने, मारपीट और जान से मारने का आरोप लगाकर तहरीर दी। कोतवाली प्रभारी प्रदीप बिष्ट ने बताया कि आरोपी मेहताब अली के खिलाफ मुस्लिम महिला (अधिकार एवं विवाह संरक्षण) अध्यादेश 2018 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। फिलहाल अभी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं की गई है। अधिनियम की पूरी जानकारी जुटाने के बाद मामले में आगे की कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें : दो देशों की सीमाओं के बीच गूंजा- तलाक, तलाक, तलाक !

देवभूमि की बेटी को नेपाल से पति ने फोन पर दिया तीन तलाक़

नवीन समाचारहरिद्वार, 17 जनवरी 2019। तीन तलाक के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। नेपाल में बैठे एक व्यक्ति ने मोबाइल पर बातचीत के दौरान कहासुनी होने पर  देवभूमि उत्तराखंड में मौजूद पत्नी को तीन बार तलाक बोल दिया। आरोपित मूलतः रुड़की के लंढौरा का रहने वाला है और काम करने नेपाल गया है। पीड़ि‍ता ने ज्वालापुर कोतवाली में तहरीर दी। पुलिस ने उसे महिला हेल्पलाइन भेज दिया है।

ग्राम सराय निवासी ई-रिक्शा चालक सलीम अहमद ने करीब डेढ़ साल पहले अपनी बेटी फरजाना की शादी लंढौरा कस्बा निवासी सऊद पुत्र सोनू से की थी। सोनू ईंट भट्टों की चिमनी बनाने का काम करता है। चार नवंबर को वह अपने कुछ साथियों के साथ काम करने नेपाल गया था।उसी दौरान वह पत्नी को मायके में सराय छोड़ गया था। बुधवार को पत्नी के मोबाइल पर नेपाल के नंबर से पति ने कॉल की। दोनों के बीच किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई। आरोप है कि सऊद उर्फ सोनू ने पत्नी फरजाना को तीन बार तलाक बोलते हुए उसके साथ रिश्ता रखने से इनकार कर दिया। फरजाना ने इसकी जानकारी अपने परिवार को दी। उन्होंने दामाद से संपर्क किया और तीन तलाक की बाबत जानकारी ली। सऊद ने उनसे बातचीत में भी तलाक देने की बात कुबूल की और पत्नी को साथ रखने से इनकार कर दिया। मायके वालों का कहना है कि सऊद के लंढौरा निवासी परिवार से भी उन्होंने इस बारे में बातचीत की, पर उन्होंने भी कोई पहल नहीं की। तब पीड़िता को लेकर मायके वाले ज्वालापुर कोतवाली पहुंचे।उन्होंने मोबाइल पर हुई बातचीत की रिकॉर्डिंग भी पुलिस को सुनाई। पुलिस ने उन्हें महिला हेल्पलाइन भेज दिया है। वहीं पीड़ि‍ता के मायके में इस घटना के बाद से कोहराम मचा है। उन्होंने पति के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। एसएसपी जन्मेजय प्रभाकर खंडूड़ी ने बताया कि इस मामले की जांच कराई जाएगी। अगर पति ने तीन तलाक दिया है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

यह भी पढ़ें : शादी के तीन वर्ष बाद पत्नी को फोन पर बोला ‘तीन तलाक़

नवीन समाचार, लक्सर (हरिद्वार), 12 जनवरी 2019। शादी के तीन वर्ष के भीतर मायके आई विवाहिता से फोन पर तीन बार तलाक बोलकर पति ने रिश्ता तोड़ लिया। इस पर विवाहिता ने लक्सर कोतवाली पुलिस से शिकायत कर कार्रवाई की मांग की है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।
लक्सर कोतवाली क्षेत्र केे एक करीबी गांव निवासी युवती का निकाह लगभग तीन साल पहले उत्तर प्रदेश में कैराना क्षेत्र के इससोपुर फुरगान गांव निवासी युवक के साथ हुआ था। युवती के मुताबिक उनकी शादी से ससुराल वाले खुश नहीं थे। आरोप है कि परिवार में रोजाना हो रहे झगड़ों से परेशान होकर वह पति के साथ कर्नाटक रहने लगी। इसी बीच दिसंबर 2018 में युवती के ससुरालियों ने उसके मां के बीमार होने की सूचना दी थी। इसके बाद पति और पत्नी कर्नाटक से वापस ससुराल आ गए। इधर बीते नौ जनवरी को विवाहिता का पति उसे मायके छोड़कर गया था। इसके बाद उसने विवाहिता को फोन कर तीन बार तलाक कहकर उससे रिश्ता तोड़ लिया। पति के फोन पर तीन तलाक कहने की जानकारी जैसे ही विवाहिता के परिवार वालों को मिली तो उनके होश उड़ गए। शनिवार को विवाहिता ने अपने परिजनों के साथ लक्सर कोतवाली पहुंचकर ससुरालियों के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी है। उधर, कोतवाल अमर चंद शर्मा का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें : तीन तलाक, हलाला पर देश के पहले मामले में पति गिरफ्तार

नवीन समाचार, नानकमत्ता, 6 दिसंबर 2018। तीन तलाक, हलाला पर देश के पहले मामले में तीन तलाक के बाद पत्नी को हलाला की शर्त पर अपनाने का दबाव बनाने वाले पति को पुलिस ने मुस्लिम महिला विवाह संरक्षण अध्यादेश 2018 के तहत गिरफ्तार कर लिया है। नानकमत्ता थानाध्यक्ष डीआर वर्मा ने बताया कि पीड़िता के आरोपित पति अतीक अहमद को रतनपुर फुलैया के पास से गिरफ्तार कर लिया गया है।

पूर्व समाचार : यह है पूरा  मामला

नानकमत्ता, 21  नवंबर 2018। देश में तीन तलाक पर अध्यादेश आने के बाद भी मुस्लिम महिलाओं का उत्पीड़न थमा नहीं है। अलबत्ता मुस्लिम महिलाएं जागरूक जरूर हो गई हैं। उत्तराखंड के छोटे से कस्बे नानकमत्ता में एक महिला और उसके पति के बीच मामला तीन तलाक-हलाला के बीच अजीबोगरीब स्थिति बन गयी है। पीड़िता का कहना है कि पति ने उसे तीन तलाक नहीं दिया, किंतु पति तीन तलाक दे चुकने की बात कह रहा है, और अब अपनाने-साथ रखने के लिए किसी अन्य से हलाला करने का दबाव बना रहा है। महिला का कहना है कि उसका पति उसे साथ रखने से इंकार कर रहा है। उसने जब अपनी पति की इस जाहिलाना हरकत का विरोध किया तो पति ने कह दिया कि वह उसे तलाक दे चुका है। इसलिये वह किसी के साथ हलाला यानी विवाह करे, तभी वह उससे दुबारा निकाह करके उसे अपना सकता है। पीड़िता ने समझौता न करते हुए पति के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया है। पुलिस ने भी मामले में कार्रवाई शुरू कर दी है।

मामला नानकमत्ता के निकटवर्ती ग्राम ड्योड़ी गांव का है। यहां एक महिला ने अपने पति अतीक अहमद के खिलाफ पुलिस में तहरीर देकर कहा है कि दो अक्टूबर 2016 को उसका निकाह हुआ था। उसका यह भी आरोप है कि अतीक ने अपनी पूर्व पत्नी की मृत्यु के बाद खुद को अविवाहित बताकर उससे धोखे से निकाह किया था। निकाह के बाद से पति का व्यवहार उसके प्रति ठीक नहीं रहा। वह समय-समय पर उससे दुर्व्यवहार करता रहता था। इधर बीते अक्तूबर माह में उसके पति ने उसे बिना बताए ही उसकी मां से तीन तलाक देने की बात कही, और उसे छोड़ दिया। उसने जब इसका विरोध किया तो उसे फिर से साथ रखने के लिए फिर से निकाह करने और इससे पहले हलाला करने का दबाव बनाने लगा। इसका उसने कड़ा विरोध किया, जिसके लिए उसने कई धमकियां दीं। उसने आरोप लगाया कि पति उसका उत्पीडन कर रहा है। इससे आजिज होकर उसने पुलिस से गुहार लगाई, जिस पर पति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पीड़िता का कहना है कि इस तरह महिलाओं के चरित्र का हनन करने वाले पति के खिलाफ वह चुप नहीं बैठेगी। थानाध्यक्ष डीएल वर्मा के अनुसार महिला की तहरीर के बाद उसके पति के खिलाफ 3/4 मुस्लिम महिला विवाह संरक्षण अधिनियम अध्यादेश 2018 के तहत अवैधानिक तरीके से तीन तलाक बोलने व हलाला के लिए दबाव बनाने के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। थानाध्यक्ष के अनुसार अध्यादेश आने के बाद देश में दर्ज हुआ यह पहला मामला है। कहा कि जल्द आरोपी की गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें : झूठे प्यार की दर्दनाक कहानी, पहले तलाक दिलवाया, फिर निकाह को बच्चे आंखों में खटके तो बहन संग मिलकर उन्हें भी मरवा दिया

पुलिस गिरफ्त में आरोपित।

नवीन समाचार, रुड़की, 5 जनवरी 2019। अवैध संबंधों की एक ऐसी प्रेम कहानी प्रकाश में आई है, जिसमें युवक ने विवाहिता से प्रेम के नाम पर पहले अवैध संबंध बनाये। इस कारण महिला का अपने पति से तलाक हो गया इसके बाद जब महिला से निकाह करने की बात आई तो उसके दो मासूम बच्चे आंखों में खटकने लग गये। यहां तक कि उसने उन दोनों मासूमों की हत्या कर दी। हत्या में प्रेमिका की बहन यानी मासूमों की सगी मौसी की भी संलिप्तता रही है। इस प्रकार अवैध संबंधों की इस प्रेम कहानी ने दो मासूम बच्चों की जिंदगी खो दी। जबकि उनकी सगी मौसी ने ही अपनी बहन को धोखा देकर और रिश्तों को शर्मसार कर मासूम बच्चों का अपहरण कर उनकी हत्या करने में भागेदारी की। वहीं प्रेमी ने भी न प्रेम ही निभाया और ना ही अवैध संबंधों के लिए भी वफादार रहा। परिणाम महिला ने अपने पति के बाद अपने दो मासूम बच्चों के साथ ही अपने प्रेमी और बहन को भी खो दिया है।
तलाकशुदा महिला से निकाह करने के लिए युवक के द्वारा अपने दोस्त, और महिला की सगी बहन के साथ मिलकर उसके दो मासूम बच्चों, छह साल की महक और चार साल के अर्श उर्फ चांद को गंगनहर में फेंक कर हत्या करने के दिल को दहलाने वाले इस मामले में पुलिस ने दोनों युवकों और मृत बच्चों की मौसी को गिरफ्तार कर लिया है। हत्याकांड का मास्टर माइंड ग्राम प्रधान का भाई है।
एसपी देहात मणिकांत मिश्रा ने मंगलौर कोतवाली में पत्रकारों को बताया कि बीती 2 जनवरी को तलाकशुदा महिला हिना पत्नी आरिफ निवासी टोली कस्बा मंगलौर की तहरीर पर मंगलौर कोतवाली में उसके दो मासूम बेटा-बेटी का अपहरण होने का मुकदमा दर्ज किया गया था। सीओ मंगलौर मनोज कुमार कत्याल व इंस्पेक्टर गिरीश चंद शर्मा द्वारा की गयी जांच में पुलिस ने बच्चों की मां हिना के प्रेमी ताविस से सख्ती से पूछताछ की तो उसने सच उगल दिया। आरोपी ताविस ने बताया कि उसने अपने दोस्त आजम व बच्चों की मौसी आरजू के साथ मिलकर बच्चों को गाड़ी में नशीला पदार्थ खिलाकर ले गया, और पुरकाजी के समीप नहर में फेंक दिया। आरोपी ताविस के बताये अनुसार पुलिस टीम ने गंग नहर में गोताखोरों की मदद से बच्चों की तलाश कराई लेकिन बच्चों का कोई पता नहीं लग पाया। पुलिस ने तीनों आरोपी ताविस, आजम और आरजू को गिरफ्तार कर लिया।

चार वर्ष पूर्व हुआ पति से तलाक

मायके से यूपी के ननौता सहारनपुर की रहने वाली हिना डांस पार्टी में काम करती है और मंगलौर में किराये के घर में रहती है। डांस पार्टी में साथ काम करने वाले ताविस से उसकी मुलाकात और आगे दोनों के बीच प्यार परवान चढ़ने लगा, तथा दोनों के बीच अवैध संबंध भी कायम हो गए। लेकिन ताविस को उसके दोनों बच्चों पसंद नहीं थे। इसी कारण करीब चार साल पूर्व हिना का अपने पति आरिफ से तलाक भी हो गया था। हिना के आरिफ से दो बच्चे हैं। इधर ताविस तलाकशुदा हिना से निकाह तो करना चाहता था लेकिन बच्चों को नहीं रखना चाहता था। इसीलिए ताविस ने बच्चों को ठिकाने लगाने के लिए खौफनाक साजिश रच डाली। इस साजिश को अंजाम देने में हिना की सगी बहन आरजू भी शामिल हो गई। आरजू भी मन ही मन ताविस को चाहती थी। दोनों रातों में लंबी-लंबी बात किया करते थे। इस बात की जानकारी हिना को नहीं थी।

प्यार में कुछ भी: परिजनों को नींद की गोलियां खिला प्रेमियों के पास पहुंची लड़कियां, एक की हालत गंभीर

नवीन समाचार, रुड़की, 11 जनवरी 2019। गंगनहर कोतवाली क्षेत्र में दो किशोरियों ने परिजनों को खाने में नींद की गोली दे दी। इसके बाद किशोरियां अपने प्रेमियों से मिलने जा पहुंची। सुबह परिजनों को मामले की जानकारी मिलने पर हंगामा हो गया। प्रेमी फरार हो गए और गुस्साए परिजनों ने प्रेमी के साथी का कॉलेज से लौटते वक्त अपहरण का प्रयास किया। पुलिस ने छात्र से मारपीट करने के आरोप में एक युवक को हिरासत में लिया है। नींद की गोली के असर से परिवार के एक सदस्य की तबीयत बिगड़ गई। गंगनहर कोतवाली क्षेत्र निवासी दो किशोरियों का पड़ोस में किराये पर मकान लेकर निजी कॉलेज से पढ़ाई कर रहे युवकों से प्रेम प्रसंग चल रहा था। मंगलवार रात किशोरियों ने परिजनों को खाने में नींद की गोली डाल दी। परिवार के बेहोश होने पर दोनों रात करीब एक बजे प्रेमियों से मिलने पहुंच गई। सुबह परिवार को होश आने पर किसी तरह उन्हें मामले की जानकारी मिलने पर हंगामा खड़ा हो गया। गुस्साए परिजन प्रेमियों को पकड़ने के लिए उनके कमरे पर पहुंचे। लेकिन वह वहां से फरार मिले। इसी बीच किसी ने  परिजनों को सूचना दी की प्रेमियों का साथी भगवानपुर क्षेत्र स्थित एक कॉलेज में पढ़ता है। जानकारी मिलने पर गुस्साए परिजन कार लेकर कॉलेज पहुंचे और पेपर देकर लौट रहे छात्र के अपहरण का प्रयास किया। गुस्साए परिजनों ने छात्र से गाली गलौज करते हुए जमकर मारपीट की। मारपीट में छात्र के शरीर के कई हिस्सों में चोट लगी। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और पीड़ित छात्र को लोगों से किसी तरह छुड़ाकर अपने साथ कोतवाली ले आई। इंस्पेक्टर प्रदीप बिष्ट ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। छात्र से मारपीट करने को लेकर एक युवक को हिरासत में लिया गया है।

पूर्व समाचार : जिंदगी की जंग भी हारी पिछले रविवार कथित प्रेमी द्वारा जिंदा जलाई छात्रा

नवीन समाचार, नई दिल्ली , 23 दिसंबर 2018। पौड़ी जिले में पिछले रविवार को परीक्षा देकर लौटने के दौरान कथित प्रेमी द्वारा पेट्रोल डालकर जलाई गई छात्रा 8 दिन तक जूझने के बाद जिंदगी की जंग हार गई है। छात्रा ने सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान रविवार करीब 11 बजे दम तोड़ दिया। छात्रा का पहले जिला अस्पताल पौड़ी, फिर मेडिकल कॉलेज श्रीनगर व एम्स ऋषिकेश के बाद दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में उपचार चल रहा था, जहां आज छात्रा ने दम तोड़ दिया।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड की ‘निर्भया’ के लिए निकाले ‘कैंडल मार्च’

नवीन समाचार, नैनीताल, 24 दिसंबर 2018। पौड़ी की छात्रा ‘निर्भया’ की कथित प्रेमी द्वारा पेट्रोल डालकर की गयी हत्या के विरोध में जिला व मंडल मुख्यालय में भी लोगों में आक्रोश व्याप्त है। लोगों ने इस मामले में छात्रा के हत्यारे को फांसी की सजा दिये जाने की मांग भी की है। इस घटना के विरोध में सोमवार को नगर के आवागढ़ एवं स्टाफ हाउस क्षेत्र के नगर पालिका सभासदों-राजू टांक एवं सागर आर्य के नेतृत्व में स्थानीय लोगों ने सोमवार शाम ढलने के बाद मोमबत्तियां जलाकर जुलूस निकाला। जुलूस के बाद जुलूस में शामिल लोगों ने दिवंगत छात्रा की आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन रखकर प्रार्थना की। जुलूस में सभासद सुरेश चंद्र, बॉबी खान, संतोश बोरा, मोनू टांक, अमित, सोनू टांक, आशु उपाध्याय, सौरभ पवार, विमल शर्मा, जतिन शर्मा, नीतू आर्या, भगवती देवी, हिमांशु उपाध्याय आदि शामिल रहे। उधर महिला कांग्रेस कार्यकर्ताओं के द्वारा भी देर शाम महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्य के आह्वान पर मोमबत्तियां जलाकर दिवंगत आत्मा को श्रद्धांजलि दी गयीं।

पूर्व समाचार : मनमानी का विरोध करने पर युवती को पेट्रोल डालकर जलाया, 70 फीसद जली युवती, हालत नाजुक

बीएससी द्वितीय वर्ष की छात्रा है पीड़िता, पूर्व परिचित है आरोपित, युवक के खिलाफ बयान दे चुकी है पीड़िता
नवीन समाचार, पौड़ी, 16 दिसंबर 2018। पौड़ी जिले की कफोलस्यूं पट्टी में अपनी परिचित युवती के साथ मनमानी करने की जिद में अंधे एक सिरफिरे युवक द्वारा दिल दहला देने वाली घटना को अंजाम दिये जाने का मामला सामने आया है। युवती के साथ मनमानी किये जाने की अपनी चाहत में असफल रहने पर इस युवक ने युवती को आग के हवाले कर दिया। ग्रामीणों ने 108 की मदद से युवती को जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया, जहां उपचार के बाद चिकित्सकों ने युवती को मेडिकल कॉलेज श्रीनगर रेफर कर दिया है। चिकित्सकों के अनुसार युवती 70 फीसद से अधिक जल चुकी है। उसकी हालत नाजुक बतायी गयी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार शाम करीब पांच बजे पल्ली गांव निवासी एवं बीजीआर परिसर पौड़ी में बीएससी द्वितीय वर्ष की 19 वर्षीया छात्रा परिसर से प्रयोगात्मक परीक्षा देकर स्कूटी से घर लौट रही थी। इसी बीच वाहन चालक का कार्य करने वाले उसके पूर्व परिचित गहड़ गांव निवासी युवक मनोज सिंह उर्फ बंटी ने उसका पीछा करते हुए पौड़ी से लगभग 18 किलोमीटर दूर अगरोड़ा के निकट आली भीमली के समीप उससे जबरदस्ती करने की कोशिश की। विरोध करने पर युवक ने युवती पर पहले से साथ लाया हुआ पेट्रोल छिड़ककर उसे आग के हवाले कर दिया। इस दौरान युवती चीखती-चिल्लाती रही। लेकिन ग्रामीण सड़क होने के चलते कोई मदद नहीं मिल पाई। कुछ देर बाद एक ग्रामीण दलवीर सिंह ने लड़की को जलता देख उसे बचाने का प्रयास किया व युवती के पड़े होने की सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी। पुलिस 108 की मदद से युवती को जिला चिकित्सालय पौड़ी लाई। जहां डॉक्टरों ने प्राथमिक उपचार के बाद युवती को मेडिकल कॉलेज श्रीनगर रेफर कर दिया। उधर कोतवाली पौड़ी से एक टीम आरोपित की दबिश में गहड़ गांव रवाना हो गई है। साथ ही मौके से मिली स्कूटी, पेट्रोल की बोतल व चाबी को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी गई है। बताया गया है कि युवती ने पुलिस को गहड़ गांव निवासी बंटी उर्फ मनोज को पहले से जानने सहित घटना के बारे में काफी कुछ जानकारियों संबंधी बयान दे दिया है। यह भी बताया जा रहा है आरोपित बंटी ने ही पीड़िता की मां को फोन करके इस घटना की जानकारी दी और खुद गायब हो गया।

यह भी पढ़ें : कभी सुना है, खुद से आधी उम्र के नाबालिग को महिला बनाती है अपनी हवस का शिकार

-बदनाम करने की धमकी देकर पिछले 10 माह से कर रही है यौन शोषण, पौक्सो में मामला दर्ज
नवीन समाचार, काशीपुर, 13 दिसंबर 2018। अब तक आपने पुरुषों द्वारा कम उम्र बच्चियों, किशोरियों, युवतियों के यौन शोषण की खबरें तो सुनी होंगी, लेकिन यह शायद अपनी तरह की पहली घटना होगी, जिसमें एक विवाहिता महिला पर खुद से करीब आधी उम्र के नाबालिग रिश्तेदार को अपनी हवस का शिकार बनाने का आरोप लगा है। अदालत के आदेश पर महिला के के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू हो गई है।
संबंधों को तार-तार करने वाली एक ऐसी घटना काशीपुर में सामने आई है। नगर के मोहल्ला ओझान निवासी व्यक्ति ने अपने अधिवक्ता संजीव कुमार आकाश के माध्यम से न्यायालय में प्रार्थना-पत्र देकर कहा था कि उसने अपनी पुत्री की शादी सात वर्ष पहले गुरुनानक कॉलोनी निवासी व्यक्ति से की थी। उसका नाबालिग पुत्र अपनी बहन की ससुराल आता-जाता रहता था। आरोप है कि इस बीच उसकी पुत्री की जेठानी उसके नाबालिग पुत्र के साथ पिछले करीब 10 माह से नाजायज संबंध बना रही थी। यही नहीं आरोपित ने नाबालिग को अपनी हवस पूरी करने के लिए भी मोहरा बना लिया। दबाव बनाया कि नाबालिग ने उसकी जरूरत पूरी नहीं की तो वह समाज में उसे बदनाम कर देगी। डर की वजह से पुत्र घर से रुपये और कीमती जेवरात लाकर भी उसे देता रहा। काफी समझाने के बाद नाबालिग बेटे ने यह बात घर में बताई। मामले की तहरीर पुलिस को सौंपने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। इस पर पीड़ित ने बेटे के नाबालिग होने के प्रमाण में आधार कार्ड प्रस्तुत कर विशेष न्यायाधीश पाक्सो की अदालत में प्रार्थना-पत्र दिया। इस पर न्यायालय कोतवाली पुलिस को मामला दर्ज कर मामले की जांच के आदेश दिए।

यह भी पढ़ें : घर में झांक रहा था, पत्नी से अवैध संबंधों के शक में कर दी हत्या

देहरादून, 15 नवंबर 2018। पत्नी से अवैध संबंधों के शक में देहरादून के राजपुर क्षेत्र की वीर गब्बर सिंह बस्ती में जितेंद्र नाम के व्यक्ति ने पड़ोस में रहने वाले सचिन (20) नाम युवक की बीती देर रात्रि चाकू से गोदकर हत्या कर दी है। मृतक के परिजनों की शिकायत पर मुकदमा दर्ज कर आरोपी को हिरासत में ले लिया गया है।
पुलिस के अनुसार आरोपी जितेंद्र मूर्ति क्षेत्र में मजदूरी करता है। उसे शक था कि पड़ोस में रहने वाले सचिन और उसकी पत्नी के बीच अवैध संबंध हैं। बीती देर रात जितेंद्र की पत्नी और उसकी बहन किसी शादी समारोह में गए हुए थे, और जितेंद्र घर पर अकेला था। उसी वक्त सचिन उसके घर के बाहर टहलकर कथित तौर पर तांक-झांक कर रहा था। पहले ही शक के घेरे में चल रहे सचिन को देखकर जितेंद्र आपा खो बैठा और उससे झगड़ा करने लगा, तथा इसी बीचघर के अंदर से चाकू लाकर उसने सचिन के शरीर पर एक के बाद एक कई वार कर दिए। इस पर सचिन मौके पर लहूलुहान होकर गिर पड़ा। कुछ ही देर में मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। सूचना पर कुछ देर बाद पुलिस भी वहां पहुंच गई। मौके पर सचिन लहूलुहान हालत में पड़ा था। पुलिस उसे लेकर मैक्स अस्पताल पहुंची, जहां चिकित्सकों ने सचिन को मृत घोषित कर दिया। सचिन के पिता बलवीर सिंह ने जितेंद्र के खिलाफ तहरीर दी है, जिसके तहत हत्या के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पुलिस ने आरोपी जितेंद्र को हिरासत में भी ले लिया है।
बताया जा रहा है कि जितेंद्र की पत्नी काफी समय सचिन से मिलती जुलती थी। एकाध बार उसने पत्नी को युवक के साथ देखा भी था। इसी बात को लेकर पति पत्नी के बीच विवाद रहता था। प्राथमिक जांच में पता चला है कि जितेंद्र ने पत्नी को साजिश के तहत घर से बाहर भेजा था ताकि यदि सचिन उसकी पत्नी से मिलने आए तो वह उसकी हत्या कर सके।

यह भी पढ़ेः नौकरी वाले दामाद की चाह वाले परिवार से तीन बच्चों के बाप ने ठगे डेढ़ लाख

नैनीताल, 12 नवंबर 2018। हल्द्वानी के लामाचौड़ क्षेत्र के एक परिवार को नौकरी वाले दामाद की चाह महंगी पड़ गयी। एक युवक ने बेटी वालों के इस लालच को भांपकर खुद को बीएसएफ का जवान बताकर परिवार को झांसे में लिया, और उनकी बेटी से शादी करने का वादा कर डेढ़ लाख की रकम ठग ली। अब पता चला है कि युवक न केवल विवाहित बल्कि तीन बच्चों का बाप भी है, और बीएसएफ में भी नहीं है। गनीमत रही कि लामाचौड़ पुलिस ने धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करने के साथ आरोपित को गिरफ्तार कर लिया।
बताया गया है कि हल्द्वानी के आरटीओ रोड निवासी आरोपित हंसराज गोस्वामी पुत्र भगवान गिरी गोस्वामी करीब दो माह पूर्व बेटी के नौकरी वाला वर ढूंढ रहे परिवार के संपर्क में आया था। उसने खुद को चंडीगढ़ में तैनात बीएसएफ का जवान और अविवाहित बताया। उसने बकायदा युवती से सगाई की और कुछ दिन उनके घर रहा भी। इधर करीब डेढ़ माह पूर्व उसने लड़की के पिता से अपनी भाभी की तबीयत खराब होने का बहाना बनाकर ऑपरेशन के लिए डेढ़ लाख रुपये ठग लिये। और उसके बाद से परिवार से कन्नी काटने लगा। ऐसे में पीड़ित परिवार ने जब युवक के बारे में खोजबीन करवाई तो पता चला कि वह शादीशुदा होने के साथ तीन बच्चों का बाप भी है, तथा बीएसएफ का जवान भी नहीं है।

यह भी पढ़ेः घर की ‘दहलीज़ लांघ’ प्रेमी के पास गई, उसने छोड़ा तो तीसरे के साथ रहने लगी और फिर…

काशीपुर, 14  अक्तूबर 2018। महिलाऐं क्या पुरुष भी घर की ‘दहलीज’ लाघें तो क्या हो सकता है, काशीपुर की एक महिला की कहानी यही बयां  करती है। दरअसल लिव इन रिलेशन में रह रही एक महिला ने आर्थिक तंगी के चलते जहर खाकर जान दे दी है। पुलिस के अनुसार उसने अपने प्रेमी के चक्कर में अपने पति को छोड़ा था, लेकिन उसका प्रेमी भी उससे नाता तोड़कर चला गया था। इसके बाद वह एक अन्य शादीशुदा अधेड़ के साथ ‘लिव इन रिलेशन’ में रह रही थी। उक्त व्यक्ति ने जब महिला को खर्च आदि देना कम कर दिया तो आर्थिक तंगी से परेशान होकर महिला ने जान दे दी। अब अधेड़ व्यक्ति की पत्नी ने दया दिखाकर मृतका के बेटे का पालन पोषण करने की बात कही है।
बदरीनाथ (चमोली) निवासी बीना बिष्ट (35) ने पांच वर्ष पूर्व पति को छोड़कर प्रेमी संग शादी कर ली थी। लेकिन शादी के एक साल बाद ही प्रेमी ने उसे छोड़ दिया। इसके बाद पूर्व पति ने भी उसे नहीं अपनाया। इधर तीन वर्ष पहले वह अपने सात वर्षीय बेटे के साथ रोजगार के तलाश में रामनगर आ गई। यहां उसकी मुलाकात पीरूमदारा (रामनगर) निवासी एक अधेड़ से हुई। नौकरी दिलाने की बात कहकर अधेड़ उसे अपने साथ ले गया और शादी का झांसा देकर उसे अपने साथ रख लिया। कुछ समय बाद उसने काशीपुर के ग्राम फसियापुरा में उसे किराए पर कमरा लेकर दे दिया। इस दौरान खर्च को लेकर वह बीना को तंग करने लगा। बेटे को स्कूल भेजने की बात पर अक्सर दोनों में बहस होती थी।
मकान स्वामी ने बताया कि आर्थिक तंगी और बेटे को लेकर बीना ने शनिवार दोपहर जहर खा लिया। एक निजी अस्पताल में उसकी मौत हो गई। रविवार को पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने शव उक्त व्यक्ति को सौंप दिया। मृतका के मायके वालों को सूचना दे दी गई है। उनके आने के बाद अंतिम संस्कार किया जाएगा।

यह भी पढ़ेः ससुराल में रहता था घर जवांई, पत्नी के थे मायके के युवक से संबंध, आढ़े आया तो कर दी हत्या, दो माह बाद मिला कंकाल

आरोपित पत्नी व उसका प्रेमी।

चमोली। 2 अक्टूबर 2018। उत्तराखंड के दूरस्थ गांवों तक भी इस तरह के अपराधों का रोग लग गया है। चमोली जिले के विकासखंड दशोली के दूरस्थ पाणा गांव में कथित तौर पर एक महिला के द्वारा  अपने प्रेम संबंधों में आढ़े आ रहे पति की प्रेमी की मदद से हत्या कर शव को खाई में फेंकने का दिल दहला देने वाला मामला प्रकाश में आया है। राजस्व पुलिस के अनुसार मामले में हत्या के करीब दो माह बाद महिला व उसके कथित प्रेमी को गिरफ्तार कर उनकी निशानदेही पर राजस्व पुलिस ने मृतक के पैर का एक हिस्सा बरामद किया है। मृतक अपनी ससुराल में घर जंवाई के तौर पर रहता था। उसके दो बच्चे हैं। जबकि उसकी पत्नी के अपने ही गांव के युवक से प्रेम संबंध बताये गये हैं। प्रेमी युवक के शादीशुदा है। उसकी पत्नी उसके दूसरी महिला से संबंधों के कारण दो वर्ष पूर्व उसे छोड़कर अपने मायके जा चुकी है। इस प्रकार इस घटना से मृतक के दोनों बच्चों का भविष्य अंधकारमय हो गया है, वहीं कथित प्रेमी के पत्नी और परिवार को जीवन भर के लिए बिन दिये ही जीवन भर के लिये सजा मिलनी तय है।
घटना 29 जुलाई 2018 की बतायी गयी है। राजस्व पुलिस के अनुसार पाणा गांव में गुड्डू सिंह (44 वर्ष) पुत्र चंद्र सिंह मूल निवासी करछों जोशीमठ के लापता होने की गुमशुदगी बीती 20 सितंबर को राजस्व पुलिस पटवारी गौंणा में दर्ज कराई गई थी। इस पर नंदप्रयाग के राजस्व उप निरीक्षक हरीश भंडारी व गौणा के राजस्व उप निरीक्षक नीरज स्वरूप के नेतृत्व में जांच टीम गठित की गई थी। इधर मंगलवार को सूचना के आधार पर जांच टीम ने लापता गुड्डू सिंह की पत्नी तुलसी देवी ( 31 वर्ष) की स्थिति को संदिग्ध देखते हुए उससे पूछताछ की, तो मामले में प्रेम संबंधों के चलते हत्या के राज का खुलासा हुआ। राजस्व पुसि के दावे के अनुसार तुलसी देवी के 36 वर्षीय खिलाफ सिंह निवासी पाणा से कथित तौर पर प्रेम संबंध थे। इस प्रेम में उसका पति गुड्डू आड़े आ रहा था। 29 जुलाई की रात को जब खिलाफ सिंह प्रेमिका तुलसी देवी के घर मिलने आया तो इस दौरान घर के ही एक कमरे में सो रहे गुड्डू ने उन्हें रंगे हाथों पकड़ लिया। इस पर तुलसी व खिलाफ सिंह ने गुड्डू का गला दबाकर हत्या कर दी, और मध्य रात्रि को दोनों ने शव को कंधे में लादकर करीब एक किमी दूर पनडुंगरा गधेरे में फेंक दिया। जहां से आज उनकी निशानदेही पर शव के पैर का एक हिस्सा और मृतक के कपड़े बरामद कर लिये गये। आगे इसका डीएनए परीक्षण कराया जाएगा। इसके बाद दोनों आरोपितों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया गया है।

यह भी पढ़ेः प्रेमिका से ब्रेकअप पर अमेरिका छोड़ा, घर लौटा, मां-बाप को भूला और झूल गया फांसी पर

हल्द्वानी, 30 सितंबर 2018। एक दौर में युवाओं के द्वारा देश के लिए अपने परिवार को भूलकर फांसी के तख्ते पर झूलने की गर्व से शीष ऊंचा और सीना चौड़ा करने वाली खबरें आती थीं। लेकिन इधर महज अपनी विदेशी प्रेमिका से ब्रेकअप होने पर अमेरिका में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे एक उदीयमान मेधावी युवा, परिवार के इकलौते बेटे के द्वारा पढ़ाई अधूरी छोड़ अमेरिका से वापस घर लौटने और घर पर माता-पिता, भाई-बहनों की परवाह किये बिना मानसिक अवसाद में फांसी पर लटककर अपनी जीवनलीला समाप्त करने का दिल-दहला देने वाला मामला प्रकाश में आया है।
पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार हल्द्वानी के लोहरियासाल मल्ला में दुर्गानगर गली नंबर तीन निवासी सेवानिवृत्त सहायक वन संरक्षक (एसीएफ) भूपेंद्र सिंह जीना के इकलौते बेटे निहाल सिंह (26) ने शनिवार को फांसी लगाकर जान दे दी। पुलिस की पूछताछ से पता चला है कि उसका अमेरिका में रहने वाली युवती से ब्रेकअप हो गया था। इसी कारण वह पढ़ाई बीच में छोड़कर देश लौट आया था। मृतक के पिता ने पुलिस को बताया कि उनकी चार बेटियों में निहाल सिंह इकलौता बेटा था। उसने बंगलुरु से बीटेक किया था। एमएस की पढ़ाई करने करने के लिए वह अमेरिका के पोर्टलैंड चला गया। उसका जून 2018 में कोर्स पूरा होना था लेकिन प्रेमिका से ब्रेकअप होने पर वह पढ़ाई बीच में छोड़कर मार्च 2018 में ही देश लौट आया। यहां आने पर उसने दिल्ली में कुछ दिनों तक नौकरी की, लेकिन काम में उसका मन नहीं लग रहा है। इधर दो दिन पहले रात में उसने कनाडा में नौकरी के लिए फार्म भरा था, जिसके लिये पांच अक्तूूूबर को मुंबई में उसका इंटरव्यू था। इस हेतु चार अक्तूबर का उसने हवाई जहाज का टिकट भी बुक कराया था। उसकी तीन बहनें अमेरिका में हैं। इनमें से दो बहनों की शादी हो चुकी है, जबकि एक बहन मुंबई में नौकरी करती है।

यह भी पढ़ें : सड़क के लिए तीन महिलाओं ने साथ गले में डाल दिये फांसी के फंदे

नैनीताल, 30 सितंबर 2018। वहीं एक अन्य घटना में उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले के जिला मुख्यालय से तीन किलोमीटर दूर स्थित पोखरी गांव निवासी महिलाओं के एक समूह के द्वारा अपने गलों में फांसी के फंदे डालने की खबर है। बताया गया है कि यहां 250 दिन से सड़क की मांग को लेकर धरना दे रहे ग्रामीणों ने पहले जिला मुख्यालय में कनस्तर बजाकर प्रदर्शन किया। इस दौरान एक पूर्व सैनिक शूरवीर सिंह नेगी कलेक्ट्रेट के प्रेक्षागृह की छत पर चढ़ रस्सी के सहारे झूल गया और तीन महिलाओं- उषा देवी, बबली नेगी और रामी नेगी ने गले में रस्सी का फंदा डाल दिया। बमुश्किल पुलिस ने किसी तरह उन्हें रोका। पूर्व सैनिक को भी बलपूर्वक छत से उतारा गया। पुलिस ने प्रदर्शन करने वाले ग्रामीणों को हिरासत में लेकर शांति भंग में चालान किया।
बताया गया है कि पोखरी गांव में करीब 40 परिवार रहते हैं। ग्रामीण लंबे समय सेे नेहरू पर्वतारोहण संस्थान के मोड़ से गांव तक सड़क बनाने की मांग कर रहे हैं। वर्ष 2004 में यह सड़क स्वीकृत हुई थी। वर्ष 2006 में वन भूमि भी हस्तांतरित भी कर दी गई, लेकिन इसके बाद मामला एलाइनमेंट में फंस गया। यह विवाद इतना लंबा चला कि वर्ष 2015 में भारत सरकार ने सड़क निर्माण की स्वीकृति यह कहते हुए निरस्त कर दी कि लंबे समय से सड़क का निर्माण नहीं किया गया। इस पर लोनिवि और प्रशासन से जवाब भी मांगा गया। बाद में किसी तरह मामला सुलझा तो इसी साल मई में पड़ोस के गांव के लोगों ने सड़क निर्माण के खिलाफ नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में याचिका दायर की। याचिका में कहा गया है कि सड़क निर्माण के लिए चीड़ के पेड़ काटे जाएंगे। डीएम आशीष चौहान ने बताया कि पोखरी गांव की सड़क का मामला एनजीटी में चल रहा है। इसलिए अभी इसमें कोई कार्यवाही संभव नहीं है। ग्रामीण शांतिपूर्वक आंदोलन कर सकते हैं। आंदोलन उग्र करेंगे तो कार्रवाई करनी पड़ेगी।

यह भी पढ़ें : खुद से दोगुनी उम्र की दो बच्चों की मां को बच्चों सहित भगा ले गया पेंटर !

नैनीताल, 28 सितंबर 2018। बृहस्पतिवार को सर्वोच्च न्यायालय से भारतीय दंड संहिता की धारा 497 को अवैध घोषित करने के दौरान ही नगर में एक सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। आरोप है कि एक पेंटिंग का काम करने वाले व्यक्ति पर खुद से करीब दोगुनी उम्र की दो बच्चों की मां को उसके दोनों बच्चों के साथ भगा ले गया है। पति की तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने मामला इसी धारा के तहत दर्ज कर लिया है। मल्लीताल कोतवाली पुलिस के अनुसार नगर के प्रोफेस्ट लॉज मल्लीताल निवासी व्यक्ति ने मल्लीताल कोतवाली में तहरीर देकर अपनी 35 वर्षीया पत्नी के बीती 20 सितंबर से दोनों बच्चों-एक पुत्र व एक पुत्री सहित गायब होने की शिकायत दर्ज करायी है, साथ ही घर में आने-जाने और पेंटिंग का काम करने वाले 20 वर्षीय वासिफ नाम के युवक पर उसे भगा ले जाने का शक जाहिर किया है। पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 498 के तहत मामला पंजीकृत कर लिया है।

यह भी पढ़ें : अब देश में संचालित 859 पोर्न वेबसाइटों का बंद होना तय, उत्तराखंड हाईकोर्ट ने दिये केंद्र एवं आईएसपी को यह बड़े आदेश

नैनीताल, 27 सितंबर 2018। उत्तराखण्ड उच्च न्यायालय की कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश राजीव शर्मा और न्यायाधीश मनोज कुमार तिवारी की खंडपीठ ने बच्चों में (अश्लील) पोर्न साइटों की बढ़ रही लत को गंभीरता से लेते हुए केन्द्र सरकार एवं आईएसपी यानी इंटरनेट सर्विस प्रोवाईडरों को इंटरनेट पर उपलब्ध 859 पोर्न वेबसाईटों को सख्ती से बंद करने के आदेश दिए हैं। उल्लेखनीय है कि देहरादून के भाऊवाला स्थित जीआरडी स्कूल में 10वीं कक्षा की छात्रा के साथ चार नाबालिग छात्रों के द्वारा सामूहिक दुष्कर्म के मामले में आरोपियों के द्वारा पोर्न वेबसाईटों को देखकर यह घिनौने अपराध को अंजाम देने की बात प्रकाश में आयी थी। इसे संज्ञान लेते हुए खंडपीठ ने बच्चों में पोर्न साइटों के जरिये अश्लीलता की बढ़ रही लत को गंभीरता से लेते हुए देश भर में चल रही 859 पोर्न वेबसाईटो को बंद करने के आदेश दिए, ताकि बच्चों के मन में गलत प्रभाव ना घर कर सके और लगातर बढ रही बलात्कार जैसी घटनाओ को रोका जा सके। उल्लेखनीय है कि इस मामले में राज्य सरकार ने भी जीआरडी स्कूल की मान्यता रद्द कर दी है।

लिंक क्लिक कर यह भी पढ़ें : बलात्कार, मीडिया, सरकार, समाज और समाधान..

यह भी पढ़ें : विदेशी वेबसाइटें बोल रहीं युवा पीढ़ी पर अश्लीलता का हमला

  • पाकिस्तान में बना था भीमताल का चर्चित एमएमएस !
  • इंटरनेट पर अप्रेल 2010 से है मौजूद
नवीन जोशी,  नैनीताल। सीमाओं के हमले देश की सेनाओं को नुकसान पहुंचाते हैं, पर देश के भीतर बाहरी दुनिया से एक ऐसा हमला हो रहा है, जिससे देश की युवा पीढ़ी के कोमल मन के साथ तन पर तो अश्लीलता का जहर घुल ही रहा है, आर्थिक रूप से भी बड़ी कीमत चुकानी पड़ रही है। मोबाइल पर पाकिस्तान सहित अन्य देशों के नंबरों से फोन आने एवं विदेशों से करोड़ों रुपऐ की लॉटरी खुलने जैसी खबरों के बीच एक और हमला विदेशी अश्लील पोर्न साइटों की ओर से किया जा रहा है। इसी कड़ी में सनसनीखेज खुलासा हुआ है कि गत दिनों भीमताल में स्कूली छात्रा का चर्चित एमएसएस पाकिस्तान में बना हुआ है। यह एमएमएस बीते करीब एक वर्ष से इंटरनेट पर उपलब्ध है।

उल्लेखनीय है की नवंबर-दिसंबर 2010 में निकटवर्ती भीमताल के एक होटल के नाम से एक स्कूली छात्रा का अश्लील एमएमएस खासा चर्चा में आया था। एमएमएस में पर्वतीय स्कूलों की छात्राओं के समान ही आसमानी रंग की कमीज व सफेद रंग का पाजामा पहने युवती को स्थानीय छात्रा समझने में अच्छे-भले जानकार भी धोखा खा गऐ थे, जबकि एमएमएस में युवती जिस तरह का पीले रंग का दुपट्टा या पट्टा डाले हुऐ है, वैसा पहाड़ की लडकियां अमूमन प्रयोग नहीं करतीं। आईजी स्तर पर मामला उठने के बाद भीमताल थाना प्रभारी उत्तम सिंह ने स्वयं मुकदमा दर्ज किया था। बाद में एक स्थानीय युवक ललित मोहन पाण्डे को यह कहकर मामले में बलि का बकरा बनाया गया कि उसकी शक्ल एमएमएस में दिख रहे युवक से मिलती है। हालांकि बाद में उसे उसके मोबाइल में ऐसे 14 अश्लील एमएमएस पाऐ जाने के आरोपों में जेल भेजा गया। बमुश्किल उसे जमानत मिल पाई है। इस मामले की जांच चण्डीगढ़ स्थित प्रयोगशाला को भेजी गई है। लेकिन सच्चाई यह है कि यह 6.22 मिनट का एमएमएस lahore pakistani shy student in school uniform with her cousine (लाहौर पाकिस्तानी शाई स्टूडेण्ड इन स्कूल यूनीफार्म विद हर कजिन) नाम से 24 अप्रेल 2010 से इंटरनेट पर मौजूद है, और इसे कोई भी आसानी से देख सकता है। यह एमएमएस सामान्यता भारत में प्रयोग न की जाने वाली (भारत में विडियो डाउनलोड के लिऐ यू-ट्यूब का प्रयोग किया जाता है) फाइल्स ट्यूब वेबसाइट पर अपलोड किया गया है। इस एमएमएस पर हॉट पाकिस्तानी कालेज गर्ल्स स्केण्डल्स, पाकिस्तानी स्कूल, पाकिस्तान, लाहौर स्कूल, कपल सैक्स हिडन कैमरा जैसे टैग भी लगे हुऐ हैं। जानकार एमएमएस में युवती द्वारा ‘हाय अल्ला’ जैसा शब्द भी बोले जाने का दावा कर रहे हैं।  इस आधार पर ई-दुनिया के जानकार आश्वस्त हैं कि यह एमएमएस पाकिस्तान में ही बना व अपलोड हुआ है। ऐसी वेबसाइटें भारत में अश्लील वेबसाइटें प्रतिबंधित होने के बावजूद आसानी से खुल रही हैं, और चलन में हैं। शौकीनों को फाइल्स ट्यूब, एक्स वीडियोज डॉट कॉम, विज डॉट कॉम, फक ओवर माइ सेक्स सरीखी कई विदेशी वेबसाइटें भारत में खुलेआम अश्लीलता परोस रही हैं, देश की युवा पीढ़ी के तन-मन व धन को प्रदूषित व खतरे में डाल रही हैं। इन साइटों से वीडियो क्लिपिंग डाउनलोड करने पर प्रतिमाह सैकड़ों डॉलर का खर्चा वसूला जाता है। बहरहाल, इस चर्चित एमएमएस के मामले में भीमताल थानाध्यक्ष उत्तम सिंह ने स्वीकारा कि उन्हें भी एमएमएस के पाकिस्तानी होने की सूचना है। कुमाऊं आईजी राम सिंह मीणा ने कहा कि बाहरी पोर्न वेबसाइटों को रोकने के क्या प्राविधान हैं, इसका वह अध्ययन करेंगे।

हाँ, यहाँ एक और बात कहना जरूर समीचीन होगा कि मीडिया को अपने क्षेत्र से जोड़कर ऐसे विषयों पर खासकर जल्दबाजी में, बिना तथ्यों की पड़ताल किये कुछ भी प्रकाशित/प्रसारित करने से बचना चाहिए। इससे अपने क्षेत्र की बहुत बदनामी होती है। जैसे इस मामले में भीमताल क्षेत्र की हर लड़की और लड़कों को संदेह की नजर से देखा जाने लगा, जबकी एमएमएस कहीं और का बना हुआ था। 
इस तरह भी हो रहा हमला
नैनीताल। इंटरनेट पर सैक्सी हल्द्वानी, सैक्सी नैनीताल, सैक्सी देहरादून, सैक्स स्केण्डल हल्द्वानी, नैनीताल, देहरादून जैसे नामों से भी वीडियो क्लिप मौजूद हैं। खास बात यह भी है बड़ी धनराशि चुकाने के बाद ही डाउनलोड होने वाली यह क्लिप्स वास्तव में एक ही होती हैं, नाम स्वत: शहर के हिसाब से बदल जाते हैं। लड़कियों से अश्लील चेटिंग, वीडियो चेटिंग आदि भी शहर के हिसाब से इंटरनेट पर उपलब्ध हैं, और मोटी कीमत वसूल रहे हैं।

यह भी पढ़ें : दूसरे समुदाय की लड़की को चाहता था सिपाही, इसलिये पत्नी को दिया ‘तीन तलाक़’, ससुर-देवर ने भी किया दुष्कर्म

नैनीताल, 3 सितंबर 2018। मानवता को हर कदम पर शर्मशार करने वाली खबर ऊधमसिंह नगर के जसपुर कोतवाली क्षेत्र से आई है। यहां नैनीताल जिले के धमोला के पास बच्चीपुर गांव निवासी व जसपुर में तैनात सिपाही  मोहम्मद इमरान पुत्र मोहम्मद यासीन कथित तौर पर दूसरे समुदाय की लड़की से शादी करना चाहता था, इसलिए उसने अपनी पत्नी पर रिश्ते के देवर के साथ अवैध संबंधों का आरोप लगाकर व जबरन उसके साथ पत्नी के फोटो खींचकर उसे ‘तीन तलाक़’ देकर 5  साल की बेटी को भी उससे दूर कर उसे घर से निकाल दिया। यही नहीं उसके पिता व भाई यानी पीड़िता के ससुर व देवर ने जंगल ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। पीड़िता के साथ ज़ुल्मो की इन्तहां यहीं खत्म नहीं हुई। पुलिस ने पुलिसकर्मी से संबंधित मामला होने के कारण उसकी रिपोर्ट नहीं लिखी। आख़िर अब कोर्ट के आदेशों पर कालाढूंगी पुलिस को पति, ससुर व देवर के खिलाफ मामला दर्ज़ करना पड़ा है।
मामले के अनुसार नैनीताल जिले के कालाढूंगी के मोहल्ला नत्थासिंह निवासी एक विवाहिता ने न्यायिक मजिस्ट्रेट हल्द्वानी की अदालत में धारा 156 (3) के अंतर्गत दिए प्रार्थना पत्र में कहा है कि 28 दिसंबर 2011 को उसका निकाह जसपुर में सिपाही के पद पर तैनात मोहम्मद इमरान पुत्र मोहम्मद यासीन से हुआ था। निकाह के कुछ दिन बाद उसके पति ने उससे कहा कि वह दूसरे समुदाय की एक महिला से प्रेम करता है। उसने अपने मां-बाप की जिद के चलते उससे निकाह किया है। वह अपनी प्रेमिका को ही अपने साथ रखेगा। उसने सास ससुर के पास उसे छोड़ दिया और नौकरी पर चला गया।बाद में पति ने रिश्ते के देवर अजहर से उसके नाजायज संबंध होने का आरोप लगाया और उसके देवर को उसके पास बैठाकर वीडियो बनाई और फोटोग्राफी की। इसकी शिकायत जब उसने अपने ससुर से की तो उसने भी उसके साथ दो बार दुष्कर्म करने का प्रयास किया। साथ ही देवर मंसूर भी उसके साथ छेड़खानी कर उस पर गलत निगाह रखने लगा। आरोप है कि दिसंबर 2017 को उसका पति, ससुर व देवर अजहर उसे एक तात्रिक के कहने पर उसे जंगल में ले गए और उसके साथ दुष्कर्म किया, तथा जनवरी 2018 में उसकी पाच वर्षीय पुत्री को अपने पास रोक कर उसे धमकी देकर घर से निकाल दिया। 19 अप्रैल 2018 को उसने कालाढूंगी थाने में घटना की तहरीर दी, लेकिन रिपोर्ट दर्ज नहीं की गयी। इस पर 24 अप्रैल को उसने कोतवाली जसपुर में तहरीर दी, और 8 मई को ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट जसपुर की अदालत में रिपोर्ट दर्ज कराए जाने के लिए प्रार्थना पत्र दिया, लेकिन क्षेत्राधिकार न होने के कारण अदालत ने उसका प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया। इसके बाद काशीपुर महिला हेल्प लाईन में उसके भाई और पिता के सामने पति ने उसे जान से मारने की धमकी देकर तीन बार तलाक बोलकर तलाक दे दिया। इधर न्यायिक मजिस्ट्रेट हल्द्वानी की अदालत ने थानाध्यक्ष कालाढूंगी को घटना की रिपोर्ट दर्ज कर मामले की विवेचना करने के निर्देश दिए। थाना कालाढूंगी के एसएसआइ मोहम्मद यूसुस के मुताबिक न्यायालय के आदेश पर घटना की रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। महिला उत्पीड़न से जुड़ा मामला होने की वजह से महिला सब इंस्पेक्टर मामले की जांच करेंगी। उच्चाधिकारियों के निर्देश पर मामले की जांच की जा रही ही।

यह भी पढ़ें : हरिद्वार में दबंग के दुष्कर्म से गर्भवती हुई नाबालिग, पंचायत ने सुनाया ‘गांव बदर’ का फतवा, हाईकोर्ट दिलाएगा सुरक्षा

    • पीड़िता को गर्भवती करने के बाद निकाह करने से मुकरा दबंग, उल्टे पीड़ित परिवार के खिलाफ दिया पंचायत ने फतवा
  • हाईकोर्ट ने हरिद्वार के डीएम-एसएसपी को पीड़िता के परिवार को सुरक्षा उपलब्ध कराने को कहा

नैनीताल, 30 अगस्त 2018। हरिद्वार के लक्सर में दबंग परिवार के युवक द्वारा नाबालिग को दुराचार कर गर्भवती कर दिया गया। बाद में उससे निकाह करने से भी मुकर गया। वहीं गांव की पंचायत ने पीड़िता को न्याय देने की जगह दबंग परिवार के दबाव में पीड़िता को परिवार सहित गांव से बाहर करने के ‘फतवा’ सुना दिया। इस मामले का स्वतः संज्ञान लेते हुए उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने हरिद्वार के डीएम व एसएसपी को तुरंत मौके पर जाकर पीड़िता के परिवार का पता लगाकर उन्हें सुरक्षा उपलब्ध कराने के निर्देश दिये हैं। साथ ही सर्वोच्च न्यायालय के 2014 में फतवों पर रोक लगाने संबंधी आदेश का उल्लेख करते हुए ऐसे फतवों को संविधान के खिलाफ बताया है।

बताया गया है कि उच्च न्यायालय अधिवक्ता विवेक शुक्ला ने समाचार पत्रों में इस संबंध में छपी खबर की जानकारी कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश राजीव शर्मा व न्यायमूर्ति शरद कुमार शर्मा की खंडपीठ को देते हुए बताया कि अप्रैल 2018 में एक दबंग परिवार के युवक ने नाबालिग युवती के साथ दुराचार किया। पिछले दिनों तबियत खराब होने पर पता चला कि वह गर्भवती है। जिसके निपटारे के लिये पंचायत बुलायी गयी। जिसमें आरोपी युवक ने पीड़िता के साथ निकाह करने से साफ इनकार कर दिया। इसके बाद पंचायत ने पीड़िता के परिवार के खिलाफ फरमान जारी कर दिया कि यदि वह इस मामले में शिकायत करेंगे तो उन्हें गांव में रहने नहीं दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें : पत्नियां बदलने वाले क्लब के चंगुल में फंसी उत्तराखंड की एक बेटी

  • जबरन दोस्तों के साथ सम्बन्ध बनाने को कहता था कलयुगी पति 

<

p style=”text-align: justify;”>काशीपुर, 10 अगस्त 2018। उत्तराखंड की एक नवविवाहिता को पत्नियों की अदला-बदली करने वाले क्लब में जबरन धकेले जाने का प्रयास किये जाने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। और ऐसा कुत्सित प्रयास करने वाला कोई और नहीं, वरन महिला का अपना ही कलयुगी पति ही है। महिला ने इस संबंध में काशीपुर पुलिस को तहरीर दी है, और कार्रवाई करने की मांग की है। महिला की शिकायत पर काशीपुर की कोतवाली पुलिस ने धारा 376, 511 व 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।
काशीपुर निवासी एक नवविवाहिता ने काशीपुर कोतवाली पुलिस को दी गयी तहरीर में साफ-साफ कहा है कि उसके पति की शह पर और पति की उपस्थिति में दो लोगों ने उसके कमरे में घुसकर दुष्कर्म करने का प्रयास किया। बचाव के लिए उसने शोर मचाया। अपनी आबरू बचाने के लिए उसने दोनों लोगों के साथ हाथापाई की। शोर सुनकर उसका पति भी कमरे में आ गया। लेकिन पति ने उल्टे उन लोगों के साथ संबंध न बनाने पर उसके साथ मारपीट की। किसी तरह ससुरालियों के चंगुल से बचकर वह काशीपुर अपने पिता के घर आई है।
महिला का कहना है कि एक वर्ष पूर्व उसकी शादी मुरादाबाद निवासी युवक से हुई थी। घर में अक्सर उसके दोस्तों व उनकी पत्नियों का रात का खाना खाने के नाम पर आना होता था। शादी के बाद पति ने खुद उसे अपने संबंधों के बारे में बताया और कहा कि उसे भी पति के दोस्तों के साथ संबंध बनाने होंगे। इसका विरोध करने पर पति ने उसे कई बार बेरहमी से पीटा। सास और देवरों से शिकायत करने पर उन्होंने भी शादी को बचाए रखने के लिए पति का कहना मानने की नसीहत दी।
महिला ने बताया कि उसका पति और ससुराली कारोबार के सिलसिले में दिल्ली में रहते हैं। शादी के कुछ माह बाद पति उसे अपने साथ दिल्ली ले गया, जबकि उसके पिता की ओर से दहेज में दिया गया सामान उसने मुरादाबाद स्थित अपने मकान में ही छोड़ दिया। दिल्ली जाकर उसे पता लगा कि उसका पति हवस के लिए पत्नियां बदलने वाले क्लब का सदस्य है। पति के कई महिलाओं से उसके अवैध संबंध भी हैं। इन महिलाओं और उनके पतियों का उसके घर में आना-जाना लगा रहता है।

यह भी पढ़ें : ठाकुर’ बनकर रुद्रपुर की युवती से दुष्कर्म करता रहा नैनीताल का उस्मान !

नैनीताल, 24 जुलाई 2018। नैनीताल के मल्लीताल का उस्मान अहमद नाम का युवक अपना नाम ठाकुर बताकर रुद्रपुर निवासी युवती के साथ 4 वर्ष से दुष्कर्म करता रहा। युवती का कहना है कि नैनीताल में पढ़ाई के दौरान युवक ने साजिश के तहत उससे दोस्ती की, और बहला-फुसला कर उसे अपने घर ले गया, और कोल्ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ पिलाकर दुष्कर्म किया, तथा इसकी अश्लील वीडियो क्लिप भी बना ली। बाद में शादी करने का झांसा और वीडियो क्लिप सार्वजनिक करने की धमकी देकर दुष्कर्म करता रहा। अब शादी करने से भी मुकर गया है। उसकी ऐसी शिकायत पर रुद्रपुर पुलिस ने उस्मान अहमद उर्फ ठाकुर नाम के युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर मामला मल्लीताल कोतवाली पुलिस को हस्तांतरित कर दिया है। युवती दूसरे धर्म की बताई गई है। मामले की जांच उप निरीक्षक भावना बिष्ट के द्वारा की जा रही है।

निकली थी परीक्षा देने, पहुंच गयी यूपी के कासगंज, और शादी भी कर ली!

नैनीताल, 17 जुलाई 2018। प्यार के बुखार में युवक क्या, युवतियां भी कुछ भी करने से नहीं हिचक रही हैं। नगर के तल्लीताल थाना क्षेत्र से गत दिवस स्नातक की परीक्षा देने के लिए निकली छात्रा के उत्तर प्रदेश के कासगंज में होने और उसके द्वारा शादी भी कर लेने की जानकारी मिल रही है। उल्लेखनीय है कि नगर के तल्लीताल थाना क्षेत्र की रहने वाली एक स्नातक स्तर की छात्रा तीन दिन पहले घर से परीक्षा देने के बहाने निकली थी, लेकिन घर वापस नहीं लौटी। जब उसका रिश्तेदार और दोस्तों में कहीं कुछ पता नहीं चला तो परिजनों ने तल्लीताल थाने में सूचना दी। इस पर पुलिस ने उसकी गुमशुदगी दर्ज कर रखी है। इसके बाद से पुलिस छात्रा की तलाश कर रही है। इधर बताया गया है कि पुलिस के पास कासगंज से एक मोबाइल कॉल रिकॉर्डिंग पहुंची है, जिसमें वह अपनी मर्जी से घर से जाने और शादी कर लेने की बात कह रही है। बताया गया है कि यह रिकॉर्डिंग कासगंज के उस युवक के रिश्तेदार ने पुलिस को भेजी है, जिसके साथ छात्रा द्वारा शादी कर लिये जाने की जानकारी आ रही है। एसओ तल्लीताल राहुल राठी ने बताया कि तथ्यों की पड़ताल की जा रही है। अलबत्ता छात्रा के जल्द बरामद होने की उम्मीद है। उल्लेखनीय है कि पहले इस छात्रा के नैनीताल के ही एक युवक से प्रेम संबंध होने की बात प्रकाश में आ रही थी, किंतु पुलिस की जांच में इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

यह भी पढ़ें : अपहरण नहीं हुआ था, 18 वर्षीय प्रेमी को खुद बुलाकर ले गई थी 21 वर्षीया शिक्षिका

-प्रेमी के साथ थाने पहुंची तीन जुलाई से लापता शिक्षिका, परिजनों ने दर्ज कराई थी अपहरण की रिपोर्ट, दो अलग धर्मों से जुड़ा मामला होने के कारण पुलिस ने बरती खास सतर्कता 

<

p style=”text-align: justify;”>नैनीताल, 13 जुलाई 2018। बीती तीन जुलाई से अपहृत बताई जा रही 21 वर्षीया शिक्षिका शुक्रवार सुबह अपने 18 वर्षीय प्रेमी के साथ खुद तल्लीताल थाने पहुंच गई। उसने परिजनों की ओर से दर्ज करवाए गए अपहरण के मुकदमे को खारिज करते हुए अपनी इच्छा से प्रेमी के साथ जाने की बात कही। यह भी बताया की वह पहले अकेले ही खुद दिल्ली गयी थी, और दो दिन के बाद अपने प्रेमी को उसने ही दिल्ली बुलाया। पुलिस ने शिक्षिका की बात सुनने के बाद उसे कोर्ट में पेश किया। कोर्ट में भी शिक्षिका ने पुलिस के सामने हुए बयानों का समर्थन किया। इसके बाद वह अपने प्रेमी के साथ चली गई। दो अलग धर्मों से जुड़ा मामला होने के कारण पुलिस ने मामले में खास सतर्कता बरती। बताया गया है कि दोनों साथ में संगीत सीखते थे।
उल्लेखनीय है कि बीती तीन जुलाई को नगर के एक निजी स्कूल में पढ़ाने वाली युवती अचानक घर से गायब हो गई थी। परिजनों ने तल्लीताल थाने में हरिनगर तल्लीताल निवासी अमन सहदेव तथा नकुल सहदेव और काठबांस तल्लीताल निवासी अरविंद कुमार के खिलाफ अपहरण की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। इधर पुलिस युवती को बरामद करने का प्रयास कर रही थी कि इसी बीच शुक्रवार सुबह युवती खुद ही प्रेमी अमन सहदेव के साथ थाने पहुंच गई। युवती ने परिजनों की ओर से दर्ज करवाए गए मुकदमे को गलत बताते हुए कहा कि वह अपनी मर्जी से गई थी। वह बालिग है और उसे अपनी मर्जी से जीवन जीने का अधिकार है। इसके बाद पुलिस ने युवक को हिरासत में लेकर युवती के बयान कोर्ट में करवाए। युवती ने कोर्ट में भी पुलिस के सामने हुए बयान दोहराए। इसके बाद कोर्ट ने युवती के बालिग होने की बात कहते हुए उसे स्वतंत्र छोड़ दिया। एसओ तल्लीताल राहुल राठी ने बताया कि युवक और युवती दोनों बालिग हैं। युवती ने परिजनों के लिखाए मुकदमे का समर्थन नहीं किया है। ऐसे में मुकदमा बलहीन साबित हुआ। विवेचक मनोज सिंह नयाल ने बताया कि बाद में युवती अपने परिजनों के साथ चली गई है।

यह भी पढ़ें : शादीशुदा बेटे से दूसरे धर्म की युवती का निकाह पढ़वाने वाली कांग्रेस नेत्री की जमानत अर्जी खारिज

<

p style=”text-align: justify;”>-‘ड्राईवर’ है बेटा, पीड़िता है बीटेक की छात्रा
नैनीताल। अपने पहले से शादीशुदा ‘ड्राईवर’ बेटे से जबरन हिन्दू धर्म की बीटेक की छात्रा से निकाह पढ़वाने का झूठा दावा करने वाली कांग्रेस महिला मोर्चा की प्रदेश पदाधिकारी रही चर्चित नेत्री महक खान की ओर से जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत में जमानत अर्जी दाखिल की गयी थी, जिसे न्यायालय ने खारिज कर दिया है। उल्लेखनीय है कि यह मामला देश की शीर्ष अदालत-सर्वोच्च न्यायालय तक भी गया, जहां पीड़ित युवती ने अपने साथ जबर्दस्ती किये जाने की पुष्टि की, जिसके बाद उसे सर्वोच्च न्यायालय ने माता-पिता के संग भेज दिया था।
जिला एवं सत्र न्यायालय में महक खान की जमानत याचिका का जिला शासकीय अधिवक्ता ने विरोध करते हुए पीड़िता के भाई द्वारा मामले में दी गयी तहरीर का जिक्र करते हुए कहा कि आरोपित महिला व उसके पुत्र ने पूर्व में भी उसकी बहन (पीड़िता) से गलत हरकत की थी, और इस पर काठगोदाम थाने में माफीनामा दिया था। वे उसकी बहन को अगुवा कर विजय नगर गाजियाबाद लेकर गये थे। इधर न्यायालय में आरोपित महक खान के पति मो. नईम ने अपने बयान में कहा कि उनकी पत्नी ने उनकी जानकारी में लाये बिना सब कुछ किया, जबकि निकाह पढ़वाने वाले बताये गये मौलाना ने निकाह पढ़वाने से इंकार किया।
उल्लेखनीय है कि हल्द्वानी के रहने वाली पीड़िता के भाई ने बीती 18 मार्च को हल्द्वानी कोतवाली में अपनी बहन के गायब होने की शिकायत दर्ज करवाई थी। उन्होंने हल्द्वानी में ही ब्यूटी पार्लर चलाने वाली कांग्रेस महिला मोर्चा की प्रदेश पदाधिकारी महक खान पत्नी मो. नईम निवासी जूलियट ब्यूटी पार्लर हल्द्वानी और उसके बेटे मो. दानिश पर इस घटना में शामिल होने का शक जताया था। जांच के लिए उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद पहुंची उत्तराखंड पुलिस ने दानिश के पिता नईम अहमद को हिरासत में लिया। बाद में उसकी मां महक खान को भी हिरासत में लिया गया। पुलिस को सूचना मिली कि दानिश और श्वेता ने गाजियाबाद के एक मदरसे में 18 मार्च को निकाह कर लिया था। निकाह के बाद पीड़िता का नाम बदलकर आयशा रख दिया गया था। आगे पुलिस की जांच में दिल्ली में दानिश के एक रिश्तेदार के यहां पीड़िता मिली। इधर 23 साल के मोहम्मद दानिश ने ही सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर कर दावा किया था कि पीड़िता ने अपनी मर्जी से उससे निकाह किया था, लेकिन श्वेता के परिवार वाले जबरन उसे अपने कब्जे में रखे हुए हैं। लिहाजा उसने अपनी पत्नी वापस दिए जाने की मांग की थी। इस पर उच्च्तम न्यायालय ने पीड़िता को उच्च्तम न्यायालय में पेश करने के आदेश दिए थे। इस पर बीती 17 मई को नैनीताल जिले के एसएसपी जन्मेजय खंडूड़ी के आदेशों पर थानाध्यक्ष काठगोदाम कमाल हसन ने अपहृता को उच्च्तम न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश के समक्ष पेश किया, जहा पीड़िता ने दानिश की कहानी को झूठा करार दिया, जिसके बाद न्यायालय द्वारा अपहृता को उसके परिजनों के सुपुर्द किये जाने के आदेश दिये गये, और उसे उसके माता-पिता के साथ भेज दिया गया।

यह भी पढ़ें : सुप्रीम कोर्ट में साबित हुआ, ‘लव जिहाद’ के मिशन पर थी उत्तराखंड की प्रदेशस्तरीय कांग्रेस नेत्री

-अपने पहले से शादीशुदा ‘ड्राईवर’ बेटे से जबरन करवाया था हिन्दू बीटेक की छात्रा का निकाह, देश की शीर्ष अदालत में पीड़ित युवती ने की पुष्टि, माता-पिता के संग लौटी, सर्वोच्च न्यायालय ने की नैनीताल पुलिस की तारीफ 

-एसएसपी ने दिए मामले में नामजद सभी अभियुक्तों को गिरफ्तारी किये जाने एवं उनके द्वारा चलाये जा रहे ‘गैंग’ के बारे में पता कर आवश्यक कार्यवाही करने के आदेश

उत्तराखंड के हल्द्वानी के रहने वाली प्रीता (बदला हुआ नाम) के परिवार ने बीती 18 मार्च को हल्द्वानी कोतवाली में अपनी पुत्री के गायब होने की शिकायत दर्ज करवाई थी। उन्होंने हल्द्वानी में ही ब्यूटी पार्लर चलाने वाली कांग्रेस महिला मोर्चा की प्रदेश पदाधिकारी महक खान पत्नी मौ- नईम निवासी जूलियट ब्यूटी पार्लर हल्द्वानीऔर उसके बेटे मो. दानिश पर इस घटना में शामिल होने का शक जताया था। जांच के लिए उत्तर प्रदेश के ग़ाज़ियाबाद पहुंची उत्तराखंड पुलिस ने दानिश के पिता नईम अहमद को हिरासत में लिया। बाद में उसकी मां महक खान को भी हिरासत में लिया गया। पुलिस को सूचना मिली कि दानिश और श्वेता ने गाजियाबाद के एक मदरसे में 18 मार्च को निकाह कर लिया था। निकाह के बाद प्रीता का नाम बदलकर आयशा रख दिया गया था। आगे पुलिस की जांच में दिल्ली में दानिश के एक रिश्तेदार के यहां प्रीता मिली। पुलिस उसे हल्द्वानी ले गई। तब से वो अपने परिवार के साथ है। इधर  23 साल के मोहम्मद दानिश ने ही सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर कर दावा किया था कि 20 साल की प्रीता ने अपनी मर्जी से उससे निकाह किया था, लेकिन श्वेता के परिवार वाले जबरन उसे अपने कब्जे में रखे हुए हैं। लिहाजा उसने अपनी पत्नी वापस दिए जाने की मांग की थी। इस पर उच्च्तम न्यायालय ने प्रीता को उच्च्तम न्यायालय में पेश करने के आदेश दिए थे।

बुधवार 17 मई को नैनीताल जिले के एसएसपी जन्मेजय खंडूड़ी के आदेशों पर थानाध्यक्ष काठगोदाम कमाल हसन ने अपहृता को उच्च्तम न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश के समक्ष पेश किया, जहा प्रीता ने दानिश की कहानी को झूठा करार दिया, जिसके बाद न्यायालय द्वारा अपहृता को उसके परिजनों के सुपुर्द किये जाने के आदेश दिये गये, और उसे उसके माता-पिता के साथ भेज दिया गया। मामले की पैरवी डिप्टी एडवोकेट जनरल मनोज गोरकेला ने की। खास बात यह भी रही की उच्च्तम न्यायालय द्वारा अभियोग में जनपद नैनीताल उत्तराखण्ड पुलिस द्वारा अच्छी विवेचना किये जाने की सराहना की गयी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नैनीताल जन्मेजय खंडूरी ने आगे मामले में थानाध्यक्ष काठगोदाम को नामजद सभी अभियुक्तों को गिरफ्तारी किये जाने एवं उनके द्वारा चलाये जा रहे ‘गैंग’ के बारे में पता कर आवश्यक कार्यवाही करने के आदेश दिए हैं।

राज्य सरकार ने दावे को गलत बताया

आज हुई सुनवाई में उत्तराखंड सरकार और श्वेता के पिता के वकील भी मौजूद थे। उत्तराखंड सरकार के वकील ने दानिश के दावे को झूठा बताया। उन्होंने कहा कि जिस मस्ज़िद में निकाह की बात कही जा रही है, उसके काज़ी ने 18 मार्च को वहां किसी निकाह होने से ही इनकार किया है।उत्तराखंड सरकार के वकील ने ये भी कहा कि मजिस्ट्रेट को दिए बयान में लड़की ने अपने माता-पिता के साथ रहने की इच्छा जताई है, इसलिए उसे उनके साथ रखा गया है। सुनवाई के दौरान लड़की के पिता ने शादी के दावे को झूठा बताया। कहा-“लड़का ड्राइवर है। उसकी पहले भी शादी हो चुकी है। कोई लड़की दूसरी बीवी क्यों बनना चाहेगी?” कोर्ट ने उन्हें चुप कराते हुए कहा- “लड़की क्या चाहती है, ये हम पता कर लेंगे” आगे प्रधान न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली बेंच ने लड़की से मिलने की बात कही। कोर्ट ने कहा- “हम लड़की से मिल कर जानना चाहते हैं कि वो कहां रहना चाहती है।” इस पर लड़की ने अपने माता-पिता के साथ रहने की इच्छा जताई।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड-मध्य प्रदेश की राजधानियों के प्रेमियों में फेसबुक पर हुआ प्यार, शादी से ठीक पहले हुए फरार

<

p style=”text-align: justify;”>उत्तराखंड की राजधानी दून और मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के बीच फेसबुक के जरिये प्रेम का रोचक मामला प्रकाश में आया है। देहरादून निवासी भारतीय सेना में कार्यरत एक फौजी अपनी शादी छोड़, ठीक एक दिन पहले ही अपनी मध्यप्रदेश के भोपाल निवासी फेसबुक फ्रेंड को लेकर फरार हो गया। दोनों पखवाड़े भर से नैनीताल जिले के घोड़ानाला बिंदूखत्ता लालकुआ में रह रहे थे। इधर फ्रेंड की मां की तहरीर पर पुलिस ने दोनों को बिंदूखत्ता से बरामद कर उनके प्यार पर पहरा लगा कर फ्रेंड को फिलहाल उसकी मां के पास भेज दिया है।
घटनाक्रम के अनुसार देहरादून निवासी फौजी की मध्य प्रदेश निवासी एक युवती से फेसबुक पर दोस्ती हुई और दोस्ती धीरे-धीरे प्यार में बदल गई। अपने इस प्यार के लिए फौजी अपनी शादी से ठीक एक दिन पहले पहले अपने घर से फरार हुआ और फिर मध्य प्रदेश से युवती को भगाकर बिंदुखत्ता ले आया। उधर युवती की मां ने फौजी के खिलाफ अपनी पुत्री को भगाने के आरोप में मुकदमा दर्ज करा दिया, और खुद ढूंढती हुई लालकुआं कोतवाली भी पहुंच गयी। युवती ने साफ तौर पर अपनी मर्जी से फौजी के साथ आने की बात कही, अलबत्ता पुलिस युवती को लंबी जद्दोजहद के बाद इस बात के लिए किसी तरह मनाने में सफल रही कि फौजी के खिलाफ दर्ज मुकदमे का निस्तारण होने तक वह अपनी मां के साथ चली जाए। फौजी का कहना था कि वह दो महीने की छुट्टी में अपने घर आया था। इस दौरान उसके परिजन जबरन उसकी शादी करा रहे थे, इसलिए वह शादी से एक दिन पहले घर से भाग आया।

क्लिक करके यह भी पढ़ें : जिन्ना ने भी किया था ‘लव जिहाद’, पर जब अपनी बेटी ने ही दिया करार जवाब तो वही किया जो अपने ससुर ने किया था…

यह भी पढ़ें : लड़का बनकर दो शादी रचाने वाली कृष्णा सेन की जमानत अर्जी खारिज 

महिला पुलिस की गिरफ्त में कृष्णा सेन

नैनीताल। जिला एवं सत्र न्यायाधीश-नैनीताल सीपी बिजल्वाण की अदालत से युवक बनकर दो युवतियों से शादी करने और उन्हें दहेज के लिए प्रताड़ित करने की आरोपी युवती कृष्णा सेन की जमानत अर्जी को खारिज कर दिया गया। मालूम हो कि धामपुर बिजनौर के रामगंगा हाइडिल कॉलोनी निवासी कृष्णा सेन के खिलाफ हल्द्वानी कोतवाली में आईपीसी की धारा 417, 419, 467, 468, 469, 471, 323, 504 के तहत मुकदमा दर्ज है। उस पर आरोप है कि उसने युवक बनकर दो युवतियों को पहले प्रेम जाल में फंसाया, और फिर काफी दहेज विवाह विवाह भी किया। प्रथम पीड़िता का कहना है कि फेसबुक में दोस्ती के बाद 14 फरवरी 2014 दोनों ने विवाह किया था। कृष्णा की ओर से उसके लिए बनाए जेवरात नकली पाए गए। बाद में वह उसे दहेज के लिए पति के रूप में प्रताड़ित करती थी। उसने 5 लाख रुपये की मांग की। बाद में उसने 29 अप्रैल 2016 को एक अन्य युवती के साथ भी विवाह किया। किसी से जिक्र न के लिए धमकियां दीं। जिला न्यायालय में आरोपी की जमानत अर्जी प्रस्तुत की गई। अभियोजन पक्ष की दलील पर जिला न्यायालय ने इसे खारिज कर दिया।

उल्लेखनीय है कि यह अजीब, अनोखा और हैरत कर देने वाला मामला रहा। कोतवाली पुलिस के सामने राजफाश हुआ तो पांवों तले जमीन दरकने का एहसास होने लगा। आंखों के सामने सच का बेनकाब होना भी किसी झूठ की तरह ही लग रहा था, लेकिन बात तो सौ फीसद सच्ची निकली। एक युवती ने पुरुष का स्वांग कर एक नहीं दो महिलाओं से शादी की। दोनों के साथ पति-पत्नी के संबंध भी निभाए पर सच्चाई फिर भी सामने नहीं आई। राज तब खुला जब पति-पत्नी के बीच चार साल के रिश्तों के बीच क्लेश की खाई गहराई और पुलिस ने कथित पति को गिरफ्तार कर लिया।

हल्द्वानी पुलिस रिकॉर्ड में यह अब तक का सबसे चर्चित, हैरतभरा और दिमाग पर जोर डालने वाला मामला बन गया। कहानी कुछ यूं है कि वेलेंटाइन डे यानी 14 फरवरी 2014 को काठगोदाम निवासी एक महिला की शादी उत्तर प्रदेश के धामपुर, जिला बिजनौर निवासी कथित युवक कृष्णा सेन से हुई। दोनों हल्द्वानी के मल्ला गोरखपुर इलाके में किराये के मकान में रहने लगे। इसी दौरान सीएफएल फैक्ट्री लगाने की बात कहकर कथित पति ने महिला से अलग-अलग किस्तों में आठ लाख रुपये ले लिए। वर्ष 2016 में महिला को कथित पति के दूसरी महिला से भी शादी करने का पता चला। छह अक्टूबर 2017 को पहली पत्नी ने अपने कथित पति पर रुपये ठगने के साथ ही पांच लाख रुपये दहेज में मांगने, दूसरी शादी करने व विरोध करने पर धमकी देकर मारपीट करने के आरोप में धारा मारपीट व दहेज उत्पीड़न की धारा में मुकदमा दर्ज कराया। तभी से काठगोदाम थाना पुलिस आरोपी कथित पति को तलाश रही थी। आखिर पुलिस ने उसे हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की। पुलिस की सख्ती पर वह टूट गया। राज खोला तो सभी भौचक थे। उसने कहा कि वह पुरुष है ही नहीं तो शादी कैसे कर सकता है। पुलिस की ओर से उसका महिला अस्पताल में मेडिकल परीक्षण कराने के बाद इसकी वैधानिक पुष्टि भी हो गई। अब पुलिस हैरत में थी कि जिन महिलाओं से इसने शादी की वह इतने दिनों तक यह बात जान क्यों नहीं पाईं। जबकि पीड़ित पत्नी ने भी कथित पति द्वारा शारीरिक संबंध बनाने की बात स्वीकारी गई। कड़ाई से पूछताछ हुई तो पता चला कि वह कमरे में पत्नी के साथ होने पर अंधेरा कर देता था। उसने एक ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी से सेक्स खिलौने मंगाए थे। अंधेरे में उसने सेक्स खिलौनों से शारीरिक संबंध बनाते की बात स्वीकारी। पुलिस ने अब आरोपी कृष्णा सेन को जालसाजी व महिलाओं के यौन उत्पीडऩ के मामले में जेल भेजा है। पुलिस अधीक्षक जन्मेजय प्रभाकर खंडूडी का कहना है कि युवती के पुरुष बनकर दो महिलाओं से शादी करने का मामला अचंभित करने वाला रहा। प्राथमिक जांच में युवती के महिलाओं संग ठगी का मामला सामने आया है। युवती ने अपना आधार कार्ड, वोटर कार्ड व पैन कार्ड समेत तमाम दस्तावेज भी पुरुष के नाम से बना रखे हैं। पुलिस ने इन दस्तावेजों को भी जब्त कर लिया है।

यह भी पढ़ें : जज साहब की पहले से दो शादियाँ ! अब ‘दूसरी बार’ लगा अर्दली युवक से दुष्कर्म का आरोप !  दुष्कर्म के आरोप में हाईकोर्ट ने किया निलंबित

नैनीताल/हरिद्वार, 24 अप्रैल, 2018। भरोसेमंद सूत्रों के हवाले से आ रही खबरों के अनुसार हरिद्वार के एडीजे-प्रथम यानी अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश-प्रथम कुंवर अमनिंदर सिंह को अपने ही अर्दली युवक से अप्राकृतिक तरीके से दुष्कर्म के आरोपों पर उच्च न्यायालय ने निलंबित कर दिया है। उन पर भारतीय दंड संहिता की धारा 377 के तहत मामला दर्ज करने को भी कहा गया है। उन्होंने हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल के स्तर से जारी निलंबन आदेश प्राप्त भी कर लिया है। उच्च न्यायालय के सूत्र इस खबर की पुष्टि कर रहे हैं, अलबत्ता उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल नरेंद्र दत्त ने इस मामले में कोई भी प्रतिक्रिया देने से इंकार कर दिया है। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार उपनल के माध्यम से एडीजे-प्रथम सिंह के अर्दली के पद पर तैनात युवक ने उन पर अप्राकृतिक तरीके से दुष्कर्म करने का आरोप लगाया था। जांच में प्रथमदृष्टया आरोप सही पाए जाने पर एडीजे को निलंबित कर दिया गया। वहीं सूत्रों के अनुसार सिंह द्वारा दो विवाह किए जाने की भी चर्चा है, जिनमें से पहले नंबर की पत्नी व उनके बीच रुड़की के सीजेएम यानी मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में भी एक मामला चल रहा है।

उल्लेखनीय है कि सिंह उत्तराखंड उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार और उत्तराखंड न्यायिक एवं विधिक अकादमी (उजाला) भवाली में भी जिम्मेदार पद पर रह चुके हैं, और इस दौरान उन पर भवाली में भी एक पुरुष ‘उपनल कर्मी’ से अप्राकृतिक यौनाचार करने का आरोप लगा था। बताया गया कि यह मामला अभी भी उच्च न्यायालय में लंबित है। 

गौरतलब है कि गत दिनों हरिद्वार की एक अन्य, सिविल जज दीपाली शर्मा के अपनी घरेलू नौकर बनाकर रखी गयी बालिका के उत्पीड़न मामले में उच्च न्यायालय के आदेशों पर निलंबन हो गया था। तब उस मामले का निःसंकोच व बढ़-चढ़कर खुलासा कर रहे उच्चाधिकारियों की इस मामले में ख़ामोशी दोनों मामलों का आपस में सम्बन्ध स्थापित कर रही है। बताया जा रहा है अमनिंदर, दीपाली के मामले को बढ़ा रही लॉबी में थे, और अब अपना ‘मोहरा’ पिटने से यह लॉबी परेशान है। मामले को गत दिनों उत्तराखंड की न्यायपालिका में जातिगत भेदभाव के आरोपों पर छनकर आई ख़बरों से भी जोड़कर देखा जा रहा है।

स्पष्टीकरण : ‘नवीन समाचार’ किसी की भी छवि को खराब करने या किसी की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचाना चाहता। हमारा प्रयास पत्रकारिता के धर्म को निभाते हुए अधिकाधिक तथ्यों को अपने पाठकों के समक्ष रखना है। इस कोशिश में कई बार अज्ञानतावश गलतियां भी हो सकती हैं। हमारी कोशिश होगी कि जैसे ही सही तथ्य प्राप्त हों, हम ‘नए मीडिया’ की सुविधा का लाभ उठाकर तथ्यों में सुधार करेंगे। प्रभावित पक्ष यदि हमसे संपर्क कर अपना पक्ष रखेंगे, तो उनका पक्ष भी प्रमुखता से प्रकाशित किया जाएगा।

गांव की लड़की ने खुद बनाई प्रेमी के साथ अश्लील एमएमएस और मांगे 10 लाख

14 अप्रैल, 2018। सूचना प्रौद्योगिकी का विष्फोट गांवों तक भी पहुंच गया है, और गांव के लोगों को भी शहर पहुंचाकर किस हद तक गिरा रहा है, यह घटना इस बात की प्रमाण है। पुलिस में दर्ज मामले के अनुसार बागेश्वर के गांव कठपुड़ियाछीना गांव की रहने वाली लड़की अपनी जरूरतें पूरी करने के लिए बागेश्वर जिला मुख्यालय में एक छोटी प्राइवेट-नेचुरल हेल्थ केयर सेंटर कंपनी में काम करने लगी, और कंपनी के ब्रांच मैनेजर से न केवल प्रेम संबंध, वरन शारीरिक संबंध भी बना लिये। इस बीच वह सुरेश से दो बार में 22 हजार रुपए रुपए लेकर भी अपने गांव से शहर आने पर बढ़े शौक पूरे करती रही। पिछले वर्ष यानी 2017 में जरूरतें पूरी होने के बाद आधुनिकता की दौड़ में उसकी शौक व ख्वाहिशें बढ़ीं, तो वह जिले से नौकरी छोड़कर राज्य मुख्यालय यानी राजधानी देहरादून चली गयी। इस बीच भी उसके ब्रांच मैनेजर से ‘संबंध’ बने रहे। इधर ब्रांच मैनेजर अपने रुपए मांगने लगा, उधर लड़की को ऐसा रुपए वापस मांगने वाला प्रेमी खटकने लगा। उसने राजधानी में नया सईद अहमद नाम का ‘यार’ रख लिया। इधर ब्रांच मैनेजर ने उससे रुपए वापस मांगे तो उसने उसे रुपए लेने के लिए राजधानी बुला लिया। वहां पूर्व की तरह शारीरिक संबंध बनाए और नये यार की मदद से इन प्रेम के पलों की अश्लील वीडियो बना ली, और रुपए लौटाने की जगह इस वीडियो का एक हिस्सा उसके ह्वाट्सएप पर भेजकर पूरी वीडियो वायरल कर देने की धमकी देकर उल्टे 10 लाख रुपए मांग डाले। डरे हुए ब्रांच मैनेजर ने किसी तरह अपने परिजनों को यह बात बताई, और उनके हिम्मत दिखाने पर थाना लालकुआ में लड़की व उसके साथी सईद अहमद के खिलाफ तहरीर दी। इस पर पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 384 व ई-सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम 2008 की धारा 66 के तहत लड़की व उसके साथी सईद अहमद के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया है।

यह भी पढ़ें : गर्ल फ्रेंड की जगह उसकी फ्रेंड पर डालने लगा डोरे, और….

नैनीताल। स्कूल-कॉलेज पढ़ने आए छात्र-छात्राएं अपनी पढ़ाई पर ध्यान दें और ‘बॉय फ्रेंड-गर्ल फ्रेंड’ के चक्कर में ना ही पड़ें तो बेहतर। वरना कैसी भी समस्याएं आ सकती हैं। यहां नैनीताल के एक कॉलेज के छात्रावास में रहने वाली छात्रा अक्सर अपने अल्मोड़ा के ढूंगाधारा निवासी बॉय फ्रेंड से अपने मोबाइल से बात करती रहती थी। एक दिन अपने मोबाइल पर बैलेंस न होने पर उसने अपनी सहेली के मोबाइल से उससे बात कर ली। बॉय फ्रेंड ने इस दिन से उसकी जगह उसकी फ्रेंड पर डोरे डालने शुरू कर दिए। धीरे-धीरे दोनों में कथित तौर पर बातें, चैटिंग व मैसेजिंग भी होने लगी। इस पर दोनों सहेलियों में इस बॉय फ्रेंड को लेकर विवाद भी हुआ, जिसके बाद सहेली ने बॉय फ्रेंड से नाता तोड़ दिया। उसके मना करने पर उखड़े प्रेमी ने सहेली को गालियां और धमकियां दे डालीं। डरी-सहमी सहेली ने कॉलेज के साथियों को यह बात बताई तो वे पहले मंगलवार की रात्रि ही कोतवाली धमक आए और अल्मोड़ा निवासी बॉय फ्रेंड को सबक सिखाने की मांग करने लगे। रात में पुलिस द्वारा मनाने पर लौटे तो बुधवार दोपहर फिर दोनों सहेलियां और अन्य छात्र-छात्राएं भी कोतवाली पहुंचे। वरिष्ठ उप निरीक्षक बीसी मासीवाल ने कहा कि मामले में अल्मोड़ा निवासी छात्र को फोन पर हिदायत दे दी गयी है। आगे फिर वह कोई हरकत करता है तो मुकदमा दर्ज करके कार्रवाई की जाएगी।

कौन ले तीन तलाक, यहां तो मियां साली से ही तीसरी शादी को तैयार…

देश में तीन तलाक पर रही चिंताओं के बीच उत्तराखंड के हल्द्वानी से एक ऐसी खबर आई है जहां एक मियां दो बीबियों और चार बच्चों के पहले से रहते जबरन तीसरी शादी के लिए अड़ गया है, और वह भी अपनी ही साली के साथ। मामला हल्द्वानी के वनभूलपुरा इलाके से संबंधित है, जहां एक एक ईंट कारोबारी साली से जिद के चलते दोनों पत्नियांे और बच्चों को मारपीट कर घर से निकाल दिया है। पुलिस के अनुसार ईंट कारोबारी की साली भी अपने घर में और कोई नहीं होने के कारण शादीशुदा बहन के साथ ही रहती है। पिछले कुछ समय से उसका जीजा उस पर बुरी नजर रखता है, और अब तो शादी की जिद करने लगा है। पत्नी-बच्चे रो-धोकर थाने पहुंचे, और पुलिस ने पति को थाने बुलाया तो मोबाइल बंद कर गायब हो गया है। पुलिस पहले समझा-बुझा कर मनाने और न मानने पर कार्रवाई का मन बना रही है।

यह भी पढ़ें : फेसबुक-वाट्सएप पर हुआ प्यार-तीन बच्चों की मां प्रेमी संग फरार

यूं प्यार करना और स्मार्टफोन, फेसबुक वाट्सएप आदि का प्रयोग करना सभी का अधिकार है, लेकिन आधुनिकता की अंधी दौड़ ‘यहां’ तक पहुंच जाए तो चिंतनीय है। नैनीताल के निकट ज्योलीकोट के निजी स्कूल में दो वर्ष से गार्ड के रूप में कार्य करते हुए अमरोहा यूपी का एक युवक सुरेश (32) अपनी पत्नी सीनू (28) (दोनों बदले हुए नाम) और तीन बच्चों के साथ हंसी-खुशी रह रहा था। 2008 में हुई शादी को भी 10 वर्ष होने को थे। घर के खर्चे बढ़ने लगे तो पत्नी भी निर्माण कार्य में लगे मजदूरों के लिए खाना बनाने का कार्य करने लगी। आमदनी बढ़ी तो घर में सस्ता हो चला ‘स्मार्टफोन’ भी आ गया, और उसमें फेसबुक-वाट्सएप भी चलने लगा। फेसबुक पर सीनू की ‘वर्चुअल फ्रेंडशिप’ शीशगढ़ बरेली निवासी सुरेंद्र से हो गयी। फेसबुक के बाद दोनांे वाट्सएप पर भी चैटिंग करने लगे, और बीती छह मार्च को सीनू अपने पति व तीन बच्चों की वास्तविक जिंदगी को ‘वर्चुअल जिंदगी’ के लिए छोड़कर सुरेंद्र के साथ भाग गई, और सात मार्च को दोनों ने शादी भी कर ली। पत्नी के गायब होने की शिकायत सुरेश ने ज्योलीकोट चौकी में करवाई। पुलिस ने पत्नी के मोबाइल नंबर को सर्विलांस पर लगाकर और पता चलने पर उसे शीशगढ़ बरेली के गांव स्थित सुरेंद्र के घर के बरामद कर लिया। दोनों को एसडीएम अभिषेक रुहेला की अदालत में पेश किया गया, जहां सीनू ने 10 वर्षों के साथी पति और तीन बच्चों की माया-ममता ठुकराकर नये-नवेले फेसबुकिया प्रेमी-पति के साथ जाने की इच्छा जताई। दोनांे बालिग थे, सो अदालत ने भी उसे उसकी इच्छा पर छोड़ दिया।

यह भी पढ़ें : शिक्षा मित्र पत्नी के होते की दूसरी शादी, अब दे रहा जहर खाने की धमकी..

पैर से दिव्यांग व पेशे से शिक्षा मित्र पत्नी के होते पति द्वारा दूसरी शादी करने और पुलिस में कार्रवाई करने पर पति द्वारा जहर खाने की धमकी देने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। इस मामले में मायके से तुमड़िया डैम मालधन चौड़ निवासी विवाहिता ने रामनगर कोतवाली में शिकायत दर्ज कराई है, जिसमें कहा गया है कि वर्ष 2011 में उसका विवाह रमपुरा काजी केलाखेड़ा काशीपुर निवासी कुलवीर सिंह के साथ हुआ था। वह मायके में ही रहकर निकट के एक स्कूल में शिक्षा मित्र के रूप में कार्यरत है। इधर आठ मार्च को उसके पति ने दूसरी शादी कर ली है। पुलिस में शिकायत करने की धमकी दी तो पति खुद जहर खाकर जान देने की धमकी दे रहा है। उसके द्वारा दी गयी तहरीर पर रामनगर पुलिस ने उसके पति, सास और ननद के खिलाफ पहली पत्नी के होते हुए दूसरा विवाह करने और दहेज के लिए प्रताड़ित करने के आरोपों में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

नैनीताली को फेसबुक पर बॉलीवुड हीरो से हुआ प्यार..पुलिस से लगाई शादी कराने की गुहार

जी हाँ, नैनीताल की एक युवती को एक बॉलीवुड कलाकार से फेसबुक पर प्यार होने के बाद पुलिस से शादी कराने की गुहार लगाने का रोचक मामला प्रकाश में आया है। कॉलेज व बीएड कर नौकरी की कोशिश कर रही युवती ने अपने एक रिश्तेदार के जरिये नैनीताल की मल्लीताल कोतवाली पुलिस से गुहार लगाईं कि 3-4 महीने से फेसबुक पर प्यार की बातें करने के बाद उसका ‘बॉलीवुड हीरो’ शादी करने से मुकर रहा है, लिहाजा पुलिस हीरो को फटकार कर उससे शादी के लिए मना ले। पुलिस ने इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस की मदद से हीरो का नंबर पता किया तो उसके मुंबई में बॉलीवुड कलाकार होने की पुष्टि हुई। हीरो का कहना था कि युवती उसकी सिर्फ दोस्त है। वह अपने काम में व्यस्त है। उसने युवती से कभी शादी का वादा नहीं किया, बल्कि जो बातें हुईं, वैसी कई ‘फैन्स’ के साथ होती रहती हैं। वैसे भी बिना किसी से मिले शादियाँ केवल फिल्मों में होती हैं, असल जिंदगी में नहीं। कहा कि बिना जानकारी और बगैर एक-दूसरे से मिले किसी को जीवन साथी चुनना किसी के भी भविष्य के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। इसलिए युवती को समझाएं कि वह भी शादी नहीं अपने कैरिअर पर ध्यान दे

मामले में पड़ताल करने वाले एसआई पूरन सिंह मर्तोलिया ने कहा कि किशोरियों-युवतियों में इस तरह की प्रवृत्ति समाज के लिए ठीक नहीं है। युवती को काउंसिलिंग कर यह बात समझा दी गयी है। अन्य युवतियों को भी ऐसी घटना से सबक लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें : नाबालिग ने खुद बनाकर वायरल किया अपना एमएमएस, ह्वाट्सएप एडमिन आया पकड़ में

वायरल हो रहा नाबालिग का एमएमएस।

-ह्वाट्स एप ग्रुप में एमएमएस आने पर सभी सदस्यों ने ग्रुप छोड़ा, आखिरी बचा हल्द्वानी का युवक आया पुलिस गिरफ्त में नैनीताल। भौतिकतावाद के दौर में खुद से खिलवाड़ और इंटरनेट पर जरा सी चूक नगर की एक नाबालिग के लिए आफत का सबब बन गयी है। आखिर उसे पुलिस की शरण लेनी पड़ी, जिसके बाद कोतवाली पुलिस ने हल्द्वानी निवासी एक युवक को दबोचा। अलबत्ता, मामले में किशोरी की ही गलती समझ में आने और एमएमएस डिलीट करने के बाद युवक को छोड़ दिया गया। पीड़िता पढ़ाई में उत्कृष्ट बताई गयी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार शनिवार को नाबालिग पीड़िता मल्लीताल कोतवाली पुलिस द्वारा हल्द्वानी निवासी एक युवक को दबोचने के बाद स्वयं भी कोतवाली पहुंची। बताया गया है कि इस नाबालिग छात्रा ने स्वयं ही मोबाइल से अपना अश्लील एमएमएस बनाया, और उसे स्वयं ही ह्वाट्स एप पर अपने किसी मित्र को भेजने के दौरान गलती से ह्वाट्स एप ग्रुप में डाल दिया। गलती समझ में आने पर बाद में उसने कोतवाली पुलिस में गुहार लगाई] लेकिन तब तक यह वायरल हो चुका था। उधर ग्रुप के सदस्यों को मामला पुलिस में जाने की जानकारी मिली, तो एक-एक कर ग्रुप के सभी सदस्यों ने ग्रुप छोड़ दिया। लेकिन शुक्रवार को कोतवाली पुलिस हल्द्वानी निवासी, पूर्व में किसी दुर्घटना के कारण शारीरिक रूप से कमजोर एक युवक को पूछताछ के लिए कोतवाली ले आई। इस पर पीड़ित किशोरी भी कोतवाली पहुंची। इस बीच पुलिस ने जानकारी लेने आये पत्रकारों को भी रोककर अति गोपनीयता बरती। बाद में नगर कोतवाल विपिन चंद्र पंत ने बताया कि सर्विलांस के जरिये युवक को दबोचा गया, किंतु युवती की ओर से आगे कोई कार्रवाई न किये जाने के बाद युवक को छोड़ दिया गया। आगे किसी के पास भी यह एमएमएस मिलेगा तो उस के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। (इनपुट मुनीब रहमान) 

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

2 thoughts on “हल्द्वानी में 16 साल की किशोरी की हुई ‘ऑनर किलिंग’! तो 18 के किशोर ने तीन दिन भूखा रह, जहर खाकर दे दी जान

Leave a Reply