News

नैनीताल के बेटे, दिवंगत सिने कलाकार ‘नानूदा’ को ‘कविता-नाटक’ के जरिए दी श्रद्धांजलि…

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       नवीन समाचार, नैनीताल, 18 फरवरी 2021। नैनीताल के बेटे, दिवंगत सिने अभिनेता निर्मल पांडे ‘नानूदा’ को बृहस्पतिवार को उनकी 11वीं पुण्यतिथि पर ‘कविता-नाटक’ के नए माध्यम से श्रद्धांजलि दी गई। उनके पैतृक घर के पास मल्लीताल श्रीरामसेवक सभा के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में इस अवसर पर हमेशा की तरह ‘प्रयोगांक’ संस्था के कलाकारों […]

News

देखें पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला…

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       देखें 7वें दिन की पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला : देखें छठे दिन की पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला : देखें पांचवे दिन की पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला :  देखें चौथे दिन की पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला : देखें तीसरे दिन की पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला :  देखें दूसरे दिन की पहली डिजिटल कुमाउनी रामलीला : देखें पहले दिन […]

अमिताभ बच्चन के 77वें जन्मदिन पर उनके नैनीताल स्थित शेरवुड कॉलेज हुई विशेष प्रार्थना सभा, काटा गया केक

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       नवीन समाचार, नैनीताल, 11 अक्टूबर 2019। अपने अभिनय से सदी के महानायक कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन के शुक्रवार को 77वें जन्म दिन के अवसर पर उनके विद्यालय, नगर स्थित शेरवुड कॉलेज में विशेष प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया। साथ ही केक भी काटा गया। इस मौके पर विद्यालय के चैपल में प्रधानाचार्य […]

निर्मल पांडे का आठवीं पुण्यतिथि पर भावपूर्ण स्मरण : बड़े शौक से सुन रहा था ज़माना तुम्हें, तुम ही सो गए दास्तां कहते-कहते….

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       –नर्सरी स्कूल से हॉलीवुड तक का कठिन सफर तय किया था निर्मल ने नवीन जोशी, नैनीताल। कला की नगरी कहे जाने वाले नैनीताल के बहुत छोटे से मॉल रोड स्थित नगर पालिका द्वारा संचालित नर्सरी स्कूल से हिन्दी में ककहरा सीखने वाला बालक 47 वर्ष की अल्पायु में ही न केवल डेढ़ दर्जन से अधिक हिन्दी […]

News

कुमाऊं में 16वीं शताब्दी से लिखे व मंचित किये जा रहे हैं नाटक

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

       -बताया-चंदवंश के राजा रूद्रचंद देव द्वारा संस्कृत के दो नाटकों की रचना व मंचन -नैनीताल के रंगमंच पर वृहद शोध की जरूरत उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल एवं मंडल मुख्यालय नैनीताल में रंगमंच की गौरवशाली परंपरा रही है। सोलहवीं शताब्दी में कुमाऊं में चंदवंश के राज्य में राजा रूद्रचंद देव द्वारा संस्कृत के दो नाटकों […]

loading...